छत्तीसगढ़

पीएनबी में घोटाला: फर्जीवाड़ा एवं धोखाधड़ी का खुलासा, फर्जी समूह बना लिया लोन, मचा बवाल

Share this

अंबागढ़ चौकी 12 नवम्बर 2022: फर्जी स्व सहायता समूह बनाकर पंजाब नेशनल बैंक से ऋण निकालने का मामला आया है। लाखों में हुए बैंक घोटाले का खुलासा ऋण वसूली के लिए बैंक द्वारा जारी नोटिस के बाद से हुआ है। इधर फर्जी समूह में बताए गए सदस्यों को ऋण अदायगी व सुलह समझौता के लिए नोटिस जारी हो रहा है। नोटिस मिलते ही अंबागढ़ चौकी नगर व परसाटोला में बवाल मचा हुआ है।

ब्लाक के ग्राम परसाटोला में जय बजरंग स्व सहायता समूह तथा अंबागढ़ चौकी नगर में गणपति स्व सहायता समूह नाम से फर्जी समूह बनाकर पंजाब नेशनल बैंक की शाखा अंबागढ़ चौकी से एक-एक लाख ऋण निकालने का मामला सामने आया है। बैंक से यह ऋण वर्ष 2011-12 में निकाला गया है। अब ऋण की मूल राशि दस वर्षों की ब्याज के साथ बढ़कर दोगुना हो गई है। बैंक ने अब ऋण की वसूली के लिए न्यायालय में प्रकरण प्रस्तुत किया है।

बैंक द्वारा ऋण की अदायगी, सुलह समझौता के लिए आवेदन न्यायालय में प्रस्तुत किया है। न्यायालय में प्रकरण जाने के बाद जिन्होंने ऋण लिया है उन्हें ऋण अदायगी एवं सुलहनामे के लिए लोक अदालत में उपस्थित होने का नोटिस जारी हो रहा है।

पहले भी आया है इसी तरह से कर्ज लेने का मामला

फर्जी समूह बनाकर इसी तरह बैंक से लाखों का कर्जा निकालने की घटनाएं पहले भी सामने आ चुकी है। कुछ वर्ष पूर्व इसी तरह का मामला तात्कालीन देना बैंक और बैंक आफ बड़ौदा से सामने आया था। जानकारी के अनुसार उस समय भी भोले-भाले ग्रामीणों के नाम पर समूह बनाकर बैंक से लाखों की ठगी की गई थी। तब भी यह बात समाने आई थी कि जिनका समूह में सदस्य के तौर पर नाम एवं फोटो हैं। उन्हें बैंक के कर्जा की कोई जानकारी नहीं है।

ऋण अदा करने लोक अदालत में आज बुलावा

ऋण वसूली के प्रकरण में पंजाब नेशनल बैंक द्वारा न्यायालय में प्री लिटिगेशन प्रकरण प्रस्तुत करने के बाद जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संबंधित समूहों को 12 ऋण अदायगी तथा सुलहनामे के लिए 12 नवंबर को लोक अदालत में उपस्थित होने का नोटिस जारी किया है। समूहों के सदस्यों को शनिवार को अंबागढ़ चौकी न्यायालय परिसर में सुबह 11 बजे से दोपहर चा बजे तक उपस्थित होने का आदेश जारी किया है।

बैंक ऋण का पैसा पटाने बैंक से नोटिस जारी

परसाटोला निवासी सुकलाल निषाद व शंकर मंडावी ने बताया कि जय बजरंग स्वयं सहायता समूह परसाटोला के नाम से किसने फर्जी समूह बनाया और किसने पीएनबी बैंक से ऋण लिया यह उनकी जानकारी में नहीं है। बैंक अब उसे ऋण का पैसा पटाने के लिए नोटिस जारी कर रही है।

बैंक जाकर जानकारी लिया तो जिस फर्जी समूह में सदस्य के नाम में उसका नाम एवं फोटो शामिल है। सुकलाल निषाद व शंकर मंडावी ने बताया कि बैंक के रिकार्ड उसके नाम से जो हस्ताक्षर किए गए हैं वह उनका नहीं है। मंडावी ने बताया कि वह अंग्रेजी में हस्ताक्षर नहीं करता है लेकिन उसका हस्ताक्षर अंग्रेजी में है। दोनों ने बताया कि गांव में उससे सियाराम निषाद नामक व्यक्ति ने फोटो मांगा था। अब वह जिंदा नहीं है।

नोटिस के बाद मामले की जानकारी मिली

नगर पंचायत के वार्ड-2 निवासी त्रिलोक सिंह चौधरी ने बताया कि किसी ने गणपति स्वयं सहायता समूह के नाम से फर्जी समूह बनाकर पीएनबी बैंक से ऋण निकाला था। इस फर्जी समूह में उसे भी सदस्य बनाकर उसकी फोटो लगाकर तथा फर्जी हस्ताक्षर कर लोन निकाल लिया है। जबकि वे इस नाम के समूह ही नहीं कोई भी समूह से नहीं जुड़े हुए है। बैंक से नोटिस मिलने के बाद उन्हें इस मामले की जानकारी लगी है।

प्रकरण 10 साल पुराना है: शाखा प्रबंधक

पीएनबी शाखा प्रबंधक भूपेन्द्र कुमार पात्रे ने बताया कि ऋण वसूली के लिए जिला न्यायालय में प्रकरण प्रस्तुत किया गया है। प्रकरण दस वर्ष पुराना है।