भाजपा ने जारी कि उम्मीदवारों की लिस्ट राजनांदगांव लोकसभा सीट से संतोष पांडे को बनाया गया लोकसभा का उम्मीदवार..   |   जांजगीर चापा- संदिग्ध अवस्था में मिली युवक की लाश हसौद थाना क्षेत्र मल्दा-डोमाडीह मार्ग कि घटना   |   राजनांदगांव ब्रेकिंग-- कांग्रेस ने की लोकसभा उम्मीदवार कि घोषणा, राजनांदगांव लोकसभा सीट से भोलाराम साहू को दिया टिकट..भोलाराम साहू खुज्जी के पूर्व विधायक..साहू वोटरों को साधने की कोशिश   |   समाचार या शिकायत के लिए BBN24 हेल्पलाइन नंबर 8358851367   |   अवैध शराब पर शिवरीनारायण पुलिस की कार्यवाही ,52 पाव देशी लाल शराब के साथ दो युवक गिरफ्तार   |   बीजापुर - 5 स्थायी वारंटी नक्सली गिरफ्तार।   |   राजनांदगांव ब्रेकिंग UPDATED --एक वर्दीधारी नक्सली महिला ढेर,कार्बन मशीन गन के साथ...   |   राजनांदगांव -- गातापार थाना क्षेत्र के भावे जगंल मे पुलिस नक्सली मुठभेड़..पिछले आधे घंटे से दोनों तरफ से रुक-रुक कर हो रही फायरिंग..   |   पानी में डूबने से हाथी की मौत , महासमुन्द के अछोला का मामला   |   डोंगरगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम कोलेन्द्रा में मां और बेटे की हत्या ,गांव मे दहशत का महौल   |  

 

मनोरंजन

Share
08-January-2019
Posted Date

मौलाना आज़ाद पर बनी पहली हिन्दी फिचर फिल्म 18 जनवरी, 2019 को रिलीज होगी

 मुंबई- मौलाना आज़ाद पर राजेंद्र फिल्म्स के बैनर तले निर्मित और श्रीमती भारती व्यास प्रस्तुत पहली हिन्दी फिचर फिल्म 18 जनवरी, 2019 को देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है। इस फिल्म के निर्माता, कथा, पटकथा, संवाद, गीत लेखक डॉ. राजेंद्र संजय हैं। इसके निर्देशक भी डॉ. राजेंद्र संजय और संजय सिंह नेगी हैं। फिल्म में संगीत दर्शन कहार ने दिया है जबकि आर्ट निर्देशक मनोज मिश्रा हैं। फिल्म के मुख्य पात्र की भूमिका लिनेश फणसे (मौलाना आज़ाद), सिराली (जुलैखा बेगम), सुधीर जोगलेकर, आरती गुप्ते, डॉ. राजेंद्र संजय, अरविंद वेकरिया, शरद शाह, केटी मेंघानी, चेतन ठक्कर, सुनील बलवंत, माही सिंह, चांद अंसारी और वीरेंद्र मिश्र  ने निभाया है।  

मौलाना आज़ाद का पूरा नाम अबुल कलाम मोहियुद्दीन अहमद था, जिनका बचपन बड़े भाई यासीन, तीन बड़ी बहनों ज़ैनब, फ़ातिमा और हनीफा के साथ कलकत्ता (कोलकाता) में गुज़रा। महज 12 साल की उम्र में उन्होंने हस्तलिखित पत्रिका ‘ नैरंग-ए-आलम ’ निकाली जिसे अदबी दुनिया ने खूब सराहा। हिंदुस्तान से अंग्रेजों को भगाने के लिए वे मशहूर क्रांतिकारी श्री अरबिंदो घोष के संगठन के सक्रिय सदस्य बनकर, उनके प्रिय पात्र बन गए। उन्होंने एक के बाद एक, दो पत्रिकाओं ‘ अल-हिलाल ’ औऱ ‘ अल बलाह’ का प्रकाशन किया जिनकी लोकप्रियता से डरकर अंग्रेजी हुकूमत ने दोनों पत्रिकाओं का प्रकाशन बंद कराकर, उन्हें कलकत्ता से तड़ी पार कर रांची में नज़रबंद कर दिया। चार साल बाद सन् 1920 में नजरबंदी से रिहा होकर वह दिल्ली में पहली बार महात्मा गांधी से मिले और उनके सबसे करीबी सहयोगी बन गए।

उनकी प्रतिभा और ओज से प्रभावित जवाहरलाल नेहरु उन्हें अपना बड़ा भाई मानते थे। पैंतीस साल की उम्र में आज़ाद कांग्रेस के सबसे कम उम्र वाले अध्यक्ष चुने गए। गांधी जी की लंबी जेल-यात्रा के दौरान आज़ाद ने दो दलों में बंट चुकी कांग्रेस को फिर से एक करके अंग्रेजों के तोड़ू नीति को नाकाम कर दिया। केंद्रीय शिक्षामंत्री के रुप में उन्होंने विज्ञान एवं तकनीक के क्षेत्र में क्रांति पैदा करके उसे पश्चिमी देशों की पंक्ति में ला बिठाया। हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए जीवन भर संघर्ष करने वाले मौलाना आज़ाद जैसे सपूत के जीवन की दिलचस्प कहानी को रुपहले पर्दे पर देखिए।

फिल्म के निर्माता डॉ. राजेंद्र संजय ने कहा, ‘इस फिचर फिल्म का निर्माण मैंने मौलाना आज़ाद की जीवनी से प्रभावित होकर किया। मौलाना आज़ाद एक ऐसे व्यक्तित्व थे जिनके जीवन में काफी भावनात्मक उतार-चढ़ाव थे और स्वतंत्रता संग्राम में भी उनके कार्यों की गाथा अनूठी है। मौलाना आज़ाद पर बनने वाली भारत की यह पहली फिचर फिल्म है। इसके किरदारों का फिल्म के निर्माण के दौरान महत्वपूर्ण सहयोग रहा। उनकी तन्मयता और योगदान के लिए मैं उन्हें तहे दिल से धन्यवाद देता हूं।‘


मनोरंजन » More Photo

मौलाना आज़ाद पर बनी पहली हिन्दी फिचर फिल्म 18 जनवरी, 2019 को रिलीज होगी

मनोरंजन » More Video

LEAVE A COMMENT