छत्तीसगढ़

अवैध कोयला भंडारों पर कार्रवाई, जिला प्रशासन की टीम ने दो जगहों पर मारा छापा, 40 टन कोयला जब्त

Share this

कोरबा. अवैध कोयला भंडारों पर जिला प्रशासन की ताबड़तोड़ कार्यवाही से कोल माफियाओं में हड़कंप मच गया है। यह कारोबार काफी लंबे समय से चल रहा है। इसकी शिकायत जिला प्रशासन को मिली थी, जिस पर संयुक्त टीम बनाकर कलेक्टर के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई। दो जगह छापामार कार्रवाई के दौरान लगभग 40 टन कोयला, इलेक्ट्रॉनिक कांटा बाट और अन्य दस्तावेज जब्त किए गए।

कलेक्टर संजीव झा के निर्देश पर अवैध कोयला भंडारण पर जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने देर रात ताबड़तोड़ छापामार कार्रवाई की। राजस्व विभाग, खनिज विभाग और पुलिस विभाग की संयुक्त कार्रवाई के दौरान 2 जगहों पर लगभग 40 टन कोयला जब्त किया गया। करतला में खान ढाबा के पीछे झाड़ियों के आसपास लगभग 10 टन और चांपा में विरेंद्र सिंह के आवासीय परिसर में लगभग 30 टन अवैध कोयला भंडारण पाया गया. करतला में जांच के दौरान मौके से मजदूर से फरार हो गए।

करतला में कोयला से भरा हुआ एक गाड़ी और चार मोटरसाइकिलें जब्त की गई। इसके अलावा जांच में तौल कांटा बांट, कोयला खरीदी बिक्री, मजदूरों का भुगतान और पैसों के लेनदेन से संबंधित रजिस्टर भी जब्त किया गया। दस्तावेजों को जांच के लिए खनिज कार्यालय भेजा गया। साथ ही गाड़ियों और इलेक्ट्रॉनिक तौल कांटे को थाना करतला में रखा गया है।

इसी प्रकार तहसील करतला के ग्राम चांपा मं विरेंद्र सिंह के आवासीय परिसर में अवैध रूप से कोयले खनिज का भंडारण पाया गया। मौका जांच में लगभग 30 टन कोयले का भंडारण पाया गया। साथ ही इलेक्ट्रॉनिक तौल कांटा भी पाया गया। जमीन मालिक के पास उनके परिसर में भंडारित कोयले के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं पाया गया। मौके पर पाए गए कोयले और तौल कांटे को संयुक्त टीम ने जब्त की।

खनित से संबंधित कोई वैध प्रमाण नहीं मिले

एसडीएम कोरबा सीमा पात्रे ने बताया कि करतला के खान ढाबा के पीछे जमीन में और ग्राम चांपा में अवैध कोयला भंडारण होने और कोयले की अवैध खरीदी बिक्री की सूचना पर छापामार कार्रवाई की गई। दोनों जगहों के निरीक्षण के दौरान अवैध कोयला भंडारण पाया गया। साथ ही कोयला खरीदी बिक्री के भी दस्तावेज पाए गए। दोनों जगहों पर कोयला के वैध खरीदी बिक्री और भंडारण के कोई साक्ष्य नहीं पाए गए। जमीन मालिकों द्वारा खनिज से संबंधित कोई वैध प्रमाण भी प्रस्तुत नहीं किया गया।

आसपास के लोगों से की जा रही पूछताछ

एसडीएम ने बताया कि दोनों जगहों पर की गई छापामार कार्रवाई के दौरान पाए गए कोयले को जब्त कर विभागीय कार्रवाई की जा रही है। साथ ही आसपास के लोगों से भी गतिविधियों के बारे में पूछताछ की जा रही है। इस कार्यवाही में राजस्व विभाग से तहसीलदार मुकेश देवांगन, नायब तहसीलदार लखेश्वर सिदार, खनिज विभाग से खनिज निरीक्षक जीत चंद्राकर एवं पुलिस विभाग की संयुक्त टीम शामिल थी।