छत्तीसगढ़भाटापारा

आंखों में मिर्ची पाउडर झोंक कर शिक्षक के घर दिनदहाड़े डकैती का प्रयास

Share this

बलौदाबाज़ार आज दिनांक 14.03.2023 को बलौदाबाजार नगर के वार्ड नंबर 04 नगर पालिका के पीछे प्रार्थी पुनऊ दास, जो कि पेशे से शासकीय शिक्षक हैं, परीक्षा ड्यूटी से आने के बाद अपने घर में आराम कर रहे थे। उनके घर दिनदहाड़े डकैती करने का एक अज्ञात आरोपी द्वारा प्रयास किया गया आरोपी ने शिक्षक की आंखों में मिर्ची पाउडर जोक कर जबरदस्ती घर में घुसने का प्रयास किया इस दौरान शिक्षक के चीखने चिल्लाने से आरोपी भयभीत होकर भागा मामला इस प्रकार है कि शिक्षक पीडी जहरीले ड्यूटी से आकर अपने घर आराम कर रहे थे इसी बीच लगभग 02:40 बजे किसी के दरवाजे की खटखटाने की आवाज आने पर वह थोड़ी देर बाद दरवाजे की तरफ निकले। दरवाजे पर एक आदमी जो कि अपने मुंह को एक नकाब जैसे कपड़े से ढका हुआ था खडा था।प्रार्थी के पास आने पर नकाबपोश आदमी द्वारा उन्हें नमस्ते बोला गया एवं अचानक से अपनी जेब से मिर्ची पाउडर निकालकर प्रार्थी पुनऊ दास के आंखों में छिटक कर, घर के दरवाजा को बंद कर, जबरदस्ती अंदर जाने का प्रयास करने लगा।प्रार्थी पुनउ दास द्वारा जल्द ही स्थिति भांपकर मदद के लिए आसपास के लोगों को चिल्लाने लगा। तभी अज्ञात आरोपी वहां से भाग गया। अभी तक की मिली जानकारी के अनुसार अज्ञात आरोपी बस स्टैंड के पीछे वाले रास्ते से भागकर बस स्टैंड आया एवं वहां से भाटापारा जाने वाली बस में सवार हुआ है। ज्ञात हो कि 27 फरवरी को नगर के पत्रकार राजेश मिश्रा के घर भी दोपहर 12:30 से 3:30 के बीच अज्ञात चोरों ने दिनदहाड़े 12लाख 48 हजार की चोरी कर घटना को अंजाम दिया। जिससे प्रतीत होता है कि अपराधियों के मन से पुलिस का खौफ गायब हो चुका है और पुलिस ऐसे अधिकांश मामलों का खुलासा करने में नाकाम साबित हो रही है। जिसके कारण पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली के ऊपर सवालिया निशान उठ रहे हैं। जिला मुख्यालय का पुलिस महकमा सिर्फ सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल के भरोसे ही अपनी काबिलियत दिखाने का प्रयास करती है। जबकि पुलिस विभाग के सूत्र, इंटेलिजेंसी,क्राइम ब्रांच, पुलिस विभाग के मुखबिर कहां लापता हो गए हैं इसका पता नहीं चल रहा है। आखिर इतनी बड़ी बड़ी वारदातों को अंजाम देने का हौसला अपराधियों में अचानक कैसे जागृत हो गया। यह सोचने वाली बात है। सवाल पुलिस की नाक का है अब देखना है कि पुलिस अपनी नाक बचा पाती है या फिर नाक कटवाती है। बहरहाल 27 फरवरी को हुई दिनदहाड़े चोरी के मामले का खुलासा 15 दिन बाद भी पुलिस अभी तक नहीं कर पाई है। आज दिनदहाड़े डकैती के प्रयास को पुलिस कितने दिन में खुलासा कर पाएगी जिसका सीसीटीवी फुटेज में संदेही आरोपी स्पष्ट दिखाई दे रहा है उसे पुलिस कितने घंटे के भीतर गिरफ्तार करती है। भूपेश सरकार के राज में अपराधी बेलगाम हो चुके हैं। माफिया राज कायम है। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और प्रशासनिक व्यवस्था अपने ढीले ढाले रवैया के कारण तमाम अपराधों का खुलासा नहीं कर पा रही है। जिसका खामियाजा नगर वासियों को भुगतना पड़ रहा है। इस संबंध में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सचिंद्र कुमार चौबे ने कहा कि जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा किंतु 27 फरवरी को हुई चोरी की घटना का अभी तक पुलिस महकमा पता लगाने में नाकाम रहा है।