छत्तीसगढ़

रेलवे सुरक्षा बल दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का ऑपरेशन उपलब्ध के तहत 53 लाख से अधिक मूल्य के टिकट को किया गया जब्त

Share this

रायपुर :- दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की विगत महीनों से ट्रेन सेवाओं की बहाली और त्योहारों के मौसम के मद्दे नजर विगत महीनों से आरक्षित ट्रेन बर्थ की मांग में तेज वृद्धि की हुई है । इस बात को ध्यान में रखते हुए, रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ), दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने टिकट दलालों के खिलाफ अपने प्रयासों को तेज कर दिया । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के तीनों मंडलों बिलासपुर, रायपुर तथा नागपुर में दलालों की गतिविधियों के खिलाफ एक वृहत और सघन अभियान शुरू किया गया है।रेलवे सुरक्षा बल की मंडल इकाइयों ने मुख्यालय के दिशा निर्देश में डिजिटल और साइबर दुनिया से जानकारी इकट्ठा की। फिर सूचनाओं का मिलान, सत्यापन और विश्लेषण किया और अपने अपने मंडलों के अंतर्गत टिकट दलालों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है।रेलवे सुरक्षा बल द्वारा शुरू किया गया यह अभियान बेहद सफल रहा और इसके परिणामस्वरूप अभी तक 96 टिकट दलालों को गिरफ्तार किया गया है। इन टिकट दलालों द्वारा अवैध रूप से खरीदे गए लगभग 2000 से अधिक टिकटों को जब्त किया गया । इन अवैध जब्त टिकट, जिसमे एडवांस टिकट भी शामिल हैं, इनका मूल्य 53 लाख रुपये से अधिक है। इन रेलवे टिकटों को बरामद कर रद्द कर दिया गया है, जिससे ये सीटें सही मायने में हकदार रेलवे यात्रियों को उपलब्ध हो ।ऑपरेशन उपलब्ध के विगत महीनों से व्यापक अभियान ने दलालों की गतिविधियों पर काफी हद तक अंकुश लगाने और आम आदमी को रेलवे टिकट उपलब्ध कराने में समर्थ बनाया है। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे आम जनता और यात्रियों को अनाधिकृत व्यक्तियों से टिकट न खरीदने की सलाह देता है क्योंकि यह न केवल एक बार पता चलने के बाद रद्द हो सकता है, बल्कि टिकट लेने वाले को कानूनी परेशानी में भी डाल सकता है।रेलवे टिकटों के दलालों के खिलाफ रेलवे सुरक्षा बल , दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा शुरू किया गया ऑपरेशन उपलब्ध अभियान भविष्य में भी उसी जोश और तीव्रता के साथ जारी रहेगा।

कुछ और बड़ी खबरे

भाटापारा के सिमगा में पकड़ाया लाखों रुपए का सट्टा….20 लाख के सट्टा के साथ दो आरोपी गिरफ्तार सिमगा पुलिस की कार्यवाही

भाटापारा मिलावट पर अब तक कि बड़ी कार्रवाई, भाटापारा के दाल मिल के मालिक पर दाल में चमक बढ़ानें प्रतिबंधित स्टोन पाउडर की उपयोग करने पर 8 लाख रूपये का जुर्माना