नई दिल्ली - मुख्यमंत्री का नाम फाइनल दोपहर तक चार्टर प्लेन से रायपुर पहुंचेंगे कांग्रेसी दिग्गज, छत्तीसगढ़ आने के बाद तय होगा मुख्यमंत्री का नाम   |   नई दिल्ली - मुख्यमंत्री पद के सभी दावेदार पहुंचे राहुल गांधी के बंगले ताम्रध्वज,टी एस सिंहदेव भूपेश बघेल व महंत बंगले के अंदर तो शिव डहरिया, देवेंद्र यादव, जयसिंह अग्रवाल बंगले के बाहर है मौजूद   |   रायपुर - सार्वजनिक स्थान पर सरेआम शराब पीते गंज थाना पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया   |   रायपुर - मुजगहन थाना इलाके के ग्राम सिवनी में युवक से बिना किसी कारण गाली गलौज मारपीट का मामला सामने आया है   |   तेलंगाना: के. चंद्रशेखर राव ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ   |   रायपुर - कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, राहुल गांधी थोड़ी देर में करेंगे सीएम का फैसला   |   रायपुर - सत्ता पलट होते ही प्रशासनिक विभागों में मची खलबली, DSP की मौजूदगी में खुफिया विभाग ने जलाए कई अहम दस्तावेज   |   रायपुर - भूपेश बघेल के बंगले पर आपस में भिड़े समर्थक, जमकर हुई मारपीट   |   रायपुर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के दुर्ग स्टेशन से प्रारंभ होने वाली ट्रेनों की सफाई के लिए आधुनिक, ’स्वचालित कोच वाशिंग प्लांट’की स्थापना जल्द   |   बलौदा बज़ार भाटापारा - कलेक्टर ने धान उठाव के कार्य में तेजी लाने के दिए निर्देश डीमओ को कहा ज्यादा से ज्यादा अब तक 1.98 लाख मीटरिक टन धान की हुई खरीदी   |  

 

राजधानी

Share
13-September-2018
Posted Date

छत्तीसगढ़ सरकार बजट का 20 हजार करोड़ खर्च नहीं कर पाई : सीएजी

रायपुरः छत्तीसगढ़ के मुख्य महालेखाकार विजय कुमार मोहंती ने कहा कि सरकार वर्ष 2016-17 के कुल बजट में से 20 हजार करोड़ रुपये खर्च नहीं कर पाई। सरकार के वित्तीय हालत को बुधवार को विधानसभा के पटल पर रखने के बाद मोहंती ने कहा, "छत्तीसगढ़ की वित्तीय वर्ष 2016-17 में कुल आय 53685 करोड़ रुपये थी, जबकि खर्च 58 हजार करोड़ से ज्यादा हुआ." सीएजी ने छत्तीसगढ़ के वित्तीय असंतुलन को लेकर सरकार पर सवाल उठाए. इस वित्तीय वर्ष में कर के जरिए राज्य सरकार की आमदनी 18 हजार 945 करोड़ रुपये हुई, जबकि खनिज से 5 हजार 670 करोड़ रुपये का आय हुई। राज्य सरकार के 16 रिजर्व फंड में 4141 करोड़ रुपये पड़े हुए हैं, जिसका खर्च सरकार नहीं कर पाई है. उन्होंने कहा कि सरकार वित्तीय वर्ष 2016-17 में करीब 20,000 करोड़ का इस्तेमाल नहीं कर पाई जो बजट का 25 फीसदी के आसपास था. मोहंती ने बताया कि 1 हजार करोड़ की इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी भी सरकार वसूल करने में नाकाम रही । सरकार ने 8 सार्वजनिक उपक्रमों में करीब 7700 करोड़ निवेश किया है, लेकिन उसका लाभांश उसे नहीं मिल रहा है, सरकार ने इसके लिए प्रयास भी नहीं किया है. सीएजी की रिपोर्ट में बताया गया है कि राज्य सरकार ने 6 कंपनियों में 6778 करोड़ रुपये का निवेश तो किया, लेकिन उनसे कुछ हासिल नहीं कर पाई. बालोद के दंतेश्वरी शुगर मिल में 100 करोड़ रुपये का निवेश किया गया, लेकिन निवेश के अनुरूप सरकार को इसका लाभ ना के बराबर मिला। रिपोर्ट के अनुसार, सरकार ने बिजली कंपनी सीएसपीडीसीएल की करीब 2 हजार करोड़ के लोन की गारंटी ली थी, लेकिन उसे चुकाया कैसे जाएगा, इस पर शर्तों में जिक्र नहीं था, जो वित्तीय अपराध की श्रेणी में आता है।

राजधानी » More Photo

राजधानी » More Video

LEAVE A COMMENT