ज्योतिषि

Vastu Tips for Maa Lakshmi: भूलकर भी न करें ये काम, घरों में तनिक देर भी नहीं ठहरती मां लक्ष्मी, बना देती है कंगाल

Share this

Vastu Tips for Maa Lakshmi: मां लक्ष्मी की आराधना के लिए शुक्रवार का दिन विशेष फलदायी माना गया है। शुक्रवार का दिन शुक्र ग्रह को भी समर्पित है। मान्यता है कि इस दिन शुरू किया शुभ कार्य सिद्ध होता है। मां लक्ष्मी को बहुत चंचल माना गया है। वास्तु शास्त्र में कई ऐसे नियमों का जिक्र किया गया है, जिन्हें अगर नियमपूर्वक अपनाया जाए, तो व्यक्ति को कभी भी दरिद्रता का सामना नहीं करना पड़ता।देवी लक्ष्मी विधिवत पूजा से प्रसन्न होती हैं लेकिन कुछ ऐसे कार्य हैं जो मां लक्ष्मी को पसंद नहीं। जाने-अनजाने में किए इन कामों से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं जिसका खामियाजा जातक के साथ परिवार को भी उठाना पड़ता है। घर के वास्तु दोष दूर होते हैं और घर में मां लक्ष्मी का निवास होता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ नियम को बताएंगे, जिसका पालन करने से आपके घर में कभी पैसों की तंगी नहीं होगी और सकारात्मका बनी रहेगी।

वास्तु शास्त्र के अनुसार इन नियमों का करें पालन
ऐसा माना जाता है कि जिन घरों में रात में कपड़े धोए जाते हैं, मां लक्ष्मी ऐसे घरों में बिल्कुल प्रवेश नहीं करती। रात में कपड़े धोने से भी घर में नेगिटिविटी का संचार होता है। रात में नकारात्मक शक्तियां प्रबल होती हैं और रात में कपडे़ धोने से घर में बीमारी आती हैं। इसलिए कोशिश करनी चाहिए कि घर में कपड़े सुबह के समय ही धोएं।वास्तु शास्त्र के अनुसार रात में किचन और बर्तन को साफ करके ही सना चाहिए। ऐसे में घरों में मां लक्ष्मी कभी निवास नहीं करती, जहां पर किचन को गंदा रखा जाता है। मां लक्ष्मी के साथ मां अन्नपूर्णा भी नाराज हो जाती हैं। इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है और घर में वास्तु दोष पैदा होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्यास्त के बाद किस को उधार देने से भी परहेज करना चाहिए।

अगर कोई ऐसा करता है, तो इससे मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। ऐसा करना आपको परेशानी में डाल सकता है। व्यक्ति कर्ज के बोझ में आ सकता है और व्यक्ति पर सुख-समृद्धि का अभाव रहेगा। इससे व्यक्ति के धन-हानि के योग बनते हैं।वास्तु शास्त्र में बेड पर बैठकर भोजन करने को भी शुभ नहीं माना गया है। इससे वास्तु दोष उत्पन्न होता है और घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इससे वास्तु दोष उत्पन्न होता है और घर में नेगिटिविटी आती है। इससे परिवार की सुख शांती प्रभावित होती है और जीवन में दरिद्रता आती है।