देश

प्रधान की हत्या से सुलगा आजमगढ़, भीड़ ने पुलिस चौकी समेत कई वाहन फूंके

यूपी में आजमगढ़ के तरवा थाने के बांसगांव में प्रधान की हत्या कर दी गई है. इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने तोड़फोड़ और आगजनी को अंजाम दिया है. भीड़ ने कई वाहनों को नुकसान पहुंचाया है. साथ ही तरवा थाने की बोगरिया पुलिस चौकी को भी आग के हवाले कर दिया है.

गहलोत ने पेश किया विश्वास प्रस्ताव, अलग से सदन पहुंचा पायलट गुट

आज से राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू हो गया है. शुरुआत में ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा में विश्वास मत प्रस्ताव पेश कर दिया है. सत्र से पहले विधायकों को व्हिप जारी कर दिया गया है. भारतीय जनता पार्टी भी अविश्वास मत प्रस्ताव लाने की तैयारी में थी, लेकिन गहलोत ने पहले ही चाल चल दी. अशोक गहलोत ने दावा किया है कि उनकी सरकार आसानी से बहुमत साबित कर देगी.

बड़ी खबर : राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक, गहलोत से मिलने पहुंचे पायलट

राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से सियासी घमासान मचा हुआ है वही अब सचिन पायलट ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ मुलाकात की. सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक सीएम अशोक गहलोत से उनके आवास पर मुलाकात करने पहुंचे.

 

BIG NEWS : प्रणब मुखर्जी की हालत नाजुक, जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं: सैन्‍य अस्‍पताल

सेना के रिसर्च एंड रेफरल (आर एंड आर) अस्पताल ने मंगलवार को बताया कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत नाजुक बनी हुई है और उन्हें जीवनरक्षक प्रणाली पर रखा गया है. इससे एक दिन पहले उनके मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी. मुखर्जी (84) को सोमवार (10 अगस्त) की दोपहर के वक्त सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सर्जरी से पहले उनमें कोविड-19 की भी पुष्टि हुई थी.

JK में 16 अगस्त से शुरू होगी वैष्णो देवी यात्रा,

BBN24_NEWS: मिली जानकारी के अनुसार  कोरोना वायरस के चलते बंद पड़े जम्मू कश्मीर में धार्मिक स्थलों को एक बार फिर से स्टैंडर्ड ऑफ प्रोटोकॉल के तहत खोला जा रहा है। जम्मू कश्मीर सरकार ने मंगलवार को कहा कि धार्मिक स्थलों/पूजा घरों को केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में 16 अगस्त से खोला जा रहा है। सरकार की तरफ से आगे कहा कि सभी श्रद्धालुओं को आरोग्य सेतू ऐप इंस्टॉल और उसका इस्तेमाल अनिवार्य होगा। मूर्तियों को छूना, मूर्ति या कोई धार्मिक किताब लेकर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

देश में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, एक दिन में 64399 नए केस, 861 लोगों की मौत

BBN_24_NEWS

मिडिया रिपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार  देश में कोरोना ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. एक दिन में 64,399 नए मामले दर्ज किए गए हैं और 861 लोगों की मौत हो गई है. इसके बाद भारत में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 21 लाख 53 हजार 11 हो गई है, जिसमें 6 लाख 28 हजार 747 एक्टिव केस हैं और 14 लाख 80 हजार 885 लोग ठीक हो चुके हैं. अबतक 43,379 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, शनिवार को 7 लाख 19 हजार 364 सैंपल की जांच की गई है. अब तक 2 करोड़ 41 लाख लोगों की जांच की गई है. महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 1 लाख 47 हजार 355 कोरोना के मामले सामने आए हैं.

गौतमबुद्धनगर में 65 नए कोरोना मरीज

दिल्ली से सटे गौतमबुद्धनगर में शनिवार को 65 लोगों की रिपार्ट कोरोना पॉजिटिव आई है. इसके बाद कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 5868 पहुंच गया है. 4888 मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं. 937 मरीजों का अस्पतालों में इलाज जारी है. 43 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है.

राजस्थान में 596 नए कोरोना केस की पुष्टि हुई है और 6 लोगों की मौत हो गई है. सूबे में कुल 51 हजार 924 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं और 784 लोगों की मौत हुई है. राजस्थान में अभी 13 हजार 847 एक्टिव केस हैं.

सुशांत केस की होगी CBI जांच ,केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश

सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार सरकार ने मंगलवार को सीबीआई जांच की सिफारिश केंद्र को भेजी थी. अब केंद्र ने बिहार सरकार की ये सिफारिश मंजूर कर ली है. सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील ने बताया कि उन्होंने सुशांत केस की जांच सीबीआई को ट्रांसफर कर दी है. अब इस केस की सीबीआई जांच करेगी. बता दें, लंबे समय से सोशल मीडिया पर इस केस की सीबीआई से जांच कराने की मांग हो रही थी.

UPSC: सिविल सेवा परीक्षा 2019 का फाइनल रिजल्ट घोषित, 829 उम्मीदवारों का हुआ चयन

नई दिल्लीः संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट upsc.gov.in पर सिविल सेवा परीक्षा 2019 का परिणाम घोषित कर दिया है। उम्मीदवार आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर सिविल सेवा 2019 की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों की यूपीएससी प्रोविजनल अपॉइंटमेंट लिस्ट डाउनलोड कर सकते हैं। आयोग द्वारा जारी सूची भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय विदेश सेवा, भारतीय पुलिस सेवा और केंद्रीय सेवा, ग्रुप ए और बी में नियुक्ति के लिए अनुशंसित उम्मीदवारों की योग्यता के आधार पर है।

सिविल सेवा परीक्षा में प्रदीप सिंह ने टॉप किया है। दूसरे स्थान पर जतिन किशोर और तीसरे स्थान पर प्रतिभा वर्मा है। कुल 829 उम्मीदवारों का चयन किया गया है। इसमें 304 उम्मीदवार जनरल कैटेगरी से, 78 ईडब्ल्यूएस, 251 ओबीसी, 129 एससी और 67 एसटी कैटेगरी से हैं। परीक्षार्थियों के मार्क्स 15 दिन बाद जारी किए जाएंगे। 

यूपीएससी ने 182 उम्मीदवारों को रिजर्व लिस्ट में रखा है। इनमें 91 जनरल, 9 ईडब्ल्यूएस, 71 ओबीसी, 8 एससी, 3 एसटी कैटेगरी के हैं। 11 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनका रिजल्ट होल्ड पर रखा गया है। 

आपको बता दें कि यूपीएससी मुख्य परीक्षा में कुल 2304 उम्मीदवार सफल हुए थे। इनके लिए इंटरव्यू की प्रक्रिया 17 फरवरी, 2020 से शुरू हुई थी। लेकिन कोरोना लॉकडाउन के चलते मार्च में इंटरव्यू स्थगित कर दिए गए थे। इसके बाद इंटरव्यू 20 जुलाई से 30 जुलाई के बीच आयोजित किए गए। इसके लिए आयोग ने उम्मीदवारों को इंटरव्यू में आने-जाने के लिए विमान के किराए का भुगतान करने का फैसला किया। कोविड-19 के कारण ट्रेन सेवा पूरी तरह शुरू नहीं हो पाने के कारण यह फैसला किया गया थी। 

उम्मीदवारों को परीक्षा या भर्ती से जुड़ी कोई भी जानकारी चाहिए तो वह यूपीएससी कैंपस परिसर में वर्किंग डेज पर सुबह 10 से शाम 5 बजे के बीच जाकर जानकारी प्राप्त कर सकता है। इसके अलावा सुबह 10 से शाम 5 बजे के बीच 23385271/23381125/23098543 पर फोन करके भी जानकारी हासिल की जा सकती है।

यूपीएससी सिविल सेवा के जरिए इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (आईएएस), भारतीय पुलिस सर्विसेज (आईपीएस) और भारतीय फॉरेन सर्विसेज (आईएफएस), रेलवे ग्रुप ए (इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस), इंडियन पोस्टल सर्विसेज, भारतीय डाक सेवा, इंडियन ट्रेड सर्विसेज सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है।


 
यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों- प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार- में आयोजित की जाती है। मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्रदर्शन के आधार पर फाइनल मेरिट लिस्ट जारी होती है।

 

भारत ने दिया चीन को बड़ा झटका, कलर टीवी के आयात पर प्रतिबंध

 नई दिल्लीः भारत आर्थिक मोर्चे पर चीन को लगातार झटके दे रहा है। अब भारत सरकार ने रंगीन टेलीविजन सेट के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है। रंगीन टेलीविजन चीन से बड़े पैमाने पर आयात किए जाते हैं, लेकिन अब सरकार ने इसे तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया है। इस कदम का उद्देश्य टेलीविजन के घरेलू उद्योग को बढ़ावा देना और चीन जैसे देशों से गैर-जरूरी वस्तुओं के आयात को कम करना है।

सरकार का कहना है कि घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से यह कदम उठाया गया है। आयात पर प्रतिबंध से मेक इन इंडिया को बल मिलेगा। लेकिन भारत के इस फैसले से चीन को बड़ा नुकसान होने वाला है।

मन की बात में बोले पीएम मोदी- पड़ोसी ने छुरा घोंपा, दुश्मनी दुष्टों का स्वभाव

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करगिल विजय दिवस पर देश के सैनिकों की बहादुरी को याद किया है. प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि हालांकि उस वक्त भारत पाकिस्तान से मित्रता चाहता था, लेकिन पाकिस्तान ने बड़े-बड़े मंसूबे पालकर करगिल युद्ध का दुस्साहस किया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस युद्ध में भारत के सच्चे पराक्रम की जीत हुई.

भाजपा पार्षद ने नगर आयुक्त को मारा चप्पल, पुलिस ने पति-पत्नी को किया गिरफ्तार

आपको बता दे की नगर आयुक्त को चप्पल मारने के मामले में पुलिस ने बीजेपी की महिला पार्षद दीपिका रानी और उसके पति पुष्पेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। नगर आयुक्त रविन्द्र कुमार पर चप्पल से हमले करने के बाद बीजेपी पार्षद फरार हो गई थी। केस दर्ज होने के बाद मथुरा पुलिस ने पति पत्नी को गिरफ्तार किया है।

कही आप भी तो नहीं पहन रहे N-95 मास्क , स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी चेतावनी , कोरोना संक्रमण रोकने में नहीं है असरदार,

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र लिखकर एन 95 मास्क के उपयोग के खिलाफ चेतावनी जारी की है, उन्होंने कहा है कि इस मास्क के उपयोग से कोरोना वायरस को नहीं रोका जा सकता है। विशेष रूप से उन मास्कों के लिए, जिसमें श्वसन वाल्व लगे हुए हैं। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक राजीव गर्ग ने लोगों को होममेड फेस मास्क का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय में स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक राजीव गर्ग सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा मामलों के प्रधान सचिवों को पत्र लिखा है। पत्र लिखकर उन्होंने कहा, यह आपके लिए जानना जरूरी है कि श्वासयंत्र एन-95 मास्क का उपयोग कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सक्षम नहीं है, क्योंकि यह वायरस को मास्क से बाहर निकलने से नहीं रोकता है। उपरोक्त कारणों से, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप अपने सभी संबंधितों को फेस और माउथ कवर का उपयोग करने करे कहें और एन-95 मास्क का उपयोग रोकने का निर्देश दें।

राजनीती : राहुल के इस्तीफे के बाद से ही गहलोत लॉबी पीछे पड़ी हैः सचिन पायलट

मिडिया रिपोर्ट के अनुसार , राजस्थान में कांग्रेस के अंदर चल रहे शाह-मात के खेल में सचिन पायलट पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भारी पड़ गए हैं. कांग्रेस ने बगावत का रुख अख्तियार करने वाले सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया है. वहीं, सचिन पायलट ने इंडिया टुडे मैग्जीन से विशेष बातचीत में कहा कि राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद से अशोक गहलोत गैंग पार्टी में हावी हो गया है, जिसके चलते हमें अपने स्वाभिमान की रक्षा के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है.

भगवान राम पर नेपाली PM के बयान से भड़के अयोध्या के संत, धर्मादेश जारी

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के भगवान राम पर दिए गए बयान से अयोध्या में संत भड़के हुए हैं. वही राम दल ट्रस्ट के अध्यक्ष रामदास महाराज ने कहा है कि आज से नेपाल में उनके शिष्य ओली के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए सड़कों पर उतरेंगे. वेद और पुराण में वर्णन का जिक्र करते हुए रामदास महाराज ने कहा कि नेपाल में सरयू है ही नहीं. आपको बता दे की रामदास महाराज ने कहा कि मेरे लाखों शिष्य नेपाल में रहते हैं और कल से लाखों की संख्या में भक्त सड़क पर उतरकर विरोध करेंगे. नेपाली पीएम केपी शर्मा ओली को एक महीने के अंदर कुर्सी से उतरना पड़ेगा. यह धर्मादेश मैं जारी करता हूं. मेरे शिष्य सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करें और ओली को सत्ता से बाहर करें.

पायलट गुट के विधायक दीपेंद्र का दावा- कहा हमारे पास 30 MLA, फ्लोर टेस्ट हो

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फिलहाल अपनी सरकार बचा ली है, लेकिन राज्य में सियासी संकट बरकरार है. इस बीच राज्य के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट गुट के एक करीबी विधायक ने दावा किया है कि हमारे साथ 30 विधायक हैं. अलग होने की सूरत में हम भारतीय जनता पार्टी में नहीं जाएंगे.

सचिन पायलट गुट के करीबी और चुरू से विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत ने आजतक के साथ खास बातचीत में दावा किया कि हमारे साथ लगभग 30 विधायक हैं, और विधायक भी हमारे साथ आ सकते हैं.

राज्य में सत्तारुढ़ कांग्रेस पर पार्टी के ही विधायक दीपेंद्र सिंह ने शीर्ष नेतृत्व से नाराजगी की वजह बताते हुए कहा कि वे पार्टी से इसलिए नाराज हैं क्योंकि पिछले 1.5 साल से राजस्थान में कोई काम नहीं हुआ है. हमारे क्षेत्र में कोई विकास कार्य नहीं हुआ है. एक इंच सड़क तक नहीं बन सकी है. पानी की व्यवस्था भी नहीं हुई है.