बड़ी खबर

कोरिया जिले के बैकुंठपुर में पुलिस लाइन में बन रहे आवास भवन निर्माण कार्य मे काम करने वाले मजदूर लॉक डाउन के दौरान भूखे रहने को मजबूर

आप को बता दे कि ये मजदूर बिहार , झारखंड और महाराष्ट्र से आकर बयासी मजदूर यहा काम कर रहे थे। जिनके साथ बीस बच्चे भी रह रहे है । लॉक डाउन लगते ही आवास निर्माण का काम करने वाला ठेकेदार मजदूरों को छोड़कर चला गया और किसी भी तरह से इनकी सुध नही लिया जा रहा था मजदूरों की परेशानी की जानकारी मिलने पर मजदूरों का हाल जानने बैकुंठपुर विधायक अम्बिका सिंहदेव और नपा अध्यक्ष अशोक जायसवाल पहुचे। मजदूरों ने अपनी परेशानी विधायक को बताई जिसके बाद उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को मौके पर बुलाया । उन्होंने सभी का स्वास्थ्य परीक्षण कराए जाने के लिए कहा । मजदूरों के पास मास्क तक नही था तहसीलदार ऋचा सिंह ने सभी को मास्क उपलब्ध करवाए। वही मौके पर पहुचे नगरपालिका अध्यक्ष अशोक जायसवाल ने इनके लिए राशन की व्यवस्था किये जाने की बात कही । श्रम विभाग के अधिकारी भी मौके पर पहुँचे और मजदूरों से पूरी जानकारी ली । इस पहल के बाद दूसरे राज्य से आकर यहा रह रहे मजदूरों ने राहत की सांस ली। वही लॉक डाउन में मजदूरों को छोड़कर चले जाने वाले ठेकेदार के ऊपर भी कार्यवाही किये जाने की बात प्रशासन ने कही है।

भाटापारा के लेवई धान उपार्जन केन्द्र से धान की चोरी करते पकड़ाया फड़ प्रभारी प्रभारी गोलू गुप्ता व जनक राम ध्रुव और हमाल मुकरदम के खिलाफ भी हुआ मामला दर्ज

बलौदाबाजार, 5 अप्रैल 2020/ धान उपार्जन केंद्र से रात्रि में दो वाहनों के जरिये धान की चोरी करने वाले गैंग को ग्रामीणों ने रंगे हाथ पकड़ लिया। चोरी करने वाले और कोई नहीं बल्कि समिति के मौजूदा और पूर्व फड़ प्रभारी तथा हमाल मुकरदम हैं। मामला भाटापारा विकासखण्ड के लेवई धान उपार्जन केन्द्र का है। तीनों आरोपियों के विरुद्ध भाटापारा ग्रामीण थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। भारतीय दण्ड संहिता की धारा 409, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। उप पंजीयक सहकारिता बलौदाबाजार से प्राप्त जानकारी के अनुसार भाटापारा तहसील के अंतर्गत प्राथमिक कृषि साख सहकारि समिति लेवई पंजीयन क्रमांक 844 के उपार्जन केंद्र लेवई में 3 अप्रैल को रात्रि में उपार्जन केंद्र में हमाल मुकरदम के कहे जाने पर वाहन नम्बर CG04JD0355 एवं CG13 LA2673 में कुल 152 कट्टा धान अवैधानिक तरीके से अफरातफरी के उद्देश्य से लोड किया पाया गया। ग्रामीणों ने गड़बड़ी की आशंका के आधार पर इसे घेर कर वरिष्ठ अफसरों को सूचना दी। मौके पर हमाल मुकरदम वाहनों के साथ पकड़ा गया। घटना की जानकारी मिलते ही उप पंजीयक व अनुविभागीय अधिकारी ने सहकारिता विस्तार अधिकारी को मामले की जांच व स्टॉक का भौतिक सत्यापन करने आदेशित किया । उपार्जन केंद्र में भौतिक सत्यापन किये जाने पर 1हज़ार 589 कट्टा धान कम पाया गया । जांचकर्ता अधिकारी द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन में उक्त कमी के लिए धान खरीदी कार्य प्रारंभ होने से पदस्थ फड़ प्रभारी गोलू गुप्ता , वर्तमान में फड़ प्रभारी जनक राम ध्रुव व घटना के समय पकड़ाए हमाल मुकरदम दिनेश साहू को प्रारंभिक रूप से दोषी पाया गया। घटना को गम्भीरता से लेते हुए कलेक्टर ने तत्काल प्राथमिकी दर्ज कराने के निर्देश दिए।जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुए उप पंजीयक ने समिति के प्राधिकृत अधिकारी को एफआईआर करने आदेशित किया । दोषियों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 409 ,34 के तहत भाटापारा ग्रामीण थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

निगम प्रशासन की लापरवाही , शहर में लगे तमाम होर्डिंग बोर्ड बने जी का जंजाल , बेनर उखड़ कर विधुत पोल की चपेट में आया लगी आग

★ अजीत मिश्रा @बिलासपुर ★ निगम के विज्ञापन के जरिए विधुत विभाग में बढ़ रहा बोझ। हो रही लगातार घटनाएं। निगम प्रशासन द्वारा जरा सा पैसों के लालच में लगवाई जा रहे बड़े बड़े होर्डिंग। शहर में लगे तमाम होर्डिंग बोर्ड जरा सी हवाओं पर गिर रहे हैं। सड़को पर आने जाने वालों को हो रही समस्या। ऐसी हो घटना पुनः देखने को मिली जब जरा सी हवा पर बेनर उखड़ कर विधुत पोल की चपेट पे आते ही आग लग गई। पोल पे आग लगने की सुचना पर आसपास के लोगो की भीड़ भी इकट्ठा हो गई। वहीँ इस घटना से आसपास के तमाम घरों की बिजलियां भी गोल हो गई। शहर में जब भी आंधी तूफान की स्तिथि बनती है तो अक्सर बेनर पोस्टर विधुत की तारों के चपेट में आकर विधुत बाधित के साथ साथ आवागमन में भी परेशानिया बनी रहती है। उसके बावजूद निगम अमला इस ओर ध्यान देने के बजाए विज्ञापन वसूली पे लगे रहते हैं। जिसका खामियाजा अकसर विधुत विभाग को उठाना पड़ता है।

बिलासपुर : लाकडाउन के  इतने दिनों बाद ऐसा क्या हुआ कि पुलिस कप्तान को संभालना पड़ा सड़क पर मोर्चा...पढ़े ये खास रिपोर्ट

A REPORT BY : अजीत मिश्रा (बिलासपुर)

बिलासपुर में लाकडाउन के  इतने  दिनों के बाद ऐसा क्या हुआ कि पुलिस कप्तान को मोर्चा संभालने, के लिए रेलवे क्षेत्र की सड़कों में आना पड़ा।।क्या कोरोना की लड़ाई में मुस्तेदी के साथ जो पुलिस की टीम काम कर रही वो काफी नही है या जो रोज रोज पुलिस लाकडाउन में नए नए प्रयोग कर रही उससे भी लोग अपने घरों में नही टिक पा रहे है या अपनी टीम का मनोबल बढ़ाने के लिए ऐसे बहुत से सवाल है जो उभर कर सामने आ रहे है।। उसी कड़ी में कोरोना संक्रमण से बचाव तथा लॉकडाउन के दौरान थाना क्षेत्र में  अनावश्यक घूमने वालों पर कार्यवाही करने हेतु स्वयं पुलिस अधीक्षक  प्रशांत अग्रवाल  द्वारा ड्रोन कैमरा को अपने हाथों में लेकर  ऑपरेट करते हुए पूरे स्टाफ के साथ  हेमू नगर चौक से पॉवर हाउस चौक,तोरवा बस्ती,आनंद चिल्ड्रन हॉस्पिटल  से होते हुए जगमल चौक  तक पैदल मार्च किया गया तथा फालतू घूमने को समझाईश देकर वापस अपने घरों में रहने अपील किया गया। पैदल मार्च में अतरिक्त पुलिस अधीक्षक ओ. पी. शर्मा, संजय ध्रुव,  सीएसपी  कोतवाली निमेश बेरैया ,तोरवा प्रभारी जे पी गुप्ता,तारबाहर थाना प्रभारी प्रदीप आर्य तथा थाना तोरवा का स्टाफ साथ रहा।

बिलासपुर में लॉकडाउन के दौरान , पुलिस की गस्ती कुछ इस तरह बढ़ गई है कि बेफिकर होकर तफरी करने वालों की अब खैर नहीं । पढ़े ये खास रिपोर्ट

अजीत मिश्रा ■ बिलासपुर में लॉकडाउन के दौरान ऐसी तस्वीरें कुछ आम सी हो चली है । पुलिस की गस्ती कुछ इस तरह बढ़ गई है कि बेफिकर होकर तफरी करने वालों की अब खैर नहीं । शहर में आज ऐसे दर्जनों बाइक चालकों के खिलाफ कार्रवाई की गई जो लॉक डाउन का उल्लंघन करते नजर आए । इन बाइक सवारों के खिलाफ एमवी एक्ट की तरह कार्रवाई की गई और कुछ को तात्कालिक तौर पर दण्डित भी किया गया । पुलिस के द्वारा कड़ा संदेश देने के उद्देश्य से उन्हें बीच सड़क पर उठक बैठक भी कराया गया । कुल मिलाकर सन्देश यही कि अगर लॉक डाऊन का पालन नहीं किया तो पुलिस आपका सरेराह इज्ज़त भी उतार सकती है,इसलिए हरहाल में लॉकडाऊन का पालन करना आवश्यक है। इससे पहले पुलिस कई और रूप में भी नजर आई है । कभी मास्क बांटते हुए तो कभी गीत गाते हुए । गौरतलब है कि आज के प्रधानमंत्री के उद्बोधन के बाद 14 तारीख के बाद से लॉकडाउन में ढील देने के संकेत जरूर मिले हैं,जिससे आमलोगों में राहत देखी जा रही है । तो वहीं बिलासपुर में अबतक कुल 126 सैंपल में से सिर्फ 1 पॉजिटिव केस मिला था,जो पीड़ित महिला भी पूरी तरह स्वस्थ हो चुकी है ।

छत्तीसगढ़ के अब 8 अस्पतालों में कोविड-19 के इलाज की सुविधा जानिए कौन कौन से 34 अस्पतालों में आइसोलेशन6 सेंटर, संक्रमण रोकने 74 क्वारेंटाइन-सेंटर्स बनाए गए है

अब तक संकलित 919 सैंपलों में से 858 की जांच, 61 सैंपलों की रिपोर्ट का इंतजार

रायपुर. 2 अप्रैल 2020. छत्तीसगढ़ के अब आठ सरकारी अस्पतालों में कोविड-19 के इलाज की व्यवस्था की गई है। इसके उपचार के लिए एम्स रायपुर में अभी 200 बिस्तर तैयार हैं। इसे बढ़ाकर 500 बिस्तर करने की तैयारी है। पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय, रायपुर में 400 बिस्तर और माना सिविल अस्पताल में 100 बिस्तर की व्यवस्था है। शासकीय मेडिकल कॉलेजों बिलासपुर, जगदलपुर, राजनांदगांव, अंबिकापुर और रायगढ़ में कोविड-19 के इलाज के लिए कुल एक हजार बिस्तर आरक्षित किए गए हैं।

रायपुर के रिम्स अस्पताल को भी कोविड-19 के इलाज के लिए विकसित किया जा रहा है। यहां 500 लोगों के उपचार की व्यवस्था रहेगी। स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव रोजाना कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम की व्यवस्था की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दे रहे हैं। वे केन्द्र सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों से भी लगातार बात कर राज्य के लिए अधिक से अधिक संसाधन जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। प्रदेश के सभी सांसदों और विधायकों से भी उन्होंने मदद की अपील की है। उन्होंने आज केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन को पत्र लिखकर रैपिड एंटी-बॉडी डिटेक्शन किट के उपयोग और खरीदी के संबंध में आई.सी.एम.आर. से दिशा-निर्देश जारी करवाने तथा छत्तीसगढ़ के दो और केन्द्रों में कोरोना वायरस टेस्ट की अनुमति देने का अनुरोध किया है।

प्रदेश में 34 आइसोलेशन सेंटर्स भी स्थापित किए गए हैं। सभी 26 जिला अस्पतालों, छह सरकारी मेडिकल कॉलेजों, सिविल अस्पताल माना और एम्स में ये सेंटर स्थापित हैं। कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने प्रदेश भर में 74 क्वारेंटाइन सेंटर्स बनाए गए हैं, जहां एक हजार 249 लोगों को रखने की व्यवस्था है। वर्तमान में इन सेंटर्स पर 167 लोगों को रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की टीम द्वारा होम-क्वारेंटाइन के साथ ही इन क्वारेंटाइन सेंटर्स में रह रहे लोगों पर नजर रखी जा रही है। विदेश प्रवास से लौटे दो हजार 85 लोगों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को अब तक मिली है।

प्रदेश में अब तक कोविड-19 के 919 संभावित मरीजों की जांच के लिए सैंपल लिए गए हैं। इनमें से 849 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव्ह और अब तक कुल 9 की पॉजिटिव्ह आई है। शेष 61 लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। एम्स में इलाज के बाद दो मरीजों के पूरी तरह ठीक हो जाने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। अभी एम्स में पांच तथा राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज और अपोलो अस्पताल बिलासपुर में एक-एक मरीज का इलाज चल रहा है। एम्स के साथ ही अब जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में भी सैंपलों की जांच की जा रही है।

छतीसगढ़ : ग्राहक बनकर पहुंचे सीएसपी दाल और शक्कर का रेट सुनकर हुवे हैरान दुकान पर की कार्यवाही

पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन सिंह के आदेश से आज मनेन्द्रगढ़ किराना दुकान में ग्राहक बनकर पहुंचे सीएसपी दाल और शक्कर का रेट सुनकर तत्काल मनेन्द्रगढ़ थाना प्रभारी और फूड अधिकारी को मौके पर किया तलब और किराना दुकान पर छापा मार कर किया कार्यवाही। -कोरोना और धारा 144 लगने के बाद किराना सामग्रियों का रेट बढ़ने से लोगो को हो रही भारी परेशानियों को देखते हुए आज सीएसपी बी पी सिंह मनेन्द्रगढ़ के किराना दुकान पहुंचे जहाँ उन्होंने पहले 1 किलो शक्कर लिया जिसकी कीमत 40 रुपए थी और किलो दाल लिया जिसकी 90 रुपए थी लेकिन किराना व्यपारी द्वरा शक्कर 40 रुपए के शक्कर को 42 रुपए और 90 रुपए की दाल को 100 रुपए की दर से मांग रहा था वही पुलिस विभाग के सीएसपी ने तत्काल मनेन्द्रगढ़ थाना प्रभारी को और फूड विभाग के अधिकारियों को बुलाकर व्यपारी के खिलाफ कार्यवाही किया साथ ही सीएसपी ने बताया कि जो भी इस समय कालाबाजारी का कार्य कर रहा है और किसी भी तरह।की शिकायत आएगी तो तत्काल कार्यवाही की जाएगी

बलौदाबाजार नान के जिला प्रबंधक निलंबित कोरोना महामारी के प्रबंधन में लापरवाही बरतने पर राज्य सरकार ने की कार्रवाई

रायपुर, 1/4 2020कोरोना महामारी के प्रबंधन में लापरवाही बरतने को राज्य सरकार ने गंभीरता से लेते हुए बालौदाबाजार जिले के नागरिक आपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक संजय तिवारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा कोरोना महामारी के प्रबंधन के चलते सार्वजनिक वितरण प्रणाली को आवश्यक सेवा घोषित किया गया है साथ ही राज्य में एस्मा लागू किया गया है। संजय तिवारी को बिना अवकाश स्वीकृति के अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने और खाद्यान्न भण्डारण से संबंधित अपने कर्तव्यों का निर्वहन नही करने के कारण उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन लिमिटेड नवा रायपुर द्वारा इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। निलंबन अवधि में श्री तिवारी का मुख्यालय जिला कार्यालय रायपुर निर्धारित किया गया है। तिवारी को निलंबन अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा।

पामगढ़ : नाबालिक बालिका ने अपन घर में किया अज्ञात कारण से जहर का सेवन , डायल 112 ने पहुचाया अस्पताल

A REPORT BY : पंकज दुबे

जांजगीर चाम्पा जिला में पामगढ़ ब्लाक में एक नाबालिग बालिका ने अपने घर पर अज्ञात कारण से जहर सेवन कर दिया और घर पर ही बेहोस होंगई तब आनन फ़ानन में घर के सदस्यों ने डायल 112 को फोन लगाया तब 112 टीम मौके पर पहुच कर नाबालिग बालिका को जिला अस्पताल में मुरझित अवस्था में भर्ती कराया है। नाबालिक का इलाज अभी जारी है। पुलिस भी कारण जानने का प्रयास कर रही है।

राजधानी में एक और युवक आया कोरोना की चपेट मे

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना पॉजिटिव केस का आकंड़ा आज और बढ़ गया. हाल ही लंदन से लौटे एक युवक की आई रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव निकला है. एम्स के डॉक्टरों ने इसकी पुष्टि की है. युवक कोरबा का निवासी है, उसे होम कोरेंटाइन में रखा गया था. बताया जा रहा है कि युवक की दोनों रिपोर्ट पॉजीटिव आई है. जानकारी के मुताबिक युवक को कोरबा से रायपुर एम्स लाया जा रहा है और उसकी हालत स्थिर बनी हुई है. राज्य में कोरोना पॉजिटिव 8 मामलों में से 4 मामले लंदन रिटर्न वालों के हो गए है. रविवार को ही राज्य कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में हुई बैठक में स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारीक ने सभी जिलों के कलेक्टरों से कहा है कि बीते एक महीने में लंदन से लौटने वाले सभी लोगों को क्वारनटाइन किया जाए. आपको बता दें कि प्रदेश में लंदन से लौटे लोगों की संख्या 73 है. अब इस नए केस के बाद माना जा रहा है कि स्वास्थ्य विभाग जल्दी ही सभी को क्वारेंटाइन कर सकता है.
Previous123456789...115116Next