बड़ी खबर

महिला उत्थान और सशक्तिकरण छत्तीसगढ़ को मिले तीन पुरस्कार

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर  नई दिल्ली में राष्ट्रपति के हाथों 'सखी वन स्टॉप सेंटर' रायपुर और 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' जशपुर को मिलेगा 'नारीशक्ति सम्मान'
 रायपुर - अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद रायपुर के  'सखी वन स्टॉप सेंटर' और जशपुर के कांसाबेल में संचालित  'बेटी जिंदाबाद बेकरी' को 'नारीशक्ति सम्मान 2017' से सम्मानित करेंगे. महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू के साथ विभाग की सचिव डॉ.एम.गीता और जशपुर के कांसाबेल की 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' की सुश्री पार्वती चौहान 08 मार्च को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में यह सम्मान ग्रहण करेंगी. उल्लेखनीय है कि नारीशक्ति सम्मान के तहत एक लाख रुपए और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है .इसी तरह 'बेटी बचाओ बेटी पढाओ' अभियान में भी उत्कृष्ट कार्य करने के लिए प्रदेश के रायगढ़ जिले को चुना गया है.प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के हाथों राजस्थान के झुंझनु में आयोजित कार्यक्रम में रायगढ़ कलेक्टर श्रीमती शम्मी आबिदी यह सम्मान ग्रहण करेंगी.
    उल्लेखनीय है कि महिला उत्थान और सशक्तिकरण की दिशा में कार्य करने के लिए छत्तीसगढ़ अग्रणी राज्यों में शामिल रहा है. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा एक बार फिर छत्तीसगढ़ को नारी सशक्तिकरण की दिशा में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सम्मानित किया जा रहा है .रायपुर जिले में स्थित देश के पहले 'सखी वन स्टॉप सेंटर' को यह पुरस्कार पिछले साल के दौरान महिलाओं के खिलाफ हिंसा से संबंधित मामलों की सफलतापूर्वक सुनवाई और निदान में महत्वपूर्ण योगदान करने के लिए दिया जा रहा है और जशपुर के कांसाबेल में संचालित 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' को महिला सशक्तिकरण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए नारीशक्ति सम्मान 2017 के लिए चुना गया है. उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन द्वारा कांसाबेल गाँव की बेटियों को मुख्यमंत्री कौशल उन्नयन कार्यक्रम के तहत बेकरी व्यवसाय का प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार हेतु प्रेरित कर आर्थिक और तकनीकी सहायता उपलब्ध कराई गयी और आज इन बेटियों का समूह सफलतापूर्वक बेकरी व्यवसाय कर रहा है.

मंडी बोर्ड और मंडी समितियों के डाटा एंट्री ऑपरेटर तथा सहायक ग्रेड-2 भी बन सकते हैं मंडी निरीक्षक

रायपुर - छत्तीसगढ़ राज्य कृषि विपणन (मंडी) बोर्ड सेवा संवर्ग तथा मंडी समिति सेवा संवर्ग के योग्य डाटा एंट्री ऑपरेटरों और सहायक ग्रेड-2 को विभागीय परीक्षा देकर सीधी भर्ती से मंडी निरीक्षक बनने का अवसर मिलेगा। विभागीय परीक्षा में ऐसे डाटा एंट्री ऑपरेटर और सहायक ग्रेड-2 शामिल हो पाएंगे, जो मंडी निरीक्षक पद की योग्यता रखते हैं तथा पांच वर्ष की सेवा पूरी कर चुके हैं। कृषि मंत्री तथा मंडी बोर्ड के अध्यक्ष  बृजमोहन अग्रवाल की अध्यक्षता में यहां आयोजित मंडी बोर्ड के संचालक मंडल की बैठक में बोर्ड के इस आशय के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि मंडी निरीक्षक के सीधी भर्ती के 50 प्रतिशत पद में से 20 प्रतिशत पद डाटा एंट्री ऑपरेटर और सहायक ग्रेड-2 के पदों पर कार्यरत योग्य उम्मीद्वारों की परीक्षा लेकर भरे जाएंगे। इसके लिए विभागीय परीक्षा ली जाएगी। उन्होंने बताया कि मंडी निरीक्षक की सीधी भर्ती के लिए कृषि या वाणिज्य में स्नातक डिग्री जरूरी है।   

अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ कराने सरकारी और निजी क्षेत्र को मिल कर करना होगा काम: डॉ रमन सिंह

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि आम जनता को, विशेष रूप से ग्रामीण अंचलों में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने में सरकारी और निजी क्षेत्र को मिलकर काम करना होगा। मुख्यमंत्री आज शाम यहां एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया (ए.एस.आई.) के छत्तीसगढ़ चेप्टर के 17वें वार्षिक सम्मेलन का शुभारंभ कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने अनेक वर्षों से मानवता की सेवा कर रहे वरिष्ठ शल्य चिकित्सकों को लाइफ टाइम एचिवमेंट एवार्ड से सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर शल्य चिकित्सक यदि माह में कम से कम दो जरूरतमंद मरीजों की निःशुल्क शल्य चिकित्सा करें तो यह मानवता की सेवा का एक बड़ा कार्य होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नये राज्य छत्तीसगढ़ में स्वस्थ पीढ़ी का निर्माण सबसे बड़ी चुनौती था। इस चुनौती का सामना करने के लिए स्वास्थ्य संबंधी अधोसंरचना के विकास के लिए पिछले 14 वर्षों में योजनाबद्ध प्रयास किए गए। आज दूरस्थ अंचल के बीजापुर जिला चिकित्सालय में जहां पहले ओपीडी में आठ से दस मरीज प्रतिदिन आते थे, आज वहां एक माह में 200 से 300 मरीजों की शल्य चिकित्सा की जा रही है। इस अस्पताल में 36 चिकित्सक काम कर रहे हैं। सभी जिला अस्पतालों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं से सुसज्जित किया जा रहा है। बलरामपुर जिला अस्पताल में भी मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर का निर्माण जल्द किया जाएगा। इस अवधि में प्रदेश में मेडिकल कॉलेजों की संख्या दो से बढ़कर 10 हो गई है। पहले प्रदेश में एक भी नर्सिंग कॉलेज नहीं था, जिनकी संख्या अब बढ़कर 68 हो गई है।
डॉ. सिंह ने चिकित्सक के रूप में अपनी प्रेक्टिस के अनुभव साझा किए। उन्होंने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि इस योजना में प्रदेश के 56 लाख परिवारों को 50 हजार रूपए तक के निःशुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। डॉ. सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना के अंतर्गत अब तक लगभग 7000 बच्चों के हृदय रोग के इलाज के लिए शासन के खर्च पर सर्जरी की गई है। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में अम्बिकापुर मिशन अस्पताल की डॉक्टर एम.एल बेट्रिस, डॉ. अनुराधा दुबे, डॉ. दिलीप एस. गोरे, डॉ. आर.एस. नायक, डॉ. एस.जे. रिजवी और डॉ. संदीप दवे  को लाइफटाईम एचिवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने डॉ. बेट्रिस के सेवा भाव का उल्लेख करते हुए कहा कि वे सरगुजा अंचल में पिछले 40 वर्षों से जरूरतमंद मरीजों की निःशुल्क सर्जरी कर रही हैं। डॉ. अनुराधा दुबे ने मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना के तहत 800 बच्चों का ऑपरेशन किया है। एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. दिलीप एस.गोरे, आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. सुभाष अग्रवाल, सम्मेलन आयोजन समिति के सचिव डॉ. देवेन्द्र नायक ने भी अपने विचार प्रकट किए। इस अवसर पर एएसआई छत्तीसगढ़ चेप्टर के अध्यक्ष श्री तरूण नायक सहित अनेक वरिष्ठ सर्जन उपस्थित थे। यह आयोजन श्री बालाजी ग्रुप ऑफ हास्पिटल्स एण्ड कॉलेजेस द्वारा रायपुर मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभाग और सर्जन्स क्लब रायपुर के सहयोग से ए.एस.आई. छत्तीसगढ़ चेप्टर के तत्वावधान में किया गया।

विधानसभा में हंसी और ठहाकों के साथ ढोल-नंगाड़ों की थाप पर झूमते-नाचते नजर आए सत्ता और विपक्ष

रमन-सिंहदेव ने खेला गुलाल मिले गले
रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और विधानसभा अध्यक्ष  गौरीशंकर अग्रवाल विधानसभा के बजट सत्र के समापन के बाद विधानसभा परिसर में आज आयोजित होली मिलन समारोह में शामिल हुए। डॉ. सिंह और   अग्रवाल ने नेताप्रतिपक्ष   टी.एस. सिंहदेव, मंत्रियों, विधायकों और इस अवसर पर विधानसभा देखने आए नागरिकों को गुलाल लगाकर उन्हें रंगों के पर्व होली की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर कवि सम्मेलन का आयोजन भी किया गया, जिसमें छत्तीसगढ़ के पद्मश्री सम्मान प्राप्त कवि डॉ. सुरेन्द्र दुबे, इंदौर के श्री सत्यनारायण सत्तन और मुम्बई के श्री सुभाष काबरा ने अपनी कविताएं प्रस्तुत की।  राकेश तिवारी और उनके दल ने इस अवसर पर फाग गीत प्रस्तुत किए।

सदन में पुरस्कारों के लिये चयनित लोगों को मुख्यमंत्री ने दी बधाई स्वराज एक्सप्रेस के उत्कृष्ट इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रिपोर्टर आशीष तिवारी और कैमरामेन प्रकाश सिंह चयनित

रायपुर- विधानसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन आज सन 2017-18 के लिये उत्कृष्टता पुरस्कारों की घोषणा की गई. जिसमे  मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह  ने चतुर्थ विधानसभा के ’जागरूक विधायक’ के रूप में चयनित होने पर सदन के वरिष्ठ सदस्य सत्यनारायण शर्मा को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि  शर्मा अपनी रोचक शैली में गंभीर बातों को भी बड़े सहज ढंग से कह देते हैं। उम्र के इस पड़ाव पर भी लगातार जागरूक रहकर सदन की सेवा करने का उनका यह गुण सराहनीय है। 
वही वर्ष 2017 के लिए सत्ता पक्ष से चयनित उत्कृष्ट विधायक  राजमहंत सांवलाराम डाहरे और प्रतिपक्ष से  मोहन मरकाम,के नाम की घोषणा की गई है.उत्कृष्ट संसदीय पत्रकार के रूप में चयनित नई दुनिया के  संजीत कुमार,को एवं  उत्कृष्ट इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रिपोर्टर स्वराज एक्सप्रेस के  आशीष तिवारी और कैमरामेन  प्रकाश सिंह यादव को भी मुख्यमंत्री ने बधाई और शुभकामनाएं दी है । 

मुख्यमंत्री ने विधानसभा अध्यक्ष, विधानसभा के उपाध्यक्ष, सभापति तालिका के सदस्यों, शासन के मुख्य सचिव   अजय सिंह सहित अधिकारियों और कर्मचारियों, विधानसभा के सचिव   चंद्रशेखर गंगराड़े सहित विधानसभा सचिवालय के अधिकारियों और कर्मचारियों, मीडिया के प्रतिनिधियों और सुरक्षा कर्मियों को सदन के सुचारू संचालन में दिए गए सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। डॉ. सिंह ने पक्ष और प्रतिपक्ष के सदस्यों सहित प्रदेशवासियों को रंगों के त्यौहार होली की बधाई और शुभकामनाएं दी।

पक्ष-विपक्ष के सदस्यों ने कायम रखी छत्तीसगढ़ विधानसभा की गौरवशाली परम्परा : डॉ. रमन सिंह मुख्यमंत्री ने सदस्यों को सहयोग के लिए दिया धन्यवाद

रायपुर - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज विधानसभा के बजट सत्र के समापन के अवसर पर सदन में कहा कि पक्ष और विपक्ष के सभी सदस्यों ने छत्तीसगढ़ विधानसभा की गौरवशाली परम्परा को कायम रखा है। बजट से संबंधित सभी मांगों पर सार्थक चर्चा की गयी। मुख्यमंत्री ने इस उपलब्धि के लिए पूरी सदन को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विधानसभा के सदस्यों ने अतिरिक्त समय देकर कार्य कुशलता के साथ कार्यपालिका की विधान मंडल के प्रति, खास तौर से वित्तीय मामलों में जवाबदेही को पूरा किया, जो सदस्यों की जागरूकता की पहचान है। जनहित के अनेक मुद्दे यहां बड़े अच्छे ढंग से उठाए गए। सत्ता पक्ष और प्रतिपक्ष दोनों ओर से अनेक सदस्यों ने जो वक्तव्य दिए, वे सटीक, ऊर्जा से भरे हुए और ज्ञानवर्धक थे।
 विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने इसके पहले सदन के संचालन में दिए गए सकारात्मक सहयोग और मार्गदर्शन के लिए मुख्यमंत्री, नेताप्रतिपक्ष सहित सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की चतुर्थ विधानसभा संसदीय मूल्यों के संरक्षण और परम्पराओं के परिपालन में एक आदर्श प्रस्तुत करने में सफल रही है। उन्होंने बजट सत्र में सम्पादित हुए संसदीय कार्यों की संक्षेप में जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि शासकीय-अशासकीय संस्थाओं, जनप्रतिनिधि संस्थाओं, स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों सहित लगभग 3887 लोगों ने विधानसभा की कार्रवाई का प्रत्यक्ष अवलोकन किया, 16 हजार 813 नागरिकों ने भी विधानसभा की कार्रवाई देखी और 14 हजार 200 लोगों ने विधानसभा का भ्रमण किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत 5253 जनप्रतिनिधियों ने भी विधानसभा का भ्रमण किया। नेताप्रतिपक्ष   टी.एस. सिंहदेव  और संसदीय कार्य मंत्री  अजय चंद्राकर ने भी अपने विचार प्रकट किए।   

 

कृषि उपज मंडियों की सम्पत्तियों के बेहतर रख-रखाव के लिए बनेगी कार्य योजना

रायपुर छत्तीसगढ़ की कृषि उपज मंडियों और उप मंडियों की संपत्तियों को सुरक्षित और सुव्यवस्थित करने के लिए व्यापक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इस रिपोर्ट के आधार पर इन परिसंपत्तियों को व्यवस्थित करने कार्य योजना बनेगी। कृषि मंत्री एवं छत्तीसगढ़ मंडी बोर्ड के अध्यक्ष  बृजमोहन अग्रवाल की अध्यक्षता में आज यहां विधानसभा परिसर स्थित समिति कक्ष में आयोजित बोर्ड के संचालक मंडल की 49वीं बैठक में यह निर्णय लिया गया। कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने अधिकारियों को एक माह के भीतर सभी मंडियों और उपमंडियों की सम्पत्तियों के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए। बैठक में मंडी बोर्ड के सदस्य एवं विधायक  शिवरतन शर्मा  मोतीराम चंद्रवंशी तथा चम्पादेवी पावले उपस्थित थे। कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त श्री सुनील कुजूर सहित विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे।  मंडी बोर्ड के प्रबंध संचालक श्री अभिजीत सिंह ने बैठक के लिए निर्धारित एजेण्डा की जानकारी दी। उन्होंने बिन्दुवार सभी प्रस्तावों के संबंध में विस्तार से बताया।

मुख्य सचिव ने की रेल परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा : परियोजना कार्यो में तेजी लाने के निर्देश

रायपुर : मुख्य सचिव   अजय सिंह की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में आयोजित बैठक में रेल लाईन परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की गयी। मुख्य सचिव ने रेल परियोजनाओं के निर्माण कार्यो में और अधिक तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने परियोजना के तहत द्वितीय चरण में सर्वे, भूमि अधिग्रहण, मुआवजा वितरण तथा पॉवर लाईन विस्तार के लिए संबंधित जिला कलेक्टरों को वीडियों कॉन्फ्रेसिंग के जरिये आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
बैठक में रावघाट से जगदलपुर रेल लाईन परियोजना की समीक्षा के दौरान अधिकारियों द्वारा बताया गया कि जगदलपुर से कोण्डागांव 91.76 किलोमीटर में सर्वे कार्य पूर्ण किया चुका है। कोण्डागांव से रावघाट 91.76 से 140 किलोमीटर में सर्वे कार्य कराया जा रहा है। मुख्य सचिव ने इस कार्य को 15 मार्च तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण के प्रकरणों में मुआवजा वितरण की कार्रवाई में विलम्ब की स्थिति नहीं हो इस पर विशेष ध्यान रखा जाए। ईस्ट रेल कॉरिडोर परियोजना की प्रगति की समीक्षा के दौरान बताया गया कि खरसिया से धरमजयगढ़ तथा रूट स्पर घरघोड़ा से डोंगामहुआ फेस-एक में शून्य से 74 किलोमीटर तक निर्माण कार्य प्रगति पर है। इसी प्रकार फेस-2 में धरमजयगढ़ से कोरबा रेल लाईन के लिए सर्वे का कार्य की कार्रवाई की जा रही है। बैठक में छत्तीसगढ़ रेल कॉरपोरेशन द्वारा प्रस्तावित कटघोरा-मुंगेली-कवर्धा-डोंगरगढ़ रेल लाईन और खरसिया-बलौदाबाजार-नया रायपुर-दुर्ग रेल लाईन के सर्वे कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। बैठक में प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर निर्माणाधीन रेल्वे अंडर ब्रिज और रेल्वे ओव्हर ब्रिज की भी समीक्षा की गयी। बैठक में वन विभाग के अपर मुख्य सचिव   सी.के. खेतान, वाणिज्य एवं उद्योग (रेल परियोजना)   सुबोध सिंह, सचिव नगरीय प्रशासन डॉ. रोहित यादव, सचिव आवास एवं पर्यावरण श्री संजय शुक्ला, विशेष सचिव ऊर्जा   सिद्वार्थ कोमल परदेशी एवं बिलासपुर रेल्वे मण्डल के जनरल मेनेजर  एस.एस.सोईन सहित एसी.सी.एल. भिलाई स्टील प्लांट के अधिकारी उपस्थित थे।

रायपुर : जल संसाधन सचिव बोरा ने की विभागीय काम-काज की समीक्षा : सिंचाई योजनाओं को समय पर पूरा करने अधिकारियों को बेहतर समन्वय के साथ कार्य करने के निर्देश

रायपुर : जल संसाधन विभाग के सचिव  सोनमणि बोरा ने सिंचाई योजनाओं को समय-सीमा में पूरा करने के लिए विभागीय अधिकारियों के बीच और अधिक समन्वय की जरूरत पर जोर दिया है। उन्होंने आज यहां सिविल लाइन स्थित जल संसाधन विभाग के डाटा सेंटर के सभाकक्ष में आयोजित विभागीय अधिकारियों की बैठक में विभिन्न सिंचाई योजनाओं की बारी-बारी समीक्षा की।   बोरा ने बैठक में कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में हर साल एक लाख हेक्टेयर अतिरिक्त रकबे में सिंचाई सुविधा विकसित करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को पाने के लिए छोटी-बड़ी सभी सिंचाई योजनाओं को निर्धारित समय में पूरा करना जरूरी है।   बोरा ने कहा कि विगत 14 साल में सिंचाई का प्रतिशत 22 से बढ़कर 36 हो गया है। यह राज्य सरकार की विशेष उपलब्धि है।

   बोरा ने बैठक में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, लक्ष्य भागीरथी अभियान, नाबार्ड पोषित सिंचाई योजनाओं की विशेष रूप से समीक्षा की। उन्होंने वित्तीय वर्ष 2016-17 और वर्ष 2017-18 के बजट में शामिल सिंचाई योजनाओं की प्रशासकीय तथा निविदा स्वीकृति की स्थिति की जानकारी ली। श्री बोरा ने नाबार्ड की सहायता से स्वीकृत सिंचाई योजनाओं की प्रगति की जानकारी लेकर इन योजनाओं के लिए मिली राशि के उपयोग की समीक्षा की।   बोरा ने लोग सुराज अभियान 2018 के प्रथम चरण में विभाग को प्राप्त आवेदनों के निराकरण के लिए तत्परता से कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल की विभिन्न घोषणाओं को पूरा करने प्राथमिकता से कार्रवाई की जाए। बैठक में भू-अधिग्रहण तथा वन भूमि से संबंधित मामलों के निराकरण के लिए कार्रवाई करने अधिकारियों को खास तौर पर निर्देशित किया गया। बैठक में प्रमुख अभियंता   एच.आर. कुटारे सहित सभी मुख्य अभियंता और अनेक अधीक्षण अभियंता तथा कार्यपालन अभियंता उपस्थित थे।

विधानसभा में मुख्यमंत्री से संबंधित विभागों के लिए 9777 करोड़ 94 लाख 17 हजार रुपए की अनुदान मांगे ध्वनिमत से पारित

छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से संबंधित विभागों के लिए 9777 करोड़ 94 लाख 17 हजार रुपए की अनुदान मांगे ध्वनिमत से पारित कर दी गयीं। इनमें से सामान्य प्रशासन विभाग के लिए 324 करोड़ 98 लाख 10 हजार रुपए, सामान्य प्रशासन विभाग से संबंधित अन्य व्यय के लिए 28 करोड़ 36 लाख 80 हजार रुपए, वित्त विभाग से संबंधित व्यय के लिए 5494 करोड़ 53 लाख 46 हजार रुपए, जिला परियोजनाओं से संबंधित व्यय के लिए 52 करोड़ 75 लाख रुपए, ऊर्जा विभाग से संबंधित व्यय के लिए 2467 करोड़ 85 लाख 76 हजार रुपए, खनिज साधन विभाग से संबंधित व्यय के लिए 708 करोड़ 78 लाख 79 हजार रुपए, जनसंपर्क विभाग से संबंधित व्यय के लिए 225 करोड़ 47 लाख 50 हजार रुपए, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के लिए 416 करोड़ 07 लाख 84 हजार रुपए तथा विमानन विभाग के लिए 59 करोड़ 10 लाख 92 हजार रुपए की अनुदान मांगे पारित की गयीं।

नया रायपुर में जल्द प्रारंभ होगा ‘चिरायु छत्तीसगढ़ सेंटर फॉर पेडियाट्रिक कार्डियेक एक्सीलेंस’ : मुख्यमंत्री ने दी सहमति

 रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नया रायपुर में राज्य सरकार और श्री सत्यसांई स्वास्थ्य एवं शिक्षा ट्रस्ट बंगलुरू के सहयोग से ‘चिरायु छत्तीसगढ़ सेंटर फॉर पेडियाट्रिक कार्डियेक एक्सीलेंस सेंटर’ प्रारंभ करने की सैद्धांतिक सहमति प्रदान कर दी है। मुख्यमंत्री ने आज यहां विधानसभा परिसर स्थित समिति कक्ष में ट्रस्ट के चेयरमेन श्री सी. श्रीनिवास के साथ आयोजित बैठक में यह सहमति दी। श्री सत्यसांई स्वास्थ्य एवं शिक्षा ट्रस्ट द्वारा  बच्चों के हृदयरोग चिकित्सा के लिए प्रस्तावित इस केन्द्र में मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर, आईसीयू, स्टेपडाउन आईसीयू और वार्ड का निर्माण किया जाएगा। इस केन्द्र का संचालन ट्रस्ट द्वारा किया जाएगा। यह सेंटर छत्तीसगढ़ के हृदय रोग से पीड़ित बच्चों के लिए समर्पित होगा। उल्लेखनीय है कि नया रायपुर में ट्रस्ट द्वारा नवंबर 2012 में श्री सत्यसांई संजीवनी अस्पताल प्रारंभ किया गया है, जहां छत्तीसगढ़ सहित देश-विदेश के हृदय रोग से पीड़ित बच्चों के हृदय के निःशुल्क ऑपरेशन किए जा रहे हैं।
श्री श्रीनिवास ने बताया कि श्री सत्यसांई अस्पताल में अब तक छत्तीसगढ़ के ग्यारह सौ बच्चों के हृदय के सफल ऑपरेशन किए जा चुके हैं, जबकि देश-विदेश के कुल बावन सौ बच्चों के हृदय के सफल ऑपरेशन किए जा चुके हैं। इस चिरायु सेंटर में डॉक्टरों, ऑपरेशन थियेटर में काम करने वाले स्टॉफ और नर्सों को प्रशिक्षण भी देने की सुविधा होगी। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री   अजय चन्द्राकर, राजस्व मंत्री   प्रेमप्रकाश पांडेय, मुख्य सचिव  अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  अमन कुमार सिंह, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव  अमिताभ जैन, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव  सुब्रत साहू, खनिज विभाग के सचिव  सुबोध सिंह, राजस्व सचिव   एन.के. खाखा भी उपस्थित थे।

 

छत्तीसगढ़ में साकार हो रहा ‘अंत्योदय‘ का सपना: डॉ. रमन सिंह

 रायपुर  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन के अनुरूप छत्तीसगढ़ में भी अंत्योदय का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य और केन्द्र सरकार की योजनाओं के माध्यम से विकास की रौशनी समाज की अंतिम पंक्ति के लोगों और अंतिम छोर के गांवों तक पहंुचने लगी है। मुख्यमंत्री आज यहां ‘पंडित दीनदयाल उपाध्याय छत्तीसगढ़ विकास संवाद‘ विषय पर आधारित परिचर्चा को मुख्यम अतिथि की आसंदी से सम्बोधित कर रहें थे। कार्यक्रम में केन्द्रीय विमानन मंत्री  जयंत सिन्हा, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री   हंसराज अहीर, छत्तीसगढ़ के वन और विधि मंत्री  महेश गागड़ और वरिष्ठ पत्रकार  जगदीश उपासने भी शामिल हुए। अध्यक्षता राज्य सभा सांसद   आर.के. सिन्हा ने की। यह आयोजन समाचार एजेन्सी ‘हिन्दुस्थान समाचार‘ समूह द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर  .आर.के सिन्हा की पुस्तक ‘समय का सच‘ का विमोचन भी किया।
    मुख्य अतिथि की आसंदी से कार्यक्रम में लोगों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा- राज्य निर्माण के बाद से छत्तीसगढ़ पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अत्योंदय की कल्पना को साकार करते हुए निरंतर विकास की ओर अग्रसर है। राज्य ने विकास के विभिन्न क्षेत्रों मे कीर्तिमान स्थापित किए है। उन्होंने कहा कि नीति आयोग ने छत्तीसगढ़ को एचीवर्स स्टेट घोषित किया है। हमने हमेशा संतुलित विकास पर जोर दिया है। यही कारण है कि शहरों के साथ-साथ बस्तर और सरगुजा के दूरस्थ अंचलों में भी विकास की किरणें दिखाई देती है। कार्यक्रम का आयोजन समाचार एजंेसी हिन्दुस्थान समाचार द्वारा किया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा - जब छत्तीसगढ़ का निर्माण हुआ था तो हमारा बजट लगभग सात हजार करोड़ रूपए था, अब यह 87 हजार करोड़ रूपए से अधिक हो गया है। राज्य की प्रति व्यक्ति आमदनी भी लगभग 15 हजार रूपए से बढ़कर 92 हजार रूपए हो गई है। राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में किए जा रहे निरंतर प्रयासों के फलस्वरूप मातृ एवं शिशु-मृृत्यु दर में उल्लेखनीय कमी हुई है। उन्होंने कहा कि ईज आफ डुइंग बिजनेस में विगत दो वर्षो से पूरे देश में छत्तीसगढ़ चौथे पायदान में है। छत्तीसगढ़ को लगातार चार बार कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुआ है। हाल में जारी क्रिसिल रिपोर्ट में विद्युत उपलब्धता, गैस, जल आपूर्ति तथा अन्य नागरिक सेवाएं प्रदान करने में छत्तीसगढ़ देश में प्रथम स्थान पर है। साथ ही प्रदेश को बेहतर वित्तीय प्रबंधन के लिए भी जाना जाता हैं।  
  केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री   हंसराज अहीर ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य नक्सलवाद जैसे चुनौतियों का सामना करते हुए तेजी से विकास कर रहा है। निश्चित ही केन्द्र सरकार और छत्तीसगढ़ सरकार के संयुक्त प्रयास से नक्सल समस्या का निराकरण होगा। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री श्री जंयत सिन्हा ने कहा विमानन के क्षेत्र में देश में विभिन्न योजनाएं बनाई जा रही है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्वामी विवेकानंद विमानतल सबसे सुन्दर और सर्वसुविधायुक्त विमानतलों में एक है। यहां का रनवे का विस्तार भी किया जा रहा है। इस समय यहां की सवारी क्षमता करीब 16 लाख है वह वर्ष में 30 से 35 लाख हो जाने की संभावना है। इस स्थिति में नए टर्मिनल बनाने की भी योजना है।

सुकमा में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बिच मुठभेड़, दो जवान शहीद, सात जवान घायल

 सुकमा  जिले में रविवार सुबह सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में दो जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 6 घायल बताए जा रहे हैं। करीब पांच घंटे तक मुठभेड़ जारी रही। घायलों का इलाज रायपुर के अस्पताल में चल रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, सुकमा के भेज्जी इलाके में भेज्जी से चिंतागुफा सड़क निर्माण का काम चल रहा है, जिसे रोकने को लेकर नक्सलियों ने कई बार चेतावनी दी थी। रविवार को बड़ी संख्या में नक्सलियों ने हमला बोला और सड़क निर्माण में लगी गाड़ियों में आग लगा दी।
नक्सल विरोधी अभियान के विशेष डीजी, डीएम अवस्थी ने बताया कि, शनिवार सुकमा में जवानों की तीन पार्टियां, तीन दिशा में गई थी। एक दल में डीआरजी और एसटीएफ के 100 सदस्य शामिल थे। रविवार दोपहर करीब 12 बजे यहां एक निर्माणाधीन सड़क के पास नक्सलियों ने वाहनों को जला दिया। सुपरवाइजर को नुकसान पहुंचाया। सूचना पाकर फोर्स वहां पहुंची। दोनों तरफ से जबरदस्त फायरिंग हुई। करीब साढ़ें चार घंटे तक फायरिंग चली
डीएम अवस्थी ने  डीआरजी के दो जवानों के  शहीद होने की सूचना दी। जबकि 6 डीआरजी के जवान घायल बताए जा रहे हैं। शहीद जवानों के नाम मड़कम हंदा और मुकेश कडती बताए जा रहे हैं। 

पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले में ईडी ने रायपुर में भी कार्यवाही नीरव मोदी के चाचा की ज्वेलरी शॉप पर ईडी का छापा, करोड़ों के हीरे बरामद

रायपुर - पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले में ईडी ने रायपुर में भी कार्रवाई की है। अंबुजा मॉल स्थित शॉपर्स स्टॉप में छापा मारकर ईडी ने गीतांजलि ज्वेलरी शॉप से एक करोड़ 27 लाख के हीरे जब्त किए हैं।
मेहुल चौकसी की ज्वेलरी शॉप पर रात 8 बजे से तकरीबन साढ़े 10 बजे तक कार्रवाई की गई। पंजाब नेशनल बैंक फर्जीवाड़ा मामले में और भी ठिकानों पर कार्रवाई की सम्भावना है। आपको बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक में हुए घोटाले में सीबीआई ने नई एफआईआर दर्ज की है। यह केस 11, 356 करोड़ रुपए के इस घोटाले के एक आरोपी मेहुल चौकसी के ‘गीतांजलि ग्रुप ऑफ कंपनीज’ के खिलाफ दायर किया गया है।  नीरव मोदी के खिलाफ ED ने एक और केस दर्ज किया है।
पीएनबी ने गुरुवार को बैंकिंग इंडस्ट्री की सबसे बड़ी धोखाधड़ी का खुलासा किया था। यह फ्रॉड 177.17 करोड़ डॉलर यानी 11,356 करोड़ रुपए का है। इस मामले की जांच एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) और सीबीआई कर रही है। मामले में नीरव मोदी मुख्य आरोपी है।
सीबीआई ने FIR के जरिये आरोप लगाया है कि चौकसी और उसकी तीन कंपनियां गीतांजलि जेम्स, गिली इंडिया और नक्षत्र ब्रांड ने पीएनबी को 4,886.72 करोड़ का चूना 2017-18 में लगाया था। इसके लिए कंपनी ने बैंक से 143 लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (LoU) जारी करवाए थे। सीबीआई ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की कंपनियों को साख पत्र जारी करने में बैंक के अधिकारियों के रोल का पता लगा रही है। 
नीरव मोदी की दुकान से कई सिलेब्रिटीज और नेता कैश में ही हीरे जवाहरात खरीदा करते थे। रिपोर्ट के मुताबिक इस लिस्ट में बॉलीवुड की कई हस्तियां और नेता शामिल हैं। बता दें कि नोटबंदी के बाद जब सरकार की सख्ती हुई तो कई नामी-गिरामी लोगों ने ज्वैलरी खरीदने में नकदी का इस्तेमाल किया। यहां ये लोग कहने के लिए कुछ भुगतान कार्ड या चेक के जरिये करते थे जबकि ज्यादा भुगतान नकद किया जाता था। 

sabhar  

विधानसभा में आज-

- ध्यानाकर्षण के जरिये प्रयास आवासीय विद्यालय में शिष्यवृत्ति की राशि मे अनियमितता का मामला नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव और मोहन मरकाम उठाएंगे..... - ध्यानाकर्षण के दौरान अरुण वोरा एमसीआई के मापदंड के अनुरूप अम्बेडकर अस्पताल में व्यवस्था नहीं होने का मामला उठाएंगे.... - बजट पर विभागवार चर्चा शुरू होगी....आज मंत्री अमर अग्रवाल और अजय साहस चंद्राकर के विभागों के बजट अनुदान मांगों पर चर्चा होगी