छत्तीसगढ़

भाटापारा निवेश क्षेत्र में अवैध विकास कार्य हटाए गए क्षेत्र के अंवरेठीपारा एवं हथनीपारा में हुआ था अवैध विकास सहायक संचालक बी.एल.बांधे की कार्यवाही ।

भाटापारा ग्राम निवेश विभाग द्वारा स्थानीय प्रशासन के सहयोग से भाटापारा निवेश क्षेत्र के ग्राम अंवरेठी एवं हथनी में अवैध विकास कार्य हटाए गए। दोनों निवेश क्षेत्र के पांच अवैध विकास कर्ताओं द्वारा लगभग 8 एकड़ क्षेत्र में विकसित अवैध संरचनाओं पर तोड़फोड़ की कार्रवाई की गई। आवास एवं पर्यावरण विभाग एवं कलेक्टर बलौदाबाजार-भाटापारा के निर्देशानुसार यह कार्रवाई की गई। नगर एवं ग्राम निवेश विभाग के सहायक संचालक बी.एल.बांधे ने आज यहां बताया कि अवैध विकासकर्ताओं ग्राम अवरेठी से श्याम सुंदर आर्य पिता स्व. गोविन्द राम आर्य, नरेन्द्र कुमार भोजवानी पिता ईश्वर दास भोजवानी, अमन शर्मा पिता गौरीशंकर शर्मा एवं शालीन भट्टर पिता किशन भट्टर तथा ग्राम हथनी से संदीप भट्टर पिता नंदकिशोर भट्टर कुल रकबा 2.96 हे. पर बने अवैध विकास को हटाने की कार्यवाही की गई। उक्त कार्य में राजस्व विभाग से तहसीलदार ज्योति मसीयारे, नगर पालिका से उप अभियंता तथा नगर तथा ग्राम निवेश से सहायक संचालक बी. एल. बांधे के अतिरिक्त तीनों विभाग के कर्मचारी एवं पुलिस बल उपस्थित रहे। अवैध विकास के विरूद्ध आगे भी कार्यवाही निरंतर जारी रहेगी। अवैध विकासकर्ता यदि कालोनी का नियमितिकरण अथवा मार्ग संरचना अनुमोदन कराना चाहते है, तो आगामी कार्यवाही के पूर्व आवेदन संबंधित क्षेत्रांतर्गत मुख्य नगर पालिका अधिकारी अथवा अनुविभागीय राजस्व अधिकारी के पास जमा कर सकते है।

हेलीकॉप्टर किराए पर लेगी छत्तीसगढ़ सरकार, विमानन विभाग ने किया निविदा जारी.

रायपुर:-छत्तीसगढ़ सरकार के विमानन विभाग ने हेलीकॉप्टर किराए पर लेने के लिए निविदा जारी किया है। वर्तमान में जो हेलीकॉप्टर किराए पर है। उसका अनुबंध जल्द ख़त्म होने वाला है। ऐसे में विमानन विभाग ने दो इंजन वाली 7 सीटर हेलीकॉप्टर के लिए निविदा जारी कर हेलीकॉप्टर किराए से उपलब्ध कराने वाली कंपनी से प्रस्ताव मंगाया है। किराए की इस हेलीकॉप्टर का उपयोग वीआईपी उड़ानों और राज्य पुलिस की उपयोगिता में इस्तेमाल किया जाता है। चार सालों के लिए राज्य सरकार से निजी कंपनी से अनुबंध होता है। बताया जा रहा है हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने वाली कंपनी के साथ हर माह कम से कम 35 घंटे उड़ान का अनुबंध किया जा सकता है। अभी वर्तमान में राज्य पुलिस के उपयोग के लिए किराए का एक हेलीकॉप्टर है। इसके अलावा वर्तमान में राज्य सरकार के पास एक शासकीय हेलीकॉप्टर व एक राजकीय विमान उपलब्ध है। बताते चले कि शासकीय हेलीकॉप्टर का उपयोग वीआईपी उड़ान के लिए किया जा रहा। जबकि नक्सल मोर्चे पर एयरफोर्स के हेलीकॉप्टरों की भी मदद ली जा रही है।

हर दिन रेप की 3 वारदातें, बिहार को भी पीछे छोड़ा, आदिवासी भी सुरक्षित नहीं; डॉ. रमन ने कहा- जंगलराज बना दिया

छत्तीसगढ़ रायपुर में अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की ओर से जारी साल 2020 के आंकड़ों पर गौर करें तो दुष्कर्म के मामलों में बिहार से आगे छत्तीसगढ़ निकल चुका है। प्रदेश में 2019 में दुष्कर्म के 1036 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 2020 में 1210 मामले दर्ज हुए हैं, इन दो सालों में बिहार में 730 और 806 मामले दर्ज हुए। छत्तीसगढ़ में साल 2020 में हर दिन तकरीबन 3 दुष्कर्म की वारदातें हो रही हैं। आदिवासियों के खिलाफ बढ़ा अपराध NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के प्रति अपराध भी बढ़ा है। साल 2018 में 388, साल 2019 में 427, साल 2020 में 502 मामले ऐसे दर्ज किए गए हैं जो आदिवासियों के खिलाफ घटनाओं से संबंधित है। साल 2018 के मुकाबले साल 2020 में अनुसूचित जाति के खिलाफ भी आपराधिक घटनाएं बढ़ी हैं। इन घटनाओं से संबंधित साल 2018 में 264, साल 2019 में 341, साल 2020 में 316 केस दर्ज किए गए हैं। साल 2020 में नक्सलियों ने की 62 लोगों की हत्या अपराध का प्रकारसंख्या हत्या 972 हत्या का प्रयास 720 महिलाओं पर हमले 1187 सेक्सुअल हैरेसमेंट 171 अपहरण 2008 चोरी 6040 डकैती 85 धोखाधड़ी 420 दहेज प्रताड़ना 641 नक्सलियों ने की हत्या 62 नक्सलियों ने किए हत्या के प्रयास 139 छत्तीसगढ़ में बढ़ते आपराधिक मामले NCRB 2020 के रिकॉर्ड के मुताबिक प्रदेश में अलग-अलग धाराओं में दर्ज अपराध में भी इजाफा हुआ है। छत्तीसगढ़ में दर्ज सभी तरह के आपराधिक मामलों पर गौर करें तो साल 2018 में 98233, साल 2019 में 96561, साल 2020 में 103173 केस दर्ज किए गए हैं। साल 2020 का आंकड़ा बढ़े हुए अपराध की संख्या को साफ बता रहा है। डॉ. रमन बोले- देखिए कैसे जंगलराज बना दिया पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस मामले में ट्वीट किया है कि- राहुल गांधी जी कांग्रेस की पूरी बारात आपको प्रदेश का विकास देखने का न्योता देने गई थी। देखिए! कैसे छत्तीसगढ़ को जंगलराज बना दिया है। हत्या, डकैती और बेटियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। अपराधियों को संरक्षण मिला हुआ है। यही विकास हुआ है बस।

भ्रष्टाचार के आरोपी को अग्रिम जमानत नहीं:

बिलासपुर - टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के कर्मचारी पर आय से अधिक संपत्ति का मामला फिर खुला, ACB ने बंद कर दी थी फाइल। आय से अधिक संपत्ति के मामले में फंसे नगर व ग्राम निवेश विभाग में पदस्थ श्यामलाल पटेल की अग्रिम जमानत याचिका अदालत ने खारिज कर दी है। बिलासपुर जिले की स्पेशल कोर्ट ने नगर और ग्राम निवेश विभाग में तैनात अनुरेखक के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। विशेष कोर्ट का कहना है कि जांच में आवेदक के पास आय के हिसाब से अधिक संपत्ति है, इस आधार पर अग्रिम जमानत आवेदन खारिज किया जाता है। खास बात यह है कि आय से अधिक संपत्ति में ACB ने जांच के एक साल बाद फाइल बंद कर दी थी, लेकिन सबूतों के साथ मिली एक शिकायत के बाद केस को फिर खोल दिया। एंटी करप्शन ब्यूरो ने 3 जून 2018 को आय से अधिक संपत्ति के मामले में 13 अधिकारियों के खिलाफ FIR दर्ज की थी। इसमें सबसे अधिक 7 अधिकारी-कर्मचारी बिलासपुर के थे। इनमें नगर तथा ग्राम निवेश विभाग बिलासपुर में पदस्थ अनुरेखक श्यामलाल पटेल भी शामिल था। पटेल पर आरोप था कि वह नक्शा पास करने के एवज में बिल्डरों से लाखों रुपए की वसूली करता था। भ्रष्टाचार के जरिए कमाई गई रकम से उसने खुद के साथ ही पत्नी, बेटे, साले और ससूर के नाम पर कई जगह अचल संपत्ति खरीदी है। ACB ने मामले की जांच पूरी होने के बाद केस खत्म कर दिया था। एक साल पहले सबूतों के साथ फिर हुई शिकायत बिलासपुर में ही रहने वाले एक शख्स ने पिछले साल बाकायदा सबूतों के साथ ACB को फिर से शिकायत कर बताया कि बेटे अतुल पटेल के नाम पर ग्राम भैंसबोड़ और पत्नी रामकली पटेल के नाम पर दर्ज सकरी की दो जमीनों की जानकारी ACB को नहीं दी गई। तीनों जमीन की कीमत करोड़ों में है। शिकायत के साथ पेश किए गए जमीनों के दस्तावेजों की प्रारंभिक जांच के बाद ACB ने मामले को फिर से जांच शुरू की थी और प्रकरण दर्ज किया। पॉश कॉलोनी में 3 मंजिला मकान दस्तावेजों के आधार पर ACB से शिकायत करते हुए आरोप लगाया गया है कि पटेल के नाम पर नर्मदा नगर में करीब 7 हजार स्क्वॉयर फीट जमीन में तीन मंजिला मकान है। इसकी कीमत करीब 1 करोड़ 40 लाख रुपए बताई गई है। इसके साथ ही सकरी, उसलापुर, ग्राम भैंसबोड़, लावर मस्तूरी, बेलमुंडी तखतपुर में अचल संपत्ति है। इसके साथ SBI, ICICI के साथ-साथ जिला सहकारी बैंक के बिलासपुर और डभरा ब्रांच में खाते हैं, यहां भी रकम जमा है।

पकड़ा गया वर्दी वाला तस्कर:रायपुर में पेंगोलिन खाल का सौदा करते CISF का सब इंस्पेक्टर गिरफ्तार ।

रायपुर -जानवरों के अंगों की तस्करी में वर्दी वाले भी शामिल है। वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो, जबलपुर की टीम ने रायपुर से केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के एक सब इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया है। वह पेंगोलिन के शल्क (खाल) का सौदा करने की कोशिश में था। अधिकारियों ने बताया, रायपुर के स्वामी विवेकानंद हवाई अड्‌डे पर तैनात CISF का सब इंस्पेक्टर जितेन्द्र पोरचे पशुओं की खाल की सौदेबाजी में लिप्त था। मुखबीर से सूचना मिलने के बाद जबलपुर की वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो टीम उसके पीछे लगी थी। इस टीम ने ग्राहक बनकर संपर्क किया। उसके साथ सौदा पटाया। वह माल लेने के लिए आज रायपुर के जय स्तंभ चौक पहुंचा तो घेराबंदी किए अफसरों ने उसे दबोच लिया। वहां से उसे वन विभाग के एक कार्यालय ले जाया गया। रायपुर में जंगली जानवरों के अंगों की तस्करी का यह बड़ा मामला है। छिंदवाड़ा से मंगाई थी खाल अफसरों ने बताया, पकड़ा गया एसआई जितेन्द्र पोरचे मूल रूप से मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा का है। उसने छिंदवाड़ा से ही यह खाल मंगाई थी। यहां से वह बड़ी रकम में सौदा पटाने की कोशिश में था। इस बीच इसकी सूचना वन विभाग के सूचना तंत्र तक पहुंच गई और एसआई को रंगे हाथ पकड़ लिया गया। क्या है यह पेंगोलीन जिसकी हो रही है तस्करी पेंगोलीन एक स्तनधारी प्राणी है। इसके शरीर पर केराटिन के बने शल्क होते हैं। इस कवच से यह अन्य प्राणियों से अपनी रक्षा करता है। पेंगोलिन ऐसे शल्कों वाला अकेला ज्ञात स्तनधारी है। यह अफ्रीका और एशिया में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। पारपंरिक चीनी दवाओं और व्यंजनों में इसका इस्तेमाल होता है। इसकी वजह से इसकी तस्करी होती है। इतनी तस्करी की कई इलाकों से इस जानवर का अस्तित्व ही खत्म हो चुका है।

छत्तीसगढ़ स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी में 1500 के पदों पर निकली है भर्ती, 10वीं पास करें आवेदन

रायपुर:-छत्तीसगढ़ स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी ने 1500 परिचारक के पदों पर भर्ती निकली है.. 10वीं पास 20 सितम्बर तक आवेदन कर सकते हैं। शैक्षिक योग्यता दसवीं पास कृपया सटीक जानकारी के लिए इस नौकरी के लिए प्रकाशित नोटिफिकेशन। पदों का नाम (Name of Posts) पदों की संख्या – 1500 पद परिचारक (Attendant) Dates For CSPHCL Job नौकरी प्रकाशित होने की तिथि: 23-08-2021 आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि: 20-09-2021 आयु सीमा अभ्यर्थी की आयु 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। सिलेक्शन इस Govt Job में दस्तावेज़ सत्यापन। सैलरी कितनी मिलेगी वेतनमान 14,800 – 33,000/- INR रहेगा आवेदन कैसे करें इच्छुक उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन फीस Gen/OBC: 300/- & ST/SC: 200/ ऑफिशियल नोटिफिकेशन यहाँ देखें

Spreadhttps://cspdcl.co.in/laREC21/(S(kslu1cwymyf4op5g5ynzfmtm))/frmViewRecruitmentNew.aspx

उप तहसील हसौद को पूर्ण तहसील दर्जा के लिए उग्र धरना प्रदर्शन,हजारों की सँख्या में किसान एकत्र होने की संभावना, बसपा विधायक केशव चन्द्रा की अगुवाई में होगा कल प्रदर्शन

जैजैपुर:-जैजैपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम हसौद उप तहसील को पूर्ण तहसील के दर्जा देने की मांग को लेकर जैजैपुर विधायक केशव चन्द्रा ने आज 16 सितंबर को एक दिवसीय धरना प्रदर्शन ग्राम हसौद के धान मंडी के पास पर करेंगे 25 जनवरी 2002 को हसौद उप तहसील का निर्माण किया गया था 19 साल बाद भी पूर्ण तहसील का दर्जा नही मिल पाया है हालांकि उप तहसील संचालन होते आ रहा है लेकिन न ही किसी नायब तहसीलदार न ही लिपिक और न ही किसी चपरासी का पद स्वीकृत है यहां नायब तहसीलदार बैठकर संचालन किया जा रहा है लेकिन समय पर किसानों की कार्य नही हो पा रहा है पेशी पर पेशी देने या का आरोप लगाया गया है जिससे क्षेत्र के जनता बहुत ही आक्रोश है क्योकि 19 साल बाद भी पूर्ण तहसील की दर्जा नही देना भी समझ से बाहर है जबकि अभी कुछ दिनों पहले कई अन्य उप तहसील को पूर्ण तहसील की दर्जा मिल गया लेकिन हसौद को क्यो अनदेखा किया जा रहा है इसी कारण शायद जैजैपुर विधायक ने हसौद को पूर्ण तहसील की दर्जा देने के लिए हजारों की संख्या में किसान एकत्रित होने की संभावना जताया जा रहा है विधायक केशव चन्द्रा ने किसानों से अपील किये है कि इस धरना प्रदर्शन किसानों की हित मे है जिसमे अधिक से अधिक संख्या में आकर धरना प्रदर्शन को सफल बनाने का अपील किये है

छत्तीसगढ़ में आफत की बारिश:

छत्तीसगढ़ के कई जिलों में लगातार हो रही बारिश अब आफत बनती जा रही है। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में 36 घंटे से बारिश का दौर जारी है। भारी बारिश से नदी-नाले उफान पर हैं। कई पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है। पेंड्रा से बिलासपुर, मरवाही, कोटमी, कोरबा, बस्तीबगरा से संपर्क टूट गया है। बिलासपुर रोड पर वाहनों की लंबी लाइन लगी है। लरकेनी क्षेत्र में एक व्यक्ति बह गया। उसकी तलाश की जा रही है। वहीं, जांजगीर-चांपा में भी शबरी पुल तक महानदी का पानी पहुंच गया है। यह पुल जिले को बलौदाबाजार से जोड़ता है।शिवरीनारायण में ऊपरी हिस्सों में हो रही लगातार बारिश से महानदी उफान पर है। नदी का पानी जांजगीर- चांपा और बलौदाबाजार जिले को जोड़ने वाले शबरी पुल से निचले हिस्से को छूने लगा है। महानदी का जलस्तर 12 घंटे में 5 फीट बढ़ा, दो दिन से बढ़ोतरी जारी शिवरीनारायण में ऊपरी हिस्सों में हो रही लगातार बारिश से महानदी उफान पर है। सोमवार शाम से जलस्तर बढ़ना शुरू हुआ जो अब तक जारी है। मंगलवार शाम तक 24 घंटे में महानदी का जलस्तर करीब 5 फीट तक बढ़ा था, वहीं बुधवार सुबह 5 बजे तक 12 घंटे में ही 5 फीट इजाफा हो गया। नदी का पानी जांजगीर-चांपा और बलौदाबाजार जिले को जोड़ने वाले शबरी पुल से निचले हिस्से को छूने लगा है। शिवरीनारायण में शिवनाथ, जोक और महानदी तीन नदियों का संगम है। पेंड्रा से मनेन्द्रगढ़ और कोरबा को जाने वाले मार्ग पर पेड़ व बिजली का तार गिरने से आवाजाही बाधित है। बम्हनी नदी उफान पर होने से मुख्यमार्ग पानी में डूब गया है। इसके चलते दो दर्जन गांवों से संपर्क टूट चुका है। शबरी पुल के पास बैरिगेट्स लगाकर और रस्सी बांध रोका गया रास्ता CMO हितेन्द्र यादव ने बताया अभी तक किसी भी बांध से पानी नही छोड़ा गया है। बारिश के पानी से ही नदी का जलस्तर बढ़ रहा है। राजस्व, नगर पंचायत और पुलिस की टीम शबरी पुल के पास डटी हुई है। पुल के पास बेरिगेट्स, रस्सी व गोताखोरों की व्यवस्था की गई है। नगर के सभी वार्डों सहित खासकर नदी किनारे हिस्सों में मुनादी कराकर लोगों से बच्चों को संभालकर रखने, अपने जानवरों को बांध कर रखने व निचले हिस्से के लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने की अपील की जा रही है। GPM जिले में भारी बारिश से 3 कच्चे मकान गिर गए हैं, जबकि कई घरों को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है। वहीं घरों में पानी भर गया है। GPM जिले में बारिश से 3 मकान गिरे, कई क्षतिग्रस्त GPM जिले में भारी बारिश से 3 कच्चे मकान गिर गए हैं, जबकि कई घरों को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है। पेंड्रा से बचरवार जाने वाले मार्ग का हिस्सा भी बह गया है। पेंड्रा नदी अपने रौद्र रूप में है। गौरेला और मध्यप्रदेश को जोड़ने वाली शार्टकट सड़क पूरी बह गइ है। गौरेला विकासखंड से भी कोरजा सहित दर्जनभर गांवों का संपर्क टूट चुका है। सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को उठाना पड़ा है। सूखे की मार झेल रहे किसानों की धान और मक्के की फसल अब बारिश ने बर्बाद कर दी है। मंगलवार रात को हुई बारिश ने स्थिति को बिगाड़ दिया। सोन नदी पर सचराटोला और चिचगोहना गांवों में बनाया गया मरवाही मार्ग पुल डूब चुका है, इससे यातायात प्रभावित हुआ है। जावस और अरपा नदी के उफान के चलते पेंड्रा से बिलासपुर, केंदा से बेलगहना, केंदा से लाफा जाने वाले मार्ग पर आवागमन बंद है। पुल से 6 फुट ऊपर पानी बह रहा है। केंदा के पास एक छोटी पुलिया बह गई है। बिलासपुर रोड पर सैकड़ों वाहन फंसे हुए हैं। बिजली के तार गिरने से 100 से ज्यादा गांवों में आपूर्ति बाधित हो गई। मंगलवार रात को हुई बारिश ने स्थिति को बिगाड़ दिया। जिले की सभी नदियां उफान पर हैं। सोन नदी पर सचराटोला और चिचगोहना गांवों में बनाया गया मरवाही मार्ग पुल डूब चुका है। इस पर आवागमन बंद है। वहीं, बम्हनी नदी के बढ़ने से पेंड्रा से बस्तीबगरा जाने वाला मार्ग पानी में डूबा हुआ है। सभी नदियां उफान पर होने से हर रास्ते हुए जलमग्न जिले की सोनभद्र नदी अपने विकराल रूप में है। चिचगोहना गांव में बना विशाल पुल जलमग्न हो चुका है। अरपा नदी का पानी बढ़ने से खोडरी और खोंगसरा के कई स्थानों पर सड़कें डूबी हुई हैं। यहां आवाजाही पूरी तरह से बाधित है। बारिश के कारण करीब 100 से अधिक गांवों में बिजली भी गुल है। राहत की बात यह है कि अब तक कहीं से भी जनहानि की सूचना नहीं मिली है। प्रशासन की ओर से लोगों की सुरक्षा-व्यवस्था का प्रयास किया जा रहा है। सभी डैम 100% भरे, 3 के गेट खोले गए जिले में बने 10 जलाशय 100% से ज्यादा पानी से लबालब भर चुके हैं। इनमें से 3 का गेट खोल दिया गया है। इसमें मल्हनिया, खुदरी और सोनाकछार डैम शामिल है। खुदरी डैम को तो सुरक्षा को देखते हुए खोलने का निर्णय लिया गया है। मौसम विभाग की ओर से 24 घंटे के दौरान अभी और बारिश की चेतावनी जारी की गई है। इसके बाद कलेक्टर नम्रता गांधी ने लोगों को उफनते नदी- नालों को पार नहीं करने की अपील की है।

सिकासेर बांध के 22 में से 17 गेट खोले, 7 जिलों में अलर्ट हुवा जारी,

रायपुर:-कई इलाकों में लगातार हो रही भारी बारिश अब आफत बनने लग गई है. गत तीन दिन से राज्य के विभिन्न इलाकों में बादल जमकर बरस रहे हैं. इससे नदी नाले उफान पर आ गये हैं. कई शहरों और गांवों में पानी घुस गया है. भारी बारिश के चलते आवागमन बाधित (Traffic Jam) होने लग गया है. रायपुर-जगदलपुर हाईवे को बंद कर दिया गया है. सिकासेर बांध के 22 में से 17 गेट खोल दिये गए हैं. मौसम विभाग ने आज भी कई जिलों में भारी बारिश का अनुमान जताया है. राज्य के सात जिलों के लिये तो रेड अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक छत्तीसगढ़ के मुंगेली, कबीरधाम, दुर्ग, बेमेतरा, राजनांदगांव, बालोद तथा कांकेर जिलों और उनके आसपास के इलाकों में अति भारी बरसात होने की संभावना है. यहां आकाशीय बिजली गिरने के भी आसार जताये गये हैं. जबकि जशपुर, बलरामपुर, बस्तर, दंतेवाड़ा, कोरिया, सूरजपुर, सरगुजा, सुकमा और बीजापुर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बरसात की संभावना जताई जा रही है. इनमें से कई इलाकों में अभी से बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं. वहीं राजधानी रायगढ़ समेत बिलासपुर, बलौदा बाजार, जांजगीर-चांपा, कोरबा, गरियाबंद, नारायणपुर, धमतरी, महासमुंद और कोण्डागांव जिलों में भी अच्छी बारिश की संभावना जताई गई है।

कैचमेंट एरिया में हो रही लगातार बारिश से बांधों की स्थिति में आया सुधार में जलाशयों में 55.60 प्रतिशत औसतन जलभराव

धमतरी:-पिछले कुछ दिनों से हो रही अच्छी बारिश के चलते जिले के चारों जलाशयों में जलभराव की स्थिति में काफी सुधार आया है। वहीं जलाशयों के कैचमेंट एरिया में भी लगातार बारिश होने के बांधों में पानी की आवक मजबूत हुई है। जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के बांधों में आज की स्थिति में 55.60 प्रतिशत औसतन जलभराव है। इनमें रविशंकर जलाशय गंगरेल बांध में 56.20 प्रतिशत, बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव मुरूमसिल्ली जलाशय में 73 प्रतिशत, दुधावा में 39 प्रतिशत तथा सोंढूर जलाशय में 54.15 प्रतिशत जलभराव है। इस संबंध में बताया गया है कि आज दोपहर 12 बजे की स्थिति में गंगरेल जलाशय में 23127 क्यूसेक पानी, मुरूमसिल्ली में 5833, दुधावा में 3442 तथा सोंढूर जलाशय में 2458 क्यूसेक (घनमीटर प्रति सेकण्ड) पानी की आवक बनी हुई है। इस तरह रविशंकर जलाशय में 20.289 टीएमसी, मुरूमसिल्ली में 4.292 टीएमसी, दुधावा में 4.060 और सोंढूर जलाशय में 4.087 टीएमसी पानी की उपलब्धता है। कार्यपालन अभियंता जल संसाधन विभाग श्री ए.के. पालड़िया ने बताया कि कैचमेंट एरिया में लगातार हो रही बारिश से इन जलाशयों में तेजी से जलभराव हो रहा है तथा पानी की आवक के आंकड़ों में वृद्धि हो रही है।

छत्तीसगढ़: कोर्ट रूम के बाहर आकर जज ने पार्किंग में सुनाया फैसला।

दिसंबर 2018 में रायगढ़ शहर के मानिकपुर इलाके में एक ट्रेलर से कंवर की कार टकरा गई थी। इसमें उन्हें गंभीर चोटें आईं थीं। इसके बाद उन्हें लकवा भी मार गया था। इस वजह से वह बिस्तर पर रहने को मजबूर हो गए। विस्तार छत्तीसगढ़ की एक अदालत में एक मानवीय घटना देखने को मिली। यहां के कोरबा में एक जिला अदालत के न्यायाधीश ने कोर्ट रूम की चार दीवारों से बाहर आकर एक 42 वर्षीय व्यक्ति को 20 लाख रुपये का मुआवजा दिया। दरअसल, व्यक्ति को 2018 में एक सड़क दुर्घटना में गंभीर चोटें आईं थीं। इसके बाद उसे लकवा भी मार गया था। दुर्घटना की शिकार द्वारिका प्रसाद कंवर अपनी सेहत की वजह से कोर्ट रूम में नहीं जा पा रहे थे। सरकारी जनसंपर्क अधिकारी ने रविवार को बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष और जिला एवं सत्र न्यायलय के जज बीपी वर्मा शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत के दौरान कंवर के मुआवजे के केस की सुनवाई कर रहे थे। जब उन्हें कंवर के स्वास्थ्य के बारे में पता चला, तो जज कोर्ट रूम से बाहर आए और कोर्ट परिसर के पार्किंग एरिया तक गए, जहां पीड़ित अपने वाहन में इंतजार कर रहा था। अधिकारी ने बताया कि कंवर के वकील पीएस राजपूत और प्रतिवादी बीमा कंपनी के वकील रामनारायण राठौर भी जज के साथ पार्किंग तक गए। इसके बाद जज ने वहीं पर फैसला सुनाया। न्यायाधीश ने बीमा कंपनी को पीड़िता को 20 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया। बता दें कि दिसंबर 2018 में रायगढ़ शहर के मानिकपुर इलाके में एक ट्रेलर से उनकी कार के टकरा जाने से कंवर को कई चोटें आई थीं। दुर्घटना में उन्हें रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर सहित कई गंभीर चोटें आई थीं। इसके बाद उन्हें लकवा भी मार गया था। इस वजह से वह बिस्तर पर रहने को मजबूर हो गए और अपने आप चलने-फिरने में असमर्थ हो गए। कंवर ने यह कहते हुए बीमा कंपनी से मुआवजे की मांग की कि उनके परिवार को उनके दुर्घटना के कारण आर्थिक रूप से नुकसान उठाना पड़ा। फैसले के बाद पीड़ित ने मामले के निस्तारण पर आभार व्यक्त किया। बता दें कि यह मामला पिछले तीन साल से लंबित था।

शिवरीनारायण क्षेत्र में लगातार 4 दिनों से झमाझम बारिश से जनजीवन अस्त-ब्यस्त

BBN24●Ashish Kashyap शिवरीनारायण:-शिवरीनारायण क्षेत्र में लगातार चौथे दिन भी बारिश हो रही हैं जिससे लोगों का जन जीवन अस्त-ब्यस्त हो गया है, शिवरीनारायण महानदी त्रिवेणी संगम में सुबह से गंदे पानी के साथ गन्दे झाग बह रही हैं। वही महानदी के पानी बढ़ने से नदी के टापू डूबने के कगार पर हैं। शबरी सेतु पुल से नीचे पानी चल रहा हैं। कुछ दिन पहले पानी को लेकर किसान चिंतित थे और पानी नही गिरने से खेत सुख गये थे और धान की फसल सूखने के कगार पर थे। अब खंड वर्षा होने से शिवरीनारायण क्षेत्र सहित आस पास के गावों के किसान की चिंता दूर हो गई हैं शिवरीनारायण क्षेत्र में रात एवं दिन में बिजली की चमक के साथ रुक रुक कर बारिश हो रही हैं।

सूरजपुर पुलिस ने 8 लाख कीमत के गुम हुए 50 मोबाईल बरामद कर उनके वारिसानों को किया सुपुर्द

सूरजपुर:-जिले में गुम हुए मोबाइलों को खोजने के लिए सूरजपुर पुलिस के द्वारा अभियान निरंतर चलाया जा रहा है। पुलिस अधीक्षक श्रीमती भावना गुप्ता के निर्देश पर सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में गुम मोबाईल की सूचना देने की सुविधा भी मौजूद है जिसके माध्यम से जिलेवासी आसानी से अपने गुम हुए मोबाईल के बारे में लिंक https://forms.gle/hYeR5TfNft3yqTet7 पर क्लीक कर गुम मोबाईल का ब्यौरा दर्ज करा रहे है। पुलिस के इस नई पहल के बाद बीते माह में 30 गुम मोबाईल रिकव्हर कर उनके वारिशानों को वापस किया गया था और इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए सोमवार 13 सितम्बर को पुलिस अधीक्षक ने 50 नग गुम मोबाईल जिन्हें सर्विलांस में लगाकर ट्रेस किया गया था उन्हें संबंधितों को सौंपा है। पुलिस अधीक्षक श्रीमती भावना गुप्ता ने बताया कि लोगों के गुम हुए मोबाइल की सूचना देने के लिए ऑनलाईन सुविधा सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में मौजूद है जिसके जरिए लोग अब आसानी से अपने गुम हुए मोबाईल की जानकारी हम तक पहुंचा पा रहे है। उन्होंने बताया कि गुम मोबाईल को रिकव्हर करने के लिए पुलिस की टीम गठित की गई है, गुम हुए मोबाईल खोजने का यह अभियान निरंतर जारी रहेगा। गुम मोबाईल वितरण कार्यक्रम में जिनके मोबाईल गुमे थे वे अपना मोबाईल लेने उपस्थित हुए थे उन्हें अपने गांव घर के आसपास रहने वाले लोगों को भी गुम मोबाईल खोजबीन के लिए सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में मौजूद सुविधा एवं उपरोक्त लिंक के बारे में बताने को कहा। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर, एएसपी मुख्यालय पीएस महिलाने, स्थापना प्रभारी अखिलेश सिंह सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। करीब 8 लाख रुपए की कीमत के 50 मोबाइल सुपुर्द किए। जिनमें आवेदक रामजी साहू, विनय कुमार मिश्रा, प्रहलाद अग्रवाल, अरविंद यादव, राजेश अग्रवाल, संजय सिंह ठाकुर, सुशांत कुमार, आकाश आदिल, सोनी प्रसाद कुशवाहा, राहुल साहू, शिवचंद साहू, हेमंत कुमार, टेकराम सिंह, राजू सिंह, अमर व अफरोज खान को उनके गुम हुए मोबाईल को दिया गया। इसके अलावा 34 अन्य लोग जो जिले के विभिन्न क्षेत्र के निवासी है उन्हें संबंधित थाना-चौकी के माध्यम से मोबाईल को सौंपा जाएगा। मोबाइल खोजने में साइबर सेल से आरक्षक युवराज यादव, रौशन सिंह, विनोद सारथी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

बारिश में भाजपाइयों ने सड़क पर खड़ा होकर अच्छे सड़क की मांग, जिला मुख्यालय के किरोड़ीमल चौक में किया प्रदर्शन

रायगढ़:-रायगढ़ जिले में हाईवे से लेकर शहर व गांव की सड़कें बद से बदतर की स्थिति में पहुंच चुकी है और यहां गड्ढो में सड़क हैं या सड़को में गडढे यह पता नही चल पा रहा है। आए दिन इन बदहाल सड़कों के चलते दुर्घटनाओं में भी इजाफा हुआ है और रोजाना एक मौत सड़क हादसे में हो रही है। बरसात के समय तेज गति से सड़क पर दौड़ते वाहनों के चलते भी सड़क लगभग गायब हो गई है और इसी को लेकर आज जिला भाजपा ने भूपेश बघेल के खिलाफ नारेबाजी करते हुए इन सड़कों को जल्द से जल्द बनाने तथा दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की। जिला मुख्यालय स्थित किरोड़ीमल चौक पर धरना प्रदर्शन करते हुए चक्काजाम भी किया। इस दौरान भारी बारिश भी भाजपा कार्यकर्ताओं को रोक नही पाई और तेज बारिश में भी भाजपा के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ साथ महिला पदाधिकारियों ने भी हिस्सा लेकर छत्तीसगढ़ सरकार को घेरा। रायगढ़ से लेकर जशपुर, रायगढ़ से लेकर खरसिया और रायगढ़ से लेकर सारंगढ़ की ओर जाने वाली सड़कों की बदहाल स्थिति को लेकर आज भाजपा ने अपने पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार जिला मुख्यालय के किरोड़ीमल चौक में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए सड़कों की स्थिति जल्द से जल्द सुधारने की मांग की। भाजपा के प्रदेश कार्य समिति के सदस्य गुरूपाल भल्ला, श्रीकांत सोमावार, आलोक सिंह, नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष पूनम सोलंकी, वरिष्ठ भाजपा नेत्री व नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष शीला तिवारी, अल्प संख्यक मोर्चा के अफरोज डायमंड, विकास केडिया, अंशु टूटेजा सहित सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। इस विरोध प्रदर्शन में सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी कि भारी बारिश के बीच भी भाजपा कार्यकर्ताओं का यह प्रदर्शन जारी रहा। भीगते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों की स्थिति को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित पीडब्ल्यूडी के खिलाफ भी नारेबाजी की और यह आरोप लगाया कि कांग्रेस शासन में हाईवे तथा शहर के बाहर व भीतर सड़कों की स्थिति गड्ढो के चलते यह है कि रोजाना दुर्घटनाओं से लोगों की जान जा रही है लेकिन सरकार इस मामले में कोई ध्यान नही दे रही है। घंटो तक चले इस प्रदर्शन में किरोड़ीमल चौक में कार्यकर्ताओं ने लगभग एक घंटे तक भारी से भरे सड़कों के गड्ढो में बैठकर चक्काजाम भी किया और प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर सड़कों की हालत सुधारने की मांग की। इस दौरान सिटी कोतवाली के थाना प्रभारी मनीष नागर व उनकी टीम भी मौजूद थी।

अगले 4 दिन तक भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट!

भोपाल/रायपुर: मौसम विभाग ने बस्तर और सरगुजा संभाग के 6 जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं पूरे प्रदेशभर के बाकी जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। शुक्रवार शाम से ही प्रदेशभर के अलग-अलग हिस्सों में लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है। ये स्थिति आने वाले 4 दिनों के लिए और बनी रहेगी। प्रदेश में गरज-चमक के साथ एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ़ के साथ मध्य छत्तीसगढ़ रहने की संभावना है। एक निम्न दाब का क्षेत्र पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे लगे उत्तर- पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर स्थित है। इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। वहीं, मध्यप्रदेश में मानसून इस बार काफी मेहरबान है। प्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश दर्ज की गई है। वहीं अगले 24 घंटों के लिए मौसम विभाग ने फिर अलर्ट जारी किया है। छतरपुर, उमरिया, कटनी, बालाघाट, सिवनी, डिंडौरी, शहडोल में भारी बारिश हो सकती है। वहीं जबलपुर, शहडोल, सागर, होशंगाबाद, भोपाल, ग्वालियर-चंबल संभाग में भी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में एक लो प्रेशर बना हुआ है, जिसकी वजह से 15 से 16 सितंबर तक प्रदेश में अच्छी बारिश की उम्मीद है।