बड़ी खबर

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रदेश के जनता को दी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई

  रायपुर, 03 सितम्बर 2018 राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने जन्माष्टमी के पावन पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। राज्यपाल पटेल ने कहा है कि भगवान श्रीकृष्ण ने दुनिया को सत्य के मार्ग पर चलते हुए कठिनाईयों का सामना करने की सीख दी है। उन्होंने कहा कि भगवद गीता के उपदेश जनमानस के लिए जीवन दर्शन प्रस्तुत करते हैं। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा दिया गया गीता का ज्ञान विश्व में आज भी प्रासांगिक है। राज्यपाल ने जन्माष्टमी के पावन पर्व पर सभी प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की है।
वही मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश की जनता को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर जनता को बधाई दी है और अपनी शुभेच्छा प्रकट की है। डॉ. सिंह ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद भगवत गीता में देश और दुनिया को कर्मयोग का जो प्रेरक संदेश दिया, उसे अपनाकर हर व्यक्ति अपने जीवन को सफल और सार्थक बना सकता है। मुख्यमंत्री ने भगवान श्री कृष्ण से सभी लोगों की सुख-समृद्धि के आशीर्वाद की कामना की  है।

अटल विकास यात्रा में 22 सितम्बर को प्रधानमंत्री आएंगे छत्तीसगढ़ : यात्रा पांच सितम्बर से पांच अक्टूबर तक चलेगी

रायपुर, 02 सितंबर 2018मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी राज्य सरकार की अटल विकास यात्रा में शामिल होने के लिए 22 सितम्बर को छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले में आएंगे। डॉ. सिंह ने बताया कि पांच सितम्बर को डोंगरगढ़ स्थित छत्तीसगढ़ की आराध्य देवी मां बम्लेश्वरी के मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ इस यात्रा की शुरूआत होगी। राज्यसभा सांसद श्री अमित शाह इस यात्रा का शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी ना सिर्फ छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता थे, बल्कि वे छत्तीसगढ़ के विकास की कल्पना और प्रेरणा के स्त्रोत भी थे। उनका 16 अगस्त को देहावसान हो गया। अटल जी को श्रद्धापूर्वक याद करने के लिए हमने प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के दूसरे चरण का नामकरण ‘अटल विकास यात्रा’ के नाम से किया है।
    उल्लेखनीय है कि इस बार प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के पहले चरण की शुरूआत 12 मई को केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह द्वारा दंतेवाड़ा स्थित मां दंतेश्वरी के मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ की गई थी। पहले चरण की यात्रा का समापन कार्यक्रम 14 जून को भिलाई नगर में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। मुख्यमंत्री ने बताया कि पहले चरण में 12 मई से 14 जून के बीच 55 विधानसभा क्षेत्रों में लगभग पांच हजार किलोमीटर की यात्रा हुई। अब विकास यात्रा का दूसरा चरण पांच सितम्बर से पांच अक्टूबर तक चलेगा। यह यात्रा लगभग छह हजार किलोमीटर की होगी ऐसा अनुमान है। प्रथम चरण की यात्रा की तरह दूसरे चरण में भी करोड़ों रूपयों के विकास और निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया जाएगा। तेन्दूपत्ता संग्राहकों को लगभग 745 करोड़ रूपए का बोनस भी दिया जाएगा।

राज्य के बारह लाख परिवारों को मिलेगा सहज बिजली बिल योजना का फायदा : डॉ. रमन सिंह

  रायपुर, 03 सितंबर 2018मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि प्रदेश के 12 लाख से ज्यादा घरेलू बिजली कनेक्शन वाले परिवारों को सहज बिजली बिल योजना का लाभ मिलेगा। डॉ. सिंह ने आज यहां बताया कि सहज बिजली बिल योजना वर्ष 2002 की गरीबी रेखा सूची और वर्ष 2011 की सामाजिक-आर्थिक जनगणना के आधार पर पात्रता रखने वाले बिजली उपभोक्ताओं के लिए शुरू की गई है। योजना के तहत सिंगल फेज के घरेलू कनेक्शनों में 40 यूनिट मासिक निःशुल्क बिजली की खपत सीमा से ज्यादा खपत होने पर हितग्राहियों को वर्तमान में प्रचलित टैरिफ के स्थान पर 100 रूपए हर महीने के हिसाब से फ्लैट रेट बिल भुगतान की सुविधा का विकल्प दिया जा रहा है। यह विकल्प उन सिंगल फेस घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को दिया जाएगा, जिनकी वार्षिक बिजली खपत 1200 यूनिट तक होती है।
     मुख्यमंत्री ने ऐसे बिजली उपभोक्ताओं से योजना के तहत इस वैकल्पिक सुविधा लाभ लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पांच सितम्बर से शुरू हो रही अटल विकास यात्रा के दौरान सहज बिजली बिल योजना के तहत हितग्राही परिवारों के आवेदन प्राप्त करने के लिए गांवों और शहरों में पुनरीक्षित बिजली बिल वितरण शिविर भी लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर इन शिविरों का आयोजन छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा किया जाएगा। इन शिविरों में गरीब परिवारों को बिजली बिल में और किसानों को सिंचाई पम्पों के लिए फ्लैट रेट का विकल्प दिया जा रहा है।
    विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों ने बताया कि इन शिविरों में प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत नये विद्युत कनेक्शनों के लिए आवेदन लिए जाएंगे और उपभोक्ताओं के संशोधन योग्य बिजली बिलों का पुनरीक्षण भी किया जा रहा है। इतना ही नहीं बल्कि इन शिविरों में राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री सहज बिजली बिल योजना के तहत लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों को यह प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा कि उनके देयकों को उनके चयनित फ्लैट रेट के विकल्प में परिवर्तित किया गया है। विकल्प चयन करने वाले उपभोक्ता की अगर कोई बकाया राशि होगी तो उस राशि की पुनः गणना भी कुल बकाया महीनों के आधार पर 100 रूपए प्रति माह के मान से की जाएगी।

​​​​​​​मुख्य निर्वाचन आयुक्त रावत की अध्यक्षता में विधानसभा आम चुनाव-2018 की तैयारियों की समीक्षा

   रायपुर,  देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री ओमप्रकाश रावत की अध्यक्षता में आज यहां न्यू सर्किट हाउस के ऑडिटोरियम में छत्तीसगढ़ के आगामी विधानसभा आम चुनाव की प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। 
    इस मैराथन बैठक में मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओमप्रकाश रावत सहित आयोग के अन्य उच्च अधिकारियों ने छत्तीसगढ़ में विधानसभा आम चुनाव-2018 के सुगमतापूर्वक संचालन के लिए मार्गदर्शी बिंदुओं पर आधारित जरूरी निर्देश प्रशासन और पुलिस विभाग के अधिकारियों को दिए। बैठक में बारी-बारी से सभी जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों तथा पुलिस अधीक्षकों से उनके जिलों में विधानसभा चुनाव की तैयारियों की विस्तार से जानकारी ली गई। बैठक के प्रारंभ में छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी   सुब्रत साहू ने कम्प्यूटर आधारित प्रस्तुतिकरण के जरिए विधानसभा आम चुनाव-2018 के संदर्भ में विधानसभा क्षेत्रों और आम चुनाव की तैयारियों के बारे विस्तार से अवगत कराया। 
    बैठक में भारत निर्वाचन आयोग के आयुक्त   सुनील अरोरा, आयुक्त   अशोक लवासा, वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त  उमेश सिन्हा, उप निर्वाचन आयुक्त  सुदीप जैन, संदीप सक्सेना, महानिदेशक व्यय   दिलीप शर्मा, महानिदेशक संचार   धीरेन्द्र ओझा, महानिदेशक आईटी   व्ही.एन.शुक्ला, अतिरिक्त महानिदेशक संचार सह भारत निर्वाचन आयोग की प्रवक्ता  शेफाली बी. शरण, छत्तीसगढ़ के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी डॉ. एस. भारतीदासन सहित सभी राजस्व संभागों के आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक, निर्वाचन कार्य से संबंधित विभागों के नोडल अधिकारी उपस्थित थे।

दिल्ली से लौटने के बाद ओ पी चौधरी ने भाजपा का किया गुणगान मेरी विचारधारा को लेकर कौन क्या कह रहा है इससे कोई मतलब नहीं है

 रायपुर. पूर्व कलेक्टर ओपी चौधरी के दिल्ली से लौटने के बाद एयरपोर्ट पर जमकर स्वागत किया गया. उसके बाद एकात्म परिसर में ओपी चौधरी प्रेस कांफ्रेंस कर मीडियाकर्मियों से मुखातिब हुए. साथ में प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने भी मीडिया से बातचीत की. धरमलाल कौशिक ने कहा कि पार्टी में ओपी चौधरी के आने के बाद बीजेपी और मजबूत होगी. प्रशासनिक अधिकारी के रूप में उनके अनुभवों का लाभ मिलेगा. ओपी चौधरी को मोल भाव कर नहीं लाया गया है. वह अपनी स्वेच्छा से पार्टी में आये हैं. माटी की सेवा करने के लिए उन्होंने राजनीति में आने का निर्णय किया है.
ओमप्रकाश चौधरी ने कहा कि मैं बायंग गांव से निकला. किन परिस्थितियों में मैं निकला इसे आप सब जानते हैं. मैं गांव की गलियों से अपने सपने को लेकर निकला. मेहनत कर आईएएस बना. मैंने 13 सालों के करियर में बेस्ट करने की कोशिश की. जो बेहतर कर सकता था वह करने का प्रयास किया. मैं महसूस करने लगा था कि मंत्रालय में बड़े से बड़े पद पर पहुँच तो जाता लेकिन सीधे तौर पर लोगों से जुड़ाव कम हो जाता. आज मैं देखता हूँ कि देश में कर्मठ प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश तेजी से आगे बढ़ रहा है. वहीं प्रदेश में रमन सिंह ने विकास की दिशा बदली. बस्तर शोषण का सबसे बड़ा पर्याय था. सरकार ने पीडीएस शुरू कर लोगों की जिन्दगी बदली.
उन्होंने आगे कहा कि राजनीतिक तंत्र खराब है तो प्रशासनिक तंत्र खराब हो जाता है. लेकिन राजनीतिक तंत्र बेहतर हो तो सैडकों प्रशासक बनाये जा सकते हैं. दीनदयाल उपाध्याय जी के अंत्योदय से मैं प्रभावित होता रहा हूँ. अटल बिहारी वाजपेयी से प्रभावित रहा हूँ. मुझे लगता है कि यदि कोई पार्टी देश को आगे ले जा सकती है तो वह बीजेपी ही है.
यही पार्टी है जहां कवर्धा का एक पार्षद मुख्यमंत्री बनता है, तो बड़नगर में चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री बनता है.
ओपी चौधरी ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान आगे कहा कि आरोप और चर्चा असफल लोगों के हिस्से होता है. नौकरशाही में लोगों से मिलने में कुछ बंधन होता है. मैं उस बंधन से मुक्त होने राजनीति में आया हूँ. नौकरशाही के अपने रूल्स है. मेरा मानना है कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में राजनीतिक तंत्र ही सबसे बड़ी चीज है. राजनीतिक तंत्र से बेहतर प्रशासनिक तंत्र डेवलप किया जा सकता है. प्रयास बनाना मेरी विचारधारा रही है. नालंदा बनाना मेरी विचारधारा रही है. एजुकेशन सिटी बनाना मेरी विचारधारा रही है. मेरी विचारधारा को लेकर कौन क्या कह रहा है इससे कोई मतलब नहीं है.

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा ने छत्तीसगढ़ सदन में मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने की मुलाकात

रायपुर 30 अगस्त  2018 मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से आज नई दिल्ली स्थित छत्तीसगढ़ सदन में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री  जे.पी. नड्डा ने सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान अनेक विषयों पर चर्चा की। केंद्रीय मंत्री श्री नड्डा 27 सितम्बर को छत्तीसगढ़ आएंगे। चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह और मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री विक्रम सिसोदिया भी उपस्थित थे।

बीजेपी मुख्यालय में मोदी और शाह की मौजूदगी में भा जा पा में शामिल हुए ओमप्रकाश चौधरी

नई दिल्ली- भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा देने वाले ओम प्रकाश चौधरी  बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर लिए है चौधरी इस वक्त दिल्ली में पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित पार्टी मुख्यालय  में  हैं 
  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में ओमप्रकाश चौधरी को विधिवत तौर पर बीजेपी की सदस्यता दिलाई गई है 

ओमप्रकाश चौधरी सोमवार से ही दिल्ली में है. मुख्यमंत्री कल देर शाम दिल्ली के लिए रवाना हुए थे. तब भी उन्होंने संकेत देते हुए कहा था कि ओपी का इस्तीफा मंजूर हो गया है, लेकिन उनका प्रवेश कब होगा, यह उन्हें तय करना है. बीजेपी की सदस्यता लेने के बाद चौधरी प्रेस कांफ्रेंस भी ले सकते हैं.

राज्य सरकार ने की बड़ी प्रशासनिक सर्जरी दो आईएएस अफसर, दो आईपीएस अफसर और 5 आईएफएस अफसरों के तबादले

रायपुर: राज्य सरकार ने सोमवार को बड़ी प्रशासनिक सर्जरी की है। दो आईएएस अफसर, दो आईपीएस अफसर और 5 आईएफएस अफसरों के तबादले किए हैं। आईएएस अफसरों का तबादला आदेश सोमवार को देर रात जारी किया गया। यह आदेश नया रायपुर स्थित महानदी भवन से जारी किया गया है।


1986 बैच के आईएफएस अफसर आरबीपी सिन्हा को अपर प्रधान वन संरक्षक, एसईसीएल बिलासपुर से अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक, रायपुर का कार्यभार  दिया गया है।

1986 बैच के आईएफएस अफसर राजेश गोवर्धन को प्रबंध संचालक वन विकास निगम लिमिटेड से अपर प्रबंध संचालक वन विकास निगम लिमिटेड रायपुर का कार्यभार  दिया गया है।

1987 बैच के आईएफएस अफसर जेएसीएस राव अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक कैंपा से अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी एवं जैव विविधता का कार्यभार सौपा गया है।

1987 बैच के आईएफएस अफसर शैलेंद्र सिंह को वाईल्डलाइफ से मुख्यालय में उत्पादन का जिम्मा दिया गया है।

1990 बैच के आईएफएस अफसर श्रीनिवास राव एडिशनल अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक, जगदलपुर से अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक रायपुर का कार्यभार  दिया गया है।

मंत्रिपरिषद की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

रायपुर 27 अगस्त २०१८ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज यहां उनके निवास कार्यालय में मंत्रिपरिषद की बैठक हुई, जिसमें निम्नानुसार निर्णय लिए गए :-
खरीफ विपणन वर्ष  2018-19 के लिए समर्थन मूल्य पर धान एवं मक्का खरीदी तथा कस्टम मिलिंग नीति का निर्धारण किया गया। इस संबंध में मंत्रिमण्डलीय उप समिति की अनुशंसाओं का अनुमोदन करते हुए नीति निर्धारित की गई।
 भारत सरकार द्वारा इस वर्ष 2018-19 के लिए औसत अच्छे किस्म के कॉमन धान के लिए 1750 रूपए और ए-ग्रेड धान के लिए 1770 रूपए प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया गया है। मक्के के लिए 1700 रूप्ए प्रति क्ंिवंटल समर्थन मूल्य होगा।
 धान खरीदी सहकारी समिति के उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी नगद और लिंकिंग में 1 नवम्बर 2018 से शुरू की जाएगी और 31 जनवरी 2019 तक चलेगी। मक्के की खरीदी लिकिंग सहित 1 नवम्बर 2018 से 31 मई 2019 तक होगी। धान खरीदी की अधिकतम सीमा लिकिंग सहित 15 क्विंटल प्रति एकड़ और मक्का खरीदी की अधिकतम सीमा लिंिकंग सहित 10 क्विंटल प्रति एकड़ तय की गई है।
 उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष धान और मक्के की खरीदी 15 नवम्बर 2017 से शुरू की गई थी। इस वर्ष 15 दिन पहले 1 नवम्बर से शुरू की जा रही है।
धान उपार्जन के लिए किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। इस वर्ष पहली बार मक्का किसानों का भी पंजीयन करने का निर्णय लिया गया है। धान खरीदी की तरह ही मक्का खरीदी का भुगतान सीधे उनके खाते में डिजिटल तरीके से किया जाएगा।
धान की कस्टम मिलिंग -विगत खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में भारत सरकार द्वारा अरवा कस्टम मिलिंग हेतु 10 रूपए प्रति क्विंटल तथा उसना कस्टम मिलिंग हेतु 20 रूप्ए प्रति क्विंटल की दर निर्धारित की गई है। मंत्रिपरिषद ने आज यह निर्णय लिया कि मिलरों को खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 में विगत वर्ष 2017-18 की तरह अरवा एवं उसना मिलिंग हेतु भारत सरकार द्वारा निर्धारित मिलिंग दर के अतिरिक्त मिलिंग चार्जेस/ प्रोत्साहन राशि दी जाए।
बिलासपुर विश्वविद्यालय का नामकरण अटलबिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय करने हेतु छत्तीसगढ़ विश्वविद्यालय (संशोधन) अध्यादेश 2018 का अनुमोदन किया गया।
 छत्तीसगढ़ कराधान (संशोधन) अध्यादेश 2018 का अनुमोदन किया गया। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा 1 जुलाई 2017 से वस्तु एवं सेवा कर के  अन्तर्गत केन्द्रीय एवं राज्य करों को समाहित करने हुए करों में एकरूपता लाई गई है। इसके अन्तर्गत विभाग द्वारा इमारती लकड़ी एवं अन्य काष्ठ तथा बांस विक्रय पर अधिरोपित 3 प्रतिशत ’वन विकास उपकर’ को समाप्त करने का निर्णय लिया गया है। इससे राज्य में व्यापार व्यवसाय को एवं अतर्राज्यीय व्यापार को प्रोत्साहन मिलेगा।
 साधारण प्रकृति के प्रकरणों को न्यायालय से वापस लिए जाने हेतु जारी निर्देशों का कार्योत्तर अनुमोदन किया गया ।
 सरगुजा में नक्सल मुठभेड़ में वर्ष 2008 में घायल होने तथा वर्ष 2012 में सेवा में रहते हुए तत्कालीन पुलिस महानिरीक्षक श्री़ बी.एस. मरावी का निधन हो गया था, उनके सुपुत्र श्री शिखर मरावी को खाद्य निरीक्षक के पद पर अनुकम्पा नियुक्ति देने का निर्णय लिया गया।
 श्री अजीत ओगरे जिला राजनांदगांव को नक्सल विरोधी अभियान में 53 बार सफल फायरिंग और 83 बार सामुदायिक पुलिसिंग के जरिए नक्सलियों को आत्मसमर्पण करवाया गया था। वर्ष 2004 बैच के निरीक्षक श्री ओगरे को इसके लिए आउट ऑफ टर्न उप पुलिस अधीक्षक के पद पर पदोन्नति देने का निर्णय लिया गया। इसी तरह नारायणपुर जिले के ईरपानार में 24 जनवरी 2018 को नक्सल मुठभेड़ में शहीद पुलिस उप निरीक्षक श्री विनोद कौशिक की पत्नी श्रीमती जयश्री कौशिक को पुलिस उपनिरीक्षक (अ) के पद पर अनुकम्पा नियुक्ति दी जाएगी।

दीपांशु काबरा होंगे रायपुर IG, प्रदीप गुप्ता को मिली बिलासपुर रेंज की जिम्मेदारी

रायपुर - चुनाव आयोग के निर्देश के मुताबिक चुनाव के पहले ऐसे अधिकारियों का तबादला किया जाना है जो कि अपने गृह नगर में पदस्थ हैं या फिर जो किसी क्षेत्र में 3 साल का कार्यकाल पूरा कर चुके हैं. प्रदीप गुप्ता राजधानी रायपुर के ही रहने वाले हैं लिहाजा उनका तबादला पहले से ही सुनिश्चित था.
वहीं दीपांशु काबरा कुछ महीने पहले ही दुर्ग से बिलासपुर आईजी बनाए गए थे. काबरा का घर भिलाई में है और दुर्ग के अलावा उनकी पहली पसंद रायपुर ही थी.

दीपक सोनी होंगे रायपुर प्रभारी कलेक्टर चौधरी का इस्तीफा मंजूर

 रायपुर। दीपक सोनी अब रायपुर के प्रभारी कलेक्टर होंगे.  ओपी चौधरी के इस्तीफा देने के बाद राज्य शासन ने दीपक सोनी को रायपुर कलेक्टर का अतिरिक्त प्रभार सौंपा है. 2011 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी दीपक सोनी वर्तमान में रायपुर जिला पंचायत में सीईओ की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. वे जिला पंचायत सीईओ के साथ ही रायपुर कलेक्टर का प्रभार संभालेंगे.

इससे पहले ओपी चौधरी ने रायपुर कलेक्टर के पद से अपना इस्तीफा सौंप दिया था. जिसे कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग भारत सरकार द्वारा स्वीकृत कर लिया गया है. जिसके बाद मुख्य सचिव अजय सिंह ने दीपक सोनी को रायपुर कलेक्टर का अतिरिक्त प्रभार सौंपने का आदेश जारी किया है.

रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी का आई ए एस से इस्तीफा

रायपुर। आखिरकार कलेक्टर ओपी चौधरी ने अपने इस्तीफे को लेकर बयान जारी कर दिया है. उन्होंने फेसबुक में पोस्ट कर यह जानकारी दी है कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है.  उन्होंने कहा कि मैं अपनी माटी को पूरा समय देना चाहता हूँ इसलिएल मैंने आईएएस त्यागपत्र दे दिया है. उन्होंने बड़ी भावुकता के साथ लिखा है कि मेरे बायंग गांव की गलियों से निकलकर रायपुर के कलेक्टर बनने तक के 13 साल के सफर में जिंदगी ने मुझे अनेको चुनौतीपूर्ण अवसर दिए हैं.  इस सफर में हजारों लोगों ने मुझे प्रत्यक्ष- अप्रत्यक्ष रूप से साथ दिया उन्हें शुक्रिया अदा करने के लिए हिंदी में शब्दावली का कोई भी शब्द कम पड़ेगा. मैं अब अपनी माटी और अपने लोगों की बेहतरी के लिए अपना पूरा समय देना चाहता हूँ. इसलिए मैंने आईएएस त्यागपत्र दे दिया है. जय हिंद, जय छत्तीसगढ.

रायपुर : मुख्यमंत्री आज बिलासपुर के दौरे पर : छत्तीसगढ़ न्यायिक अकादमी के नवनिर्मित भवन के लोकार्पण समारोह में शामिल होंगे

    रायपुर,  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह  25 अगस्त को  बिलासपुर स्थित उच्च न्यायालय परिसर में ‘छत्तीसगढ़ न्यायिक अकादमी’ के नवनिर्मित भवन के लोकार्पण समारोह में शामिल होंगे। उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री दीपक मिश्रा न्यायिक अकादमी के भवन का लोकार्पण करेंगे। डॉ. सिंह निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार रायपुर से सवेरे 10.20 बजे हेलीकाप्टर द्वारा रवाना होकर बिलासपुर पहुंचेंगे और उच्च न्यायालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद अपरान्ह 3.25 बजे रायपुर लौट आएंगे। लोकार्पण समारोह में छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री अजय कुमार त्रिपाठी सहित उच्च न्यायालय के न्यायाधीश उपस्थित रहेंगे।

जब तक सूरज चांद रहेगा अटल जी का नाम रहेगा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां त्रिवेणी संगम में विसर्जित

 रायपुर/गरियाबंद-  जब तक सूरज चांद रहेगा, अटल जी का नाम रहेगा, अटल जी अमर रहे, अटल जी अमर रहे नारों के साथ पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल  बिहारी वाजपेयी की अस्थियां कृषि एवं जल संसाधन मंत्री तथा जिले के प्रभारी श्री बृजमोहन अग्रवाल के साथ अन्य जनप्रतिनिधियों ने आज शाम राजिम में महानदी, सोंढूर और पैरी नदी के त्रिवेणी संगम में विसर्जित की गई। अस्थि विसर्जन के पहले जनप्रतिधियों तथा आम जनता ने अस्थि कलश में पुष्प अर्पित कर पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धाजंलि दी। इस अवसर पर आयोजित श्रद्धाजंलि सभा को सम्बोधित करते हुए कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी विश्व नेता, राष्ट्र के महान कवि और छत्तीसगढ़ वासियों के सौभाग्य निर्माता थे। उनकी अस्थियां इस घाट से त्रिवेणी संगम में विसर्जित हो रही है। अब इस घाट का नाम अटल घाट होगा।  
 अग्रवाल ने कहा कि आज अटल बिहारी भौतिक रूप से हमारे बीच नहीं है पर स्थूल रूप से हमेशा हमारे बीच में रहेंगे। स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी की तुलना किसी से नहीं की जा सकती। हर राष्ट्रीय दल के लोग उनका सम्मान करते है। आज छत्तीसगढ़ पूरे देश में पहचान बना रहा है। छत्तीसगढ़ देश में सबसे अधिक विकसित होने वाले राज्य के रूप में स्थापित हो रहा है। 
    पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री  अजय चन्द्राकर ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी राष्ट्र के लिए समर्पित सम्पूर्ण चरित्र थे। उन्होंने अखण्ड भारत का सपना देखा और पृथक छत्तीसगढ़ की परिकल्पना को साकार किया। देश के विकास में उनका विराट समर्पण काम कर रहा है।  
    गरियाबंद से विभिन्न चैक-चैराहों से होते हुए अस्थि कलश यात्रा राजिम पहुंची, पूरे रास्ते भर लोगों ने पुष्प अर्पित कर पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धाजंलि दी। रायपुर और धमतरी जिले से भी अस्थि कलश राजिम पहुंची। इन तीनों कलश की अस्थियों को त्रिवेणी संगम में विसर्जित किया गया। 

अटल जी के नाम पर भाजपा कर रही राजनीति, चुनाव में डूबती नैया पार लगाने ले रही सहारा- करुणा शुक्ला

  रायपुर - पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों को लेकर भाजपा छत्तीसगढ के सभी जिलों में अस्थि कलश यात्रा निकाल रही है। इससे उनकी भतीजी करुणा शुक्ला नाराज हैं। उनका कहना है, कि अटलजी के नाम पर जो राजनीति हो रही है, उससे वह व्यथित हैं। उन्होंने सवाल किया है, कि पिछले 10 सालों से वाजपेयी जी को पूरे परिदृश्य से गायब कर दिया गया था। इस दौरान जो चुनाव हुए उनमें उनका नाम लेना तो दूर, पोस्टर बैनर में उनकी तस्वीर तक को जगह नहीं दी गई। अब इस साल कुछ राज्यों में चुनाव होने वाले हैं, और भाजपा को अपनी नैया डूबती हुई दिखाई दे रही है, तो अचानक उन्हें वाजपेयी जी मे तिनके का सहारा दिखने लगा है.. नया रायपुर से लेकर विश्वविद्यालय का नाम अटल बिहारी वाजपेयी रखने का फैसला राज्य मंत्रिमंडल ने लिया है, वह बताएं, कि इससे पहले दस साल में कितनी बार उन्होंने अटल को याद किया। प्रदेश की जनता यह आडंबर समझती है। अटलजी की प्रतिमाएं लगाने का मकसद केवल वोट की राजनीति है। उन्होंने कहा कि अटल के जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा, राजीव और सोनिया गांधी तक से आत्मीय संबंध थे, लेकिन आज भाजपा मानवीय संबंधों का सम्मान करना भूल चुकी है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण लालकृष्ण आडवाणी का पार्टी में हो रहा अपमान है। करुणा ने कहा, कि बुधवार को जब वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा  रायपुर पहुंची तो श्रद्धांजलि सभा के दौरान मंच पर मौजूद दो मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और अजय चंद्राकर ठहाके लगाते हुए दिखाई दिए। दोनों मंत्रियों को देखकर बगल में बैठे भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने उन्हें डांट लगाई। इसके बाद दोनों मंत्री चुप हो गए। यह घटना उस समय घटित हुई जब अस्थि कलश यात्रा भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर पहुंची थी। कार्यक्रम के दौरान अजय चंद्राकर ने राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडेय को मोबाइल पर डेंगू की बीमारी से संबंधित कुछ क्लिपिंग दिखाई। जिसके बाद दोनों मंत्री किसी बात को लेकर हंस पड़े। इसी दौरान चंद्राकर टेबल ठोककर ठहाके लगाने लगे, और बृजमोहन ने भी हंसने लगे।