बड़ी खबर

जांजगीर : अकलतरा : ऐसे में कोरोना से जंग जितना मुश्किल पढ़िए खास रिपोर्ट

सुबोध थवाईत-BBN24NEWS

अकलतरा ।पुलिस थाना के नजदीक ही सब्जी मंडी है यहां पर क्षेत्र भर के किसान अपने सब्जी को बेचने के लिए आते है। सोसल डिस्टेंसिंग को लेकर सरकार ,स्वयंसेवी संगठन द्वारा लगातार जागरूक किया जा रहा है सोसल डिस्टेंसिंग का पालन करने से ही हम कोरोना वायरस से बच सकते है सब्जी मंडी जाने वाले लोग कैसे भूल जाते है कि हमे शाररिक दुरी बनाए रखना है कुछ लोग ही होते है जो बात से नही डंडे से ही समझते है ऐसे भीड़ भाड़ करने से हम सभी लोगो को परेशानी में डालने जैसा है ।पुलिस आते ही याद आ जाता है सोशल डिस्टेंसिंग, जाने के बाद फिर भीड़ भीड़ ऐसे में हम कैसे कोरोना वायरस से जीत पायंगे। इस समस्या से बचाने के लिए पुलिसकर्मी, सफाई कर्मचारी, मेडिकल स्टाफ,मिडिया और आवश्यक सेवा से जुड़े कर्मचारी रात दिन लगे हुए है परन्तु ऐसे भीड़ से इन सबका मेहनत का सम्मान नही होगा।

छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में मध्यप्रदेश के सतना जिले से 304 किलोमीटर ट्रकों के माध्यम व पैदल चलकर जंगल के रास्ते से होकर 9 मजदूर मनेन्द्रगढ़ पहुंचे, मजदूरों के खिलाफ धारा 188 के तहत की गई कार्यवाही

कोरिया-छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में मध्यप्रदेश के सतना जिले से 304 किलोमीटर ट्रकों के माध्यम व पैदल चलकर जंगल के रास्ते से होकर 9 मजदूर मनेन्द्रगढ़ पहुंचे।लॉक डाउन 3 मई तक बढ़ने के बाद मजदूर करने लगे पलायन ।सभी मजदूर भूखे प्यासे थे।मनेन्द्रगढ़ के ग्रामीणों ने मजदूरों को भोजन कराया।सभी मजदूर सूरजपुर जिले के रहने वाले है । जिसकी सूचना मनेंद्रगढ़ थाना को मिली पुलिस को सूचना मिलने मौके पर पहुंच गई और मजदूरों पर मामला दर्ज कर पूछताछ कर रही है । मनेंद्रगढ़ थाना प्रभारी तेज नाथ सिंह ने बताया कि लॉक डाउन और धारा 144 के उल्लंघन पर पुलिस ने सभी मजदूरों के खिलाफ धारा 188 पर कार्यवाही किया है।बिना अनुमति के जिले में प्रवेश करने पर में सभी 9 मजदूरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया ।सभी मजदूर का मेडिकल चेकअप कराया गया और सभी को मंगल भवन में रखा गया है कभी मजदूर सूरजपुर जिले के रहने वाले है।

सावधान बिलासपुर : अनावश्यक आने जाने वाले ,बिना हेलमेट के,बिना सीट बेल्ट व 2 सवारी गाड़ी चलाने वाले 40 लोगों पर mv एक्ट के विभिन्न धाराओं पर हुई कार्यवाही

थाना सरकण्डा पुलिस के द्वारा ट्रेफिक के माध्यम से बसन्त विहार चौक अनावश्यक आने जाने वाले ,बिना हेलमेट के,बिना सीट बेल्ट व 2 सवारी गाड़ी चलाने वाले 40 लोगों पर mv एक्ट के विभिन्न धाराओं पर चलानी कार्यवाही की गई।lockdwon तक अनावश्यक घूमने वाले लोगों पर ऐसी कार्यवाही जारी रहेगा। लोगो से अपील कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए घर पर रहे ,अनावश्यक न घूमे ,अपने साथ अपने परिवार को सुरक्षित रखे पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग करे

कोरोना संक्रमण से बचाव आवश्यक क्यों, कितना खतरनाक है, उपाय क्या-क्या हैं और लॉक डाउन में क्या करें : HP Joshi ....पढ़े ये खास खबर

आज महामारी कोरोना के संक्रमण से लगभग पूरी दुनिया प्रभावित है, संसार के सारे देश कोरोना से लड़ाई लड़ने की अथक प्रयास कर रहे हैं। सारे विश्व के वैज्ञानिक, चिकित्सक, फार्मासिस्ट, पैथोलोजिस्ट, सरकार, सेना, सशस्त्रबल और पुलिस पूरी ईमानदारी, निष्ठा और समर्पित भाव से अपनी पूरी ताकत कोरोना से लड़ाई में झोंक रहे हैं। इसमें समाजसेवी संगठन और दानदाताओं का भी अच्छा योगदान है जो जरूरतमंद लोगों के आवश्यता को पूरा करने में बिना व्यक्तिगत स्वार्थ के लगे हुए हैं।

सरकारें आम नागरिकों से उनके और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए केवल एक ही सहयोग चाह रहे हैं कि वे अपने घरों में ही रहें, अत्यंत आवश्यक हो तभी आवश्यक सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए घर से निकलें। अर्थात जब घर से निकलें तो मास्क, रुमाल अथवा गमछे से मुह और नाक को ढकें, हाथों में सेनेटाइजर लगाएं, किसी भी शर्त में दूसरे व्यक्ति से प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष फिजिकल संपर्क से बचें। यदि आप अधिक समय के लिए घर से निकल रहे हों तो सेनेटाइजर अपने जेब में ही रख लें और बार बार सेनेटाइजर से हाथ धोएं; व्यर्थ ही किसी भी वस्तु को स्पर्श करने से बचें। क्योंकि यही उपाय आपको और आपके परिवार को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा सकते हैं। हालांकि ऐसा कोई शोध सामने नही आया है जिसमें यह बोला गया हो कि पशु पक्षियों से भी कोरोना संकमण का फैलाव हो सकता है, इसके बावजूद आपको एहतियात के रूप में इनसे भी फिजिकल डिस्टेंस बनाने की जरूरत है; क्या पता आप जिस पशु पक्षियों को छू रहे हैं वह किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आया हो।

अभी तक ज्ञात रिसर्च के अनुसार "कोरोना संक्रमण का फैलाव हवा से नहीं होता।" यह मानवता की जीत के लिए अत्यंत सकारात्मक है इसलिए इसके संक्रमण पर आसानी से रोक लगाया जा सकता है। केवल जरूरत है तो सरकारों के दिशा निर्देश का पालन करते हुए फिजिकल डिस्टेंस के सिद्धान्तों का पालन करने की।

एक वेबसाइट में संकलित जानकारी के अनुसार आज 16/4 के 7 बजे तक दुनियाभर के लगभग 20 लाख लोग कोरोना के चपेट में आ चुके हैं, जिसमें से 1.34 लाख लोगों की मृत्यु हो चुकी है; वहीं लगभग 5.10 लाख लोग उपचार के बाद स्वस्थ्य हो चुके हैं। ये आंकड़े हमें गहराई से सोचने और सुरक्षित रहने को मजबूर करती है। इसलिए आपसे अनुरोध है सरकार के दिशा निर्देश का पालन करें और घर मे ही सुरक्षित रहें। यदि सरकार के दिशा निर्देश का पालन नही किया जाता है, यदि फिजिकल डिस्टेंस के सिद्धांत और सरकार द्वारा सुरक्षा मापदंड का उल्लंघन किया जाता है तो वह दिन दूर नही जब सन 1346-1353 की "प्लेग" से भी खतरनाक परिणाम भुगतने के लिए हम मजबूर होंगे; प्राप्त जानकारी के अनुसार महामारी प्लेग, मानवता को 7साल तक समाप्त करने का प्रयास करते हुए दुनियाभर से लगभग 7 से 20 करोड़ लोगों को मौत के मुह में ढकेल दी थी। दूसरी सबसे बड़ी महामारी थी "स्पेनिश फ्लू" जो लगभग 1918-1920 में आई थी, जो 3साल में अपने साथ 5करोड़ लोगों को मार डाली थी।

विशेषज्ञों का मानना है कि यदि बहुत जल्द ही कोरोना का टीका खोज लिया जाएगा, तो भी टेस्टिंग, निर्माण और टीकाकरण करने में साल भर से कम नहीं लगेगा।

आज जरूरत है तो केवल:-

1- शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए रखने की।

2- लक्षण दिखाई देने पर तत्काल एहतियात बरतने और उपचार के लिए कोरोना अस्पतालों जाने की।

3- न्यूनतम आवश्यक वस्तुओं का उपयोग करते हुए घर में ही रहने की।

4- प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष फिजिकल डिस्टेंस बनाने की।

4- यदि किसी अत्यावश्यक काम से बाहर निकलना पड़े तो मास्क, रुमाल या गमछे से नाक और मुह को ढकें, हाथ में सेनेटाइजर लगाएं। अधिक समय तक यदि आपको घर से बाहर रहने की जरूरत है तो सेनेटाइजर अपने जेब में रखें और समय समय में लगाते रहें।

5- पारिवारिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन पर रोक लगाएं।

6- केवल सरकार के दिशा निर्देश पर ध्यान दें। अन्य स्त्रोत से प्राप्त जानकारी अफ़वाह हो सकती है, इसलिए इससे बचें; क्योंकि अफ़वाह हमेशा घातक होता है।

7- कोरोना के संबंध में सोशल मीडिया अथवा किसी अन्य माध्यम से प्राप्त जानकारी को शेयर करने से बचें; यदि आपके पास पर्याप्त कारण हो कि यह जानकारी सरकार द्वारा दी गई है तभी अन्य व्यक्ति को शेयर करें।

8- आपसे निवेदन है कि यदि आप सक्षम हों तो सरकार के रिलीफ फण्ड में दान करें अथवा अपने आसपास के जरूरत मंदों की सहायता करें; यदि आप मकान मालिक हैं तो किराएदार को किराए के लिए परेशान न करें, यदि आप सक्षम दुकानदार हैं तो आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को पुराने उधारी चुकाने के लिए मजबूर न करें बल्कि जरूरत के आधार पर कम से कम अतिआवश्यक सामग्री उन्हें उधारी भी दें।

9- लॉक डाउन के दौरान समय का सदुपयोग करें, पूरे परिवार मिलकर चर्चा करें, अपने अनुभव शेयर करें, Books पढ़ें, Online माध्यम से कुछ सीखें, शिक्षा ग्रहण करें।

10- शिक्षकों और विशेषज्ञों से अनुरोध है कि वे यूट्यूब चैनल, फेसबुक लाइव इत्यादि के माध्यम से अपने स्टूडेंट्स के लिए काम करते रहें। छत्तीसगढ़ के शिक्षक सरकारी वेबसाइट CGSchool.in में अपना योगदान दें।

11- क्लास 1 से 12 के स्टूडेंट्स यूट्यूब में Bodhaguru चैनल के माध्यम से अपना पढ़ाई जारी रखें, छत्तीसगढ़ के स्टूडेंट्स cgschool में जाकर भी अपना पढ़ाई जारी रख सकते हैं।

12- प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं के लिए भी अनेकों यूट्यूब चैनल हैं जिसके माध्यम से आप अपना तैयारी जारी रख सकते हैं।

13- संविधान और केंद्रीय व राज्य सरकार द्वारा लागू अधिनियम और नियमों का अध्ययन करें; आप चाहें तो साहित्य भी पढ़ सकते हैं।

14- स्वस्थ और निरोगी रहने के लिए पूरे परिवार मिकलर घर अथवा आंगन में ही योग और व्यायाम करें; ऐसा न भी करें तो आंगन, छत अथवा बालकनी में जाकर शरीर को धूप जरूर दें।

15- आज इतने बड़े संकट के बावजूद जो आपके सुरक्षा में लगे हैं, अर्थात चिकित्साकर्मी, सेना, अर्धसैनिक बल, पुलिसकर्मी, किसान और वैज्ञानिक यही सही मायने में ईश्वर हैं इनका आजीवन सम्मान करने का संकल्प लें।

16- सरकार सदैव कल्याणकारी होती है इसे स्वीकार करें और हैसियत के अनुसार सरकार का सहयोग करें।

17- मूलभूत आवश्यकताओं के अलावा अतिरिक्त्त चीजों के उपयोग में कमी लाने का संकल्प लें।

18- स्वच्छ वायु, स्वच्छ जल, भोजन, साफ सुथरे कपड़े और आवास, दाल चावल सब्जी रोटी जैसे भोज्य पदार्थ, चिकित्सालय और चिकित्साकर्मी, स्कूल कॉलेज और शिक्षक, वैज्ञानिक, विद्युत और जल आपूर्ति में लगे लोग, वैज्ञानिक, सेना, अर्धसैनिक बल, पुलिस, सरकार और समाजसेवी संगठन, इत्यादि आवश्यक हैं।

19- मानवता सर्वोपरि है। यदि जाति, वर्ण, धर्म, सीमा और धार्मिक स्थल यदि मानवता के खिलाफ हो जाएं तो इसका त्याग करें।

20- घर में रहें, जिंदा रहें।

लॉकडॉउन का उल्लंघन करते हुए बिलासपुर में महिलाएं खुलेआम बाँट रही थी गुड़ाखु डिब्बा, महिलाओं में गुड़ाखु लुटने के लिए मची थी होड़ ,सोशल डिस्टेंस की भी महिलाएं उड़ा रही थी धज्जियां

आपको बता दे की पुरा मामला बिलासपुर के तोरवा थाने क्षेत्र के हेमुनगर का है।दरअसल बिलासपुर के हेमू नगर में गैर जरूरी सामान बेचने खरीदने के जुर्म में मुख्य महिला बेबी खान सहित 7 लोगों पर FIR दर्ज हुई,लॉकडाउन और सोशल डिस्टन्सिंग का उल्लंघन करने धारा 188 के तहत दर्ज की गई FIR जब इस मामले की पुरी जानकारी तोरवा पुलिस को हुई तो तत्काल मौके पर पहुंचा और देखा की लोग 144 की धारा का उल्लंघन करते बीना मास्क लगाये और सोशल डिस्टेन्स का भी पालन नही करते दिखे,जहां एक महिला गुडाखु बाट रही है,और वही अपनी जान की परवाह किये बगैर कुछ लोग गुडाखु डिब्बा पाने जुझते दिखें।पुलिस ने नियम की अनदेखी कर गुडाखु डिब्बा बाटने वाली महिला को गिरफ्तार कर लिया।और उसके पास से गुडाखु डिब्बा बरामद की और 188 के तहत कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार किया गया।

पढ़े बिलासपुर की प्रमुख खबरे : बिलासपुर पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग को सौंपा एक हजार करोना पीपीई किट, बिलासपुर कप्तान द्वारा ली गई बैठक, लॉक डाउन को कड़ाई से पालन कराने हेतु दिया गया निर्देश।

A REPORT BY : अजीत मिश्रा

◆ थानेदारों को किया गया ब्रीफ।

◆पुलिस प्रशासन द्वारा स्वास्थ्य विभाग को भेट किया गया पी0पी0ई (पर्सनल प्रोटक्शन इक्विपमेंट)।

◆ अबतक लगभग 140 से अधिक धारा 188 के प्रकरण।

◆ 55 से अधिक एम0वी0 एक्ट के तहत की गई कार्यवाही ।

कोरोना वायरस (कोविड-19) से बचाव हेतु ज़िला प्रशासन बिलासपुर द्वारा 14 अप्रैल 2020 को बढ़ाकर 3 मई 2020 तक संपूर्ण जिले में धारा 144 लागू कर लॉकडाउन किया गया है एवं सभी प्रकार के स्थलों जहां जनसामान्य इकट्ठा होते हो प्रतिबंधित कर दिया गया है।

जिस पर से आज 15/04/20 को पुलिस कप्तान श्री प्रशांत अग्रवाल द्वारा बिलासा गुड़ी पुलिस लाइन बिलासपुर में मीटिंग आयोजित कर वरिष्ठ अधिकारियों एवं थाना प्रभारीयो को निम्नलिखित बिंदुओं पर दिशा निर्देश देते हुए कड़ाई से पालन करने हेतु आदेशित किया गया।

◆ सुबह सभी नाकेबंदी पॉइंट्स को कड़ाई से चेक किया जाए।

◆ होम क्वॉरिटाईन किए गए लोगों को चेक करने हेतु रजिस्टर मेंटेन किया जाए।

◆ सुबह मॉर्निंग वॉक पर निकले लोगों को कढ़ाई से रोक-टोक किया जाए

◆ बेवजह घूमने वाले मोटर सवार व्यक्तियों को शक्ति के साथ समझाइश दिया जाए।

Covid-19 की महामारी आज पूरे विश्व मे व्याप्त है जिसके कारण पीपीई कीट की कमी सभी जगहों पर है बिलासपुर जिले में भी उक्त किट की अनुपलब्धता को देखते हुए पुलिस महा निरीक्षक श्री दीपांशु काबरा के द्वारा मुम्बई निवासी मनीष मुन्द्रा से संपर्क कर उनसे 1000 कोरोना पीपीई किट (पर्सनल प्रोटक्शन इक्विपमेंट) उप्लब्ध कराकर स्वास्थ्य विभाग को भेंट किया गया जिससे लोगो का covid-19 का जांच किया जा सकेगा

देश मे covid-19 जैसी महामारी के कारण जिले को lockdown रखा गया है इसके बावजूद भी आज कुछ लोगों के द्वारा उक्त निर्देशों का उल्लंघन करते हुए पैदल एवं मोटरसाइकिल पर सवार होकर शहर में घूमते पाए गए जिन पर धारा 188 के तहत कारवाही की गई

थाना सिविल लाइन से 01 प्रकरण 04 आरोपी।

थाना तारबाहर से 01 प्रकरण 01 आरोपी,

थाना सरकंडा से 5 प्रकरण 06 आरोपी,

थाना सिरगिट्टी से 2 प्रकरण 4 आरोपी,

थाना सीपत से 4 प्रकरण 04 आरोपी,

थाना मस्तूरी से 5 प्रकरण 05 आरोपी,

थाना रतनपुर से 4 प्रकरण 06 आरोपी,

थाना हिर्री से 01 प्रकरण 01 आरोपी,

थाना पचपेड़ी से 3 प्रकरण 03 आरोपी,

इस प्रकार आज कुल 33 प्रकरण में 47 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया, अब तक शासन के नियमों का उल्लंघन कर बेवजह घूमने वाले व्यक्तियों एवं बाहर निकलने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध कुल लगभग 140 से अधिक प्रकरण पर धारा 188, 03 महामारी अधि0 के तहत कार्यवाही की जा चुकी है साथ ही 55 से अधिक अवैध रूप से शराब बिक्री करने वालो की विरुद्ध 34 (1) (क) आबकारी एक्ट के तहत कायवाही की गई।

कोरोना वाइरस से बचाव के संमंध में हर संभव प्रयास के लिये जिला पुलिस सदैव तत्पर है।

जिला मुख्यालय बीजापुर में वनविभाग द्वारा लॉकडाउन के नियमों का घोर उल्लंघन- मुदलियार

Danteshwar kumar ( chintu)

बीजापुर : बांस काष्टागार बीजापुर में डीएफओ द्वारा मज़दूरों से कार्य करवाया जा रहा है ।जबकि पूरे देश इस समय लॉकडॉउन में है कोरोना महामारी के चलते सावधानियां बरतना सभी के लिए अति आवश्यक है परंतु जिले के जिम्मेदार अधिकारी द्वारा मज़दूरों से लॉक डॉउन के नियमों का पालन करवाना तथा कार्य स्थल पर सोशल डिस्टेंसिग का मेंटेन करवाना संबंधित अधिकारी का दायित्व है किंतु उक्त अधिकारी द्वारा इस कोरोना महामारी के संकट से बचाव हेतु लॉकडॉउन के नियमों का पालन मज़दूरों से नही करवा कर घोर उल्लंघन किया है । भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने जिला कलेक्टर महोदय से मांग है कि तत्काल वनविभाग के संबंधित अधिकारी के खिलाफ शक्ति से कार्यवाही की जाये ।

मंदिर में कसम और सड़क में पहलवानी के साथ घुमन्तुओं लड़को दी गई सज़ा

कोरोना महामारी की इस लड़ाई में अपनी अहम भूमिका निभा रहे पुलिस के अधिकारी और जवान लाकडाउन को सफल बनाने में हर संभव प्रयास करके आम जनता को घर में  रहने के लिए वो सभी प्रयास कर रहे है जिससे इस महामारी की लड़ाई को जीता जा सके।।लेकिन कुछ ऐसे लोग है जो बेपरवाह सड़को में घूमते नजर आ जाते है जिनको किसी भी चीज से कोई लेना देना नही और लाकडाउन पालन भी नही करना है ऐसेलोगों के लिए पुलिस शख्ती के साथ हर वो प्रयास कर रही है।।आज शाम को एक थाना सिटी कोतवाली के सीएसपी निमेष बरैया और प्रशिक्षु डीएसपी ललिता मेहर व पुलिस जवान के साथ महिला पुलिस को लेकर अपने थाना क्षेत्र के दयालबंद इलाके में पैदल गश्त करते हुए सड़को में बेवजह घूमने वाले को एक नए अंदाज में उनको पनिस किया।।मंदिर के सामने ले जाकर जमीन में लेटा कर भगवान के समक्ष कसम खिलाया गया और वही सड़को में कसरत कराते हुए लाकडाउन के  नियमो का  पालन करते हुए घर मे रहूँगा और  बेवजह घर के बाहर नही जाऊंगा।।

कोरोना के आड़ में बीजापुर जिले में भ्रष्टाचार चरम सीमा में प्रशानिक अधिकारियों द्वारा लॉकडाउन के नियमों की उड़ा रहे धज्जियां : मुदलियार

Danteshwar kumar ( chintu)

बीजापुर ; जिले में भोपालपटनम के वरदली,दममुर,सकनापल्ली ग्रामो में मनरेगा योजना के तहत किये जाने वाले कार्यों में प्रशानिक अधिकारियों द्वारा लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए एवं सोशल डिस्टेंस का पालन नही किया जाना जबकि राज्य व केंद्र सरकार लॉक डाउन को लेकर काफी शक्ति बरत रहे है ।वंही जिले के अधिकारी स्वयं नियमों का उल्लंघन कर कोरोना के आड़ में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे है ।मनरेगा के कार्य मे मशनरी डोजरों से कार्य लिया जा रहा है ।जो ग्रामीण गरीब बेरोजगारों के हक़ का हनन है जिससे उनके जीवन यापन करने में भारी कठिनाइयां उत्पन्न होगी वर्तमान कोरोना महामारी से की गई लॉक डाउन से काफी प्रभावित होंगे इस लॉक डाउन के दौरान कार्य मशीनों के माध्यम से पूर्ण कराकर एक बडी राशि का बन्दरबाट करने में लगी है जो इसके पूर्व अखबारों में भी मशीनों के माध्यम से कार्य करने की बात प्रकाशित हुई थी जिस पर प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नही किया जाना भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा देना ही एक मात्र मंशा है।केवल भोपालपटनम ही नही मनरेगा के अन्तरर्गत सम्पूर्ण बीजापुर जिले में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है । जिला कलेक्टर महोदय से मेरी मांग है कि तत्काल कार्यों की जांच कर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ।

बड़ी खबर : हाईकोर्ट के जस्टिस प्रशान्त मिश्रा की डिवीजन बेंच ने सरकार से 17 तारीख तक निज्जमुदिन से लौटे तब्लीगी मरकज के 159 लोगो की रिपोर्ट और इनके संर्पक में आने वालो की मांगी रिपोर्ट

अजीत मिश्रा : हाईकोर्ट के जस्टिस प्रशान्त मिश्रा की डिवीजन बेंच ने सरकार से 17 तारीख तक निज्जमुदिन से लौटे तब्लीगी मरकज के 159 लोगो की रिपोर्ट और इनके संर्पक में आने वालो की रिपोर्ट मांगी है। इसके अलावा हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार को कोरोना वायरस के लिए टेस्ट लेब की स्थापना करने का नीर्देश दिया है। साथ ही हाईकोर्ट ने सरकार द्वारा बार और शराब दुकान खोलने के लिए रायशुमारी के बनी कमेटी को ही निरस्त कर दिया है। शराब बंदी को लेकर सीनियर अधिवक्ता प्रतीक शर्मा ने लगाई थी याचिका मामले की अगली सुनवाई 17 तारीख को होगी।

कलेक्टर ने किया गौरेला विकासखंड के विभिन्न ग्रामों का भ्रमण, दिए आवश्यक दिशानिर्देश

गौरेला पेंड्रा मरवाही

■बैंक शाखा कियोस्क का किया निरीक्षण, फिज़िकल डिस्टेंसिन्ग का ध्यान रखने के दिये निर्देश

■सार्वजनिक स्थलों पर मास्क लगाने के निर्देशों का कड़ाई से करें पालन -कलेक्टर

गौरैला-पेंड्रा-मरवाही/कलेक्टर श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी ने आज गौरेला विकासखंड के विभिन्न ग्रामों का भ्रमण कर कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु किये जा रहे प्रयासों और जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन का जायजा लिया। उन्होंने गौरेला विकासखंड के लालपुर, कोरज और देवरगांव तथा गौरेला स्टेट बैंक के पास स्थित कियोस्क का निरीक्षण किया तथा प्रधानमंत्री जनधन योजना एवं अन्य योजनाओं के अंतर्गत हितग्राहियों को राशि वितरण की जानकारी ली। उन्होंने हितग्राहियों को कियोस्क तथा अन्य बैंकिंग संस्थानों में फिजिकल डिस्टेंसिन्ग का अनिवार्य रूप से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हितग्राहियों के खाते में जमा राशि हितग्राहियों के द्वारा कभी भी निकाली जा सकती है। उन्होंने कहा है कि अति आवश्यक होने पर ही बैंक शाखा में आएं। बैंकों में अभी मनरेगा की राशि, वृद्धावस्था/विकलांग पेंशन योजना एवं अन्य घोषित योजनाओं के अंतर्गत भी राशि जमा होगी। जिस हितग्राही के जनधन एवं अन्य घोषित योजनाओं के अंतर्गत खाते में राशि आ गई है, वह उनके खाते में सुरक्षित है और वे अपने जरूरत के हिसाब से कभी भी पैसा निकाल सकते हैं।

कलेक्टर ने कहा कि कियोस्क के माध्यम से ग्रामीण प्रातः 7 बजे से शाम 7 बजे तक फिजिकल डिस्टेंसिन्ग का ध्यान रखकर एक दूसरे से सुरक्षित दूरी रखते हुए राशि निकाल सकते हैं।

उन्होंने कियोस्क के अंदर आने वाले ग्राहकों को सैनिटाइजर का उपयोग करने, सुरक्षित दूरी पर कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करने और अनावश्यक रूप से एक ही स्थान पर एकत्र न होकर क्रम से बैंक से राशि निकालने संबंधी कार्यों को पूर्ण करने ले निर्देश दिए।

उन्होंने बैंकिंग संस्थानों सहित अन्य सभी सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनने के निर्देश दिए।उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य में प्रत्येक व्यक्ति को अब घर से बाहर सार्वजनिक स्थानों में निकलते समय मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। कोविड-19 के रोकथाम व बचाव के लिए प्रत्येक व्यक्ति को मास्क-फेस कवर पहनना आवश्यक है। बिना मास्क-फेस कवर के घर से बाहर सार्वजनिक स्थानों पर जाना नियम का उल्लंघन माना जाएगा और विधिक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बाजार में मिलने वाले ट्रिपल लेयर मास्क का प्रयोग किया जा सकता है अथवा होम मेड तीन परतों वाला फेस कवर बनाया जा सकता है। इस होम मेड मास्क-फेस कवर को साबुन से सफाई से धोकर पुनः प्रयोग में लाया जा सकता है। मास्क और फेस कवर उपलब्ध ना होने की स्थिति में गमछा, रूमाल, टुपट्टा आदि का भी उपयोग फेस कवर के रूप में किया जा सकता है। बशर्ते मास्क-फेस कवर पूर्ण रूप से मुंह एवं नाक को ढकने में सक्षम हो। कभी भी उपयोग में लाया हुआ फेस कवर मुंह, नाक ढकने में प्रयुक्त होने वाला गमछा आदि का पुनः प्रयोग बिना साबुन से अच्छी तरह साफ किए नहीं किया जाए।

कलेक्टर श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी ने सभी बैंक कियोस्क में कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु फिज़िकल डिस्टेंसिन्ग के संबंध में शासन द्वारा जारी दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि जिले में कुल जनधन खाता धारकों की संख्या 3,15,355 हैं जिसमे ग्रामीण क्षेत्रों के 2,87,948 और शहरी क्षेत्रों के 27,407 खाता धारक सम्मिलित हैं। जिले में 1,46,832 पुरुष जनधन खाता धारक और 1,68,523 महिला जनधन खाता धारक हैं।

बिलासपुर : बैंक प्रबंधन की लापरवाही और लोगो की नासमझी सोसल डिस्टेंस का किया जा रहा उलंघन

अजीत मिश्रा @बिलासपुर # बिलासपुर में कोरोना को लेकर जिला प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन ने पूरी ताकत के साथ इस लड़ाई में अपनी भूमिका निभा रही है और लोगो को इस और जागरूक करने के लिए कई प्रयास भी किये लेकिन कुछ ऐसे लोग है जिनको इसकी परवाह ही नही है ऐसा ही मामला आज देखने को मिला जहाँ पर लोग आम दिन की तरहः खड़े होकर अपनी पारी का इंतजार कर रहे है।।पूरे देश मे जहाँ लाकडाउन लगा है और आम जनमानस को दैनिक उपयोग के लिए कुछ समय की ढिलाई दी गई जिसमें वो अपनी जरूरतों का सामान ले सके जिसके लिए सोसल डिस्टेंस का भी ख्याल रखा जाए जिससे कोरोना का संक्रमण से बचा जा सके लेकिन सरकंडा क्षेत्र के सीपत रोड स्थित और राज किशोर नगर क्षेत्र में ।।बैंक प्रबंधन की लापरवाही और लोगो की नासमझी ने कैसे सोसल डिस्टेंस का उलंघन कर रहे है इस चित्र सेआप अंदाज लगा सकते है।।

बलौदाबाजार के छेरकपुर में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या पालरी पुलिस जांच में जुटी

बलौदाबाजार: जिले में लॉकडाउन के बीच हत्या का एक मामला सामने आया है जहां एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई है. मरने वालों में एक महिला और दो पुरुष शामिल हैं. सभी की कुल्हाड़ी से मारकर हत्या की गई है. हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद आरोप फरार हो गया है. मामला पलारी थाना क्षेत्र के छेरकाडीह गांव का है. फिलहाल एसपी प्रशांत ठाकुर घटनास्थल का निरीक्षण कर रहे हैं.

छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक जगहों में अब मास्क पहनना अनिवार्य राज्य सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने किया आदेश जारी

छत्तीसगढ़ राज्य में प्रत्येक व्यक्ति को अब घर से बाहर सार्वजनिक स्थानों में निकलते समय मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। राज्य सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मंत्रालय महानदी भवन से इस आशय का आदेश जारी किया गया है। जारी आदेश के तहत चिकित्सकीय विशेषज्ञों द्वारा कोविड-19 के रोकथाम व बचाव के लिए प्रत्येक व्यक्ति को मास्क-फेस कवर पहनना आवश्यक बताया गया है। यह एपिडेमिक एक्ट 1897 एवं छत्तीसगढ़ एपिडेमिक डीसीजेज कोविड-19 विनियम 2020 तथा छत्तीसगढ़ पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 (1) के तहत अनिवार्य किया गया है। बिना मास्क-फेस कवर के घर से बाहर सार्वजनिक स्थानों पर जाना इसका उल्लंघन माना जाएगा और तदनुसार विधिक कार्यवाही की जाएगी। आदेश में कहा गया है कि बाजार में मिलने वाले ट्रिपल लेयर मास्क का प्रयोग किया जा सकता है अथवा होम मेड तीन परतों वाला फेस कवर बनाया जा सकता है। इस होम मेड मास्क-फेस कवर को साबुन से सफाई से धोकर पुनः प्रयोग में लाया जा सकता है। मास्क और फेस कवर उपलब्ध ना होने की स्थिति में गमछा, रूमाल, टुपट्टा आदि का भी उपयोग फेस कवर के रूप में किया जा सकता है। बशर्ते मास्क-फेस कवर पूर्ण रूप से मुंह एवं नाक को ढकने में सक्षम हो। कभी भी उपयोग में लाया हुआ फेस कवर मुंह, नाक ढकने में प्रयुक्त होने वाला गमछा आदि का पुनः प्रयोग बिना साबुन से अच्छी तरह साफ किए नहीं किया जाए।

स्वास्थ्य मंत्री ने डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल पहुंचकर कोविड-19 के इलाज के लिए की जा रही व्यवस्थाओं का लिया जायजा

विभिन्न वार्डों का भ्रमण कर मरीजों का जाना हाल-चाल, परिजनों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने कहा

स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने आज शाम डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय पहुंचकर कोविड-19 के इलाज के लिए की जा रही व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने यहां सभी तैयारियां यथाशीघ्र सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कोविड-19 के इलाज के दौरान यहां से स्थानांतरित होने वाले विभागों की भी जानकारी ली। श्री सिंहदेव ने यहां आईसीयू के निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को सामाजिक दूरी का पालन करने के साथ ही सभी आवश्यक सावधानियां बरतने कहा। उल्लेखनीय है कि डॉ. भीमराव अम्बेडकर अस्पताल को कोविड-19 के उपचार के लिए 500 बिस्तरों का विशेषीकृत अस्पताल बनाया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल में छोटे बच्चों की गहन चिकित्सा इकाई नियोनेन्टल केयर यूनिट की व्यवस्थाओं को देखा। उन्होंने स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग का भी निरीक्षण किया। ये दोनों विभाग अस्थायी रूप से पंडरी स्थित जिला चिकित्सालय में स्थानांतरित हो रहे हैं। सिंहदेव ने शिशु रोग वार्ड के भ्रमण के दौरान वहां भर्ती बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंने मरीजों के परिजनों को सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने कहा। उन्होंने परिजनों से अस्पताल के मॉड्यूलर किचन से मरीजों के लिए आने वाले भोजन के बारे में भी पूछा। इस पर परिजनों ने कहा कि यहां मिलने वाला वाला भोजन पैक्ड एवं हाइजेनिक रहता है। स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल के प्रथम तल पर स्थित आईसीयू की व्यवस्था का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कोविड-19 के उपचार के लिए निर्मित आईसोलेशन वार्ड और निर्माणाधीन आईसीयू को भी देखा। श्री सिंहदेव ने अस्पताल के निरीक्षण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सावधानियों का पूरी तरह पालन किया। भ्रमण के दौरान रायपुर चिकित्सा महाविद्यालय के डीन डॉ. विष्णु दत्त, अम्बेडकर अस्पताल के अधीक्षक डॉ. विनित जैन और एनाटॉमी विभागाध्यक्ष डॉ. माणिक चटर्जी ही उनके साथ मौजूद थे।