रायपुर : जल आवंटन के पूर्व स्थल परीक्षण और भौतिक सत्यापन के निर्देश : औद्योगिक प्रयोजन के लिए भू-जल के उपयोग पर होगी कार्रवाई   |   रायपुर : रायपुर आबकारी कार्यालय में पदस्थ सहायक जिला आबकारी अधिकारी जे.पी.एन. दीक्षित को शासकीय कर्तव्यों में लापरवाही बरतने के फलस्वरूप निलम्बित कर दिया गया है   |   रायपुर : मुख्यमंत्री ने दी मकर संक्रांति, लोहड़ी और पोंगल की शुभकामनाएं   |   नई दिल्ली - आलोक वर्मा को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक पद से गुरुवार को हटा दिया गया।   |   नई दिल्ली - दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहे विश्व पुस्तक मेले में गुरुवार को राजकमल प्रकाशन के स्टॉल जलसाघर` में लगा लेखकों का जमघट   |   नई दिल्ली- भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शुक्रवार से शुरू हो रहे राष्ट्रीय परिषद के दो दिवसीय सम्मेलन में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए तय होगा एजेंडा   |   रायपुर - नशीली सीरप जब्त, एक गिरफ्तार सिविल लाईन थाने का इलाके का मामला   |   रायपुर - तेलीबांधा थाना इलाके के काशीरामनगर में आपसी रंजिश में एक व्यक्ति से मारपीट का मामला सामने आया है।   |   रायपुर - पुरानी बस्ती थाना इलाके से 5 दिनों से नाबालिग लड़का लापता है। लड़के की मां ने मामले में शिकायत की है।   |   बलोदा बाजार भाटापारा ट्रक यार्ड में हज़ारो रुपये एवम मोबाइल लूट के मामले सुहेला पुलिस ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार   |  

 

ज्योतिष

Share
15-December-2018
Posted Date

बगलामुखी जयंती: ऐसे करें उपासना, शत्रु बाधा से मिलेगी मुक्ति

दस महाविद्या में आठवीं स्वरूप देवी बंगलामुखी का है. माता बंगलामुखी पीली आभा से युक्त हैं इसलिए इन्हें पीताम्बरा कहा जाता है. बंगलामुखी की पूजा में पीले रंग का विशेष महत्व है. बंगलामुखी जयंती 23 अप्रैल 2018 (सोमवार) को है. इनका प्राकट्य स्थान गुजरात का सौराष्ट्र में माना जाता है. मां बगलामुखी स्तंभन शक्ति की अधिष्ठात्री देवी हैं अर्थात यह अपने भक्तों के भय को दूर करके शत्रुओं और उनके बुरी शक्तियों का नाश करती हैं. इन्हें पीला रंग अति प्रिय है इसलिए इनके पूजन में पीले रंग की सामग्री का उपयोग सबसे ज्यादा होता है. माता बंगलामुखी की पूजा तंत्र विधि की पूजा होती है. इसलिए इनकी पूजा बिना किसी गुरु के निर्देशन में नहीं करनी चाहिए.

बंगलामुखी पूजा के नियम और सावधानियां

शास्त्रों के अनुसार माँ बंगलामुखी की पूजा शत्रु के नाश के लिए नहीं करनी चाहिए.

बंगलामुखी की पूजा में पीले आसन, पीले वस्त्र, पीले फल और पीले भोग का प्रयोग करना चाहिए.

माँ बंगलामुखी के मंत्र जाप के लिए हल्दी की माला का प्रयोग करना चाहिए.

इनकी पूजा के लिए उपयुक्त समय संध्याकाल या मध्यरात्रि मानी गई है.

बगलामुखी जयंती के दिन माँ बगलामुखी को दो गाँठ हल्दी अर्पित करें.माँ से शत्रु और विरोधियों के शांत हो जाने की प्रार्थना करें. एक हल्दी की गाँठ अपने पास रख लें. दूसरी गाँठ को जल में प्रवाहित कर दें.ऐसा करने से हर प्रकार के शत्रु बाधा से मुक्ति मिलती है.


ज्योतिष » More Photo

ज्योतिष » More Video

LEAVE A COMMENT