बड़ी खबर

मुख्य सचिव ने की रेल परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा : परियोजना कार्यो में तेजी लाने के निर्देश

रायपुर : मुख्य सचिव   अजय सिंह की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में आयोजित बैठक में रेल लाईन परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की गयी। मुख्य सचिव ने रेल परियोजनाओं के निर्माण कार्यो में और अधिक तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने परियोजना के तहत द्वितीय चरण में सर्वे, भूमि अधिग्रहण, मुआवजा वितरण तथा पॉवर लाईन विस्तार के लिए संबंधित जिला कलेक्टरों को वीडियों कॉन्फ्रेसिंग के जरिये आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
बैठक में रावघाट से जगदलपुर रेल लाईन परियोजना की समीक्षा के दौरान अधिकारियों द्वारा बताया गया कि जगदलपुर से कोण्डागांव 91.76 किलोमीटर में सर्वे कार्य पूर्ण किया चुका है। कोण्डागांव से रावघाट 91.76 से 140 किलोमीटर में सर्वे कार्य कराया जा रहा है। मुख्य सचिव ने इस कार्य को 15 मार्च तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण के प्रकरणों में मुआवजा वितरण की कार्रवाई में विलम्ब की स्थिति नहीं हो इस पर विशेष ध्यान रखा जाए। ईस्ट रेल कॉरिडोर परियोजना की प्रगति की समीक्षा के दौरान बताया गया कि खरसिया से धरमजयगढ़ तथा रूट स्पर घरघोड़ा से डोंगामहुआ फेस-एक में शून्य से 74 किलोमीटर तक निर्माण कार्य प्रगति पर है। इसी प्रकार फेस-2 में धरमजयगढ़ से कोरबा रेल लाईन के लिए सर्वे का कार्य की कार्रवाई की जा रही है। बैठक में छत्तीसगढ़ रेल कॉरपोरेशन द्वारा प्रस्तावित कटघोरा-मुंगेली-कवर्धा-डोंगरगढ़ रेल लाईन और खरसिया-बलौदाबाजार-नया रायपुर-दुर्ग रेल लाईन के सर्वे कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। बैठक में प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर निर्माणाधीन रेल्वे अंडर ब्रिज और रेल्वे ओव्हर ब्रिज की भी समीक्षा की गयी। बैठक में वन विभाग के अपर मुख्य सचिव   सी.के. खेतान, वाणिज्य एवं उद्योग (रेल परियोजना)   सुबोध सिंह, सचिव नगरीय प्रशासन डॉ. रोहित यादव, सचिव आवास एवं पर्यावरण श्री संजय शुक्ला, विशेष सचिव ऊर्जा   सिद्वार्थ कोमल परदेशी एवं बिलासपुर रेल्वे मण्डल के जनरल मेनेजर  एस.एस.सोईन सहित एसी.सी.एल. भिलाई स्टील प्लांट के अधिकारी उपस्थित थे।

रायपुर : जल संसाधन सचिव बोरा ने की विभागीय काम-काज की समीक्षा : सिंचाई योजनाओं को समय पर पूरा करने अधिकारियों को बेहतर समन्वय के साथ कार्य करने के निर्देश

रायपुर : जल संसाधन विभाग के सचिव  सोनमणि बोरा ने सिंचाई योजनाओं को समय-सीमा में पूरा करने के लिए विभागीय अधिकारियों के बीच और अधिक समन्वय की जरूरत पर जोर दिया है। उन्होंने आज यहां सिविल लाइन स्थित जल संसाधन विभाग के डाटा सेंटर के सभाकक्ष में आयोजित विभागीय अधिकारियों की बैठक में विभिन्न सिंचाई योजनाओं की बारी-बारी समीक्षा की।   बोरा ने बैठक में कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में हर साल एक लाख हेक्टेयर अतिरिक्त रकबे में सिंचाई सुविधा विकसित करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को पाने के लिए छोटी-बड़ी सभी सिंचाई योजनाओं को निर्धारित समय में पूरा करना जरूरी है।   बोरा ने कहा कि विगत 14 साल में सिंचाई का प्रतिशत 22 से बढ़कर 36 हो गया है। यह राज्य सरकार की विशेष उपलब्धि है।

   बोरा ने बैठक में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, लक्ष्य भागीरथी अभियान, नाबार्ड पोषित सिंचाई योजनाओं की विशेष रूप से समीक्षा की। उन्होंने वित्तीय वर्ष 2016-17 और वर्ष 2017-18 के बजट में शामिल सिंचाई योजनाओं की प्रशासकीय तथा निविदा स्वीकृति की स्थिति की जानकारी ली। श्री बोरा ने नाबार्ड की सहायता से स्वीकृत सिंचाई योजनाओं की प्रगति की जानकारी लेकर इन योजनाओं के लिए मिली राशि के उपयोग की समीक्षा की।   बोरा ने लोग सुराज अभियान 2018 के प्रथम चरण में विभाग को प्राप्त आवेदनों के निराकरण के लिए तत्परता से कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल की विभिन्न घोषणाओं को पूरा करने प्राथमिकता से कार्रवाई की जाए। बैठक में भू-अधिग्रहण तथा वन भूमि से संबंधित मामलों के निराकरण के लिए कार्रवाई करने अधिकारियों को खास तौर पर निर्देशित किया गया। बैठक में प्रमुख अभियंता   एच.आर. कुटारे सहित सभी मुख्य अभियंता और अनेक अधीक्षण अभियंता तथा कार्यपालन अभियंता उपस्थित थे।

विधानसभा में मुख्यमंत्री से संबंधित विभागों के लिए 9777 करोड़ 94 लाख 17 हजार रुपए की अनुदान मांगे ध्वनिमत से पारित

छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से संबंधित विभागों के लिए 9777 करोड़ 94 लाख 17 हजार रुपए की अनुदान मांगे ध्वनिमत से पारित कर दी गयीं। इनमें से सामान्य प्रशासन विभाग के लिए 324 करोड़ 98 लाख 10 हजार रुपए, सामान्य प्रशासन विभाग से संबंधित अन्य व्यय के लिए 28 करोड़ 36 लाख 80 हजार रुपए, वित्त विभाग से संबंधित व्यय के लिए 5494 करोड़ 53 लाख 46 हजार रुपए, जिला परियोजनाओं से संबंधित व्यय के लिए 52 करोड़ 75 लाख रुपए, ऊर्जा विभाग से संबंधित व्यय के लिए 2467 करोड़ 85 लाख 76 हजार रुपए, खनिज साधन विभाग से संबंधित व्यय के लिए 708 करोड़ 78 लाख 79 हजार रुपए, जनसंपर्क विभाग से संबंधित व्यय के लिए 225 करोड़ 47 लाख 50 हजार रुपए, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के लिए 416 करोड़ 07 लाख 84 हजार रुपए तथा विमानन विभाग के लिए 59 करोड़ 10 लाख 92 हजार रुपए की अनुदान मांगे पारित की गयीं।

नया रायपुर में जल्द प्रारंभ होगा ‘चिरायु छत्तीसगढ़ सेंटर फॉर पेडियाट्रिक कार्डियेक एक्सीलेंस’ : मुख्यमंत्री ने दी सहमति

 रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नया रायपुर में राज्य सरकार और श्री सत्यसांई स्वास्थ्य एवं शिक्षा ट्रस्ट बंगलुरू के सहयोग से ‘चिरायु छत्तीसगढ़ सेंटर फॉर पेडियाट्रिक कार्डियेक एक्सीलेंस सेंटर’ प्रारंभ करने की सैद्धांतिक सहमति प्रदान कर दी है। मुख्यमंत्री ने आज यहां विधानसभा परिसर स्थित समिति कक्ष में ट्रस्ट के चेयरमेन श्री सी. श्रीनिवास के साथ आयोजित बैठक में यह सहमति दी। श्री सत्यसांई स्वास्थ्य एवं शिक्षा ट्रस्ट द्वारा  बच्चों के हृदयरोग चिकित्सा के लिए प्रस्तावित इस केन्द्र में मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर, आईसीयू, स्टेपडाउन आईसीयू और वार्ड का निर्माण किया जाएगा। इस केन्द्र का संचालन ट्रस्ट द्वारा किया जाएगा। यह सेंटर छत्तीसगढ़ के हृदय रोग से पीड़ित बच्चों के लिए समर्पित होगा। उल्लेखनीय है कि नया रायपुर में ट्रस्ट द्वारा नवंबर 2012 में श्री सत्यसांई संजीवनी अस्पताल प्रारंभ किया गया है, जहां छत्तीसगढ़ सहित देश-विदेश के हृदय रोग से पीड़ित बच्चों के हृदय के निःशुल्क ऑपरेशन किए जा रहे हैं।
श्री श्रीनिवास ने बताया कि श्री सत्यसांई अस्पताल में अब तक छत्तीसगढ़ के ग्यारह सौ बच्चों के हृदय के सफल ऑपरेशन किए जा चुके हैं, जबकि देश-विदेश के कुल बावन सौ बच्चों के हृदय के सफल ऑपरेशन किए जा चुके हैं। इस चिरायु सेंटर में डॉक्टरों, ऑपरेशन थियेटर में काम करने वाले स्टॉफ और नर्सों को प्रशिक्षण भी देने की सुविधा होगी। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री   अजय चन्द्राकर, राजस्व मंत्री   प्रेमप्रकाश पांडेय, मुख्य सचिव  अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  अमन कुमार सिंह, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव  अमिताभ जैन, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव  सुब्रत साहू, खनिज विभाग के सचिव  सुबोध सिंह, राजस्व सचिव   एन.के. खाखा भी उपस्थित थे।

 

छत्तीसगढ़ में साकार हो रहा ‘अंत्योदय‘ का सपना: डॉ. रमन सिंह

 रायपुर  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन के अनुरूप छत्तीसगढ़ में भी अंत्योदय का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य और केन्द्र सरकार की योजनाओं के माध्यम से विकास की रौशनी समाज की अंतिम पंक्ति के लोगों और अंतिम छोर के गांवों तक पहंुचने लगी है। मुख्यमंत्री आज यहां ‘पंडित दीनदयाल उपाध्याय छत्तीसगढ़ विकास संवाद‘ विषय पर आधारित परिचर्चा को मुख्यम अतिथि की आसंदी से सम्बोधित कर रहें थे। कार्यक्रम में केन्द्रीय विमानन मंत्री  जयंत सिन्हा, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री   हंसराज अहीर, छत्तीसगढ़ के वन और विधि मंत्री  महेश गागड़ और वरिष्ठ पत्रकार  जगदीश उपासने भी शामिल हुए। अध्यक्षता राज्य सभा सांसद   आर.के. सिन्हा ने की। यह आयोजन समाचार एजेन्सी ‘हिन्दुस्थान समाचार‘ समूह द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर  .आर.के सिन्हा की पुस्तक ‘समय का सच‘ का विमोचन भी किया।
    मुख्य अतिथि की आसंदी से कार्यक्रम में लोगों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा- राज्य निर्माण के बाद से छत्तीसगढ़ पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अत्योंदय की कल्पना को साकार करते हुए निरंतर विकास की ओर अग्रसर है। राज्य ने विकास के विभिन्न क्षेत्रों मे कीर्तिमान स्थापित किए है। उन्होंने कहा कि नीति आयोग ने छत्तीसगढ़ को एचीवर्स स्टेट घोषित किया है। हमने हमेशा संतुलित विकास पर जोर दिया है। यही कारण है कि शहरों के साथ-साथ बस्तर और सरगुजा के दूरस्थ अंचलों में भी विकास की किरणें दिखाई देती है। कार्यक्रम का आयोजन समाचार एजंेसी हिन्दुस्थान समाचार द्वारा किया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा - जब छत्तीसगढ़ का निर्माण हुआ था तो हमारा बजट लगभग सात हजार करोड़ रूपए था, अब यह 87 हजार करोड़ रूपए से अधिक हो गया है। राज्य की प्रति व्यक्ति आमदनी भी लगभग 15 हजार रूपए से बढ़कर 92 हजार रूपए हो गई है। राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में किए जा रहे निरंतर प्रयासों के फलस्वरूप मातृ एवं शिशु-मृृत्यु दर में उल्लेखनीय कमी हुई है। उन्होंने कहा कि ईज आफ डुइंग बिजनेस में विगत दो वर्षो से पूरे देश में छत्तीसगढ़ चौथे पायदान में है। छत्तीसगढ़ को लगातार चार बार कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुआ है। हाल में जारी क्रिसिल रिपोर्ट में विद्युत उपलब्धता, गैस, जल आपूर्ति तथा अन्य नागरिक सेवाएं प्रदान करने में छत्तीसगढ़ देश में प्रथम स्थान पर है। साथ ही प्रदेश को बेहतर वित्तीय प्रबंधन के लिए भी जाना जाता हैं।  
  केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री   हंसराज अहीर ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य नक्सलवाद जैसे चुनौतियों का सामना करते हुए तेजी से विकास कर रहा है। निश्चित ही केन्द्र सरकार और छत्तीसगढ़ सरकार के संयुक्त प्रयास से नक्सल समस्या का निराकरण होगा। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री श्री जंयत सिन्हा ने कहा विमानन के क्षेत्र में देश में विभिन्न योजनाएं बनाई जा रही है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्वामी विवेकानंद विमानतल सबसे सुन्दर और सर्वसुविधायुक्त विमानतलों में एक है। यहां का रनवे का विस्तार भी किया जा रहा है। इस समय यहां की सवारी क्षमता करीब 16 लाख है वह वर्ष में 30 से 35 लाख हो जाने की संभावना है। इस स्थिति में नए टर्मिनल बनाने की भी योजना है।

सुकमा में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बिच मुठभेड़, दो जवान शहीद, सात जवान घायल

 सुकमा  जिले में रविवार सुबह सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में दो जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 6 घायल बताए जा रहे हैं। करीब पांच घंटे तक मुठभेड़ जारी रही। घायलों का इलाज रायपुर के अस्पताल में चल रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, सुकमा के भेज्जी इलाके में भेज्जी से चिंतागुफा सड़क निर्माण का काम चल रहा है, जिसे रोकने को लेकर नक्सलियों ने कई बार चेतावनी दी थी। रविवार को बड़ी संख्या में नक्सलियों ने हमला बोला और सड़क निर्माण में लगी गाड़ियों में आग लगा दी।
नक्सल विरोधी अभियान के विशेष डीजी, डीएम अवस्थी ने बताया कि, शनिवार सुकमा में जवानों की तीन पार्टियां, तीन दिशा में गई थी। एक दल में डीआरजी और एसटीएफ के 100 सदस्य शामिल थे। रविवार दोपहर करीब 12 बजे यहां एक निर्माणाधीन सड़क के पास नक्सलियों ने वाहनों को जला दिया। सुपरवाइजर को नुकसान पहुंचाया। सूचना पाकर फोर्स वहां पहुंची। दोनों तरफ से जबरदस्त फायरिंग हुई। करीब साढ़ें चार घंटे तक फायरिंग चली
डीएम अवस्थी ने  डीआरजी के दो जवानों के  शहीद होने की सूचना दी। जबकि 6 डीआरजी के जवान घायल बताए जा रहे हैं। शहीद जवानों के नाम मड़कम हंदा और मुकेश कडती बताए जा रहे हैं। 

पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले में ईडी ने रायपुर में भी कार्यवाही नीरव मोदी के चाचा की ज्वेलरी शॉप पर ईडी का छापा, करोड़ों के हीरे बरामद

रायपुर - पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले में ईडी ने रायपुर में भी कार्रवाई की है। अंबुजा मॉल स्थित शॉपर्स स्टॉप में छापा मारकर ईडी ने गीतांजलि ज्वेलरी शॉप से एक करोड़ 27 लाख के हीरे जब्त किए हैं।
मेहुल चौकसी की ज्वेलरी शॉप पर रात 8 बजे से तकरीबन साढ़े 10 बजे तक कार्रवाई की गई। पंजाब नेशनल बैंक फर्जीवाड़ा मामले में और भी ठिकानों पर कार्रवाई की सम्भावना है। आपको बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक में हुए घोटाले में सीबीआई ने नई एफआईआर दर्ज की है। यह केस 11, 356 करोड़ रुपए के इस घोटाले के एक आरोपी मेहुल चौकसी के ‘गीतांजलि ग्रुप ऑफ कंपनीज’ के खिलाफ दायर किया गया है।  नीरव मोदी के खिलाफ ED ने एक और केस दर्ज किया है।
पीएनबी ने गुरुवार को बैंकिंग इंडस्ट्री की सबसे बड़ी धोखाधड़ी का खुलासा किया था। यह फ्रॉड 177.17 करोड़ डॉलर यानी 11,356 करोड़ रुपए का है। इस मामले की जांच एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) और सीबीआई कर रही है। मामले में नीरव मोदी मुख्य आरोपी है।
सीबीआई ने FIR के जरिये आरोप लगाया है कि चौकसी और उसकी तीन कंपनियां गीतांजलि जेम्स, गिली इंडिया और नक्षत्र ब्रांड ने पीएनबी को 4,886.72 करोड़ का चूना 2017-18 में लगाया था। इसके लिए कंपनी ने बैंक से 143 लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (LoU) जारी करवाए थे। सीबीआई ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की कंपनियों को साख पत्र जारी करने में बैंक के अधिकारियों के रोल का पता लगा रही है। 
नीरव मोदी की दुकान से कई सिलेब्रिटीज और नेता कैश में ही हीरे जवाहरात खरीदा करते थे। रिपोर्ट के मुताबिक इस लिस्ट में बॉलीवुड की कई हस्तियां और नेता शामिल हैं। बता दें कि नोटबंदी के बाद जब सरकार की सख्ती हुई तो कई नामी-गिरामी लोगों ने ज्वैलरी खरीदने में नकदी का इस्तेमाल किया। यहां ये लोग कहने के लिए कुछ भुगतान कार्ड या चेक के जरिये करते थे जबकि ज्यादा भुगतान नकद किया जाता था। 

sabhar  

विधानसभा में आज-

- ध्यानाकर्षण के जरिये प्रयास आवासीय विद्यालय में शिष्यवृत्ति की राशि मे अनियमितता का मामला नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव और मोहन मरकाम उठाएंगे..... - ध्यानाकर्षण के दौरान अरुण वोरा एमसीआई के मापदंड के अनुरूप अम्बेडकर अस्पताल में व्यवस्था नहीं होने का मामला उठाएंगे.... - बजट पर विभागवार चर्चा शुरू होगी....आज मंत्री अमर अग्रवाल और अजय साहस चंद्राकर के विभागों के बजट अनुदान मांगों पर चर्चा होगी

आज जोगी की हुंकार, सीएम के खिलाफ करेंगे बड़ा ऐलान

राजनांदगांव अजीत जोगी के स्वागत के लिए पूरी तरह से तैयार है। पूरे शहर में जोगी के नाम से बैनर पोस्टर लगाए गए हैं। अजीत जोगी के नेतृत्व में रायपुर से चुनौती यात्रा एक हजार वाहनों के काफिले के साथ राजनांदगांव तक जाएगी।
रायपुर से चलकर काफिला पहले भिलाई के पावर हाउस पहुंचेगा। यहां करीब 300 वाहनों के काफिलों के साथ दुर्ग जिले के कार्यकर्ता जोगी के स्वागत के बाद काफिले में शामिल हो जाएंगे। राजनांदगांव के ठाकुर प्यारे लाल स्कूल जोगी अपनी उम्मीदवारी की घोषणा के साथ ही प्रदेश में चुनाव अभियान का आगाज करेंगें। राजनांदगांव में सीएम के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान भी करेंगे। राजनांदगांव में ‘एक शाम जोगी के साथ’ कार्यक्रम में अजीत जोगी 100 लोगों के साथ डिनर करेंगे। जोगी के साथ डिनर करने वालों को 11,000 रुपए देना होगा। 

रायपुर- विधानसभा बजट सत्र आज सीएम डॉ रमन सिंह पेश कर रहे हैं बजट

रायपुर- विधानसभा बजट सत्र आज सीएम डॉ रमन सिंह पेश कर रहें है बजट नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, मंत्री अजय चंद्रकार पहुँचे विधानसभा सत्ता और विपक्ष कई विधायक पहुँचे भाजपा के राष्ट्रीय सह-संगठन महामंत्री सौदान सिंह भी पहुँचे विधानसभ आज सीएम डॉ रमन सिंह पेश करेंगे बजट नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, मंत्री अजय चंद्रकार पहुँचे विधानसभा सत्ता और विपक्ष कई विधायक पहुँचे भाजपा के राष्ट्रीय सह-संगठन महामंत्री सौदान सिंह भी पहुँचे विधानसभा छत्तीसगढ़ की विकास यात्रा 18 वें वर्ष में प्रवेश कर चुकी है..

नए कीर्तिमान स्थापित किये गए है. - राष्ट्रीय पटल पर विशिष्ट पहचान मिली है. - सभी वर्गों की आर्थिक स्थिति में विकास हुआ है. - मूलभूत अधोसंरचना में सुधार आया है. - वित्त मंत्री के रूप में 12वा बजट पेश करते हुए मुझे प्रसन्नता हो रही है

* रमन ने बजट में किसानों के लिए खोला पिटारा, कृषि क्षेत्र के लिए 13 हजार 480 करोड़ रुपए दिए। 

* कृषि क्षेत्र में 29 फीसदी अधिक बजट का प्रावधान। 
* प्रदेश में कृषि के लिए 6 नए महाविद्यालय खोले जाएंगे। 
* कृषक ज्योति योजना के लिए 2957 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
* फसल क्षति के लिए 546 करोड़ का प्रावधान
* खेती के लिए उन्नति के गुर सीखेंगे छात्र। 
* पशु रेस्क्यु योजना शुरू होगी। 
* 60 हजार हेक्टेयर तक सिंचाई रकबा बढ़ाया जाएगा। 
* गन्ना किसानों को 40 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
* प्रधानमंत्री स्वास्थ्य योजना के लिए 315 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
* मुख्यमंत्री स्वास्थ्य योजना के लिए 120 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
* जल सिंचाई योजना के लिए 100 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
* पत्रकारों को 30 हजार तक का अधिक बीमा कवर। 
* BPL परिवारों को 40 यूनिट मुफ्त बिजली। 
* मेकाहारा में 100 अधिक नर्सों की भर्ती होगी। 
* आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय बढ़ाया जाएगा। 
* सिंचाई के लिए 91 करोड़ रुपए का प्रावधान। 
 * 12472 करोड़ स्कूल शिक्षा के लिए। 
* स्कूलों और कॉलेजों में सैनिटरी नैपकिन के लिए मशीनें लगेंगी।
* युवाओं के लिए 3894 करोड़ रुपए का प्रावधान।
* मेडिकल कॉलेजों के आधुनिकीकरण के लिए 62 करोड़ रुपए ।
* 30 नए कॉलेज खोले जाएंगे।
* सर्व शिक्षा अभियान के लिए 1500 करोड़।
* एसी/एसटी कल्याण के लिए 20645 करोड़ का प्रावधान।
* पं. दीनदयाल आदर्श महाविद्यालय योजना शुरु होगी।
* 11 पीजी कॉलेजों को आधुनिक किया जाएगा।
* लैपटॉप वितरण के लिए 60 हजार करोड़ का प्रावधान।
* प्रयास विद्यालय के छात्रों को लैपटॉप का एलान।
* सीएम कौशल रोजगार योजना शुरू होगी।
* 7 नए आईटीआई खोलने का एलान।
* राज्य में 25 नए पशु औषधालय खोले जाएंगे।
* योग प्रशिक्षण के लिए 25 लाख का प्रावधान।
* पीएम आवास योजना के तहत 6 लाख से ज्यादा आवास बनेंगे।
* समय सीमा के पूर्व ओडीएफ होगा छत्तीसगढ़।
* 60 मिनी स्टेडियम के लिए 30 करोड़ रुपए का प्रावधान।
* रोजगार सहायकों का वेतन 4650 से 6000 रुपए किया।
* ग्राम गौरव के लिए 220 करोड़ का प्रावधान।
* ग्रामीण हाउसिंग के लिए 2354 करोड़ रुपए का प्रावधान।
* ग्रामीण हाउसिंग कॉर्पोरेशन का गठन होगा।
* विधवा, परित्यक्ता को पेंशन देगी सरकार।
* जिपं अध्यक्ष की सैलरी 15 हजार रुपए होगी।
* जिपं उपाध्यक्ष की सैलरी 6 से 10 हजार रुपए हुई।
* जिपं सदस्यों का वेतन 4 से 6 हजार हुई।
* कृषि के लिए 13 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान।
* सभी जिला अस्पतालों में जांच मुफ्त।
* श्रमिकों को कैशलेस उपचार मिलेगा।
* बिजलीकर्मियों को 2 लाख का बीमा।
* तीन विकास प्राधिकरणों के लिए 106 करोड़ का प्रावधान ।
* नया रायपुर विकास के लिए 431 करोड़ रुपए।
* बीपीएल धारक छात्रों को 50 लाख स्मार्टफोन वितरित करेंगे।
* प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए 136 करोड़ रुपए का प्रावधान।
* रेल लाइन के लिए 1331 करोड़ रुपए का प्रावधान।
* ट्राइबल टूरिज्म के लिए 28 करोड़ रुपए।
* 1428 नए मोबाइल टावर लगाए जाएंगे।
* 9 नए औद्योगिक क्षेत्र स्थापित होंगे।
* कोटवारों का मानदेय बढ़ाने का एलान।
* पंचायत सचिवों का वेतन 24 हजार रुपए होगा।
* 8 नक्सल प्रभावित जिलों के लिए 250 करोड़ रुपए का फंड।
* साल 2018-19 के लिए कोई कर प्रस्तावित नहीं।

रायपुर विधानसभा अमित जोगी ने उठाया गजराज प्रोजेक्ट में खर्च की गई राशि का मामला

रायपुर -कांग्रेस विधायक अरुण वोरा ने वृक्षारोपण को लेकर उठाया सवाल. पूछा- बीते वर्ष दुर्ग जिले के जिस स्थान पर वृक्षारोपण किया गयाज़ उसी जगह ओर उतनी ही मात्रा में दोबारा वृक्षारोपण कैसे कर दिया गया? मंत्री महेश गागड़ा का जवाब- खाली जगह थी, जहां वृक्षारोपण किया गया. उप नेता प्रतिपक्ष कवासी लखमा ने मंत्री के जवाब पर असहमति जताई. जांच की मांग की. मंत्री ने जांच से इंकार किया दुर्ग जिले में बलात्कार के बाद 4 महिलाओं को हुई हत्या. कितनी नाबालिक युवती फिलहाल इसकी जानकारी नहीं- गृह मंत्री रामसेवक पैकरा बीजेपी विधायक साँवला राम डाहरे के सवाल पर दिया जवाब. डाहरे ने कहा- न्यायालय ने रेप पीड़िता को क्षतिपूर्ति देने का आदेश दिया है, लेकिन 2-3 साल बीतने के बाद भी मुआवजा नहीं दिया गया. बीजेपी विधायक ने कहा- मैंने खुद कलेक्टर को तीन पत्र लिखे है लेकिन इसके बाद भी निराकरण नहीं हुआ. - बीजेपी विधायक ने कहा- 37 प्रकरणों में चालान पेश नहीं किया गया है. - मंत्री रामसेवक पैकरा ने कहा- जांच के बाद ही चालान पेश किया जाता है. विवेचना में समय लगता है. कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा- रेप पीड़िता के मामले में सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट निर्देश है. कोर्ट के निर्देश का पालन क्यों नहीं किया जा रहा. अमित जोगी ने उठाया गजराज प्रोजेक्ट में खर्च की गई राशि का मामला....मंत्री महेश गागड़ा ने कहा- गजराज प्रोजेक्ट के प्रचार प्रसार में 9 लाख 75 हजार 234 रुपये खर्च हुए है. मंत्री ने कहा कि हाथियों के आतंक से अब यक 199 जनहानि हुई है 23 हाथियों की मौत हुई है. अमित जोगी ने हाथी कॉरिडोर से रेल लाइन के गुजरने का मुद्दा उठाया. मंत्री ने कहा 6 करोड़ 51 लाख की राशि प्रभावितों को मुआवजे के तौर पर दिया गया है. जोगी ने पूछा- कोरबा से गारे पेलमा रेल लाइन जिस जगह पर बन रही है, उस जगह पर 2005 एलिफेंट पार्क का प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया था इस पर क्या हुआ? एलिफेंट पार्क स्वीकृत होने के बावजूद नहीं बनाया गया. उस इलाके में अवैध खनन चल रहा है. मंत्री ने कहा- तमोर पिंगला में हाथी रेस्क्यू सेंटर बन रहा है.जल्द पूरा होगा. रायपुर विधानसभाविधानसभा सनम जांगड़े ने 2014 15 के मनरेगा योजना के तहत तीन पंचायतों में अब तक भुगतान नहीं होने का मामला उठाया। पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर ने संबंधित पंचायतों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। विपक्ष के सदस्यों ने कहा कि प्रदेश भर में मजदूरी का भुगतान बकाया है। मंत्री के इंकार करने पर सदन में हंगामा। विपक्ष ने कहा कि पूरे प्रदेश में जांच कराने की जरूरत है। मंत्री ने इंकार किया। मंत्री ने कहा कि 2015 16 तक का पूरा भुगतान हो गया है। अमरजीत भगत ने सदन की कमेटी बनाकर जांच कराने की मांग की। जांच का एलान करने से मंत्री के इंकार के बाद विपक्ष ने किया वाकआउट पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर ने सक्ती विधानसभा क्षेत्र में pmgsy और cmgsy की सड़कों की दोबारा जांच कराने की घोषणा की सदन में। खिलावन साहू के सवाल पर की जांच की घोषणा। कहा कि गडबड़ी करने वालों के खिलाफ की जाएगी कार्रवाईp>रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा में बजट सत्र के दूसरा दिन काफी हांगामेदार हो सकता है. क्योकि जहां एक ओर आज विपक्ष ने जनता के विभिन्न मुद्दो को लेकर सत्ता पक्ष पर हमाला करने की तैयारी की है, तो वही दूसरी ओर सत्ता पक्ष भी विपक्ष के इन हमलो का जवाब देने तैयार है.

बजट सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को छत्तीसगढ़ के पहले राज्यपाल दिवंगत दिनेश नंदन सहाय और अविभाजित मध्यप्रदेश में विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके श्रीनिवास तिवारी के निधन के उल्लेख कर सदन में श्रंद्धाजलि दी  गई 
 

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने दोनों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि दिनेश नंदन सहाय बहुत विद्वान थे। श्रीनिवास तिवारी मूलतः समाजवादी थे, उन्होंने विधानसभा में सबसे लंबा भाषण देने का रिकॉर्ड बनाया है।

नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कहा कि श्रीनिवास तिवारी के नाम 7 घंटे भाषण देने का रिकॉर्ड रहा। उनसे सभी घबराते थे। सिंहदेव ने सहाय को भी श्रद्धांजलि दी। संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर ने कहा कि छत्तीसगढ़ को आकार देने में सहाय की अहम भूमिका रही है। श्रीनिवास तिवारी ने संसदीय प्रणाली में नया आयाम स्थापित किया।

रमन सरकार की अभिनव पहल : महिला उत्पीड़न के खिलाफ महिलाओं को संगठित करने का निर्णय

रायपुर : राज्य में शुरू होगी महिला पुलिस स्वयं सेविका योजना मुख्यमंत्री आज करेंगे शुभारंभ पायलट प्रोजेक्ट के लिए दुर्ग और कोरिया जिले का चयन रायपुर-दहेज प्रताड़ना सहित महिला उत्पीड़न की विभिन्न घटनाओं की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार ने महिलाओं को संगठित करने का निर्णय लिया है। इसके लिए रमन सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग ने महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक अभिनव पहल करते हुए गृह विभाग के सहयोग से महिला पुलिस स्वयं सेविका योजना ’चेतना’ की शुरूआत करने की तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री कल तीन फरवरी को जिला मुख्यालय दुर्ग के सुराना महाविद्यालय परिसर में अपरान्ह 3.30 बजे आयोजित समारोह में इस योजना का शुभारंभ करेंगे। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू ने बताया कि प्रथम चरण में पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में यह योजना दुर्ग और कोरिया (बैकुण्ठपुर) जिलों में शुरू की जाएगी। योजना के तहत दोनों जिलों में स्वयं सेविका के रूप में 9 हजार से ज्यादा महिलाओं का चयन कर उन्हें प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। ये महिला स्वयं सेविकाएं अपने जिलों की महिलाओं को उनके कानूनी अधिकारों की जानकारी देंगी और महिला कल्याण से जुड़ी योजनाओं के बारे में भी उन्हें बताएंगी। महिला पुलिस स्वयं सेविका समाज और पुलिस के बीच जेण्डर आधारित मुद्दों पर एक सेतु के रूप में काम करेंगी। घरेलू हिंसा, बाल विवाह, जहेज प्रथा और मानव तस्करी जैसी घटनाओं के बारे में वे पुलिस को तत्काल जानकारी देंगी। योजना के तहत स्वयं सेविका के रूप में चयनित महिलाओं द्वारा अपने कार्य क्षेत्र की महिलाओं को सखी वन स्टाप सेंटर, महिला हेल्पलाइन 181, पुलिस हेल्पलाइन 100 और बच्चों की हेल्पलाइन 1098 के बारे में भी बताया जाएगा। स्वयं सेविका के रूप में महिलाओं का चयन पुलिस अधीक्षकों द्वारा किया जाएगा। स्वयं सेविका के रूप में काम करने की इच्छुक महिलाओं की आयु सीमा 21 वर्ष से अधिक और शैक्षणिक योग्यता 12 कक्षा होनी चाहिए। चयन होने पर उन्हें मोबाइल फोन और परिवहन व्यय आदि के लिए एक हजार रूपए का मासिक मानदेय भी दिया जाएगा। चयनित महिला के विरूद्ध किसी भी प्रकार की हिंसा या किसी भी प्रकार के अपराध का कोई प्रकरण दर्ज नहीं रहना चाहिए। महिला पुलिस स्वयं सेविका कोई भी ऐसी महिला हो सकती है, जो सामाजिक और स्वैच्छिक रूप से महिलाओं और बालिकाओं के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध हो और जो लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ आवाज उठाने और लैंगिक हिंसा से मुक्त समाज निर्माण के लिए पुलिस का समर्थन करने को तैयार हो। महिला पुलिस स्वयं सेविका का चयन संबंधित पुलिस अधीक्षकों द्वारा किया जाएगा। प्रत्येक ग्राम पंचायत और शहरी क्षेत्र के प्रत्येक वार्ड में कम से कम एक महिला पुलिस स्वयं सेविका तैनात रहेगी। चयनित महिला पुलिस स्वयं सेविका का प्रारंभिक कार्यकाल एक वर्ष का होगा। भारत सरकार से अनुदान प्राप्त होने की स्थिति में उनके कार्यों का समीक्षा कर कार्यकाल बढ़ाया जा सकेगा। उन्हें पहचान पत्र भी जारी किया जाएगा, ताकि उनके काम-काज के दौरान जनता के साथ उनका बेहतर समन्वय हो सके। महिला पुलिस स्वयं सेविकाओं में से उत्कृष्ट कार्य करने वाली तीन स्वयं सेविकाओं का जिला स्तर पर चयन कर उन्हें क्रमशः दस हजार रूपए, पांच हजार रूपए और तीन हजार रूपए का पुरस्कार दिया जाएगा।

: कबीर पंथियों के आस्था केन्द्र दामाखेड़ा से छत्तीसगढ़ को मिली देश-विदेश में विशिष्ट पहचान: मुख्यमंत्री

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के कबीर धर्म नगरी दामाखेड़ा में आयोजित संत समागम में शामिल हुए। उन्होंने मेले में शामिल कबीरपंथ के अनुयायियों को बधाई और शुभाकामनाएॅ दी। मुख्यमंत्री ने दामखेड़ा के तालाब के सौन्दर्यीकरण, मुख्य सड़क से दामखेड़ा तक दो किलोमीटर तक फोर लेन सड़क चौड़ीकरण तथा मजबूतीकरण और दामाखेड़ा में सीसी रोड निर्माण तथा स्वागत द्वार निर्माण की घोषणा की। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने संत समागम को संबोधित करते हुए कहा कि कबीर पंथियों के आस्था के केन्द्र दामाखेड़ा से छत्तीसगढ़ को देश-विदेश में विशिष्ट पहचान मिली है। मुख्यमंत्री ने कहा - दामाखेड़ा में हर साल माघ शुक्ल दशमीं से पूर्णिमा तक मेला एवं कबीर पंथियों के संत समागम होता है, इस साल इसका 114वां आयोजन है। यह स्वयं में एक अनूठा और गौरवशाली कीर्तिमान है। मेला में देश-विदेश से कबीर पंथ के लोग और संत महात्मा शामिल होते हैं। छत्तीसगढ़ संत महात्माओं की धरा है। राज्य के विकास में इनका सदैव से ही आशीर्वाद रहा है। संत कबीर का संदेश आज भी प्रासंगिक और अनुकरणीय है। उन्होंने प्रदेश में हो रहे विकास कार्यों के बारे में कहा कि छत्तीसगढ़ में उनके संदेशों का अनुसरण करते हुए समाज के अंतिम व्यक्ति तक विकास का लाभ दिलाया जा रहा है। यहां खद्यान्न एवं पोषण सुरक्षा सहित स्वास्थ्य, शिक्षा, अधोसरंचनाओं का समुचित विकास हुआ है। आने वाले समय में छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में गिना जायेगा। उन्होंने बताया कि सौभाग्य योजना के तहत प्रदेश के सभी घरो में बिजली पहुंचायी जा रही है। इसी तरह मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत अब प्रत्येक स्मार्ट कार्ड में तीस हजार से बढ़ाकर पचास हजार रूपये तक इलाज की सुविधा दी जा रही है। विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने कहा कि कबीर धर्म का संचालन दामाखेड़ा से हो रहा है, हम सब मिलकर कबीर के संदेश को जन-जन तक पहुंचा रहे हैं और इससे प्रदेश में सामाजिक समरसता का वातावरण बना है। छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिवरतन शर्मा ने दामाखेड़ा में आवश्यक निर्माण एवं विकास कार्यों को पूरा करने के संबंध में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को अवगत कराया। उन्होंने क्षेत्र के विकास के लिये सरकार द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों की सराहना की और उपलब्धियों को गिनाया। कबीर पंथ के 15वें पंथ श्री प्रकाश मुनि नाम साहब ने कहा कि कबीर पंथियों के आस्था के केन्द्र दामाखेड़ा में 1904 से यह समागम मेला का आयोजन हर वर्ष किया जाता है। जिसमें कबीरपंथ के अनुयायी बड़ी संख्या में शामिल होकर विचारों का अदान प्रदान करते हैं। इस अवसर पर संसदीय सचिव अवधेश चंदेल, पूर्व विधान सभा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक, जिला पंचायत कलेक्टर राजेश सिंह राणा, पुलिस अधीक्षक आर एन दाश, दामाखेड़ा सरपंच कमलेश साहू तथा कबीर पंथ के अनुयायी बड़ी संख्या में मौजूद थे।

गणतंत्र दिवस समारोह -2018 : राज्यपाल श्री बलरामजी दास टण्डन ने किया ध्वजारोहण : राज्य वीरता पुरस्कार से 7 बच्चे सम्मानित

29 पुलिस अधिकारियों को मिला पदक-अलंकरण
स्कूली बच्चों की सांस्कृतिक प्रस्तुति ने मन मोह लिया
झांकियों में दिखा चौदह साल के विकास की झलक

 रायपुर में 69 वां गणतंत्र दिवस समारोह अत्यंत हर्ष और उल्लास के साथ मनाया गया। राज्य स्तरीय मुख्य समारोह यहां पुलिस परेड मैदान में संपन्न हुआ। राज्यपाल श्री बलरामजी दास टण्डन ने गरिमामय वातावरण में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। उन्होंने इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद की ओर से 7 नन्हें बच्चों को राज्य वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया। छत्तीसगढ़ पुलिस की विभिन्न पुरस्कार योजनाओं के अंतर्गत उल्लेखनीय कार्यों के लिए 29 पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों पुरस्कृत किया गया। स्कूली बच्चों ने इस अवसर पर देशभक्तिपूर्ण धुनो पर राज्य के विकास और संस्कृति को उकेरते हुए मनोरम प्रस्तुतियां दी। राज्य के विकास और विभिन्न जनकल्याणकारी योजनओं को प्रदर्शित सरकारी विभागों द्वारा झांकी भी निकाली गई, जिसे दर्शकों ने बड़ी दिलचस्पी के साथ अवलोकन किया। सुरक्षा  बलों, एनसीसी, स्काऊट-गाईड द्वारा इस अवसर पर आकर्षक मार्च पास्ट किया गया।नौ बच्चों को मिला राज्य वीरता पुरस्कार
छत्तीसगढ राज्य बाल कल्याण परिषद की ओर से 7 बच्चों को राज्य वीरता पुरस्कार प्रदान किया गया। इनमें श्री कृष्णा सेठिया, आमागुड़ा जगदलपुर, श्री झगेन्द्र साहू एवं श्री रितिक साहू रायपुर, कु. खेमलता साहू ग्राम सौंगा जिला धमतरी, कुमारी खुशी साहू रामसागर पारा, रायपुर, श्री प्रशांत सिदार, ग्राम पंचधार,सरिया जिला रायगढ़ और कुमारी लक्ष्मी यादव शक्तिनगर रायपुर शामिल हैं।
राज्य पुलिस के 29 अधिकारियों और कर्मचारियों को पदक-अलंकरण
राज्यपाल श्री टण्डन ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए राज्य पुलिस, जेल एवं नगर सेना के 29 अधिकारियों और कर्मचारियों को सम्मानित किया। इनमें पुलिस वीरता पदक के अंतर्गत शहीद श्री अविनाश शर्मा, उप निरीक्षक जिला कांकेर, श्री लक्ष्मण केंवट, निरीक्षक जिला राजनांदगांव, शहीद श्री शंकर राव प्लाटून कमाण्डर एसटीएफ बघेरा जिला दुर्ग, श्री गोरखनाथ बघेल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा और श्री रामेश्वर देशमुख निरीक्षक जिला बीजापुर शामिल हैं। विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक सम्मान से वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी श्री अरूण देव गौतम को नवाजा गया है। सराहनीय सेवा के लिए भारतीय पुलिस पदक पाने वालों में श्री प्रखर पाण्डेय पुलिस अधीक्षक, मुख्यमंत्री सुरक्षा, श्री अरविन्द कुमार कुजूर पुलिस अधीक्षक, ईओडब्ल्यू रायपुर, श्री तिलकराम कोशिमा एसपी बलरामपुर, डॉ. लाल उमेद सिंह, एसपी कबीरधाम, श्री महेन्द्र कुमार यादव कम्पनी कमाण्डर, एसटीएफ बघेरा दुर्ग, श्री जगमोहन कुंजाम, प्रधान आरक्षक बेमेतरा, श्री संतोष कुमार लोधी प्रधान आरक्षक , जिला बस्तर तथा श्री राजेन्द्र कुमार देशमुख प्रधान आरक्षक जिला दुर्ग शामिल हैं। गृह रक्षक एवं नागरिक सुरक्षा पदक से श्री शेखर नारायण बोरवणकर जिला सेनानी, नगर सेना दुर्ग, श्री धरमदास साहू हवलदार नगर सेना राजनांदगांव, श्री राम अनुग्रह विश्वकर्मा हवलदार नगर सेना अम्बिकापुर, श्री नरोत्तमलाल नेताम, नायक ,नगर सेना राजनांदगांव, श्री चुमनलाल नामदेव, नायक, नगर सेना जगदलपुर को सम्मानित किया गया है। सराहनीय सुधार सेवा पदक से श्री जगनलाल कचलरिया, शीघ्रलेखक ग्रेड-2, मुख्यालय जेल रायपुर, श्री उत्तम कुमार पटेल, उप जेल अधीक्षक केन्द्रीय जेल रायपुर, श्री छबि प्रसाद शर्मा मुख्य प्रहरी जिला जेल कोरबा, श्री श्यामसुन्दर धु्रव, मुख्य प्रहरी उप जेल सूरजपुर, श्री सन्नी अहमद टोप्पो मुख्य प्रहरी, उप जेल सूरजपुर तथा श्री होतम सिंह मौर्य मुख्य प्रहरी जिला जेल जशपुर  सम्मानित किए गए हैं। इसी प्रकार यूनियन होम मिनिस्टर मेडल से श्री श्याम सुन्दर शुक्ला सेवानिवृत्त उप पुलिस अधीक्षक, राज्य पुलिस अकादमी, चंदखुरी, श्री ओंकार सिंह राजपूत कम्पनी कमाण्डर, प्रथम वाहिनी, भिलाई, श्री भगवत सिंह तोमर प्लाटून कमाण्डर पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय, माना, रायपुर तथा श्री मनहरण वर्मा प्रधान आरक्षक राज्य पुलिस अकादमी चंदखुरी से सम्मानित किया गया है।

 

69 वें गणतंत्र दिवस की परेड में इस साल 23 झांकियांहोंगी शामिल

नई दिल्ली। इस साल 69वें गणतंत्र दिवस की परेड में कुल 23 झांकियां शामिल होंगी। इनमें 14 झांकियां राज्यों की तथा नौ झांकियां विभिन्न सरकारी विभागों की होंगी। पहली बार राजपथ पर आसियान देशों की भी दो झांकियां रहेंगी। दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान की झांकी को इस बार प्रतिनिधित्व नहीं मिला है। सोमवार को दिल्ली कैंट स्थित राष्ट्रीय रंगशाला में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी रंगशाला के विशेष कार्य अधिकारी दलपत सिंह ने दी। उनके साथ रक्षा विभाग के जनसंपर्क अधिकारी मरीन मई भी मौजूद थे। दलपत सिंह ने बताया कि सभी झांकियों का चयन रक्षा मंत्रालय द्वारा गठित 12 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति द्वारा किया गया है। इस समिति में कला संस्कृति से जुड़ी हस्तियों में भजन सोपोरी, ए रामानाथन, मुकुल पंवार, किरण सहगल व कौशल वालिया भी शामिल थे। इन 23 झांकियों के अलावा दो झांकियां जलसेना और वायुसेना की भी रहेंगी। हालांकि ये दोनों झांकियां भी साथ ही चलेंगी, लेकिन उन्हें उक्त 23 झांकियों में शामिल नहीं किया गया है। इन झांकियों के साथ 342 कलाकार भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने बताया कि रविवार शाम रंगशाला में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। इसमें विभिन्न राज्यों और सरकारी विभागों की 16 टीमों ने भाग लिया। इस अवसर पर महाराष्ट्र की टीम को प्रथम, युवा एवं खेल मंत्रालय की टीम को द्वितीय, गुजरात की टीम को तृतीय जबकि उत्तराखंड की टीम को सांत्वना पुरस्कार मिला। परेड में शामिल होने वाले राज्य व उनकी थीम राज्य थीम कर्नाटक प्रकृति, वन क्षेत्र, पशु पक्षी मध्य प्रदेश सांची स्तूप त्रिपुरा हस्तशिल्प एवं संस्कृति पंजाब संगत-पंगत-लंगर जम्मू-कश्मीर रहन-सहन उत्तराखंड ग्रामीण पर्यटन महाराष्ट्र छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक छत्तीसगढ़ रामगढ़ के प्राचीन एम्फी थियेटर केरल मंदिर उत्सव में श्रद्धालुओं की भेंट असम मुखौटा बनाने की कला मणिपुर खंबा थोयभी लोक नृत्य गुजरात साबरमती आश्रम और गांधी जी के सौ वर्ष हिमाचल प्रदेश बौद्ध विहार के गोंपा नईदुनिया