छत्तीसगढ़

सांवरा बस्ती में निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर का हुआ आयोजन

बलौदाबाजार,9 अप्रैल 2022 कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एम पी महिस्वर के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग द्वारा बलौदाबाजार टीम द्वारा जिला मुख्यालय से लगे हुए सांवरा बस्ती में स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने हेतु हेल्थ कैंप का आयोजन किया गया। कैंप में बस्ती के लोगों को स्वास्थ्य संबंधित जानकारी देने के अतिरिक्त उनके शुगर, रक्तचाप, मलेरिया,गर्भ,बीपी,फाइलेरिया जैसी स्क्रीनिंग की गई। इसके साथ ही एनीमिया मुक्त भारत के सुपोषण अभियान अंतर्गत हीमोग्लोबिन की भी जांच की गई एवं विटामिन ए सिरप का वितरण किया गया। सांवरा बस्ती में जिला कलेक्टर द्वारा समय-समय पर वहां वहां के निवासियों के स्वास्थ्य परीक्षण करते रहने के निर्देश स्वास्थ विभाग को दिए हैं इससे पूर्व भी कोविड टीकाकरण हेतु यहां टीम भेजी गई थी। इस स्वास्थ्य परीक्षण में स्वास्थ्य विभाग से अविनाश केसरवानी,दीपिका बंजारे ,रोहित वर्मा ,योगेश्वर यदु पंचायत विभाग से उत्तम कुमार टंडन जबकि महिला एवं बाल विकास से गिरिजा वर्मा,शेंबती देवांगन,पूर्णिमा ध्रुव उपस्थित रहे।

माता शबरी की नगरी का बदला स्वरूप, राम वन गमन पर्यटन परिपथ के कार्यो से शिवरीनारायण में बढ़ी पर्यटक सुविधाएं,

जांजगीर चांपा, 09 अप्रैल, 2022/ छत्तीसगढ़ में राम वन गमन पर्यटन परिपथ के अंतर्गत वनवास काल में प्रभु राम जिन स्थानों पर गए उन स्थानों को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित करने की योजना बनाई गई है। इन स्थानों में सबसे पहले माता कौशल्या की जन्मभूमि चंदखुरी में स्थित कौशल्या माता के मंदिर का जीर्णाेद्धार सहित मंदिर परिसर के सौंदर्यीकरण कर इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया है। राज्य सरकार द्वारा माता शबरी की नगरी शिवरीनारायण को भी उसी तर्ज पर विकसित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल पर राम वन गमन पर्यटन परिपथ को विकसित करने की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। परियोजना के अंतर्गत 75 स्थानों को चिन्हांकन किया गया है। प्रथम चरण में 9 स्थानों को विकसित करने का काम शुरू किया गया है। प्रदेश के पौराणिक और पुरातात्विक विरासतों को नई पहचान एवं उन्हें भव्य बनाने की दिशा में काम हो रहा है। छत्तीसगढ़ और यहां के लोगों के लिए गर्व की बात है कि भगवान राम ने अपने वनवास काल का लंबा समय छत्तीसगढ़ में गुजारा था। राम वन गमन पर्यटन परिपथ योजना के तहत जिन स्थलों को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के लिए चयन किया है। इनमें रायपुर जिले का चंदखुरी जांजगीर चांपा जिले के शिवरीनारायण के साथ ही कोरिया जिले का सीतामढ़ी हर चौका, सरगुजा का सप्तऋषि आश्रम, बलौदाबाजार भाटापारा का तुरतुरिया, गरियाबंद जिले का राजिम, बस्तर का जगदलपुर, सुकमा का रामाराम और सहित अन्य स्थल शामिल हैं। मान्यता के अनुसार 14 वर्ष के वनवास के दौरान प्रभु राम ने लगभग 10 वर्ष का समय छत्तीसगढ़ में गुजारा था। वनवास काल में उन्होंने छत्तीसगढ़ में प्रवेश कोरिया के सीतामढ़ी हरचौका से किया था। उत्तर से दक्षिण की ओर बढ़ते हुए वे छत्तीसगढ़ के अनेक स्थानों से वे गुजरे। सुकमा का रामाराम उनका अंतिम पड़ाव था। प्रभु राम वनवास काल के दौरान लगभग 2260 किलोमीटर की यात्रा की थी। जिस मार्ग को हरा-भरा बनाने का काम छत्तीसगढ़ सरकार के वन विभाग के द्वारा किया जा रहा है। इस मार्ग में हरे-भरे वृक्ष के साथ-साथ फलदार पौधों को रोपण किया जा रहा है। हर युग में शिवरीनारायण नगर का अस्तित्व रहा है, यह नगर मातंग ऋषि का गुरूकुल आश्रम और माता शबरी की साधना स्थली भी रही है। यह महानदी, शिवनाथ और जोंक नदी के त्रिधारा संगम के तट पर स्थित प्राचीन नगर है। शिवरीनारायण प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण नगर है, जो छत्तीसगढ़ के जगन्नाथपुरी धाम के नाम से विख्यात है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रभु राम ने शबरी के जूठे बेर यहीं खाये थे और उन्हें मोक्ष प्रदान किया था। शबरी की स्मृति को चिरस्थायी बनाने के लिए शबरी-नारायण नगर बसा है। प्रचलित किंवदंती के अनुसार प्रतिवर्ष माघ पूर्णिमा को भगवान जगन्नाथ यहां विराजते हैं। शिवरीनारायण में राम वन गमन पर्यटन परिपथ के अतर्गत पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए 39 करोड़ रूपए के कार्य होंगे। इसके तहत प्रथम चरण में 6 करोड़ के विकास कार्य पूर्ण कराए गए हैं। इनमें शिवरीनारायण के मंदिर परिसर का उन्नयन एवं सौदर्यीकरण, दीप स्तंभ, रामायण इंटरप्रिटेशन सेन्टर एवं पर्यटक सूचना केन्द्र, मंदिर मार्ग पर भव्य प्रवेश द्वार, नदी घाट का विकास एवं सौंदर्यीकरण, घाट में प्रभु राम-लक्ष्मण और शबरी माता की प्रतिमा का निर्माण किया गया है। इसी प्रकार घाट में व्यू पाइंट कियोस्क, लैण्ड स्केपिंग कार्य, बाउंड्रीवाल, मॉड्यूलर शॉप, विशाल पार्किंग एरिया और सार्वजनिक शौचालय का निर्माण शामिल है।

कार्यक्रम में नहीं पहुंचे अध्यक्ष व अन्य जनप्रतिनिधि प्रथम नागरिक होने के बावजूद उन्हें तीन दिवसीय कार्यक्रम में किसी भी दिन विशिष्ट अतिथि तक नही बनाया

आशीष कश्यप शिवरीनारायण

शिवरीनारायण:-शिवरीनारायण नगर पंचायत अध्यक्ष अंजनी तिवारी ने कहा कि राज्य स्तरीय मानस गायन प्रतियोगिता एवं राम वन गमन परिपथ लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन नगर में हो रहा है, लेकिन इस कार्यक्रम में नगर पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष सहित निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को स्थाननहीं देकर उपेक्षा की जा रही है। प्रथम नागरिक होने के बावजूद उन्हें तीन दिवसीय कार्यक्रम में किसी भी दिन विशिष्ट अतिथि तक नही बनाया गया है। अध्यक्ष अंजनी तिवारी ने कहा कि 8 अप्रैल को 12 बजे से कार्यक्रम शुरू हो रहा है और 8 अप्रैल की सुबह 11 बजे उन्हें कार्यक्रम का निमंत्रण कार्ड दिया जा रहा है। वही आपको बताते चले कि पूर्व में 29 नवम्बर 2020 को नगर के महन्त लाल दास महाविद्यालय परिसर में आयोजित एक दिवसीय राम कथा कार्यक्रम में भी हमारी उपेक्षा की गई थी। अध्यक्ष अंजनी मनोज तिवारी ने लगातार दुर्व्यवहार व उपेक्षा से वे लोग आहत हैं। उन्होंने कहा कि उनके साथ उपाध्यक्ष राजेन्द्र यादव, पार्षद मनोज तिवारी, निरंजन कश्यप, शिवशंकर सोनी, कृष्ण कुमार भट्ट, सागर केशरवानी, लक्ष्मण चौहान 10 अप्रैल को नगर आगमन पर सीएम भूपेश बघेल को इस्तीफा देंगे।

13 को प्लेसमेन्ट कैम्प का होगा आयोजन

बलौदाबाजार, 8 अप्रैल 2022 जिला रोजगार कार्यालय द्वारा जिले के शिक्षित युवाओं को निजी क्षेत्र में रोजगार का अवसर प्रदान करने हेतु रोजगार कार्यालय बलौदाबाजार में 13 अप्रैल 2022 को प्लेसमेंट कैम्प का आयोजन किया जा रहा है। उक्त कैम्प का आयोजन सुबह 11 से 3 बजे किया जाएगा। इच्छुक आवेदक समस्त प्रमाण, पत्र आधार कार्ड,, दो पासपोर्ट साइज फोटो सहित कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए उपस्थित हो सकते है। जिला रोजगार अधिकारी ने बताया कि इस प्लेसमेन्ट केम्प में नियोजक अर्लट सेक्युरिटी रायपुर द्वारा मार्केटिंग के 5 पद (पु./ म.) योग्यता स्नातक, स्नातकोत्तर उम्र 25 से 45 वर्ष, वेतन 8 हजार से 12 हजार रूपये तक, सेक्युरिटी गार्ड के 50 पद (पुरूष) योग्यता 8वीं पास उम्र 18 से 50 वर्ष वेतन 7 हजार से 12 हजार रूपये तक, सहायक सुपरवाईजार के 05 पद (पुरूष) योग्यता स्नातकोत्तर उम्र 20 से 45 वर्ष, वेतन 7 से 12 हजार रूपये तक, अभिकर्ता के 30 पद (पु./म.) योग्यता 8वीं पास, उम्र 18 से 60 वर्ष वेतन कमिशन के आधार पर देय होगा। इस संबंध में अधिक जानकारी हेतु जिला रोजगार कार्यालय से या दूरभाष न. 07727-299443 से सम्पर्क कर सकते है।

सेहत के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए मनाया गया विश्व स्वास्थ्य दिवस

जांच शिविर एवं विविध प्रकार के जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन बलौदाबाजार 8 अप्रैल 2022 लोगों में सेहत के प्रति जागरूकता को लेकर प्रतिवर्ष 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य संगठन के तत्वाधान में विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष भी जिला कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों में सेहत के प्रति जन जागरूकता लाने हेतु विविध प्रकार के कार्यक्रम संपादित किये गए. जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एम पी महिस्वर ने जानकारी देते हुए बताया की जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य एवं वैलनेस केंद्रों में विविध प्रकार के कार्यक्रम संपादित किए गए. इस अवसर सिविल सर्जन डॉ राजेश कुमार अवस्थी की देखरेख में जिला अस्पताल बलौदाबाजार में पोस्ट कोविड मरीजों में उत्पन्न विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य गत समस्याएं जैसे थकान,हाथ पैरों में दर्द, अवसाद ,बालों का झड़ना, जोड़ों में दर्द ,लंबे समय की खांसी आदि लक्षणों वाले पूर्व कोविड मरीजों का विशेषज्ञ चिकित्सकों के द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।स्वास्थ्य शिविर के पूर्व चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रतीक गुप्ता द्वारा जिले के 250 पूर्व कोविड मरीजों को टेलिफोनिक परामर्श भी दिया गया । इसके अतिरिक्त अस्पताल में लगभग 65 मरीजों ने इस हेतु अपनी जांच करवाई। इस शिविर में उपरोक्त मरीजों के रक्त चाप शुगर एक्स-रे सहित आवश्यक रक्त जांच भी की गई । स्वास्थ्य परीक्षण में डॉक्टर के के टैंभूरने,डॉक्टर कल्याण कुरुवंशी, डॉक्टर पूजा गायकवाड, विनोद देवांगन एवं भारती यादव भी सम्मिलित रहे। इसी प्रकार बलौदा बाजार के विकास खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ राकेश कुमार प्रेमी के नेतृत्व में ग्राम खजूरी में स्वास्थ विभाग एवं श्री किशन बर्बरीक रोड विनिर्माण कंपनी के सहयोग से सड़क निर्माण में लगे हुए 118 कर्मचारियों व मजदूरों हेतु शुगर रक्तचाप टीबी एचआईवी के संबंध में परिचर्चा तथा स्क्रीनिंग कैंप का आयोजन किया गया। इसमें अविनाश केसरवानी ,यशवंत पटेल एवं चंचल टंडन द्वारा स्वस्थ जीवन शैली के संबंध में बताते हुए टीबी एवं शुगर बीपी की जांच की गई। कसडोल के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कटगी में इस अवसर पर स्वच्छता के संबंध में सभी को शपथ दिलाई गई। जिले में संचालित सभी वैलनेस केंद्रों में सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा भी स्कूलों सहित आम जन के बीच इस बाबत शपथ ,योग,परिचर्चा, आदि के माध्यम से लोगों में सेहत के प्रति जागरूकता लाने का प्रयास किया गया। कार्यक्रम में स्वस्थ जीवन शैली जिसमें खानपान व्यवहार आदि में सकारात्मक बदलाव लाकर स्वस्थ रहा जा सकता है ऐसा संदेश प्रेषित किया गया।

गोधन न्याय योजना में लापरवाही, जनपद पंचायत सीईओ सहित पंचायत सचिव को जारी नोटिस

बलौदाबाजार 8 अप्रैल 2022 कलेक्टर डोमन सिंह गौठान, चौपाल कार्यक्रम के तहत भाटापारा विकासखण्ड के ग्राम कडार एवं पथरिया के गौठानों का आकास्मिक निरीक्षण कर गतिविधियों जायजा लिया। इस दौरान गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन में बेहद लापरवाही बरती जा रही है। उक्त दोनों स्थानों में विगत 10 दिनों से गोबर खरीदी नहीं होने पर कलेक्टर ने कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने तत्काल जनपद पंचायत सीईओ चन्द्रशेखर पात्रे एवं ग्राम पथरिया के सचिव पुष्टक कुमार ध्रुव को कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश जिला पंचायत सीईओ को दिए हैं। उक्त नोटिस का जवाब तीन दिनों के भीतर देने कहा गया है। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर डोमन सिंह ने गांव के महिला समूह के सदस्यों, सरपंचों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों से भी रूबरू हुए। उन्होंने वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन, टांका की व्यवस्था, पशुओं की चारे की व्यवस्था, पीने की पानी, बाड़ी, चारागाह, वर्किंग शेड में स्थापित यूनिटों का अवलोकन किया। इस दौरान भाटापारा एसडीएम लवीना पाण्डेय एवं राजस्व, पंचायत एवं अन्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

कलेक्टर,डीएफओ देर रात निकले गश्ती में, वन्य प्राणी एवं वनों को आग से बचाने सुरक्षा उपायों का लिया जायजा

बलौदाबाजार, 8 अप्रैल 2022 कलेक्टर डोमन सिंह एवं वनमंडलाधिकारी के.आर.बढ़ाई देर रात बारनवापारा अभ्यारण्य के जंगलों में वन्य प्राणी एवं वनों को आग से बचाने सुरक्षा के उपायों का जायजा लिया। उन्होंने बारनवापारा अभ्यारण्य के संवेदनशील क्षेत्रों का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने ग्रामवासियों से मिलकर वनों को आग से बचाने के लिए सहयोग करने की अपील की। साथ ही ग्रामवासियों को कहा कि जंगल में कहीं भी आग लगती है तो वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को तत्काल अवगत कराएं एवं नैतिक दायित्व समझते हुए जंगल को आग बुझाने में मदद करें। इस दौरान डी के जंक्शन बैरियर एवं कोठारी नाका के कर्मचारियों से आगजनी एवं वन्य प्राणी के मौजूदगी संबंधित जानकारी हासिल की। निरीक्षण के दौरान रास्ते में चीतल, गौर के समूह का दीदार हुआ। गौरतलब है कि बारनवापारा के जंगलों में अभी तक किसी प्रकार की आगजनी की घटना नहीं हुई हैं। इस दौरान वनमंडलाधिकारी के.आर.बढ़ाई, तहसीलदार कसडोल सहित वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

कल विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर जिला हॉस्पिटल में पोस्ट कोविड मरीजों हेतु विशेष स्वास्थ्य शिविर का होगा आयोजन

शिविर में कोरोना के पश्चात उत्पन्न कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का निराकरण किया जाएगा बलौदाबाजार 6 अप्रैल 2022/प्रत्येक वर्ष 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य संगठन के तत्वाधान में दुनिया भर में विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देशानुसार पोस्ट कोविड मरीजों के लिए विशेष स्वास्थ्य शिविर जिला अस्पताल बलौदा बाजार में लगाया जा रहा है। इस संबंध में जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एमपी महिस्वर ने बताया कि, इस विशेष स्वास्थ्य शिविर में ऐसे व्यक्ति जो पूर्व में कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं उनके स्वास्थ्य हेतु विशेष जांच एवं परामर्श के साथ ही उपचार की व्यवस्था की गई है । इस संबंध में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर के के टैंभूरने, अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ कल्याण कुरुवंशी एवं चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रतीक गुप्ता और डॉक्टर पूजा गायकवाड सहित अन्य आवश्यक स्टाफ की ड्यूटी लगाई गई है।सीएमएचओ ने बताया कि,यह देखा जा रहा है ऐसे व्यक्ति जिन्हें पूर्व में कोरोना का संक्रमण रहा है उनमें से कुछ को सांस लेने में तकलीफ ,थकान जोड़ों में दर्द, बालों का झड़ना, बार-बार तबीयत खराब होना ,लंबे समय की खांसी ,अवसाद या किसी प्रकार का मनोरोग और शुगर एवं ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं । इस शिविर में इन्हीं समस्याओं के निराकरण पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। सिविल सर्जन डॉ राजेश कुमार अवस्थी ने जानकारी देते हुए बताया कि, जिला अस्पताल में इस स्वास्थ्य शिविर की तैयारी पूर्ण कर ली गई है तथा पंजीयन पश्चात अस्पताल के कक्ष क्रमांक 9 एवं 11 में चिकित्सक जांच करेंगे , ओपीडी का समय प्रातः 9:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक रखा गया है । पूर्व में ऐसे कोरोना मरीज जो सरकारी या निजी चिकित्सा संस्थान में भर्ती रहे हों अथवा होम आइसोलेशन में रहे हों, उन्हें समस्या होने पर इस शिविर का लाभ अवश्य लेना चाहिए।

गौठान पहुंच कार्यक्रम के तहत मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन पहुंचे जिले के ग्राम पुरैना-खपरी के गौठान में

गौठान में संचालित गतिविधियों का लिया जायजा,महिला स्व-सहायता समूहों के कार्यो की सरहाना गोबर खरीदी और वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन का काम भी देखा चौपाल में जमीन पर बैठकर महिला स्व-सहायता समूहों से की चर्चा गौठानों की व्यवस्था को मजबूत एवं स्वालंबी बनाने गौठान चौपाल के तहत 7 अप्रैल से अधिकारी करेंगे गौठानों का भ्रमण* बलौदाबाजार,6 अप्रैल 2022/मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन ‘‘गौठान पहुँच कार्यक्रम’’ के अंतर्गत जिले के बलौदाबाजार विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम पंचायत पुरैना खपरी के गौठान में पहुँचे। मुख्य सचिव श्री जैन ने गौठान में संचालित विभिन्न गतिविधियों का जायजा लिया और गौठान में लगायी गयी चौपाल में जमीन पर बैठकर,बरगद पेड़ के नीचे महिला स्व सहायता समूहों के सदस्यों के साथ उनके द्वारा गौठान में संचालित गतिविधियों की जानकारी ली। इस दौरान श्री जैन में महिला स्व-सहायता समूह के कार्याे की सरहाना की। मुख्य सचिव ने गौठान में गोबर खरीदी की जानकारी ली। इस मौके पर गोठान में गोबर बेचने आये नेतराम से चर्चा किए। उन्होंने बताया कि अभी फसल कटने के बाद गाय को खुल्ला छोड़ दिए है। इसलिए अभी गोबर कम बेच रहे है। साथ ही गर्मी में हम गोबर से छेना,कंडे बनाने में उपयोग करते हैं। उन्होंने आगे बताया कि मेरा सहकारी बैक के अकाउंट में गोबर बेचने का पैसा समय पर आ जाता है। अभी तक 3 हजार रुपए मिल चुका है। खरीदी के संबंध में ग्राम सचिव ने बताया कि आज 275 किलो ग्राम गोबर की खरीदी हुई है। इसी तरह चरवाहा बलिराम यादव से भी बातचीत की।गौठान में मुर्गी एवं बतख के पालन कर रहें जय माँ दुर्गा स्व सहायता समूह के सदस्यों से मुलाकात की। श्री जैन ने बत्तख एवं मछली पालन की प्रशंसा कर उनका हौसला अफजाई की। श्री जैन के पूछने पर महिला स्व सहायता समूह सदस्यों ने बताया कि अभी तक 57 हजार का मुर्गी हमने बेचे है। इसी प्राप्त पैसे से हमने बकरी का भी पालन प्रारंभ किया है। जैविक खाद एवं सब्जी बाड़ी के कार्य मे लगें जय माँ लक्ष्मी स्व सहायता समूह के सदस्यों से भी मुलाकात की। उन्होंने स्व-सहायता समूहों द्वारा तैयार वर्मी कम्पोस्ट की गुणवत्ता भी परखी। गौठान परिसर में महानदी वानिता वर्किंग शेड में स्थापित, दोना पत्तल,मिर्च मासाले, आटा चक्की, साबुन निर्माण, मिक्चर पैकेजिंग एवं चप्पल निर्माण यूनिट को देखकर बेहद प्रशंसा की। इस अवसर पर कलेक्टर श्री डोमन सिंह, बलौदाबाजार एसडीएम प्रतिष्ठा ममगाईं,जनपद सीईओ अनिल कुमार उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने पिछले दिनों सभी अधिकारियों को गौठानों का भ्रमण कर वहां संचालित गतिविधियों का जायजा लेने और गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए आवश्यक पहल करने के निर्देश दिए थे। इसी तारतम्य में आज मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन पुरैना खपरी के गौठान में पहुंचे। मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन ने गौठान में ग्रामीणों और महिला स्व-सहायता समूह की सदस्यों से चर्चा के बाद कहा कि गौठानों की व्यवस्था और अधिक मजबूत हो और लोगों को इससे फायदा हो। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा 07 अप्रैल से अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत अधिकारी गौठानों का भ्रमण कर वहां गतिविधियों का जायजा लेंगे और गौठानों की व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक मार्गदर्शन देंगे। जिले में उक्त कार्यक्रम गौठान चौपाल के नाम से आयोजित की जा रही है।मुख्य सचिव ने कहा कि वे इस अभियान के शुरू होने के एक दिन पहले ही गौठान में पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि पुरैना-खपरी गौठान में काम कर रहीं महिलाएं अपने काम से संतुष्ट हैं। उन्हें यहां से आमदनी भी हो रही है और सबसे बड़ी बात यह है कि ये महिलाएं होने वाली आमदनी का इस्तेमाल अपने रोजमर्रा के खर्च में न करके,अपने काम की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए कर रही हैं। इस मौके पर उन्होंने 500 रुपये देकर महिला स्व सहायता समूह के उत्पादो की खरीदारी की है। *गांव वालों के आग्रह पर माँ महामाया मंदिर में पहुँचकर लिया आशीर्वाद* चौपाल में चर्चा के दौरान ग्राम के सरपंच,उपस्थित ग्रामीण एवं महिलाओं ने मुख्य सचिव से कहा कि नवरात्रि चल रहा है। आज पंचमी का पावन दिन है। हमारे गांव के आराध्य माँ महामाया मंदिर का दर्शन करने आग्रह किया जिस पर श्री जैन ने आग्रह स्वीकार करतें हुए उन्होंने मंदिर पहुँचकर माँ महामाया माता का आशीर्वाद लिया। इस मौके पर गांव के सरपंच संतोषी ध्रुव,गौठान प्रबंधन समिति अध्यक्ष ओम साहू,एपीओ नरेगा केके साहू,एपीओ एनआरएलएम मुरली यदु सहित बड़ी सँख्या में ग्रामीण,स्थानीय जनप्रतिनिधि चारवाहा,कृषक,विभिन्न विभागों के अधिकारी कर्मचारी गण उपस्थित थे |

शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के सबरिया डेराओ में इन दिनों धड़ल्ले से बिक रही कच्ची महुआ शराब, नही हो रही कार्यवाही

शिवरीनारायण:-इन दिनों शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के देवरी,खोरसी,तुस्मा,कुरियारी,खरौद में अवैध महुआ शराब की बिक्री जोरों पर है। इसके बाद भी पुलिस व आबकारी विभाग मौन नजर आ रहा है, बताया जा रहा है कि इन दिनों शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के गांव में अवैध कच्ची महुआ शराब की बिक्री धड़ल्ले से की जा रही है वहीं थाना क्षेत्र के गावों में कच्ची महुआ शराब के लिए देवरी को प्रसिद्ध माना जाता है जहाँ इन दिनों गांव में प्रतिदिन 200 से 300 लीटर महुआ शराब का धड़ल्ले से अवैध परिवहन हो रहा है। शिवरीनारायण थाना पुलिस व आबकारी विभाग को इसकी जानकारी होने के बाद भी मौन नजर आ रहे है। क्योंकि पिछले दिनों में एक भी अवैध महुआ शराब की बड़ी कार्यवाही नहीं दिख रही है न ही किसी प्रकरण में किसी तरस्कार को जेल भेजा जा रहा हैं। जिसके कारण युवा व बड़े बुजुर्ग भी नशे की चपेट में हैं नशे में चूर होकर युवा तो अब अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। अवैध शराब की बिक्री से सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं को उठानी पड़ रही है। शाम होते ही चौक चौराहों में शराबियों का जमावड़ा लग जाता है जिससे महिलाओं का शाम को घर से बाहर निकलना अब मुश्किल हो रहा है शराब के नशे में चूर होकर शराबी गाली गलौज करते हुए जमकर उत्पात मचा रहे हैं। शराबियों ने शिवरीनारायण के काली मंदिर के पास घाट व अन्य सार्वजनिक स्थलों को नहीं बख्शा रहे है। शराब पीकर शराब की बोतलें सर्वजनिक स्थानों में शराब के पाउच झिल्ली को फेंक दिया जाता है। जिससे नगर व गांव के लोगों को साफ सफाई करने में काफी परेशानी हो रही है। यहां तक कि आबकारी विभाग या पुलिस विभाग की कार्यवाही होने से पहले शराब माफियाओं को उन तक जानकारी दे दी जाती है। हद तो तब हो गई है कि यहां की शराब बिक्री करने वाले खुलेआम बोलते हैं कि हम सभी की सेटिंग है हमारे ऊपर किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं हो सकती। सूत्रों से मिकी जानकारी के अनुसार तस्कर कहते है कि हमे पुलिस व आबकारी विभाग की आने की जानकारी पहले से मिल जाती हैं और हम अपना सामान उतने में छिपा लेते हैं। जिससे क्षेत्र में अब शराब का कारोबार लगातार बढ़ते ही जा रहा है अब देखना होगा इस खबर के प्रसारित होने के बाद उच्च अधिकारी किस प्रकार से संज्ञान में लेते हैं और कितने प्रकरण दर्ज करते हैं।

7-8 अप्रैल को होगा गौठान चौपाल का आयोजन,नोडल अधिकारी पहुँचकर लेंगे जायजा

समय सीमा के भीतर कार्यं करने के दिए निर्देश बलौदाबाजार,5 अप्रैल 2022/कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश पर गौठानो को स्वालंबन बनाने के उद्देश्य एवं गतिविधियों को और अधिक तेजी प्रदान करनें के लिए अब आगामी 7 एवं 8 अप्रैल को गौठान चौपाल का आयोजन किया जाएगा। जिमसें जिला स्तर से लेकर विकासखंड स्तर के अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त कर ड्यूटी लगाई गयी हैप। उक्त अधिकारी गोठन में पहुँचकर, पशुओं के लिए पानी,चारा की व्यवस्था, वर्मी कंपोस्ट निर्माण के लिए टाके की स्थिति, गौधन न्याय योजना का क्रियान्वयन,विक्रय एवं आजीविका की गतिविधियों का जायजा लेकर विस्तृत रिपोर्ट जिला कार्यालय को देंगे। इसके अतिरिक्त बाड़ी विकास चारागाह निर्माण का भी जायजा लेंगे। इसके लिए कलेक्टर डोमन सिंह ने आज समय सीमा की बैठक में विभिन्न विभागों के जिला अधिकारियों को विस्तृत दिशा निर्देश दिए है। साथ ही उन्होंने राज्य शासन की फ्लैगशिप योजनाओं को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पंहुचाने के निर्देश दिए है।मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना एवं फसल परिवर्तन में तेजी एवं गौठानो को अधिक सशक्त करनें के निर्देश दिए है। आने वाले समय मे संभावित मुख्यमंत्री प्रवास के तैयारियों की दृष्टि से विभिन्न विभागों के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि सभी विभाग अपने अपने फ्लैगशिप योजनाओं का शत प्रतिशत क्रियान्वयन करना सुनिश्चित करैंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री शहरी स्वास्थ्य स्लम योजना,पौनी पसारी,श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर, सुराजी गांव योजना,गौधन न्याय योजना,राजीव गांधी किसान न्याय योजना एवं उनका विस्तार,मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान,महतारी दुलार योजना,वन अधिकार पत्र वितरण जैसे अन्य योजनाओं का विस्तृत समीक्षा किए। उन्होंने कहा कि गौठानो को ग्रामीण आजीविका का सबसे महत्वपूर्ण केंद्र के रूप में विकसित करने के निर्देश दिए है। हमें इस हिसाब से भविष्य की योजना बनाकर समय सीमा के भीतर क्रियान्वयन करना होगा।बैठक में ग्राम जर्वे में संपन्न मुख्यमंत्री कार्यक्रम की घोषणा के क्रियान्वयन संबंध में जानकारी हासिल की गयी है। उक्त बैठक में सभी जनपदों से ऑनलाइन माध्यम से सभी एसडीएम,सीईओ एवं अन्य विभागों के अधिकारी गण जुड़े हुए थे। उक्त बैठक में अपर कलेक्टर राजेंद्र गुप्ता, डीएफओ के आर बढई सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी गण उपस्थित रहें। जिला कोषालय एवं जेल विभाग को किया गया सम्मानित आज बैठक में कलेक्टर डोमन सिंह ने जिला कोषालय अधिकारी के के दुबे को वित्तीय वर्ष 2021-22 के मार्च का लेखा रिपोर्ट महालेखाकार कार्यालय में छत्तीसगढ़ राज्य में सर्वप्रथम प्रस्तुत करनें पर एवं सहायक जेल अधीक्षक अभिषेक मिश्रा को जेल के भीतर गोधन न्याय योजना के सकारात्मक क्रियान्वयन हेतु श्रीफल एवं साल देकर सम्मानित किया गया।

जेल तक पहुँचा गौधन न्याय योजना,कैदियों ने तैयार किए 7 क्विटल वर्मी कंपोस्ट की पहली खेप

अब बेचने की तैयारी,25 क्विटल वर्मी कंपोस्ट कि दूसरी खेप जल्द ही,पोषण वाटिका का निर्माण युद्ध स्तर पर जारी बलौदाबाजार,4 अप्रैल 2022/राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना गौधन न्याय एवं सुराजी गांव योजना का दायरा अब जेल तक पहुँच गया है। जिले में एक और जहां इसका विस्तार बारनवापारा के अंचलों में किया जा रहा है वही दूसरी और इसका विस्तार अब जेल तक कर दी गयी है। अब इसके सकारात्मक परिणाम मिलने लगे है। कैदियों ने पहली खेप के रूप में 7 क्विटल वर्मी कंपोस्ट तैयार किए है। तैयार वर्मी कंपोस्ट को जेल प्रशासन के द्वारा ही खरीद ली जाएगी एवं इसका उपयोग जेल के भीतर बनाए जा रहे बाड़ी विकास के तहत पोषण वाटिका में किया जाएगा। इसके अतिरिक्त आने वाले कुछ दिनों में लगभग 25 क्विटल वर्मी भी तैयार हो जाएगा। कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश पर जेल के भीतर कैदियों को भी स्वरोजगार से जोड़ते हुए उन्हें वर्मी कंपोस्ट निर्माण,मशरूम उत्पादन एवं अन्य रोजगार मूलक गतिविधियों को प्रारंभ की गयी हैं। इसके तहत प्रथम चरण में 40- 40 चयनित कैदियों को वर्मी कंपोस्ट एवं पोषण बाड़ी निर्माण का प्रशिक्षण सतत रूप से दिया जा रहा है। इन्हीं कैदियों के द्वारा ही परिसर में ही अस्थायी टैंक द्वारा वर्मी कंपोस्ट का निर्माण किया गया है। साथ ही बाड़ी विकास के तहत पोषण वाटिका में साग भाजी का भी रोपण करनें की तैयारी की जा रही है। इस कार्य के पहले चरण में मिट्टी का पटाव कर प्रारंभिक तैयारी अब पूरी कर ली गयी है। वर्मी कंपोस्ट का प्रशिक्षण नगर पालिका परिषद बलौदाबाजार एवं पोषण बाड़ी का प्रशिक्षण उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों द्वारा दी जा रही है। इसके अतिरिक्त क्रेडा द्वारा 6 लाख 30 हजार रुपये का बायो गैस लगाने की तैयारी चल रही है। जिसका उपयोग यहां पर खाना बनाने में किया जाएगा। उक्त कार्य की स्वीकृति कलेक्टर डोमन सिंह के द्वारा दी गयी है। साथ ही नगर पालिका परिषद बलौदाबाजार द्वारा जेल के चारो तरफ ब्लॉक प्लांनटेंशन का भी कार्य किया जा रहा है। जिससे सुरक्षा एवं अतिरिक्त भूमि पर फलदार पेड़ लगाएं जाएंगे। परिसर के बाहर खाली पड़ी जमीन पर पशु पालन विभाग द्वारा चारागाह विस्तार हेतु नेपियर घास लगाने की तैयारी की जा रही। इन सभी कार्यो में सुरक्षा व्यवस्था को भी पूरी तरह नजर रखा जा रहा है।सहायक जेल अधीक्षक अभिषेक मिश्रा ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश एवं सतत मार्गदर्शन से गौधन न्याय योजना के तहत गतिविधियों को प्रारंभ किया गया है। मुझे बेहद खुशी है की इसके अब सकारात्मक परिणाम देखने मिल रहें है। मानसिक स्थिती में सुधार. मनोचिकित्सक डॉ राकेश प्रेमी ने बताया कि कैदियों को ऐसे प्रशिक्षण एवं कार्यो में लगाने से सकारात्मक सुधार उनके व्यवहार में होता है। उन्हें डिप्रेशन से बचाव एवं अच्छे इंसान बनने में मदद मिलती है।

टेंपल सिटी शिवरीनारायण में जुआ, सट्टा और शराब व गांजे का हो रहा अवैध कारोबार, पुलिस विभाग मौन

आशीष कश्यप शिवरीनारायण

अनदेखी: पुलिस की निष्क्रियता की वजह से शिवरीनारायण क्षेत्र में बढ़ रहा अपराध का ग्राफ:

शिवरीनारायण:-धार्मिक नगरी के नाम से मशहूर प्रसिद्ध नगरी शिवरीनारायण में इन दिनों जगह-जगह जुआ, सट्टा और शराब सहित गांजे की पुड़िया का अवैध कारोबार खुलेआम फल-फूल रहा हैं। नगर का ऐसा कोई कोना नही हैं जहां अवैध शराब की बिक्री न होती है। नगर के गलियों में सट्टा खेलने व खेलाने वालों की भीड़ लगी रहती हैं। वही गांजे की बात करें तो नगर के सेठी नगर (फोकटपरा) में ठेले के आड़ में खुलेआम गांजे की पुड़िया बेची जा रही हैं। नगर के महानदी तट पर पुलिस के सरंक्षण में महुआ शराब बेचा जा रहा हैं वही सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शिवरीनारायण नगर के रेस्ट हाउस के पास फल की दुकान के आड़ में और शिवरीनारायण थाना के मात्र 300 मीटर की दूरी पर ही एक मकान में शराब कोचिए के द्वारा शराब की घर पहुँच सेवा दी जा रही हैं। वही उस माफिया का पुलिस से तगड़ा सेटिंग हैं इसी कारण उस पर किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही की जा रही हैं। बात करें शिवरीनारायण पुलिस की तो शिवरीनारायण थाने में थाने की पुलिस टीम अपनी आँख को मूंद कर रखा हुए हैं। जानकारी होने के बाद भी शिवरीनारायण की पुलिस मुकदर्शक बनी बैठी हैं। पुलिस अवैध काम करने वालो को तब पकड़ती हैं जब उनसे मिलने वाला सहयोग पुलिस को नही मिलता। जब तक पुलिस को अवैध काम करने वालो से व्यवस्था मिलती रहती हैं। तब तक पुलिस वाले अवैध काम करने वालों की तरफ झांकती तक नहीं। शिवरीनारायण नगर के हर चौक-चौराहों पर शराब कोचिए बड़ी मात्रा में शराब की बिक्री कर रहे हैं। नगर के राम घाट, रेस्ट हाउस रोड, सेठी नगर, बस स्टैंड चौक, दैनिक बाजार के पास अवैध शराब की बिक्री बड़ी मात्रा में धड़ल्ले से हो रही हैं। इन शराब कोचियों से पुलिस वालों की तगड़ी सेटिंग हैं। हर माह पुलिस वालों के लिए शराब कोचियों द्वारा लिफाफा भेज दिया जाता हैं। जिस कारण शराब बेचने वाला डंके की चोट पर शराब बेच रहें हैं। यही हाल शिवरीनारायण के सट्टे का भी हैं। नगर के कोने-कोने में सट्टा पट्टी लिखने वालों की फौज जमी पड़ी हैं। हर जगह खाईवाल के गुर्गो सट्टा खेलने वालों के संपर्क में होते हैं। नगर में सट्टा का कारोबार हाइटेक हो गया हैं। खाईवाल ने अपने गुर्गो का नंबर सट्टा खेलने वाले लोगों को दे रखा हैं। जिस नंबर पर सट्टा लगाना हैं ग्राहक फोन से नंबर बता देता हैं। और खाईवाल के गुर्गे वह नंबर अपनी डायरी में लिख लेते हैं। शाम होते ही सभी सट्टा खेलने वालों से पैसा वसूली किया जाता हैं। वही गांजे की बात करें तो खुलेआम गांजा की बिक्री नगर में हो रही हैं पुलिस जानकर भी अनजान बनने में लगी हुई हैं।

कार्यवाही के नाम पर कांपते है पुलिस के हाथ सट्टा के कारोबार में बड़े-बड़े नाम शामिल हैं इस लिए खाईवालों को गिरफ्तार करने में पुलिस वालों के हाथ कांपते हैं। पुलिस खाईवालों से हप्ता लेने में ही व्यस्त नजर आती हैं। वही उच्च अधिकारी भी इस ओर ध्यान नही दे रहे हैं न ही किसी प्रकार की पुलिस विभाग इस क्षेत्र में कार्यवाही कर रही हैं।

त्रुटि वंश जारी कलेक्टर को नोटिस,एसडीएम ने मांगी माफी

बलौदाबाजार,1अप्रैल 2022/त्रुटि वंश जारी कलेक्टर को नोटिस मामले में भाटापारा एसडीएम लवीना पांडेय ने कलेक्टर डोमन सिंह को लिखित में अवगत कराते हुए माफी मांगी है। साथ ही भविष्य में इस तरह की पुनारावृत्ति नही होने उल्लेख किया है। उन्होंने इस संबंध में बताया कि ज्ञापन के स्थान पर टंकण त्रुटिवशं कारण बताओ नोटिस अंकित हो गया था।जिला कार्यालय से वन अधिकार पट्टा वितरण की जानकारी त्वरित मंगाई गई थी। जिसमें जानकारी तैयार करने में संबंधित लिपिक द्वारा टंकण में ज्ञापन के स्थान पर कारण बताओ नोटिरा अंकित कर दिया था। जो कि कॉपी पेस्ट था। मैं एक अति आवश्यक बैठक में व्यस्त होने के कारण हस्ताक्षर कर जानकारी प्रेषित कर दी थी। उक्त त्रुटि का संज्ञान आने पर तत्काल 2 मिनट के भीतर सुधार कर पुनः जानकारी प्रेषित किया गया। इस टंकण त्रुटि के संबंध संबंधित लिपिक से स्पष्टीकरण लिया गया। उन्होंने अपने लिखित जवाब में भूलवश ज्ञापन के स्थान में कारण बताओ नोटिस अंकित होना बताते हुए क्षमा याचना की है। उन्होंने आगें बताया कि मेरे द्वारा कार्यालयीन पत्र कमांक 302/अ.वि.अ./ वाचक-1/2022 भाटापारा दिनांक 31 मार्च 2022 को कार्य में अधिक व्यस्तता होने कारण हस्ताक्षर करना स्वीकार करते हुये तथा शीघ्र सुधार कर संशोधित ज्ञापन प्रेषित किया गया। इस संबंध में कलेक्टर को अवगत कराते हुए मेरे द्वारा भी क्षमा मांगी गई है। साथ ही इस तरह की गलती भविष्य में पुनारावृत्ति नही होने का उल्लेख कर लिखित माफी मांगी गयी है। भूलवंश त्रुटि-कलेक्टर कलेक्टर डोमन सिंह ने बताया कि यह गलती हम सभी के ध्यान में था। उन्होंने 2 मिनट में ही पत्र को ग्रुप से हटाकर नवीन जानकारी जिला कार्यालय को भेजी गयी थी। और पत्र को देखकर भी यह टंकण त्रुटि लगता है। उस पर उन्होंने मुझें व्यक्तिगत रूप से जानकारी देते हुए माफी भी मांगी है।

इस वर्ष 182 मिलियन टन कोयला उत्पादन के लक्ष्य के साथ उतरेगी टीम एसईसीएल मैदान में वर्ष 2021-22 में उपभोक्ताओं को 155 मिलियन टन से अधिक कोयले की आपूर्ति, कोरोना काल के बीच कम्पनी द्वारा अब तक का दूसरा सर्वाधिक डिस्पैच दर्ज

सीएमडी डॉ. प्रेम सागर मिश्रा के नेतृत्व में टीम एसईसीएल ने नए वित्तीय वर्ष 2022-23 में 182 मिलियन टन कोयला उत्पादन का महात्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित करते हुए सरगर्मी तेज कर दी है। आज वित्तीय आरंभ के साथ ही उन्होंने मुख्यालय में कम्पनी स्तरीय श्रमिक संगठन प्रतिनिधित्व संचालन समिति के साथ भी बैठक की। कम्पनी के इस महत्वपूर्ण लक्ष्य में गेवरा, दीपका तथा कुसमुण्डा मेगा प्रोजेक्ट की महत्वपूर्ण भूमिका होगी तथा सकल रूप से ये तीनों परियोजनाएँ एसईसीएल के कुल उत्पादन का लगभग दो तिहाई हिस्सा जुटायेंगी। गेवरा को 52 मिलियन टन, दीपका को 38 मिलियन टन, कुसमुण्डा 45 मिलियन टन तथा भूगर्भीय भण्डार से भरे मांड-रायगढ़ कोलफील्ड्स की रायगढ़ एरिया को 15.5 मिलियन टन का उत्पादन लक्ष्य दिया गया है। सकल रूप से कम्पनी के लगभग 21 खुली खदानों से 169 मिलियन टन तथा लगभग 46 भूमिगत खदानों से 13 मिलियन टन वार्षिक उत्पादन की योजना बनाई गयी है। कम्पनी ने वित्तीय वर्ष के दौरान 3 नयी परियोजनाओं के विकास के प्रति भी आशान्वित है जिनमें रामपुर बटुरा ओपनकास्ट, अम्बिका ओपनकास्ट तथा केतकी भूमिगत खदान शामिल है। केतकी भूमिगत खदान कोलइण्डिया के एमडीओ मोड पर अनुमोदित पहली भूमिगत खदान परियोजना है। वित्तीय वर्ष में इन्फ्रास्ट्रक्चर सहित विभिन्न क्षेत्रों में पूँजीगत निवेश के लिए 5200 करोड़ का केपिटल बजट अनुमोदित किया गया है। इसमें रेल कॉरीडोर परियोजनाओं के विकास के लिए 1800 करोड़ का पूँजीगत व्यय शामिल है। कम्पनी अपने मेगा प्रोजेक्ट सहित संचालन क्षेत्रों में फर्स्ट माईल कनेक्टिविटी (एफएमसी) परियोजनाएँ विकसित कर रही है जिसके जरिए खदान से ही इको-फ्रेंडली तरीके एवं त्वरित रूप से उत्पादित कोयले को उपभोक्ताओं तक भेजा जा सकेगा। इसके लिए रैपिड लोडिंग सिस्टम तथा साईलों की व्यवस्था अपनाई जा रही है। दिनांक 31 मार्च 2022 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में कम्पनी ने कोरोना काल के चुनौतियों के बीच 155.71 मिलियन टन कोयला उपभोक्ताओं को प्रेषित किया जो कि कम्पनी के स्थापना काल से दूसरा सबसे बड़ा डिस्पैच का आँकड़ा है। कम्पनी का यह डिस्पैच पिछले वित्तीय वर्ष से लगभग 17 मिलियन टन (लगभग 12 प्रतिशत वृद्धि) अधिक है। इस वर्ष कम्पनी द्वारा पावर सेक्टर 129.29 मिलियन टन कोयला उपलब्ध कराया गया जो कि ऐतिहासिक है। गत वित्तीय वर्ष अप्रत्याशित मानसून तथा कोरोना की दूसरी लहर की चुनौतियों के बीच भी कम्पनी 142.51 मिलियन टन उत्पादन दर्ज करने में सफल रही। एक महत्वपूर्ण उपलब्धि में कम्पनी ने पिछले वर्ष से सकारात्मक वृद्धि दर्ज करते हुए 196.88 मिलियन क्यूबिक मीटर ओव्हरबर्डन रिमूव्हल (अधिभार निष्कासन) किया है जिसका पूर्ण लाभ इस वर्ष कोयला उत्पादन में भी मिलेगा। गत 28 फरवरी को लगभग 8 लाख क्यूबिक मीटर अधिभार निष्कासित कर एसईसीएल ने एक दिन में अब तक के सर्वाधिक ओबी रिमूव्हल का कीर्तिमान भी बनाया। कुसमुण्डा जैसे मेगा परियोजनाओं में इसका प्रत्यक्ष लाभ देखने को मिला है। मेगा परियोजनाओं में गेवरा एरिया ने गत वर्ष से 18.72 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए 44.98 मिलियन टन तथा दीपका परियोजना ने 24.33 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए 36.90 मिलियन टन का अपना एक वर्ष में सर्वाधिक कोयला डिस्पैच का रिकार्ड दर्ज किया। कम्पनी के भटगांव एवं जोहिला एरिया ने कोल उत्पादन तथा आफटेक के अपने लक्ष्यों को पूरा किया वहीं कोरबा एरिया ने वर्ष 2021-22 के ओबीआर लक्ष्य को सफलतापूर्वक प्राप्त किया। कोरबा एरिया की ही सरायपाली माईन ने अपने पहले उत्पादन वर्ष में ही उत्कृष्ठ परिणाम देते हुए अपने पर्यावरणीय स्वीकृति की सीमा 14 लाख टन तक कोयला उत्पादन करने में सफलता पाई। भूविस्थापितों को वर्ष 2021-22 में भू-मुआवजा के रूप में लगभग 180 करोड़ रूपये प्रदान किए गए तथा 186 रोजगार भी दिए गए। कम्पनी को गत वित्तीय वर्ष के माह-फरवरी 2022 तक 600 हेक्टेयर से अधिक की भूमि अधिग्रहित करने में भी सफलता मिली है। पर्यावरणीय स्वीकृति के लिहाज से गत वर्ष गेवरा ओपनकास्ट (49 एमटीपीए), आमाडांड ओसी (4 एमटीपीए), कंचन ओसी (2 एमटीपीए) तथा अम्बिका ओसी (1 एमटीपीए) को इन्वायरमेंट क्लियरेंस वहीं दीपका ओसी (133.7 हेक्टेयर) तथा अम्बिका ओसी (6.2 हेक्टेयर) के फारेस्ट क्लियरेंस भी प्राप्त हुई है। सीएसआर के अंतर्गत कम्पनी ने बेरोजगार/सुविधाओं से वंचित युवाओं के स्कील डेव्हलपमेंट की दिशा में नूतन प्रयास किया है। सेन्ट्रल इन्सटिट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नॉलॉजी (सी-पेट) के रायपुर एवं कोरबा केन्द्रों में 520 ऐसे युवाओं को कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसमें से एसईसीएल के संचालन क्षेत्रों में रहने वाले 300 युवाओं का प्रशिक्षण शुरू कर दिया गया है। नई तकनीक का समावेश करते हुए गत वर्ष कुसमुण्डा सीएचपी के दूसरे फेस अंतर्गत चारों साईलो की कमिशनिंग की गयी है। ये फर्स्ट माईन कनेक्टिविटी की परियोजनाएँ हैं। दीपका, गेवरा एवं कुसमुण्डा मेगा परियोजनाओं में 1000 टीपीएच क्षमता के सेमी मोबाईल क्रशर संचालित किए गए हैं, वहीं कुल 20 नए विभागीय टीपर की भी कमिशनिंग की गयी है। कम्पनी के बैकुण्ठपुर क्षेत्र के चरचा आरओ भूमिगत खदान में हायरिंग आधार पर कान्टिन्यूअस माईनर के 2 सेट तथा कोरबा एरिया के रजगामार 6 एवं 7 भूमिगत खदान में 1 सेट कान्टिन्यूअस माईनर को नियोजित करने हेतु एसईसीएल बोर्ड ने स्वीकृति दे दी है। सूदुर अंचलों में रेल परिवहन पथ के निर्माण तथा वहाँ के कोलफील्ड्स से उत्पादित कोयले के त्वरित डिस्पैच के उद्धेश्य से विकसित की जा रही एसईसीएल की दो अनुषंगी दो रेल कॉरीडोर परियोजनाओं ने महत्वपूर्ण माईन स्टोन हासिल किए हैं। इनमें ईस्ट रेल कॉरीडोर के घरघोड़ा व धर्मजयगढ़ स्टेशन से कोयले से भरे पहले रेल रेक को विद्युत संयंत्रों तक भेजा जाना, घरघोड़ा-भालूमाड़ा सिंगल लाईन को संचालन के लिए खोल देना आदि उल्लेखनीय है। नए वित्तीय वर्ष 2022-23 में एसईसीएल के लिए डिस्पैच का लक्ष्य भी 182 मिलियन टन रखा गया है, वहीं कम्पनी को 280 मिलियन क्यूबिक मीटर का अधिभार निष्कासन करना है। एसईसीएल के सीएमडी डॉ. प्रेस सागर मिश्रा व निदेशक मण्डल द्वारा विभिन्न क्षेत्रों के निरंतर दौरों तथा स्थानीय कोर टीम से चर्चा के आलोक में यह बात स्पष्ट हो जाती है कि एसईसीएल टीम इस वर्ष के शुरूआत से ही दैनिक आधार पर उत्कृष्ठ कार्यनिष्पादन का प्रयास करेगी।