नई दिल्ली - मुख्यमंत्री का नाम फाइनल दोपहर तक चार्टर प्लेन से रायपुर पहुंचेंगे कांग्रेसी दिग्गज, छत्तीसगढ़ आने के बाद तय होगा मुख्यमंत्री का नाम   |   नई दिल्ली - मुख्यमंत्री पद के सभी दावेदार पहुंचे राहुल गांधी के बंगले ताम्रध्वज,टी एस सिंहदेव भूपेश बघेल व महंत बंगले के अंदर तो शिव डहरिया, देवेंद्र यादव, जयसिंह अग्रवाल बंगले के बाहर है मौजूद   |   रायपुर - सार्वजनिक स्थान पर सरेआम शराब पीते गंज थाना पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया   |   रायपुर - मुजगहन थाना इलाके के ग्राम सिवनी में युवक से बिना किसी कारण गाली गलौज मारपीट का मामला सामने आया है   |   तेलंगाना: के. चंद्रशेखर राव ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ   |   रायपुर - कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, राहुल गांधी थोड़ी देर में करेंगे सीएम का फैसला   |   रायपुर - सत्ता पलट होते ही प्रशासनिक विभागों में मची खलबली, DSP की मौजूदगी में खुफिया विभाग ने जलाए कई अहम दस्तावेज   |   रायपुर - भूपेश बघेल के बंगले पर आपस में भिड़े समर्थक, जमकर हुई मारपीट   |   रायपुर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के दुर्ग स्टेशन से प्रारंभ होने वाली ट्रेनों की सफाई के लिए आधुनिक, ’स्वचालित कोच वाशिंग प्लांट’की स्थापना जल्द   |   बलौदा बज़ार भाटापारा - कलेक्टर ने धान उठाव के कार्य में तेजी लाने के दिए निर्देश डीमओ को कहा ज्यादा से ज्यादा अब तक 1.98 लाख मीटरिक टन धान की हुई खरीदी   |  

 

कृषि

Share
10-August-2018
Posted Date

धान की रोपाई में देरी होने की स्थिति में एक स्थान पर चार-पांच पौधे लगाना जरूरी : रोपाई वाले खेतों में 5 सेंटीमीटर भरना चाहिए

रायपुर  कृषि वैज्ञानिकों ने पिछले दिनों से हो रही बारिश के पानी को धान के खेतों में रोकने के लिए समुचित प्रबंध करने की सलाह किसानों को दी है। कृषि वैज्ञानिकों ने आज  कहा है कि धान के बोता तों में बियासी के लिए तथा रोपाई वाले खेतों में रोपा लगाने के लिए पानी रोकना चाहिए।
    कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि धान की रोपाई में देरी होने पर रोता लगाते समय एक स्थान पर चार-पांच पौधों की रोपाई करनी चाहिए। ऐसी स्थिति में 10 प्रतिशत अधिक खाद डालना चाहिए। रोपे गए खेतों में लगभग 5 सेंटीमीटर पानी भर कर रखना लाभदायक होता है। ऐसे खेतों में अधिक पानी भरा होने से धान के कन्सो की संख्या प्रभावित होती है। धान नर्सरी में कार्बोफ्यूरान दानेदार दवा 20 किलो प्रति एकड़ के हिसाब से थरहा निकालने के चार दिन पहले नर्सरी में डालना चाहिए।
    कृषि वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में कम वर्षा की स्थिति है। इन क्षेत्रों की धान फसलों में कटुआ इल्ली की आशंका है। सूखे खेतों में कटुआ इल्ली का प्रकोप होने पर डाइक्लोरोवास एक मिली लीटर एक लीटर पानी में घोल कर 200 लीटर प्रति एकड़ की दर से छिड़काव करना चाहिए। जिन खेतों में पानी भरा है और वहां कटुआ इल्ली दिखाई दे तो एक लीटर मिट्टी तेल प्रति एकड़ की दर से खेतों के पानी में डालकर पौधों के ऊपर रस्सी चलाना चाहिए, ताकि इल्लियां मिट्टी तेल युक्त पानी में गिरकर मर जाएं।
    कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि धान फसल में हानिकारक कीड़ों पर सतत निगरानी रखनी चाहिए। इसके लिए प्रकाश प्रपंच उपकरण का उपयोग किया जा सकता है। प्रकाश प्रपंच उपकरण फसल से थोड़ी दूरी पर लगाकर शाम 6.30 से रात्रि 10.30 बजे तक बल्ब जलाना चाहिए। सुबह कीड़ों को एकत्र कर नष्ट कर देना चाहिए। सोयाबीन की फसल में पत्ती खाने वाली इल्लियां एवं चक्र भंृग कीड़े ज्यादा दिखने पर ट्राईजोफास दवा की 2 मिली लीटर मात्रा एक लीटर पानी या फ्लुबेंडामाईट आधा मिली लीटर एक लीटर पानी में घोल बनाकर 200 लीटर घोल प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करना चाहिए। दवा छिड़कने के तीन घंटे के भीतर बारिश हो जाने पर पुनः घोल छिड़कना जरूरी होता है


कृषि » More Photo

कृषि » More Video

LEAVE A COMMENT