बड़ी खबर

कोरिया जिले में आरटी-पीसीआर सैंपल की रिपोर्ट पेंडिंग होने के कारण कोरोना जांच बंद

 

कोरिया जिले में आरटी-पीसीआर सैंपल की रिपोर्ट पेंडिंग होने के कारण कोरोना जांच बंद कर दी गई है। पिछले तीन दिन में एक भी आरटी-पीसीआर सैंपल जांच करने नहीं भेजा गया है। अब ट्रूनॉट से टेस्ट (True Not Test) पर फोकस किया जा रहा है।

 कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) का पता लगाने एंटीजन, ट्रूनॉट सहित आरटी-पीसीआर जांच होती है। एंटीजन से रिपोर्ट निगेटिव आने और लक्षण पाए जाने पर आरटी-पीसीआर जांच से संक्रमण की पुष्टि होती है।

कोरिया जिले में जांच सुविधाएं नहीं होने के कारण अंबिकापुर वायरोलॉजी लैब  में सैंपल भेजा जाता है। कोरिया से भेजे गए करीब 2 हजार सैंपल की रिपोर्ट एक सप्ताह से पेंडिंग होने के कारण सैंपलिंग बंद कर दी गई है।

सरगुजा संभाग के इकलौते वायरोलॉजी लैब में 6 हजार से ज्यादा कोरोना सैंपल पेंडिंग, रोक दी गई आरटीपीसीआर सैंपलिंग


मेडिकल एक्सपर्ट के अनुसार आरटी-पीसीआर (यानी रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलीमर्स चेन रिएक्शन) टेस्ट से व्यक्ति के शरीर में वायरस का पता लगाया जाता है। जिसमें वायरस के आरएनए की जांच की जाती है। नाक और गले से म्यूकोजा के अंदर वाली परत से स्वैब लिया जाता है। टेस्ट की रिपोर्ट आने में सामान्यत: 6 से 8 घंटे का समय लग सकता है।

 

आरटीपीसीआर टेस्ट शरीर में वायरस (Corona Virus) की मौजूदगी का पता लगाने में सक्षम है। फिलहाल आरटीपीसीआर के कुछ सैंपल जिला अस्पताल के लैब में किनारे पड़े हैं।

सैंपल को अधिक समय तक रखने के कारण सही रिपोर्ट सही रिपोर्ट की पुष्टि मुश्किल हो सकती है। वहीं आरपीटीसीआर सैंपल बंद होने करने के बाद ट्रूनाट सैंपलिंग पर अधिक फोकस कर रहे हैं।

 अंबिकापुर में वायरोलॉजी लैब से कोरोना की जांच शुरू, अब फटाफट आएगी रिपोर्ट, यहां के लैब की ये है खासियत


कोरिया से एक बार में 200 सैंपल भेजा जाता है अंबिकापुर
जानकारी के अनुसार कोरिया से एक बार में 200 आरटी-पीसीआर सैंपल लेकर जांच कराने वायरोलॉजी लैब अंबिकापुर भेजा जाता है। जिससे जिले की जांच रिपोर्ट आने में काफी समय लग जाता हैं। वहीं दूसरी ओर 2 हजार सैंपल की रिपोर्ट पेंडिंग होने के कारण सैंपलिंग बंद है।

फिलहाल बैकुंठपुर में करीब ढाई करोड़ की लागत से वायरोलॉजी लैब बनकर तैयार है। स्वास्थ्य विभागवायरोलॉजी लैब में जल्द ही आरटी-पीसीआर जांच के लिए सेटअप तैयार कराने में जुटा हुआ है। कोरिया से अब तक 28 हजार 908 सैंपल की जांच में 1 हजार 731 पॉजिटिव रिपोर्ट आई है।
  
वहीं ट्रूनॉट के 28 हजार 231 सैंपल में 3 हजार 47 पॉजिटिव और 1 लाख 50 हजार 43 रैपिड एंटीजन की जांच में 10 हजार 28 पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। फिलहाल कोरिया में कुल 14 हजार 805 पॉजिटिव मिले हैं। इसमें 9 हजार 824 पॉजिटिव रिकवर हुए हैं और 4 हजार 75 एक्टिव केस व 103 पॉजिटिव की मौत हो चुकी है।

तैयार हो गया है वायरोलॉजी लैब
बहुत सैंपल जाने की वजह से रिपोर्ट में देरी हो रही है। हमारा वायरोलॉजी लैब तैयार हो गया है। कुछ टैक्निकल परेशानियां दूर होते ही आरटी-पीसीआर जांच शुरु होगी और रिपोर्ट भी जल्द मिलेगी।
डॉ. रामेश्वर शर्मा, सीएमएचओ कोरिया

डी जी पी ने ली 23 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों के स्वास्थ्य की जानकारी बटालियनों के कमांडेंट्स और पीटीएस के पुलिस अधीक्षकों से की बात....

 

रायपुर 4 मई। डीजीपी  डीएम अवस्थी ने आज राज्य की सभी 22 बटालियनों के कमांडेंट्स और पुलिस ट्रेंनिग स्कूल के पुलिस अधीक्षकों से वीडियो कांफ्रेंसिंग पर बात कर 23 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों के स्वास्थ्य की जानकारी ली । डीजीपी ने कहा कि सभी पुलिसकर्मी संक्रमण के प्रति सजगता बरतते हुए सावधानी पूर्वक ड्यूटी करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि पुलिस बल के साथ उनके परिजनों का भी ध्यान रखें। बहुत से जवान कम्पनियों में अपने परिजनों से दूर रहते हैं। ऐसे में आप सभी जवानों के परिजनों से सतत सम्पर्क में रहें। उन्हें किसी भी प्रकार की जरूरत हो तो तत्काल उपलब्ध कराएं। इससे पुलिसकर्मियों का मनोबल बना रहेगा। उन्होंने कहा कि संकट के इस समय में मानवीय पहलू का अवश्य ध्यान रखें। 
डीजीपी ने निर्देश दिए कि सभी बटालियनों में एक आइसोलेशन सेंटर जरूर बनायें। जिसमें छुट्टियों से लौटने वाले एवं संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये पुलिसकर्मियों को रखा जाए। कमांडेंट्स ने जानकारी दी कि बटालियनों में एक बैरक में आइसोलेशन की व्यवस्था की गई है। वहां पर जवानों में संक्रमण की जांच भी की जा रही है। लगभग सभी जगह जवानों को वैक्सीन की दूसरी डोज भी लग गयी है। इससे संक्रमण और बीमारी की गम्भीरता में कमी दर्ज हुई है। अधिकांश जवान होम आइसोलेशन में ठीक हो रहे हैं।
 डीजीपी ने कहा कि जो जवान वैक्सीनेशन से छूट गए हैं उन्हें भी वैक्सीन लाववाने के प्रेरित करें। इसके साथ ही जवानों को बताएं कि वैक्सीन लगवाने के बाद लापरवाही ना बरतें। मास्क और पर्याप्त दूरी बनाकर रखें।
डीजीपी ने कहा कि जिस बटालियन में फंड की कमी हो वे तत्काल जानकारी भेजें। तत्काल फंड उपलब्ध कराया जाएगा। सुविधा के अभाव में किसी भी जवान की क्षति नहीं होनी चाहिए।
सभी कमांडेंट्स और पीटीएस के पुलिस अधीक्षक प्रशंसनीय काम कर रहे हैं। आप सभी स्वयं का, अपने और पुलिस परिजनों के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।

गरियाबंद पुलिस ने हीरा तस्करों को 50 लाख कीमत के 440 नग हीरे के साथ किया गिरफ्तार

गरियाबंद 4 मई ।  गरियाबंद जिले में अवैध कारोबारियों के खिलाफ लगातार कार्यवाही जारी है। जिससे जिले में लगातार अभियान चलाकर हीरा तस्करों, अवैध शराब बिक्री, गांजा विक्रेता एवं जुआ/सट्टेबाजो पर नकेल कसी है। गरियाबंद जिले में पहली बार 440 नग हीरा कीमती लगभग 50 लाख रूपये दो आरोपी हीरा तस्करों से जप्त कर कार्यवाही की गई है। पूर्व में 07 प्रकरणों में 672 नग हीरा जप्त कर आरोपियों को जेल दाखिल किया गया है। 
पुलिस अधीक्षक  भोजराम पटेल को मुखबीर से सूचना प्राप्त हुई कि दो व्यक्ति बहुमुल्य हीरा अपने पास रखकर सफेद रंग की होण्डा एक्टिवा में छुरा-फिंगेश्वर मार्ग होते हुए रायपुर की ओर जा रहे है। मुखबीर से प्राप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक द्वारा थाना प्रभारी फिंगेश्वर के नेतृत्व में टीम गठित कर नाकाबंदी पाईन्ट लगाने निर्देशित किया गया। थाना प्रभारी फिंगेश्वर उप निरीक्षक भूषण चन्द्राकर द्वारा बोरिद चैक (फिंगेश्वर) के पास नाकाबंदी पाईन्ट लगाया गया और छुरा की तरफ से आने वाली वाहनों को सघनता से चेक किया गया। चेकिंग के दौरान होण्डा एक्टिवा में सवार दो व्यक्ति पुलिस को देखकर हड़बड़ा गये और भागने लगे, जिसे सजगता से घेराबंदी कर पकड़ा गया। पकड़े गये दोनों व्यक्ति की तलाशी लेने पर आरोपियों के पास से 440 नग हीरा मिला। आरोपियों से पुछताछ करने पर कोई वैध कागजात प्रस्तुत नही किया। जिस पर आरोपियों के विरूद्ध थाना फिंगेश्वर में अपराध क्रमांक 91/2021 धारा 379,34 भादवि, 4(21) माइनिंग एक्ट दर्ज कर दोनों आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार किया गया। आरोपियों से प्राप्त 440 नग हीरा, प्रयुक्त दोपहिया वाहन एवं मोबाईल को जप्त किया गया। उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी फिंगेश्वर उप निरीक्षक भूषण चन्द्राकर, प्रधान आरक्षक रणजीत साहू, नेमीचंद पटेल, आरक्षक कृतेश प्रजापति, लक्ष्मीकांत साहू, भूषण निषाद, भोगचंद कश्यप का कार्य सराहनीय रहा। 
 
 
गरियाबंद जिले के पुलिस कप्तान भोजराम पटेल ने बताया कि जिले में तस्करों के खिलाफ अवैध गतिविधियों में संलिप्त रहने वालों के खिलाफ लगातार कार्यवाही जारी है। पूर्व में भी माईनिंग एक्ट, वन्यप्राणी अधिनियम, नारकोटिक्स एक्ट, आबकारी अधिनियम के अंतर्गत लगातार कार्यवाही की गई है। 
 
थाना फिंगेश्वर - अपराध क्रमांक 91/2021 धारा 379,34 भादवि, 4(21) माइनिंग एक्ट
 
 गिरफ्तार आरोपी :- 
(01) सुभाष मंडल पिता गौरंग मंडल उम्र 43 वर्ष साकिन वार्ड नं. 55 टिकरापारा भगत सिंह चैक मिश्र सदन रायपुर थाना टिकरापारा, जिला रायपुर (छ.ग.)
(02) उज्जवल चंन्द्राकर पिता पवन चन्द्राकर उम्र 30 वर्ष साकिन वार्ड नं. 08 एकता चैक दलदल सिवनी मोवा थाना मोवा जिला रायपुर (छ.ग.)
 
 जप्त सामग्री:- 
(01) कागज की पुड़िया में 440 नग हीरा पत्थर खनिज पदार्थ कीमती 50 लाख रूपये
(02) एक मोटर सायकल होण्डा एक्टिवा सी.जी. 04 के.आर. 4813 कीमती 30,000/- रूपये
(03) दो नग मोबाईल जुमला कीमती 5,000/- रूपये

छत्तीसगढ़ NSUI 5 मई से मोदी टीका दो अभियान की करेगी शुरुआत

A Report By : yash kumar lata 

छत्तीसगढ़ी एनएसयूआई द्वारा दिनांक 5 मई 2021 से एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा के निर्देश पर तीन दिवसीय अभियान प्रारंभ किया जा रहा है जिसका नाम "मोदी टीका दो" रखा गया है यह तीन चरण में किया जाएगा।।

▪️ 5 मई को एनएसयूआई के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अपने घर पर रहकर एक दिवसीय सत्याग्रह करेगी एवं तख्ती लेकर अपने घर पर ही सत्याग्रह करेगी।।

▪️ 6 मई को एनएसयूआई द्वारा सोशल मीडिया पर #speakupforvaccine अभियान चलाया जाएगा जिसमें केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को सोशल मीडिया के माध्यम से वैक्सीन उपलब्ध कराने को लेकर मांग की जाएगी इस में एनएसयूआई के हजारों कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी भाग लेंगे।।

▪️ 7 मई को एनएसयूआई द्वारा भाजपा के 9 सांसद एवं 14 विधायक के घरों के सामने जाकर पदाधिकारियों द्वारा उनसे इस कठिन समय पर राजनीति ना कर केंद्र सरकार को सूचित करें कि राज्य को एक ही दाम पर वैक्सीन दी जाए। जिस प्रकार केंद्र को 150 में दी जा रही है एवं राज्यों को उसे दुगने दाम पर वैक्सीन बेची जा रही है इसको लेकर एनएसयूआई के पदाधिकारी घर के सामने बैठकर उनसे यह मांग करेंगे..!!

एन.एस.यू.आई प्रदेश प्रवक्ता पं. आयुष पाण्डेय ने बताया की कल से एनएसयूआई पूरे प्रदेश में "मोदी टीका दो" अभियान की शुरुआत करने जा रही है यह अभियान प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा जी के नेतृत्व में 3 दिन तक चलेगा इस अभियान के तहत विभिन्न प्रकार से हम केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को इस आपदा के समय में राजनीति ना कर पर सभी प्रदेशों को वैक्सीन पहुंचाने का काम करें और एक ही दाम पर वैक्सीन बेची जाए एवं वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए इसी को लेकर एनएसयूआई लगातार तीन दिन विभिन्न तरीकों से अभियान करेगी !

बिस्तर उपलब्ध होने पर भी कोरोना मरीजों को एडमिशन न देने वाले अस्पतालों पर की जाएगी कार्यवाही

रायपुर 4 मई/ अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नई दिल्ली द्वारा जारी किये गए नए प्रोटोकाल अनुसार एवं राज्य के वरिष्ठ डाक्टरों की अनुशंसा पर कोविड के ईलाज हेतु स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, छत्तीसगढ़ द्वारा नया प्रोटोकॉल जारी किया गया है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली एवं आईसीएमआर की अनुशंसा अनुसार निर्देश जारी किए गए हैं कि रेमेडीसिविर, टोसीलिजुमाब एवं प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग केवल अस्पतालों में ही किया जाए। इन दवाओं को प्रिस्काइब करने वाले डाक्टर की यह जिम्मेदारी होगी कि वह इन दवाओं के संबंध में मरीज की आवश्यकता का आकलन कर लें एवं यह भी सुनिश्चित कर ले कि मरीज को अन्य कोई बीमारी जैसे किडनी रोग, ह्दय रोग, कैंसर आदि तो नहीं, यह दवाएं अभी एक्सपेरीमेंटल दवाएं हैं। अतः इन दवाओं को किसी भी मरीज को देने से पूर्व मरीज के परिजन से इन्फार्ड कंसेन्ट प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

साथ ही राज्य सरकार ने यह भी निर्देश दिए है कि इन दवाओं के उपयोग के संबंध में राज्य चिकित्सा परिषद द्वारा दवाओं के उपयोग की ऑडिट की जाएगी एवं बिना किसी कारण ऐसी दवाएं प्रिस्काईब करने वाले डाक्टर के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

राज्य सरकार ने आदेश जारी किया है कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर द्वारा 5 अलग-अलग दल बनाए जाएगें, जो कि निजी अस्पतालों का भ्रमण कर यह सुनिश्चित करेंगे कि पोर्टल पर बेड उपलब्धता की जानकारी अद्यतन रहे एवं बेड उपलब्ध होने की स्थिति में किसी भी मरीज को भर्ती होने से वंचित न होना पड़े। यह भ्रमण दल अस्पतालों में मरीजों से मिल यह भी ज्ञात करेंगे कि अस्पताल द्वारा मरीजों को भर्ती से वंचित तो नहीं किया जा रहा। यदि कोई अस्पताल मरीज को बेड उपलब्ध होने के बावजूद भर्ती करने से इंकार करता है तो ऐसी स्थिति में छत्तीसगढ़ उपचर्या गृह एवं रोगोपचार संबंधी स्थापनाए अधिनियम 2010 एवं नियम 2013 महामारी अधिनियम 1897 की कंडिका दो एवं छ.ग. एपिडेमिक डिसीज कोविड-19 रेगुलेशन 2020 की कण्डिका 3 के अंतर्गत ऐसे अस्पतालों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।

बलौदाबाजार : लॉकडॉउन के दौरान ग्रामीणों को रोजगार मुहैया कराने में बलौदाबाजार -भाटापारा जिला पूरे राज्य में अवल्ल

बलौदाबाजार, 3 मई 2021

लॉकडॉउन के दौरान मनरेगा के माध्यम से ग्रामीणों को रोजगार मुहैया कराने में बलौदाबाजार-भाटापारा जिला पूरे राज्य में अवल्ल रहा हैं।महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के माध्यम से 69,521 ग्रामीण श्रमिकों को रोजगार मिल रहा हैं। जिससे निश्चित ही ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती मिल रहीं हैं।
राज्य सरकार के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने आज राज्य भर में मनरेगा से सम्बंधित मई माह के आंकड़े प्रकाशित किये हैं। जिसमें श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने के  सँख्यात्मक दृष्टि से बलौदाबाजार -भाटापारा जिला राज्य में पहले स्थान पर बना हुआ हैं। क्रमशः दूसरे स्थान पर रायगढ़ एवं तीसरे स्थान पर राजनांदगांव जिला हैं। सहायक परियोजना अधिकारी मनरेगा के के साहू ने बताया कि कलेक्टर श्री जैन के  निर्देशॊ का पालन करते हुए पंजीकृत श्रमिकों को मांग के अधार पर रोजगार उपलब्ध कराये जा रहें हैं। जिसकी लगातार समीक्षा जिला पंचायत सीईओ के द्वारा की जा रहीं है। के के साहू ने कहा कि मई माह के प्रथम सप्ताह मे जिले मे कुल 69,521 श्रमिक कार्यरत हैं। जिसमें जनपद पंचायत कसडोल  में 20,505, बिलाईगढ़ 18,166,सिमगा 12,593 बलौदाबाजार 6,943,भाटपारा 5,926 एवं पलारी मे 5,388 श्रमिक कार्यरत हैं। निश्चित ही ग्रामीणों को उनके गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराये जाने से  उनके आर्थिक स्थिती को और मजबूती मिलेगी। उन्होंने आगें बताया कोरोना संक्रमण के चलते सभी कार्यस्थलों में  कोविड गाइडलाइन का पालन भी सुनिश्चित किया जा रहा हैं। जिसका सतत निगरानी जिला स्तर से किया जा रहा है। प्रमुखतः एक साथ 2-3 कार्य को प्रारम्भ कर वार्ड वार श्रमिकों का विभाजन,एक गोदी के बीच मे एक गोदी का अन्तराल, एक परिवार को एक ही जगह कार्य पर नियोजित करना,सेनेटाईजर और मास्क का उपयोग शामिल हैं।
कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने दी बधाई कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने जिला पंचायत की इस उपलब्धि पर मनरेगा में कार्यरत सभी कर्मचारियों एवं अधिकारियों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने कहा यह स्थान हमेशा बनें रहें इसके लिए आप सभी प्रयासरत करतें रहें। साथ ही मनरेगा कार्य के दौरान कोविड गाईडलाइन का अनिवार्य रूप से पालन हो इसका विशेष ध्यान रखें। प्रभारी जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी हरिशंकर चौहान ने भी टीम को बधाई देतें हुए सतर्कता पूर्वक कार्य करनें की बात कही। साथ ही उन्होंने जिले के सभी जनपद पंचायत सीईओ को निर्देश दिये है की वे कार्यो का निरीक्षण सतत रुप से योजना बना कर करे। साथ ही जिन ग्राम पंचायत मे मजदूरी मूलक कार्य नहीं है उन पंचायतों के लिये कार्य स्वीकृति का प्रस्ताव कार्यालय जिला पंचायत को तत्काल भेजें।
वृक्षारोपण का तैयारी प्रारंभ
जिले मे वर्षा काल मे रोपित किये जाने वाले वृक्षारोपण हेतु तैयारी प्रारंभ कर दी गयी है। वर्तमान मे वृक्षारोपण के लिए गड्डे खुदाई का कार्य आरंभ किया गया है। चयनित सभी स्थलो मे 20 मई तक गड्डा हो जाये ये सुनिश्चित करने का भी निर्देश प्रभारी जिला पंचायत सीईओ ने सभी जनपद सीईओ, मनरेगा के कर्मचारियों,तकनीकी सहायकों को दिये हैं।

रायपुर : अन्य राज्यों से आने वालों को कोरेंटीन सेंटर में ठहराना और कोरोना जांच कराना जरुरी- मुख्यमंत्री श्री भूपेश


रायपुर 3 मई 2021

 मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ राज्य में अन्य राज्यों से आने वाले लोगों, प्रवासी श्रमिकों को अनिवार्य रूप से क्वारेंटिंन सेंटर में ठहराने और उनका करोना टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं । मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा है कि राज्य के कई ग्रामीण इलाकों में अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी श्रमिकों एवं  लोगों के संक्रमित होने की जानकारी मिल रही है । राज्य में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए यह जरूरी है , कि अन्य राज्यों से आने वाले लोगों को गांव, घर- परिवार के बीच जाने देने के बजाय उन्हें गांव के बाहर स्थापित क्वॉरेंटीन सेंटर में कुछ दिनों के लिए एहतियात के तौर पर अनिवार्य रूप से ठहराया जाए और उनका कोरोना टेस्ट भी कराया जाए। कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट नेगेटिव होने पर ही उन्हें गांव एवं घर परिवार में जाने की अनुमति दी जाए।  यह इसलिए  जरूरी है कि थोड़ी सी सावधानी बरतकर हम गांव और ग्रामीणों को संक्रमित होने से बचा सकते हैं । 
मुख्यमंत्री ने पंचायत पदाधिकारियों , शासन की सभी विभागों के ग्रामीण अमले के कर्मचारियों विशेषकर मितानिनों,आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, कोटवारों से अन्य राज्यों से गांवों में आने वाले पर निगरानी रखने और उन्हें क्वॉरेंटीन सेंटर में ठहराने के लिए समझाइश देने को कहा है । मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस निर्देश का पालन न करने वालों की सूचना तत्काल संबंधित इलाके तहसीलदार, एसडीएम एवं जिला प्रशासन को दी जानी चाहिए। 

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बिलासपुर एवं सरगुजा संभाग के ग्रामीण इलाके के मितानिनों एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से गांवों में कोरोना संक्रमण की स्थिति की जानकारी ले रहे थे । इस दौरान रायगढ़ जिले के तमनार के एक ही मोहल्ले में 30 से अधिक लोगों के संक्रमित होने की मितानिन द्वारा जानकारी दिए जाने पर मुख्यमंत्री ने जब विस्तार से पूछताछ की तो मितानिन श्रीमती गोमती साहू  ने बताया कि यह सभी लोग बाहर कमाने  गए थे । अभी लौट कर आए हैं । कोरोना जांच में  सभी पॉजिटिव  पाए गए हैं । कमोबेश इसी तरह की जानकारी अन्य क्षेत्रों की मितानिनो एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा  दी गई थी।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने सभी नागरिकों से कोरोना संक्रमण के वर्तमान हालात को देखते हुए राज्य शासन द्वारा निर्धारित व्यवस्था का पालन करने की अपील की है । मुख्यमंत्री ने कहा है कि सभी के सहयोग एवं सावधानी से ही कोरोना को रोकने और उसे परास्त करने में कामयाबी मिलेगी।

छत्तीसगढ़ : बिना अनुमति के निजी अस्पताल में टीकाकरण , प्रशासन ने किया सील


छत्तीसगढ़ : बिना अनुमति के निजी अस्पताल में टीकाकरण , प्रशासन ने किया सील

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में 600 रुपए लेकर वैक्सीन लगा रहे कमलेश नेत्रालय को किया गया सील ।

मौके से कोवीशील्ड की 2 वायल भी जब्त 

सरकारी अस्पतालों के लिए आई वैक्सीन गैर कानूनी तरीके से लगा रहे थे 

अंबिकापुर में कमलेश नेत्रालय सील किया  

 होगी जांच आखिर इन्हें वैक्सीन दी किसने

जांजगीर : 50 हजार दो, नहीं तो जाओगे जेल, 3 माह नहीं मिलेगी जमानत, मुलमुला पुलिस पर लगा वसूली का आरोप

50 हजार रुपए दो नहीं तो जाओगे जेल, 3 माह तक नहीं मिलेगी जमानत उक्त आरोप मुलमुला पुलिस पर लगा है| यह आरोप किसी और ने नहीं स्वयं आरोपी ने अपना गुनाह स्वीकारते हुए मुलमुला पुलिस पर लगाया है|  जेल जाने के डर से आरोपी ने पुलिस को 50 हजार रुपए नकद दिए जिसके बाद पुलिस ने पानी को 2 लीटर महुआ शराब प्रस्तुत कर 34 (1) के तहत कार्यवाही की गई| मामला अकलतरा के ग्राम पौना का है|

इस बीच हमारे न्यूज़ प्रतिनिधि का गुजरना उसी गांव में हुआ, तब उसकी मुलाकात सामाजिक कार्यकर्ता से हुई | जिसने पूरी बात बताई| सामाजिक कार्यकर्ता और हमारे प्रतिनिधि ने आरोपी शिव प्रसाद पटेल के साथ मुलाकात की, आरोपी शिव प्रसाद ने अपने साथ हुए पुलिस कार्यवाही के बारे में खुलकर बताया| उन्होंने बताया की घटना 23 अप्रैल को दोपहर डेढ़ बजे की है, आरोपी घर में सो रहा था, तभी मुलमुला पुलिस उसके घर पर पहुँचती है |  दरवाजा खोलते ही उनकी नज़र 2 डब्बे में रखे महुआ पास पर पड़ती है |  जिसे उन्होंने तालाब किनारे ले जाकर नष्ट कर दिया| जिसके बाद 1 जेरीकेन में 2 लीटर के करीब पानी भर दिया और उसे महुआ शराब बताकर आरोपी के अगल-बगल में पुलिस कर्मी को खड़ाकर फोटो भी खिचवाली | पुलिस वालों उसे अपनी बोलेरो में बैठकर कुछ दूर लेकर गए, जहां उससे पुलिसवालों ने सीधे 50 हजार रुपए की मांग रखी |  पुलिस वालों ने सीधे कहा 50 हजार रुपए दो नहीं तो जाओगे जेल, 3 माह तक नहीं मिलेगी जमानत आरोपी शिव प्रसाद पुलिस वालों की बातों से डर गया और पैसे देने की बात स्वीकार कर ली| तब तक पुलिस की बोलेरो गांव के माता चौरा के पास पहुंची थी, वहां से बोलेरो को वापस आरोपी के घर तक लाया गया| आरोपी ने पैसे निकालकर पुलिस कर्मी को दिए जिसके बाद पुलिस उसे घर पर ही छोड़कर कर चली गई | आरोपी शिव प्रसाद पटेल ने बताया की बोलेरो में मुलमुला थाना प्रभारी उमेश साहू सब इंस्पेक्टर, प्रधान आरक्षक एवं दो आरक्षक शामिल थे | इस मामले में मुलमुला पुलिस ने आरोपी शिव प्रसाद पटेल के खिलाफ 34 (1) के तहत कार्यवाही की गई|

आरोपी शिव पटेल ने क्षेत्र के एक समाजसेवक से अपनी आप बीती सुनाई | मामले को संज्ञान में लेते हुए सामाजिक कार्यकर्ता ने हमसे संपर्क किया और आरोपी शिव पटेल से एक वीडियोग्राफी के तहत जब इस बारे में पूछा गया तब उन्होंने 50 हजार रूपये देने की बात स्वीकार किया ।

आपको बता दे की जांजगीर जिले मे कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी ने जिले के संपूर्ण क्षेत्र को 6 मई तक सुबह 6 बजे तक कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। इस अवधि में जिले में संचालित सभी देशी एवं विदेशी मदिरा दुकानें बंद किया गया है। जिसके वजह से कुछ लोग गांव में कच्ची शराब बनाकर चोरी-छिपे बेच रहे हैं। ऐसे लोगों पर पुलिस पैनी नजर गड़ाए हुए हैं लेकिन जिले के पुलिस मुस्तैदी के साथ पकड़ तो रहे हैं लेकिन जिस हिसाब से तस्कर पुलिस गिरफ्त में आ रहे हैं उस हिसाब से केस दर्ज नहीं हो रहे हैं पुलिसकर्मियों पर अधिकांश मामलों पर लेन देन कर मामले को निपटाने का आरोप लगते आ रहे थे |

DGP महोदय के आदेश में साफ तौर पर कहा गया है कि किसी भी थाने क्षेत्र में कच्ची शराब बिकते पाया गया और उसे लेनदेन कर छोड़ा गया तो थाना प्रभारी को जवाबदार मानते हुए उस पर विभागीय कार्यवाही किया जायेगा।

आपके न्यूज़ के माध्यम से जानकारी मिला है, आप इस मामले में जांजगीर sp से बात कर ले।

रतनलाल डांगी आई जी, रेंज बिलासपुर

आपके न्यूज़ के माध्यम से जानकारी मिली है , मै इस मामले में जाँच करवाती हु। श्रीमती पारुल माथुर

SP जांजगीर

हमने कार्यवाही कर दी है आपको जो लिखना है छापना है छाप दीजिए।

उमेश कुमार साहू , थाना प्रभारी मूलमुला

 

रायपुर : स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने कांकेर और महासमुंद में वायरोलॉजी लैब का किया लोकार्पण

 

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने आज कांकेर और महासमुंद में कोरोना सैंपलों की आरटीपीसीआर जांच के लिए वायरोलॉजी लैब का ऑनलाइन शुभारंभ किया। इन दोनों नए लैबों को मिलाकर अब प्रदेश के नौ शासकीय लैबों में आरटीपीसीआर जांच की सुविधा हो गई है। इससे रोजाना आरटीपीसीआर जांच की संख्या बढ़ने के साथ ही लोगों को रिपोर्ट भी जल्दी मिलने लगेगी। श्री सिंहदेव ने आज कांकेर में 236 बिस्तरों के नए डेडीकेटेड कोविड अस्पताल का भी शुभारंभ किया। लोकार्पण कार्यक्रम में महासमुंद से संसदीय सचिव श्री विनोद सेवनलाल चन्द्राकर और कांकेर से श्री शिशुपाल शोरी जिला प्रशासन एवं मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े थे। वहीं रायपुर से स्वास्थ्य मंत्री के साथ विभागीय अपर मुख्य सचिव श्रीमती रेणु जी. पिल्लै, चिकित्सा शिक्षा विभाग के संचालक डॉ. आर.के. सिंह और गैर-संचारी रोगों के नोडल अधिकारी डॉ. कमलेश जैन लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल हुए। एम्स रायपुर के निदेशक डॉ. नितिन एम. नागरकर और डॉ. अनुदिता भार्गव भी कार्यक्रम में ऑनलाइन मौजूद थीं।

देखिए विडियों

जांजगीर-चांपा : आरटीपीसीआर लेब के लिए विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए इंटरव्यूव 05 मई को, आवेदन 4 मई तक आमंत्रित

जांजगीर-चांपा  30 अप्रैल 2021

कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु नमूना परीक्षण के लिए जिले के नवीन मॉलिक्यूलर वायरोलॉजी (आरटीपीसीआर) लैब हेतु विभिन्न मेडिकल माइक्रोबायोलॉजिस्ट, सीनियर साइंटिस्ट, साइंटिस्ट, मेडिकल लेब टेक्नोलाॅजिस्ट, डाटा एंट्री ऑपरेटर, लैब असिस्टेंट और स्वीपर के अस्थाई पदों पर भर्ती की प्रक्रिया की जा रही है।

सीएमएचओ कार्यालय से जारी सूचना के अनुसार मेडिकल माइक्रोबायोलॉजिस्ट, सीनियर साइंटिस्ट, साइंटिस्ट और मेडिकल लेब टेक्नोलाॅजिस्ट पदों के लिए इंटरव्यूव 5 मई को पूर्वान्ह 11 बजे से शाम 5 बजे तक सीएमएचओ कार्यालय में आयोजित किया गया है। इन पदों के लिए वांछित योग्यताधारी इच्छुक अभ्यर्थी निर्धारित प्रारूप में आवेदन पत्र व शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेज के साथ निर्धारित समय में उपस्थित हो सकते हैं। इसी प्रकार डाटा एंट्री ऑपरेटर, लैब असिस्टेंट और स्वीपर के पदों पर भी भर्ती की प्रक्रिया की जाएगी। इसके लिए निर्धारित प्रारूप में आवेदन पत्र और शैक्षणिक योग्यता के प्रमाण पत्रो का पीडीएफ तैयार कर मेल आईडी virologylabjanjgir@gmail.com में 4 मई तक प्रेषित कर सकते है।  विस्तृत जानकारी जिले की वेबसाइट www.janjgir-champa.gov.in पर अपलोड की गई है।

 

देखिए विडियों

रायपुर : शासकीय सेवकों एवं उनके परिजनों के इलाज के लिए देश और प्रदेश के 127 अस्पतालों को मान्यता @bbn24


रायपुर. 30 अप्रैल 2021

छत्तीसगढ़ शासन ने शासकीय सेवकों और उनके आश्रित परिजनों के इलाज के लिए राज्य के 87 और राज्य के बाहर स्थित 40 अस्पतालों को मान्यता दी है। शासकीय कर्मियों के इलाज के लिए चालू वित्तीय वर्ष 2021-22 में कुल 127 अस्पतालों को मान्यता मिली है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव के अनुमोदन के बाद चिकित्सा शिक्षा विभाग ने मान्यता प्राप्त अस्पतालों की सूची मंत्रालय से जारी की है। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने राज्य शासन के सभी विभागों, राजस्व मंडल बिलासपुर के अध्यक्ष, सभी विभागाध्यक्षों, संभागायुक्तों और कलेक्टरों को मान्यता प्राप्त अस्पतालों की सूची प्रेषित की है।

छत्तीसगढ़ स्थित मान्यता प्राप्त चिकित्सालय

बिहान हॉस्पिटल, सड्डू, रायपुर. बाल गोपाल चिल्ड्रन हॉस्पिटल, बैरन बाजार, रायपुर. श्री नारायणा हॉस्पिटल, देवेन्द्र नगर, रायपुर. श्री मां शारदा आरोग्यधाम, डी.डी. नगर, रायपुर. रायपुर स्टोन क्लीनिक, कचहरी चौक, रायपुर. फरिश्ता नर्सिंग होम, कटोरातालाब, रायपुर, मित्तल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, अंवति बाई चौक पंडरी, रायपुर. किम्स सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, अग्रसेन चौक के पास, बिलासपुर. श्री बालाजी मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, टिकरापारा, रायपुर. धमतरी क्रिश्चियन हॉस्पिटल, रायपुर रोड, धमतरी. चंदूलाल चन्द्राकर स्मृति हॉस्पिटल, नेहरू नगर चौक, भिलाई. श्री मेडिशाइन हॉस्पिटल, न्यू राजेन्द्र नगर, रायपुर. श्री बालाजी सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, मोवा, रायपुर. ओम नेत्र केन्द्र, पंडरी, रायपुर. यशवंत हॉस्पिटल, तात्यापारा चौक, रायपुर. नारायणा हृदयालय एम.एम.आई., लालपुर, रायपुर. विद्या हॉस्पिटल एंड किडनी सेंटर, शंकर नगर, रायपुर. श्री अरबिंदो नेत्रालय, पचपेड़ी नाका, रायपुर. आशादीप हॉस्पिटल, न्यू राजेन्द्र नगर, रायपुर. वी.वाय. हॉस्पिटल, कमल विहार सेक्टर-12, रायपुर. भवानी डायग्नोस्टिक सेंटर, फाफाडीह चौक, रायपुर. लाइफवर्थ डायग्नोस्टिक सेंटर, समता कॉलोनी, रायपुर. अपोलो हॉस्पिटल, सीपत रोड, बिलासपुर. मार्क हॉस्पिटल, ब्रिलिएंट स्कूल कैंपस, बिलासपुर. मूंदड़ा हॉस्पिटल, मंगला चौक, बिलासपुर. श्री बालाजी ट्रामा एंड सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, कोसाबाड़ी, कोरबा. श्री रेटिना केयर सुपरस्पेशियालिटी आई हॉस्पिटल, शंकर नगर चौक, रायपुर. आर.एस. पॉलिक्लीनिक एंड डायग्नोस्टिक सेंटर, टाटीबंध, रायपुर. ओम हॉस्पिटल, महादेव घाट रोड रायपुरा, रायपुर. श्री कृष्णा हॉस्पिटल, न्यू राजेन्द्र नगर, रायपुर. केयर एंड क्योर सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, प्रताप चौक, बिलासपुर. श्रीराम केयर हॉस्पिटल, नेहरू नगर, बिलासपुर. न्यू कोरबा हॉस्पिटल, मंगलम विहार कोसाबाड़ी, कोरबा. वी केयर सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, जीटीबी प्लाजा तेलीबांधा, रायपुर. जैन डेंटल हॉस्पिटल, न्यू राजेन्द्र नगर, रायपुर. रायपुर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, ग्राम गोढ़ी, रायपुर. राजधानी सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, एस.एस. टॉवर, पचपेड़ी नाका के पास, रायपुर. माता लक्ष्मी नर्सिंग होम एंड इन्वेस्टीगेशन सेंटर, अनुपम नगर, रायपुर. अग्रसेन हॉस्पिटल, समता कॉलोनी, रायपुर. संजीवनी सीबीसीसी यूएसए कैंसर हॉस्पिटल, दावड़ा कॉलोनी पचपेड़ी नाका, रायपुर. अपोलो डायग्नोस्टिक सेंटर, कचहरी चौक, रायपुर. सार्वा ट्रामा हॉस्पिटल, तात्यापारा, रायपुर. स्पाइन एंड स्किन क्लीनिक, टी.वी. टॉवर रोड शंकर नगर, रायपुर. डॉ. के. गुरूनाथ हॉस्पिटल, प्रियदर्शिनी परिसर सुपेला, भिलाई. आरबी (aarBee) इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइसेस, स्वर्णजयंती नगर, बिलासपुर. श्री शंकराचार्य इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस, जुनवानी, भिलाई. गुप्ता हॉस्पिटल, मल्टीस्पेशियालिटी रिसर्च एंड मैटरनिटी सेंटर, रत्नाबांधा रोड, धमतरी. डॉ. जाउलकर ईएनटी हॉस्पिटल, चौबे कॉलोनी, रायपुर. कालड़ा कॉस्मेटिक सर्जरी एंड बर्न सेंटर, राजकुमार कॉलेज के सामने, रायपुर. श्री बालाजी मेट्रो हॉस्पिटल, कौहाकुंदा, रायगढ़. रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल, पचपेड़ी नाका, रायपुर. सुयश हॉस्पिटल, गुढ़ियारी रोड कोटा, रायपुर. विवेकानंद आई हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, बूढ़ा तालाब गार्डन के पास, रायपुर. ए.एस.जी. आई हॉस्पिटल, शक्ति नगर, रायपुर. स्पर्श मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, सिरसा रोड रामनगर, भिलाई. श्री शिशुभवन, ईदगाह रोड, मध्यनगरी चौक के पास, बिलासपुर. उपाध्याय हॉस्पिटल, महोबा बाजार, रायपुर. सर्वोदय हॉस्पिटल एंड प्रसूति केन्द्र, दुबे कॉलोनी मोवा, रायपुर. कालड़ा बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी सेंटर, पचपेड़ी नाका, रायपुर. अपेक्स सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल एंड आईव्हीएफ सेंटर, अटल चौक, रायगढ़. अग्रवाल हॉस्पिटल, आर.के.सी, कॉम्प्लेक्स के सामने जी.ई. रोड, रायपुर. श्री गणेश विनायक आई हॉस्पिटल, लालपुर, रायपुर. विशारद हॉस्पिटल, सुभाष स्टेडियम के सामने, रायपुर. बी.एम. शाह हॉस्पिटल एंड मेडिकल रिसर्च सेंटर, शास्त्री नगर सुपेला, भिलाई. महादेव सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, व्यापार विहार रोड, बिलासपुर. आरोग्य हॉस्पिटल, शंकर नगर, रायपुर. फोर्टिस ओ.पी. जिंदल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, खरसिया रोड, रायगढ़. विनायक नेत्रालय, लिंक रोड, बिलासपुर. सिटी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, चौबे कॉलोनी, रायपुर. श्री संकल्प हॉस्पिटल, सरोना, रायपुर. स्टार चिल्ड्रन हॉस्पिटल, अग्रसेन चौक, बिलासपुर. सोनी मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल एंड मैटरनिटी होम, बड़े उरला, अभनपुर. माखीजा हॉस्पिटल, अग्रसेन चौक के पास, बिलासपुर. बालको मेडिकल सेंटर, सेक्टर-36, नया रायपुर. नमन हॉस्पिटल (डेंटोफेसियल ट्रॉमा एंड ओरल कैंसर केयर), शंकर नगर, रायपुर. पेटल्स न्यू बोर्न एंड चिल्ड्रन हॉस्पिटल, समता कॉलोनी, रायपुर. कंवर नर्सिंग होम, अनुपम नगर, रायपुर. आशीर्वाद लेजर फेको आई हॉस्पिटल, नेहरू चौक, बिलासपुर. चंदादेवी तिवारी हॉस्पिटल, भाटापारा रोड, बलौदाबाजार. संजीवनी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, वेयर हाउस रोड, बिलासपुर. सनशाइन मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, वसुन्धरा नगर भिलाई-3, चरोदा, दुर्ग. एस.आर.एस. हॉस्पिटल, पचपेड़ी नाका, रायपुर. जीवन ज्योति हॉस्पिटल, दर्रीपारा, अंबिकापुर. साईं बाबा आई हॉस्पिटल, फाफाडीह, रायपुर. तिवारी नर्सिंग होम, सिविल लाइन, रायपुर. असीम सुपरस्पेशियालिटी डेंटल हॉस्पिटल संतोषी नगर चौक, रायपुर. चन्द्रानी सरदारी लाल स्पेशियालिटी आई एंट ईएनटी हॉस्पिटल, शांति नगर, रायपुर. एसएमसी हॉर्ट इंस्टीट्यूट एंड आईवीएफ रिसर्च सेंटर, वीआईपी इस्टेट, रायपुर.

 

देखिए विडियों

छत्तीसगढ़ के बाहर स्थित मान्यता प्राप्त चिकित्सालय

सर गंगाराम हॉस्पिटल, राजेन्द्र नगर, नई दिल्ली. स्पंदन हार्ट इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर, धनतोली, नागपुर. प्लेटिना हार्ट हॉस्पिटल, सीताबुल्दी, नागपुर. शेल्बी मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, विजय नगर, जबलपुर. मेदांता द मेडिसिटी, सेक्टर-28, गुड़गांव. जसलोक हॉस्पिटल, मुंबई. सी.एम.सी. वेल्लोर, शंकर नेत्रालय, चेन्नई, अपोलो हॉस्पिटल, चेन्नई. एस्कार्ट हार्ट इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली. बत्रा हॉस्पिटल, नई दिल्ली. अपोलो हॉस्पिटल, हैदराबाद. लीलावती हॉस्पिटल, मुंबई. मेट्रो हॉस्पिटल, नोएडा, दिल्ली. चोईथराम हॉस्पिटल, इंदौर. यशोदा हॉस्पिटल, हैदराबाद. फोर्टिस एंड लाफ्रेस फोर्टिस हॉस्पिटल – दिल्ली तथा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित हॉस्पिटल की सभी शाखाएं. मैक्स देवकी हार्ट एंड वास्कुलर इंस्टीट्यूट, सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल - दिल्ली तथा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित हॉस्पिटल की सभी शाखाएं. प्राईमस सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, चाणक्यपुरी, नई दिल्ली. मैक्स सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, साकेत, नई दिल्ली. मेडिट्रिना इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, रामदासपेठ, नागपुर. अपोलो हॉस्पिटल्स, हेल्थ सिटी, आरोलोवा, चिनगाधिली, विशाखापटनम. मेदांता सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, इंदौर. शेल्बी हॉस्पिटल सुपरस्पेशियालिटी केयर, इंदौर. शेल्बी मल्टीस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, बासवाताराकम इंडो-अमेरिकन कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट, बंजारा हिल्स, हैदराबाद. कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी हॉस्पिटल एंड मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट, मुंबई. बॉम्बे हॉस्पिटल, मुंबई. नानावटी हॉस्पिटल मुंबई. इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल, दिल्ली. पंडालिया कॉर्डियो-थोरेसिक फाउंडेशन, चेन्नई. एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी, हैदराबाद, मेडविन हॉस्पिटल, हैदराबाद. सेवन हिल्स हॉस्पिटल विशाखापटनम. केयर हॉस्पिटल, विशाखापटनम. स्योरटेक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, नागपुर. एच.सी.एम.सी.टी. मनिपाल हॉस्पिटल्स, नई दिल्ली. ओमनी आरके सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल, रामनगर, विशाखापटनम. नीति क्लिनिक्स, रामदासपेठ, नागपुर. ग्लेनीग्ल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स, हैदराबाद.

Chhattisgarh : एंबुलेंस चालको और मालिकों पर ज्यादा किराया वसूलने की शिकायत पर तीन एंबुलेंस पर पुलिस ने की सख्त कार्यवाही

रायपुर - एंबुलेंस वाहन चालको और मालिकों द्वारा अस्पतालों से शव ले जाने के लिए और मरीजों के परिवार वालों से मरीजों को लाने ले जाने के लिए बहुत ज्यादा किराया वसूल रहे हाल ही में 2 दिन पूर्व प्रशासन ने एंबुलेंस वाहन चालकों को सही किराया लेने के लिए एक आदेश पारित किया था साफ लिखा था ,कि तय किराए से ज्यादा ना लवे है एंबुलेंस वाहन का क्या किराया होगा यह सब एक आदेश जारी करा था उसके बावजूद भी एंबुलेंस वाले मनमानी कर रहे थे और तय किराए से ज्यादा किराया ले रहे थे, सूचना मिलने पर पुलिस उप महानिरीक्षक और वरिष्ट पुलिस अधीक्षक श्री अजय कुमार यादव ने गंभीरता से लेते हुए पुलिस राजपत्र अधिकारियो एवं थाना प्रभारियों को त्वरित वैधानिक कार्यवाही करने के आदेश दिए थे जिसके तहत आम जनता को हर संभव मदद मिले इसी तात्पर्य से थाना सिविल लाइन और थाना खम्हारडीह ने कार्रवाई करते हुए एंबुलेंस वाहन क्रमांक सीजी 07एम 3142 एंबुलेंस क्रमांक सीजी 04एचडी8420 खम्हारडी पुलिस द्वारा सीजी04 एच डी 8646 उक्त एंबुलेंस वाहनों को पकड़कर मोटर व्हीकल अधिनियम के तहत कार्यवाही किया गया है। तो किराए से ज्यादा किराया लेने पर एंबुलेंस वाहन मालिकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए उन वाहनों को पकड़े कर कठोर कार्रवाई की जाएगी आगे भी निरंतर इस तरह की कार्रवाई जारी रहेगी और परिवहन विभाग को पत्र लिखकर उन वाहनों का पंजीयन निरस्त किया जाए ऐसा पत्र भेजा जाएगा

महाराष्ट्र : 18+ को 1 मई से नहीं लगेगी वैक्‍सीन, कड़े प्रतिबंध 15 दिन के लिए बढ़ाए गए......पढ़े पूरी खबर

महाराष्ट्र में लागू कड़े प्रतिबंध 15 दिन के लिए और बढ़ाए गए हैं. पहले एक मई तक कड़े प्रतिबंध लगाए गए थे जो अब 15 मई तक लागू रहेंगे. दूसरी तरफ महाराष्ट्र में 18-45 वर्ष की उम्र के लोगों का वैक्सिनेशन 1 मई से शुरू नहीं हो पाएगा. महाराष्ट्र में 18-45 की आयु के करीब 5.71 करोड़ लोग हैं. इनके लिए करीब 12 करोड़ डोज की जरूरत होगी. इसके लिए राज्य सरकार को करीब 6500 करोड़ खर्च करने होंगे.

 

ऑक्सीजन टैंकरों की ढुलाई मे वायुसेना ने झोंकी ताकत, दुबई से लाए गए छह क्रायोजनिक टैंकर

कोरोना की दूसरी प्रचंड लहर के बीच ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए भारतीय वायुसेना ने देश और विदेश से विशेष ऑक्सीजन टैंकर जुटाने की रफ्तार तेज कर दी है। इस क्रम में वायुसेना का मालवाहक विमान सी-17 ग्लोबमास्टर दुबई से छह विशेष क्रायोजिनक ऑक्सीजन टैंकर लेकर सोमवार रात बंगाल के पानागढ स्थित एयरबेस पर पहुंच गया। वायुसेना मंगलवार को भी छह क्रायोजिनक टैंकर दुबई से भारत लाएगी। वायुसेना के विमान देश में उन स्थानों पर टैंकरों को पहुंचाने में जुटे हैं जहां कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन की कमी का संकट झेलना पड़ रहा है। दुबई से लाए जा रहे इन खाली टैंकरों में ऑक्सीजन भर कर देश भर में पहुंचाई जाएगी। वायुसेना जरूरत के हिसाब से भरे हुए ऑक्सीजन टैंकर निकट के एयरबेस तक पहुंचाएगी।