रायपुर : राजिम माघी-पुन्नी मेला के शुभारंभ अवसर पर राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं   |   रायपुर : शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रमा सिंह का विशेष सहायक पद पर किया गया पदस्थापना आदेश निरस्त   |   रायपुर : राजिम माघी-पुन्नी मेला के शुभारंभ अवसर पर राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं   |   रायपुर : राजिम माघी पुन्नी मेला हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक: मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं   |   ब्रेकिंग न्यूज़ : लोहर्सी और शिवरीनारायण के बीच खरौद मोड़ के पास अज्ञात वाहन ने मारी बाइक सवार को ठोकर....   |   रायपुर - विधानसभा में आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वन मंत्री मोहम्मद अकबर और पीएचई मंत्री रूद्रकुमार गुरू करेंगे सवालों का सामना….विकास यात्रा के खर्चों को लेकर गरमा सकता है सदन…   |   रायपुर : मुख्यमंत्री आज दामाखेड़ा में आयोजित संत समागम में शामिल होंगे   |   जशपुर:- बगीचा कैलाश गुफा सड़क निर्माण युद्धस्तर पर जल्द किये जाने की मांग को लेकर जनजातीय समाज उतरा सड़कों पर,धरना प्रदर्शन कर आश्रम प्रबन्धन की तानाशाही के खिलाफ खोला मोर्चा,आगामी लोकसभा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी,   |   रायपुर : कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वर्तमान परिदृश्य में फेक न्यूज की चुनौतियां’’ विषय पर संगोष्ठी आज   |   रायपुर : जिला निर्वाचन अधिकारियों ने ली मतदान करने की शपथ : सीईओ सुब्रत साहू ने दिलाई शपथ   |  

 

विशेष

Share
17-September-2018
Posted Date

खबरीलाल रिपोर्ट :: पढ़िए शंकराचार्य महाराज ने स्वामी हरिदास जयंती पर क्या कहा ।।

मनुष्य यदि दूसरे में अपने ईष्ट देवता को देखे और उनके सुख में सुखी हो जाए तो आज जो भीषम परिस्थिति है वह सदा के लिए समाप्त हो जाएगा ::- स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती । 17 सितंबर को राधाष्टमी के विशेष दिन पर वृंदावन में स्वामी हरिदास संगीत एवं नृत्य महोत्सव का आयोजन किया गया जिसमे प्रमुख रूप से धर्म सम्राट अनंत श्री विभूषित ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती जी महाराज, उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य, उत्तरप्रदेश के डिप्टी सीएम केशव मौर्य व आदि सन्त , महात्मा, विधायक, नेतागण एवं कला प्रेमी उपस्थित थे। सर्व प्रथम शंकराचार्य जी महाराज एवं महामहिम राज्यपाल व डिप्टी सीएम के हाथों से दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरुवात की गई। पूज्य शंकराचार्य जी महाराज ने अपने आशीर्वाचन में कहा कि आज वृंदावन का विशिष्ठ दिन है। आज राधा रानी का प्राकट्य उत्सव है साथ ही संगीत सम्राट हरिदास जी का जन्मोत्सव भी है। वृंदावन एक दिव्य क्षेत्र है जहां से बड़े बड़े संगीतकार उभरे हैं। आगे महाराजश्री ने कहा कि राधा और कृष्ण में कोई अंतर नहीं है, वस्तुतः एक ही ने दोनों रूप धारण किये हुए हैं। भगवान जब अवतरित होते हैं तो उनके श्रीरूपेण को देखकर प्रत्येक मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। इतना अद्भुत सौंदर्य है जिसे शब्दों में पिरोया नहीं जा सकता। भगवान श्रीकृष्ण ने अपने आप को दो रूप में विभक्त कर लिया। श्रीकृष्ण ने राधा और श्रीकृष्ण ने कृष्ण बन गए। राधा रानी श्रीकृष्ण के नेत्रों से अपने आप को देखती थी। दोनों एक दूसरे के दर्शन में, मिलन के सुख में दोनों जो दंपति बने हैं इतने मग्न हो जाते हैं कि एक दूसरे की चिंता भी भूल जाते हैं। शंकराचार्य महाराज ने अंत मे कहा की इससे हमें यह शिक्षा मिलती है कि मनुष्य यदि मनुष्य में अपने ईष्ट देवता को देखे और उनके सुख में सुखी हो जाए तो आज जो भीषम परिस्थिति है वह सदा के लिए समाप्त हो जाएगा। महामहिम राज्यपाल उत्तराखंड श्रीमती बेबी रानी मौर्य, यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने अपने उद्बोधन में उपस्थित सभी वृंदावन वासियों को राधाष्टमी पर्व और स्वामी हरिदास जी की जयंती की बधाई और शुभकामनाएं प्रेषित किये तथा पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से आशीर्वाद प्राप्त किये। तत्पश्चात विद्यार्थियों द्वारा नृत्य प्रेषित किया गया और प्रत्येक संगीत एवं नृत्य ने समूचे वातावरण को भक्तिमय बना दिया।

विशेष » More Photo

विशेष » More Video

LEAVE A COMMENT