बड़ी खबर

नक्सलियों से मुठभेड़ में ITBP का एक जवान शहीद, एक घायल… विधायक चन्दन कश्यप के दौरे से पहले हुआ हमला

जगदलपुर  छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले से एक बड़ी खबर आ रही है। यहा सुरक्षाबलों व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है, जिसमें एक जवान शहीद हो गया है। जबकि एक जवान जख्मी है।
जानकारी के मुताबिक, मंगलवार की सुबह छोटे डोंगर थाना क्षेत्र के अमदई घाटी कैम्प से आईटीबीपी 45 बटालियन के जवान सर्चिंग आपरेशन पर निकले थे। इसी दौरान सुबह करीब 10 बजे डोंगर हिल्स की ओर जाने वाले मोड़ के पास नक्सलियों ने जवानों पर अचानक फायरिंग शुरू कर दी
जवानों ने भी मोर्चा संभाला और नक्सलियों का मुंहतोड़ जवाब दिया। इस एनकाउंटर में आईटीबीपी का एक जवान शहीद हो गया है। वहीं एक अन्य जवान घायल है। मुठभेड़ में शहीद जवान का नाम शिव कुमार मीणा है। वह राजस्थान के रहने वाले थे। 
घटना की पुष्टि बस्तर आईजी सुंदरराज पी ने की है। उन्होंने बताया कि रोड ओपनिंग के लिए निकले जवानों पर घात लगाए नक्सलियों ने फायरिंग की। जवानों ने भी इस हमले का जवाब दिया। आईजी ने कहा कि विधायक कश्यप सुरक्षित हैं।
बताया गया है कि घटनास्थल पर अभी भी रूक रूक कर गोलीबारी हो रही है। जवान मौके पर डटे हुए हैं। वहीं मुठभेड़ में घायल जवान को मौके से निकालने की तैयारी की जा रही है।
बताया जा रहा है कि नारायणपुर विधायक व प्रदेश हस्तशिल्प बोर्ड के अध्यक्ष चन्दन कश्यप का आज इस इलाके में दौरा था। सुरक्षा के लिहाज से रोड ओपनिंग पार्टी लगाई गई थी। इसी दौरान नक्सलियों ने सर्चिंग पर निकले जवानों पर गोलीबारी कर दी।

ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट के 103 और वर्ष 2001 से वर्ष 2018 तक के 55 एमओयू कार्यवाही प्रारंभ नहीं होने के कारण निरस्त करने का निर्णय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर, 15 जुलाई 2021मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि प्रदेश में मक्का और गन्ना से एथेनॉल तैयार करने के प्लांट की स्थापना के लिए पूंजी निवेश के प्रस्तावों को परीक्षण के बाद जल्द से जल्द स्वीकृति प्रदान की जाए। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास कार्यालय में राज्य निवेश प्रोत्साहन बोर्ड की 15 वीं बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी उद्योगों की समस्याओं को दूर करने के लिए दो समितियों का गठन किया जाए। नीतिगत मामलों के संबंध में उद्योग मंत्री की अध्यक्षता तथा क्रियान्वयन संबंधी मामलों के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में समिति का गठन किया जाए। उन्होंने कहा कि इन समितियों के माध्यम से कृषि आधारित उद्योगों तथा बस्तर अंचल में लौह खनिज आधारित उद्योगों की स्थापना के कार्य में भी तेजी लाने के प्रयास किए जाएं। राज्य निवेश प्रोत्साहन बोर्ड की बैठक में वर्ष 2001-18 और वर्ष 2012 में आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट के दौरान राज्य में उद्योगों की स्थापना के लिए किए गए एमओयू के क्रियान्वयन की स्थिति की समीक्षा की गई। वर्ष 2001 से 2018 तक के 55 एमओयू तथा वर्ष 2012 में ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट के दौरान किए गए 103 एमओयू में निष्क्रियता के चलते किसी भी प्रकार की कार्यवाही प्रारंभ नही होने के कारण इन दोनों को मिलाकर कुल 158 एमओयू निरस्त करने का निर्णय लिया गया। बैठक में जानकारी दी गई कि वर्ष 2001 से 2018 के बीच 3 लाख 3 हजार 115 करोड़ 70 लाख रूपए के पूंजी निवेश के 211 एमओयू किए गए थे, इनमें वास्तविक पूंजी निवेश 78776.36 करोड़ रूपए का हुआ है। 67 एमओयू में उत्पादन प्रारंभ हो चुका है, 61 एमओयू में क्रियान्वयन प्रारंभ हो गया है, जबकि 55 एमओयू में कार्य प्रारंभ नहीं हुए हैं, जिन्हें निरस्त करने का निर्णय लिया गया। इसी प्रकार ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट में 93 हजार 830 करोड़ रूपए 69 लाख रूपए पूंजी निवेश के 275 एमओयू किए गए थे, इनमें से वास्तविक पूंजी निवेश 2003.59 करोड़ रूपए का हुआ है। 6 परियोजनाओं में उत्पादन प्रारंभ हो चुका है। 25 परियोजनाओं में स्थल चयन कर क्रियान्वयन प्रारंभ हो गया है। शेष 103 एमओयू में कोई कार्य प्रारंभ नही हुआ है, जिन्हें निरस्त करने का निर्णय लिया गया। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि वर्ष 2019 से अब तक 115 एमओयू प्रभावशील हैं। इनमें प्रस्तावित पूंजी निवेश 46 हजार 937 करोड़ रूपए हैं। 92 परियोजनाओं में क्रियान्वयन प्रारंभ हो चुका है और एक में उत्पादन भी शुरू हो गया है। 23 नवीन एमओयू में कार्य प्रारंभ होना है। बैठक में उद्योग मंत्री कवासी लखमा, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर, कृषि एवं जलसंसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, वाणिज्य एवं उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव मनोज कुमार पिंगुआ, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, विशेष सचिव ऊर्जा अंकित आनंद, संचालक उद्योग अनिल टुटेजा और सीएसआईडीसी के प्रबंध संचालक अरुण प्रसाद मुख्यमंत्री निवास में उपस्थित थे। श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग रेणु जी. पिल्ले, आबकारी विभाग के सचिव निरंजन दास, राजस्व सचिव रीता शांडिल्य वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा बैठक में शामिल हुईं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रथ यात्रा पर्व में हुए शामिल शंख बजाकर और विधिवत पूजा अर्चना कर महाप्रभु जगन्नाथ से प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की

 रायपुर, 12 जुलाई 2021 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज रथ दूज के अवसर पर  अपने निवास कार्यालय में महाप्रभु जगन्नाथ, माता सुभद्रा एवं भगवान बलभद्र जी का मंत्रोच्चार एवं शंख ध्वनि के साथ विधिवत पूजा अर्चना कर महाप्रभु जगन्नाथ से प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि और निरोगी जीवन की कामना करते हुए सभी को रथ-यात्रा पर्व की बधाई एवँ शुभकामनाएं दी।
 मुख्यमंत्री बघेल गायत्री नगर स्थित जगन्नाथ मंदिर से वर्चुअल रूप से जुड़ते हुए महाप्रभु जगन्नाथ के दर्शन किए और रथ यात्रा महोत्सव में शामिल हुए। मुख्यमंत्री बघेल ने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि भगवान जगन्नाथ ओडिशा और छत्तीसगढ़ की संस्कृति से समान रूप से जुड़े हुए हैं। रथ-दूज का यह त्यौहार ओडिशा की तरह छत्तीसगढ़ की संस्कृति का भी अभिन्न हिस्सा है। छत्तीसगढ़ के शहरों में आज के दिन भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। उत्कल  संस्कृति और दक्षिण कोसल की संस्कृति के बीच की यह साझेदारी अटूट है। ऐसी मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ का मूल स्थान छत्तीसगढ़ का शिवरीनारायण-तीर्थ है। यहीं से वे जगन्नाथपुरी जाकर स्थापित हुए। शिवरीनारायण में ही त्रेता युग में प्रभु श्रीराम ने माता शबरी के मीठे बेरों को ग्रहण किया था। यहाँ वर्तमान में नर-नारायण का मंदिर स्थापित है। शिवरीनारायण में सतयुग से ही त्रिवेणी संगम रहा है, जहां महानदी, शिवनाथ और जोंक नदियों का मिलन होता है। छत्तीसगढ़ में भगवान राम के वनवास-काल से संबंधित स्थानों को पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित करने के लिए शासन ने राम-वन-गमन-परिपथ के विकास की योजना बनाई है। इस योजना में शिवरीनारायण भी शामिल है। शिवरीनारायण के विकास और सौंदर्यीकरण से ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक साझेदारी और गहरी होगी।
बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भगवान जगन्नाथ से जुड़ा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र देवभोग भी है। भगवान जगन्नाथ शिवरीनारायण से पुरी जाकर स्थापित हो गए, तब भी उनके भोग के लिए चावल देवभोग से ही भेजा जाता रहा। देवभोग के नाम में ही भगवान जगन्नाथ की महिमा समाई हुई है।
उन्होंने ने बताया कि बस्तर का इतिहास भी भगवान जगन्नाथ से अभिन्न रूप से जुड़ा हुआ है। सन् 1408 में बस्तर के राजा पुरुषोत्तमदेव ने पुरी जाकर भगवान जगन्नाथ से आशीर्वाद प्राप्त किया था। उसी की याद में वहां रथ-यात्रा का त्यौहार गोंचा-पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस त्यौहार की प्रसिद्धि पूरे विश्व में है। उत्तर-छत्तीसगढ़ में कोरिया जिले के पोड़ी ग्राम में भी भगवान जगन्नाथ विराजमान हैं। वहां भी उनकी पूजा अर्चना की बहुत पुरानी परंपरा है।

ओड़िशा की तरह छत्तीसगढ़ में भी भगवान जगन्नाथ के प्रसाद के रूप में चना और मूंग का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस प्रसाद से निरोगी जीवन प्राप्त होता है। जिस तरह छत्तीसगढ़ से निकलने वाली महानदी ओडिशा और छत्तीसगढ़ दोनों को समान रूप से जीवन देती है, उसी तरह भगवान जगन्नाथ की कृपा दोनों प्रदेशों को समान रूप से मिलती रही है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि यह समय, पूरे विश्व के लिए कठिन समय है। कोरोना महामारी ने हम सभी को बहुत पीड़ा दी है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर के समय हमने बहुत कुछ खोया है। अब भी संकट टला नहीं है। विशेषज्ञ चेतावनी दे रहे हैं कि  तीसरी लहर भी आ सकती है। भगवान जगन्नाथ से प्रार्थना है कि वे हमें इस संकट से उबारें। वे इस महामारी से हम सबकी रक्षा करें। उन्होंने लोगों से अपील की कि रथ-यात्रा पर्व का आनंद लेते हुए भी सभी मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सैनेटाइजेशन के नियमों का पालन करें। नियमों का पालन करके ही आप स्वयं को, तथा अपने परिवार को सुरक्षित रख पाएंगे। जिन लोगों ने अब तक कोरोना का टीका नहीं लगवाया है उन्हें जल्दी से जल्दी टीका लगवा लेना चाहिए।
   

रमेश बैस होंगे झारखंड के नए राज्यपाल

 नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के कई राज्यों में नया राज्यपाल नियुक्त किया है. मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल बनाया गया है वहीं हरि बाबू कंभमपति को मिजोरम का राज्यपाल नियुक्त किया गया है. इसके साथ ही मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्य प्रदेश, राजेंद्रन विश्वनाथ अर्लेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है. उधर श्रीधरन पिल्लई को गोवा. सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा, रमेश बैस को झारखंड और बंडारू दत्तात्रेय को हरियाणा का राज्यपाल नियुक्त किया गया है.

रायपुर : मुख्यमंत्री ने चिकित्सकों को दी डॉक्टर्स डे की बधाई कोरोना काल में डॉक्टर्स द्वारा की गई मानवता की निःस्वार्थ सेवा को पीढ़ियों तक याद किया जाएगा: भूपेश बघेल

रायपुर,  01जुलाई 2021 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ’नेशनल डॉक्टर्स डे’ के अवसर पर देश और प्रदेश के सभी चिकित्सकों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी है। इस अवसर पर श्री बघेल ने उन सभी चिकित्सकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए नमन किया है, जिन्होंने कोविड-19 की चुनौतियों से एक सैनिक की तरह जंग लड़ी और हजारों लोगों की जान बचाते हुए अपनी जान गंवा दी।

    मुख्यमंत्री ने अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि हर साल महान चिकित्सक और पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री भारत रत्न डॉ. बिधानचंद्र राय की स्मृति में उनकी पुण्यतिथि एक जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे के रूप में मनाया जाता है। यह दिन चिकित्सकों की सेवा, समर्पण के प्रति सम्मान और आभार प्रगट करने का दिन है। श्री बघेल ने कहा कि डॉक्टरों को धरती के भगवान की संज्ञा गई है। इस पर कोरोना काल ने फिर से मुहर लगाई है। डॉक्टर्स कोरोना वारियर के रूप में आगे आए हैं। पूरे विश्व में हजारों डॉक्टर्स अपनी जान की परवाह न करते हुए लोगों की जान बचाने में लगे हैं। श्री बघेल ने डॉक्टर्स को उनकी अमूल्य सेवाओं के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि कोरोना काल में डॉक्टर्स द्वारा की गई मानवता की निःस्वार्थ सेवा को पीढ़ियों तक याद किया जायेगा।
 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों से की अपील : कहा एक जुलाई से अपने गांव में शुरू करें रोका-छेका

पशुपालक अपने पशुओं को खुले में न छोड़े, गौठानों में भेजें

गौठानों में चारा-पानी का पूरा प्रबंध

बीमारियों से बचाव के लिए पशुओं को टीका जरूर लगवाएं

रायपुर, 28 जून 2021 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के किसानों से अपील की है कि वे छत्तीसगढ़ की परंपरा के अनुरूप एक जुलाई से अपने-अपने गांवों में रोका-छेका अभियान शुरू करें। साथ ही उन्होंने कहा कि पशुपालक अपने पशुओं को खुले में चराई के लिए छोड़ने के बजाय उन्हें गोठानों में भेजें, जहां चारे-पानी का प्रबंध किया गया है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने किसानों तथा पशुपालकों के नाम अपने संदेश में कहा है कि बरसात के दिनों में पशुओं में गलघोटू और एकटंगिया की बीमारी होती है। इससे बचाव के लिए अपने पशुओं को टीका जरूर लगवाएं। 

 बघेल ने कहा है कि ईश्वर की कृपा से इस बार हमारे राज्य में मानसून सही समय पर आ गया हैं। राज्य में अब तक पर्याप्त बारिश हो चुकी है। किसान भाई अपने खेतों में फसल की तैयारी में लग गए हैं। राज्य के जलाशयों एवं तालाबों में भी भरपूर पानी उपलब्ध है। किसान भाईयों को खाद-बीज उनकी आवश्यकता के अनुरूप सहकारी समितियों से मिल सके इस पर हम विशेष ध्यान दे रहे हैं। सभी सोसायटियों में रासायनिक उर्वरकों एवं प्रमाणित बीजों का भण्डारण लगातार किया जा रहा है। हम राज्य में इस बार दलहनी और तिलहनी फसलों पर अधिक जोर दे रहे हैं। इन फसलों का उत्पादन बढ़ने से किसान भाईयों को ज्यादा लाभ मिलेगा। हमने दलहन-तिलहन, अरहर, सोयाबीन, मक्का, गन्ना, कोदा-कुटकी, सुगंधित धान की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए इसे राजीव गांधी किसान न्याय योजना में शामिल कर लिया है। धान के साथ-साथ अन्य प्रमुख खरीफ फसलों की खेती करने वाले किसान भाईयों को भी प्रति एकड़ के मान से 9 हजार रूपए की आदान सहायता देंगे। बीते खरीफ सीजन में जिन किसान भाईयों ने धान की खेती की थी, वह यदि इस साल उसी रकबे में धान के बदले अन्य फसलों का उत्पादन अथवा वृक्षारोपण करेंगे, तो उन्हें प्रति एकड़ के मान से 10 हजार रूपए की आदान सहायता देने का प्रावधान किया है।वृक्षारोपण करने वाले किसान भाईयों को यह आदान सहायता आगामी तीन वर्षों तक मिलेगी।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की सरकार किसानों की अपनी सरकार है। सरकार बनने के बाद से शासन द्वारा लिये गये सारे निर्णयों के मूल में किसान ही हैं। चाहे कर्ज माफी की बात हो, नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी की बात हो, सिंचाई कर को माफ करने का निर्णय हो सब किसानों को ध्यान में रखकर ही लिए गये हैं।मुझे पूरा विश्वास है कि हमारे अन्न दाता किसान भाई पिछले वर्षों के मुकाबले इस बार और बेहतर फसल उत्पादन करेंगे। 

डायलिसिस के लिए अब मरीजों को मिलेगी निःशुल्क सुविधा-श्री सिंहदेव

छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव ने बुधवार को शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय से संबद्ध जिला चिकित्सालय में 4 बेडेड डायलिसिस यूनिट का उद्घाटन किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ श्रम कल्याण मण्डल के अध्यक्ष श्री शफी अहमद, छत्तीसगढ़ वन औषधि पादप बोर्ड के अध्यक्ष श्री बालकृष्ण पाठक, मेयर डॉ. अजय तिर्की, जिला पंचायत सदस्य एवं जिला रेड क्रास सोसायटी के चेयरमेन श्री आदित्येश्वर शरण सिंहदेव, श्री राकेश गुप्ता, डीन डॉ. आर मूर्ति, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. लखन सिंह, सी.एम.एच.ओ. डॉ. पीएस सिसोदिया सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे । उद्घाटन के दिन ही  तीन मरीजों का निःशुल्क डायलिसिस किया गया।
    उद्घाटन अवसर पर श्री सिंहदेव ने कहा कि लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही है। इसी क्रम में आज शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय संबद्ध जिला चिकित्सालय में 4 बेडेड डायलिसिस यूनिट आमजन को समर्पित किया गया। डायलिसिस यूनिट शुरू होने से अब एक साथ चार मरीजों को डायलिसिस की सुविधा मिलेगी। डायबिटीज एवं अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीजों के लिए डायलिसिस कराना जरूरी हो जाता है । जिला मुख्यालय में 4 यूनिट डायलिसिस शुरू होने और निःशुल्क सेवा का लाभ मिलने से मरीजों को राहत मिलेगी। यह डायलिसिस सेवा जीवनधारा कार्यक्रम के अंतर्गत निःशुल्क प्रदान की जाएगी।
    
    इस दौरान श्री सिंहदेव ने जशपुर जिला चिकित्सालय में 5 यूनिट डायलिसिस का वर्चुअल उद्घाटन किया। तत्पश्चात उन्होंने ट्रू-नाट लैब का अवलोकन किया और एक वर्ष के सफल क्रियान्वयन पर लैब के अधिकारी एवं कर्मचारियों को बधाई दी और भविष्य में भी लगनपूर्वक कार्य निष्पादन करने कहा। बताया गया कि ट्रू-नाट से  अब तक 42 हजार कोरोना टेस्ट किया गया है।

बीजापुर : नगर सेना ने महादेव तालाब में किया मॉकड्रिल, बाढ़ एवं आपदा से बचाव की तैयारी हुई पूर्ण,

नगर सेना बीजापुर के सैनिकों ने आगामी बरसात में संभावित बाढ़ एवं आपदा से बचाव के लिए महादेव तालाब में मॉकड्रिल कर परीक्षण किया। बाढ़ एवं संकट में फंसे किसी व्यक्ति को कैसे बचाया जाये, इसका उपस्थित लोगों के बीच जीवंत प्रदर्शन किया गया। ताकि वास्तविक संकट के हालात से सामना होने पर किसी प्रकार के चूक की गुंजाइश न हो। बचाव में काम आने वाली वाटर बोट, एल्युमीनियम बोट, एचडीपीई बोट सभी उपकरण सही एवं चालू हालत में पाए गये।  बाढ़ आपदा प्रबंधन प्रभारी  एवं एसडीएम भोपालपटनम डॉ हेमेंद्र भुआर्य ने  बाढ़ एवं आपदा से सबंधित जानकारी का जायजा लिया।
       जिला सेनानी नगर सेना श्री एन एस नेताम के नेतृत्व में मॉकड्रिल के प्रथम चरण की कार्रवाई आज सम्पन्न हुई। उन्होंने बताया कि बरसात का सीजन शुरू होने के पूर्व संभावित आपदा को ध्यान में रखते हुए यह मॉकड्रिल किया गया तथा बाढ़ आपदा के समय काम आने वाले उपकरणों की कार्यप्रणाली का जायजा लिया गया। श्री नेताम ने बताया कि बाढ़ बचाव दल में 30 सदस्यों की टीम चौबीसों घण्टे आपदा से निपटने के लिए तैयार रहती है। नगर सेना, नागरिक सुरक्षा, अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवा एवं एसडीआरएफ  तथा जिला प्रशासन के आदेश एवं निर्देशन में यह बाढ़ बचाव टीम हमेशा तैयार रहती है। नगर सेना के प्लाटून कमांडर श्री निर्मल साहू के नेतृत्व में माकड्रिल महादेव तालाब बीजापुर में कुशलता पूर्वक संपन्न हुआ। इस अवसर पर नगर सेना के कंपनी कमांडर पिटर तिर्की, सूबेदार एम श्री एन के नाग, नायक कृष्णा, मुसाराम सहित अन्य नगर सेना के जवान मौजूद रहे।

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कोरोना से सुरक्षा के लिए सभी नागरिकों से टीका लगवाने की अपील की

 

 

कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन जारी रखें, कोरोना संक्रमण कम हुआ है खत्म नहीं

कार्यस्थलों, बाजारों, समारोहों एवं सार्वजनिक स्थलों में बरतें सावधानी, लापरवाही से दोबारा बढ़ सकता है संक्रमण
 


रायपुर. 23 जून 2021

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सभी नागरिकों से टीका लगवाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि वर्तमान परिस्थितियों में टीका ही कोरोना से बचने का सबसे प्रभावी उपाय है। हालांकि प्रदेश में पिछले दो दिनों से एक लाख से अधिक लोग टीका लगवा रहे हैं, पर इस संख्या को बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने लोगों से स्वयं और अपने परिजनों को टीका लगवाने के साथ ही दूसरे लोगों को भी टीकाकरण के लिए प्रेरित करने को कहा है।
    मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर अब लगभग शांत हो चुकी है। संक्रमण-दर मात्र एक प्रतिशत के आसपास रह गई है। नए मरीज भी बहुत कम आ रहे हैं। राज्य में आर्थिक गतिविधियां फिर से तेज हो रही हैं। बाजारों की रौनक लौट रही है। इन सबके बीच हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना का प्रकोप कम जरूर हुआ है, पर खत्म नहीं हुआ है। हमें कोविड अनुकूल व्यवहार को छोड़ना नहीं है। यह समय और अधिक सतर्क रहकर अपनी जिम्मेदारियां वहन करने का है। आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। घर से बाहर निकलकर दफ्तर, बाजार, फैक्ट्री, खेत-खलिहान की ओर जाते समय पूरी सुरक्षा और सावधानी रखें।
    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने प्रदेशवासियों को कोरोना के खतरों के प्रति आगाह करते हुए कहा कि दूसरी लहर में हमने बहुत कुछ खोया है। आर्थिक नुकसान तो हुआ ही, बहुत से प्रियजनों को भी कोरोना ने हमसे छीन लिया। यदि हम अब भी सचेत नहीं हुए तो तीसरी लहर को रोका नहीं जा सकेगा। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण को नियंत्रण में लाने में हमारे डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों, नर्सों, मितानिन बहनों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं, फ्रंटलाइन वर्कर्स, नगरीय निकायों और पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारियों, सफाई कर्मियों, सामाजिक और स्वयंसेवी संस्थाओं ने अथक परिश्रम किया है।

    मुख्यमंत्री ने सभी नागरिकों से अपील की है कि वे मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग और हाथों की साफ-सफाई संबंधी अनुशासन का कड़ाई के साथ स्वयं भी पालन करें और दूसरों से भी करवाएं। सैनेटाइजर या साबुन से बार-बार अपने हाथ धोते रहें। सामाजिक-आयोजनों में भी न्यूनतम उपस्थिति सुनिश्चित करें, ताकि वायरस फिर फैल न पाए। फिलहाल सावधानी बरतना और टीका लगवाना ही एकमात्र उपाय है। टीका लगवाने में कोई खतरा नहीं है, बल्कि यह हमें भविष्य में होने वाले खतरे से बचाएगा। उन्होंने कहा कि शहरों और गांवों में लोग बड़े उत्साह से टीका लगवा रहे हैं। जितनी जल्दी हम टीका लगवाएंगे, उतनी जल्दी हम अपना भविष्य सुरक्षित करते जाएंगे। मैंने खुद अस्पताल में जाकर टीका लगवाया है और अब मैं खुद को ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहा हूं।
    श्री बघेल ने कहा कि टीका को लेकर किसी के भी मन में डर या आशंका नहीं होनी चाहिए क्योंकि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीका ही एकमात्र हथियार है। प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए टीके की पहली और दूसरी डोज को मिलाकर 78 लाख से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं।  सभी शासकीय अस्पतालों में टीका निःशुल्क लगाया जा रहा है। सभी जिला अस्पतालों, सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में इसकी व्यवस्था की गई है। तेजी से टीकाकरण के लिए पांच हजार से अधिक टीकाकरण केन्द्र बनाए गए हैं।हम संपूर्ण टीकाकरण का लक्ष्य जितनी तेजी से हासिल करेंगे, उतनी ही जल्दी हमारा प्रदेश कोरोना से सुरक्षित हो सकेगा। यदि आपने टीका लगवा लिया है, तो दूसरों को भी प्रेरित करें।

रायपुर : गृह मंत्री ने दिल्ली में नवा छत्तीसगढ़ सदन के निर्माण कार्यों का किया निरीक्षण..

 

गृह और लोक निर्माण मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने आज नई दिल्ली प्रवास के दौरान द्वारका में बन रहे नवा छत्तीसगढ़ सदन के निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया और विभागीय अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। गृहमंत्री श्री साहू ने निर्माण कार्यों का जायजा लेते हुये तय समय सीमा के अंदर कार्य निष्पादन के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए। उन्होंने लॉकडाउन की वजह से रुके कार्यों को तीव्र गति से पूर्ण करने के भी निर्देश दिए।
    उल्लेखनीय है कि देश की राजधानी नई दिल्ली के द्वारका में 60 करोड़ 42 लाख रूपए की लागत से नवा छत्तीसगढ़ सदन का निर्माण किया जा रहा है। द्वारका के सेक्टर 13 में नवा छत्तीसगढ़ सदन के निर्माण के लिए 43 हजार 803 वर्गफीट भूमि 22.50 करोड़ रुपए में क्रय की गई है। नवा छत्तीसगढ़ सदन में 10 स्यूट रूम, 67 कमरे, डाइनिंग हॉल एंड वेटिंग सहित मीटिंग हॉल और कर्मचारियों के लिए टावर का निर्माण किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान गृहमंत्री श्री ताम्रध्वज साहू के साथ नई दिल्ली के लोक निर्माण विभाग के अधिकारी श्री आरपी यादव भी उपस्थित थे।

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने भारत स्काउट एवं गाइडस छत्तीसगढ़ राज्य परिषद के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को दिलाई शपथ

 


मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज भारत स्काउट एवं गाइडस छत्तीसगढ़ राज्य परिषद के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों के शपथ ग्रहण के वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पदाधिकारियों को शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री ने सभी नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को सफलतापूर्वक अपने दायित्वों का निर्वहन के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी।

रायपुर : छत्तीसगढ़ के हर घर में नल से जल पहुंचाने का मिशन शुरू

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रदेश के सभी 45 लाख 48 हजार ग्रामीण परिवारों को वर्ष 2023 के अंत तक उनके घरों में मुफ्त नल कनेक्शन देकर शुद्ध पेयजल प्रदाय किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य इस लक्ष्य को हर हाल में निर्धारित समयावधि में पूरा करेगा। घर-आंगन में नल से जल आपूर्ति का सबसे ज्यादा लाभ हमारी माता-बहनों को मिलेगा। जिन्हें पानी का इंतजाम करने के लिए काफी परिश्रम और समय लगाना पड़ता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत अब तक 5 लाख 66 हजार घरों में नल के माध्यम से शुद्ध पेयजल पहुंचाने का काम पूरा कर लिया गया है। शेष घरों में शुद्ध पेयजल पहुंचाने के लिए धन राशि की कमी नहीं होगी। हमने इस साल राज्य बजट में घरों तक नल कनेक्शन के माध्यम से पानी पहुंचाने के लिए 850 करोड़ रूपए का प्रावधान किया है। इस साल 22 लाख से अधिक परिवारों को नल के माध्यम से शुद्ध पेयजल आपूर्ति का काम पूरा कर लिया जाएगा।

तन और मन दोनो स्वस्थ्य होने से हम किसी भी विपरीत परिस्थति का कर सकते हैं सामना : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अपने निवास में किया योगाभ्यास

कोरोना-संकट के इस दौर में योग की प्रासंगिकता और भी बढ़ गई

 रायपुर, 21 जून 2021 मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने आज सातवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अपने रायपुर स्थित निवास कार्यालय में प्रातः योग की विभिन्न मुद्राओं का अभ्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेशवासियों को योग दिवस की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए योग को अपने दिनचर्या में इसे अनिवार्य रूप से शामिल करने की अपील की। मुख्यमंत्री  बघेल ने अपने संदेश में कहा है कि योग हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। नियमित रूप से योग करने वाले हमेशा निरोगी रहते है और कोरोना काल में यह स्पष्ट हो गया है कि केवल धन -संपदा ही महत्वपूर्ण नही है, बल्कि स्वस्थ्य तन और स्वस्थ्य मन दोनो की आवश्यकता होती है। इसलिए तंदुरूस्त रहने के लिए नियमित योग बहुत जरूरी है। योग हमारी प्राचीन परंपरा है। हमारे ऋषि-मुनियों ने इसके महत्व बहुत पहले से ही जान लिया था इसलिए योग नियमित करते थे। बीच मे हम सब भौतिक भाग-दौड़ में इसे भूल गए थे। लेकिन कोरोना काल ने हम सब को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया और ऐसे समय में यदि हम सब नियमित रूप से योग करें तो तन भी स्वस्थ्य रहेगा और मन भी स्वस्थ्य रहेगा। आपके जीवन में सकारात्मकता आएगी। इसलिए योग नियमित करें, इसका लाभ उठाएं। पूरे परिवार सहित पूरे छत्तीसगढ़ के लोग इसे अपनाएं। श्री बघेल ने कहा कि तन और मन दोनो स्वस्थ्य रहेंगे तो हम किसी भी विपरीत परिस्थिति का सामना कर सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय में हमने सिर्फ भौतिक साधनों को ही सफलता का पैमाना मान लिया है, जबकि स्वस्थ तन और स्वस्थ मन के बिना हर सफलता अधूरी है। कोरोना-संकट के इस दौर में योग की प्रासंगिकता और भी बढ़ गई है। छत्तीसगढ़ शासन ने वर्चुअल माध्यम से योग के प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की है, इसका लाभ अवश्य उठाएं। तन-मन से चुस्त-दुरुस्त रहकर ही हम गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के सपने को तेजी से साकार कर सकते हैं।
      अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य में वर्चुअल योग मैराथन का आयोजन हुआ। इसमें भाग लेने के लिए 10 लाख से अधिक लोगों ने अपना पंजीयन कराया है। वर्चुअल योग मैराथन में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अपील पर लाखों लोगों ने भाग लिया औरयोग को जीवन का हिस्सा बनाने का संदेश दिया।

उमेश पटेल होंगे बलौदा बाजार भाटापारा जिले के प्रभारी मंत्री कई जिलों के प्रभारी मंत्री बदले गये… देखिये पूरी लिस्ट

रायपुर,20 जून 2021। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को बिलासपुर के प्रभारी मंत्री पद से हटा दिया गया है। अब राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल बिलासपुर के प्रभारी मंत्री होंगे। बिलासपुर के अलावा कुछ और जिलों के भी प्रभारी मंत्री बदले गये हैं। जिसमे बलौदाबाजार भी शामिल है जारी सूची के मुताबिक टीएस सिंहदेव को बेमेतरा और कबीरधाम का प्रभारी बनाया गया है।उमेश पटेल बलौदाबाजार, बालोद, जशपुर ताम्रध्वज साहू अब महासमुंद और कोरिया, रविंद्र चौबे पूर्व की भांति रायपुर के प्रभारी बने रहेंगे। प्रेमसाय सिंह रायगढ़ और कोरबा, मोहम्मद अकबर दुर्ग, कवासी लखमा बस्तर, दक्षिण बस्तर, दंतेवाड़ा, बीजापुर, कोंडागांव, नारायणपुर का प्रभार देखेंगे। वहीं शिवकुमार डहरिया सरगुजा, बलरामपुर-रामानुजगंज, सूरजपुर, अनिला भेड़िया कांकेर और धमतरी, गूरू रूद्र कुमार मुगेली और सुकमा, जयसिंह अग्रवाल बिलासपुर, जांजगीर, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही, और अमरजीत भगत राजनांदगांव व गरियाबंद के प्रभारी होंगे।

छत्तीसगढ़ में तहसीलदारों को राज्य सरकार ने दिया तोहफा 56 तहसीलदार प्रमोशन के बाद बने डिप्टी कलेक्टर प्रमोशन के साथ ट्रांसफर आर्डर भी जारी… देखिय पूरी लिस्ट.....

रायपुर 19 जून 2021।  राज्य सरकार ने 56 तहसीलदारों को डिप्टी कलेक्टर के पद पर प्रमोशन देते हुए अलग-अलग जगहों पर पदस्थ किया है। राज्य सरकार ने कई तहसीलदारों को प्रमोशन देकर अलग-अलग जिलों में भेजा गया है। 6 तहसीलदार को डिप्टी कलेक्टर पद पर पदोन्नत करते हुए जनपद सीईओ बनाया गया है।