विशेष

बलौदाबाजार जिले में शासन प्रशासन के नाक के नीचे धड़ल्ले से हो रहा रेत खनन

 

सावन में बारिश नही होने के कारण  सुखा महानदी का अमेठी एनीकट  खनिज विभाग के नाक के नीचे से हो रहा है अवैध रेत उत्खनन 
 

बलौदाबाजार :' कैलाश जायसवाल@bbn24new


पलारी ब्लाक के अंतिम छोर से गुजरने वाली महानदी अमेठी एनीकट पहली बार सावन में भी इतना सूखा है कि लोगो को एनीकट में निस्तारी के लिए भी पानी नही मिल रहा है तो वही लोग एनीकट के नीचे  से बेरोकटोक अवैध रेत उत्खनन कर टेक्टरों से भारी मात्रा में रेत ढुलाई कर रहे है ।ज्ञात हो कि सावन में बारिश नही होने के कारण  अमेठी एनीकट में  पानी भी कम होने लगा और कुछ ही दिनों में पूरा एनीकट खाली हो गया जिसका लाभ रेत माफिया  उठा रहे है जो रात दिन रेत निकाल कर बेच रहे है  ।


,,खनिज विभाग भी सोये हुए है ,,


महानदी में अवैध रेत उत्खनन आज भी जारी है पहले हाइवा और बड़े बड़े मशीनों से रेत का उत्खनन होता था पर अब लोगो ने श्रमिको के माध्यम से रेत उत्खन करा रहे है वैसे भी नियमतः एनीकट से तीन किलोमीटर के परिधि में रेत खनन पर पाबधि होती है  बाउजूद उसके खनन होना समझ से परे है ।

,,पहली बार महानदी सावन में सुखा है ,,

महानदी तट पर बसे अमेठी पीपरछेड़ी  गांव के ग्रामीणों  का कहना है कि उनके जानकारी में सावन में महानदी को सूखे हुए  पहली बार देख रहे है जब आकाल पड़ा तब भी महानदी में पानी था मगर इस बार तो एनीकट बन जाने के बाद भी सावन में सुखा है जो सोचनीय बात है ।

बारिश ही नही होने के कारण नदी में ही पानी नही है
 ई ई  जल संसाधन कसडोल टी सी वर्मा  


वही खनिज विभाग के अधिकारियों ने फोन नही उठाया

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा गरुवा घुरवा बारी , जवाबदार अधिकारी एवं कर्मचारियों के सुस्त रवैए..पढ़े पूरी खबर

 

 

 सन्नी रघु यादव : BBN24NEWS

मस्तूरी : छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा गरुवा घुरवा बारी छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी जैसी योजनाओं को मस्तूरी विकासखंड के जवाबदार अधिकारी एवं कर्मचारियों के सुस्त रवैए ने बंदरबांट करके रखा हुआ है. एक और जहां  कई सारे  विकासखंड मे नरवा गरुवा घुरवा बारी से बनने वाले गौठान पूर्ण हो गए हैं । तो मस्तूरी विधानसभा में अभी भी कर्मचारियों अधिकारियों की उदासीनता के नाम से एक भी गौठान पूर्ण नहीं हो पाया है।
 मस्तूरी विकासखंड के पचपेड़ी परीक्षेत्र के ग्राम पंचायत जैतपुरी और हरदी में छत्तीसगढ़ शासन के महत्वाकांक्षी योजना गौठान निर्माण कराया जा रहा है। जिसमें बहुत सारी अनियमितताएं पाई जा रही है। शासन के निर्देशानुसार हर विकासखंड के ग्राम पंचायतों में गौठान निर्माण को 30जुलाई तक पूर्ण कराया जाना है। पर जिस हिसाब से ग्राम पंचायत जैतपुरी और हरदी में गौठान का निर्माण कार्य चल रहा है उसमें 6 माह और लग सकता है। बन रहे गौठान का निरीक्षण करने इंजीनियर खुद हफ्ते में एक दो बार ही आते हैं। ग्राम पंचायत कार्य एजेंसी है जिन्होंने जिला पंचायत सदस्य एस कुमार मनहर को गौठान बनाने के लिए ठेके पर दिए हैं। जो खुद हफ्ता 15 दिन में एक बार ही निर्माणाधीन गौठान पास आते हैं। सरपंच का कहना है कि मैं सरकार को गौठान बनाने के लिए जगह दे दिया हूं। उसको पूर्ण करने के लिए ठेका दे दिया हूं अब बाकी काम ठेकेदार जाने और सरकार जाने करके पल्ला झाड़ देता है। निर्माण कार्य का पूरा देखरेख रोजगार सहायीका करवाती है। जो सिर्फ संसाधन उपलब्ध नहीं होने के कारण हाथ से हाथ धरे हुए बैठी रहती।  उद्यानिकी विभाग के द्वारा गौठान में पौधारोपण करने के लिए हजारों नग पौधे भिजवाए गए थे जिसे देखरेख के अभाव में एवं वहां रहने वाली चौकीदारीओके लापरवाही के कारण जानवर पौधों को खा दिये है। जानवरों के खाने के लिए  पैरा भी इकट्ठा किया गया था  उसको भी जानवर खा दिये । अभी तक गोठान बन रहे एरिया में फैंसी तार भी नहीं करवाया गया है इतनी सारी अनियमितताएं होते हुए भी ना वहां पर कोई जवाबदार अधिकारी सुध लेने जाते हैं और ना ही किसी को काम का परवाह है सब अपने अपने में मस्त हैं। एवं काजी करवा ही में गौठान निर्माण को मस्तूरी में नंबर वन बता रहे हैं।

ग्राम पंचायत जैतपुरी एवं हरदी  मैं गौठान निर्माण का कार्य जिला पंचायत सदस्य एस कुमार मनहर करवा रहे हैं। और दोनों ही ग्राम पंचायत की गौठान  निर्माण अधर में लटके हुए हैं। जिला पंचायत के जनप्रतिनिधि होने के  करण मस्तूरी कार्यपालन अधिकारी भी उन्हें कुछ बोल नहीं पाते। लिहाजा शासन की इतनी बड़ी योजना मस्तूरी विकासखंड में फ्लॉप होती नजर आ रही है।

मैं इंजीनियर और ठेकेदार एस कुमार मनहर हम तीनों ने जितना पैसा रखा हुआ था सबको लगा दिया है हमारे पास फंड उपलब्ध नहीं है जिसके वजह से कार्य में देरी हो रही है
 प्रताप पटेल सरपंच जैतपुरी
निर्माण एजेंसी ग्राम पंचायत सरपंच होता है और जैतपुरी के सरपंच और सचिव गोठा निर्माण के कार्य में सहयोग नहीं कर रहे हैं हमारे पास फंड की कमी है इस बात को मैं सीओ साहब को भी बता चुका हूं जैसे तैसे मैं खुद उधारी में सामान लेकर काम को पूरा कराने की कोशिश कर रहा हूं सरपंच सचिव दोनों ही अपने हाथ खड़े कर दिए हैं
 राहुल सोनी इंजीनियर
ठेकेदार के पास पैसे की कमी की वजह से  काम रुका हुआ है व सरपंच और सचिव दोनों को ही मैं फोन करके बुलाया था दूसरे काम के लिए आए हुए पैसे को गोठान निर्माण में लगाएंगे बाद में जब गोठान का पैसा आ जाएगा तब दूसरे काम के पैसों को उनको वापस कर दिया जाएगा सोमवार तक इनको फंड की व्यवस्था करवा कर काम पूरा  करवाते है
 अजय पटेल सीईओ मस्तूरी

हेलमेट के नाम पर डेढ़ करोड़ की वसूली, फिर भी पुलिस की कार्रवाई बेअसर


लोगों को जागरूक करने और ट्रेफिक नियमों का पाठ पढ़ाने के नाम पर ट्रेफिक पुलिस जमकर चलान काट रही है। लोगों से जुर्माना भी वसूला जा रहा है, लेकिन जागरूकता के नाम पर सड़कों पर तो कुछ दिखायी नहीं दे रहा है। जिस तेजी से साल दर साल ट्रेफिक पुलिस का चलान काटने और जुर्माना वसूलने का रिकार्ड टूटता जा रहा है, उस अनुपात में लोग बिल्कुल भी जागरूक नहीं हो रहे हैं। बिलासपुर में हेलमेट के नाम पर ट्रेफिक पुलिस ने तीन साल में 46 हजार 903 लोगों से 1 करोड़ 40 लाख रूपए वसूले हैं। यह कार्रवाई इसलिए की गई ताकि लोग हेलमेट लगाएं और दुर्घटनाओं में लोगों की मौत के आंकड़ों में कमी आए, हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं हो पाया और कुल संख्या की तुलना में सिर्फ एक चौथाई ही हेलमेट का इस्तेमाल कर रहे हैं। साल 2018-2019 में 976 सड़क हादसों में बिना हेलमेट के 270 लोगों की मौत हुई, जबकि उसके पहले 2017-18 में मौत की संख्या 189 थी, यानि की चलान और जुर्माना तो बढ़ रहा है, लेकिन मौत के आंकड़े कम होने की बजाए वो बढ़ते ही जा रहे हैं। आंकड़ों के अनुसार प्रतिवर्ष बाइक पर तीन सवारियों वालों की संख्या लगभग 3000 बढ़ रही है, पिछले एक वर्ष में 1567 बिना नंबर की गाड़ी चलाने वालों की संख्या बढ़ गई है, आंकड़े ये भी बता रहे हैं कि नशे में गाड़ी चलाने वालों की संख्या चार गुना बढ़ गई है। 2016 में ऐसे 214 लोगों का चलान किया गया था जबकि 2018 में यह संख्या बढ़कर 796 हो गई है। यानि की हर तरह से ट्रेफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों की संख्या बढ़ ही रही है, साफ है कि पुलिस कार्रवाई तो कर रही है, लेकिन पुलिस की कार्रवाई का असर लोगों के उपर कहीं दिखाई नहीं दे रहा है।

लाख चूड़ी निर्माण में निपुण हैं आदिवासी महिलायें : घर बैठे हो रही हैं 300 रूपये की आमदनी

रायपुर, 18 जुलाई 2019 आदिवासी महिलायें रंगीन लाख की चूड़ी बनाने में निपुण हो गई हैं और इसके द्वारा प्रतिदिन 300 रूपये तक की आमदनी वे घर बैठे प्राप्त कर रही हैं। लाख से चूड़ी निर्माण का काम चार गांव के महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा शुरू किया गया है। देवसेना महिला समूह द्वारा निर्मित चूड़ियों की बिक्री संभागीय मुख्यालय बिलासपुर के 36 मॉल की जा रही है और इसे लोगों द्वारा पसंद भी किया जा रहा है। समूह द्वारा लोगों की पसंद के अनुसार आधुनिक डिजाईन की चूड़ियां बनाने के लिये प्रशिक्षण लेने की योजना बनाई जा रही है।
    बिलासपुर जिले के मरवाही विकासखंड के ग्राम बंशीताल, दानीकुंडी, बरगवां, बघर्रा की ग्रामीण महिलायें स्व-सहायता समूहों के माध्यम से विभिन्न व्यवसाय अपनाकर अपने घर की आर्थिक स्थिति को मजबूती प्रदान कर रही हैं। मरवाही क्षेत्र में रंगीन लाख बहुत मात्रा में होता है। व्यापारियों द्वारा इसे सस्ते में खरीदकर महंगे दामों में बाहर बेचा जाता है। क्षेत्र में पहली बार लाख का मूल्य वर्धित कर इसे लघु व्यवसाय के रूप में स्थापित कर ग्रामीण आदिवासी महिलाओं द्वारा अतिरिक्त आय प्राप्त करने का कार्य किया जा रहा है। 
    मरवाही के विभिन्न ग्रामों की महिलायें देवसेना स्व-सहायता समूह के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में उपलब्ध संसाधनों का उपयोग कर आत्मनिर्भरता प्राप्त कर रही हैं। इसी समूह की महिलाओं ने लाख चूड़ी एवं गहना निर्माण का व्यवसाय प्रारंभ किया है। इसके लिये वनमंडल मरवाही द्वारा ईएसआईपी परियोजना अंतर्गत उन्हें प्रशिक्षण दिया गया है। ग्राम बरगवां की श्रीमती रेणु, श्रीमती सियावती, श्रीमती जयकुमारी, दानीकुंडी की श्रीमती नीता बाई कोरवा, श्रीमती केशकली श्याम, श्रीमती कृष्ण कुमारी पाव, श्रीमती सियावती आदि महिलायें इस कार्य में जुटी हुई हैं। वे 10 मिनट में बिना नग वाले लाख की चूड़ी सेट और डेढ़ घंटे में नग वाली चूड़ी सेट तैयार कर लेती हैं। चूड़ी बनाने के लिये लाख उन्हें व्यापारी से खरीदना पड़ रहा है लेकिन समूह की महिलाओं की योजना है कि वे खुद ही गांव के लोगों से लाख खरीदेंगी और उसकी प्रोसेसिंग भी करेंगी। जिससे उन्हें ज्यादा फायदा मिलेगा और बिचौलियों से भी मुक्ति मिलेगी।
    देवसेना महिला समूह द्वारा निर्मित चूड़ियों की बिक्री हेतु 36 मॉल बिलासपुर के बिहान बाजार में जगह उपलब्ध कराया गया है और इसे लोगों द्वारा पसंद भी किया जा रहा है। चूड़ियों के तरह-तरह के डिजाईन के संबंध में भी लोग सुझाव दे रहे हैं। जिससे इन महिलाओं का उत्साहवर्धन हो रहा है। अब वे लोगों की पसंद के अनुसार आधुनिक डिजाईन की चूड़ियां बनाने के लिये प्रशिक्षण लेने की योजना बना रही हैं। इस उपलब्धि से ग्रामीण महिलाओं की आमदनी के साथ-साथ उनका आत्मविश्वास भी बढ़ा है।  

 

ध्यान दीजिए डीईओ साहब , एक शिक्षक के हाथों 110 बच्चो का भविष्य , आखिर कैसे होगी बच्चो की पढ़ाई...

शनि सुर्यवंशी : पकरिया-

विकासखंड अकलतरा के ग्राम पंचायत झलमला के टांड़पारा स्थित शासकीय प्राथमिक शाला जहाँ 5 वी क्लास तक स्कूल संचालित होता है। ज्ञात हो कि शासकीय प्राथमिक शाला टांड़पारा में शाला के दर्ज संख्या के अनुसार 2 शिक्षक 1 शिक्षिका नियुक्ति हुआ था । जिससे वहाँ का पढ़ाई सुचारू रूप से चल रहा था आपको बता दे कि शासकीय प्राथमिक शाला टांड़पारा में पदस्थ रहे प्रधान पाठक खोलबहरा निर्मलकर का मृत्यु 2016 -17 में हो गया जिसके बाद वही शाला में शिक्षक गजाधर मरकाम को प्रभारी प्रधान पाठक बनाया गया था वही शाला में पदस्थ प्रभारी प्रधान पाठक मरकाम अपने शाला में शराब पीकर आता था जिसके हरकत से शिक्षक व बच्चे बहुत ज्यादा परेशान थे जिससे बच्चो का पढ़ाई बाधित हो रहा था । वही इसकी शिकायत शाला के टीचर व बच्चो अभिभवाकगण ने शाला समिति को अवगत कराया गया जिसके बाद शाला समिति के सदस्यो ने प्रभारी प्रधान पाठक को ब्यवहार को सुधारने और अच्छे तरीके से शाला का।संचालन करने को कहा गया था और अच्छा शिक्षक का परिचय देने को कहा उसके बावजूद भी प्रभारी प्रधान पाठक किसी एक कि भी सुनने को तैयार नही हुआ ।

जिसके बाद शाला समिति एवं ग्रामीणों के द्वारा प्रभारी प्रधान पाठक के खिलाफ शिकायत किया गया था वही शिकायत पर स्कूल जांच अधिकारी के द्वारा सही पाया गया था जिसके बाद उसे विकासखंड के अंतर्गत झिरिया के स्कूल में 11 दिसम्बर को अटैच कर दिया गया था । जिसके बाद शाला विकास समिति के द्वारा शिक्षक ब्यवस्था की मांग किया जिसपर उनके जगह में झिरिया स्कूल से शिक्षक रामप्रकाश खरे को लाया गया जो कि खरे के द्वारा अक्टूम्बर माह 2018 से दिसम्बर 2018 तक स्कूल में ब्यावस्थापक के रूप में सेवा दिया जा रहा था उसके बाद झिरिया शिक्षक रामप्रकाश खरे को झलमला से अपने मूल शाला मे वापस बुला लिया गया ।

हद तो तब हो गया कि 22 दिसम्बर को फिर से गजाधर मरकाम को पुनः पदस्थापना शाला में कर दिया गया था उसी बीच मे ही शासकीय प्रथमिक शाला पकरिया झुलन के शिक्षक जगदीश निर्मलकर जगदीश कुर्रे को वार्षिक परीक्षा के दौरान बच्चो के पढ़ाई प्रभवित न उसको देखते हुए जनवरी माह 2019 से अप्रैल 2019 तक वही 1 सप्ताह के लिए पकरिया शिक्षक ललिता देवांगन को भी टांड़पारा शाला में भेजा गया था । वही आपको बता दे सत्र 2018- 19 में शिकायत के बाद फिर से अधिकारियों के द्वारा 24 जून 2019 को उन्हें शाला टांड़पारा से दूसरे जगह रिलीव किया गया है।

●110 बच्चो की जिम्मेदारी प्रभारी प्रधानपठिका के हाथों●

आपको बता दे शासकीय प्राथमिक शाला टांड़पारा झलमला में पदस्थ प्रभारी प्रधानपठिका विंध्यवासिनी टांडे ने बताया कि वर्तमान में शाला रजिस्टर में दर्जसंख्या के अनुसार 110 बच्चो का स्कूल में उपस्थित है। जिनका पढ़ाई अकेले रहने के वजह से नही हो पा रहा वही आएदिन प्रिसिंध डाक का काम स्कूल के कागजी काम के वजह से दिनभर समय इसी में लग जाता है जिसके वजह से पढ़ाई नही हो पा रहा है इतना ही नही इस मामले को लेकर शिकायत न कि गयी हो विगत दो सालों से कई बार शिक्षक की मांग की गई उसके बावजूद मामला ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ है। वही इसकी शिकायत संकुल केंद्र से लेकर बीइओ डीईओ को कई बार अवगत कराया गया लेकिन शाला में नियमित शिक्षक अभी तक नही भेजा गया है जिसके कारण बच्चो के पढ़ाई बुरी तरह से प्रभावित होता दिख रहा है। वही कभी कभी तो ये देखना पड़ता है कि शाला में सफाईकर्मी गोपेस्वर यादव के द्वारा बच्चो का पार्थना हाजिरी लेना तक पड़ जाता है । यहाँ तक गोपेस्वर यादव खुद समय निकालकर बच्चो को पढ़ाते भी है। आपको बता दे कि जुलाई माह से बच्चो का पढ़ाई चालू हो गया है लेकिन यहाँ के बच्चो का अभी तक कोई भी विषय का पाठ्यक्रम शुरुआत नही हुआ है जिसके कारण पढ़ाई नही हो पा रहा है वही बच्चो का भविष्य अभी से अंधकार मय दिख रहा है। यहाँ तक नौबत यह है कि पहली दूसरी क्लास के बच्चो को पांचवी क्लास के छात्रा पढ़ाती है। जिससे थोड़ा बहुत छोटे छोटे बच्चो का मन पढ़ाई में बना रहे ।

●कैसे सुधरेगे का शिक्षा का ब्यवस्था●

प्राथमिक शाला स्तर की बात करे तो शाला में 30 से 35 बच्चो में 1 शिक्षक का पदस्थ किया जाता वही यहाँ झलमला स्कूल में 110 बच्चे है फिर भी 1 शिक्षक के भरोशे स्कूल को छोड़ दिया गया वही यहाँ आसपास स्कूलों की बात करे तो जहा कम।दर्ज संख्या है उसके बावजूद भी जरुरत से ज्यादा शिक्षक पदस्थ है । अब इस तरह के ब्यवस्था से सहज अन्दाजा लगाया जा सकता है कि स्थानीय अधिकारी के जानकारी के बाद भी इस तरह से भर्राशाही अब भी जारी है। ऐसा लगता है कि बच्चो के भविष्य से कोई मतलब ही न हो ऐसे बदहाली का भुगतना बच्चो को झेलना पड़ता है।

शिक्षक को हटाने व नए शिक्षक के मांग को लेकर स्कूल के गेट पर लटक चुका है ताला

आपको बता दे कि शिक्षक की मांग को लेकर शाला विकास समिति और छात्र छात्राओं के द्वारा नियमित शिक्षक की मांग को लेकर पिछले साल शाला के गेट सामने ताला जड़कर 2 दिनों तक बैठ कर विरोध प्रदर्शन किया गया था इतना ही नही इसकी जानकारी शिक्षक ने अपने उच्च अधिकारियों को फोन पर सूचना भी दिया था लेकिन अधिकारियों के द्वारा आष्वासन के नाम पर सिर्फ और सिर्फ झूनझुना थमाया था वही दो सालों से में शिक्षक का ब्यवस्था न कर पाना कही न कही अधिकारियों की लापरवाही ही समझा जाये । अब देखना यह होगा कि यह कुम्भकर्णी विभाग कब नींद से बाहर आती है और बच्चो को उनके शिक्षक कब मिल पाता है यह देखना लाजिमी होगा ।

BBN24 कि खबर का असर : कन्या आश्रम में बालिका की मौत पर आश्रम अधीक्षिका निलंबित

 

पीड़ित परिवार को 20 हजार की तात्कालिक सहायता
कलेक्टर ने घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया

बलौदाबाजार: जिले के पलारी विकासखण्ड के गांव देवसुन्दरा में संचालित अनुसूचित जाति कन्या आश्रम की बालिका कुमारी मुस्कान की आज सवेरे आकस्मिक मृत्यु हो गई। करीब 9 साल की बालिका आश्रम में रहकर कक्षा चैथी की पढ़ाई कर रही थी। आश्रम अधीक्षिका ने बताया कि घटना के एक दिन पहले 11 जुलाई को शाम में बालिका को उल्टी हुई थी, जिसका ससहा के उप स्वास्थ्य केन्द्र में इलाज कराया गया था। रात में भोजन और दवाई लेने के बाद वह सो गई। सोने के दौरान ही उनका इंतकाल हो गया। शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद उनका अंतिम संस्कार गृहग्राम बिनौरी में किया गया। अंतिम संस्कार में आदिम जाति कल्याण विभाग के अनुसंधान सहायक  शिव बांधे सहित विभागीय कर्मचारी शामिल हुए। 


जिला कलेक्टर  कार्तिकेया गोयल ने बालिका के निधन पर अत्यंत गहरा दुख व्यक्त किया है। उनके निर्देश पर आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा 20 हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई। उन्होंने छात्र सुरक्षा बीमा योजना के तहत भी एक लाख रूपये की सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा इसका प्रकरण तैयार किया जा रहा है। आश्रम अधीक्षिका रीना तिमोथी को देख-रेख में लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। और देवसुन्दरा कन्या आश्रम का प्रभार पलारी आश्रम की अधीक्षिका जसिता मिंज को सौंप दिया गया है। इधर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास राधेश्याम भोई ने भी आज देवसुन्दरा कन्या आश्रम का दौरा किया। उन्होंने आश्रम की खान-पान और साफ-सफाई व्यवस्था का जायजा लिया। आश्रम में फिलहाल कक्षा पहली से पांचवी तक की कक्षा में 54 कन्याएं रहकर पढ़ाई कर रही हैं। 

आत्मसमर्पित नक्सली और पुलिस कप्तान का अभिनय , शार्ट फ़िल्म से नक्सलवाद पर करेंगे चोट , बस्तर में बन रही नक्सलवाद आधारित फिल्म

अब तक आप ने देखा होगा कि माओवादी किसी भी बड़ी घटना को अंजाम देने के बाद मिली कामयाबी का वीडियो बना कर सोशल मीडिया में वायरल करते है। साथ ही स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को, गांव में सभा कर ग्रामीणों को भी दिखाते हैं। ताकि बस्तर के भोले भाले ग्रामीणों के दिल और दिमाग मे माओवादी अपनी जगह बना सके। जिससे लोकतंत्र के खिलाफ ग्रामीणों के मन में गुस्सा फूट सके। इसके लिए नक्सलियो ने विशेष रणनीति के तहत अपना एक प्रोडक्शन हाउस बना कर रखा है।

इस प्रोडक्शन हाउस से माओवादी अपनी जल, जंगल, जमीन की लड़ाई और पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ , किसी बड़े नेता को मौत के घाट उतारने जैसे कहानियों की शार्ट फ़िल्म बना के ग्रामीणों को दिखाते है, साथ ही सोशल मीडिया में धड़ल्ले से वायरल भी करते है। इन सब को देखते हुए अब दन्तेवाड़ा पुलिस भी नक्सलियो की खोखली विचारधारा पर आधारित सच्ची घटना की शार्ट फ़िल्म बना रहीं है। इस शार्ट फ़िल्म में सरेंडर माओवादी, डीआरजी के जवान , महिला डीआरजी के साथ दन्तेवाड़ा एसपी व एएसपी खुद रोल प्ले कर रहे है। इस फ़िल्म निर्माण के लिए रायपुर ,और भिलाई से वीडियो ग्राफर बुलाये गए है।

बता दे कि छग का बस्तर संभाग और इसका एक एक जिला , एक एक गांव आज लाल आतंक की चादर ओढ़े हुए है। पुलिस के एक्शन मोड़ में आने के बाद भी लगातार माओवादी इन इलाकों में अपनी पैठ जमाये हुए है। बस्तर जैसे खूबसूरत जगह के लिए अभिशाप बने ये माओवादी कई छोटी बड़ी घटनाओं को अंजाम देते है, और हर घटना के पीछे मिली कामयाबी की वीडियो बना कर बस्तर के भोले भाले ग्रामीणों को दिखाते है। ताकि ग्रामीणों के मन , मस्तिष्क मे भी सरकार व , पुलिस तंत्र के खिलाफ गुस्सा फूट सके और नक्सली ग्रामीणों के दिल और दिमाग मे अपनी जगह बना सके व उनका विश्वास पा सके।

बस्तर में माओवादियो ने रानिबोधली, ताड़मेटला, बुर्कापाल, झीरम , जैसी कई बड़ी घटना को अंजाम दिया है। और इसकी वीडियो भी बनाई है। इस वीडियो को अपने प्रोडक्शन हाउस के माध्यम से एडिटिंग कर माओवादी इसे रिलीज भी किये है। वही अब दन्तेवाड़ा पुलिस भी माओवादियो को उन्ही की बोली से उन्ही को जवाब देने की तैयारी कर रही है। नक्सलियो पर दन्तेवाड़ा पुलिस अब वीडियो वार करने जा रही है। नक्सलियो के द्वारा ग्रामीणों पर अत्याचार, लिंग भेद, अपने ही साथियों को मौत के घाट उतारना, महिला नक्सल साथियों की नशबंदी जैसे कई मुख्य बिंदुओं पर दन्तेवाड़ा एडिशनल एसपी सूरज सिंह परिहार ने स्क्रिप्ट लिखी है। लगभग एक महीने में तैयार हुई स्क्रिप्ट के बाद अब इस स्क्रिप्ट पर अलग अलग भूमिका अदा करने कलाकार दन्तेवाड़ा के जंगल में अलग अलग लोकेशन पर शूटिंग कर रहे है।

इस 10 मिनट की शार्ट फ़िल्म में सेंट्रल कमेटी के शीर्ष माओवादी नेता गणपति का रोल प्ले करने रायपुर के कलाकार को बुलाया गया है। वही खूंखार इनामी माओवादी हिड़मा का रोल दन्तेवाड़ा डीआरजी जवान मुकेश तांती कर रहे है, और खूंखार महिला नक्सली हूँगी का रोल महिला डीआरजी की आरक्षक सुनैना पटेल कर रही है। साथ ही एसपी की भूमिका स्वयं एसपी ही निभा रहे है।

पहले और दूसरे दिन शूटिंग के दौरान दिखे यह दृश्य- दन्तेवाड़ा के घने जंगलों में पिछले 2 दिनों से यह शूटिंग चल रहीं है। वही इस शॉर्ट फिल्म की कहानी में सबसे मुख्य बात नक्सलियों द्वारा अपने ही महिला नक्सल साथियों की नश बंदी कराई जानी है। इस कहानी में महिला नक्सली हूँगी गर्भवती हो जाती है, जिसे बड़े माओवादी हूँगी को गर्भपात करवाने कहते। हूँगी गर्भपात करवाने की बजाए माओवाद संगठन छोड़ कर दन्तेवाड़ा पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर देती है। और अपनी एक नई जिंदगी की शुरुवात करती है। ऐसे में माओवादी हूँगी के खिलाफ मौत का फरमान जारी कर देते है। आत्मसमर्पण के बाद हूँगी को सरकार की नीति के तहत पुलिस में नौकरी दी जाती है। जिससे वो अपनी हसी खुशी जिंगदी जीती है। इस शार्ट फ़िल्म का दूसरा पार्ट है माओवाद के शीर्ष लीडर गणपति जो ग्रामीणों की व अपने ही डिवीजन नक्सल लीडरों की बैठकें लेता है। किस तरह से माओवादी ग्रामीणों को नक्सल संगठन का साथ देने मजबूर करते है। सरकार की नीतियों का बहिष्कार करने कहते है। स्कूल, कॉलेज , सड़क, अस्पताल बनने नहीं देते, शासन प्रशासन द्वारा ग्रामीणों को जो सुविधाएं मुहैया कराई जाती है नक्सली उसका बहिष्कार करते है। मजबूरन ग्रामीण लाल आतंक के पैरों तले कुचले जाते है। वही इस कहानी में एसपी का किरदार स्वयं दन्तेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ही निभा रहे है। शिविक एक्शन कर ग्रामीणों के बीच नजदीकियां बड़ा रहे है। वही जल्द ही इस फ़िल्म को रिलीज कर हाट बाजारों में, स्कूल व आश्रमो में दिखाया जाएगा।

जनप्रतिनिधियों की कमजोरी, मस्तूरी से पेंड्री कोहरौदा मार्ग जर्जर .....

 सन्नी यादव @ bbn24news  (विशेष )

मस्तूरी से पेंड्री कोहरौदा नेशनल हाईवे मार्ग बद से बदतर हो चुकी है विगत कई वर्षों से इस रोड की मरम्मत कार्य नहीं हो पाई है। इस मामले में कर्मचारी अधिकारियों की उदासीनता समझे या फिर जनप्रतिनिधियों की कमजोरी क्योंकि विगत 10 वर्षों से ना तो इस रोड के लिए कोई भी जवाबदार अधिकारी एक्शन ले रहे हैं और ना ही कोई सांसद विधायक जैसे जनप्रतिनिधि  लोग इस समस्या को उच्च स्तर तक पहुंचा रहे हैं। रोड की समस्या को लेकर जब कभी भी मस्तूरी के व्यापारिक संगठन या फिर विद्यार्थी संगठन या फिर कोई राजनीतिक संगठन के लोगों ने मुद्दे को लेकर जवाबदार अधिकारी के पास अपनी बात रखी है। तो सिर्फ रोड के मरम्मत के नाम पर लीपापोती कर  नजर अंदाज किया गया है। आज उच्च आला अधिकारियों की नजर अंदाज करने के कारण रोड की स्थिति इतनी जर्जर हो चुकी है कि आवागमन करने वाले यात्रियों से लेके रोज दूरदराज के अंचल से पढ़ाई करने आ रहे विद्यार्थी गढ़ बहुत ही ज्यादा परेशानियों का उन लोगों को सामना करना पड़ रहा है।

 मस्तूरी एक मुख्यालय जगह है जिले से मात्र 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां आसपास के क्षेत्रों के लोगों की छोटे से लेकर बड़े कार्य होते हैं । जितने भी शासकीय कार्यालय हैं मस्तूरी में उपस्थित होने के कारण लोग अपनी अपनी समस्या को लेकर  रोजाना आवागमन करते हैं। लेकिन रोड के बदतर स्थिति को लेकर कोई दुर्घटना का शिकार होते तो किसी के कपड़े खराब हो जाते हैं। लोगों को रोड के नाम से इतनी भारी-भरकम समस्या है इसको क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और आला अधिकारी बखूबी अच्छी तरह से समझते हैं बावजूद इसके सब मूकदर्शक बने हुए निद्रा में लीन है।


 कार्यालय काम से आने जाने वाले लोगों को कीचड़ और गड्ढों से इतनी ज्यादा ही परेशानी हो रही है कि कभी उन लोगों के कपड़े खराब हो जा रहे हैं तो रोड खराब होने की वजह से वाहन खराब हो जाते हैं या तो लेटलतीफी हो जाता है अगर बरसात नहीं होते तो धूल और कंकड़ से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैl आने जाने वाले लोगों के साथ साथ सड़क के आस-पास व्यापारी लोग काफी हद तक परेशान है धूल धक्कड़ से सामान खराब हो जाते हैं और कीचड़ होने से धंधा पानी में मंदी हो रही है लोक सामने में कीचड़ देखकर आगे निकल जाते हैंl सारी समस्याओं को देखते हुए लोगों में भारी रोष है और अपने अपने संगठन के रूप में शासन के खिलाफ उग्र आंदोलन करने की तैयारी में लगे हुए हैं।

रोड की इस गंदी दशा को देखते हुए भी शासन प्रशासन चुप्पी साधे बैठी है स्कूली सीजन चल रहा है छात्र-छात्राओं को स्कूल आने-जाने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है रोड के जर्जर स्थिति को देखते हुए ना तो कोई प्रकार की मरम्मत कार्य करवाई जा रही है और ना ही किसी प्रकार की ठोस कदम उठाए जा रहे हैं जिसे लेकर हम लोग काफी परेशान हैं।
 राहुल यादव
 पंचायत जनप्रतिनिधि मस्तूरी।
मस्तूरी रोड की जर्जर स्थिति को देखते हुए भी शासन प्रशासन के लोग इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं हम लोगों को स्कूल कॉलेज जाने में रोड के नाम से और रोड के गंदगी के नाम से इतनी सारी  परेशानियां हो रही है कि कई कई दिन ड्रेस खराब होने यह सड़क के गड्ढों के नाम से गिर जाने के कारण घर वापस भी होना पड़ा है, कई छोटे-छोटे दुर्घटनाओं से बचे हैं।
 अभिषेक मौर्य
 छात्र मस्तूरी कॉलेज।
दुकान के सामने में रोड के बड़े-बड़े गड्ढों  के होने से वाहनों के आवागमन पर थोड़ी सी बरसात होने पर सड़क दलदल में तब्दील हो जाती है बड़े वाहनों के चलने से सामानों पर आए दिन कीचड़ पढ़ते ही रहता है दुकान के सामने में गंदगी होने के कारण ग्राहकों का आवागमन भी कम हो जाता है और यह सब सारी समस्याएं सिर्फ रोड के मरम्मत नहीं होने से हो रही है जिससे हम लोग काफी परेशान हैं।
 पारस गुप्ता
 व्यापारी मस्तूरी।
हमें रोजाना ऑफिशियल वर्क के नाम से मस्तूरी आना जाना पड़ता है लेकिन रोड की जर्जर स्थिति को देख कर कभी भी दुर्घटना होने की आशंका बनी हुई रहती है। रोड के जर्जर होने की वजह से कई सारी दुर्घटनाएं भी हो चुकी है पर अभी तक शासन-प्रशासन के और से रोड की मरम्मत के नाम पर  कोई भी प्रकार का एक्शन नहीं लिया जा रहा है जिससे हमें बहुत सारी समस्याएं हो रही है।
 जितेंद्र यादव।
 शासकीय कर्मचारी
मस्तूरी में नेशनल हाईवे रोड की स्थिति वाकई में बहुत ही  जर्जर स्थित है सड़क में बड़े-बड़े गड्ढे हो जाने के नाम से आम लोगों को बहुत सारी समस्याएं हो रही है जिसे हमने सड़क विभाग के अधिकारियों को अवगत करा दिया है बहुत जल्दी मरम्मत कार्य करवाया जाएगा।
 वीरेंद्र लकड़ा
 एसडीएम मस्तूरी।

जंहा लगे हैं प्रेसर आईईडी वहा जान जोखिम में डाल कर रोज जाते है शिक्षक स्कुलो तक .पढ़े ये विशेष रिपोर्ट

एक दर्जन से अधिक स्कूल कटेकल्याण में पहुच विहीन।

दंतेवाड़ा।।

कटेकल्याण में एक दर्जन से जादा स्कुलो तक पहुचने शिक्षक रोज अपनी जान जोखिम में डाल ते हैं। विकास खण्ड मुख्यालय से 3 से 4 किलोमीटर के बाद पूरा क्षेत्र नक्सलियों के कब्जे में है विगत कई सालों से इन गांवो तक पहुचने वाली सड़क नक्सली कई सालों से बंद कर रखे हैं | नया शिक्षा सत्र शुरू होते ही कटेकल्याण विकास खण्ड के चिकपाल,मरजुम,मुनगा, तेलंम,टेटम,जियाकोडता,कोडरीपाल, एटेपाल, नदी कोंटा स्कुलो में पदस्थ शिक्षकों की परेशानी एक बार फिर से शुरू हो गई है।

*9 गांव के 16 से अधिक स्कूल के शिक्षक अपने स्कूलों तक अकेले सायकल से भी नही जा पाते डियूटी नक्सलियों द्वारा खोदे गये बड़े, बड़े गड्ढो को पार करने में लगते है दो आदमी।

कभी भी कंही भी हो सकता है इन क्षेत्रों में पदस्थ शिक्षकों के साथ हादसा ,इन सड़कों पर नक्सली आय दिन लगाते है प्रेसर आईईडी जवानों को नुकशान पहुचाने ,सोमवार को भी एक प्रेसर आईईडी इसी रास्ते मे पिकअप वाहन का चक्का चढ़ने से फ़टी थी। चिकपाल ,मरजुम ,तेलंम ,टेटम क्षेत्र में डियूटी जाने वाले शिक्षकों ने बताया मुख्यालय में रह नही सकते कारण नही है आवास ब्लाक मुख्यालय से सुबह 9 बजे निकलते है रोज तब डेढ़ घण्टे में पहुच पाते है स्कुलो तक 6 से सात साल से शिक्षक इसी तरह परेशानी उठा रहे है।


इतने स्कुलो को शिफ्ट नही कर सकते ,तीन आश्रम सहित दर्जनों स्कूल है पहुच विहीन। 
बीईओ कटेकल्याण गोपाल पांडे 

शिवरीनारायण हॉस्पिटल की सुधरेगी दशा, स्वास्थ्य मंत्री ने पत्रकार आशीष कश्यप के पोस्ट पर दिया आश्वासन,

प्रियांश केशरवानी@Bbn24: जांजगीर चाम्पा/ शिवरीनारायण हॉस्पिटल की दशा अब सुधरने वाली है पत्रकार आशीष कश्यप की पोस्ट पर स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने कमेंट के माध्यम से आश्वासन भरा जवाब दिया है जिसके बाद अब आम जनता को बड़ी राहत मिलने की उम्मीद जगी है। स्वास्थ्य मंत्री ने लिखा है कि हम आपकी समस्या से अवगत है और इस समस्या का जल्द निदान होगा।दरअसल गौरतलब है कि शिवरीनारायण आसपास के 50 गांवों का केंद्र बिंदु हैं।यहाँ रोजाना बड़ी संख्या में आसपास के लोग अपने व परिजनों के इलाज के लिए पहुँचते हैं।लेकिन यहां स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम एक सिविल डिस्पेंसरी संचालित है।जिसमे एक सरकारी डॉक्टर अपने कुछ कर्मचारियों के साथ लोगो को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करा रही हैं।अक्सर देखा जाता हैं कि यदि दुर्घटना में घायल कोई मरीज इलाज के लिए हॉस्पिटल पहुँचता हैं तो उसे अन्यत्र रिफर करने के आलावा कोई रास्ता नही होता।समय पर इलाज नही मिलने से बहुतों की जान भी चली जाती हैं। शिवरीनारायण क्षेत्रवासियों की इस समस्या को सभी अखबारों ने प्रमुखता से उठाया था वही पत्रकार आशीष कश्यप ने स्वास्थ्य मंत्री टीएससी देव को मैसेज के माध्यम से भी इस समस्या को बताया था। इसके बाद उन्हें जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने शीघ्र व्यवस्था सुधारने का आश्वासन दिया है।
Previous123456789...3233Next