छत्तीसगढ़

बिलासपुर-नईदिल्ली सुपरफास्ट स्पेशल 438 यात्रियों के साथ बिलासपुर से रवाना

रेलवे बोर्ड के दिशानिर्देशानुसार अनुसार 12 मई 2020 से 15 जोड़ी गाड़ियों का परिचालन नई दिल्ली से देश के विभिन्न क्षेत्रों में किया जा रहा है। गाडी संख्या 02442/02441 नई दिल्ली-बिलासपुर-नई दिल्ली स्पेशल सुपरफास्ट एक्सप्रेस का परिचालन भी किया जा रहा है। इस गाड़ी का परिचालन नई दिल्ली से प्रत्येक मंगलवार व शनिवार तथा बिलासपुर से प्रत्येक सोमवार व गुरुवार को किया जा रहा है। आज दिनांक 14 मई गुरूवार को गाडी संख्या 02441 बिलासपुर से नई दिल्ली के लिये दोपहर 02.40 बजे प्लेटफार्म 07 से रवाना हुई। इस गाडी में बिलासपुर से 438 यात्री सवार हुये। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु सुरक्षा के सभी मानकों के अनुपालन हेतु इस गाडी में यात्रा करने वाले सभी यात्रियों को सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ टिकट चेकिंग उपरांत स्क्रीनिंग व स्वास्थ्य परीक्षण के साथ ट्रेन में सुरक्षित प्रवेश कराने के सारे प्रबंध रेलवे प्रशासन द्वारा योजनाबद्ध तरीके से किये गये थे। साईं मंदिर के पास पार्सल आफिस का प्रवेश द्वारा तथा साईं मंदिर के आगे वरि.अनुभाग अभियंता(कार्य) उत्तर के कार्यालय के पास स्थित जीरो गेट से इस गाडी में यात्रा करने वाले सभी यात्रियों के स्टेशन में प्रवेश का प्रबंध किया गया था। यात्रियों के मार्गदर्शन हेतु दोनो प्रवेश द्वार में वाणिज्य विभाग के कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई थी। इन दोनों प्रवेश द्वार से यात्रियों को सोशल डिस्टेन्सिंग व मास्क के साथ टिकट चेकिंग कर्मचारियों द्वारा टिकट चेकिंग उपरांत स्टेशन में प्रवेश दिया गया। सभी को बेरिकेटिंग व मार्किंग के साथ लाइन बनाकर स्वास्थ्य परीक्षण काउंटर तक ले जाया गया। इन काउंटरों में सभी 438 यात्रियों का बारी-बारी से थर्मल स्क्रीनिंग व अन्य परीक्षण किया गया। इसके पश्चात् सभी यात्रियों को वाणिज्य विभाग व सुरक्षा विभाग के कर्मचारियों के मार्गदर्शन में ट्रेन में प्रवेश कराया गया। उपरोक्त सभी व्यवस्थायें मंडल रेल प्रबंधक आलोक सहाय के मार्गदर्शन में किया गया। सभी व्यवस्थाओं के बेहतरीन क्रियान्वयन हेतु स्टेशन में वरि.मंडल वाणिज्य प्रबंधक पुलकित सिंघल, मंडल सुरक्षा आयुक्त ऋषिकुमार शुक्ला, मंडल वाणिज्य प्रबंधक किशोर निखारे, डा. अभिषेक के अलावा मेडिकल की टीम, वाणिज्य विभाग की टीम , सुरक्षा विभाग की टीम व सिविल डिफेंस के कर्मचारी उपस्थित थे।

नवनिहालों को मिलेगा पक्की छत का आसरा

बीजापुर- बीजापुर जिला मुख्यालय से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर बसा गांव कडेनार। सलवा जुलूम के दौरान 2005 में नक्सली दहशत और उत्पात से यह गांव भी अछूता ना रहा। मावोवादियों ने यहां के शासकीय भवनों को क्षतिग्रस्त कर दिया था। जिस आंगनबाड़ी भवन में कभी बच्चों की हँसी ठिठोली गूंजती थी, वह दशको तक आगंतुकों के लिए भय का पर्याय बन गया था। यह भवन भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। लेकिन समय बदल रहा है, ग्राम पंचायत कडेनार में 2 नग आंगनबाड़ी निर्माण का कार्य पूर्णता पर है। जहाँ बहुत जल्द बच्चो की हँसी और गर्भवती माताओं की ममता की छटा बिखरेगी। इस कार्य का श्रेय जाता है महात्मा गांधी नरेगा योजना और महिला बाल विकास विभाग के आपसी तालमेल को। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत पोषण चंद्राकर ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की महात्मा गांधी नरेगा योजना के अधोसंरचना मद और महिला बाल विकास विभाग के एकीकृत बाल विकास परियोजना मद के अभिसरण से ग्राम पंचायत कडेनार में 6.45 लाख की लागत से 2 नग आंगनबाड़ी केन्द्र क्रमशः मडियंम पारा कडेनार और इसके आश्रित ग्राम चेरकंटी के स्कूल पारा में स्वीकृत किये गए हैं। दो विभागों के तालमेल से बनने वाले इन भवनों की उपयोगिता का अंदाजा इसी बात से ही लगाया जा सकता है कि यह दोनों भवन पूर्णता पर है। इनमें अभी रंगरोगन का कार्य चल रहा है। बच्चें अपनी नई बिल्डिंग को रंगरोगन होता देख उत्सुकतावश पास आकर निहारते रहते हैं। स्कूल पारा कडेनार की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती सुमित्रा दुर्गम बताती हैं कि आंगनबाड़ी भवन नहीं होने के कारण हम लोग अभी आंगनबाड़ी को किराए के कच्चे मकान पर लगाते आ रहे थे। वर्तमान में हालांकि लॉक डाउन के चलते पोषक आहार घर घर पहुँचा कर दे रहे हैं। किराये के कच्चे मकान में बारिश के दिनों में बहुत तकलीफ होती है। भवन मिल जाने से हम लोगों को बहुत सहूलियत होगी। अभी हमारे आंगनबाड़ी में 6 माह से 3 वर्ष तक के 40 व 3 से 6 वर्ष तक के 35 बच्चें हैं। इनके अलावा गर्भवती माता 3, पोषक माता 5 और शाला त्यागी बालिका 13 हितग्राही हैं।

शासन के नियमों का उड़ाया जा रहा है धज्जियां,ग्राम पंचायत घिवरा के रोजगार सहायिका के भाई कि दंबगाई,एक सप्ताह से अधिक बीत जाने पर भी नहीं लगा सूचना बोर्ड

हेमंत जायसवाल @BBN24 जांजगीर-चांपा :- आज विश्व वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से जुझ रहा है,ऐसे मे छत्तीसगढ सरकार द्वारा रोजगार गारंटी योजना के तहत कार्य करवाने से प्रत्येक गांव के ग्रामीणो के लिये सुनहरा अवसर प्रदान कर रहे है। प्रशासन ने कार्य करवाने के साथ- साथ नियम कानून भी लागू किया है मगर वही पर कुछ ऐसे ग्राम है जहां पर कार्य तो करवाया जा रहा है मगर वहा पर नियमो को ताक मे रख कर कार्य करवाया जा रहा है। ऐसे ही ताजा मामला जाँजगीर -चाँपा जिला के जैजैपुर जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत घिवरा का है जहां पर रोजगार गारंटी योजना के तहत मनरेगा के तहत तालाब गहरीकरण का कार्य चलाया गया है, जहां पर एक सप्ताह से अधिक हो गया कार्य चालू है, लेकिन रोजगार सहायिका द्वारा शासन के नियमों को ताक पर रखकर काम कराया जा रहा है।। एक सप्ताह से अधिक बीत जाने पर भी नहीं लगा सूचना बोर्ड, जहां शासन का सख्त निर्देश हैं कि कोई भी शासकीय कार्य करने से पहले सूचना बोर्ड लगाया जाये लेकिन एक सप्ताह से अधिक बीत जाने के बाद भी रोजगार सहायिका द्वारा अब तक सूचना बोर्ड नहीं लगाया गया है, जब इस संबंध में रोजगार सहायिका से पुछा जाता है तो उसके भाई द्वारा दंबगाई किया जाता है, उसके भाई द्वारा महिलाओं से अभद्र व्यवहार किया जाता है, साथ ही अपनी पहुँच उच्च अधिकारियों तक बताता है।। वहीं मनरेगा में काम शुरू किये लगभग एक सप्ताह हो गया है लेकिन रोजगार सहायिका की घोर लापरवाही सामने आ रही है,उनके द्वारा अभी तक शासन के नियमों के अनुसार जो बुनियादी सुविधाएं पानी,फर्स्ट कीट कि व्यवस्था है उनके द्वारा नहीं किया गया है, इनके द्वारा ग्रामीणों के जान से खिलवाड़ किया जा रहा है, वहीं ग्रामीण बिना मास्क के काम करते नजर आ रहे हैं। रोजगार सहायिका के भाई की दंबगाई,उच्च अधिकारियों तक पहुंच, वहीं नाम नहीं छापने कि शर्त में ग्रामीणों ने बताया कि रोजगार सहायिका का सार काम उसके भाई द्वारा ही किया जाता है,जबकि शासन का सख्त निर्देश हैं कि जो पद में हैं वहीं कार्य करें और जब उनसे कुछ पुछा जाता है तो रोजगार सहायिका के भाई द्वारा अभद्र व्यवहार करते हुए अपनी उच्ची पहुंच दिखाया जाता है।। वहीं सूचना बोर्ड सहित बुनियादी सुविधा नहीं होने के संबंध में जब मीडियाकर्मियों ने रोजगार सहायिका से जानना चाहा तो उनका भाई उल्टा भड़क गये और बोलने लगे जो छापना हैं छाप लो, मेरी पहुंच उच्च अधिकारियों तक हैं मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकते, रोजगार सहायिका के भाई के बर्ताव से स्पष्ट है कि कहीं न कहीं उन्हें उच्च अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है तभी उनका हौसला बुलंद है।। यह देखना होगा कि मीडिया में खबर प्रकाशित होने के बाद अधिकारियों रोजगार सहायिका को खाली नोटिस थमाकर औपचारिकता निभाते हैं कि उनपर कोई कार्यवाही कि जाती है।। *अगर इसतरह का मामला है तो रोजगार सहायिका को नोटिस जारी कर जवाब मांगा जायेगा* *लहरे (सीईओ)* *जनपद पंचायत जैजैपुर*

ग्राम सोंडका का डैम चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट

खरसिया ब्लाक अंतर्गत ग्राम सोंडका में जल ग्रहण के अंतर्गत बनने वाली स्टॉप डेम जो कि शासकीय अधिकारी द्वारा अभी से ही शासन के नियमों को ताक में रखकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है डैम का काम चालू हुए लगभग एक सप्ताह हो जाने के बाद भी ना ही नागरिक सूचना बोर्ड लगाया गया है और ना ही कार्य स्थल पर मास्टर रोल कार्य पंजी रहती है, और मजे की बात यह है की बिना विभाग की अनुमति लिए विशालकाय वृक्ष को जेसीबी से गिरा दिया गया जो कि पर्यावरण के लिए घातक सिद्ध होगा इस निर्माण से जुड़े कार्य करने वाले जल ग्रहण के अधिकारी, पटेल जी, रामानंद गुप्ता, एवं उत्तम द्वारा दूरभाष से संपर्क करने पर गोलमोल जवाब दिया जा रहा जो कि यह अपने आप में भ्रष्टाचार की ओर इंगित करता है

अब छत्तीसगढ़ में नहीं होंगी दसवीं और बारहवीं कक्षा की बची हुई परीक्षाएं, बोर्ड ने लिया फैसला

रायपुर छत्तीसगढ़ में दसवीं और बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों की बची हुई परीक्षाएं नहीं होंगी। इस बात का फैसला छत्तीसगढ़ बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने लिया है। छत्तीसगढ़ बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने लॉकडाउन की वजह से स्थगित हुई दसवीं और बारहवीं कक्षा की बची हुई परीक्षाओं को आयोजित नहीं करने का फैसला लिया है। विद्यार्थियों को दसवीं और बारहवीं कक्षा की बची हुई परीक्षाओं के अंक आतंरिक मूल्यांकन के आधार पर दिए जाएंगे। इस बात की जानकारी छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव वीके गोयल ने दी। वीके गोयल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में दसवीं और बारहवीं बोर्ड की बची हुई परीक्षाओं को आयोजन नहीं कराया जाएगा।

विधायक ने जिले में प्रगतिरत निर्माण कार्यों की बैठक ली निर्माण कार्यों में तेजी लाते हुए गुणवत्ता लाए - मंडावी

बीजापुर - आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में विधायक एवं बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विक्रम शाह मंडावी ने निर्माण कार्यों की समीक्षा की। स्थानीय विधायक मंडावी ने निर्माण एजेंसी को आवश्यक निर्देश देते हुए कहा कि निर्माण कार्यों में कोई लापरवाही नहीं हो और निर्माण कार्य शुरू करने से पहले उसका रूप रेखा का ध्यान रखें। विक्रम ने कहा कि निर्माण कार्यों में तेजी लाते हुए गुणवत्ता के साथ समय सीमा में पूर्ण करने को कहा। विधायक विक्रम शाह मंडावी एवं कलेक्टर के डी कुंजाम ने जिले में प्रगतिरत निर्माण कार्यों में तेजी के साथ समय पर पूरा करने के दिशा निर्देश दिए गए। विधायक ने विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए बासागुड़ा, संगमपल्ली, ईटपाल गंगालूर पिंकोड़ा से लेकर जिले में चल रहे विभिन्न विकास कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने सड़क निर्माण के साथ ही पुल पुलिया भी बनाने के निर्देश दिए। ताकि यह के ग्रामीण अंचलों के लोगो का बारिश के दिनों में भी आवागमन हो सके। मंडावी ने कहा कि बीजापुर के लोगो को किसी प्रकार की समस्या न हो इसका विशेष ध्यान रखे। उन्होंने कहा कि वर्तमान पूरे देश में कोराना वायरस महामारी से जूझ रहा है इसका भी सोशल डिस्टेंट ध्यान रखने के लिए कहा। के डी कुंजाम ने भी जिले चल रहे विकास कार्यों में तेजी लाने को कहा। उन्होंने आरईएस, पीडब्लूडी एवं पीएमजीएसवाय अधिकारियों को बारिश से पहले प्रगतिरत निर्माण कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिए गए।

शराबबंदी को लेकर भाजपा का घरों में धरना प्रदर्शन रहा फ़्लॉप शो - ज्योति कुमार

बीजापुर - शराबबंदी को लेकर भाजपा द्वारा मंगलवार को एक दिवसीय प्रदेश स्तरीय धरना प्रदर्शन के आह्वान पर बीजापुर ज़िले में एक भी कार्यकर्ता इस धरना प्रदर्शन में शामिल होना तो दूर इस प्रदर्शन में भाजपा के कार्यकर्ता प्रदर्शन करते कही पर भी दिखाई नही दिए और घर में रहकर करने वाले इस प्रदर्शन से दूर रहे और घरों में रहकर प्रदर्शन करने का प्लान बीजापुर के साथ साथ पूरे छत्तीसगढ़ प्रदेश में पूरी तरह फ़्लॉप शो रहा। शराब बंदी का राग अलापने वाली भाजपा पंद्रह साल सत्ता में थी उस वक़्त भाजपा के लोग क्या कर रहे थे ? जब प्रदेश की भूपेश सरकार द्वारा शराबबंदी के लिए समिति गठित की तो शराबबंदी समिति का विरोध किए असल में ये भाजपा के दोहरा चरित्र को दर्शाता है भाजपा तब भी नही चाहती थी और अब भी नही चाहती है कि प्रदेश में शराबबंदी हो उल्टे कोरोना काल में केंद्र की मोदी सरकार ने शराब दुकानों को खोलने की अनुमति भी दे दी भाजपा का यह दोहरा चरित्र बीजापुर की जनता समझ चुकी है अब बीजापुर ज़िले की जनता भाजपा को पूरी तरह नकार चुकी है और भाजपा का जिले में कोई जनाधार नही है इसलिए भाजपा के कार्यकर्ता भी भाजपा के बड़े नेताओं के अवहान पर धरना प्रदर्शन से बच रहे है। छत्तीसगढ़ प्रदेश में जब से भूपेश बघेल की सरकार बनी है तब से प्रदेश का हर वर्ग ख़ुश है।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहूॅची भाटापारा , 12 सौ श्रमिक रेल्वे स्टेशन मे उतरे और प्रशासन ने बसो के माध्यम से भेजा अपने-अपने गृहग्राम जिला

भाटापारा 13 मई 2020/ उत्तर प्रदेश के लखनऊ से राज्य के श्रमिकों को लेकर रेलगाड़ी भाटापारा स्टेशन पहुंची। तीन जिलों के करीब 1200 मज़दूर भाटापारा स्टेशन में उतरे। इनमें आधे से ज्यादा लगभग 800 मज़दूर बेमेतरा जिले, 359 कबीरधाम और 41 बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के थे।

बिलासपुर छत्तीसगढ़ राजधानी ट्रैन पहुची

लॉक डाउन के दौरान 45 दिनों बंद रहने के बाद राजधानी एक्सप्रेस आज बुधवार की दोपहर को बिलासपुर पहुंची। इस ट्रेन से 850 यात्री बिलासपुर पहुच। बिलासपुर स्टेशन पर उनकी अगवानी के लिए जिला एवं पुलिस प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अलावा रेलवे के अधिकारी एवं जीआरपी के जवान व अधिकारी पूरी मुस्तैदी से मौजूद थे। बिलासपुर समेत राज्य के विभिन्न जिलों से इस ट्रेन में आने वाले यात्रियों को उनके अपने जिलों में भेजने के लिए स्टेशन के बाहर घंटों पहले से ही बसें लगाई गई थी।इन सब को औपचारिक स्वास्थ्य जांच के पश्चात बेहद सावधानी से इन बसों में उनके अपने-अपने जिलों के लिए ता बसों में व्यवस्थित रूप से बिठाने के बाद रवाना करने की व्यवस्था की जा रही है।

जिला सीईओ ने अन्दुरुनी पंचायत कडेनार के निर्माण कार्यो का किया निरीक्षण- बीजापुर

बीजापुर- बीजापुर विकासखंड की अन्दरूनी ग्राम पंचायत कडेनार में चल रहे महात्मा गांधी नरेगा के कार्यो का मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत पोषण चंद्राकर ने निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान योजना से जुड़े अधिकारी एवं मैदानी अमलो कार्य की गुणवत्ता बनाये रखने के लिए निर्देशित किया। जहां कभी नक्सली दहशत के चलते निर्माण कार्य बंद पड़े थे। किन्तु ग्रमीणों की मांग पर विगत 2 वर्षों से महात्मा गांधी नरेगा अंर्तगत कार्य स्वीकृत कर कराये जा रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान महात्मा गांधी नरेगा योजना यहाँ के जाबकार्डधारी परिवारों के लिए मददगार साबित हुई। जिला सीईओ ने पंचायत में योजना से बन रहे आंगनबाड़ी केंद्र, मतस्य पालन तालाब अनाज गोदाम का निरीक्षण किया। उन्होंने योजना से जुड़े कर्मचारियों को कहा कि वर्तमान समय मे गांव में काम की कमी नही होनी चाहिए । गांव के जाबकार्डधारी परिवारों को आशिक से अधिक मांग आधारित कार्य उपलब्ध कराए । कार्य स्थल पर हाथ धुलाई की व्यवस्था के साथ प्रत्येक मजदूरों के बीच फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन अनिवार्य रूप से किये जायें साथ ही मास्क अथवा गमछे से मुँह ढके रहने पर ही मजदूरों को काम पर लगाया जाए।

नमक पर मुनाफाखोरी

दो दुकानदारों पर लगाया पांच पांच हजार रुपए का जुर्माना, नमक अधिक कीमत पर बेचने वालों के खिलाफ जिला प्रशासन सख्त जांजगीर-चांपा,13 मई, 2020/ आज अधिकतम खुदरा मूल्य से अधिक कीमत पर नमक बेचने वाले दो दुकानदारों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की गई। इन मुनाफाखोर दुकानदारों से पांच- पांच हजार रुपए का जुर्माना वसूली की कार्रवाई की गई। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक को जिले के कुछ किराना दुकानदारों द्वारा नमक का विक्रय अधिकतम खुदरा मूल्य से अधिक कीमत पर नमक का विक्रय करने की शिकायत मिली थी। कलेक्टर ने इसे गंभीरता से लेते हुए ऐसे मुनाफाखोर दुकानदारों के यहां आकस्मिक जांच कराई गई। कलेक्टर ने जांच के लिए राजस्व, खाद्य, पुलिस और नापतोल विभाग के अधिकारियों की संयुक्त टीम का गठन किया। जांच टीम ने आज शिवरीनारायण के सुरेंद्र किराना स्टोर, प्रदीप किराना स्टोर , गणेश किराना स्टोर, हेमन्त किराना स्टोर , लखन किराना स्टोर , योगेश किराना स्टोर, बाला जी किराना स्टोर में अधिकारियों में से ग्राहक बनाकर नमक खरीदने के लिए भेज कर जांच की। इस जांच में सुरेन्द किराना स्टोर शिवरीनारायण, पामगढ के मनोज किराना स्टोर को अधिकतम फुटकर कीमत से अधिक मूल्य में नमक बेचते पाया गया। इन दोनों दुकानदारों के विरुद्ध विधिक माप विज्ञान( पैकेज में रखी वस्तुएँ) नियम 2011 के नियम 18 (2) के अनुसार पांच-पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया । संयुक्त जांच दल द्वारा जिले के राहोद के भगवानी चंदेल किराना स्टोर, सुनील अग्रवाल किराना स्टोर, रुपनाथ योगी किराना स्टोर, ओमीसेठ किराना स्टोर में भी जांच की गई। जिला प्रशासन द्वारा जिले में जहाँ भी अधिक दर पर नमक बेचने की शिकायत प्राप्त हो रही है, वहां तत्काल जांच की कार्रवाई की जा रही है। कलेक्टर ने जिले के किराना दुकानदारों को हिदायत दी है कि वे आम उपभोक्ताओं को नमक की तय अधिकतम कीमत पर ही विक्रय करें। अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहें।

स्वाभिमान संस्थान की प्रदेश स्तरीय बैठक 18 मई को, ऑनलाइन उपस्थिति भी दर्ज होगी

रायपुर। शासन से मान्यता प्राप्त छत्तीसगढ़ स्वाभिमान संस्थान की लॉकडाउन के पश्चात दिनांक 18 मई को संस्था के प्रशासनिक कार्यालय में आयोजित की गई है। जल, जंगल व जमीन के लिए कार्यरत संस्थान अब पूरे प्रदेश में अपने संगठन का विस्तार करेगी। बैठक में संगठन के स्वरूप व कार्ययोजना तथा वर्तमान में जारी वैश्विक महामारी संकट कोविद 19 के विषय में चर्चा हेतु यह बैठक आहूत की गई है। बैठक में प्रदेश के उत्थान के लिए काम करने के प्रदेशभर के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत समस्त सेवाभावी महानुभावों को इस बैठक में आमंत्रण है। बैठक की सबसे खास बात यह है कि इसमें ऑनलाइन उपस्थिति भी दर्ज की जा सकेगी। संस्थान के अध्यक्ष डॉ. उदयभान सिंह चौहान ने एक विज्ञप्ति में बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के लिए संघर्ष करने वाले संगठन को राज्य निर्माण पश्चात दिसंबर 2000 को छत्तीसगढ़ स्वाभिमान संस्थान में विलय कर दिया गया था। इस संस्थान के गठन का मुख्य उद्देश्य छत्तीसगढ़ राज्य में शासन व जनता के मध्य सेतु के रूप में कार्य करना है। विभिन्न सामाजिक व जल-जंगल-जमीन, विशेषकर आदिवासी समुदायों के मुद्दों पर संस्थान ने सार्थक व सक्रिय भूमिका का निर्वहन करती आ रही है। डॉ. चौहान ने आगे कहा कि प्रदेश में छत्तीसगढ़िया संस्कारों के लिए काम करने के लिए अनुकूल स्थितियां निर्मित हुई हैं। अतः अब प्रदेश की छत्तीसगढ़िया पहचान को विस्तार देने के उद्देश्य से जिला इकाई का गठन कर जमीनी स्तर पर प्रदेश सरकार के साथ कदम से कदम मिला कर काम करेंगे। बैठक दिनांक 18 मई, 2020, दिन- सोमवार समय- दोपहर 12 बजे स्थान- प्रशासनिक कार्यालय, शहीद भगत सिंह चौक, मिस्ट्री कैफे के बाजू, भाठागांव रोड, टिकरापारा, रायपुर संपर्क सूत्र- 9329103105, 9111292955 (कार्यालय अवधि प्रातः 8 बजे से सायं 4 बजे तक) आदेश ठाकुर संयोजक, छत्तीसगढ़ स्वाभिमान संस्थान

भाटापारा विधायक शिवरतन शर्मा बैठे धरने पर , पुरे भाटापारा 30 अलग अलग स्थानो पर 4-4 सदस्य हुए धरना प्रदर्शन मे सामिल और किया कांग्रेस सरकार का विरोध

भाटापारा – लाॅकडाउन मे भाजपा ने प्रदेश व्यापी धरना प्रदर्शन किया वही भाटापारा के भाजपा विधायक एवं प्रवक्ता छ.ग. भाजपा शिवरतन शर्मा अपने 4 सदस्यो के साथ घर के बाहर बैठ कर दिया धरना वहीं कांग्रेस सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगा मजदुरो को वापस लाने और शराब बंदी कर वादा निभाने को कहा । भाटापारा शहर के 30 स्थानो पर एवं ग्रामीण स्तर पर भाजपा ने लाॅकडाउन के नियमो का पालन करते हुए किया धरना प्रदर्शन भाटापारा – भाटापारा भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ प्रदेश के आह्वान पर आज छत्तीसगढ़ के कांग्रेस सरकार के वादाखिलाफी के खिलाफ एक दिवसीय धरना  अपने-अपने घर के सामने आयोजन किया गया जिसमें भाटापारा के विधायक शिव रतन शर्मा जय स्तम्भ चैक के पास स्तिथ एक मकान के बाहर दोपहर 3 बजे 5 बजे तक घर के बाहर बेैठ धरने के प्रमुख बिंदु छत्तीसगढ़ में पूर्ण रूप से शराब बंदी , किसानों को अंतर की राशि देना , बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देना और छत्तीसगढ़ प्रदेश के बाहर जो मजदूर आज भी फंसे हुए हैं उनको वापस छत्तीसगढ़ प्रदेश में लाने के लिए धरने का आयोजन किया गया । इस धरने मे प्रमुख रूप से राकेश तिवारी जिलमहामंत्री, मनेंद्रर गुम्बर मंडल अध्यक्ष, आंनद अग्रवाल , जिला उपाध्यक्ष, सुनील यदु, सूर्यकांति योगी, मनीष मिश्रा, आशिष पुरोहित,सुनन्द मिश्रा, सुरेश मिश्रा, वैभव तिवारी,नन्द किशोर अग्रवाल,पंकज गुप्ता,राजेश छाबड़िया, राकेश मंधान, घनश्याम आर्य,योगेश अनन्त,कुंजराम कोशले, मोंटू ध्रुव,दिलीप यादव,अनिल चेलक,महाबल बघेल,भरत डहरिया, सहित 30 अलग अलग स्थानों पर भाजपा के लोग 04-04 की संख्या में शामिल हुए..

मुख्यमंत्री ने अस्पताल पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य का हालचाल जाना : जोगी के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की

रायपुर : — मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज राजधानी रायपुर के श्री नारायणा अस्पताल पहुंचकर वहां इलाज के लिए भर्ती पूर्व मुख्यमंत्री श्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य के सम्बन्ध में डॉक्टरों से जानकारी ली। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अजीत जोगी की धर्मपत्नी डॉ. श्रीमती रेणु जोगी और उनके पुत्र अमित जोगी से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने अजीत जोगी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों से अजीत जोगी को इलाज की बेहतर से बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने को कहा। भूपेश बघेल ने मीडिया प्रतिनिधियों से बात करते हुए कहा कि जब श्री अजीत जोगी की तबीयत बिगड़ी थी उस दिन भी मैंने उनके पुत्र अमित जोगी से दूरभाष पर बात कर जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी ली थी। आज मैं अजीत जोगी को देखने अस्पताल आया था। उनके परिवार के लोगों से बात हुई है। डाॅक्टरों से भी मैंने जानकारी ली। अजीत जोगी हमेशा मौत को मात देकर खतरे से बाहर निकले हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे उन्हें शक्ति दे और वे जल्द स्वस्थ्य हों।

राज्यपाल ने मद्यपान से हो रहे अपराधों पर नियंत्रण करने के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

रायपुर : — राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लॉकडाउन के दौरान शराब के सेवन से हो रहे अपराधों पर नियंत्रण करने के संबंध में पत्र लिखा है। राज्यपाल ने इस संबंध में प्राप्त विभिन्न ज्ञापन उल्लेख करते हुए आग्रह किया है कि इस संबंध में शासन स्तर पर उचित नीतिगत निर्णय लिया जाए, ताकि लॉकडाउन के दौरान मद्यपान से उत्पन्न आपराधिक गतिविधियों एवं दुर्घटनाओं पर नियंत्रण किया जा सके। राज्यपाल ने अपने पत्र के माध्यम से कहा है कि विभिन्न संचार माध्यमों से यह सूचना प्राप्त हो रही है कि लॉकडाउन के दौरान अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्तियों द्वारा शराब पीकर पत्रकारों, अधिकारियों, चिकित्सा कर्मियों, सफाई कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार एवं आपराधिक कृत्य किये जा रहे हैं, जिन्हें प्रभावी तरीके से रोके जाने की आवश्यकता है। सुश्री उइके ने कहा कि ऐसे समय में जब प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी कोरोना वायरस की महामारी से उत्पन्न हो रही विभिन्न प्रकार की समस्याओं के निराकरण में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने में व्यस्त है। तब आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्तियों द्वारा मद्यपान उपरांत कोरोना वायरस की महामारी से लड़ रहे हमारे अधिकारियों, कर्मचारियों एवं आमजनों के साथ इस प्रकार के अपराध करने से उनका मनोबल कमजोर होता है। साथ ही लॉकडाउन के दौरान शराब के कारण घरेलू हिंसा एवं दुर्घटनाओं में भी बढ़ोत्तरी हुई है, जिसे प्रभावी तरीके से रोके जाने की आवश्यकता है। राज्यपाल ने कहा है कि इस समय उपरोक्त आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्तियों से हमारे छत्तीसगढ़ प्रदेश के कोरोना वॉरियर्स तथा आमजनों को बचाना अति आवश्यक है। इसके लिए इनके विरूद्ध त्वरित दंडात्मक एवं प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।