ब्रेकिंग न्यूज़

जांजगीर-चांपा : होटल प्रबंधन के विषयों पर डिग्री और डिप्लोमा कोर्स की सुविधा अब छत्तीसगढ़ में भी : कलेक्टर ने की जिले के युवाओं से लाभ लेने की अपील

BBN24NEWS
जांजगीर-चांपा, 21 सितंबर, 2020

छत्तीसगढ़ राज्य के युवा जो होटल प्रबंधन के विभिन्न विषयों  पर  डिग्री और डिप्लोमा करना चाहते हैं, अब उन्हें छत्तीसगढ़ राज्य के बाहर जाने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि अब राज्य के स्टेट इंस्टीट्यूट आफ होटल मैनेजमेंट कैटरिंग टेक्नोलॉजी एंड एंप्लाइड इंस्टीट्यूट उपरवारा नया रायपुर में होटल प्रबंधन से संबंधित तीन वर्षीय  बीएससी इन हास्पीटलिटी  एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन और तीन अन्य विषयों पर एक वर्ष छः माह का डिप्लोमा कोर्स प्रारंभ किया जा रहा है। पाठ्यक्रम का विवरण इस प्रकार है- बी एस सी होटल मैनेजमेंट एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन अवधि तीन वर्ष, सीटों की कुल संख्या-60, क्राइटेरिया जे ई ई एक्जाम काउंसलिंग। डिप्लोमा इन फूड प्रोडक्शन अवधि एक वर्ष छः माह, सीटों की संख्या 40, योग्यता 12 वीं उत्तीर्ण, डिप्लोमा इन फूड बेवरेज, अवधि एक वर्ष छः माह, सीटों की संख्या 40, योग्यता 12 वीं पास, डिप्लोमा इन हाऊस किपिंग आपरेशन, पाठ्यक्रम की अवधि एक वर्ष छः माह, सीटों की संख्या 40, योग्यता 12वी पास। उपरोक्त कोर्स में अध्ययन अक्टूबर 2020 से संभावित है। एन सी एच एम सी टी नोएडा की वेबसाइट  http://nchm counselling.nic.in  के लिस्ट आफ पार्टिसिपेटिंग इंस्टीट्यूट पर SIHM Raipur शामिल कर लिया गया है। ऐसे में छत्तीसगढ़ राज्य के युवक एवं युवतियों को राज्य में ही उपरोक्तानुसार विषयों के पाठ्यक्रम में सम्मीलित होने का अवसर प्राप्त होगा। इस संबंध में और अधिक जानकारी  www.ihmraipur.com    से प्राप्त की जा सकती है। कलेक्टर श्री यशवंत कुमार ने जांजगीर-चांपा जिले के युवक, युवतियों को उपरोक्त पाठ्यक्रमों का लाभ उठाने की अपील की है।  

छतीसगढ़ : मेडिकल दुकान रजिस्टर बना कर अनिवार्य रूप से ग्राहकों का नाम और मोबाइल नम्बर करे दर्ज बिना पर्ची ना बेचे कोई भी दवाई - कलेक्टर

जिले में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजो की सँख्या में वृद्धि होने के मुख्य कारणों में से एक सामान्य व्यक्तियों द्वारा मेडिकल दवाई दुकानों से बिना पर्ची के दवाई खरीदना भी शामिल है। कोई भी व्यक्ति सर्दी,  खाँसी, बुखार,जैसे लक्षण दिखने पर  सेल्फ मेडिसिन के तहत पैरासिटामोल, सिट्रीजिन,क्लोरोक्वीन एवं अन्य एंटीबायोटिक दवाइयां बिना किसी चिकित्सक के सलाह पर खरीदी जा रही है। जिससे कोरोना के संभावित मरीज कोविड 19 के टेस्ट नही करा रहे है। फलस्वरूप गंभीर लक्षण होने के उपरांत कोविड हॉस्पिटल पहुँचते है। जिनसे इलाज करना और कठिन हो जाता है। आज कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने विषय की गंभीरता को लेते हुये खाद्य एवं औषधि प्रशासन  विभाग के अधिकारियों के साथ बैठकर सख्त चेतावनी देते हुए कहा की कोई भी मेडिकल संचालक उपरोक्त दवाइयों को चिकित्सक के सलाह पर पर्ची देखकर ही बेचना सुनिश्चित करे। साथ ही ऐसे मरीजो को कोविड टेस्ट के लिये प्रोत्साहित भी की जावे। सभी मेडिकलो में मरीजो का नाम एवं मोबाइल नंबर अनिवार्य रूप से रजिस्टर बनाकर दर्ज करे साथ ही कल से ऐसे ना करनें वाले मेडिकल दुकानों के खिलाफ अनिवार्य रूप से कार्रवाई करे। साथ ही ड्रग इंस्पेक्टर भी इन रजिस्टरो का अनिवार्य रूप से निरीक्षण करना सुनिश्चित करें।

Previous123456789...153154Next