देश

इंडियन फिल्म इंडस्ट्री ने लगाया मीका सिंह पर बैन जाने क्यों.......

दिल्ली :- मीका सिंह अपनी बेकार की हरकतों के लिए कई बार निशाने पर तो आ चुके हैं इस बार फिर से वह निशाने पर आ गए दरसल में जहां एक तरफ भारत और पाकिस्तान के बीच के रिश्ते अभी ठीक नहीं चल रहे हैं। पाकिस्तान भारत के खिलाफ नापाक मोर्चाबंदी कर रहा है ।वही चंद रुपयों के लिए मीका सिंह पाकिस्तान पर अपनी देने चले गए। अब ऑल इंडियन सिने वर्कर्स एसोसिएशन ने गायक मीका सिंह को उनकी इस हरकत के लिए इंडियन फिल्म इंडस्ट्री में प्रतिबंधित कर दिया है ।एआईसीडब्ल्यूए अध्यक्ष सुरेश श्यामलाल गुप्ता ने बताया कि 8 अगस्त को कराची में एक कार्यक्रम में परफॉर्म करने के चलते भारतीय फिल्म इंडस्ट्री से गायक मीका सिंह का बहिष्कार कर दिया गया है।

आज का दिन होगा बेहद खास लाल किले के साथ साथ पूरे देश में मनाया जाएगा आजादी का जश्न..... लाल किले पर होगा कैसा कार्यक्रम जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर BBN24NEWS पर

BBN24 NEWS DESK

नई दिल्ली:- 15 अगस्त का दिन भारत के लिये बेहद खास है. आज ही दिन साल 1947 में भारत आजाद हुआ था. हर साल पूरे देश के साथ-साथ राजधानी दिल्ली में खास अंदाज से मनाया जाता है. चलिये जानते हैं, कैसा रहेगा इस बार का स्वतंत्रता दिवस.

15 अगस्त, यानि आज पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा होगा. हर जगह 73वें स्वतंत्रता दिवस को धूमधाम से मनाया जाएगा. वैसे तो पूरे भारत में कार्यक्रम आयोजित करवाए जाएंगे, लेकिन मुख्य कार्यक्रम राजधानी दिल्ली में मनाया जाएगा. जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लालकिले की प्राचीर से राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे. ध्वजारोहण के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करेंगे.

आज के होने वाले कार्यक्रम की बिंदुवार जानकारी

लालकिले के लाहौरी गेट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगवानी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक और रक्षा सचिव संजय मित्रा करेंगे.

रक्षा सचिव प्रधानमंत्री का परिचय दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री से करवाएंगे.

लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री प्रधानमंत्री को सलामी मंच की ओर ले जाएंगे जहां अंतर सेना और पुलिस गार्ड के जवान उन्हें सलामी देंगे. इसके बाद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण करेंगे.

प्रधानमंत्री को सलामी देने वाले दस्ते में सेना के तीनों अंगों और दिल्ली पुलिस बल से एक-एक अधिकारी और 24-24 जवान शामिल होंगे.

सलामी देने वाला दस्ता प्राचीर के नीचे की खाई के पास राष्ट्रीय ध्वज के सामने मौजूद रहेगा.

इस साल, गार्ड ऑफ ऑनर का समन्वय भारतीय वायुसेना को सौंपा गया है.

वायुसेना के विंग कमांडर अनुज भारद्वाज इस गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करेंगे.

प्रधानमंत्री की गार्ड ऑफ ऑनर में शामिल थलसेना के दस्ते की कमान मेजर लैशराम टोनी सिंह संभालेंगे.

नौसेना दस्ते का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर प्रशांथ प्रभाकर करेंगे जबकि वायुसेना दस्ते की कमान स्कवाड्रन लीडर एसबी गौड़ा के हाथों में होगी.

दिल्ली पुलिस बल के दस्ते की कमान एडीशनल डीसीपी बिक्रम एचएम मीणा संभालेंगे.

प्रधानमंत्री की गार्ड ऑफ ऑनर में थल सेना का प्रतिनिधित्व गढ़वाल राइफल्स की द्वितीय बटालियन कर रही है.

गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण करने के बाद प्रधानमंत्री लालकिले की प्राचीर की ओर प्रस्थान करेंगे.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक, सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, वायुसेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बिरेन्द्र सिंह धनोआ और नौसेनाध्यक्ष एडमिरल कर्मबीर सिंह पीएम मोदी का अभिवादन करेंगे.

जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी), दिल्ली एरिया, ध्वजारोहण के लिए प्रधानमंत्री को लाल किले की प्राचीर की ओर ले जाएंगे.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे, और गार्ड ऑफ ऑनर के जवान राष्ट्रीय सलामी देंगे, तब वायु सेना बैंड के बैंडवादक राष्ट्र गान की धुन बजाएंगे.

तीनों सेनाओं के सभी उपस्थित अधिकारी एवं जवान सम्मान में खड़े होकर सलामी देंगे. बैंड के दस्ते की कमान जूनियर वारंट ऑफिसर पंकज बाबू के हाथों में होगी.

राष्ट्रीय ध्वज को फहराने में प्रधानमंत्री की सहायता फ्लाइंग ऑफ़िसर प्रीतम सांगवान करेंगी.

प्रधानमंत्री की एडीसी ड्यूटी के लिए दो वायुसेना अधिकारी फ्लाईट लेफ्टिनेंट ज्योति यादव और फ्लाईट लेफ्टिनेंट मानसी गेड़ा सलामी मंच के दोनों ओर तैनात रहेंगी.

ध्वजारोहण की गौरवशाली परंपरा के साथ ही सर्वोत्कृष्ट 2233 फील्ड बैटरी (सेरेमोनियल) के बहादुर गनर ताल से ताल मिलाते हुए 21 तोपों की सलामी देंगे.

इस बैटरी की कमान लेफ्टिनेंट कर्नल सी संदीप संभाल रहे हैं जबकि गन पोजिशन ऑफिसर रेजिमेंट हवलदार मेजर कोलेट राजेश श्रीपति हैं.

प्रधानमंत्री द्वारा ध्वजारोहण के समय राष्ट्रीय सलामी देने वाली राष्ट्रीय ध्वज गार्ड में थल सेना, नौसेना, वायु सेना और दिल्ली पुलिस बल से एक-एक अधिकारी और 32-32 जवान शामिल होंगे.

वायुसेना के विंग कमांडर कुणाल खन्ना इस अंतर सेना दस्ते और दिल्ली पुलिस गार्ड का नेतृत्व करेंगे.

ध्वजारोहण गार्ड के नौसेना दस्ते की कमान लेफ्टिनेंट कमांडर सतविंदर सिंह के हाथों में होगी.

थलसेना दस्ते की कमान मेजर सूर्य प्रकाश संभालेंगे जबकि वायु सेना दस्ते की कमान स्कवाड्रन लीडर रविंद्रा संभालेंगे.

दिल्ली पुलिस के दस्ते का नेतृत्व एडिशनल डीसीपी रोहित राजवीर सिंह करेंगे.

राष्ट्रीय ध्वजारोहण गार्ड में शामिल भारतीय थलसेना का प्रतिनिधित्व प्रथम गोरखा राइफल्स की पांचवी बटालियन कर रही है.

ध्वजारोहण के बाद प्रधानमंत्री राष्ट्र को संबोंधित करेंगे. इसके बाद स्कूल के छात्र और एनसीसी कैडेट्स राष्ट्र गान गाएंगे.

17 स्कूलों के बच्चे इस वर्ष यानि 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शिक्षा निदेशालय, दिल्ली सरकार के अंतर्गत थल सेना, नौसेना और वायुसेना की शाखा के 17 विद्यालयों से 700 एनसीसी कैडेट्स ध्वजारोहण समारोह में हिस्सा ले रहे हैं. ये कैडेट्स समारोह के दौरान स्कूल के छात्रों के साथ देश भक्ति के गीत और राष्ट्रगान गाएंगे.

लालकिले के सामने नया भारत शिक्षा निदेशालय, दिल्ली सरकार के 41 विद्यालयों की 3,500 छात्राएं राष्ट्रगान गाएंगी और 5,000 छात्र इस कार्यक्रम का अवलोकन करेंगे. इस पावन और गौरवमय अवसर पर स्कूल के ये छात्र एवं छात्राएं लाल किले की प्राचीर के सामने नयाभारत शब्द की अपनी अनुपम मानव संरचना के द्वारा एकता में बल को दर्शा रहे हैं.

कांग्रेस के लिए फिर लकी चार्म साबित हुईं सोनिया गांधी आई ये खुशखबरी

दिल्ली:- भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने शनिवार रात को लंबे मंथन के बाद एक बड़ा फैसला लेकर सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाया। हालांकि ये फैसला कांग्रेस कार्य समिति के नेताओं ने एकमत होकर लिया है। उसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने रात में ही प्रेस वार्ता में कर इस बात की जानकारी दे दी। एक ओर जहां सोनिया गांधी ने पार्टी की कमान संभाली तो दूसरी और कांग्रेस के लिए एक बड़ी खुशख़बरी लेकर आई। अब सोनिया गांधी पार्टी के लिए इस लिहाज से भाग्यशाली साबित हुई हैं, कि उनके नेतृत्व संभालते ही पार्टी के लिए बड़ी खुशखबरी पश्चिम बंगाल से आई है। यहां कांग्रेस को बड़ी सफलता मिल गई है। बंगाल में तीन सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ी पार्टी का साथ मिल गया है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने उपचुनाव के लिए कांग्रेस के साथ गठजोड़ का फैसला ले लिया है। इसका ऐलान भी कांग्रेस के बंगाल अध्यक्ष सौमित्र सेन ने कर दिया है। कांग्रेस उत्तर दिनाजपुर जिले की कालियागंज सीट के अलावा पश्चिम मेदिनीपुर की खड़गपुर सीट पर चुनाव लड़ेगी। वहीं माकपा नदिया जिले के करीमपुर सीट पर अपना प्रत्याशी उतारेगी। माकपा के साथ आने पर कांग्रेस बंगाल में काफी मजबूत स्थिति में आ गई है।

जम्मू से हटाई गई धारा 144.....घाटी में स्थिति नियंत्रण में.....

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को विशेषाधिकार देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने और इसे दो हिस्से में विभाजित कर केन्द्र शासित प्रदेश बनाने के सरकार के फैसले के बाद घाटी में अब स्थिति धीरे-धीरे सामान्य होने लगी है।

शुक्रवार को घाटी के स्थानीय मस्जिदों में जुम्मे की नमाज के लिए कर्फ्यू में ढील दी गई। हालांकि, श्रीनगर के ऐतिहासिक जामा मस्जिद में लोगों को इकट्ठा नहीं होने दिया।

जम्मू से हटाई गई धारा 144

इस बीच स्थिति सामान्य होते देख जम्मू से शुक्रवार की शाम को धारा 144 हटा दी गई। जम्मू जिले के डिप्टी मजिस्ट्रेट सुषमा चौहान ने कहा- धारा 144 (चार से अधिक लोगों के एक साथ आने पर रोक) के आदेश को जम्मू म्यूनिसिपल से वापस लिया गया है। सभी स्कूल-कॉलेजों को कल (शनिवार) से खोलने का आदेश दिया गया है।

घाटी में स्थिति नियंत्रण में

उधर, कश्मीर घाटी में स्थिति नियंत्रण में बनी हुई है। सीआरपीएएफ के डीजी राजीव राय भटनागर ने श्रीनगर में सीआरपीएफ की तैनाती को लेकर स्थिति की समीक्षा की।

राज्य में डीजल और पेट्रोल की नई दरें 8 अगस्त से होंगी प्रभावशील

■वैट रियायत हटने के बाद भी सीमावर्ती राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ में पेट्रोल-डीजल का दाम रहेगा कम■ रायपुर, 07 अगस्त 2019/राज्य में पेट्रोल और डीजल की नई दरें 8 अगस्त से लागू होंगी। राजस्व हित को देखते हुए राज्य में डीजल और पेट्रोल पर वैट की दर पर दी गई रियायत को हटा दिया गया है। रियायत हटाने के बाद भी छत्तीसगढ़ में वैट की दर कम होने के कारण सीमावर्ती राज्यों जैसे मध्यप्रदेश महाराष्ट्र और ओडिशा आदि राज्यों की तुलना में पेट्रोल और डीजल का मूल्य कम होगा। राज्य सरकार के वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा आज इसकी अधिसूचना जारी कर दी गई है। जिसके तहत नई दरें 8 अगस्त 2019 से प्रभावशील हो जाएंगी। नई दरों में पेट्रोल और डीजल के मूल्य में प्रति लीटर लगभग 2.25 रूपए की बढ़ोत्तरी होगी। आज 7 अगस्त को भोपाल में पेट्रोल की कीमत 77.36 रूपए, नागपुर में 78.09 रूपए जबकि रायपुर में 70.85 रूपए प्रति लीटर है। जिसमें 2.25 रूपए की वृद्धि बहुत कम है। गौरतलब है कि वर्तमान में छत्तीसढ़ में कर सहित डीजल 69.27 रूपए प्रति लीटर और पेट्रोल 70.85 रूपए प्रति लीटर है। जिसमें डीजल में वैट भार लगभग 12.85 रूपए और पेट्रोल में वैट भार लगभग 13.95 रूपए है। डीजल और पेट्रोल के मूल्यों में अप्रत्याशित वृद्धि को देखते हुए केन्द्र सरकार द्वारा अक्टूबर 2018 में 2 रूपए प्रति लीटर की राहत देते हुए इसी तरह राज्यों को भी 2 रूपया प्रति लीटर राहत देने को कहा गया था। जिस पर छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 5 अक्टूबर 2018 से डीजल और पेट्रोल पर वैट की दर 25 प्रतिशत से घटाकर 21 प्रतिशत करने की अधिसूचना जारी की गई थी जो 31 मार्च 2019 तक प्रभावशील थी इसे पुनः 31 मार्च 2020 तक बढ़ाया गया था। जुलाई 2019 में केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट में डीजल और पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी तथा सेस के रूप में 2 रूपया प्रति लीटर की वृद्धि की गई है। इस वृृद्धि से वर्तमान में केन्द्र सरकार द्वारा डीजल में आरोपित एक्साइज ड्यूटी तथा सेस 15.83 रूपए प्रति लीटर और पेट्रोल पर 19.98 रूपए प्रति लीटर है। छत्तीसगढ़ राज्य में डीजल और पेट्रोल की वर्तमान कीमत तथा वर्तमान वैट की दरों के आधार पर डीजल पर प्रति लीटर कर भार लगभग 12.85 रूपए तथा पेट्रोल पर लगभग 13.95 रूपए है जो केन्द्र सरकार द्वारा आरोपित कर की तुलना में डीजल में 3 रूपए और पेट्रोल में 6 रूपए प्रति लीटर कम है। चंूकि केन्द्र सरकार द्वारा डीजल और पेट्रोल पर 2 रूपए प्रति लीटर कर भार में वृद्धि की जा चुकी है तथा केन्द्र सरकार द्वारा आरोपित कर राज्य द्वारा आरोपित वैट की तुलना में काफी अधिक है। अतः राजस्व हित को देखते हुए डीजल और पेट्रोल में वैट की दर में दी गई रियायत को समाप्त करते हुए वैट अधिनियम की अनुसूची अनुसार डीजल पर वैट दर 25 प्रतिशत + 1 रूपया प्रति लीटर तथा पेट्रोल पर 25 प्रतिशत + 2 रूपया प्रति लीटर रखा गया है। वैट की दर में वृद्धि से डीजल और पेट्रोल की कीमतों में लगभग 2.25 रूपए की वृद्धि होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा दिल्ली में चलेंगे उन्नाव कांड के सारे केस

नई दिल्ली।सुप्रीम कोर्ट ने कहा दिल्ली में चलेंगे उन्नाव कांड के सारे केस. कोर्ट ने पीडि़ता की चिट्ठी और उसकी मां की स्थानांतरण याचिका पर सुनवाई करते हुए ये बात कही. इसके साथ ही कोर्ट ने रविवार को हुई दुर्घटना मामले की जांच सीबीआइ को सात दिन में पूरी करने का आदेश दिया।

हालांकि बहुत जरूरत पड़ने पर जांच अधिकारी सात दिन और ले सकते हैं, लेकिन इसे अपवाद समझा जाए। कोर्ट ने पांचों मुकदमों का ट्रायल रोजाना सुनवाई कर 45 दिन में पूरा करने का आदेश दिया है। इतना ही नहीं, कोर्ट ने पीडि़ता की मां को 25 लाख रुपये अंतरिम मुआवजा देने के साथ ही पीडि़ता और उसके परिवार को सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) सुरक्षा देने का भी आदेश दिया।

कोर्ट ने सीआरपीएफ को आदेश दिया है कि वह पीडि़ता, उसकी मां और भाई-बहनों के अलावा चाचा महेश सिंह के परिवार को भी पर्याप्त सुरक्षा दे। सुरक्षा तत्काल दी जाए और आदेश के अनुपालन की रिपोर्ट शुक्रवार को कोर्ट को दी जाए।

इधर सूत्रों के अनुसार उन्नाव दुष्कर्म कांड और रायबरेली हादसे के आरोपों से घिरे विधायक कुलदीप सेंगर को भाजपा ने गुरुवार को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। रात करीब 9.30 बजे भाजपा मुख्यालय से जारी विज्ञप्ति में उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने बताया कि केंद्रीय नेतृत्व ने निलंबित विधायक कुलदीप सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

बतादें उन्नाव दुष्कर्म कांड में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सहित कई अभियुक्त हैं। गत रविवार को सड़क दुर्घटना में उन्नाव दुष्कर्म कांड की पीड़िता के दो रिश्तेदारों की मौत हो गई थी जबकि पीड़िता और वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे।दुर्घटना से पहले पीडि़ता और उसके परिवार ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को चिट्ठी भेजकर अभियुक्तों पर धमकी देने और सुलह के लिए दबाव डालने की शिकायत की थी। इसी चिट्ठी पर संज्ञान लेते हुए शीर्ष कोर्ट ने गुरुवार को विस्तृत आदेश जारी किए।

आजम खान के बयान पर सदन में हंगामा

नई दिल्ली : आजम खान के बयान पर सदन में हंगामा हो गया है. विवादों और विवादित बयान के लिए पहचाने जाने वाले सांसद आजम खान ने भाजपा सांसद रमा देवी के लिए सदन में दिए अपने बयान के बाद से दिक्कत में है. महिला सांसदों ने आजम के बयान को असंसदीय करार दिया है.

भाजपा सांसद रमा देवी ने कहा- “जिस कुर्सी पर मैं बैठी थी वह सभी की है। उन्होंने ऐसी भाषा का इस्तेमाल देश की सभी महिलाओं के लिए किया है। मेरे संसदीय क्षेत्र की जनता ने मेरे ऊपर विश्वास किया और मुझे चुनकर भेजा। मुझे ऐसे लोगों (आजम खान) का सामना करने की ताकत है।”

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा है कि यह पुरुषों समेत सभी सांसदों पर धब्बा है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आजम खान को या तो माफी मांगनी चाहिए या उन्हें सदन से निलंबित किया जाए।

बीजेपी और अन्य दलों की महिला सांसदों एवं विभिन्न दलों के नेताओं ने भी गुरुवार को पीठासीन सभापति रमा देवी के बारे में आजम खान की टिप्पणी के कारण उनसे माफी की मांग की है।

इस मामले पर बोलते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कल जो हुआ उसकी निंदा करते हुए बोलते देखना सभी को देखना उत्साहजनक है। उन्होंने आगे कहा कि महिलाओं से जुड़े मुद्दे का राजनीतिकरण करना अपमानजनक है। हमें एक साथ खड़ा होना होगा।

बतादें तीन तलाक पर बहस के दौरान गुरुवार को स्पीकर की कुर्सी पर बैठकर सदन की अध्यक्षता कर रही रमा देवी ने आजम खान से कहा था कि चेयर की तरफ देखकर सदन को संबोधित करें। उसके बाद आजम खान ने जो रमा देवी पर जो विवादित टिप्पणी की उसको लेकर भारी बवाल हुआ और सदन से उन्हें निलंबत करने की लगातार मांग की जा रही है।

ब्रेकिंग न्यूज़ : दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का निधन

BBN24NEWS.COM : दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का निधन हो गया है। 81 साल की उम्र में शीला दीक्षित ने दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में अंतिम सांस ली।

कर्नाटक में आज शक्ति परीक्षण

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार आज करेगी विश्वास मत का सामना। एक अहम फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा, बाग़ी विधायकों को विधानसभा की कार्यवाही में शामिल होने के लिए नहीं किया जा सकता मजबूर। कहा, विधायकों के इस्तीफे को लेकर स्पीकर अपने द्वारा तय समय में ले सकते हैं फैसला।

लंबे समय से कर्नाटक में चल रहे सियासी संकट के मद्देनज़र आज महत्वपूर्ण दिन है। आज कुमारस्वामी सरकार को विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव का सामना करना है। विश्वास मत प्रस्ताव के मद्देनजर मुंबई में ठहरे हुए कांग्रेस और जे डी एस के 15 बागी विधायकों की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। इससे पहले कल सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक मामले पर अपना एक अहम फैसला सुनाया।सुप्रीम कोर्ट ने अपने अंतरिम आदेश में कहा कि 15 कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों को विधानसभा की कार्यवाही में भाग लेने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता और कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेशकुमार अपने द्वारा निश्चित एक समय सीमा के भीतर 15 कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों के त्यागपत्र पर फैसला लेंगे।

इस दिशानिर्देश के बाद साफ है कि अदालत का जोर विधायिका और न्यायपालिका के अधिकारों के बीच बिना किसी टकराव के संतुलन बिठाने पर है, अंतरिम आदेश के बाद कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेशकुमार ने भी निर्णय की तारीफ की । उन्होंने कहा कि वो संवैधानिक सिद्धांतो्ं के आधार पर ही निर्णय लेंगे, सभी दलों ने BHI निर्णय का स्वागत किया। 

इस बीच मुंबई में उस होटल के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है जहां कांग्रेस और जेडीएस के 15 बागी विधायक ठहरे हुए हैं, सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की तारीफ करते हुए बागी विधायकों ने कहा कि त्यागपत्र के फैसले पर दुबारा सोचने और विधानसभा की कार्रवाई में भाग लेने का कोई सवाल ही नहीं उठता।

आज कर्नाटक विधानसभा में कुमारस्वामी सरकार को विश्वास प्रस्ताव का सामना करना है, अगर ये 15 बागी विधायक सदन में नहीं पहुंचते तो सरकार का गिरना तय है क्योंकि ऐसे में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की संख्या गिरकर 100 पर पहुंच जाएगी। विधायकों के नहीं पहुंचने से सदन में बहुमत का आंकड़ा 105 पर आ जाएगा जो बीजेपी के पास पहले से मौजूद है।

इस बीच एक बागी विधायक रामलिंगा रेड्डी ने विधानसभा में सरकार के पक्ष में मत देने का फैसला किया है।