बड़ी खबर

मुख्यमंत्री डाॅ रमन सिंह और केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने शहीद जवानो को दी श्रद्धांजलि

रायपुर सुकुमा के किस्ताराम में शहीद जवानों को मुख्यमंत्री डाॅ रमन सिंह और केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने शहीद जवानो को दी श्रद्धांजलि। श्रद्धा सुमन किए अर्पित। सीआरपीएफ डीजी आरआर भटनागर , डीजीपी एन उपाध्याय, नक्सल डीजी डीएम अवस्थी सहित तमात आला अधिकारियों ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि ।श्रद्धांजलि के पश्चात शहीद जवानों के पार्थिव शरीर को उनके गृह ग्राम के लिए किया गया रवाना रमन सिंग ने कहा सुकुमा जिले के किशताराम में घटना हुई। सुबह 6 बजे आपरेशन चलाया गया उसमों कामयाबी मिली उसके बाद जवान एन्टी लैड माई व्हीकल से जा रहे थे हमारा एप्रोच उनके नजदीक है, वो बौखला गए हैं उनकी बौखलाहट है, रोज लड़ाई चलती है, बहुत कठिन लडाई है जो हमारे जवान लड़ रहे हैं। हमारे जवान बहुत बहादुर हैं। उन क्षेत्रों में सड़क बन रहे है विकास कार्य हो रहे हैं जिन्हे हमारे जवान सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में बहुत जल्दी नक्सलियों ता खात्मा होगा। जैसे बार्डर मे लडाई होती है वैसे ही हमारे जवान लड़ते हैं। देश उनके शहादत को सलाम करता है आईडी का डिटेक्शन हो जाए तो हम 6 महीने में लड़ाई खत्म कर लेंगे। दुर्भाग्य है कि आईडी को डिटेक्शन की तकनीक अभी नहीं है हंसराज अहीर ने मीडिया से कहा ताकत से सुरक्षाबल कठिन लड़ाई लड़ रहे हैं देश की जनता अपेक्षा करती है ये घटना न हो। केन्द्र सतर्क है आज की डेट मे इन्टेलीजेनस की जानकारी मिलती रहती है, पूरी ताकत से नई नई तकनीक का हम उपयोग करेंगे, दुबारा ये घटना न हो सरकार इसको सोच रही है।

मुख्यमंत्री सीआरपीएफ के घायल जवानो को देखने पहुंचे अस्पताल

रायपुर -  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज रात राजधानी रायपुर के देवेन्द्र नगर स्थित एक प्राईवेट अस्पताल में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के घायल जवानों से मुलाकात की और उनके जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की। ये जवान आज सुकमा जिले के किस्टारम के पास नक्सल हमले का मुकाबला करते हुए घायल हो गए थे। डॉ. सिंह ने प्रशासन के अधिकारियों और अस्पताल के चिकित्सकों से कहा कि घायल जवानों का बेहतर से बेहतर इलाज किया जाए। मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव   अजय सिंह, पुलिस महानिदेशक ए.एन. उपाध्याय, विशेष पुलिस महानिदेशक (नक्सल ऑपरेशन) डी. एम. अवस्थी और शासन-प्रशासन के अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। रायपुर (उत्तर) के विधायक   श्रीचंद सुंदरानी भी इस मौके पर मौजूद थे।

सीएम रमन ने अफसरों के साथ की बड़ी बैठक, सर्चिंग ऑपरेशन तेज करने के निर्देश

रायपुर। राज्य में हुए बड़े नक्सली हमले के बाद सरकार नक्सलियों पर पलटवार को लेकर बड़ी तैयारियां कर रही है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मंगलवार दोपहर बाद सुरक्षाबलों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की।
 अपने निवास कार्यालय में सुकमा जिले के किस्टारम-पालोदी मार्ग पर सीआरपीएफ जवानों पर हुए नक्सल हमले के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों की आपात बैठक लेकर सम्पूर्ण घटनाक्रम की जानकारी ली। बैठक में मुख्यमंत्री के सलाहकार और राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री सुनिल कुमार, मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री बी.व्ही.आर. सुब्रमण्यम, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन. उपाध्याय, विशेष पुलिस महानिदेशक (नक्सल ऑपरेशन) श्री डी.एम. अवस्थी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री अशोक जुनेजा और अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। उन्होंने अधिकारियों को सर्चिंग ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आपात बैठक में इस घटना में जवानों की शहादत पर गहरा दुःख प्रकट किया गया और शहीदों के परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की गई।

सुकमा: नक्सली हमले में CRPF के 9 जवान शहीद, 2 घायल

सुकमा। सुकमा जिले के किस्टाराम क्षेत्र के पलोड़ी में मंगलवार सुबह 11 बजे नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट कर एंटी लैंडमाइन वाहन को उड़ा दिया। इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 9 जवान शहीद हो गए और 2 अन्य घायल हो गए हैं।

घायल जवानों को इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से रायपुर लाया गया। इधर पीएचक्यू में इमरजेंसी बैठक हुई है। SIB और नक्सल डीजी इस बैठक में शामिल हुए। वहीं दिल्ली में भी सीआरपीएफ की बैठक हुई। सीआरपीएफ डीजी को छत्तीसगढ़ रवाना होने के दिए निर्देश दिए गए हैं। आईबी ने बड़ी नक्सली घटना का अलर्ट जारी किया था। विस्फोट इतना भयावह था कि एंटीलैंड माइन वाहन हवा में काफी ऊंचाई तक उछल गया। इस वाहन में 11 जवान मौजूद थे। 
नक्सलियों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है। बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा ने हमले की पुष्टि की है। विशेष डीजी (नक्सल) डी.एम.अवस्थी ने कहा, "घटनास्थल पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल को रवाना किया गया है। यह इस इलाके की तीसरी बड़ी घटना है। घायल जवानों को हेलीकॉप्टर से रायपुर लाया जा रहा है।" बस्तर के आईजी (नक्सल) विवेकानंद सिन्हा ने कहा, "जवान गश्त पर गए हुए थे। इसी बीच, पहले से घात लगाए नक्सलियों ने एंटी लैंडमाइन वाहन को आईईडी ब्लास्ट से उड़ा दिया। इसके बाद जवानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इससे जवानों को संभलने का मौका नहीं मिला।
मुठभेड़ की खबर मिलते ही मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने इसकी पूरी जानकारी मांगी। राज्य के गृहमंत्री ने भी इसकी जानकारी पुलिस मुख्यालाय से मांगी है। मुख्यमंत्री लगातार मामले पर नजर रख रहे हैं। घटना को देखते हुए रायपुर के सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों को अलर्ट किया गया है। इनमें बेड को खाली रखने के निर्देश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री के चौपाल में महिला पटवारी मिथिलेश्वरी मंडावी की तारीफ

 रायपुर लोक सुराज अभियान के तीसरे चरण के पहले दिन आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जब आदिवासी बहुल कांकेर जिले के ग्राम बण्डाटोला में हेलीकॉप्टर द्वारा अचानक पहुंचे तो वहां उन्होंने चौपाल में इस ग्राम पंचायत के अंतर्गत हो रहे विकास कार्यों और शासकीय योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन की जानकारी मिलने पर खुशी जताई। उन्होंने कहा- खुशी की बात है कि आज राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण दिवस पर आपके गांव के आंगनबाड़ी केन्द्र में नन्हें शिशुओं को पोलियो की दवा पिलाकर लोक सुराज अभियान की शुरूआत करने का मुझे अवसर मिला।
    उन्होंने ग्रामीणों द्वारा महिला पटवारी  मिथिलेश्वरी मंडावी की तारीफ किए जाने पर भी प्रसन्नता व्यक्त की। दरअसल मुख्यमंत्री ने चौपाल में पटवारी को अपने पास बुलाया और ग्रामीणों से पूछा कि इनसे कोई शिकायत या परेशानी तो नहीं है। इस पर गांव के लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि पटवारी नियमित रूप से वहां आती हैं और अपने कर्त्तव्यों का भलीभांति पालन करती है। मुख्यमंत्री ने पटवारी मिथिलेश्वरी का उत्साह बढ़ाते हुए कहा कि आप भी सामान्य और गरीब परिस्थितियों से निकलकर इस पद पर आयी हैं। इसलिए गांव वालों की तकलीफों को भी आप अच्छे तरह समझ सकती हैं। डॉ. सिंह ने महिला पटवारी को आगे भी इसी तरह पूरी लगन, मेहनत और ईमानदारी के साथ शासकीय दायित्वों का निर्वहन करते रहने की सलाह के साथ अपनी शुभकामनाएं दी।  
कान निर्माण पूरा होते ही खेमराम को मिलेगा बिजली कनेक्शन
    डॉ. सिंह के द्वारा पूछे जाने पर ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि बण्डाटोला ग्राम पंचायत के लगभग सभी घरों में बिजली पहुंच गई है। इस पर मुख्यमंत्री ने पूछा-क्या ऐसा कोई घर बाकी है, जहां अब तक बिजली का कनेक्शन नहीं पहुंचा है। इस पर श्री खेमराज कांवरे खड़े हुए और उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मेरा मकान बन रहा है और उसमें बिजली की जरूरत है। उन्होंने अंग्रेजी में अपना नाम बताते हुए कहा-आई एम वेरी पुअर पर्सन। डॉ. सिंह ने भरोसा दिया कि मकान बनते ही उनके घर बिजली का कनेक्शन पहुंच जाएगा। मुख्यमंत्री के साथ चौपाल में वन मंत्री  महेश गागड़ा, प्रमुख सचिव अमन  कुमार सिंह और सचिव   सुबोध कुमार सिंह भी मौजूद थे।

लोक सुराज दौरे में मुख्यमंत्री का पहला पड़ाव बण्डाटोला

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान के तीसरे चरण के प्रथम दिवस पर आज सवेरे राजधानी रायपुर से हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर सबसे पहले कांकेर जिले के ग्राम बण्डाटोला (विकासखण्ड-नरहरपुर) पहुंचे। उन्होंने वहां चौपाल में ग्रामीणों से बातचीत की। चूंकि आज ही राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान के दूसरे दौर का भी पहला दिन था। मुख्यमंत्री ने इस गांव के आंगनबाड़ी केन्द्र में पहुंचकर लगभग साढ़े चार महीने के शिशु अनुराग निषाद और दस महीने के हिमांशु निषाद को पोलियो वेैक्सीन की दो-दो बूंदें पिलाई और उन्हें आशीर्वाद दिया। डॉ. सिंह ने बड़े स्नेह से दोनों नन्हें शिशुओं को बारी-बारी से गोद में लेकर दुलार भी किया। उन्होंने इन शिशुओं के माता-पिता को उनकी सेहत का लगातार ध्यान रखने और दोनों शिशुओं के लिए आंगनबाड़ी सेवाओं का लाभ लेने की सलाह दी।
    डॉ. सिंह ने बण्डाटोला में श्रीमती खेमता के घर पहुंचकर उनके द्वारा किए जा रहे रेशम धागाकरण के कार्यों को भी देखा। श्रीमती खेमता ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके पास दो एकड़ खेती है। धागाकरण से कुछ अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उनका मकान भी बन रहा है। डॉ. सिंह श्रीमती मधु कुंजाम के भी घर गए, जिन्हें श्रम विभाग की योजना के तहत साईकिल मिली है। इसके अलावा  कुंजाम भी परिवार के अतिरिक्त आमदनी के लिए धागाकरण का काम कर रही हैं।
    गांव की चौपाल में मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से बातचीत कर बण्डाटोला ग्राम पंचायत के वार्ड नम्बर-6 में पेयजल के लिए सोलर पम्प और आवास पारा तथा वार्ड नम्बर-7 में हैण्डपम्प की मंजूर तुरंत प्रदान कर दी। उन्होंने गांव के मुख्य मार्ग से शीतला मंदिर तक और आवास पारा में सी.सी.रोड के लिए पांच-पांच लाख रूपए तथा मिडिल स्कूल में बाउंड्रीबॉल निर्माण के लिए आठ लाख रूपए स्वीकृत करने की घोषणा की। डॉ. सिंह ने चौपाल में ग्रामीणों के आग्रह पर निकटवर्ती ग्राम अरोड़ में बैंक शाखा खोलने के लिए जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए।
    स्थानीय युवाओं को मुख्यमंत्री ने खेल सामग्री के लिए 15 हजार रूपए तत्काल मंजूर कर दी। लोक सुराज की चौपाल में कुछ ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्हें मनरेगा में हुए कार्यों की मजदूरी का पूरा भुगतान नहीं मिल पाया है। इस पर मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि मजदूरों की बकाया राशि 31 मार्च तक उनके बैंक खातों में पहुंच जाए। कुछ ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें अब तक तेन्दूपत्ता बोनस नहीं मिल पाया है। इस पर मुख्यमंत्री ने वन मण्डलाधिकारी को ऐसे प्रकरणों के निराकरण के लिए गांव में कल शिविर लगाने के निर्देश दिए।

लोक सुराज: मुख्यमंत्री आज दंतेवाड़ा में जनता को देंगे 21 करोड़ के संयुक्त जिला कार्यालय भवन की सौगात

रायपुर - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कल 11 मार्च को लोक सुराज अभियान के तीसरे चरण के प्रथम दिवस पर दक्षिण बस्तर जिले की जनता को जिला मुख्यालय दंतेवाड़ा में 21 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित संयुक्त जिला कार्यालय भवन (कम्पोजिट बिल्डिंग) की सौगात देंगे। उनके हाथों लोकार्पित होने वाले इस नये भवन में राज्य शासन के सभी प्रमुख विभागों के जिला स्तरीय कार्यालय एक ही छत के नीचे संचालित होंगे। इससे जिले के ग्रामीण और आम नागरिक अपनी समस्याओं से संबंधित विभागों के अधिकारियों से एक ही भवन में आसानी से सम्पर्क कर सकेंगे। यह भवन लोक निर्माण विभाग द्वारा अपने नियमित बजट से बनवाया गया है। इसके आंतरिक साज-सज्जा का कार्य जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ) की राशि से किया गया है।
    उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री लोक सुराज अभियान के लिए राजधानी रायपुर से सवेरे 9 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर बस्तर संभाग के किसी भी गांव में अचानक पहुंचेंगे और वहां चौपाल में ग्रामीणों से चर्चा करेंगे। वे इसके बाद बस्तर संभाग के किन्ही दो समाधान शिविरों में भी आकस्मिक रूप से पहुंचेंगे। इसके बाद वे अपरान्ह तीन बजे जिला मुख्यालय दंतेवाड़ा पहुंचेंगे और वहां शाम पांच से 6.30 बजे तक तीन जिलों-सुकमा, बीजापुर और दंतेवाड़ा के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों की संयुक्त बैठक लेकर योजनाओं की समीक्षा करेंगे। डॉ. सिंह समीक्षा बैठक के बाद शाम 6.30 से 7 बजे तक पत्रकारों से भी चर्चा करेंगे। डॉ. सिंह दंतेवाड़ा में रात्रि विश्राम के बाद अगले दिन 12 मार्च को बिलासपुर संभाग का दौरा करेंगे। वे सवेरे 9.30 बजे दंतेवाड़ा से हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर बिलासपुर संभाग के दो गांवों में अचानक पहुंचेंगे और एक समाधान शिविर में भी आकस्मिक रूप से पहुंचकर शामिल होंगे।
    डॉ. सिंह शाम 5 बजे से 6.30 बजे तक बिलासपुर कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में दो जिलों-मुंगेली और बिलासपुर की समीक्षा बैठक लेंगे और शाम 6.30 बजे प्रेस कार्यालय भवन का उद्घाटन करने के बाद पत्रकार वार्ता को भी सम्बोधित करेंगे। मुख्यमंत्री रात्रि 8.10 बजे बिलासपुर में काम-काजी महिलाओं के हास्टल का भी उदघाटन करेंगे और वहां रात्रि विश्राम के बाद अगले दिन 13 मार्च को सवेरे 10 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रायपुर लौट आएंगे।

छत्तीसगढ़ का ’लोक सुराज’ देश का सबसे बड़ा सोशल ऑडिट अभियान: डॉ. रमन सिंह

रायपुर - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि उनकी सरकार का प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान देश का सबसे बड़ा सोशल ऑडिट (सामाजिक अंकेक्षण) अभियान है। सुशासन के सपने को साकार करने के लिए आम जनता से सीधे संवाद करना इस अभियान का मुख्य उद्देश्य है। डॉ. सिंह कल 11 मार्च से इस अभियान के तीसरे चरण में प्रदेश के सभी 27 जिलों के दौरे पर रवाना हो रहे हैं। अभियान का तीसरा चरण 31 मार्च तक चलेगा।
    मुख्यमंत्री जिलों के प्रवास के दौरान 13 जिला मुख्यालयों में रात्रि विश्राम करेंगे और उस दौरान वे संबंधित जिले के साथ-साथ आसपास के कुछ जिलों के जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों की बैठक लेकर योजनाओं की समीक्षा करेंगे। डॉ. सिंह अपने प्रवास के दौरान गांवों और शहरों का आकस्मिक दौरा भी करेंगे। उन्होंने आज शाम रायपुर में बताया कि लोक सुराज अभियान के माध्यम से छत्तीसगढ़ सरकार गांवों और शहरों में आम जनता तक पहुंचती है।    तीन चरणों में चलने वाले इस अभियान में जहां ग्रामीणों और आम नागरिकों से आवेदन आमंत्रित कर उनका उचित निराकरण किया जाता है, वहीं मुख्यमंत्री सहित सभी मंत्रीगण और मुख्य सचिव सहित सभी अधिकारीगण विभिन्न जिलों का सघन दौरा करते हैं और आम जनता के बीच चौपालों में तथा बैठकों में सरकारी योजनाओं और विकास कार्यों की जमीनी समीक्षा की जाती है।
    मुख्यमंत्री ने बताया कि इस वर्ष के लोक सुराज अभियान के लिए प्रथम चरण में 12 जनवरी से 14 जनवरी तक ग्राम पंचायतों और शहरों में आवेदन प्राप्त करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगाए गए थे, जिनमें राज्य सरकार को 30लाख 10 हजार 612 आवेदन  पत्र प्राप्त हुए । इनमें से 28 लाख 05 हजार 890 आवेदन ग्रामीण क्षेत्रों से और एक लाख 85 हजार 778 आवेदन शहरी क्षेत्रों से प्राप्त हुए हैं। ऑनलाइन प्राप्त आवेदनों की संख्या 19 हजार 024 है। मुख्यमंत्री ने बताया कि इसके बाद दूसरे चरण में 15 जनवरी से 11 मार्च तक संबंधित विभागों द्वारा इन आवेदनों की निराकरण की कार्रवाई की जा रही है। करीब-करीब 50 प्रतिशत आवेदनों का निराकरण किया जा चुका है। तीसरे चरण में सभी जिलों में अलग-अलग ग्राम समूहों के बीच समाधान शिविर भी लगाए जाएंगे, जहां लोगों को प्रथम चरण में प्राप्त उनके आवेदनों के बारे में बताया जाएगा। तीसरे चरण में कुल एक हजार 811 समाधान शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। इनमें से एक हजार 182 शिविर ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम समूहों के बीच और 629 शिविर शहरी क्षेत्रों में वार्ड समूहों के बीच लगाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह आज धमतरी और राजनांदगांव जिले के दौरे मे रहेंगे।

रायपुर आंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आयोजित आजीविका सम्मेलन समारोह मे आजीविका स्टाँलो का उद्घाटन कर स्टाँलो का भी अवलोकन करेंगें। साथ ही चुप्पी तोडो अभियान , ई रिक्शा व महिला समूहो द्धारा मार्च पास्ट, संवरता बचपन तथा सुपोषण अभियान का भी शुभारंभ करेंगें। इस अवसर पर मुख्यमंत्री हितग्राहियों को स्टैण्डअप इंडिया, मुद्रा लोन, चक्रिय निधी , सामुदायिक निवेश निधी व बैंक लिंकेज का चेक वितरण के अलावा वे हितग्राहियों को ई रिक्शा, बोलेरो व ट्रेक्टर की चाबी के साथ साथ जिले के 4 महिलाओ का सम्मान भी मुख्यमंत्री करेंगें। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ पंचायत एंव ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर, राजनांदगाव के सांसद अभिषेक सिंह, समाज कल्याण बोर्ड की राज्य मंत्री शोभा सोनी, डोंगरगढ़ की विधायीका श्रीमती सरोजनी बंजारे , राजनांदगाव जिले के जनप्रतिनिधियो सहित प्रशासन के आला अधिकारी व हजारो की संख्या मे महिलाए कार्यक्रम मे शामिल होंगें। इसके साथ ही आज मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह का धमतरी दौरा भी शामिल है आज....महिला दिवस पर आयोजित आजीविका महासम्मेलन बिहान में होंगे शामिल....43.50 करोड़ के विकास कार्यो का करेंगे लोकार्पण और शिलान्यास...कुरुद के खेल मैदान में आयोजित है सम्मेलन....उत्कृष्ट महिला सरपंचों का करेंगे सम्मान...32 हजार से ज्यादा महिला जुटने का अनुमान...

महिला उत्थान और सशक्तिकरण छत्तीसगढ़ को मिले तीन पुरस्कार

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर  नई दिल्ली में राष्ट्रपति के हाथों 'सखी वन स्टॉप सेंटर' रायपुर और 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' जशपुर को मिलेगा 'नारीशक्ति सम्मान'
 रायपुर - अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद रायपुर के  'सखी वन स्टॉप सेंटर' और जशपुर के कांसाबेल में संचालित  'बेटी जिंदाबाद बेकरी' को 'नारीशक्ति सम्मान 2017' से सम्मानित करेंगे. महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू के साथ विभाग की सचिव डॉ.एम.गीता और जशपुर के कांसाबेल की 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' की सुश्री पार्वती चौहान 08 मार्च को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में यह सम्मान ग्रहण करेंगी. उल्लेखनीय है कि नारीशक्ति सम्मान के तहत एक लाख रुपए और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है .इसी तरह 'बेटी बचाओ बेटी पढाओ' अभियान में भी उत्कृष्ट कार्य करने के लिए प्रदेश के रायगढ़ जिले को चुना गया है.प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के हाथों राजस्थान के झुंझनु में आयोजित कार्यक्रम में रायगढ़ कलेक्टर श्रीमती शम्मी आबिदी यह सम्मान ग्रहण करेंगी.
    उल्लेखनीय है कि महिला उत्थान और सशक्तिकरण की दिशा में कार्य करने के लिए छत्तीसगढ़ अग्रणी राज्यों में शामिल रहा है. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा एक बार फिर छत्तीसगढ़ को नारी सशक्तिकरण की दिशा में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सम्मानित किया जा रहा है .रायपुर जिले में स्थित देश के पहले 'सखी वन स्टॉप सेंटर' को यह पुरस्कार पिछले साल के दौरान महिलाओं के खिलाफ हिंसा से संबंधित मामलों की सफलतापूर्वक सुनवाई और निदान में महत्वपूर्ण योगदान करने के लिए दिया जा रहा है और जशपुर के कांसाबेल में संचालित 'बेटी जिंदाबाद बेकरी' को महिला सशक्तिकरण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए नारीशक्ति सम्मान 2017 के लिए चुना गया है. उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन द्वारा कांसाबेल गाँव की बेटियों को मुख्यमंत्री कौशल उन्नयन कार्यक्रम के तहत बेकरी व्यवसाय का प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार हेतु प्रेरित कर आर्थिक और तकनीकी सहायता उपलब्ध कराई गयी और आज इन बेटियों का समूह सफलतापूर्वक बेकरी व्यवसाय कर रहा है.

मंडी बोर्ड और मंडी समितियों के डाटा एंट्री ऑपरेटर तथा सहायक ग्रेड-2 भी बन सकते हैं मंडी निरीक्षक

रायपुर - छत्तीसगढ़ राज्य कृषि विपणन (मंडी) बोर्ड सेवा संवर्ग तथा मंडी समिति सेवा संवर्ग के योग्य डाटा एंट्री ऑपरेटरों और सहायक ग्रेड-2 को विभागीय परीक्षा देकर सीधी भर्ती से मंडी निरीक्षक बनने का अवसर मिलेगा। विभागीय परीक्षा में ऐसे डाटा एंट्री ऑपरेटर और सहायक ग्रेड-2 शामिल हो पाएंगे, जो मंडी निरीक्षक पद की योग्यता रखते हैं तथा पांच वर्ष की सेवा पूरी कर चुके हैं। कृषि मंत्री तथा मंडी बोर्ड के अध्यक्ष  बृजमोहन अग्रवाल की अध्यक्षता में यहां आयोजित मंडी बोर्ड के संचालक मंडल की बैठक में बोर्ड के इस आशय के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि मंडी निरीक्षक के सीधी भर्ती के 50 प्रतिशत पद में से 20 प्रतिशत पद डाटा एंट्री ऑपरेटर और सहायक ग्रेड-2 के पदों पर कार्यरत योग्य उम्मीद्वारों की परीक्षा लेकर भरे जाएंगे। इसके लिए विभागीय परीक्षा ली जाएगी। उन्होंने बताया कि मंडी निरीक्षक की सीधी भर्ती के लिए कृषि या वाणिज्य में स्नातक डिग्री जरूरी है।   

अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ कराने सरकारी और निजी क्षेत्र को मिल कर करना होगा काम: डॉ रमन सिंह

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि आम जनता को, विशेष रूप से ग्रामीण अंचलों में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने में सरकारी और निजी क्षेत्र को मिलकर काम करना होगा। मुख्यमंत्री आज शाम यहां एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया (ए.एस.आई.) के छत्तीसगढ़ चेप्टर के 17वें वार्षिक सम्मेलन का शुभारंभ कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने अनेक वर्षों से मानवता की सेवा कर रहे वरिष्ठ शल्य चिकित्सकों को लाइफ टाइम एचिवमेंट एवार्ड से सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर शल्य चिकित्सक यदि माह में कम से कम दो जरूरतमंद मरीजों की निःशुल्क शल्य चिकित्सा करें तो यह मानवता की सेवा का एक बड़ा कार्य होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नये राज्य छत्तीसगढ़ में स्वस्थ पीढ़ी का निर्माण सबसे बड़ी चुनौती था। इस चुनौती का सामना करने के लिए स्वास्थ्य संबंधी अधोसंरचना के विकास के लिए पिछले 14 वर्षों में योजनाबद्ध प्रयास किए गए। आज दूरस्थ अंचल के बीजापुर जिला चिकित्सालय में जहां पहले ओपीडी में आठ से दस मरीज प्रतिदिन आते थे, आज वहां एक माह में 200 से 300 मरीजों की शल्य चिकित्सा की जा रही है। इस अस्पताल में 36 चिकित्सक काम कर रहे हैं। सभी जिला अस्पतालों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं से सुसज्जित किया जा रहा है। बलरामपुर जिला अस्पताल में भी मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर का निर्माण जल्द किया जाएगा। इस अवधि में प्रदेश में मेडिकल कॉलेजों की संख्या दो से बढ़कर 10 हो गई है। पहले प्रदेश में एक भी नर्सिंग कॉलेज नहीं था, जिनकी संख्या अब बढ़कर 68 हो गई है।
डॉ. सिंह ने चिकित्सक के रूप में अपनी प्रेक्टिस के अनुभव साझा किए। उन्होंने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि इस योजना में प्रदेश के 56 लाख परिवारों को 50 हजार रूपए तक के निःशुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। डॉ. सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना के अंतर्गत अब तक लगभग 7000 बच्चों के हृदय रोग के इलाज के लिए शासन के खर्च पर सर्जरी की गई है। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में अम्बिकापुर मिशन अस्पताल की डॉक्टर एम.एल बेट्रिस, डॉ. अनुराधा दुबे, डॉ. दिलीप एस. गोरे, डॉ. आर.एस. नायक, डॉ. एस.जे. रिजवी और डॉ. संदीप दवे  को लाइफटाईम एचिवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने डॉ. बेट्रिस के सेवा भाव का उल्लेख करते हुए कहा कि वे सरगुजा अंचल में पिछले 40 वर्षों से जरूरतमंद मरीजों की निःशुल्क सर्जरी कर रही हैं। डॉ. अनुराधा दुबे ने मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना के तहत 800 बच्चों का ऑपरेशन किया है। एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. दिलीप एस.गोरे, आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. सुभाष अग्रवाल, सम्मेलन आयोजन समिति के सचिव डॉ. देवेन्द्र नायक ने भी अपने विचार प्रकट किए। इस अवसर पर एएसआई छत्तीसगढ़ चेप्टर के अध्यक्ष श्री तरूण नायक सहित अनेक वरिष्ठ सर्जन उपस्थित थे। यह आयोजन श्री बालाजी ग्रुप ऑफ हास्पिटल्स एण्ड कॉलेजेस द्वारा रायपुर मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभाग और सर्जन्स क्लब रायपुर के सहयोग से ए.एस.आई. छत्तीसगढ़ चेप्टर के तत्वावधान में किया गया।

विधानसभा में हंसी और ठहाकों के साथ ढोल-नंगाड़ों की थाप पर झूमते-नाचते नजर आए सत्ता और विपक्ष

रमन-सिंहदेव ने खेला गुलाल मिले गले
रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और विधानसभा अध्यक्ष  गौरीशंकर अग्रवाल विधानसभा के बजट सत्र के समापन के बाद विधानसभा परिसर में आज आयोजित होली मिलन समारोह में शामिल हुए। डॉ. सिंह और   अग्रवाल ने नेताप्रतिपक्ष   टी.एस. सिंहदेव, मंत्रियों, विधायकों और इस अवसर पर विधानसभा देखने आए नागरिकों को गुलाल लगाकर उन्हें रंगों के पर्व होली की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर कवि सम्मेलन का आयोजन भी किया गया, जिसमें छत्तीसगढ़ के पद्मश्री सम्मान प्राप्त कवि डॉ. सुरेन्द्र दुबे, इंदौर के श्री सत्यनारायण सत्तन और मुम्बई के श्री सुभाष काबरा ने अपनी कविताएं प्रस्तुत की।  राकेश तिवारी और उनके दल ने इस अवसर पर फाग गीत प्रस्तुत किए।

सदन में पुरस्कारों के लिये चयनित लोगों को मुख्यमंत्री ने दी बधाई स्वराज एक्सप्रेस के उत्कृष्ट इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रिपोर्टर आशीष तिवारी और कैमरामेन प्रकाश सिंह चयनित

रायपुर- विधानसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन आज सन 2017-18 के लिये उत्कृष्टता पुरस्कारों की घोषणा की गई. जिसमे  मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह  ने चतुर्थ विधानसभा के ’जागरूक विधायक’ के रूप में चयनित होने पर सदन के वरिष्ठ सदस्य सत्यनारायण शर्मा को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि  शर्मा अपनी रोचक शैली में गंभीर बातों को भी बड़े सहज ढंग से कह देते हैं। उम्र के इस पड़ाव पर भी लगातार जागरूक रहकर सदन की सेवा करने का उनका यह गुण सराहनीय है। 
वही वर्ष 2017 के लिए सत्ता पक्ष से चयनित उत्कृष्ट विधायक  राजमहंत सांवलाराम डाहरे और प्रतिपक्ष से  मोहन मरकाम,के नाम की घोषणा की गई है.उत्कृष्ट संसदीय पत्रकार के रूप में चयनित नई दुनिया के  संजीत कुमार,को एवं  उत्कृष्ट इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रिपोर्टर स्वराज एक्सप्रेस के  आशीष तिवारी और कैमरामेन  प्रकाश सिंह यादव को भी मुख्यमंत्री ने बधाई और शुभकामनाएं दी है । 

मुख्यमंत्री ने विधानसभा अध्यक्ष, विधानसभा के उपाध्यक्ष, सभापति तालिका के सदस्यों, शासन के मुख्य सचिव   अजय सिंह सहित अधिकारियों और कर्मचारियों, विधानसभा के सचिव   चंद्रशेखर गंगराड़े सहित विधानसभा सचिवालय के अधिकारियों और कर्मचारियों, मीडिया के प्रतिनिधियों और सुरक्षा कर्मियों को सदन के सुचारू संचालन में दिए गए सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। डॉ. सिंह ने पक्ष और प्रतिपक्ष के सदस्यों सहित प्रदेशवासियों को रंगों के त्यौहार होली की बधाई और शुभकामनाएं दी।

पक्ष-विपक्ष के सदस्यों ने कायम रखी छत्तीसगढ़ विधानसभा की गौरवशाली परम्परा : डॉ. रमन सिंह मुख्यमंत्री ने सदस्यों को सहयोग के लिए दिया धन्यवाद

रायपुर - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज विधानसभा के बजट सत्र के समापन के अवसर पर सदन में कहा कि पक्ष और विपक्ष के सभी सदस्यों ने छत्तीसगढ़ विधानसभा की गौरवशाली परम्परा को कायम रखा है। बजट से संबंधित सभी मांगों पर सार्थक चर्चा की गयी। मुख्यमंत्री ने इस उपलब्धि के लिए पूरी सदन को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विधानसभा के सदस्यों ने अतिरिक्त समय देकर कार्य कुशलता के साथ कार्यपालिका की विधान मंडल के प्रति, खास तौर से वित्तीय मामलों में जवाबदेही को पूरा किया, जो सदस्यों की जागरूकता की पहचान है। जनहित के अनेक मुद्दे यहां बड़े अच्छे ढंग से उठाए गए। सत्ता पक्ष और प्रतिपक्ष दोनों ओर से अनेक सदस्यों ने जो वक्तव्य दिए, वे सटीक, ऊर्जा से भरे हुए और ज्ञानवर्धक थे।
 विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने इसके पहले सदन के संचालन में दिए गए सकारात्मक सहयोग और मार्गदर्शन के लिए मुख्यमंत्री, नेताप्रतिपक्ष सहित सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की चतुर्थ विधानसभा संसदीय मूल्यों के संरक्षण और परम्पराओं के परिपालन में एक आदर्श प्रस्तुत करने में सफल रही है। उन्होंने बजट सत्र में सम्पादित हुए संसदीय कार्यों की संक्षेप में जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि शासकीय-अशासकीय संस्थाओं, जनप्रतिनिधि संस्थाओं, स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों सहित लगभग 3887 लोगों ने विधानसभा की कार्रवाई का प्रत्यक्ष अवलोकन किया, 16 हजार 813 नागरिकों ने भी विधानसभा की कार्रवाई देखी और 14 हजार 200 लोगों ने विधानसभा का भ्रमण किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत 5253 जनप्रतिनिधियों ने भी विधानसभा का भ्रमण किया। नेताप्रतिपक्ष   टी.एस. सिंहदेव  और संसदीय कार्य मंत्री  अजय चंद्राकर ने भी अपने विचार प्रकट किए।