बड़ी खबर

अंबिकापुर मेडिकल कालेज में 4 घंटे के भीतर 4 नवजातों की मौत स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव दिल्ली दौरा रद्द  स्वास्थ्य विभाग की विशेष टीम को भी अंबिकापुर बुलाया गया….

अंबिकापुर मेडिकल कालेज में 4 घंटे के भीतर 4 नवजातों की मौत स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव दिल्ली दौरा रद्द स्वास्थ्य विभाग की विशेष टीम को भी अंबिकापुर बुलाया गया….

रायपुर 17 अक्टूबर 2021। अंबिकापुर मेडिकल कालेज में 4 घंटे के भीतर 4 नवजातों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव अपना दौरा खत्म कर दिल्ली से सीधे सरगुजा पहुंच रहे हैं। कल अंबिकापुर मेडिकल कालेज में 4 नवजात बच्चों की मौत के बाद जमकर हंगामा हुआ था, इस घटना को लेकर सड़क जाम भी हुआ था। आरोप था कि मेडिकल कालेज में डाक्टरों और स्टाफ नर्स की लापरवाही की वजह से बच्चों की जान गयी है। इस घटना की सूचना जैसे ही स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव को हुआ, वो तत्काल दिल्ली दौरा छोड़कर सरगुजा लौट रहे हैं। वो 3.30 बजे अंबिकापुर पहुंचेंगे। नवजात की मौत के मामले में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बिलासपुर और रायपुर से स्वास्थ्य विभाग की विशेष टीम को अंबिकापुर पहुँचने के लिए निर्देशित किया है। आपको बता दें कि कल सुबह साढ़े तीन बजे से 7 बजे के बीच मेडिकल कालेज में 4 नवजात की मौत हुई थी। जिसके बाद नाराज परिजनों ने मुख्य सड़क जाम कर दिया था। परिजन स्वास्थ्य मंत्री को बुलाने को बात पर अड़े हुए थे। हालांकि डाक्टर का कहना है कि बच्चे प्री मेच्योर थे, जिसकी वजह से उनकी मौत हुई है। जानकारी के मुताबिक सूरजपुर जिले के बैजनाथपुर निवासी उदय सिंह ने अपने 4 दिन के नवजात बच्चे को 12 अक्टूबर को दोपहर 1 बजे तबियत खराब होने पर भर्ती कराया था। उसे एसएनसीयू में रखा गया था।16 अक्टूबर की सुबह 3.30 बजे मौत हो गई। वहीं राजपुर निवासी महेश ने अपने डेढ़ महीने के बच्चे को 13 अक्टूबर को एसएनसीयू में भर्ती कराया था। यहां इलाज के दौरान 16 अक्टूबर की सुबह 4 बजे मौत हो गई। दरिमा निवासी देवानंद ने अपने 27 दिन के नवजात को 19 सितंबर को भर्ती कराया था। यहां इलाज के दौरान 16 अक्टूबर की सुबह 5 बजे मौत हो गई। इसी तरह उदयपुर निवासी बालकेश्वर ने दो दिन के नवजात शिशु को 15 अक्टूबर को भर्ती कराया था। 16 अक्टूबर की सुबह 6.45 बजे उसकी मौत हो गई।

कृषि

 जोंक डायवर्सन एवं बलार जलाशय से क्यों छोड़ा जा रहा हैं पानी  ? जाने पूरी खबर ।

जोंक डायवर्सन एवं बलार जलाशय से क्यों छोड़ा जा रहा हैं पानी ? जाने पूरी खबर ।