BBN24 : बड़ी खबर : राजनांदगांव - मतदान दल और सुरक्षाकर्मी कर रहे अपनी मनमानी , मतदान केन्द्र का दरवाजा किया बंद, सैकडो मतदाता केन्द्र के बाहर रहे खडे   |   राजनांदगांव -- धूर नक्सल प्रभावित क्षेत्र की 120 वर्षीय बुजुर्ग महिला नोहरी तोपसे ने लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा लिया और चिलचिलाती धूप में किया मतदान   |   BIG BREAKING NEWS : राजनांदगांव --नक्सलियो ने किया आईईडी ब्लास्ट,एक जवान घायल....   |   राजनांदगांव -- नक्सल प्रभावित क्षेत्र कोरचाटोला मे शांति पूर्ण तरीकें से चल रहा मतदान   |   राजनांदगांव-- राजनांदगांव के जिला निर्वाचन अधिकारी जय प्रकाश मौर्य ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया   |   राजनांदगांव - डोगरगांव विधानसभा क्षेत्र के बुध्दूभरदा मतदान केन्द्र मे दुल्हन ने शादी के बाद किया मतदान।   |   राजनांदगांव -- दुल्हन ने ससुराल जाने से पहले पहुची मतदान केन्द्र   |   राजनांदगांव -- नक्सल प्रभावित क्षेत्र चिल्हाटी मे शांति पूर्ण तरीकें से चल रहा मतदान..   |   राजनांदगांव -- राजनांदगांव लोकसभा राजनांदगांव जिले में 7 से 9 बजे के बीच औसत 15.99 प्रतिशत मतदान।   |   राजनांदगांव -- नक्सल प्रभावित मोहला मानपुर मे शांति पूर्ण तरीके से चल रहा मतदान..   |  
बादल पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर भाटापारा छतीसगढ़ की ओर से समस्त क्षेत्रवासियों को हिंदू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं : शादी पार्टियों में पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर के लिए संपर्क करें 9644399744   |   *शिक्षा के क्षेत्र में बनाएं अपना बेहतर भविष्य ,* *प्रवेश प्रारंभ ....* DCA , BCA , PGDCA , नर्सिंग , आयुर्वेदिक फार्मेसी , डी एवम बी फार्मा , योगा साइंस , लैब टेक्नीशियन , नेत्र सहायक , एक्स रे टेक्नीशियन , ITI , इंजीनियरिंग व अन्य सभी विश्वविद्यालय कोर्स में प्रवेश के लिए आज ही संपर्क करें *MY एजुकेशन सेंटर* आजाद चौक के पास मेन रोड अकलतरा, जिला जांजगीर चापा (छत्तीसगढ ) अधिक जानकारी के लिए कॉल करे 7389308080 *छात्रवृत्ति सुविधा उपलब्ध है*   |   समस्त जिला एवं प्रदेश वासियो को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए विनीत महिला एवं बाल विकास अधिकारी भाटापारा |   |   समस्त जिला एवं प्रदेश वासियो को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए विनीत मुख्य कार्यपालन अभियंता (पी डब्लू डी) बलोदा बाजार |   |   समस्त जिला एवं प्रदेश वासियो को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए विनीत वन मंडल अधिकारी बलोदा बाजार |   |  

गैजेट्स

Share
11-October-2018
Posted Date

मोटापा पीड़ित महिलाओं में गर्भधारण की संभावना रहती कम (11 अक्टूबर : विश्व मोटापा दिवस)

नई दिल्ली - अधिक वजनी महिलाओं को गर्भधारण में संतुलित वजन वाली महिलाओं के मुकाबले एक साल से अधिक का समय लग सकता है। मोटापे से पीड़ित महिलाओं में गर्भपात की आशंका भी दोगुनी से अधिक रहती है। फर्टिलिटी साल्यूशंस, मेडिकवर फर्टिलिटी की क्लीनिकल डायरेक्टर और सीनियर कंसल्टेंट डॉ. श्वेता गुप्ता के मुताबिक, अधिक वजन या मोटापे से पीड़ित महिलाओं में गर्भधारण की संभावनाएं अपेक्षाकृत कम रहती हैं।
शोध बताते हैं कि मोटापा मुख्य कारण तो नहीं है, लेकिन इनफर्टिलिटी (नि:संतानता) का महत्वपूर्ण कारण जरूर है। मोटापे के कारण एंड्रोजन, इंसुलिन जैसे हार्मोन का अत्यधिक निर्माण जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं या अंडोत्सर्जन तथा शुक्राणु के लिए नुकसानदेह प्रतिरोधी हार्मोन बनते हैं। लिहाजा, स्वस्थ लाइफस्टाइल अपनाएं। इससे न सिर्फ आपकी प्रजनन क्षमता बढ़ेगी, बल्कि आप फिट भी रह सकती हैं।
धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशियल्टी हॉस्पिटल में इंटरनल मेडिसिन के डॉ. गौरव जैन के मुताबिक, `मोटापे के कारण आपके शरीर को बहुत ज्यादा नुकसान होता है। मोटापे से पीड़ित व्यक्तियों में टाइप 2 डायबिटीज, हाई ब्लडप्रेशर, हृदयरोग और यहां तक कि कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियां भी उभर सकती हैं। आज युवाओं में मोटापे के मामले आश्चर्यजनक रूप से बढ़ रहे हैं।
एक ही जगह पर लंबे समय तक बैठ कर लगातार वेब सीरीज देखते रहना आज युवाओं में एक नया चलन बन गया है और इस वजह से भी बचपन से ही लोग मोटापे का शिकार हो जाते हैं। हाल ही में एक अध्ययन बताता है कि अस्थमा से पीड़ित बच्चों में मोटापे का शिकार होने की संभावना अधिक रहती है, क्योंकि अपनी सेहत स्थिति के कारण वे व्यायाम करने से दूर रहते हैं और इनहेलर के तौर पर स्टेरॉयड लेने से उनकी भूख बढ़ती जाती है।
लिहाजा, लोगों को सलाह है कि वे स्वस्थ भोजन लें, अपना बीएमआई संतुलित रखें और अपने लाइफस्टाइल में शारीरिक गतिविधियों को महत्व दें।
बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट के सीनियर कंसल्टेंट, गैस्ट्रोइंट्रोलोजिस्ट, डॉ. जी.एस. लांबा के मुताबिक, `यदि आप तनाव में रहते हैं तो आप मोटापे का शिकार हो सकते हैं। तनाव कई तरीके से वजन बढ़ाने में योगदान कर सकता है। तनाव की वजह से हमारे शरीर में कई हार्मोन पैदा होते हैं जिनमें कोर्टिसोल भी एक है। यह हार्मोन फैट स्टोरेज और शरीर की ऊर्जा खपत प्रबंधित करने का काम करता है। कोर्टिसोल का स्तर बढ़ने से भूख भी बढ़ जाती है। इस वजह से मीठा और वसायुक्त भोजन खाने की इच्छा बढ़ जाती है।
उन्होंने कहा, `गंभीर तनाव की स्थिति में वसा के रूप में शरीर में ऊर्जा इकट्ठा होने लगती है और यह हमारे पेट पर सबसे ज्यादा असर करती और चर्बी बढ़ाता है। मोटापे के कारण हृदय रोग, डायबिटीज, ओस्टियो-अर्थराइटिस आदि जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। इन सभी बीमारियों का रिस्क फैक्टर कम करने के लिए आपको रोजाना कम से कम एक घंटे तक कुछ शारीरिक व्यायाम करना और अपने खानपान में संतुलित आहार लेना जरूरी है। ज्यादा तनाव न लें और फिट एवं स्वस्थ रहने के लिए अपने व्यक्तिगत तथा प्रोफेशनल जीवन में संतुलन बनाए रखें।

एजेंसी 

 


गैजेट्स » More Photo

गैजेट्स » More Video

LEAVE A COMMENT