रायपुर : राजिम माघी-पुन्नी मेला के शुभारंभ अवसर पर राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं   |   रायपुर : शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रमा सिंह का विशेष सहायक पद पर किया गया पदस्थापना आदेश निरस्त   |   रायपुर : राजिम माघी-पुन्नी मेला के शुभारंभ अवसर पर राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं   |   रायपुर : राजिम माघी पुन्नी मेला हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक: मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं   |   ब्रेकिंग न्यूज़ : लोहर्सी और शिवरीनारायण के बीच खरौद मोड़ के पास अज्ञात वाहन ने मारी बाइक सवार को ठोकर....   |   रायपुर - विधानसभा में आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वन मंत्री मोहम्मद अकबर और पीएचई मंत्री रूद्रकुमार गुरू करेंगे सवालों का सामना….विकास यात्रा के खर्चों को लेकर गरमा सकता है सदन…   |   रायपुर : मुख्यमंत्री आज दामाखेड़ा में आयोजित संत समागम में शामिल होंगे   |   जशपुर:- बगीचा कैलाश गुफा सड़क निर्माण युद्धस्तर पर जल्द किये जाने की मांग को लेकर जनजातीय समाज उतरा सड़कों पर,धरना प्रदर्शन कर आश्रम प्रबन्धन की तानाशाही के खिलाफ खोला मोर्चा,आगामी लोकसभा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी,   |   रायपुर : कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वर्तमान परिदृश्य में फेक न्यूज की चुनौतियां’’ विषय पर संगोष्ठी आज   |   रायपुर : जिला निर्वाचन अधिकारियों ने ली मतदान करने की शपथ : सीईओ सुब्रत साहू ने दिलाई शपथ   |  

 

राजनीति

Share
15-November-2018
Posted Date

पत्रकार खबरीलाल विशेष ::- कृति देवी चुनाव लड़ने से पीछे हटी; कवर्धा में होगा अब रोचक मुकाबला ।।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 दिन ब दिन रोचक होते जा रहे हैं। कुछ दिनों पूर्व कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने के कारण कवर्धा के राजा योगी राज निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी। उन्हें मनाने टीएस बाबा, मोहम्मद अकबर, ममता चंद्राकर राज महल पहुंचे पर बात नहीं बनी। अचानक रानी साहिबा कृति देवी को कवर्धा विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनावी जंग में लड़ने हेतु भेजा गया, प्रचार प्रसार भी जोर शोर से शुरू हो गया, नाम वापसी का अंतिम दिन भी चला गया, लेकिन 14 नवंबर 2018 को राहुल गांधी के कवर्धा दौरा के पश्चात 15 नवंबर 2018 को कृति देवी ने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया और अपना समर्थन पूर्ण रूप से कांग्रेस और कांग्रेस प्रत्याशी मोहम्मद अकबर को देने की बात कही। अब यहां समझने की जरूरत है कि पहले राजा साहब पंडरिया विधानसभा से निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा किये, उसके बाद अपने धर्म पत्नी कृति देवी को कवर्धा विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में उतारा। अब दोनों राजा और रानी चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। यह राजनीति समझ से परे है और जनता भी भ्रमित नजर आ रही है। जब चुनाव ही नहीं लड़ना था तो नामांकन क्यों दाखिल किए गए और रानी साहिबा का क्यों प्रचार प्रसार शुरू किया गया। अब सबसे अहम सवाल यह उठता है कि राहुल गांधी से बंद कमरे में क्या चर्चा हुई ? कयास ये लगाए जा रहे हैं कि - राजा साहब लोकसभा के लिए टिकट हेतु यह कदम उठाये हैं या कांग्रेस की सरकार बनने पर किसी महत्त्वपूर्ण निगम, मंडल में रानी साहिबा के लिए अध्यक्ष का पोस्ट या कुछ और... । जो भी हुआ इससे अब कवर्धा विधानसभा में मुकाबला रोचक हो गया है। एक तरफ अकबर तो दूसरी तरफ अशोक साहू। अब देखना यह है कि बाजी कौन मार ले जाता है। अकबर पुराने धुरंधर राजनीतिज्ञ हैं वे भी बिसाद जरूर बिछा लिए होंगे। डॉ रमन सिंह और अभिषेक सिंह का भी प्रतिष्ठा दांव पर लग गया है क्यों कि कवर्धा उनका गृह जिला है और दो विधानसभा है। जनता निगाहें लगाकर बैठी है कि बाप-बेटे की जोड़ी ऐसा कौन सा शतरंज का चाल देंगे कि कवर्धा और पंडरिया विधानसभा उनके झोली में आ जाये। केवल अब 3 दिन ही प्रचार हेतु शेष रह गए हैं और प्रचार थमने के दूसरे दिन ही मतदान होगा। अब पूरे राज्य की निगाहें कवर्धा, पंडरिया, राजनांदगाँव और खरसिया विधानसभा पर लगा हुआ है जहां स्वयं डॉ रमन का प्रतिष्ठा दांव पर है। 11 दिसंबर तक सभी को इंतेजार करना होगा जब ईवीएम खुलेगा। तब तक जय जोहार जय छत्तीसगढ़।

राजनीति » More Photo

राजनीति » More Video

LEAVE A COMMENT