बड़ी खबर

प्रदेश के लोगों को जल्द मिलेगा डीकेएस मल्टी सुपर-स्पेशलिटी अस्पताल का लाभ स्वास्थ्य मंत्री ने की विभागीय काम-काज की समीक्षा

रायपुर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री  अजय चन्द्राकर ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय काम-काज की समीक्षा की। बैठक में श्री चंद्राकर ने कहा कि प्रदेश के लोगों को जल्द ही उच्च स्तर के डी.के.एस. मल्टी सुपर-स्पेशलिटी अस्पताल का लाभ मिलेगा।
    बैठक में   चन्द्राकर ने गरियाबंद जिले के देवभोग के ग्राम सुपेबेड़ा सहित आस-पास के गांवों  में सामने आ रही किडनी में होने वाले रोग की समस्या को ध्यान में रखते हुए त्वरित उपचार करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए देवभोग सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को 30 बिस्तर अस्पताल से 50 बिस्तर वाले अस्पताल के रूप में अपग्रेडेशन करने का निर्णय लिया गया। साथ जल्द ही डायलिसिस मशीन स्थापित किए जाने की जानकारी दी। बैठक में बताया गया कि इसमें अतिरिक्त सीकेडी चेन्नई के विषय विशेषज्ञों से किडनी की बीमारियों के संबंध मे गहन जानकारी के लिए अध्ययन कराया जाएगा। रिपोर्ट के आधार पर इलाज के लिए हर संभव और समुचित व्यवस्था की जाएगी।
          बैठक में   चन्द्राकर ने कहा कि डीे.के.एस. अस्पताल प्रदेश के सार्वजनिक क्षेत्र  में पहला मल्टी-सुपर स्पेशलिटी अस्पताल है। इससे शीघ्र ही राज्य के आम लोगों को उच्च गुणवत्ता की चिकित्सा सुविधा धरातल पर दिखेगी।   चन्द्राकर ने इसके लिए अस्पताल का जीर्णोद्धार कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने चिकित्सा उपकरणों, मशीनों की स्थापना सहित इनके संचालन प्रक्रिया को भली भांति ढंग से समझ लेने के भी निर्देश दिए। बैठक में पीजीआई चण्डीगढ़ द्वारा संचालित पाठ्यक्रमों के अनुसार चार-पांच विषयों में सुपर स्पेशियालिटी डिग्री डीएनबी एवं डीएम कोर्स  प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे.पी. नड्डा ने छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान चर्चा पर मौखिक सहमति प्रदान कर दी है।
 चन्द्राकर ने चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा संचालित कांउसिंलिंग व्यवस्था के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होेंने काउसिंलिंग के दौरान छात्र-छात्राओं और उनके परिजनों को किसी प्रकार की परेशानी न हो यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्हांेने काउसिंलिंग स्थल परिसर में विद्यार्थियों और परिजनों के लिए टंेट, पानी आदि की व्यवस्था करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।
       बैठक में   चन्दाकर ने राज्य के अस्पतालों में साफ-सफाई, भोजन, वाहन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी प्रकार की अमानवीय घटना न हो इसका विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। लापारवाही करने वालों के विरूद्ध नियमानुसार सख्त कार्रवाई करने निर्देश दिए। बैठक में श्री चन्द्राकर ने आयुष्मान भारत योजना के बेहतर क्रियान्वयन पर जोर दिया। उन्होंने प्रदेश के वास्तविक गरीब परिवारों को इस योजना का लाभ दिलाने अधिकारियों को निर्देशित किया।
 चन्द्राकर ने छत्तीसगढ़ मेडिकल कार्पोरेशन कम्पनी (सीजीएमएससी) के कार्यो की प्रगति की समीक्षा की। श्री चन्द्राकर ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य संचालनालय से समन्वय कर जरूरत के हिसाब से उच्च गुणवत्ता के दवाई और चिकित्सा उपकरणों की खरीदी की जाए। उन्होेंने मौसमी बीमारियों को ध्यान में रखते हुए पर्याप्त मात्रा में दवाइयों का भंडारण एवं वितरण व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका सिंह बारिक, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं   रानू साहू, मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे, संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. ए.के.चंद्राकर, संचालक आयुर्वेद डॉ. जी.एस.बदेशा, प्रबंध संचालक सीजीएमएससी श्री व्ही. रामाराव, डीकेएस अस्पताल के नोडल अधिकारी एवं अधीक्षक डॉ. पुनीत गुप्ता सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री आज 19 जून को राजधानी में करेंगे राज्य स्तरीय शाला प्रवेश उत्सव का शुभारंभ

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कल मंगलवार 19 जून को राज्य स्तरीय शाला प्रवेश उत्सव 2018 का शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम राजधानी रायपुर के भाठागांव स्थित नगर माता बिन्नीबाई सोनकर शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला में सवेरे 11 बजे आयोजित किया जाएगा। शुभारंभ कार्यक्रम की अध्यक्षता रायपुर लोकसभा सांसद  रमेश बैस करेंगे। कार्यक्रम में कृषि और जल संसाधन मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल, स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री  केदार कश्यप, लोक निर्माण, आवास और पर्यावरण मंत्री  राजेश मूणत, स्कूल शिक्षा विभाग के संसदीय सचिव अम्बेश जांगड़े, पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष और धरसींवा के विधायक देवजी भाई पटेल, रायपुर (ग्रामीण) के विधायक  सत्यनारायण शर्मा, रायपुर नगर(उत्तर) के विधायक   श्रीचंद सुंदरानी, अध्यक्ष जिला पंचायत रायपुर  शारदा वर्मा और नगर निगम रायपुर के महापौर  प्रमोद दुबे विशेष अतिथि के रूप में कार्यक्रम में शामिल होंगे। यह आयोजन राज्य सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग और रायपुर जिला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है।  

प्रधानमंत्री मोदी ने प्रदेश को दी कई सौगातें - मोदी का पहला भिलाई नगर प्रवास

 प्रधानमंत्री मोदी ने प्रदेश को दी कई सौगातें  : नया रायपुर में एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण

छत्तीसगढ़ को मिली पहली घरेलू यात्री विमान सेवा की सौगात 

भिलाई इस्पात संयंत्र में 18 हजार 500 करोड़ की आधुनिकीकरण परियोजना का लोकार्पण: आईआईटी भिलाई के लिए 445 एकड़ में बनने वाले परिसर का शिलान्यास 

भारत नेट परियोजना के दूसरे चरण का भी शुभारंभ: राज्य की 
5987 ग्राम पंचायतों को मिलेगी टेलीफोन इंटरनेट कनेक्टिीविटी 

प्रधानमंत्री के रूप में  मोदी का पहला भिलाई नगर प्रवास
 रायपुर / भिलाई   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज छत्तीसगढ़ के संक्षिप्त प्रवास के दौरान राज्य की जनता को अनेक महत्वपूर्ण सौगातें दी। भारतीय वायुसेना के विशेष विमान द्वारा सवेरे नईदिल्ली से रायपुर पहुंचने के बाद  मोदी मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ नया रायपुर पहुंचे, जहां उन्होंने नया रायपुर विकास प्राधिकरण (एनआरडीए) के मुख्यालय भवन में एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण किया। इस केन्द्र में स्मार्ट सिटी के रूप में तेज गति से विकसित हो रहे नया रायपुर शहर में बिजली, पानी, सड़क, संचार और स्वच्छता जैसी नागरिक सुविधाओं की ऑनलाइन निगरानी की जाएगी, वहीं स्थानीय नागरिक इन सेवाओं से जुड़ी अपनी समस्याओं के बारे में एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केन्द्र को हेल्पलाइनों पर सीधा सूचित कर सकेंगे। 
     प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री के साथ हेलीकॉप्टर से देश के प्रमुख औद्योगिक तीर्थ भिलाईनगर पहुंचे, जहां उन्होंने विशाल आमसभा में भिलाई इस्पात संयंत्र के आधुनिकीकरण एवं विस्तारीकरण से संबंधित कार्यों का लोकार्पण किया। भिलाई इस्पात संयंत्र के इन नये निर्माण कार्यों पर 18 हजार 500 करोड़ रूपए की लागत आयी है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1955 में सार्वजनिक क्षेत्र के अंतर्गत स्थापित यह छत्तीसगढ़ का पहला इस्पात संयंत्र है। वर्ष 1962 में इस संयंत्र की वार्षिक उत्पादन क्षमता एक मिलियन टन थी, जो वर्तमान में 4 मिलियन टन से ज्यादा हो गई है और आधुनिकीकरण और विस्तारीकरण के बाद संयंत्र ने अब 7 मिलियन टन वार्षिक उत्पादन क्षमता हासिल कर ली है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भिलाई इस्पात संयंत्र का भी दौरा किया।

    प्रधानमंत्री के रूप में मोदी की विगत तीन वर्ष में आज यह पांचवी और दो माह में दूसरी तथा भिलाईनगर की पहली यात्रा थी।   मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार 09 मई 2015 को छत्तीसगढ़ प्रवास पर दंतेवाड़ा आए थे। उन्होंने इसके बाद 21 फरवरी 2016 को नया रायपुर और राजनांदगांव जिले के कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। वे तीसरी बार एक नवंबर 2016 को छत्तीसगढ़ राज्योत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में नया रायपुर आए थे। छत्तीसगढ़ के चौथे प्रवास पर उन्होंने दो माह पहले अम्बेडकर जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल को राज्य के बस्तर संभाग के ग्राम जावंगा (जिला-बीजापुर) आकर राष्ट्रव्यापी ग्राम स्वराज अभियान का शुभारंभ करने के साथ ही आयुष्मान भारत योजना के प्रथम चरण में देश के पहले हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर का लोकार्पण किया था। 

रायपुर-जगदलपुर-विशाखापट्नम यात्री विमान सेवा का शुभारंभ 
छत्तीसगढ़ को मिली घरेलू विमान सेवा की सौगात

  मोदी ने आज के अपने प्रवास के दौरान छत्तीसगढ़ की जनता को राज्य की प्रथम घरेलू विमान सेवा की भी सौगात दी। उन्होंने केन्द्र सरकार की ‘उड़ान’ परियोजना के तहत आम जनता को कम कीमत पर हवाई यातायात की सुविधा देने के लिए जगदलपुर-रायपुर-विशाखापट्नम के बीच यात्री विमान सेवा का शुभारंभ करते हुए जगदलपुर विमानतल का भी लोकार्पण किया। इस सेवा के अंतर्गत एक निजी कंपनी के 19 सीटों वाले विमान से यात्री सिर्फ 1670 रूपए के टिकट पर रायपुर से जगदलपुर केवल 40 मिनट में पहुंच सकेंगे। उल्लेखनीय है कि राज्य निर्माण के बाद पहली बार मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की विशेष पहल और बस्तर अंचल को विकास की दृष्टि से सर्वोच्च प्राथमिकता देने की राज्य और केन्द्र की नीति के तहत यह यात्री विमान सेवा शुरू हुई है। मुख्यमंत्री ने इसके लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रति आभार व्यक्त किया है।

 प्रधानमंत्री के हाथों भिलाई आईआईटी का शिलान्यास 
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने आज जयंती स्टेडियम में आयोजित आमसभा में भिलाईनगर के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के विशाल भवन परिसर का शिलान्यास भी किया। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार के अनुरोध पर केन्द्र से भिलाई नगर के लिए आईआईटी की मंजूर मिली और वर्ष 2016 में इसकी स्थापना हुई। यह भारत का 23वां आईआईटी है। प्रधानमंत्री के हाथों भिलाईनगर में हुए शिलान्यास के बाद तीन चरणों में विकसित होने वाले इस संस्थान में सात हजार 500 विद्यार्थी उच्च तकनीकी शिक्षा हासिल कर सकेंगे। केन्द्र सरकार ने भिलाई आईआईटी के लिए प्रथम चरण में एक हजार 082 करोड़ रूपए का बजट आवंटित किया है। वर्तमान में यह संस्थान राजधानी रायपुर के सेजबहार स्थित शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज में संचालित हो रहा है। भिलाईनगर में इसका भवन बन जाने के बाद संस्थान वर्ष 2020 में स्थायी रूप से दुर्ग जिले में भिलाई के पास कुठेलभांठा और सिरसाखुर्द में स्थित 445 एकड़ के अपने विशाल परिसर में संचालित होने लगेगा। कैम्पस का निर्माण सितंबर 2018 में शुरू हो जाएगा। यह भवन पर्यावरण हितैषी और बिजली की बचत की दृष्टि से काफी सक्षम होगा। आईआईटी (भिलाईनगर) में वर्तमान में कम्प्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रिकल और मेकेनिकल विषयों में बीटेक तथा एमटेक और छह विषयों-गणित, रसायन, कम्प्यूटर विज्ञान, भौतिकी, इलेक्ट्रिकल और मेकेनिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी की भी सुविधा है। देश-विदेश के 25 वरिष्ठ और अनुभवी प्राध्यापक यहां अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 

भारत नेट परियोजना के द्वितीय चरण का शुभारंभ
प्रधानमंत्री   मोदी ने भिलाई नगर की आमसभा में केन्द्र सरकार की भारत नेट परियोजना के दूसरे चरण का शुभारंभ किया। इसके अंतर्गत छत्तीसगढ़ की 10 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों में से  5987 ग्राम पंचायतों को भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) द्वारा इंटरनेट सुविधा दी जाएगी। इसके लिए ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क विकसित किया जा रहा है। प्रत्येक ग्राम पंचायत पर औसतन 5.66 किलोमीटर के मान से कुल 32 हजार 466 किलोमीटर आप्टिकल फाइबर केबल बिछाए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि भारत नेट परियोजना के प्रथम चरण में प्रदेश की चार हजार 104 ग्राम पंचायतों में बीएसएनएल द्वारा इंटरनेट कनेक्टिविटी दी जा चुकी है। दूसरे चरण के कार्य पूर्ण होने पर राज्य के शत-प्रतिशत गांवों को यह सुविधा मिलने लगेगी। इस परियोजना के लिए भारत सरकार द्वारा एक हजार 674 करोड़ रूपए और ओपेक्स के रूप में तीन साल के लिए 392 करोड़ रूपए मंजूर किए गए हैं। भारतनेट परियोजना का क्रियान्वयन छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार के नेतृत्व में एक मॉडल के रूप में किया जा रहा है। इसके लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने मेसर्स टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड का चयन किया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा संचार क्रांति योजना के तहत 50 लाख परिवारों को निःशुल्क स्मार्टफोन दिए जाएंगे, जिन्हें भारतनेट परियोजना के तहत अपने फोन पर बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी। राज्य सरकार संचार क्रांति योजना में इन परिवारों को 1200 करोड़ रूपए का स्मार्टफोन निःशुल्क देगी। यह भी उल्लेखनीय है कि भारत नेट परियोजना से प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन और इंटरनेट का सम्पर्क तंत्र मजबूत होगा। ग्राम पंचायतों के स्तर पर लोगों को आपातकालीन चिकित्सा सुविधा संजीवनी 108 और महतारी एक्सप्रेस 102 की टोल फ्री सेवाएं आसानी से मिलेंगी। शासन की अनेक ई-सेवाएं ग्राम पंचायतों के स्तर पर सर्वसुलभ होंगी। लाखों लोगों को सूचना, शिक्षा और बाजार की ऑनलाइन सुविधाएं मिलेंगी। डिजीटल भुगतान को बढ़ावा मिलेगा। छत्तीसगढ़ के सभी लगभग 20 हजार गांव टेलीफोन और इंटरनेट से जुड़ जाएंगे। 

हितग्राहियों को सामग्री-चेक वितरित 
प्रधानमंत्री   मोदी ने भिलाईनगर के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में 12 मई से प्रारंभ प्रदेशव्यापी विकास यात्रा 2018 के प्रथम चरण का औपचारिक समापन भी किया। दूसरा चरण 16 अगस्त से शुरू होकर 30 सितम्बर तक चलेगा।  मोदी ने भिलाईनगर के जयंती स्टेडियम की आमसभा में छत्तीसगढ़ सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत कई हितग्राहियों को सामग्री आदि का वितरण किया। उन्होंने छत्तीसगढ़ युवा सूचना क्रांति योजना के तहत कॉलेज स्तर के विद्यार्थियों को लैपटाप, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं को रसोईगैस कनेक्शन, और प्रधानमंत्री मातृवंदना योजना के तहत हितग्राही महिलाओं को चेक वितरित किए। श्री मोदी ने राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री आबादी पटट्ा योजना के तहत हितग्राहियों को पट्टे भी दिए। उन्होंने ई-रिक्शों का भी वितरण किया। श्री मोदी ने इसके अलावा केन्द्र सरकार की स्टैंड अप और मुद्रा योजना और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत हितग्राहियों को चेक वितरित किए। 

अब जगलदपुर से रायपुर की दूसरी 6 से 7 घंटे की जगह सिर्फ 40 मिनट ही रह गई है:-PM

भिलाई:-आज जगदलपुर से रायपुर के लिए उड़ान भी शुरु हो गई है। अब जगलदपुर से रायपुर की दूसरी 6 से 7 घंटे की जगह सिर्फ 40 मिनट ही रह गई है। सरकार की इन नीतियों का ही असर है कि अब ट्रेन में एसी डिब्बों में सफल करने वालों से ज्यादा यात्री हवाई जहाज में सफर करते हैं:-PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नया रायपुर में स्थित कमांड और कंट्रोल सेंटर का उद्धाटन किया.

रायपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नया रायपुर में स्थित कमांड और कंट्रोल सेंटर का उद्धाटन किया. इस मौके पर मुख्यमंत्री रमन सिंह समेत कई मंत्री मौजूद रहे. यह सेंटर नया रायपुर के सेक्टर-19 में बनाया गया है. इसके निर्माण पर करीब एक वर्ष का समय और लगभग चार करोड़ रुपये की लागत आई है. इस सेंटर से स्मार्ट सिटी के तहत विकसित होने वाली सारी हाइटेक सुविधाओं को नियंत्रित किया जाएगा. नया रायपुर में सुरक्षा और मॉनिटरिंग के लिए लगे सीसीटीवी कैमरों की निगरानी भी इसी सेंटर से होगी. इस सेंटर में जनता से जुड़े सारे रिकॉर्ड और डाटा मौजूद होंगे. बिजली, पानी समेत अन्य सभी बिल यहां से तैयार होंगे. बिल अलग-अलग नहीं होंगे, बल्कि सभी सुविधाओं का एक ही बिल बनेगा. कंट्रोल एंड कमांड सेंटर पर मौजूद अमला पूरे शहर में सुरक्षा और ट्रैफिक सिस्टम की मॉनीटरिंग कर सकेगा. पीएम मोदी तीन साल में पांचवी बार छत्तीसगढ़ आ रहे हैं. 11.30 बजे तक वहां रहने के बाद मोदी हेलीकॉप्टर से भिलाई के लिए रवाना होंगे. 12.00 बजे मोदी भिलाई के जयंती स्टेडियम में बने हेलीपैड पर उतरेंगे और सीधे भिलाई स्टील प्लांट के अंदर जायेंगे. पीएम मोदी भिलाई इस्पात संयंत्र आधुनिकीकरण परियोजना को राष्ट्र के नाम समर्पित करेंगे. इसके अलावा आईआईटी भिलाई का शिलान्याश भी करेंगे. वहां करीब 20 मिनट निरीक्षण करने के बाद मोदी 12.30 बजे वहां से जयंती स्टेडियम स्थित कार्यक्रम स्थल पहुंचेंगे. साथ ही 5 अन्य कार्यक्रमों में पीएम मोदी शामिल होंगे. इसके बाद मोदी 2 बजे जयंती स्टेडियम से हेलीकॉप्टर से रायपुर के लिए रवाना होंगे. उसके बाद 2.20 बजे वे रायपुर एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.

रायपुर एयरपोर्ट पहुंचे नरेंद्र मोदी, नया रायपुर से देश को पहला इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की देंगे सौगात

रायपुर:-रायपुर एयरपोर्ट पहुंचे नरेंद्र मोदी, नया रायपुर से देश को पहला इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की देंगे सौगात.,एयरपोर्ट पर सीएम रमन ने किया स्वागत...रमेश बैस,गृह मंत्री पीरा,नंदकुमार साय, श्रीचंद सुन्दरानी, महेश गागड़ा,सुनील सोनी समेत कई भाजपा नेताओ ने किया स्वागत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज छत्तीसगढ़ में भिलाई नगर के जयंती स्टेडियम से भिलाई स्टील प्लांट और घरेलू विमान सेवा को देंगे नई उड़ान

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज छत्तीसगढ़ आ रहे हैं। मोदी नया रायपुर स्मार्ट सिटी और भिलाई नगर में कार्यक्रमों में शामिल होंगे।मोदी केन्द्र सरकार की उड़ान योजना के तहत रायपुर से जगदलपुर तक यात्री विमान सेवा की सौगात देंगे। इससे छत्तीसगढ़ का आदिवासी बहुल बस्तर संभाग देश के हवाई यातायात के मानचित्र में शामिल हो जाएगा। 
मोदी 10.40 बजे रायपुर एयरपोर्ट पर उतरेंगे और छत्तीसगढ़ में कुल तीन घंटे 45 मिनट तक रहेंगे। इस दौरान वे नया रायपुर और भिलाई स्टील प्लांट जाएंगे। मोदी दुर्ग में एक बड़ी जनसभा को संबोधित करेंगे और यहीं से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों का शंखनाद हो जाएगा। दुर्ग से ही वीडियो लिंक के जरिये वह जगदलपुर-रायपुर विमान सेवा का लोकार्पण करेंगे।इसके साथ ही  भिलाई स्टील प्लांट में पीएम फौलाद बनाने की प्रक्रिया भी देखेंगे देखेंगे
प्रधानमंत्री 14 जून को सुबह 10. 40 बजे रायपुर पहुंचेंगे। स्वामी विवेकानंद विमानतल (माना) से नया रायपुर स्मार्ट सिटी आकर सुबह 10.55 बजे बिजली, पानी, स्वच्छता, यातायात प्रबंधन, एकीकृत भवन प्रबंधन, सिटी कनेक्टिविटी और इंटरनेट अधोसंरचना (डाटा सेंटर) और सम्पूर्ण नया रायपुर शहर की निगरानी के लिए एकीकृत कमांड और नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण करेंगे। मुख्यमंत्री रमन सिंह भी उनके साथ रहेंगे।
मोदी भिलाई नगर के जयंती स्टेडियम में अपरान्ह 12.30 बजे आमसभा को संबोधित करेंगे। इस दौरान केन्द्र सरकार की उड़ान योजना के तहत जनता को रायपुर से जगदलपुर तक यात्री विमान सेवा की सुविधा देंगे। मोदी इसके अलावा भिलाई इस्पात संयंत्र के आधुनिकीकरण और विस्तारीकरण परियोजना का लोकार्पण करेंगे। 

विशाल भवन का करेंगे शिलान्यास
छत्तीसगढ़ में इंटरनेट कनेक्टिविटी के विस्तार के लिए भारत नेट परियोजना के द्वितीय चरण की परियोजना का भूमिपूजन करेंगे। इसके अलावा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) भिलाई नगर के विशाल भवन का शिलान्यास भी करेंगे।

स्टूडेंट्स को देंगे लैपटॉप 
प्रधानमंत्री मोदी छत्तीसगढ़ सूचना क्रांति योजना के तहत प्रतीक स्वरूप पांच विद्यार्थियों को लैपटॉप देंगे। वे प्रधानमंत्री मातृ वन्दना योजना, स्टैंडअप और मुद्रा योजनाएं, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, मुख्यमंत्री आबादी पट्टा वितरण योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और राज्य सरकार की ई-रिक्शा वितरण योजना के तहत प्रतीक स्वरूप कुछ हितग्राहियों को प्रमाण पत्र एवं चेक और सामग्री आदि का भी वितरण करेंगे।

ये भी देंगे भाषण
मुख्यमंत्री रमन सिंह और केन्द्रीय इस्पात मंत्री वीरेन्द्र चौधरी भी आमसभा को संबोधित करेंगे। स्वागत भाषण राजस्व और उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय देंगे।

विशेष विमान से दिल्ली होंगे रवाना
नया रायपुर और भिलाई नगर के कार्यक्रमों के बाद प्रधानमंत्री हेलीकॉप्टर से दोपहर 2.20 बजे स्वामी विवेकानंद विमानतल माना आएंगे। वहां से अपरान्ह 2.25 बजे वायुसेना के विशेष विमान से नई दिल्ली के लिए रवाना होंगे।

प्रधानमंत्री नया रायपुर में आज एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र का करेंगे लोकार्पण मुख्यमंत्री ने लिया तैयारियों का जायजा

रायपुर - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज  नया रायपुर में देश के पहले एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण करेंगे। यह देश का अपने आप में अकेला और उच्च स्तरीय तकनीक पर काम करने वाला केन्द्र है। यह केन्द्र देश के अन्य स्मार्ट शहरों के लिए रोल माडल बनेगा।
 यहां विभिन्न सुविधाओं को नियंत्रित करने के साथ ही इनसे जुड़ी जानकारी ली जा सकती है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने  नया रायपुर में इस केन्द्र में की जा रही तैयारियों का जायजा लिया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। 
प्रधानमंत्री  मोदी इस केन्द्र में लगभग 20 मिनट तक रूकेंगे। इस केन्द्र की कार्यप्रणाली का उनके समक्ष प्रस्तुतिकरण भी होगा।  यह केन्द्र नया रायपुर विकास प्राधिकरण द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्मार्ट सिटी की परिकल्पना के अनुरुप स्थापित किया गया है। 
     प्रधानमंत्री मोदी निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार  14 जून को भारतीय वायुसेना के विमान से सवेरे 10.40 बजे रायपुर आएंगे और स्वामी विवेकानंद विमान तल (माना) नया रायपुर स्मार्ट सिटी आकर वहां बिजली, पानी,स्वच्छता, यातायात प्रबंधन,एकीकृत भवन प्रबंधन, सिटी कनेक्टिविटी एवं इंटरनेट अधोसंरचना (डाटा सेन्टर) और सम्पूर्ण नया रायपुर शहर की निगरानी के लिए एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण करेंगे। नया रायपुर स्थित एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र से नया रायपुर शहर में इस एक ही स्थान से ई-गवर्नेंस, ट्रैफिक मैनेजमेंट, सुरक्षा, बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम और यूटीलिटी मैनेजमेंट जैसे कार्य नियंत्रित किए जा सकेंगे। यह पूरी तरह से स्वचालित केन्द्र है। यह केन्द्र जी.आई.एस. प्लेट फॉर्म  की सहायता से संचालित किया जाएगा। 
नया रायपुर स्मार्ट सिटी के नागरिक इस केन्द्र में बिजली, पानी आदि किसी भी प्रकार की असुविधा होने पर अपनी शिकायत वहां के हेल्प लाइन नम्बरों पर दर्ज करवा सकते है।  इस केन्द्र के माध्यम से नया रायपुर शहर में आने और बाहर जाने वाले वाहनों के नम्बर, वाहन की गति और उसकी लोकेशन की जानकारी मिलेगी। इससे यातायात को सुचारू बनाना आसान होगा। इस केन्द्र से नया रायपुर शहर के भवनों में बिजली और पानी के वितरण, ए.सी. सिस्टम के नियंत्रण और लिफ्ट परिचालन को नियंत्रित किया जा सकेगा। इस सिस्टम के तहत नया रायपुर शहर में उच्च गुणवत्ता के सौ से अधिक कैमरे लगाए गए हैं। इस केन्द्र से विभिन्न नागरिक सेवाएं और स्वीकृतियां ऑनलाईन प्रदान करने में आसानी होगी। 
इस अवसर पर मुख्य सचिव   अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव   अमन कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव  सुबोध कुमार सिंह और नया रायपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  रजत कुमार, कलेक्टर श्री ओ.पी चौधरी सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे।

, SPG के आग्रह पर पीएम नरेन्द्र मोदी नहीं करेंगे रोड शो, जाने इस वजह से किया कैंसिल

भिलाई: पीएम नरेन्द्र मोदी 14 जून को अपने छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान यहां पर रोड शो नहीं करेंगे। पीएम सुरक्षा में तैनात स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप (एसपीजी) ने रोड शो नहीं करने का आग्रह किया था। बता दें कि रोड शो के दौरान पीएम को निशाना बनाए जाने की साजिश का खुलासा होने के बाद एसपीजी ने यह आग्रह किया था। पीएम अब रायपुर से भिलाई जाने-आने के लिए हेलीकॉप्टर का उपयोग करेंगे।
 हालांकि अपने तीन घंटे 45 मिनट के प्रवास में पीएम 35 मिनट की सड़क यात्रा करेंगे।
 प्रधानमंत्री पीएम भिलाई के जयंती स्टेडियम के मंच से छत्तीसगढ़ की पहली घरेलू विमान सेवा को विडियो लिंक के जरिए लोकार्पित करेंगे। पहले चरण में विमान सेवा जगदलपुर से रायपुर के बीच शुरू की जा रही है।
 
आईआईटी भवन की रखेंगे नींव 
पीएम आईआईटी भिलाई के भवन की आधारशिला रखेंगे। फिलहाल यह कॉलेज आईआईएम के भवन में चल रहा है। इससे पहले भिलाई स्टील प्लांट में किए गए आधुनिकीकरण और विस्तार को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। साथ ही भारत नेट परियोजना के दूसरे चरण की शुरुआत भी इसी मंच से करेंगे।

 जानें, पीएम मोदी का मिनट टू मिनट शेड्यूल
- 10:40- रायपुर एयरपोर्ट आगमन 

- 10:55- नया रायपुर स्मार्ट सिटी आगमन 

- 10:55 से 11:15- नया रायपुर में इंट्रीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का उद्घाटन करेंगे 

- 11:30- नया रायपुर से भिलाई के लिए हेलीकॉप्टर से रवाना होंगे

- 12:00 से 12:20 भिलाई स्टील प्लांट का दौरा करेंगे 

- 12:30 से 01:45 जयंती स्टेडियम (भिलाई) में आमसभा। 

- 01:55 भिलाई से रायपुर एयरपोर्ट के लिए रवाना। 

- 02:25 दिल्ली के लिए रवाना

अंतर्राष्ट्रीय रक्तदान दिवस पर राज्यपाल ने आम नागरिकों से रक्तदान की अपील

रायपुर, राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन ने अंतर्राष्ट्रीय रक्तदान दिवस के अवसर पर राज्य के नागरिकों से अधिक से अधिक संख्या में रक्तदान करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि रक्तदान एक पुनीत कार्य है। यह सभी दानों में सबसे बड़ा दान है। इससे किसी का जीवन बचाया जा सकता है। किसी दुर्घटना में घायल होने पर या बीमार होने पर रक्त की आवश्यकता पड़ती है तो दान किए रक्त से उसकी पूर्ति की जा सकती है। श्री टंडन ने कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा भी रक्तदान की महत्ता को देखते हुए पूरे विश्व में जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से ऐसा वातावरण निर्मित करने का प्रयास किया जा रहा है ताकि जरूरतमंदों को स्वैच्छिक रक्तदान के माध्यम से ही रक्त उपलब्ध कराया जा सके। इसके लिए उक्त संस्था ने वर्ष 2020 का लक्ष्य तय किया है। राज्यपाल ने इस अवसर पर सामाजिक संस्थाओं से रक्तदान के संबंध में चेतना बढ़ाने के साथ ही लोगों में इससे जुड़ी भ्रांतियों को भी दूर करने और अधिक से अधिक रक्तदान शिविरों का आयोजन करने का भी आग्रह किया है।

मेडिकल कॉलेज के अपशिष्ट का होगा प्रबंधन : मुख्य सचिव ने की जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल चिकित्सा महाविद्यालय के उन्नयन के कार्यो की समीक्षा


रायपुर मुख्य सचिव   अजय सिंह ने आज यहां मंत्रालय महानदी भवन में रायपुर स्थित पं. जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के उन्नयन के लिए विभिन्न विभागों के समन्वय से किए जा रहे निर्माण कार्यो के प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने चिकित्सा महाविद्यालय से निकलने वाले अपशिष्ट (बायोमेडिकल वेस्ट) के उचित प्रबंधन के निर्देश दिए है। उन्होंने कलेक्टर रायपुर, आयुक्त नगर निगम रायपुर और चिकित्सा महाविद्यालय के प्रबंधन को संयुक्त कार्ययोजना बनाकर मेडिकल कचरे का निष्पादन करने कहा है। उन्होंने चिकित्सा महाविद्यालय में पदस्थ किए गए चिकित्सकों एवं अन्य चिकित्सा कर्मियों की लम्बे समय से बिना सूचना के अनुपस्थिति को लेकर नाराजगी व्यक्त की है और ऐसे अनुपस्थित कर्मियों के विरूद्ध कडे कार्रवाई करने के निर्देश दिए है। बैठक में चिकित्सा महाविद्यालय के लिए आवश्यक विभिन्न संसाधनों के निर्माण एवं स्थापना जल्द से जल्द करने के निर्देश संबंधित विभागों को दिए गए है। बैठक में सचिव (प्रभारी) स्वास्थ्य विभाग   ऋचा शर्मा, वित्त विभाग  कमलप्रीत सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी राज्य अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण 

आरक्षण नियमों में नहीं होगा कोई बदलाव: अमित शाह : पंचायत-नगरीय निकाय संवर्गों के शिक्षकों का होगा संविलियन: मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह

 सरगुजा की विकास यात्रा आमसभा में हुआ ऐतिहासिक ऐलान
राज्य के पंचायत-नगरीय निकाय संवंर्ग के शिक्षकों को मिली ऐतिहासिक सौगात

जनता को 165 करोड़ 26 लाख रूपये के 58 निर्माण कार्यों की मिली सौगात

 सरगुजा के 22 हजार से अधिक किसानों को 34 करोड़ रूपए का धान बोनस

रायपुर, 10 जून 2018

राज्य सभा सांसद   अमित शाह ने कहा है कि देश में अनुसूचित जाति-जनजाति वर्गों के लिए आरक्षण के नियमों में कोई बदलाव नहीं होगा। अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम में भी कोई परिवर्तन नहीं होगा। श्री शाह ने आज सरगुजा संभाग और जिले के मुख्यालय अम्बिकापुर में प्रदेशव्यापी विकास यात्रा की आमसभा में यह घोषणा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पंचायत एवं नगरीय निकाय संवर्गों के शिक्षकों (शिक्षा कर्मियों) के संविलियन की ऐतिहासिक घोषणा की।

आम सभा को सम्बोधित करते हुए राज्य सभा सांसद   अमित शाह ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा गांव, गरीब और किसानों के हित में हर 15 दिन में नई-नई योजनाएं बनाकर उनका संचालन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब तक केन्द्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत योजना आदि 116 विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाएं बनाई गई हैं। श्री शाह ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा पिछले 4 वर्ष में प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत 30 करोड़ लोगों के बैंक खाते खाले गये हैं और प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 3 करोड़ 80 लाख लोगों को रियायती दर पर गैस कनेक्शन दिया गया। उन्होंने बताया कि साढ़े सात करोड़ गरीब परिवारों के घर में शौचालयों का निर्माण कराया गया है और 19 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई गई है। उन्होंने कहा कि 2022 तक सभी गरीब लोगों के लिए पक्के मकान बनाए जाएंगे और हर घर तक बिजली पहुंचाई जाएगी। उन्होंने कहा कि छŸाीसगढ़ को तेरहवे विŸा आयोग के तहत पहले 48 हजार करोड़ रूपए मिला था जो चौदहवें विŸा आयोग में वर्तमान सरकार द्वारा बढ़ाकर 1 लाख 37 हजार 927 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।
 शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में  चहुंमुखी विकास हो रहा है। उन्होंने कहा कि छ.ग. का बजट पहले 9 हजार करोड़ रूपए का था जो अब बढ़कर 83 हजार 169 करोड़ रूपए हो गया है। श्री शाह ने बताया कि छŸाीसगढ़ में बिजली उत्पादन पहले 4 हजार मेगावाट थी जो अब बढ़कर 22 हजार मेगावाट हो गई है। उन्होंने कहा कि छŸाीसगढ़ देष का पहला बिजली सरप्लस राज्य और जीरो पॉवर कट राज्य बन गया है। उन्होंने कहा कि पहले विद्युतीकरण का प्रतिशत 70 था जो अब बढ़कर 98 प्रतिशत से अधिक हो गया है। श्री शाह ने कहा कि पहले छŸाीसगढ़ में विद्युतीकृत पम्पों की संख्या 72 हजार थी जो अब बढ़कर 4 लाख 50 हजार हो गई है। श्री शाह ने बताया कि छत्तीसगढ़ में खाद्यान्न उत्पादन में भी विपुल वृद्धि हुई है। इसके साथ ही उद्यानिकी फसलों, मछली और मुर्गी पालन एवं उत्पादन में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।
राज्य सभा सांसद श्री शाह ने कहा कि छŸाीसगढ़ में मेडिकल कॉलेज जिसकी संख्या 2 थी अब बढ़कर उसकी संख्या 10 हो गई है और सीटों की संख्या बढ़कर 1100 हो गई है। श्री शाह ने कहा कि नक्सली समस्या के उन्मूलन की दिशा में राज्य सरकार देश में सबसे बेहतर कार्य कर रही है। श्री शाह ने आश्वस्त किया कि अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्गों के लिए मौजूदा आरक्षण के निर्धारित प्रावधानों में कोई बदलाव नहीं होगा।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अम्बिकापुर में आयोजित विशाल आमसभा में सरगुजावासियों के जोश और उत्साह की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने 20-25 वर्षों के अपने राजनीतिक जीवन में ऐसा जोश-खरोश के साथ अभूतपूर्व स्वागत पहली बार देखा है। उन्होंने कहा कि आज विकास रथ यात्रा के दौरान त्रि-स्तरीय स्वागत किया गया जिसमें जमीन से छत से और आकाश से सरगुजावासियों ने ऐतिहासिक स्वागत किया। उन्होंने देश के सामाजिक जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन जाने वाले श्री शाह का स्वागत करते हुए कहा कि सरगुजा छŸाीसगढ़ का मुकुट है, जिस पर तिलक लगाने के लिए राज्य सभा सांसद श्री शाह आये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले सरगुजा के लोग गरीबी के कारण कनकी, खुद्दी खाते थे, लेकिन राज्य सरकार द्वारा गरीबों को एक रूपए किलो में चावल उपलब्ध कराने से अब सरगुजा के हॉट बाजारों से कनकी, खुद्दी गायब हो गया। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने सरगुजा क्षेत्र में सड़क और रेल कनेक्टिविटी से पहले ही जुड़ गया था और एयर कनेक्टिविटी से जुड़ने जा रहा है, जिससे सरगुजा क्षेत्र के हवाई चप्पल पहनकर चलने वाले लोग अब हवाई यात्रा करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 6 हजार किलोमीटर केबल लाईन बिछाई जा रही है और 9 हजार ग्राम पंचायतों में इंटरनेट की सुविधा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि 50 लाख महिलाओं को स्मार्टफोन दिए जाएंगे, जिससे अपने गांवों में बैठक कर देश दुनिया में बात करेंगे। उन्होंने कहा कि पहले दिल की बीमारी, कैंसर, लीवर तथा घुटना बदलने आदि गंभीर बीमारी के इलाज के लिए लोगों को पहले अपने घर, मकान, बेचना पड़ता था अब राज्य के 37 लाख परिवारों को आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रूपए तक की निःशुल्क इलाज की सुविधा दी गई है, जो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का अभूतपूर्व निर्णय है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि 2022 तक राज्य के सभी आवासहीन परिवारों को पक्का आवास उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि आगामी 4 माह में सभी घरों में बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि देश के साफ-सुथरा शहरों में अम्बिकापुर का स्थान पहला है।  आमसभा को केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री श्री विष्णु देव साय और सरगुजा सांसद श्री कमलभान सिंह ने भी सम्बोधित किया।  

राज्य सभा सांसद अमित शाह, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ विकास यात्रा में अग्रसेन चौक से आम सभा स्थल तक रोड शो में शामिल हुए। आमसभा में मुख्य अतिथि की आसंदी से राज्य सभा सांसद श्री शाह ने केन्द्र शासन की महत्वाकांक्षी जनकल्याणकारी योजनाओं की विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य में योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर मिली उपलब्धियों को रेखांकित कर इसकी सराहना की। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अध्यक्षीय आसंदी से कहा कि पंचायत एवं नगरीय निकाय संवंर्ग के शिक्षकों के संविलियन के संबंध में जल्द ही कैबिनेट की बैठक लेकर इसका क्रियान्वयन किया जाएगा। आमसभा में छत्तीसगढ़ राज्य से सबसे पहले माउंट एवरेस्ट फतह करने वाले अम्बिकापुर के युवा श्री राहुल गुप्ता को राज्य सभा सांसद   शाह और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने संयुक्त रूप से सम्मानित किया। इस अवसर पर राज्य सभा सांसद   अमित शाह को पंडित दीनदयाल के तेलचित्र प्रतीक चिन्ह के रूप में भेंट किया गया।

विकास यात्रा मुख्यमंत्री और अमित शाह आज अम्बिकापुर में विशाल आमसभा को सम्बोधित करेंगे : सरगुजा को देंगे 165 करोड़ के 58 निर्माण कार्यों की सौगात

अंबिकापुर - प्रदेश व्यापी विकास यात्रा के तहत  आज सरगुजा जिले के मुख्यालय अम्बिकापुर में विशाल आमसभा का आयोजन किया जाएगा। राज्यसभा सांसद  अमित शाह के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह करेंगे। आमसभा रोड-शो के बाद शासकीय पी.जी. कॉलेज मैदान में दोपहर एक बजे से 2.15 बजे तक आयोजित की जाएगी। मुख्य अतिथि की आसंदी से  अमित शाह और अध्यक्षीय आसंदी से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आमसभा को सम्बोधित करेंगे।आमसभा में जिले की जनता को 165 करोड़ 26 लाख रूपये के 58 विभिन्न निर्माण कार्यों की सौगात मिलेगी।    
निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मुख्यमंत्री राजधानी रायपुर से सवेरे 9.30 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर 10.30 बजे अम्बिकापुर पहुंचेंगे। डॉ. सिंह 11.30 बजे दरिमा हवाई पट्टी पर राज्यसभा सांसद  अमित शाह का स्वागत करेंगे। स्वागत कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री और   शाह हेलीकॉप्टर से अम्बिकापुर आएंगे और वहां दोपहर 12 बजे से एक बजे तक रोड-शो में शामिल होंगे। वे दोपहर एक बजे से 2.15 बजे तक शासकीय पी.जी. कॉलेज मैदान में विशाल आमसभा में शामिल होंगे।
आमसभा में केन्द्रीय इस्पात एवं खनन राज्य मंत्री  विष्णुदेव साय, छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष   गौरीशंकर अग्रवाल, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष   नंदकुमार साय, छत्तीसगढ़ विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष   धरमलाल कौशिक, प्रदेश सरकार के गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री  रामसेवक पैकरा, कृषि और जल संसाधन मंत्री   बृजमोहन अग्रवाल, पंचायत, ग्रामीण विकास और स्वास्थ्य मंत्री   अजय चंद्राकर, स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री  केदार कश्यप, लोक निर्माण, आवास एवं पर्यावरण मंत्री  राजेश मूणत, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री  पुन्नूलाल मोहले, नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री   अमर अग्रवाल, श्रम और खेल तथा युवा कल्याण मंत्री भईयालाल राजवाड़े, राजस्व एवं उच्च शिक्षा मंत्री   प्रेमप्रकाश पाण्डेय, वन तथा विधि मंत्री  महेश गागड़ा, महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री  रमशीला साहू, पर्यटन, संस्कृति और सहकारिता मंत्री  दयालदास बघेल, विधानसभा के नेताप्रतिपक्ष तथा अम्बिकापुर के विधायक   टी.एस सिंहदेव,  सहित  उपस्तिथित रहेंगे 

जल प्रबंधन पर विशेष कार्ययोजना के लिए जल संसाधन विभाग व नेरीवाल्म के बीच एमओयू

रायपुर  कृषि और जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल की अध्यक्षता आज यहां आयोजित कार्यक्रम में नार्थ ईस्टर्न रीजनल इंस्टिट्यूट ऑफ वाटर एंड लैंड मैनेजमेंट(नेरीवाल्म) और छत्तीसगढ़ सरकार के जल संसाधन विभाग के बीच राज्य के जल प्रबंधन पर विशेष कार्ययोजना के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। छत्तीसगढ़ शासन के जल संसाधन विभाग के सचिव सोनमणि बोरा ने और नेरीवाल्म के निदेशक पंकज बरुआ ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस संस्था को देश के 19 राज्यों के जल प्रबंधन में काम करने की जिम्मेदारी मिली है। एमओयू करने वाला छत्तीसगढ़ देश का 17वा राज्य है।
इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मौजूद सभी अधिकारियों को शुभकामनाएं दी और कहा कि हमारे समक्ष भविष्य के जल संकट को कम करने की चुनौती है। इस चुनौती को स्वीकारते हुए हमें सकारात्मक सोंच के साथ काम करना है। आज जलवायु परिवर्तन की वजह से कभी कम तो कभी ज्यादा बारिश से विकट स्थिति निर्मित हो रही है। साथ भूजल का तेजी से नीचे जाना भी हमारी चिंता का सबब है। यह समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में पानी का संरक्षण और संवर्धन वर्तमान की महति आवश्यकता है। आज हुए समझौते के बाद आने वाले 1 वर्ष के भीतर हमें जो रिपोर्ट प्राप्त होगी वह भविष्य की रणनीति बनाने के लिए बेहद उपयोगी साबित होगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में देश मे व्याप्त विभिन्न समस्याओं को लेकर ठोस कदम उठाये गये है। दुनियां एक ओर जलवायु परिवर्तन को लेकर चिंतित है। ऐसे में भारत द्वारा इस दिशा में किये जा रहे प्रयासों को दुनियां की सराहना मिल रही है।  हमे भी सुरक्षित भविष्य को ध्यान में रखते हुए इस कार्य को मिलजुलकर सफलता पूर्वक पूर्ण करना है।
जानकारी के मुताबिक भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय जल मिशन के अंतर्गत जल क्षेत्र पर पड़ने वाले जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के आकलन हेतु सभी राज्यों को जल क्षेत्र पर राज्य विशेष कार्य योजना बनाने के निर्देश के तहत छत्तीसगढ़ राज्य के लिए  नार्थ ईस्टर्न रीजनल इंस्टिट्यूट ऑफ वाटर एंड लैंड मैनेजमेंट को राष्ट्रीय नोडल एजेंसी बनाया गया है। इस हेतु नोडल विभाग राज्य के जल संसाधन विभाग को एवं नोडल एजेंसी राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर को बनाया गया है। जलवायु परिवर्तन पर राज्य विशेष कार्य योजना अंतर्गत जल उपयोग क्षमता में 20ः वृद्धि,जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का आकलन करना, कछार आधारित एकीकृत जल संसाधन प्रबंधन को बढ़ावा देना, राज्य का वार्षिक जल बजट तैयार करना, वर्ष 2050 तक के लिए जल सुरक्षा जल बचत पर एक विस्तृत जल योजना तैयार किया जाएगा। साथ ही इस अध्ययन से छत्तीसगढ़ राज्य में वैश्विक तापन वृद्धि के संदर्भ में राज्य के जल क्षेत्र पर पड़ने वाले प्रभावों का वैज्ञानिक अध्ययन किया जा सकेगा जिससे राज्य के सतही और भूमिगत जल स्रोतों का युक्तियुक्त पूर्ण तरीके से उपयोग हो सकेगा। इसके साथ ही वित्तीय बजट की भांति प्रतिवर्ष राज्य का जल बजट बनने से जल के समुचित वितरण प्रणाली एवं क्षमता में अभिवृद्धि होगी। इसका एक लाभ यह भी होगा कि जल्द से जुड़े विभिन्न में आंतरिक और अंतरराष्ट्रीय विषय एवं उनसे जुड़े मुद्दों पर विस्तृत डाटाबेस तैयार होने से उनका समुचित समाधान संभव हो सकेगा। तय समय सीमा के भीतर तीन चरणों मे यह रिपोर्ट तैयार होगी। इस अवसर पर  जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता  एच.आर.कूटारेे मुख्य अभियंता एसवी भागवत सहित विभागीय अधिकारी मौजूूद थे।

मुख्यमंत्री को उच्च स्तरीय समिति ने सौंपी अपनी रिपोर्ट : पंचायत-नगरीय निकाय संवर्ग के शिक्षकों की मांगों पर गहन विचार-विमर्श के बाद समिति ने बनाई रिपोर्ट

 रायपुर, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को आज रात यहां उनके निवास कार्यालय में मुख्य सचिव   अजय सिंह की अध्यक्षता वाली समिति ने पंचायत और नगरीय निकाय संवर्गों के शिक्षकों की विभिन्न मांगों के संबंध में अपनी रिपोर्ट सौंपी। उल्लेखनीय है कि इन शिक्षकों के वेतन भत्तों, पदोन्नति, अनुकम्पा नियुक्ति और स्थानांतरण नीति से संबंधित मांगों पर विचार करने के लिए मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया था। समिति ने समय-समय पर बैठकों का आयोजन किया और उन बैठकों में पंचायत एवं नगरीय निकाय संवर्ग के शिक्षक संगठनों के पदाधिकारियों से सुझाव भी प्राप्त किए। उनके सुझावों पर गहन विचार-विमर्श के बाद समिति द्वारा अपनी विस्तृत रिपोर्ट तैयार की गई, जो आज मुख्यमंत्री को सौंपी गई। राज्य शासन द्वारा गठित आठ सदस्यों वाली इस समिति में पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव   आर.पी. मंडल, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव   अमिताभ जैन, सामान्य प्रशासन विभाग की प्रमुख सचिव  ऋचा शर्मा, नगरीय प्रशासन और विकास विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. रोहित यादव, स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव  गौरव द्विवेदी, आदिम जाति विकास विभाग की विशेष सचिव श्रीमती रीना बाबा साहब कंगाले और पंचायत संचालनालय के संचालक  तारण प्रकाश सिन्हा शामिल थे।