बड़ी खबर

छत्तीसगढ़ में ट्रांसजेंडरों की होगी पुलिस कांस्टेबल में भर्ती !

रायपुर:- छत्तीसगढ़ पुलिस में जल्द ही ट्रांसजेंडर कांस्टेबल भी नजर आयेंगे। छत्तीसगढ़ पुलिस ने ट्रांसजेंडरों की कांस्टेबल में भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है। कुछ महीने के भीतर भर्ती प्रक्रिया पूरी कर उन्हें नक्सल जैसे संवेदनशील क्षेत्रों में तैनात किया जायेगा। राज्य सरकार ने इस बाबत सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर ट्रांसजेंडरों की पुलिस में भर्ती प्रक्रिया तैयार करने के निर्देश भी दे दिये हैं। छत्तीसगढ़ पुलिस भर्ती के एडीजी पवनदेव के मुताबिक ‘पुलिस ट्रांसजेंडरों की कांस्टेबल में भर्ती पर गंभीरता से विचार कर रही है…अगर ट्रांसजेंडर पुलिस भर्ती शर्तों के मुताबिक शारीरिक व शैक्षणिक प्रक्रियाओं के मापदंड पर खरे उतरते हैं…तो उन्हें जरूर बहाल किया जायेगा’ साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट नें ट्रांसजेंडरों के हक में फैसला देते हुए, उन्हें हर क्षेत्र में समान प्राथमिकता देने का निर्देश दिया था। छत्तीसगढ़ पुलिस में करीब 35 हजार कांस्टेबल की भर्ती प्रक्रिया प्रस्तावित हैं..जिन्हें अलग-अलग जिलों में पदस्थ किया जाना है। माना जा रहा है कि ट्रांसजेंडरों की भर्ती नक्सल इलाकों के लिये की जा सकती है। नये मापदंड रखे जा सकते हैं ट्रांसजेंडरों के लिए  ट्रांसजेंडरों की कांस्टेबल पद पर होने वाली भर्ती प्रकिया के लिए अलग मापदंडों पर विचार किया जा रहा है। हालांकि ये उम्र सीमा 28 रखी जायेगी। लेकिन ऊंचाई और छाती के माप जैसे मापदंडों पर विचार किया जा जा रहा है। साथ ही आरक्षण प्रक्रियाओं के बारे में भी सरकार विचार कर रही है। अभी तक देश में सिर्फ दो ट्रांसजेंडर कांस्टेबल  अभी तक देश में दो ही ट्रांसजेंडर हैं, जिन्हे पुलिस में भर्ती मिली है। एक तमिलनाडू और दूसरा राजस्थान में हैं।

शिक्षाकर्मियों की हड़ताल समाप्त

रायपुर - सरकार की बड़ी कामयाबी, शिक्षाकर्मियों की हड़ताल निःशर्त समाप्त, रायपुर कलेक्टर ओपी और एसपी संजीव ने किया अहम रोल प्ले, शिक्षाकर्मियों की 15 दिनों से चल रही हड़ताल आज आधी रात समाप्त हो गई। शिक्षाकर्मी संघ कल न्यू सर्किट हाउस में प्रेस कांफ्रेंस कर हड़ताल वापिस लेने का ऐलान करने वाली है शिक्षाकर्मियों के खिलाफ देर शाम कड़े निर्णय लेते हुए सरकार ने 41 शिक्षाकर्मियों को बर्खास्त कर दिया। इसके बाद घटनाक्रम ने तेजी से मोड़ लिया। सरकार से अनुमति लेकर शिक्षाकर्मी संघ के प्र्रतिनिधिमंडल जेल में बंद पदाधिकारियों से मुलाकात की। बताते हैं, इसमें रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी और एसपी संजीव शुक्ला ने अहम भूमिका निभाई। ओपी ने भी संघ के नेताओं को मैसेज भिजवाया कि सरकार इस बार नहीं झूकने वाली….बड़ा नुकसान हो जाएगा। जेल में मुलाकात कराने में ओपी और संजीव की भूमिका रही। और, शिक्षाकर्मियों ने देर रात हड़ताल वापिस लेने का ऐलान कर दिया। इसके बाद सरकार को भी इसकी सूचना भेज दी गई। शिक्षाकर्मियों की हड़ताल वापिस लेने से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। पार्टी ने कल 5 दिसंबर को छत्तीसगढ़ बंद का ऐलान किया है। वैसे, बंद के खिलाफ दोपहर से माहौल चालू हो गया था। चेम्बर ऑफ कामर्स ने पहले ही बंद को समर्थन देने से इंकार कर दिया था। कांग्रेस के बंद और शिक्षाकर्मियों की बर्खास्तगी से उत्पन्न स्थिति को देखते मुख्यमंत्री और उनके रणनीतिकार देर रात तक जागते रहे। 12.10 बजे जब शिक्षाकर्मियों ने हड़ताल वापसी की जानकारी दी, तब सब लोग सोने गए। बहरहाल, रमन सरकार की ये बड़ी कामयाबी है। पहली बार सरकार झुकने से साफ मना करते हुए हड़ताल तोड़वाने में सफल रही। मोहित साहू

बॉलीवुड अभ‍िनेता शश‍ि कपूर का निधन

हिन्दी सिनेमा के जाने माने एक्टर शश‍ि कपूर का सोमवार को निधन हो गया। वे 79 वर्ष के थे। वे पिछले तीन हफ्ते से बीमार थे। उनका इलाज के मुंबई के कोकिला बेन अस्पताल में चल रहा था। शशि ने हिन्दी सिनेमा की 160 फिल्मों (148 हिंदी और 12 अंग्रेजी) में काम किया। उनका जन्म 18 मार्च 1938 को कोलकाता में हुआ था। 60 और 70 के दशक में उन्होंने जब-जब फूल खिले, कन्यादान, शर्मीली, आ गले लग जा, रोटी कपड़ा और मकान, चोर मचाए शोर, दीवार कभी-कभी और फकीरा जैसी कई हिट फिल्में दी। 1984 में पत्नी जेनिफर की कैंसर से मौत के बाद शशि कपूर काफी अकेले रहने लगे थे और उनकी तबीयत भी बिगड़ती गई। बीमारी की वजह से शशि कपूर ने फिल्मों से दूरी बना ली। साल 2011 में शशि कपूर को भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। 2015 में उन्हें दादा साहेब पुरस्कार भी मिल चुका था। कपूर खानदान के वो ऐसे तीसरे शख्स थे जिन्हें ये सम्मान हासिल हुआ था। आकर्षक व्यक्तित्व वाले शशि कपूर के बचपन का नाम बलबीर राज कपूर था। बचपन से ही एक्टिंग के शौकीन शशि स्कूल में नाटकों में हिस्सा लेना चाहते थे। उनकी यह इच्छा वहां तो कभी पूरी नहीं हुई, लेकिन उन्हें यह मौका अपने पिता के पृथ्वी थियेटर्स में मिला।

शिक्षा कर्मियों के हड़ताल का 15 वां दिन- सरकार शिक्षा कर्मियों के 150 नेताओं को बर्खास्त करने की तैयारी में

    रायपुर:- राज्य सरकार ने आंदोलनरत शिक्षा कर्मियों के लगभग 150 नेताओं की बर्खास्तगी की तैयारी कर ली है। उनकी बर्खास्तगी का आदेश किसी भी समय जारी हो सकता है। सरकार ने राजधानी में वैधानिक प्रतिबंध के बावजूद उनके द्वारा भीड़ के रूप में आकर कानून व्यवस्था की स्थिति बिगाड़ने का जो प्रयास किया गया, उसे राज्य सरकार ने काफी गंभीरता से लिया है। उच्च पदस्थ सरकारी सूत्रों ने बताया कि शिक्षा कर्मियों के नेताओं की बर्खास्तगी की फाईल चल रही है और किसी भी समय आदेश निकल सकता है।

हड़ताल से नही निकलेगा हल :-रमन सिंह

रायपुर - सरकार शिक्षाकर्मी दोनों अड़े, शिक्षाकर्मी बोले हर हाल में निकालेंगे रैली, मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा हड़ताल से नही निकलेगा हल,किसी बजी समस्या का हल एक दिन में नही निकलता,मैं पहले से कह रहा हूँ, 7 वें वेतनमान पर विचार किया जाएगा, अन्य मांगों पर कमेटी बनाकर विचार किया जाएगा, जिन बातों पर आज शिक्षाकर्मी नही मान रहे कल बात करने के लिए वे इन्ही मुद्दों पर आएंगे, हड़ताल से कोई हल नही निकलेगा, अपनी ऊर्जा पढ़ाने में लगाएं,

डभरा में सैकड़ों की संख्या में गिरफ्तार किए गए शिक्षाकर्मी

जांजगीर चाम्पा /डभरा :- आंदोलन को और गति देने के लिए राजधानी रायपुर जाते वक्त डभरा थाना प्रभारी एवं उनकी टीम द्वारा लगभग डेढ़ सौ शिक्षाकर्मियों को रायपुर जाने से रोका गया एवं सम्मान बंधक बनाकर थाना परिसर में बैठाया गया थाना प्रभारी से पूछे जाने पर कहा कि ऊपर से आदेश आया है शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुसलमानों का त्योहार क्यों होने की वजह से इन्हें रायपुर जाने के लिए रोका गया है धारा 151 के तहत बैठा कर रखा गया है। शिक्षाकर्मियों के मनोबल को तोड़ने का असफल प्रयास शासन द्वारा किया जा रहा है ऐसा शिक्षाकर्मियों का कहना है शिक्षाकर्मी अभी भी थाने पर बैठकर अपना आंदोलन जारी रखे हुए हैं बहुत सारे शिक्षा कर्मी गिरफ्तार हुए शिक्षाकर्मी भाइयों के समर्थन में सोता थाने में जाकर अपनी गिरफ्तारी दे रहे हैं लगभग शिक्षाकर्मी गिरफ्तारियों की संख्या 200 से पार हो गई है।

बीती रात को जब मैं अपने घर पर विश्राम कर रहा था तभी मुझे डभरा थाने से रो सिपाही आए और मुझे थाना मिला कर बैठा दिया गया है तब से लेकर अभी तक मैं बैठा हुआ हूं प्यारे साहू आंदोलकारी शिक्षक

मैं अपनी निजी साधन से आंदोलन में शामिल होने रायपुर जा रही थी तभी हमारे वाहन को डभरा पुलिस द्वारा रोका गया वह हमें थाना मिला कर बैठा दिया गया रमन सिंह चाहे जो भी कर ले जितना थाना सही करना है कर ले और हम अपना हौसला नहीं खोलेंगे हमारा आंदोलन भी जारी रहेगा। रत्ना वर्मा आंदोलकारी शिक्षिका

जैसे-जैसे हमें प्रदेश अध्यक्ष द्वारा आदेशित किया जाएगा हमारा आंदोलन अभी भी जारी रहेगा हम सम्मेलन के मांग को मनवा कर छोड़ेंगे चाहे रमन सरकार हमारे ऊपर डंडे भी चल बाय हम अपना इरादा नहीं बदलेंगे हमारा आंदोलन अभी जारी रहेगा।

वही थाना प्रभारी का कहना कि ऊपर से आदेश आया था जिसके तहत कार्यवाही की गई है। अजय शंकर त्रिपाठी थाना प्रभारी

रमन सिंह की दो टूक -शिक्षाकर्मियों का संविलियन न पहले हुआ है, न अब होगा।

रायपुर। शासकीयकरण और संविलियन की मांग को लेकर हड़ताल पर बैठे शिक्षाकर्मियों को लेकर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बड़ा बयान दिया है। गुजरात दौरे से लौटे मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत में कहा – शिक्षाकर्मियों का संविलियन न पहले हुआ है, न अब होगा। शिक्षाकर्मियों को जो ऑफर पहले था, वही अब भी होगा। उन्होंने हड़ताल पर बैठे से कहा जिन्हें लौटना वो आ सकते हैं। मुख्यमंत्री ने गुजरात चुनाव में भाजपा के जीत का दावा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा 150 से अधिक सीटों पर जीत कर एक बार सत्ता पर काबिज होगी।

मोदी सरकार ने केंद्र से अफसरों की नयी टीम टीम तैयार की है

रायपुर:- विजन न्यू इंडिया की दिशा में तेजी से बढ़ रही मोदी सरकार ने केंद्र से अफसरों की नयी टीम टीम तैयार की है। इऩ अफसरों को उन 115 पिछले जिलों की जिम्मेदारी दी जायेगी.. जिनमें बेहतर डेवलपमेंट वर्क किये जाने हैं। आज केंद्र सरकार की तरफ से ज्वाइट सिकरेट्री लेवल के 115 अफसरों की सूची जारी कर दी गयी है। देश भर में चिन्हाकिंत किये गये 115 पिछले जिलों में छत्तीसगढ़ के 10 जिलों के शामिल किया गया है। छत्तीसगढ़ के 27 जिलों में से जिन जिलों को पिछड़े जिलों में चिन्हाकित किया गया है.. उनमें महासमुंद, कोरबा, राजनांदगांव के अलावे बस्तर के सभी सात जिले शामिल हैं। बस्तर, सुकमा, कांकेर, दंतेवाड़ा, कोंडागांव, नारायणपुर के अलावा बीजापुर जिला शामिल है। इन 10 जिलों में जिन प्रभारी IAS अफसरों की नियुक्ति की गयी है.. उनमें तीन छत्तीसगढ़ कैडर के ही अफसर हैं। महासमुंद की जिम्मेदारी IAS निधि छिब्बर को दी गयी है..निधि अभी मिनिस्ट्री आफ डिफेंस में हैं... वहीं बस्तर की जिम्मेदारी मनोज पिंगुआ को दी गयी है.. मनोज पिंगुआ अभी ज्वाइंट सिकरेट्री सूचना प्रसारण मंत्रालय में हैं.. जबकि IAS अमित अग्रवाल को सुकमा का जिम्मा दिया गया है। अमित अग्रवाल अभी केंद्र में ज्वाइंट सिकरेट्री मिनस्ट्री आफ फाइनेंस हैं। वहीं कोरबा में IAS सुनील भरतवाल... राजनांदगांव में अमित सहाय, कांकेर में अनिल मल्लिक... दंतेवाड़ा में भरत हरबंशलाल खेरा, कोंडागांव में दिलीप कुमार, नारायणपुर में संदीप पौडरिक और बीजापुर में प्रशांत कुमार को जिम्मेदारी दी गयी है।

नक्सली पर्चे में वन मंत्री महेश गागड़ा को जान से मारने की धमकी,तहसील कार्यालय में फेंका गया नक्सली पर्चा

बीजापुर:- छत्तीसगढ़ के बीजापुर क्षेत्र में उसुर तहसील कार्यालय में नक्सलियों ने पर्चे फेंककर वन मंत्री गागड़ा सहित पत्रकारों, तहसीलदार और पटवारी को जान से मारने की धमकी दिए जाने की खबर है ,इस मामले के सामने आने के बाद प्रशासन सक्रिय हो गयी है वही पर्चे में पुलिस और पटवारी की सांठगांठ के आरोप लगाए गए है जिसके बाद मामला संदिग्ध नजर आने लगा है। उसूर तहसील कार्यालय में माओवादियों के द्वारा फेंके पर्चे में राज्य के वन मंत्री महेश गागड़ा सहित पत्रकारों, तहसीलदार और पटवारी को जान से मारने की धमकी की भी बात कही जा रही है वही इन पर्चों में उसूर तहसीलदार और पामेड़ पटवारी पर पुलिस से सांठगांठ की भी बात लिखे जाने की खबर है बताया जाता है कि नक्सली मुठभेड़ की गलत रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों को इस पर्चे के माध्यम से जान से मारने की धमकी दी गई है। पुलिस का मानना है कि ये पर्चे किसी की शरारत भी हो सकती है वही लोगो का मानना है कि इसे नक्सली कमांडर हिड़मा के नाम से जारी किया गया हैं।फिलहाल आवापल्ली पुलिस जांच में जुट गई है।

शराब कारोबारी के ठिकानों पर इनकम टैक्स का बड़ा छापा !…

रायपुर :- 100 से ज्यादा IT अफसरों की टीम रायपुर, दुर्ग, भिलाई में कर रही है छापेमारी  इनकम टैक्स विभाग ने छत्तीसगढ़ में आज बड़ी कार्रवाई की है। प्रदेश के बड़े शराब कारोबारी केड़िया ग्रुप के ठिकानों पर इनकम टैक्स विभाग ने छापेमारी की है। केडिया ग्रुप के मालिक नवीन केड़िया के भिलाई के नेहरू नगर स्थित मकान समेत ग्रुप के कई बड़े अफसरों के घर पर आईटी टीम की छापेमारी चल रही है। नवीन केड़िया के कुम्हारी स्थित कंपनी में भी आईटी की टीम दस्तावेजों की पड़ताल कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक 100 से ज्यादा इनकम टैक्स विभाग के अफसरों की टीम केड़िया ग्रुप के अलग-अलग ठिकानों पर पहुंचे। इसके अलावा शेयर होल्डर और निदेशकों के घर भी छापेमारी की कार्रवाई चल रही है।

राम रहीम को जेल मेनुवल के हिसाब से खाना दिया जाता है "वीआईपी ट्रीटमेंट " नही- कृष्ण लाल पंवार

चंडीगढ़ (धरणी) रेप केस में रोहतक की सुनारिया जेल में 20 साल की सजा काट रहे राम रहीम को जेल में वीआईपी ट्रीटमेंट मिलने के फिर आरोप सामने आये है। जेल से बेल पर आये कैदी राहुल जैन ने जहाँ इसका खुलासा करते किया था वहीं इसपर अब हरियाणा के जेल मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने सफाई देते हुए सभी आरोपों को नाकारा है। जेल मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने कहा की राम रहीम को जेल मेनुवल के हिसाब से खाना दिया जाता है जो खाना दूसरे कैदियों को मिलता है वोही राम रहीम को दिया जाता है। कृष्ण लाल पंवार ने कहा की राम रहीम के परिवार को भी हफ्ते में एक ही दिन मुलाकात की इजाजत दी जाती है। 20 मिनट में से केवल राम रहीम के परिवार ने 8 मिनट मुलाकत की जबकि 3 मिनट सामान के जाँच में लगे। इससे पहले राहुल जैन ने परिवार को मुलाकत के लिए एक घंटा दिए जाने और राम रहीम का खाना स्पेशल वेन में आने के आरोप लगाए थे।

ISIS कनेक्शन : आतंकियों से हथियारों की तस्करी करने वाला सौदागर उज्जैन में गिरफ्तार

अहमदाबाद एटीएस की कार्रवाई के अनुसार उज्जैन में आतंकी संगठन ISIS से जुड़े एक आतंकी को किया गिरफ्तार।

एटीएस एसपी ने कार्रवाई की पुष्टि करते हुए बताया कि गुजरात एटीएस ने कार्रवाई करते हुए उर्जू नामक व्यक्ति को उज्जैन से गिरफ्तार किया है। ISIS के दो आतंकियों से पूछताछ के बाद गुजरात एटीएस ने उज्जैन में दबिश देकर उर्जू को गिरफ्तार किया। एटीएस ने आतंकी उबैद मिर्ज़ा से पूछताछ की थी। उसने ही उज्जैन के उर्जू के बारे में जानकारी दी।

उबैद ने एटीएस को बताया कि उसे उर्जू को हथियार खरीदने का ऑर्डर दिया था। ये सौदा 3 लाख रूपए में हुआ था। इसके लिए उबैद ने उर्जू को 20 हज़ार रूपए एडवांस में भी दिए थे।

उर्जू नामक ये युवक उज्जैन के अमरपुरा का रहने वाला है। गुजरात एटीएस कार्रवाई करते हुए उर्जू को अपने साथ ले गई है। फिलहाल उर्जू को लेकर उसके कोई परिजन बात करने को तैयार नहीं है।

Source : (http://mnaidunia.jagran.com)

 

सेक्स सीडी कांड - विनोद वर्मा की जमानत पर सुनवाई 6 नवंबर को

रायपुर (बीबीएन24 न्यूज़) । छत्तीसगढ़ के हाई प्रोफाइल सेक्स सीडी कांड में गिरफ्तार विनोद वर्मा की जमानत पर शुक्रवार को सुनवाई होनी थी जो 6 नवंबर तक टल गई है । गौरतलब है कि विनोद वर्मा को सीडी कांड में ब्लैकमेल करने के आरोप में गाजियाबाद से गिरफ्तार किया गया था. पुलिस द्वारा वर्मा को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर रायपुर लाया गया जहां पुलिस ने पूछताछ के लिए 3 दिन की रिमांड में ली थी बाद में उन्हें 13 नवंबर तक की न्यायिक रिमांड में जेल भेज दिया गया। विनोद वर्मा के वकील ने जमानत के लिए न्यायलय के समक्ष अर्जी लगाई थी । जिसकी सुनवाई शुक्रवार 3 नवम्बर को होनी थी पर पुलिस के द्वारा केस डायरी पेश करने के लिए समय माँगा गया जिस पर सुनवाई 6 नवंबर को होगी ।

यूपी के रायबरेली में NTPC प्लांट में भीषण हादसा, बॉयलर फटने से 20 की मौत, कई जख्मी

रायबरेली - नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन ऊंचाहार प्लांट की नवनिर्मित 500 मेगावॉट की छठी यूनिट में बुधवार को प्रोडक्शन चल रहा था. शाम करीब चार बजे बॉयलर की ऐश पाइप अचानक चोक हो गई और बॉयलर में तेज आवाज के साथ ब्लास्ट हो गया. करीब 90 फीट की ऊंचाई पर हुए विस्फोट से बॉयलर की जलती हुई राख प्लांट में चारों ओर फैल गई. इससे वहां पर भीषण आग लग गई. उस दौरान वहां पर 200 से ज्यादा अधिकारी, कर्मचारी और प्राइवेट कंपनी के मजदूर काम में जुटे हुए थे. यह सभी राख की चपेट में आकर उसी के नीचे दब गए. हादसे की सूचना पर एनटीपीसी प्लांट की दूसरी यूनिटों में काम कर रहे अधिकारी, कर्मचारी और मजदूर आनन-फानन वहां पहुंच गए. आग पर काबू करने के बाद राख के नीचे दबे कर्मचारियों को बाहर निकालने का काम शुरू हुआ. सबसे पहले घायलों को एनटीपीसी हॉस्पिटल लाया गया.
 प्राप्त जानकारी के अनुसार ऊंचाहार की छठी यूनिट में बुधवार शाम करीब चार बजे बॉयलर की ऐश पाइप चोक होने से हुए जबरदस्त विस्फोट से कोहराम मच गया. हादसे में वहां पर काम कर रहे 200 से ज्यादा अधिकारी, कर्मचारी और मजदूर बेहद गर्म राख के ढेर में दब गए. हादसे की सूचना पर पहुंची फायर टेंडर्स ने आग पर काबू किया. 100 से ज्यादा घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. हादसे में 20 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है
सीएम योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये और मामूली रूप से घायल हुए लोगों को 25-25 हजार रुपये देने की घोषणा की है. कांग्रेस अध्यक्ष और रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी ने हादसे पर शोक संवेदना व्यक्त की है. घायलों की इतनी भारी तादाद को देखते हुए लखनऊ स्थित ट्रॉमा सेंटर, लोहिया हॉस्पिटल व सिविल हॉस्पिटल को अलर्ट पर रखा गया है. सभी डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ को तुरंत ड्यूटी पर पहुंचने को कहा गया है.
घायलों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें रायबरेली जिला अस्पताल और लखनऊ रेफर किया जाने लगा. शाम 7.30 बजे तक एनटीपीसी हॉस्पिटल में 110 और सीएचसी में 7 घायलों को भर्ती कराया गया. जहां से 18 घायलों को जिला अस्पताल लाया गया है. मरने वालों में से बिहार निवासी कंचन और हबीबुल्ला, लखनऊ निवासी संजय पटेल, मध्यप्रदेश निवासी रामरतन और देशराज की शिनाख्त हो सकी है. हादसे में एनटीपीसी के अतिरिक्त महाप्रबंधक प्रभात श्रीवास्तव, मिश्रीलाल और संजीव सक्सेना भी गर्म राख की चपेट में आकर घायल हो गए.

सीडी कांड - विनोद वर्मा 31 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर

रायपुर (बीबीएन24 न्यूज़), रविवार का दिन रायपुर में बहुत गहमागहमी का रहा । कथित सीडी कांड जिसमे गाज़ियाबाद से गिरफ्तार किये गए पत्रकार विनोद वर्मा को न्यायालय में पेश किया जाना था । जिसके लिए 2 बजे का समय दिया गया था । जैसा कि विनोद वर्मा को रायपुर के माना थाने में रखा गया था वहां से निकलते वक्त पुलिस की गाड़ी पर कुछ लोगो द्वारा हमला किया गया । बताया जाता है कि कुछ लोग किसी अन्य मामले में माना थाने का घेराव करने पहुचे थे । और विनोद वर्मा को भी वही रखा गया था । जैसे तैसे करीब 5 बजे पुलिस ने विनोद वर्मा को रायपुर के प्रथम श्रेणी के न्यायाधीश श्री एसपी त्रिपाठी के समक्ष पेश किया । जहा पुलिस ने न्यायालय से 5 दिन की रिमांड की मांग की जिस पर न्यायालय द्वारा 31 अक्टूबर तक रिमांड पर भेजा गया है।...... कोर्ट परिसर को छावनी में तब्दील---- विनोद वर्मा को पेश करने से पहले कोर्ट परिसर को छावनी में तब्दील कर दिया गया था और हर तरफ पुलिस का पहरा रखा गया था ।....... मुस्कुराते हुए अंदर गए विनोद वर्मा---- जब विनोद वर्मा को न्यायाधीश के समक्ष पेश करने ले जाया जा रहा था उस समय वे मुस्कुराते हुए और आत्मविश्वास के साथ अंदर गए । ।। .....रायपुर से रोमेश कुमार की रिपोर्ट