ब्रेकिंग न्यूज़ : लोहर्सी और शिवरीनारायण के बीच खरौद मोड़ के पास अज्ञात वाहन ने मारी बाइक सवार को ठोकर....   |   रायपुर - विधानसभा में आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वन मंत्री मोहम्मद अकबर और पीएचई मंत्री रूद्रकुमार गुरू करेंगे सवालों का सामना….विकास यात्रा के खर्चों को लेकर गरमा सकता है सदन…   |   रायपुर : मुख्यमंत्री आज दामाखेड़ा में आयोजित संत समागम में शामिल होंगे   |   जशपुर:- बगीचा कैलाश गुफा सड़क निर्माण युद्धस्तर पर जल्द किये जाने की मांग को लेकर जनजातीय समाज उतरा सड़कों पर,धरना प्रदर्शन कर आश्रम प्रबन्धन की तानाशाही के खिलाफ खोला मोर्चा,आगामी लोकसभा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी,   |   रायपुर : कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वर्तमान परिदृश्य में फेक न्यूज की चुनौतियां’’ विषय पर संगोष्ठी आज   |   रायपुर : जिला निर्वाचन अधिकारियों ने ली मतदान करने की शपथ : सीईओ सुब्रत साहू ने दिलाई शपथ   |   रायपुर : छत्तीसगढ़ का शत-प्रतिशत घर होगा बिजली से रोशन : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर.के.सिंह द्वारा सौभाग्य योजना की समीक्षा   |   रायपुर : बस्तर के धुरागांव में होगा विशाल किसान-आदिवासी सम्मेलन : लोहण्डीगुड़ा क्षेत्र के संयंत्र प्रभावित किसानों को मिलेंगे जमीन के दस्तावेज   |   रायपुर - पिछली सरकार के स्वीकृत कामों को रोकने पर विधानसभा में जमकर हंगामा   |   बिलासपुर - मालगाड़ी के बोगी में लगी भीषण आग, ट्रेन का डिब्बा हुआ जलकर खाक बाल-बाल बचे कर्मचारी   |  

 

ज्योतिष

Share
01-February-2019
Posted Date

बसंत पंचमी देने वाली है दस्तक, ऐसे करें मां सरस्वती की पूजा और वंदना

रायपुर  हिन्दू धर्म की प्रमुख देवियों में से एक हैं। वे ब्रह्मा की मानसपुत्री हैं जो विद्या की अधिष्ठात्री देवी मानी गई हैं। इनका नामांतर 'शतरूपा' भी है। इसके अन्य पर्याय हैं, वाणी, वाग्देवी, भारती, शारदा, वागेश्वरी इत्यादि। ये शुक्लवर्ण, श्वेत वस्त्रधारिणी, वीणावादनतत्परा तथा श्वेतपद्मासना कही गई हैं। इनकी उपासना करने से मूर्ख भी विद्वान् बन सकता है। माघ शुक्ल पंचमी को इनकी पूजा की परिपाटी चली आ रही है। देवी भागवत के अनुसार ये ब्रह्मा की स्त्री हैं।

सरस्वती माँ के अन्य नामों में शारदा, शतरूपा, वीणावादिनी, वीणापाणि, वाग्देवी, वागेश्वरी, भारती आदि कई नामों से जाना जाता है। देवी सरस्वती का पूजन करने के लिए बसंत पचंमी की इंतजार किया जाता है। माघ महीने में पूर्वी भारत में इसे बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। बंग्लादेश के पश्चमी भाग और नेपाल के कुछ हिस्सों में बसंत पचंमी मनाई जाती है। इस दिन महिलाएं पूर्वी भारत में पीले कपड़े पहनती हैं। कई जगहों पर इस महीने में गुप्त नवरात्रि भी मनाई जाती है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है। इस बार बसंच पंचमी 10 फरवरी को पड़ने वाली है। 

संकष्टी चतुर्थी आज, 48 साल बाद बन रहा दुर्लभ संयोग, इस विधि से करें पूजन, होंगे सारे काम पूरे

इस दिन कहते हैं कि मां सरस्वती का अविर्भाव हुआ था। इस दिन पले रंग क वस्त्र पहनकर पीले रंग के पकवान खाते हैं। साथ ही ये दिन सबसे शुभ माना जाता है इसलिए सभी शुभ और मंगलकारी काम इस दिन किए जाते हैं। मां सरस्वती को ज्ञान और बुद्धि की देवी माना जाता है इसलिए इस दिन बच्चों को जोकि पढ़ाई करते हैं उन्हें अच्छी पुस्तकें भेंट की जा सकती हैं। साथ ही सरस्वती मां वीणा वादिनी थीं, इस दिन गायन में रुचि रखने वालों को भी वाद्य यंत्र भेंट दिया जा सकता है। 

बसंत पंचमी के साथ ही मौसम में भी बहार आ जाती है। इससे सरसों के फूल खिल जाते हैं और आम के पेड़ों पर बौर आ जाती हैं और साथ ही ठंड जाने के साथ मौसम खिल उठता है। 

कैसे होता है बसंत पंचमी पर पूजन?

इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है साथ ही उन्हें कमल के फूल अर्पित किए जाते हैं। 

इस दिन पुस्तकों और वाद्य यंत्रों की पूजा की जाती है। 

इस दिन दान करने का बहुत महत्व है। गरीब बच्चों को और जरुरतमंदों को दान देने से सौभाग्य बढ़ता है। इस दिन अध्ययन से संबंधी कुछ दान करने से ज्ञान में बढ़ोत्तरी होती है और मां सरस्वती का आर्शिवाद मिलता है। 


ज्योतिष » More Photo

ज्योतिष » More Video

LEAVE A COMMENT