ब्रेकिंग न्यूज़ : लोहर्सी और शिवरीनारायण के बीच खरौद मोड़ के पास अज्ञात वाहन ने मारी बाइक सवार को ठोकर....   |   रायपुर - विधानसभा में आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वन मंत्री मोहम्मद अकबर और पीएचई मंत्री रूद्रकुमार गुरू करेंगे सवालों का सामना….विकास यात्रा के खर्चों को लेकर गरमा सकता है सदन…   |   रायपुर : मुख्यमंत्री आज दामाखेड़ा में आयोजित संत समागम में शामिल होंगे   |   जशपुर:- बगीचा कैलाश गुफा सड़क निर्माण युद्धस्तर पर जल्द किये जाने की मांग को लेकर जनजातीय समाज उतरा सड़कों पर,धरना प्रदर्शन कर आश्रम प्रबन्धन की तानाशाही के खिलाफ खोला मोर्चा,आगामी लोकसभा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी,   |   रायपुर : कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वर्तमान परिदृश्य में फेक न्यूज की चुनौतियां’’ विषय पर संगोष्ठी आज   |   रायपुर : जिला निर्वाचन अधिकारियों ने ली मतदान करने की शपथ : सीईओ सुब्रत साहू ने दिलाई शपथ   |   रायपुर : छत्तीसगढ़ का शत-प्रतिशत घर होगा बिजली से रोशन : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर.के.सिंह द्वारा सौभाग्य योजना की समीक्षा   |   रायपुर : बस्तर के धुरागांव में होगा विशाल किसान-आदिवासी सम्मेलन : लोहण्डीगुड़ा क्षेत्र के संयंत्र प्रभावित किसानों को मिलेंगे जमीन के दस्तावेज   |   रायपुर - पिछली सरकार के स्वीकृत कामों को रोकने पर विधानसभा में जमकर हंगामा   |   बिलासपुर - मालगाड़ी के बोगी में लगी भीषण आग, ट्रेन का डिब्बा हुआ जलकर खाक बाल-बाल बचे कर्मचारी   |  

 

विशेष

Share
20-September-2018
Posted Date

खबरीलाल रिपोर्ट (वृंदावन) ::- ममता चंद्राकर ने शंकराचार्य से लिया आशीर्वाद।

छत्तीसगढ़ की मशहूर कलाकार एवं पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त डॉ ममता प्रेम चंद्राकर ने ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती जी महाराज के 68 वें चातुर्मास्य व्रत अनुष्ठान में "चिन्हारी" लोक गीत एवं नृत्य प्रस्तुत कर उपस्थित भक्तों को भावविभोर कर दिया। छत्तीसगढ़ी फिल्मों के मशहूर निर्माता व निर्देशक प्रेम चंद्राकर द्वारा कृत "चिन्हारी" में छत्तीसगढ़ के विभिन्न जातियों के लोक गीतों को नृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया गया जिसमें गणेश वंदना, नाचा, मल्हारी व आदि प्रस्तुतियां ममता चंद्राकर एवं उनके साथियों द्वारा मंचन किया गया। नाचा छत्तीसगढ़ का बहुत प्रसिद्द नृत्य शैली है जिसमे पुरुष महिला बनकर नृत्य करते हैं तथा अन्य जातियों द्वारा नाव रात्रि, दीपावली में जिस तरह का लोक गीत व नृत्य करते हैं उसका प्रस्तुतिकरण उनके द्वारा किया गया। ममता चंद्राकर का कहना है कि हम देश के अलग अलग जगह पर जाकर छत्तीसगढ़ के संस्कृति से लोगों को "चिन्हारी" के मध्यम से अवगत करवाते हैं जिससे दूसरे प्रदेश के लोग हमारे छत्तीसगढ़ की संस्कृति , भाषा, शैली आदि को जान सके। इस कार्यक्रम के आयोजन में शंकराचार्य आश्रम रायपुर के नरसिंह चंद्राकर का विशेष योग दान रहा और इस विशेष कार्यक्रम में देश के अलग अलग प्रान्तों से आये सन्यासी, साधु, सन्त, महात्मा एवं वृंदावन वासी विशेष रूप से उपस्थित थे।

विशेष » More Photo

खबरीलाल रिपोर्ट (वृंदावन) ::- ममता चंद्राकर ने शंकराचार्य से लिया आशीर्वाद।

विशेष » More Video

LEAVE A COMMENT