नयी दिल्ली- छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने प्रत्याशियों के नामों का किया ऐलान   |   नई दिल्ली- छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान थोड़ी देर में   |   गरियाबंद - सुपाडोंगर पहाड़ी पर चुनाव पूर्व नक्सलियों की धमक मुठभेड़ के बाद भाग खड़े हुए नक्सली, सामग्री जप्त   |   अमृतसर में बड़ा रेल हादसा - रावण दहन देख रहे लोगों पर चढ़ी ट्रेन, कई लोगों की मौत   |   रायपुर - पहले चरण के चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की अपने 12 प्रत्याशियों की सूची   |   नई दिल्ली - विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने पद से इस्तीफा दिया अकबर पर लगे थे यौन शोषण के आरोप   |   रायपुर - मुख्यमंत्री ने सड़क हादसे में दस यात्रियों की मृत्यु पर गहरा दु:ख व्यक्त किया   |   रायपुर - छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बुधवार को विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची जारी की   |   रायपुर - 19 या 20 अक्टूबर को भाजपा जारी करेगी 70 से 75 उम्मीदवारों की लिस्ट….मुख्यमंत्री रमन सिंह ने दिये संकेत   |   बरीमाला: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आज खुलेगा सबरीमाला मंदिर, तनाव की स्थिति | दिल्ली पुलिस ने 5 स्टार होटल हयात के खिलाफ किया केस दर्ज | हरियाणाः हत्या के मामले में रामपाल को उम्रकैद की सजा | योगी कैबिनेट में प्रस्ताव पास, इलाहाबाद का नाम अब प्रयाग राज | पीएम मोदी ने तेल उत्पादक देशों के साथ साझेदारी का किया आह्वान | एएसईएम सम्मेलन में भाग लेने ब्रसेल्स जाएंगे उपराष्ट्रपति   |  

 

कृषि

Share
10-August-2018
Posted Date

धान की रोपाई में देरी होने की स्थिति में एक स्थान पर चार-पांच पौधे लगाना जरूरी : रोपाई वाले खेतों में 5 सेंटीमीटर भरना चाहिए

रायपुर  कृषि वैज्ञानिकों ने पिछले दिनों से हो रही बारिश के पानी को धान के खेतों में रोकने के लिए समुचित प्रबंध करने की सलाह किसानों को दी है। कृषि वैज्ञानिकों ने आज  कहा है कि धान के बोता तों में बियासी के लिए तथा रोपाई वाले खेतों में रोपा लगाने के लिए पानी रोकना चाहिए।
    कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि धान की रोपाई में देरी होने पर रोता लगाते समय एक स्थान पर चार-पांच पौधों की रोपाई करनी चाहिए। ऐसी स्थिति में 10 प्रतिशत अधिक खाद डालना चाहिए। रोपे गए खेतों में लगभग 5 सेंटीमीटर पानी भर कर रखना लाभदायक होता है। ऐसे खेतों में अधिक पानी भरा होने से धान के कन्सो की संख्या प्रभावित होती है। धान नर्सरी में कार्बोफ्यूरान दानेदार दवा 20 किलो प्रति एकड़ के हिसाब से थरहा निकालने के चार दिन पहले नर्सरी में डालना चाहिए।
    कृषि वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में कम वर्षा की स्थिति है। इन क्षेत्रों की धान फसलों में कटुआ इल्ली की आशंका है। सूखे खेतों में कटुआ इल्ली का प्रकोप होने पर डाइक्लोरोवास एक मिली लीटर एक लीटर पानी में घोल कर 200 लीटर प्रति एकड़ की दर से छिड़काव करना चाहिए। जिन खेतों में पानी भरा है और वहां कटुआ इल्ली दिखाई दे तो एक लीटर मिट्टी तेल प्रति एकड़ की दर से खेतों के पानी में डालकर पौधों के ऊपर रस्सी चलाना चाहिए, ताकि इल्लियां मिट्टी तेल युक्त पानी में गिरकर मर जाएं।
    कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि धान फसल में हानिकारक कीड़ों पर सतत निगरानी रखनी चाहिए। इसके लिए प्रकाश प्रपंच उपकरण का उपयोग किया जा सकता है। प्रकाश प्रपंच उपकरण फसल से थोड़ी दूरी पर लगाकर शाम 6.30 से रात्रि 10.30 बजे तक बल्ब जलाना चाहिए। सुबह कीड़ों को एकत्र कर नष्ट कर देना चाहिए। सोयाबीन की फसल में पत्ती खाने वाली इल्लियां एवं चक्र भंृग कीड़े ज्यादा दिखने पर ट्राईजोफास दवा की 2 मिली लीटर मात्रा एक लीटर पानी या फ्लुबेंडामाईट आधा मिली लीटर एक लीटर पानी में घोल बनाकर 200 लीटर घोल प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करना चाहिए। दवा छिड़कने के तीन घंटे के भीतर बारिश हो जाने पर पुनः घोल छिड़कना जरूरी होता है


कृषि » More Photo

कृषि » More Video

LEAVE A COMMENT