देशबड़ी खबर

भारत, रूस, अमेरिका समेत 84 देशों के 50 करोड़ व्हाट्सएप यूजर्स का डेटा लीक, ऑनलाइन बिक रही प्राइवेट इन्फॉर्मेशन

Share this

नई दिल्ली 28 नवम्बर 2022: यह पहली बार नहीं है जब मेटा के स्वामित्व वाला प्लेटफॉर्म डेटा ब्रीच से प्रभावित हुआ है। पिछले साल भी 500 मिलियन से अधिक फेसबुक यूजर्स का व्यक्तिगत डेटा कथित रूप से लीक हो गया था।

अगर आप भी सोशल मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप (Whatsapp) चलाते हैं तो यह खबर आपको थोड़ा असहज कर सकती है। करीब 500 मिलियन व्हाट्सएप यूजर्स के फोन नंबर लीक (Whatsapp Users Data Leak) हो गए हैं और उन्हें ऑनलाइन बेचा जा रहा है। यह हम नहीं कह रहे बल्कि साइबर न्यूज की एक रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, यह अब तक के सबसे बड़े डेटा ब्रीच में से एक है।

साइबर न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, एक लोकप्रिय हैकिंग फोरम पर बिक्री के लिए डेटाबेस में 84 देशों के व्हाट्सएप यूजर्स की निजी जानकारी शामिल है। डेटा बेचने वाले व्यक्ति का दावा है कि सेट के भीतर सिर्फ अमेरिका के ही 32 मिलियन यूजर्स का रिकॉर्ड शामिल है। इसके अलावा मिस्र, इटली, फ्रांस, यूके, रूस और भारत के भी लाखों यूजर्स का डेटा लीक हो चुका है, जिसे ऑनलाइन बेचा जा रहा है।

7 हजार डॉलर में मिल रहा अमेरिका का डेटासेट

साइबर न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका डेटासेट 7000 डॉलर में उपलब्ध है, जबकि UK डेटासेट की कीमत 2500 डॉलर रखी गई है। साइबर न्यूज ने बताया कि जब डेटा बेचने वाली कंपनी से संपर्क किया तो उन्होंने सबूत के तौर पर 1097 नंबर शेयर किए। साइबर न्यूज ने नंबर्स की जांच की और पाया कि वे सभी व्हाट्सएप यूजर्स के हैं हालांकि, हैकर ने यह नहीं बताया कि उन्हें डेटा कैसे मिला।

ऑनलाइन फ्रॉड में इस्तेमाल होती है ऐसी जानकारी

इस तरह की जानकारी का उपयोग अक्सर स्मिशिंग और विशिंग जैसे साइबर अपराधों के लिए किया जाता है। जिसमें यूजर को टेक्स्ट संदेश भेजना और लिंक पर क्लिक करने के लिए कहना शामिल होता है। यूजर को तब अपना क्रेडिट कार्ड या अन्य व्यक्तिगत विवरण प्रदान करने के लिए भी कहा जाता है।

पिछले साल भी हुआ था डेटा लीक

यह पहला उदाहरण नहीं है कि मेटा के स्वामित्व वाला प्लेटफॉर्म डेटा ब्रीच से प्रभावित हुआ है। पिछले साल भी भारत के 6 मिलियन रिकॉर्ड सहित 500 मिलियन से अधिक फेसबुक यूजर्स का व्यक्तिगत डेटा कथित रूप से लीक हो गया था. लीक हुए डेटा में फोन नंबर और अन्य जानकारी शामिल थी।