बड़ी खबर

पाकिस्तान ने तोड़ सीजफायर एक की मौत

जम्मू। पाकिस्तान अपनी ना पाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहे पाकिस्तान ने आज सुबह जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में फायरिंग करते हुए मोर्टार दागे। इस गोलाबारी में एक दस साल बच्चे की मौत हो गई है जबकि पांच लोग घायल हुए हैं। मृतक बच्चे की पहचान असरार अहमद के रूप में की गई है। पाकिस्तानी सेना ने कर्नी क्षेत्र में सोमवार सुबह 6.30 बजे गोलाबारी और गोलीबारी शुरू की। पुलिस ने बताया, “घायल लोगों को अस्पताल ले जाया गया है।” रक्षा सूत्रों के मुताबिक, “भारतीय सेना इन हमलों का बड़ी मुस्तैदी से जवाब दे रही है। अभी भी गोलाबारी और गोलीबारी जारी है।”  सूत्रों के मुताबिक, "पाकिस्तानी सेना द्वारा भारतीय चौकियों पर बिना किसी कारणवश गोलीबारी शुरू की गई। भारतीय सेनाएं इनका बखूबी जवाब दे रही हैं।'
इसके अलावा केरन सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश भी की गई, जिसे जवानों ने नाकाम कर दिया गया। सेना और घुसपैठियों के बीच मुठभेड़ जारी है, बताया जा रहा है कि सेना ने एक घुसपैठिये को मार गिराया है। 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के पांच राज्यों में नियुक्त किए नए राज्यपाल

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के पांच राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति की है. साथ ही केंद्रशासित प्रदेश अरुणाचल प्रदेश में भी नए उपराज्यपाल को नियुक्त किया गया है 
जिन राज्यों के गवर्नरों को बदला गया है, उनमें मेघालय, असम, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु और बिहार शामिल हैं। अब मेघालय के नए गवर्नर गंगा प्रसाद होंगे। जबकि जगदीश मुखी को असम, ब्रिगेडियर बी डी मिश्रा को अरुणाचल प्रदेश, बनवारी लाल पुरोहित को तमिलनाडु और सत्यपाल मलिक को बिहार का गवर्नर बनाया गया है। जबकि एडमिरल (सेवानिवृत्त) देवेंद्र कुमार जोशी को अंडमान निकोबार का उप राज्यपाल नियुक्त किया है।

जानिए इनके बारे में-
बनवारीलाल पुरोहित: साल 1977 से राजनीति में सक्रिय रूप से जुड़े रहे हैं। 1978 में उन्होंने महाराष्ट्र के नागपुर से पहला विधानसभा चुनाव जीता जबकि 1980 में दक्षिणी नागपुर से एक बार फिर विधानसभा पहुंचे। 1982 में राज्य में मंत्री भी बने। पुरोहित 1984 और 1989 में नागपुर कंपटी से लोकसभा चुनाव जीते। 1996 में एक बार फिर लोकसभा चुनाव जीता।

गंगा प्रसाद: साल 1994 में पहली बार बिहार विधान परिषद के लिए चुने गए। 18 साल तक एमएलसी बने रहे। इससे पहले पांच साल तक प्रसाद विपक्ष में भी रह चुके हैं।
 
देवेंद्र कुमार जोशी: 31 अगस्त 2012 से 26 फरवरी 2014 तक नेवी स्टाफ के प्रमुख रहे। चार जुलाई, 1954 को पैदा हुए जोशी की स्कूली शिक्षा नैनीताल और अल्मोड़ा।

जगदीश मुखी: एक दिसंबर, 1942 को पाकिस्तान के डेरा गाजी खान में पैदा हुए। उन्होंने राजस्थान के राज श्री कॉलेज से स्नातक किया। 1967 में दिल्ली के श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से M.Com किया। 1975 से सक्रिय राजनीति से जुड़े रहे हैं।

ब्रिगेडियर बीडी मिश्रा: 31 जुलाई, 1995 को भारतीय सेना से ब्रिगेडियर के रूप में रिटायर्ड हुए। बीस जुलाई, 1939 को पैदा हुए। एनएसजी कमांडो भी रह चुके हैं। 
साभार 

सीमा पर पाकिस्तान की नापाक फायरिंग को रोकने के लिए बीएसएफ ने ऑपरेशन अर्जुन शुरू किया


सीमा पर पाकिस्तान की नापाक फायरिंग को रोकने के लिए बीएसएफ ने ऑपरेशन अर्जुन शुरू किया

जम्मू - सीमा पर पाकिस्तान की नापाक फायरिंग को रोकने के लिए बीएसएफ ने 'ऑपरेशन अर्जुन' शुरू किया है। लगातार फायरिंग के बाद बीएसएफ ने जवाब देते हुए पाकिस्तानी चौंकियों को निशाना बनाया। बीएसएफ की कार्रवाई के बाद पाकिस्तान बैकफुट पर जाने को मजबूर हो गया। 
भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने सीमा के करीब स्थित पाकिस्तानी सेना के वर्तमान और पूर्व सैन्य अफसरों के घरों और खेतों पर निशाना लगाकर हमला कर रही है जिससे पाकिस्तानी सेना संघर्ष विराम के लिए अनुरोध करने पर विवश हो गयी।  टी वि  रिपोर्ट के अनुसार भारत ने पाकिस्तानी स्नाइपरों द्वारा भारतीय सैनिकों को मारने और सीमावर्ती गांवों और ग्रामीणों पर गोलीबारी के बाद “ऑपरेशन अर्जुन” नामक अभियान शुरू किया। भारत के इस अभियान के बाद पाकिस्तानी सेना घुटनों पर आ गयी है और शांति चाहती है। पाकिस्तानी सेना संघर्ष विराम चाहते हैं।

क्या हैं 'ऑपरेशन अर्जुन' 
दरअसल पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान ने सैनिकों और पूर्व सैनिकों के घरों और खेतों पर फायरिंग की और गोले दागे। इतना ही नहीं पिछले महीने भारतीय जवानों को मारने, ग्रामीणों पर फायरिंग और गांवों में गोलाबारी करने के लिए पाक ने स्नाइपर्स का इस्तेमाल किया था। जिसके बाद बीएसएफ ने पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दिया। इसके लिए बीएसएफ ने 'ऑपरेशन अर्जुन' शुरू किया है।

BHU में छात्राओं पर लाठीचार्ज के मामले में सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पी.एल. पुनिया को पुलिस ने हिरासत में ले लिया

 वाराणसी -वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के सिंहद्वार पर छेड़छाड़ के खिलाफ चल रहे धरना-प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर लाठीचार्ज के मामले में उत्‍तर प्रदेश सरकार ने कार्रवाई की है। प्रथमदृष्‍टया मामले को ठीक से हैंडल न करने के लिए लंका के थाना प्रभारी, भेलूपुर के सर्किल अधिकारी और एक एडिशनल सिटी मजिस्‍ट्रेट (एसीएम) को हटा दिया गया है। छात्राओं का आंदोलन रविवार को भी जारी रहा। इस बीच छात्राओं के प्रति समर्थन जताने वाराणसी पहुंचे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और वरिष्ठ नेता पी.एल. पुनिया को पुलिस ने शहर में प्रवेश करते ही हिरासत में ले लिया। शनिवार के पुलिस लाठीचार्ज, गोलीबारी, पथराव और आगजनी के बाद रविवार सुबह भी बीएचयू के बाहर अशांति का माहौल रहा। सिंह द्वार पर छात्राओं का धरना जारी रहा। छात्राओं के समर्थन में बीएचयू छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष और वाराणसी के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा भी धरने में शामिल हुए।
शनिवार के पुलिस लाठीचार्ज, गोलीबारी, पथराव और आगजनी के बाद रविवार सुबह भी बीएचयू के बाहर अशांति का माहौल रहा। सिंह द्वार पर छात्राओं का धरना जारी रहा। छात्राओं के समर्थन में बीएचयू छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष और वाराणसी के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा भी धरने में शामिल हुए।

इस बीच बीएचयू प्रशासन ने विश्वविद्यालय को दो अक्टूबर तक बंद कर दिया है। छात्राओं को हॉस्टल खाली करने का फरमान जारी कर दिया गया है। बीएचयू से सैकड़ों छात्र-छात्राएं अपने घरों की ओर रवाना होने लगे हैं। पूरा बीएचयू परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। परिसर में और परिसर के बाहर यहां 20 ट्रक पीएसी के जवान तैनात किए गए हैं। बीती रात हुए घटनाक्रम को लेकर रविवार सुबह छात्राओं ने शांति मार्च निकाला। मार्च एलडी गेस्टहाउस पर पहुंचा, जहां पुलिस ने लाठी पटक कर उन्हें पीछे रहने का संकेत दिया, जिससे माहौल फिर अशांत हो गया और उत्तेजित छात्राओं ने धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया।
इधर सरकारी प्रवक्ता ने एक जारी बयान में कहा कि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के निर्देशों के मद्देनजर मुख्य सचिव राजीव कुमार ने शनिवार रात बीएचयू में हुई घटना की मण्डलायुक्त नितिन रमेश गोकर्ण से जांच रिपोर्ट मांगी है। इस जांच के प्रमुख बिन्दु में विश्वविद्यालय में छात्र-छात्राओं एवं पत्रकारों पर लाठीचार्ज तथा आगजनी एवं तोड़फोड़ की घटना है। 

मण्डलायुक्त नितिन रमेश गोकर्ण ने कहा है कि सोमवार को वह अपने मंडलीय कार्यालय में काशी हिंदू विश्वविद्यालय में हुए घटना की सुनवाई करेंगे। उन्होंने कहा कि बीएचयू की घटना से संबंधित किसी व्यक्ति के पास यदि कोई मौखिक अथवा लिखित साक्ष्य हो तो वह उसे सोमवार को उनके कार्यालय में प्रातः 9:00 से 11:00 बजे तक उपस्थित होकर प्रस्तुत कर सकता है।

ये था मामला
उल्लेखनीय है कि विवि परिसर में छात्रों द्वारा छेड़ेखानी का आरोप लगाते हुए छात्राएं वीसी से मिलने की जिद पर अड़ी थीं। वीसी कार्यालय ने 4-5 छात्राओं को मिलने की बात कही, लेकिन छात्राएं चाहती थीं कि वीसी से बातचीत सभी के सामने हो।

इस बीच शनिवार शाम वीसी धरना स्थल पर जाने के बजाय त्रिवेणी हॉस्टल में दूसरे गुट की छात्राओं से मिलने पहुंच गए, जो इस आंदोलन से अलग हो चुकी थीं। जिसकी जानकारी होते ही धरने पर बैठी छात्राएं वीसी के दफ्तर पहुंचकर नारेबाजी करने लगी। मौके पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने पहले तो उन्हें रोका। बाद में शनिवार रात एक बजे तक पुलिस और छात्राओं के बीच झड़प चलती रही।
 
बीएचयू के कुलपति प्रोफेसर गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने इस घटना पर पहली बार अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने परिसर में घटी इस घटना को दुखद बताया और इसे असामाजिक तत्वों की साजिश करार दिया।

कुलपति ने कहा, 'हमें पता चला है कि बड़ी मात्रा में बाहर से आए लोग इस आंदोलन को हवा देने की कोशिश कर रहे थे। हमें सूचना मिली है कि कुछ असामाजिक तत्व विश्वविद्यालय के माहौल को बिगाड़ने का षड्यंत्र रच रहे हैं'।

त्रिपाठी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमारे एक विद्यार्थी के साथ दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी, जिसके बाद हमने सुरक्षा सख्त करने का निर्णय लिया और इसके लिए प्रयास भी हो रहे हैं। परिसर में छात्राओं की सुरक्षा के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। परिसर को सुरक्षित बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं।

फलाहारी बाबा अस्पताल से गिरफ्तार, छत्तीसगढ़ की महिला ने लगाया है रेप का आरोप

राजस्थान पुलिस ने रेप के आरोपी फलाहारी बाबा को गिरफ्तार कर लिया है। फलाहारी बाबा पर छत्तीसगढ़ की एक महिला ने रेप का आरोप लगाया है। टी वि रिपोर्ट के मुताबिक अलवर पुलिस ने फलाहारी बाबा को गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल अलवर पुलिस बाबा फलाहारी का मेडिकल चेकअप करवा रही है
आरोपी बाबा का इलाज अलवर के राजीव गांधी सामान्य चिकित्सलाय में पांच डॉक्टरों की एक टीम कर रही थी। बाबा के खिलाफ पुलिस ने जुर्म प्रमाणित मानते हुए गिरफ्तार किया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पारस जैन ने बताया कि बाबा के खिलाफ पीड़िता ने जो आरोप लगाया है वो जुर्म प्रमाणित पाए जाने के बाद बाबा को गिरफ्तार किया गया है। आपको बता दें कि यौन शोषण के मामले में फंसे फलाहारी महाराज को शुक्रवार को आईसीयू वॉर्ड से जनरल वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया था। बीती रात पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश फलाहारी महाराज से मिले और उनके स्वस्थ होने की पुष्टि की थी। वहीं, दूसरी ओर पीड़िता को शुक्रवार सुबह फिर मधुसूदन आश्रम ले जाया गया जहां फलाहारी महाराज के कक्ष और आश्रम के अन्य कमरों की तस्दीक करवाई गई।मामले में पीड़िता के पिता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्होंने बाबा को भगवान की तरह पूजा है इसके बाद उसने बेटी के साथ जो कार्य किया उससे उनकी धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। उन्होंने बाबा के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है और कहा कि बाबा को इस कृत्य की सजा मिलनी चाहिए।

जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तानी हमले में महिला की मौत, 72 घंटों से हो रही है सीमा पर गोलीबारी अन्य तीन घायल

जम्मू एवं कश्मीर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में घायल हुई एक महिला की रविवार को अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस के अनुसार इस गोलीबारी में घायल हुए तीन अन्य नागरिकों का इलाज जारी है। भारतीय और पाकिस्तानी सैनिकों के बीच अरनिया सेक्टर में पिछले तीन दिनों से भारी गोलीबारी हो रही है। जम्मू जिले के अधिकारियों ने शनिवार को सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों से मुलाकात कर उन्हें आश्वासन दिया कि अगर स्थिति खराब होगी तो उनके लिए अस्थाई आश्रय के लिए इंतजाम किए जाएंगे

तीसरी बार मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार में 9 नए चेहरे शामिल, 4 मंत्रियों का हुआ प्रमोशन, मिलेगी नई जिम्मेदारी

तीसरी बार मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार में कुल नौ नए चेहरों को शामिल किया गया है। इसके अलावा  निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान और पीयूष गोयल को पदोन्नति  मिली है  आइए जानतें हैं इन नए चेहरों के अनुभव और प्रोफाइल के बारे में विस्तार से...

1-अल्फोंस कन्नथनम

केरल कैडर से 1979 बैच के आईएएस अधिकारी अल्फोंस जब दिल्ली विकास प्राधिकरण के आयुक्त थे तो दिल्ली में डेमोलिशन मैन के नाम से खूब चर्चित हुए थे और तकरीबन 15 हजार अवैध बिल्डिंग्स गिराकर डीडीए की जमीन खाली कराई थी। पेशे से वकील अल्फोंस जनशक्ति नामक एनजीओ भी चलाते हैं। इसके अलावा वह राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2017 की समिति के सदस्य हैं। उनकी चर्चित पुस्तक मेकिंग ए डिफरेंस है। 

2- अश्विनी कुमार चौबे

अश्विनी कुमार चौबे बिहार के बक्सर से लोकसभा सांसद हैं। वे मूल्यांकन की संसदीय समिति और ऊर्जा की स्थायी समिति के सदस्य हैं। चौबे केंद्रीय सिल्क बोर्ड के भी सदस्य हैं। वे बिहार विधानसभा के लिए लगातार पांच बार निर्वाचित हुए। चौबे आठ साल तक बिहार सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे और स्वास्थ्य, शहरी विकास और जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के जिम्मेदारी संभाली। 

 3- हरदीप सिंह पुरी
हरदीप सिंह पुरी 1974 बैच के आईएफएस रहे हैं। वह विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों का अनुभव और विशेषज्ञता रखते हैं। वह एक थिंक टैंक रिसर्च एंड इनफॉरमेशन सिस्टम फॉर डेवलपिंग कंट्रीज (आरआईएस) के चेयरमैन हैं। वह संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि रहे हैं। इसके अलावा ब्राजील में राजदूत रहे हैं।

4- अनंत कुमार हेगड़े

अनंत कुमार हेगड़े कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ से लोकसभा सांसद हैं। हेगड़े विदेश मामले और मानव संसाधन विकास से जुड़ी संसदीय स्थायी समिति के सदस्य हैं। वे 28 साल की उम्र में पहली बार सांसद निर्वाचित हुए थे। लोकसभा में यह उनका पांचवां कार्यकाल है। वे ताइक्वांडो के खिलाड़ी रहे हैं। 

5-आरके सिंह
आरके सिंह बिहार के आरा से लोकसभा सांसद हैं। वे स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, कार्मिक, पेंशन और जन शिकायत तथा विधि व न्याय से संबंधित संसदीय स्थायी समिति के सदस्य हैं। सिंह 1975 बैच के बिहार कैडर के आईएएस अधिकारी रहे हैं। वे देश के गृह सचिव की जिम्मेदारी निभा चुके हैं। 

 6- वीरेंद्र कुमार

वीरेंद्र कुमार मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ से लोकसभा सांसद हैं। वे छह बार लोकसभा सांसद रहे हैं। कुमार श्रम पर संसदीय स्थायी समिति के साथ ही लाभ के पद से जुड़ी संयुक्त समिति के अध्यक्ष हैं। कुमार राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के सदस्य भी हैं। जेपी आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले कुमार आपातकाल के दौरान 16 महीने जेल में रहे थे। 

7- गजेंद्र सिंह शेखावत
जोधपुर से भाजपा सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत संसद की वित्त मामलों की स्थायी समिति के सदस्य हैं। वह फेलोशिप कमेटी के चेयरमैन भी हैं। एक प्रगतिशील किसान और टेकसेवी के रूप में शेखावत ग्रामीण समुदाय के लिए एक रोल मॉडल हैं। अपनी साधारण जीवनशैली वाले शेखावत प्रश्नोत्तर ब्लॉगिंग साइट पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले नेता हैं।

8- सत्यपाल सिंह
सत्यपाल सिंह बागपत से लोकसभा के सांसद हैं। आंतरिक मामलों की स्थायी समिति और ऑफिस ऑफ प्रॉफिट की संयुक्त समिति के सदस्य हैं। 1980 बैच के महाराष्ट्र कॉडर के आईपीएस सत्यपाल सिंह मुंबई के पूर्व कमिश्नर रह चुके हैं। उन्होंने जनजातीय संघर्षों और नक्सलवाद पर बेस्ट सेलर किताब भी लिखी है। 

9-शिव प्रताप शुक्ला
उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ला ग्रामीण विकास पर संसदीय स्थायी समिति के सदस्य हैं। वे लगातार चार बार 1989, 1991, 1993 और 1996 में यूपी विधानसभा के सदस्य रहे हैं। शुक्ला आठ साल तक यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री के रूप में काम कर चुके हैं। आपातकाल के दौरान वह 19 महीने तक जेल में रहे थे। 

मोदी कैबिनेट में आज ये 9 नए मंत्री लेंगे शपथ जेडीयू को नहीं मिली जगह

आज (3 सितंबर) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रस्तावित अपने मंत्रिमंडल विस्तार में नौ लोगों को शामिल करने जा रहे हैं। मीडिया रिपोट के मुताबिक बिहार के बक्सर से लोकसभा सांसद अश्विनी कुमार चौबे और आरा संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय गृह सचिव आर के सिंह को मंत्री बनाया जाएगा। इनके अलावा शिव प्रताप शुक्ला, वीरेंद्र कुमार, अनंत कुमार हेगड़े, हरदीप सिंह पुरी, गजेन्द्र सिंह शेखावत, सत्यपाल सिंह और अल्फॉन्स कन्नाथनम को भी मंत्री बनाया जाएगा।
रविवार को शपथ लेने वालों में शिव प्रताप शुक्ला उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं। केंद्र में मंत्री बनने वाले इन नौ चेहरों में दो पूर्व आईएएस अधिकारी हैं। इनके अलावा एक पूर्व आईपीएस और एक पूर्व आईएफएस अधिकारी भी हैं। सत्यपाल सिंह यूपी के बागपत से लोकसभा सांसद हैं। इससे पहले वो मुंबई के पुलिस कमिश्नर थे। हालांकि, सत्यपाल सिंह ने मंत्री बनाए जाने पर फिलहाल किसी भी प्रकार की सूचना होने से इनकार किया है लेकिन कहा कि पार्टी जो फैसला करेगी, वह उन्हें स्वीकार्य होगा।

मुंबई डोंगरी इलाके में जेजे फ्लाईओवर के पास इमारत गिरी, तीन लोगों की मौत, 30 लोग मलबे में दबे

नई दिल्लीः मुंबई के डोंगरी इलाके में जेजे फ्लाइओवर के पास 5 मंजिला इमारत गिरने की खबर है. इस इमारत के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। हादसे में अब तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि लगभग 30 लोग मलबे में फंसे हैं। इस हादसे में 7 लोग गंभीर रुप से घायल हो गये हैं। प्रशासन ने राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। एनडीआरएफ की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई है और मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालने का काम शुरू कर दिया है। घटनास्थल पर दमकल की 10 गाड़ियां भी पहुंच गई हैं। शुरुआती जानकारी के मुताबिक इस बिल्डिंग में 10 से 12 परिवार रहते थे। खबर है कि मलबे में 25 से 30 लोग दबे हो सकते हैं। बीएमसी के अधिकारी, मुंबई पुलिस भी राहत और बचाव एजेंसियों की मदद कर रहे हैं। खबर है कि ये इमारत लगभग 40 से 50 साल पुरानी थी। मलबे से इस वक्त कुछ लोगों को बाहर निकाला गया है। इन्हें पास के जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ये घटना आज सुबह करीब करीब 9 बजे की है। इस घटना में अब तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

नागपुर-मुंबई दुरंतो एक्सप्रेस टिटवाला के पास इंजन समेत 9कोच पटरी से उतरे रहत एवं बचाव कार्य जारी

महाराष्ट्र में मुंबई-नागपुर दुरंतो एक्सप्रेस टिटवाला के पास दुर्घटना का शिकार हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस घटना में इंजन समेत 9 डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसे में किसी के हताहत होने की अभी तक खबर नहीं मिल रही है। रेसक्यू टीम मौके पर पहुंच चुकी है। हादसा सुबह 6 बजे के करीब हुआ। ज्यादातर लोग उस वक्त सो रहे थे। रेलवे के एक अन्य अधिकरी ने कहा कि यह दुर्घटना सुबह छह बजकर 35 मिनट पर आसनगांव रेलवे स्टेशन के पास हुई। ट्रेन के छह डिब्बे पटरी से उतर गए। उन्होंने कहा, ‘‘हमारा बचाव दल इंजीनियरिंग कर्मचारियों वाली दुर्घटना राहत ट्रेन के साथ मौके पर पहुंच रहा है।’’ उन्होंने कहा कि रेल के पटरी से उतर जाने के कारण इस रास्ते पर रेल यातायात प्रभावित हुआ है।

प्रधानमंत्री मोदी के दौरे से पहले सुलझा डोकलाम विवाद

 
नई दिल्ली/बीजिंगः सिक्किम की सीमा के समीप डोकलाम क्षेत्र में भारत एवं चीन की सेनाओं के बीच बीते करीब अढ़ाई महीने से बना गतिरोध समाप्त हो गया है। दोनों देशों के वहां से अपनी सेनाएं हटाने पर सहमति के साथ यह प्रक्रिया आरंभ हो गई है। विदेश मंत्रालय ने आज यहां एक बयान में कहा कि हाल के सप्ताहों में भारत एवं चीन के बीच डोकलाम की घटना को लेकर राजनयिक संवाद चला जिसमें भारत अपनी चिंताओं एवं हितों को चीन को सूचित करने एवं अपने विचारों से अवगत कराने में समर्थ रहा है।बयान में कहा गया है कि इस आधार पर डोकलाम क्षेत्र में सैनिकों को आमने-सामने से तत्परता से हटाने को लेकर सहमति बनी है और अब यह प्रक्रिया आरंभ हो गई है। भारतीय सेना के सूत्रों ने भी बताया कि डोकलाम से दोनों देशों की सेनाओं को हटाया जाना शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिये अगले सप्ताह होने वाली चीन यात्रा के पहले इस विवाद का सुलझ जाना भारतीय कूटनीति की कामयाबी मानी जा रही है।

अढ़ाई महीने चला विवाद
उल्लेखनीय है कि जून में भूटान एवं चीन के बीच विवादित डोकलाम क्षेत्र में चीन द्वारा एकतरफा ढंग से सड़क निर्माण के प्रयास का भूटानी सेना ने विरोध जताया था और चीनी सेना के उसे नहीं मानने पर भूटानी सेना के संकेत के बाद भारतीय सेना ने 16 जून को आगे बढ़कर चीनी सेना को रोका था। करीब अढ़ाई माह में दोनों देशों की सेनाओं के आमने-सामने आ खड़े होने से विश्व की दो उभरती आर्थिक महाशक्तियों के बीच गहरा तनाव उत्पन्न हो गया था। 

बाबा राम रहीम बलात्कारी करार, हाथ जोड़े गए हिरासत में, 28 को होगा सजा का एलान- के बाद पंजाब और हरियाणा के अलग अलग इलाकों में हिंसा और आगजनी

 बाबा राम रहीम के खिलाफ दायर यौन उत्पीड़न के मामले में कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने बाबा राम रहीम को दोषी करार दे दिया है। इस महीने की 28 तारीख को सजा का ऐलान होगा। बाबा राम रहीम पर एक साध्वी ने बलात्कार का आरोप लगाया था। 2002 मई में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाते हुए डेरे की एक साध्वी ने गुमनाम पत्र प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भेजा था। इसकी एक प्रति पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को भी भेजी गई। वाजपेयी ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी।
फैसले के मद्देनजर कोर्ट को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। इससे पहले राम रहीम सिरसा से 800 गाड़ियों के साथ निकले थे। राम रहीम के लाखों की संख्या में भक्त पंचकुला पहले ही पहुंच चुके हैं। पुलिस को भीड़ के हिंसक होने की आशंका है। पंचकुला में मौजूद ज्यादातर समर्थकों के हाथ में डंडे आदि भी हैं। पुलिस ने भीड़ को काबू करने की पूरी कोशिश कर रखी है। वहीं राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए न्यायपालिका ने भी चिंता जताई है और सख्त हिदायतें दी हैं।
टी वि रिपोट के अनुसार बाबा  के लाखों समर्थक सड़कों पर उतर आए हैं। पंजाब और हरियाणा के अलग अलग इलाकों में हिंसा और आगजनी की खबरें हैं। पंचकूला में दो दिन से जमा डेरा समर्थक गुंडागर्दी और हिंसा पर उतारू हैं। जगह-जगह गाड़ियों में तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं। पुलिस ने उपद्रवियों को काबू में करने के लिए फायरिंग की है। इस हिंसा में पंचकूला में अब तक दस लोगों के मौत की खबर है। पंचकूला में कर्फ्यू लगा दिया गया है, कोर्ट के आसपास के इलाके को खाली करा लिया गया है। शहर में सेना की 6 टुकड़ियां तैनात की गई हैं। इस बीच राज्य में बिगड़ते हालात के मद्देनजर मनोहर लाल खट्टर कैबिनेट की आपात बैठक हो रही है।
डेरा समर्थकों ने निजी टीवी चैनल एनडीटीवी के ओबी बैन को आग के हवाले कर दिया है। इसके अलावा टाइम्स नाऊ और आज तक के ओबी बैन को तोड़ा गया है। बाबा के समर्थकों ने मीडिया को निशाना बनाने के साथ-साथ चंडीगढ़-शिमला हाई वे पर आम लोगों को भी निशाना बनाया है। पंचकूला में जीवन बीमा बिल्डिंग के पास 100 गाड़ियों को फूंक दिया गया है। पुलिस पर भी नाराज समर्थक पत्थर फेंक रहे हैं। पंजाब में भी उग्र डेरा समर्थकों ने दो रेलवे स्टेशन में आग लगा दिया है। पंजाब के बरनाला में टेलिफोन एक्सचेंज फूंक दिया गया है।

रेलवे बोर्ड के नए चेयरमैन बने लोहानी

नई दिल्ली.रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल के इस्तीफे के बाद अश्विनी लोहानी को नया चेयरमैन बनाया गया। फिलहाल, वह एयर इंडिया के सीएमडी हैं, लोहानी की जगह राजीव बंसल को मिलेगी। मित्तल के इस्तीफे के पीछे उत्तर प्रदेश में दो बड़े ट्रेन हादसों को वजह बताया जा रहा है। उधर, रेल मंत्री ने बुधवार को नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। बाद में मीडिया से कहा- एक्सीडेंट्स से मुझे गहरा दुख पहुंचा है। कुछ लोगों की जानें गई हैं। मैंने पीएम से मिलकर इन हादसों की पूरी जिम्मेदारी ली है। उन्होंने मुझे इंतजार करने को कहा है। बता दें कि यूपी के खतौली में उत्कल एक्सप्रेस के हादसे में 22 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि बुधवार को एक और एक्सीडेंट में 80 लोग घायल हो गए।  लोहानी एयर इंडिया का सीएमडी बनने से पहले इंडियन रेलवे सर्विस ऑफ मेकेनिकल इंजीनियर्स के डिविजन रीजनल मैनेजर थे। इसके अलावा वे आईटीडीसी के चेयरमैन भी रहे। वहीं, रेलवे म्यूजियम के डायरेक्टर की जिम्मेदारी भी संभाली। उन्हें 2015 में एयर इंडिया की जिम्मेदारी दी गई थी।

 वे अपने कामकाज को लेकर हमेशा से चर्चा में रहे।  लोहानी ने 1979 में सिर्फ 21 साल की उम्र में मेकैनिकल, इलेक्ट्रिकल, मेटलर्जिकल और टेलीकम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त कर ली थी। इसके लिए उन्हें लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्डस 2007 में जगह मिली थी। सबसे पुराना स्टीम लोकोमोटिव इंजन 'फेयरी क्वीन को चलाने की वजह से 1998 में उनका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया था।

प्रभु का इस्तीफा नहीं लिया, पर फेरबदल में गडकरी को रेल मंत्री बना सकते हैं मोदी

केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हाल में हुई रेल दुर्घटनाओं की ‘पूरी नैतिक जिम्मेदारी’ लेते हुए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर इस्तीफे की पेशकश की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उनसे ‘इंतजार’ करने को कहा है। पिछले चार दिनों में दूसरी रेल दुर्घटना के बाद प्रभु प्रधानमंत्री से मिले और हादसों और अन्य हालात की ‘पूरी नैतिक जिम्मेदारी’ ली। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘प्रधानमंत्री ने मुझसे इंतजार करने को कहा है।’ प्रभु ने हालांकि साफ तौर पर यह नहीं लिखा है कि उन्होंने इस्तीफे की पेशकश की है, लेकिन ट्वीट की उनकी भाषा को देखते हुए ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं। ट्वीट में रेल मंत्री ने कहा, ‘मैं दुर्भाग्यपूर्ण हादसों से गहरे सदमे में हूं, जिनमें कई यात्रियों की जान गई और लोग जख्मी हुए हैं। इसने मुझे गहरा सदमा दिया है।’ उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने जिस नए भारत की कल्पना की है, उसमें निश्चित रूप से रेलवे आधुनिक व सक्षम होनी चाहिए। मैं कहना चाहता हूं कि रेलवे उसी दिशा में आगे बढ़ रहा है।’

दूसरी तरफ कतिथ तौर पर प्रभु के इस्तीफे की पेशकश पर अब टाइम्स नाऊ ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है। चैनल ने कहा है कि अगर केंद्रीय मंत्रीमंडल में किसी तरह का फेसबदल होता है तो रेल मंत्रालय नितिन गडकरी को दिया जा सकता है। गौरतलब है कि वर्तमान में नितिन गडकरी केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री हैं। कहा जा रहा है कि अगर पीएम मोदी सुरेश प्रभु का इस्तीफा मंजूर करते हैं तो नए कैबिनेट फेरबदल तक नितिन गडकरी को केंद्रीय रेल मंत्रालय का पदभार दिया जा सकता है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में गोरखपुर हादसे के बाद कानपुर और इटावा के बीच औरैया जिले में अछल्दा स्टेशन के पास बुधवार तड़के आजमगढ़ से दिल्ली जा रही 12225 (अप) कैफियत एक्सप्रेस डंपर से टकराने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जिसके बाद ट्रेन के 12 डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में 78 लोग घायल हो गए। अपर पुलिस महानिदेश (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया कि था हादसे में 78 लोग घायल हुए, जिनमें चार की हालत गंभीर बताई गई। इस हादसे के बाद कानपुर शताब्दी सहित 12 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है और राजधानी सहित सभी 51 ट्रेनों के रूट बदल दिए गए हैं। दिल्ली-हावड़ा रूट पूरी तरह बाधित हो गया। राजधानी एक्सप्रेस और गोमती एक्सप्रेस का मार्ग बदला गया है।

उत्तर प्रदेश एक हफ्ते में दूसरी रेल दुर्घटना: औरेया में कैफियत एक्सप्रेस के 10 कोच पलटे, 75 घायल

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ शहर में कैफियत एक्सप्रेस मंगलवार देर रात पटरी से उतर गई है। ये घटना रात करीब 2 बजकर 40 मिनट पर औरेया जिले के अछल्दा और पाता रेलवे स्टेशनों के बीच हुआ है। हादसे की वजह इस ट्रेन का एक डंपर से टकरा जाना है।  रेलवे के डीजी पीआरओ अनिल सक्सेना ने बताया कि हादसा तब हुआ जब ट्रेन डंपर से टकरा गई, इसके बाद ट्रेन की 10 बोगियां और इंजन पटरी से उतर गई। टक्कर के बाद ट्रेन की 10 बोगियां पटरी से उतर गई। इस हादसे में 75 लोग घायल हो गये हैं। जिनमें से 4 लोगों की हालत गंभीर है। इस दुर्घटना में किसी की मौत की खबर नहीं है। गंभीर रुप से घायलों का इलाज इटावा और सैफई में चल रहा है। यूपी के प्रधान सचिव (होम) अरविंद कुमार ने बताया कि घायलों को सभी तरह की सरकारी मदद मुहैया कराई जा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ये डंपर रात को पटरी पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। लेकिन इस दुर्घटना की सूचना आगे नहीं दी गई, जिसकी वजह से डंपर पटरी पर ही पड़ा रहा और ट्रेन को भी नहीं रोका जा सका। घटना के बाद डंपर का ड्राइवर फरार है।

कैफियत एक्सप्रेस  घटना के बाद से दिल्ली-हावड़ा रूट बाधित
- इलाहाबाद-औरैया में कैफियत एक्सप्रेस हादसे के चलते दिल्ली-हावड़ा रूट बाधित,इलाहाबाद आने वाली दर्जनों ट्रेने प्रभावित,रूट बाधित होने से यात्रियों को हो रही परेशानी,शिकोहाबाद से मेमो रैक दुर्घटना स्थल के लिए रवाना
- 50 से अधिक लोग घायल,राहत बचाव कार्य जारी,इटावा, औरैया,कन्नौज,का जिला प्रसाशन मौके पर,घायल अछल्दा स्वास्थ केंद्र में भर्ती,गंभीर घायल सैफई रेफर
- 12301 हावड़ा नई दिल्ली राजधानी डायवर्ट,12313 राजेन्द्र नगर पटना नई दिल्ली राजधानी डायवर्ट,22823 भुवनेश्वर नई दिल्ली राजधानी डायवर्ट,12877 रांची नई दिल्ली गरीब रथ डायवर्ट,12419 लखनई नई दिल्ली गोमती एक्सप्रेस डायवर्ट,सभी ट्रेनें कानपुर लखनऊ मुरादाबाद गाजियाबाद रूट से होंगी संचालित
- रुट बाधित होने के चलते कई ट्रेनें रद्द,12033 /12034 कानपुर दिल्ली शताब्दी रद्द,12180 आगरा लखनऊ इण्टर सिटी रद्द,12179 लखनऊ आगरा इण्टरसिटी रद्द,64153 कानपुर इटावा मेमो रद्द,64155 इटावा टुंडला मेमो रद्द,64164 शिकोहाबाद फंफूद मेमो रद्द,64588 टुंडला कानपुर मेमो रद्द
-कानपुर देहात-स्वर्ड शताब्दी एक्सप्रेस का इंजन खराब,इंजन खराब होने से 2 घंटे तक रेलवे ट्रैक रहा बाधित,2 घंटे बाद मालगाड़ी का इंजन लगा शताब्दी रवाना,रूरा रेलवे स्टेशन का मामला