राज्य

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अधिकारी, कर्मचारी एवं उनके परिजनो सहित लगभग 72 हजार लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप में हुवे पंजीकृत

अजीत मिश्रा @ बिलासपुर - 18 अप्रैल, 2020

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे मुख्यालय सहित तीनो रेल मंडलो बिलासपुर, रायपुर एवं नागपुर के 38504 अधिकारी/कर्मचारी एवं उनके 33324 परिजनों ने आरोग्य सेतु ऐप पर पंजीकृत होकर कोविद-19 से लड़ाई में एकजुटता दिखाई है । वर्तमान में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में (मुख्यालय में 3140, बिलासपुर रेल मंडल में 17407, रायपुर रेल मंडल में 10747 एवं नागपुर रेल मंडल में 12087 अधिकारियों/कर्मचारियों सहित) कुल 43381 अधिकारी/कर्मचारी कार्यरत है ।

भारत सरकार ने कोविड-19 का दृढ़ता से मुकाबला करने के लिए भारत के लोगों को एकजुट करने के उद्देश्य से सार्वजनिक-निजी साझेदारी से विकसित एक मोबाइल ऐप की शुरुआत की है । ‘आरोग्य सेतु’ नाम का यह ऐप प्रत्येक भारतीय के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए डिजिटल इंडिया से जुड़ा है । यह लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण पकड़ने के जोखिम का आकलन करने में सक्षम करेगा । दक्षिण पूर्व मध्य रेल प्रशासन ने आरोग्य सेतु ऐप पर पंजीकृत होने के लिए अपने सभी अधिकारियों रेलवे कर्मचारियों उनके परिजनों एवं सभी लोगों को प्रेरित किया है जिसके फलस्वरूप बड़ी संख्या में रेलकर्मी एवं उनके परिजनों ने आरोग्य सेतु ऐप पर अपने को पंजीकृत किया हैं ।

यह ऐप अत्याधुनिक ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी, तकनीक, गणित के सवालों को हल करने के नियमों की प्रणाली (अलगोरिथ्म) और कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग करते हुए, दूसरों के साथ उनकी बातचीत के आधार पर इसकी गणना करेगा । एक बार एक आसान और उपयोगकर्ता के अनुकूल प्रक्रिया के माध्यम से स्मार्टफोन में स्थापित होने के बाद, ऐप आरोग्य सेतु के साथ स्थापित अन्य उपकरणों का पता लगाएगा जो उस फोन के दायरे में आते हैं । एप्लिकेशन तब परिष्कृत मापदंडों के आधार पर संक्रमण के जोखिम की गणना कर सकता है यदि इनमें से किसी भी संपर्क का परीक्षण पॉजिटिव आता है । ऐप कोविड-19 संक्रमण के प्रसार के जोखिम का आकलन करने और आवश्यक होने पर एकांतवास सुनिश्चित करने के लिए सरकार के समय पर कदम उठाने में मदद करेगा। ऐप का डिज़ाइन सबसे पहले गोपनीयता सुनिश्चित करता है । ऐप द्वारा एकत्र किए गए व्यक्तिगत डेटा को अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करके एन्क्रिप्ट किया गया है और डेटा चिकित्सा सम्बन्धी सुविधा की आवश्यकता पड़ने तक फोन पर सुरक्षित रहता है । 11 भाषाओं में उपलब्ध, ऐप अखिल भारतीय स्तर पर पहले दिन से उपयोग के लिए तैयार है और इसकी बनावट ऐसी है जो अधिक काम का भार भी ले सकती है । यह ऐप राष्ट्र की युवा प्रतिभा के एकजुट होने और संसाधनों की पूलिंग और वैश्विक संकट का जवाब देने के प्रयासों का एक अनूठा उदाहरण है । यह एक ही समय में सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों, डिजिटल प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सेवाएं देने और युवा भारत की क्षमता और देश के रोग मुक्त और स्वस्थ भविष्य के बीच एक सम्पर्क है ।

संकल्प फाउंडेशन ने पीएम केयर्स में दिए ग्यारह हजार रुपये,डिजिटल माध्यम का उपयोग कर लॉकडाउन को सफल बनाने और सोशल डिस्टेंसिंग का संदेश दिया

वैश्विक महामारी covid-19 के रोकथाम के लिए जहाँ पूरा देश लॉकडाउन हैं वही इस मुश्किल घड़ी में युवाओं का एक समूह बिना किसी प्रचार के जरूरत मंदों की सहायता और मदद लगा हुआ है।संकल्प फाउंडेशन के संचालक ऋषभ चतुर्वेदी ने हनुमान जयंती के अवसर पर युवाओं से अपील की थी कि इस वर्ष हनुमान जन्मोत्सव में लगने वाली राशि को गरीब जरूरतमंद लोगों की सहायता कार्य मे प्रधानमंत्री राहत कोष, मुख्य मंत्री राहत कोष,एवं नगर निगम बिलासपुर द्वारा संचालित कॅरोना रिलीफ फण्ड में देकर इस कठिन घड़ी में समाज की सेवा की जाए।इसी तारतम्य में संकल्प फाउंडेशन बिलासपुर द्वारा भीम एप के माध्यम से प्रधानमंत्री राहत कोष में 11,000 (ग्यारह हजार रुपये) की राशि प्रदान की गई है वही यह बात उल्लेखनीय है कि इस कार्य के लिए लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग का संदेश देते हुए यह राशि डिजिटल माध्यम से भीम एप के माध्यम से प्रधानमंत्री राहत कोष में प्रदान की गई है। संकल्प फाउंडेशन युवाओं की एक टीम है जो लॉकडाउन के दौरान जरूरत मंद लोगो तक आवश्यक दवाई,राशन,मास्क,सेनेटाइजर,जरूरत के समान और भोजन आदि पहुंचाने का कार्य कर रही है।ऐसे लोग जो घर से निकलने में असमर्थ हैं उनके लिए आवश्यक राशन और दवाइयां सब्जी आदि घर पर पहुंचा कर दिया जा रहा है।कोरोना के इस संक्रमण को हराने के एक मात्र कारगर अस्त्र सोशल डिस्टेंसिंग है अतः हम लोगो से अपील करते हैं कि वे अपने घरों पर ही रहे और उन्हें जिन भी चीजो की आवश्यकता हो उन्हें वे हमसे सम्पर्क कर सकते हैं संकल्प फाउंडेशन की टीम द्वारा उन तक पहुंचाने का प्रयास किया जाएगा।इन युवाओ द्वारा सेवा कार्य के दौरान साफ सफाई,एवं सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।मास्क सेनेटाइजर और हैंड ग्लब्स से लैस ये युवा कार्यकर्ता 1 या 2 की संख्या में ही अलग अलग क्षेत्रों में सेवा दे रहे हैं साथ साथ ही इन विकट परिस्थितियों में हमारी सुरक्षा में लगे जवानों को फूड पैकेट आदि संकल्प फाउंडेशन की टीम द्वारा पहुंचाया जा रहा है।ऋषभ चतुर्वेदी ने बताया कि जरूरत मंदों तक सामग्री पहुंचाते हुए इस बात का आवश्यक रूप से ध्यान रखते हैं कि हम किसी प्रकार का फोटो या वीडियो लेकर इन विकट परिस्थितियों में फंसे जरूरत मंद को हीन भावना महसूस न होने दें इस लिए यह कार्य हमारी टीम द्वारा बिना किसी फोटोबाजी अथवा प्रचार के द्वारा सेवा भाव से किया जा रहा है।संकल्प फाउंडेशन द्वारा संचालित इस मुहीम में अनमोल झा,केतन सिंह,ऋषभ चतुर्वेदी,अभिषेक गुप्ता,महर्षि बाजपेयी, अंकित जैन,अंकित पाठक,अभिषेक तिवारी,देवर्षि बाजपेयी,अनीस गुप्ता,अवि साहू,शुभम राव वासिंग,वैभव गुप्ता,आशुतोष गुप्ता,निरंतर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

ओडिशा सरकार ने निजी शिक्षण संस्थानों को अप्रैल-जून तक फीस घटाने की दी सलाह

ओडिशा के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया है कि कोविड-19 के चलते देशव्यापी लॉकडाउन और उसकी वजह से आर्थिक परेशानी के मद्देनज़र राज्य सरकार ने निजी शिक्षण संस्थानों को सहानुभूतिपूर्ण अप्रैल से जून तक फीस में कमी/कटौती पर विचार करने की सलाह दी है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने आगे कहा कि यह उन माता-पिता की मदद करेगा जिनकी आय प्रभावित हुई है।

बंद के कारण आर्थिक परेशानी झेल रहे कुलियों को रेलवे कर्मचारियों और पुलिस के द्वारा आर्थिक मदद किया गया।

लॉक डाउन होने के कारण सभी ट्रेनों का आवागमन बंद होने से स्टेशन में काम करने वाले कुलियों का आमदनी बंद हो गया जिसके कारण सभी कुली आर्थिक परेशानी झेल रहे है तथा उनको सहयोग करने के लिए रेलवे के लोको पायलट,गार्ड तथा थाना तोरवा के सहयोग से पैसा चंदा करके थाना तोरवा के माध्यम से 51000 हजार रुपया स्टेशन परिसर में प्रदाय किया गया। काम बन्द के दौरान कुलियों को इतनी सहायता राशि मिलने से उनके द्वारा पुलिस टीम और रेलवे कर्मचारियों को धन्यवाद दिया गया। इसमे मुख्य रूप से डिवीजनल इलेक्ट्रिकल इंजीनियर वासु गुप्ता,लोको पायलट विनोद सोनी,वाई.के.साहू,सतीश राठौर थाना प्रभारी जे. पी. गुप्ता और स्टाफ उपस्थित रहा।

मध्यप्रदेश में भोपाल, इंदौर, उज्जैन व अन्य ज़िलों के हॉटस्पॉट इलाके होंगे पूरी तरह सील

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल, उज्जैन, इंदौर और अन्य ज़िलों के संक्रमित क्षेत्रों को पूरी तरह सील करने का निर्देश दिया है। बतौर राज्य सरकार, इन इलाकों में ज़िला प्रशासन आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करेगा और लोग अंदर-बाहर आ-जा नहीं सकेंगे। वही आपको बता दे की मुख्यमंत्री ने लोगों से मास्क लगाकर ही घर से निकलने को कहा है।

ओडिशा ने 30 अप्रैल तक बढ़ाया लॉकडाउन, ऐसा करने वाला पहला राज्य.........

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढाने का ऐलान किया है और ऐसा करने वाला यह पहला राज्य बन गया है। वही आपको बतादे की सभी शैक्षणिक संस्थान 17 जून तक बंद रखने का फैसला भी लिया गया। साथ ही राज्य कैबिनेट ने केंद्र से उड़ानों और ट्रेन सेवाओं को 30 अप्रैल तक बंद रखने का अनुरोध किया है।

लॉक डाउन के दौरान रेलवे के द्वारा पार्सल ट्रेनों के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं के परिवहन की सुविधा

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से 04 विशेष पार्सल ट्रेनों का परिचालन

बिलासपुर - अजीत मिश्रा ★

कोविड-19 (कोरोना वायरस) के संक्रमण को रोकने के मद्देनजर लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं जैसे खाद्य सामग्री, दवाएं, चिकित्सा आपूर्ति, चिकित्सा उपकरण, खाद्य तेल, आदि आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता को सुनिश्चित करने हेतु रेलवे प्रशासन द्वारा पार्सल गाडियां चलाई जा रही है । इसी कडी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा 04 विशेष पार्सल ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है । जिसका विस्तृत विवरण इस प्रकार है:-

1. 008775/00876 दुर्ग -छपरा - दुर्ग के मध्य विशेष पार्सल ट्रेन - यह गाडी दुर्ग से दिनांक 11 अप्रैल को तथा छपरा से दिनांक 13 अप्रैल को चलेगी । इस गाड़ी का ठहराव दोनों दिशाओं में रायपुर, उसलापुर, पेण्ड्रारोड, अनूपपुर, शहडोल, कटनी, सतना, मानिकपुर, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी स्टेशनों में दिया गया है ।

2 00873/00874 दुर्ग -अम्बिकापुर - दुर्ग के मध्य विशेष पार्सल ट्रेन - यह गाडी दुर्ग से दिनांक 08, 10 एवं 13 अप्रैल को तथा अम्बिकापुर से दिनांक 09, 11 एवं 14 अप्रैल को चलेगी । इस गाड़ी का ठहराव दोनों दिशाओं में रायपुर, उसलापुर, पेण्ड्रारोड, अनूपपुर, बिजुरी, बैकुंठपुर रोड स्टेशनों में दिया गया है ।

3 00871/00872 दुर्ग - कोरबा - दुर्ग के मध्य विशेष पार्सल ट्रेन - यह गाडी दुर्ग एवं कोरबा से दिनांक 08 अप्रैल से 14 अप्रैल तक प्रतिदिन चलेगी । इस गाड़ी का ठहराव दोनों दिशाओं में रायपुर, तिल्दा, भाटापारा, बिलासपुर, चांपा स्टेशनों में दिया गया है ।

4 00881/00882 इतवारी - टाटानगर - टाटानगर के मध्य विशेष पार्सल ट्रेन - यह गाडी इतवारी से दिनांक 08 से 13 अप्रैल तक प्रतिदिन तथा टाटानगर से दिनांक 09 से 14 अप्रैल तक प्रतिदिन चलेगी । इस गाड़ी का ठहराव दोनों दिशाओं में गोंदिया, राजनांदगांव, दुर्ग, रायपुर, बिलासपुर, चांपा, रायगढ, झारसुगडा, राउरकेला, चक्रधरपुर स्टेशनों में दिया गया है ।

इन पार्सल ट्रेनों के माध्यम से वस्तुओं के परिवहन हेतु इच्छुक पार्टियां इस सुविधा का अधिक से अधिक लाभ उठाएं | इन पार्सल के सम्बन्ध में जानकारियाँ हेल्पलाइन नंबर 138 पर भी प्राप्त की जा सकती है साथ ही इच्छुक पार्टियां मुख्यालय में 9752475973, बिलासपुर मंडल में 7869964376, रायपुर मंडल में 9752877995 एवं नागपुर मंडल में 8600109149 मोबाइल नंबरो पर भी संपर्क कर आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकते है ।

अकलतरा से टाटानगर व खरसिया से डाल्टनगंज के लिए 02 रैक भेजा गया चावल

पुरे देश में लॉकडाउन की अवधि मे आवश्यक वस्तुओ व सेवाओं में कोई कमी ना आये इसके लिए भारतीय रेलवे मालगाड़ियों चला रही हैं तथा देश में लॉकडाउन के दौरान खाने-पीने का सामान, कोयला, चावल. अनाज, खाने का तेल, चीनी, डेयरी प्रोडक्ट, इत्यादि सामानों की आपूर्ति सुनिश्चित कर रही है। विषम परिस्थितियों में भी रेलवे द्वारा पूरे देश में मालगाड़ियों का परिचालन करते हुये देश में खाद्यान्न सहित आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति किया जा रहा है । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल द्वारा आवश्यक वस्तुओं का लदान प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है । रेलवे परिवार के सदस्यों द्वारा अपने उत्तरदायित्व को विषम परिस्थितियों ने भी बखूबी निभाया जा रहा हैं जिससे आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में कोई बाधा नही आ रही है । इसी कड़ी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल से चावल की लोडिंग कर देश के विभिन्न भागों में भेजा जा रहा है। आज दिनांक 03 अप्रैल 2020 को अकलतरा गुड्स शेड से 2594 टन चावल 41 बीसीएन वैगन में लोड़कर टाटानगर के लिए रवाना किया गया। साथ ही खरसिया गुड्स शेड से 2673 टन चावल 42 बीसीएन वैगन में लोड़कर डाल्टनगंज के लिए रवाना किया गया।

लॉक डाउन में मंडल द्वारा आवश्यक वस्तुओं का लदान । अकलतरा से धनबाद के लिए भेजा गया 42 वैगन चांवल

बिलासपुर – दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल द्वारा आवश्यक वस्तुओं का लदान किया जा रहा है । पुरे देश में लॉकडाउन की अवधि मे आवश्यक वस्तुओ व सेवाओं में कोई कमी ना आये इसके लिए भारतीय रेलवे मालगाड़ियों चला रही हैं तथा देश में लॉकडाउन के दौरान खाने-पीने का सामान, कोयला, चावल. अनाज, खाने का तेल, चीनी, डेयरी प्रोडक्ट, इत्यादि सामानों की आपूर्ति सुनिश्चित कर रही है । विषम परिस्थितियों में भी पूरे देश में मालगाड़ियों का परिचालन लगातार हो रहा है । इस कार्य में लगे लोको पायलट, मालगाड़ियों के लिए गार्डों, गुड्स सुपरवाईजर द्वारा अपने दायित्व को गंभीरता से पालन करने के कारण ही रेलवे देश में खाद्यान्न सहित आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कर पा रहा है । इस प्रकार की गतिविधियां पूरे देश में जारी हैं जिससे आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित हो रही हैं। इसी कड़ी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल से चावल की लोडिंग कर देश के विभिन्न भागों में भेजा जा रहा है। आज दिनांक 02 अप्रैल 2020 को अकलतरा गुड्स शेड से 2670 टन चावल 42 बीसीएन वैगन में लोड़कर धनबाद के लिए रवाना किया गया। भारतीय रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी अपने उत्तरदायित्व को विषम परिस्थितियों ने भी बखूबी निभा रहे हैं जिससे आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में कोई बाधा नही आ रही है ।

लाक डाउन को सफल बनाने बिलासपुर पुलिस कर रही ड्रोन से निगरानी , शहर में किया गया फ्लेग मार्च

अजीत मिश्रा @ बिलासपुर ■ कोरोना वायरस से बचाव हेतु जिला प्रशासन बिलासपुर द्वारा 14 अप्रैल 2020 तक संपूर्ण जिले में धारा 144 लागू कर लॉक डाउन किया गया है एवं सभी प्रकार के स्थलों जहां जनसामान्य इकट्ठा होते हो प्रतिबंधित कर दिया गया है । इसके बावजूद भी कुछ लोगों के द्वारा उक्त निर्देशों का उल्लंघन कर सुबह-सुबह शनिचरी बाजार,बृहस्पति बाजार एवं अन्य बाजारों में भीड़ की स्थिति पाई जा रही है एवं लोगों द्वारा मोटरसाइकल व पैदल घूमते पाए जा रहे है, जोकि मेडिकल/ प्रशासन के द्वारा बनाएं उक्त निर्देशों का उल्लंघन करने की श्रेणी में आता है जिसे रोकने के लिए सुबह-सुबह ड्रोन कैमरे की सहायता से लोगों पर नजर रखा जा रहा है एवं भीड़ को देखते हुए शक्ति बढ़ती जा रही है एवं भिन्न भिन्न प्रकार की सजा जैसे उठक-बैठक कराना एवं मुर्गा बनाना जैसे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं । के साथ ही आज अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) एवं सीएसपी कोतवाली व सीएसपी सिविल लाइन एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी के साथ सभी थाना प्रभारी व स्टाफ के साथ मंगला चौक से शुरू कर शहर के सभी क्षेत्रों में ड्रोन कैमरों को आगे-पीछे, बाएँ-दाएँ रखकर,100 से अधिक पुलिसकर्मी एवं अधिकारी व 03 दर्जन सायरन लाइट वाली गाड़ियों के साथ आज पूरे शहर में पैदल पेट्रोलिंग निकाला गया। जिसमें बाहर घूम रहे लोगों को एवं मोटरसाइकिल पर सवार व्यक्तियों को रोक- टोंक कर शक्ति के साथ समझाइश दिया गया। कोरोना वायरस से बचाव के संबंध में हर संभव प्रयास के लिए जिला पुलिसबिलासपुर पूर्णतः प्रतिबद्ध है।भविष्य में भी शासन के आदेश की अवहेलना पर इसी तरह सख्त कार्यवाही की जाएगी ताकि इस महामारी के संक्रमण को रोका जा सके तथा जनसामान्य के स्वास्थ्य पर कोई विपरीत असर न हो।शहर में आज बिलासपुर पुलिस के द्वारा ड्रोन कैमरों को चारों दिशाओं में एक साथ घुमाते हुए एनाउंस करते हुए दो दर्जन से अधिक पोलिस गाड़ियों के सायरन के आवाज़ के साथ पैदल मार्च भी किया गया जो कोतवाली चौक गांधी चौक,शिव टाकीज चौक,बस स्टैण्ड, राजीव प्लाजा,सीएमडी चौक,अग्रसेन चौक,मगरपारा चौक तालापारा इंदु चौक ,राजीव गांधी चौक ,मरीमाता ,राजेन्द्र नगर चौक होते हुए सिविल लाइन तक किया गया।बिलासपुर पुलिस का यह अभियान लगातार जारी रहेगा।

आवश्यक वस्तु से संबंधित, दुकानों का खुलने एवं बंद होने का समय सीमा तय

जांजगीर-चांपा । कलेक्टर श्री जनक प्रसाद पाठक ने कोविद 19 वायरस के संक्रमण के फैलने से रोकने आम जनता के स्वास्थ्य के हित मे आवश्यक वस्तुओ की दुकानंे खोलने एवं बंद करने का समय निर्धारित किया गया है। कोर कमेटी द्वारा लिए गये निर्णय के मुताबिक राशन की दुकांने दोपहर 12 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहेगी। राशन दुकान शाम 6 बजे अनिवार्य रूप से बंद करना होगा, अन्यथा संबंधित दुकान संचालक के खिलाफ एफ.आई.आर. दर्ज करने की कार्यवाही होगी। कलेक्टर के निर्देश का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी को दिए है। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारूल माथुर, जिला पंचायत सी.ई.ओ. एवं कोविद 19 नियंत्रक नोडल अधिकारी श्री तीर्थराज अग्रवाल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एस. आर. बंजारे, संयुक्त कलेक्टर श्री पैकरा सहित कमेटी के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

बिलासपुर में झारखंड हावडा केरल के फंसे मजदूरों की छत्तीसगढ़ सरकार करेगी मदद।सुबह से रेलवे स्टेशन पर लगभग 150 से 200 के संख्या में नागपुर से आयें मजदुर लाक डाउन के कारण फंसे हैं।जिसका प्रसाशन के द्वारा उनके राज्य के सिमा तक पहुचाने की हर संभव कोशिश कि जा रही

बिलासपुर में झारखंड हावडा केरल के फंसे मजदूरों की छत्तीसगढ़ सरकार करेगी मदद।सुबह से रेलवे स्टेशन पर लगभग 150 से 200 के संख्या में नागपुर से आयें मजदुर लाक डाउन के कारण फंसे हैं।जिसका प्रसाशन के द्वारा उनके राज्य के सिमा तक पहुचाने की हर संभव कोशिश कि जा रही है।वही लोकल समाजिक संगठन के कुछ लोगों के द्वारा इनकी फंसे होने की जानकारी शासन प्रसाशन तक पहुचाई थी जिसके बाद आज झारखंड सीएम हेमंत सोरेन ने ट्वीट करके मदद की मांग की थी।वही हेमंत सोरेन के ट्वीट पर सीएम भूपेश ने  लिखा-उनके भोजन आदि का इंतज़ाम कर दिया है।जब तक बिलासपुर में हैं उनका हम ध्यान रखेंगे।अधिकारी उन्हें झारखंड सीमा तक पहुंचाने की हर संभव मदद व व्यवस्था कर रहे हैं। बिलासपुर के रेलवे स्टेशन पर सुबह150 से 200 के आस पास मज़दूर फंसे हैं। जिसमे झारखंड, असम, बंगाल हावड़ा केरल के भी मजदुर फंसे हैं।जिसको स्थानिय जगह पर ले जाकर भोजन की व्यवस्था कर के उन्हे सिटी बस से उनके राज्य के सिमा तक पहुंचाने की प्रयास जारी है।

मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा देने का फैसला लिया

भोपाल  मध्य प्रदेश  में फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा देने का फैसला किया है. इस्तीफे के ऐलान से पहले कमलनाथ ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि बीजेपी याद रखे कि कल और परसो भी आएगा. सब सच्चाई सामने आएगी बीजेपी पर कई आरोप लगाते हुए कमलनाथ ने कहा कि बीजेपी ने 22 विधायकों को बंधक बनाया और ये पूरा देश बोल रहा है. करोड़ों रुपये खर्च कर खेल खेला जा रहा है. एक महाराज और उनके 22 साथियों के साथ मिलकर साजिश रची. इसकी सच्चाई थोड़ी समय में सामने आएगी.

'जनता कभी BJP को माफ नहीं करेगी'
सीएम कमलनाथ ने कहा कि हमने तीन बार विधानसभा में अपनी बहुमत साबित की. बीजेपी की ओर से जनता के साथ विश्वासघात किया जा रहा है और लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की जा रही है, जनता इन्हें कभी माफ नहीं करेगी. कमलनाथ ने कहा कि बीजेपी ने मेरे कार्यकाल के दौरान हमारे कार्यों के खिलाफ साजिश की, पहले दिन से ये लोग हमारी सरकार गिराना चाहते थे.

कमलनाथ ने गिनाई अपनी उपलब्धियां
इस्तीफे के ऐलान से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनवाया और कहा कि हमने आम लोगों के लिए काम किया, लेकिन ये भाजपा को रास नहीं आया. हमारी सरकार पर किसी तरह का आरोप नहीं लगा. बीजेपी ने किसानों के साथ धोखा कियास लेकिन हमें उनके लिए काम नहीं करने दिया.

क्या है पूरा मामला
इससे पहले कांग्रेस के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था, जिसमें से 6 विधायकों का इस्तीफा स्पीकर ने स्वीकार कर लिया था और 16 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया था. बीजेपी ने सरकार से सदन में बहुमत साबित करने की मांग की थी, लेकिन मांग को दरकिनार करते हुए स्पीकर ने 26 मार्च तक सदन को स्थगित किया गया था.

इसके बाद बीजेपी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी और तुरंत फ्लोर टेस्ट की मांग की गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को स्पीकर को फटकार लगाई थी और 16 बागी विधायकों के इस्तीफे ना स्वीकारने का कारण पूछा और आज शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया था. इसके बाद स्पीकार ने सभी 16 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया. विधायकों का इस्तीफा स्वीकार होने के बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई. अब कमलनाथ सरकार के पास सिर्फ 99 विधायक हैं, जबकि बहुमत के लिए 104 का आंकड़ा चाहिए. फ्लोर टेस्ट से पहले कमलनाथ ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया है. यानी मध्य प्रदेश से कांग्रेस सरकार की विदाई हो गई है.

मौसम अलर्ट: राजधानी रायपुर समेत इन इलाकों में बारिश होने की संभावना

रायपुर:-छत्तीसगढ़ में मौसम फिर करवट लेने वाला है. राजधानी समेत बुधवार को कई इलाकों में गरज-चमक के साथ छीटे पड़ने की संभावना है. उत्तरी छत्तीसगढ़ में 20 और 21 मार्च को ओले भी गिर सकते है. मौसम विभाग को तामपान में विशेष परिवर्तन होने की उम्मीद नहीं है. देश भर में तेजी से फैल रहे कोरोना के संक्रमण के समय बारिश होने से खतरा और बढ़ सकता हैं।

तालाब में डूबने से 8 वर्षीय मासूम की  मौत

अजीत मिश्रा # बिलासपुर छत्तीसगढ़ तालाब में डूबने से 8 वर्षीय मासूम की  मौत हो गई।।घटना की जानकारी लगते ही रतनपुर पुलिस मौके पर पहुँच कर मामले की जांच शुरू कर बालक के पता साजी में जुट गई थी।।जानकारी के अनुसार बिलासपुर के  कोटा विधानसभा रतनपुर थाना अंतर्गत ग्रामीण अंचल रानीगांव के  8 वर्षीय मासूम शिवा यादव पिता सरवन यादव गोड़  रानीगांव का निवासी है। वह सोमवार के शाम को घर के पास ही  फुटहा तालाब की ओर गया था । जब वह काफी देर बाद भी घर नहीं लौटा तो परिजनों को चिंता हुई । वह आस-पास उसकी खोजबीन करने लगे । तो वह नहीं मिला । जब यह तालाब के पास पहुंचे । तो उसका कपड़ा वहां पर पड़ा हुआ मिला । तब उन्हें संदेह हुआ की उनके पुत्र की तालाब में डूबने से शायद मौत हो गई हो । बच्चे को खोजने के लिए गोताखोरों की मदद लिया गया । पर कुछ नहीं पता चला । तब उन्होंने इस मामले की सूचना रतनपुर पुलिस को दिया । रात हो जाने की वजह से रतनपुर पुलिस और गोताखोर बच्चे को ढूंढ नहीं पाए । सुबह जब परिजन मछुआरों की मदद लिया तो वह जाली में फंस कर बाहर निकला । जिसकी सूचना रतनपुर पुलिस को दिया गया । तब वह घटनास्थल पर पहुंची । जहां पर परिजनों से पूछताछ कर पंचनामा बयान लेने के उपरांत शव को पोस्टमार्टम के लिए रतनपुर मरचुरी भेज दिया । जहां पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर के द्वारा पीएम के पश्चात परिजनों को रतनपुर पुलिस ने अंतिम संस्कार के लिए शव को सौंप दिया है । वहीं फिलहाल वह इस मामले में मर्ग कायम कर जांच में जुटी है ।