व्यापार

भाटापारा में पटाखा मार्केट शुरू

भाटापारा में पटाखा  मार्केट शुरू 

रामलीला मैदान और बाल मंदिर में 57 दुकानों की नीलामी पूरी 

भाटापारा। इस दीपावली पर शहर में 57 पटाखा दुकानें लगेंगी। शहर के मध्य की दो जगहों पर 31 अक्टूबर तक इस बाजार के लिए पालिका प्रबंधन ने नीलामी की प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करवाई। 

पुष्य नक्षत्र के लगते ही शहर में पटाखा दुकाने आज से लगनी शुरू हो गई। रामलीला मैदान और बाल मंदिर के सामने 23 अक्टूबर से 31 तक याने आठ दिन तक लगने वाली पटाखा दुकानों की नीलामी पालिका प्रबंधन ने पूरी करने के बाद दुकानों को शुरू करने की अनुमति दे दी। इस बार शासन के कड़े निर्देश पर मानक से ज्यादा शोर करने वाली पटाखों के भण्डारण और विक्रय करने पर प्रतिबंध रहेगा। साथ ही हर पटाखा विक्रेताओं को अपनी दुकान में अग्निशमन यंत्र भी रखने की कड़ी हिदायत दी गई हैं। पालिका प्रबंधन ने भी अपनी ओर से भी दोनों पटाखा मार्किट के पास पानी के टैंकर के अलावा अग्निशमन वाहन और रेत की व्यवस्था की हुई है। ऐसा इसलिए क्योकि किसी भी क़िस्म की आगजनी की दुर्घटना पर तत्काल काबू पाया जा सके। 

 

इन पटाखों पर प्रतिबन्ध 

प्रशासन के कड़े निर्देश के बाद पालिका प्रबंधन ने पटाखा विक्रेताओं को कड़ी हिदायत दी है कि प्रतिबंधित याने चाइनीज पटाखों का भण्डारण और विक्रय न  करे। इसके अलावा मानक से ज्यादा आवाज करने वालों पटाखों का विक्रय पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। समय -समय पर इसकी जाँच की भी व्यवस्था पालिका प्रबंधन ने की हुई है। 

 

आबाद होने लगा मटन मार्केट 

थोक सब्जी मंडी के सफल व्यवस्थापन के बाद पालिका प्रशासन की पहल पर बना नया मार्केट आबाद होने लगा है। नीलामी के बाद यहाँ 20 दुकानें शुरू हो गई है। शेष 57 दुकानदारों ने नये मटन मार्केट में जाने के लिए समय माँगा है। जिन 20 दुकानदारों ने अपनी दुकानें यहाँ शिफ्ट की है उन्हें बिजली कनेक्शन के लिए पालिका ने अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर दिया है। 

 

इस बार दो जगहों पर पटाखा दुकानें लगेंगी। ये 23 से 31 अक्टूबर तक कारोबार कर सकेंगी। इसी तरह नये मटन मार्केट में 20 दुकानें शिफ्ट हो गई है। शेष दुकानदारों ने यहाँ जाने के लिए समय माँगा है। 

डॉ मोहन बांधे (अध्यक्ष नपा भाटापारा )

दूरसंचार कंपनियों के मुताबिक जियो की मुफ्त कॉल से होता है ‘नेटवर्क जाम’

मुंबई: मौजूदा दूरसंचार कंपनियों भारती एयरटेल, वोडाफोन व आइडिया ने नेटवर्क के कंजेशन के लिए नयी कंपनी रिलायंस जियो के नि:शुल्क वॉइस कॉल को जिम्मेदार बताया है. बता दें कि दूरसंचार नियामक ट्राई ने इन कंपनियों से कॉल नहीं लगने या विफल रहने की ऊंची दर का कारण बताने को कहा था. ट्राई ने इन कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए थे. सूत्रों ने कहा कि ट्राई कंपनियों के जवाबों का अध्ययन कर रहा है और इस बारे में कोई फैसला हफ्ते भर में किया जा सकता है.

उन्होंने कहा‘ट्राई को भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेल्यूलर से जवाब मिल गया है. अपने जवाब में इन कंपनियों ने कहा है कि रिलायंस जियो द्वारा मुफ्त वॉइस कॉल से ग्राहक ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं और इंटरकनेक्शन प्वाइंट पर ट्रेफिक बढ़ गया है.’हालांकि उक्त तीनों कंपनियों ने इस बारे में ईमेल का जवाब देने से इन्कार किया. रिलायंस जियो ने सितंबर के पहले सप्ताह में अपनी 4जी सेवाओं की शुरआत की. कंपनी ने अपने ग्राहकों के लिए वॉइस कॉल हमेशा के लिए मुफ्त रखने की घोषणा की है. जियो का आरोप है कि मौजूदा कंपनियां उसे पर्याप्त इंटरकनेक्शन प्वाइंट उपलब्ध नहीं करवा रहीं जिस कारण उसके ग्राहकों की कॉल विफल हो रही हैं.