बड़ी खबर

नेता प्रतिपक्ष ने कांग्रेस को दी हिदायत , अनावश्यक राजनीति नहीं करने की सलाह..कांग्रेस पार्षद और सभापति आपस में भिड़े।

बिलासपुर छत्तीसगढ़ : अजीत मिश्रा :

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने बिलासपुर शहर के कांग्रेसी नेताओं का अनावश्यक राजनीति नहीं करने की सलाह दी है। दरअसल प्रतिपक्ष ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि, इन दिनों शहर में पीलिया और डायरिया जैसी बीमारी ने अपना पैर पसार रखा है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के सभापति और पार्षद आपस में बड़े हुए हैं । ऐसे में नेता प्रतिपक्ष और बीजेपी के वरिष्ठ नेता होने के नाते, धरमलाल कौशिक ने सभापति शेख नसरुद्दीन और पार्षद विजय केसरवानी सहित तमाम कांग्रेसियों को सलाह दी है कि वे अनावश्यक राजनीति ना करें । इसके उल्टे शहर को संक्रमण से बचाने के लिए मिलकर प्रयास करने की जरूरत है । इसके लिए उन्होंने राजधानी रायपुर का उदाहरण दिया है । जहाँ आज पीलिया जैसे बीमारी की वजह से सैकड़ों लोगों की जान को खतरे में बनी हुई है।

शराब दुकान को लेकर चौतरफा विरोध.. प्रदेश के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ : अमित जोगी।

बिलासपुर छत्तीसगढ़ : अजीत मिश्रा :

शराब की खपत में आएगी भारी बढ़ोतरी।
प्रति व्यक्ति शराब का सेवन बढ़ेगा। 

 

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रमुख अमित जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लेकर विवादित बयान दिया है । दरअसल अमित जोगी ने पूछा है कि, आखिर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को सद्बुद्धि कब आएगी..?  उन्होंने ऐसा इसलिए कहा- क्योंकि सरकार ने शराब दुकान खोलने का निर्णय लिया है और शराब के होम डिलीवरी के सुविधा के साथ।  अमित जोगी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री की तुलना धृतराष्ट्र से भी कर दी 

लॉक डाउन को सफल बनाने में बिलासपुर पुलिस द्वारा लगातार प्रयास जारी सुबह से लगातार कि जा रही है पेट्रोलिंग जारी लॉग डॉन को सफल बनाने एनसीसी के जवान भी हुए शामिल

बिलासपुर छत्तीसगढ़ : अजीत मिश्रा :

कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन को दो हफ्तों के लिए बढ़ा दिया गया है 17 मई 2020 तक संपूर्ण जिले में धारा 144 लागू कर सभी प्रकार के स्थलों जहां जनसामान्य इकट्ठा होते हैं प्रतिबंधित कर दिया गया है

जिला प्रशासन द्वारा संपूर्ण जिले में पूर्ण रूप से लॉक डाउन का ऐलान किया गया है जिसमें केवल जरूरी सामान जैसे मिल्क पार्लर, मेडिकल एवं पी0डी0एस0 दुकानों को निर्धारित समय तक के लिए ही खुला रखने हेतु आदेशित किया गया है।

जिस पर से आज बिलासपुर पुलिस द्वारा सुबह-सुबह सभी पुलिस अधिकारी/ कर्मचारी को ब्रीफ कर शहर के संपूर्ण क्षेत्रों मे लगातार पेट्रोलिंग करने हेतु आदेशित किया गया साथ ही एनसीसी  के कैडेट्स को पेट्रोलिंग में शामिल किया गया एवं लॉकडॉउन का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर करोना महामारी अधिनियम के तहत कड़ी कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया।

छत्तीसगढ़ में शराब की होम डिलीवरी..?..नेता प्रतिपक्ष ने जताया घोर विरोध।

बिलासपुर छत्तीसगढ़ : अजीत मिश्रा :

कांग्रेस सरकार की कड़ी आलोचना।
सरकार बस पैसे कमाना चाहती है-कौशिक।
इससे लोगों में बढ़ेगी शराब की लत। 

नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक की मानें तो जल्द ही छत्तीसगढ़ में शराब की होम डिलीवरी होने वाली है..!  इसके लिए उन्होंने उस पत्र का हवाला दिया जिसे राज्य सरकार ने आबकारी विभाग विभाग के मार्फत रविवार को सर्कुलेट किया था। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने स्पष्ट शब्दों में इस निर्णय की कड़ी आलोचना की है।  इनकी माने तो शराब की होम डिलीवरी किसी भी मायने में सही नहीं हो सकती।  इससे प्रदेश में शराब खोरी तेजी से बढ़ेगी।  वहीं राज्य सरकार केवल पैसे कमाना चाहती है।  इसलिए इस तरह के निर्णय लिया जा रहे हैं। विशेष रूप से उन्होंने आदेश पत्र के चौथे क्रमांक का उल्लेख करते हुए यह आरोप लगाया कि किस तरह से राज्य सरकार शराब से कमाई करना चाहती है  और शराब बिक्री से होने वाले कमाई को लेकर भी राज्य सरकार की नीयत साफ नहीं है। 

हेलीकॉप्टर से फूलों की बारिश कर कोरोना वाॅरियर्स को दी गई सलामी वायुसेना द्वारा फ्लाई पास्ट कर रायपुर के एम्स अस्पताल के ऊपर की गई फूलों की बारिश

  रायपुर कोरोना महामारी में जान की परवाह किए बगैर दिन-रात सेवा में लगे डाक्टर्स, नर्स, पैरामेडिकल स्टाॅफ,पुलिसकर्मियों और सफाई कर्मियों के उत्साह और सम्मान के लिए भारतीय सेना द्वारा आज फ्लाई पास्ट किया गया। राजधानी रायपुर के एम्स अस्पताल के ऊपर वायु सेना के हेलीकॉप्टर के जरिए फूलों की बारिश कर इन कोरोना वाॅरियर्स का सम्मान किया गया।

केन्द्रीय शासन के भ्रष्ट अधिकारी 30,000 रूपये रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों पकड़ा गया एसीबी की कार्यवाही

रायपुर: नीरज कुमार ठाकुर पिता इन्द्र बहादूर कैलाशपुरी चैंक, बुढ़ा तालाब रायपुर ने दिनांक 06.04.2020 को एक लिखित शिकायत पत्र पुलिस अधीक्षक, एन्टी करप्शन ब्यूरो, रायपुर के समक्ष प्रस्तुत किया कि संदीप राय बिलासपुर निवासी ने रेल्वे काॅलोनी सफाई का कार्य टेंडर पर लिया गया है। संदीप राय का फर्म श्री सांई छाया वेयर हाऊस बिलासपुर का प्रोपाईटर है जिसके कार्य करने के लिये आवेदक को अधिकार पत्र एवं मुख्तयार दिया गया है। आवेदक ने माह जुलाई से दिसम्बर तक का किये कार्य का बिल 15,96,000/-रूपये जमा किया है। माह जनवरी 2020 से मार्च 2020 तक के कार्य भुगतान के लिये शुंभाशीष सरकार, पिता स्व0 गोपाल चन्द्र सरकार उम्र-54 वर्ष, पद-मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक, खारून रेल विहार कालोनी, फाफाड़ीह चैक, दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे (एस0ई0सी0आर0) रायपुर द्वारा 8 प्रतिशत के हिसाब से रिश्वत की मांग की गई है। कार्य के शुरू से ही भुगतान हेतु काफी प्रताड़ित किया गया है, और लगतार बेखौफ होकर रेल्वे के अधिकारी द्वारा प्रार्थी से रिश्वत मांगी जा रही है और न देने पर उसका भुगतान रोका जाता है। प्रार्थी द्वारा रिश्वत की प्रताड़ना से तंग आकर एसीबी कार्यालय में आकर पुलिस अधीक्षक रायपुर को अपनी व्यथा बताई गयी। जिस पर संज्ञान लेते हुये शिकायत का सत्यापन कराया गया । जिसमें पाया गया कि आरोपी अधिकारी द्वारा प्रार्थी से 1,20,000/- रूपये की रिश्वत मांगी है। जिसे प्रार्थी को तीन किस्तों में देना है। सत्यापन उपरांत ट्रेप टीम का गठन किया गया एवं विधिवत कार्यवाही उपरांत आज दिनांक 30.04.2020 को अनावेदक ने आवेदक से प्रथम किस्त के रूप में 30,000/-रूपये रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों पकड़ा गया ।

देशी-विदेशी मदिरा दुकानें, रेस्टोरेंट-होटल बार और क्लब 3 मई तक रहेंगे बंद, वाणिज्यिक कर (आबकारी) विभाग ने जारी किया आदेश,

जांजगीर-चांपा :: छत्तीसगढ़ शासन द्वारा नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से आमजन को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से राज्य की सभी देशी-विदेशी मदिरा दुकानें, छत्तीसगढ़ स्टेट बेवरेजेस कॉरपोरेशन के रायपुर, बिलासपुर स्थित गोदामों सहित सभी जिलों में स्थित देशी मदिरा के मद्य भण्डागारों को आगामी 3 मई तक बंद करने का निर्णय लिया गया है। साथ ही प्रदेश के सभी रेस्टोरेंट- होटल बार और समस्त एफ. एल. 4/4क क्लब को भी आगामी 3 मई तक बंद रखने का आदेश जारी किया गया है। पूर्व में 28 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश जारी किए गए थे, जिसे बढ़ाकर अब 3 मई तक कर दिया गया है। वाणिज्यिक कर (आबकारी) विभाग द्वारा मंत्रालय महानदी भवन से इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। राज्य शासन द्वारा सभी जिला कलेक्टरों को इस आदेश का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं।

पढ़े आज सुबह की सबसे बड़ी खबरे ...

  • मोदी कैबिनेट की बैठक आज, लॉकडाउन पर हो सकती है चर्चा

  • दिल्ली : पिछले 24 घंटे में 201 मरीज ठीक हुए, अब तक कुल 1078 मरीज ठीक हुए

  • छत्तीसगढ़ में फिर एक कोरोना पॉजिटिव मिलने से फैली सनसनी

  • बिलासपुर : जुआ खेलते 8 आरोपी गिरफ्तार , कोतवाली पुलिस कि कार्यवाही

  • बिलासपुर : जिले में अब केवल रविवार को टोटल लॉकडाउन ,आदेश जारी

  • दिल्ली : कोरोना वायरस से पिछले 72 घंटे में एक भी नहीं हुई मौत

  • नोएडा के लिए आई राहत की खबर, 10 हॉटस्पॉट हुए ग्रीन जोन में शामिल

छत्तीसगढ़ में आज फिर एक कोरोना पॉजिटिव मिलने से फैली सनसनी

सरगुजा संभाग : छत्तीसगढ़ में आज फिर एक कोरोना पॉजिटिव मिला है। सरगुजा संभाग के सूरजपुर जिला में जो की स्वास्थ मंत्री टी.एस.सिंह देव का गढ़ है। जिला प्रशासन ने उसे वहीं पर 14 दिन क्वारंटीन किया था , इसके बाद उसे सूरजपुर भेजा था जिसकी रिपोर्ट पाजेटिव आयी है। सरगुजा क्षेत्र में ये पहला कोरोना पॉजेटिव केस हैं, हालांकि छत्तीसगढ़ से युवक का सीधा वास्ता नहीं है।

कोटा से बिलासपुर पहुँचे विद्यार्थी , तकरीबन 400 विद्यार्थी बिलासपुर पहुंचे ,सभी बच्चों को कोरेन्टीन में रखने की तैयारी ,14 दिन बाद ही बच्चे जा पाएंगे घर

बिलासपुर छत्तीसगढ़ : अजीत मिश्रा :

राज्य सरकार के पहल से राजस्थान कोटा में रहने वाले बच्चों को बिलासपुर लाया गया है। तकरीबन 400 बच्चों  के बिलासपुर पहुंचते ही इन्हें अलग-अलग जगहों पर क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है। इन सभी बच्चों के प्राथमिक स्वास्थ्य की जांच करने के बाद उन्हें 14 दिनों के लिए कोरेन्टीन किए जाने की तैयारी पहले से कर ली गई थी।  वही जिला प्रशासन और पुलिस ने मिलकर इन्हें अलग-अलग चार जगहों में ठहराया है जिसमें जैन इंटरनेशनल स्कूल सेंट जेवियर स्कूल कैरियर पॉइंट और एक अन्य जगह शामिल है। यह बच्चों को अलग-अलग कमरे अलग शौचालय और बिस्तर दिया गया हैं।  गौरतलब है कि बिलासपुर संभाग में दुर्ग संभाग के बच्चों को भी रखा गया है। बिलासपुर के एडिशनल एसपी ओमप्रकाश शर्मा से मिली जानकारी के अनुसार अब 14 दिनों के बाद ही अपने शहर भेजा जा सकेगा। फिलहाल पूरी व्यवस्था की जिम्मेदारी जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग की है लिहाजा बच्चों की देखरेख खाने पीने की व्यवस्था और अन्य चीजों पर विशेष ध्यान रखा जा रहा है। 

छत्तीसगढ़ बिजली कंपनी ने लिया फैसला...शुरू हो चुकी है मीटर रीडिंग।..

  • बिलासपुर सहित पूरे प्रदेश में काम शुरू।
  • सोशल डिस्टेंसिंग का रखा जाएगा ध्यान। 
  • उपभोक्ताओं को नही होगी परेशानी।

छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी ने तय किया है कि जल्द ही मीटर रीडिंग के लिए मैन पावर इस्तेमाल किया जाएगा। इसकी शुरुआत बिलासपुर शहर में 22 अप्रैल से हो चुकी है। वहीं जल्द ही प्रदेश में मीटर रीडिंग और बिलों के निरीक्षण का काम भी शुरू हो जाएगा। राज्य विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारी से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस  संक्रमण को देखते हुए कंपनी सोशल डिस्टेंस का विशेष ध्यान रखे जाने की सलाह दी गई है।  वही फील्ड में जाकर मीटर रीडिंग करने वालों से लेकर अन्य अधिकारियों को भी इस संदर्भ में जरूरी दिशा निर्देश दिए जा चुके हैं गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी की तरफ से इस विषय को लेकर एडवाइजरी पूर्व में ही जारी हो चुकी थी। वहीं दूसरी तरफ अधिकारी नए सिरे से इसको लेकर तैयारी शुरू कर चुके हैं। मीटर रीडिंग और बिलों के भुगतान संबंधी सभी कार्यों को मैनुअली किए जाने की तैयारी है ।।इसके अलावा बीते माह लोगों को दिए गए एवरेज बिल का समायोजन भी इसी माह कर दिया जाएगा। 
 

बोधघाट परियोजना सहित कई महत्वपूर्ण सिंचाई परियोजनाओं के सर्वेक्षण की मुख्यमंत्री ने दी सैद्धांतिक सहमति

 
 
57 हजार हेक्टेयर में रबी फसलों की सिंचाई के लिए की गई जलापूर्ति
 
बीते वर्ष की तुलना में इस साल रबी फसलों की सिंचाई के रकबे में दोगुना से अधिक की वृद्धि
                                                               
पांच हजार निस्तारी तालाबों में जलभराव जारी
 
रायपुर 26 अप्रैल 2020/ मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने आज अपने निवास कार्यालय में जल संसाधन विभाग के कामकाज की गहन समीक्षा की। उन्होंने राज्य की सिंचाई क्षमता में वृद्धि के उद्देश्य प्रस्तावित बोधघाट परियोजना सहित कई महत्वपूर्ण सिंचाई परियोजनाओं के सर्वेक्षण एवं उनकी विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने की सहमति दी, जिसमें 21000 करोड़ की लागत वाली बोधघाट बहुउद्देशीय परियोजना सहित पैरी-महानदी इंटरलिंकिंग परियोजना, शेखरपुर बांध, डांडपानी बांध परियोजना, खारंग अहिरन लिंक-परियोजना, छपरा टोला फीडर जलाशय तथा रेहर अटेम लिंक परियोजना शामिल है। बैठक में जल संसाधन मंत्री  रविंद्र चौबे, लोक निर्माण मंत्री  ताम्रध्वज साहू, वन मंत्री  मोहम्मद अकबर, नगरीय प्रशासन मंत्री डाॅ. शिव कुमार डहरिया सहित मुख्य सचिव  आर.पी. मंडल, अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण अमिताभ जैन, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, जल संसाधन विभाग के सचिव  अविनाश चंपावत सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 
 
बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बोधघाट परियोजना के सर्वेक्षण एवं अन्य कार्यों के बारे में विभागीय अधिकारियों से विस्तार से जानकारी ली। बैठक में जल संसाधन विभाग के सचिव सचिव श्री अविनाश चंपावत ने बताया कि बोधघाट परियोजना का डीपीआर तैयार किए जाने की कार्यवाही की जा रही है। जल संसाधन विभाग द्वारा इस परियोजना के टेक्नो फाइनेंशियल प्रपोजल को सहमति हेतु वित्त विभाग को भेजा गया है। इस परियोजना का डीपीआर 8 माह के भीतर तैयार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बोधघाट बहुद्देशीय परियोजना इंद्रावती नदी पर प्रस्तावित है। यह दंतेवाड़ा जिले के विकासखंड गीदम के ग्राम बारसूर से लगभग 8 किलोमीटर और जगदलपुर जिला मुख्यालय से 100 किलोमीटर की दूरी पर है। इस परियोजना की कुल लागत 21 हजार करोड़ रुपए है। इससे 2 लाख 66 हजार 580 हेक्टेयर में सिंचाई तथा 500 मेगावाट विद्युत उत्पादन किया जाना प्रस्तावित है। योजना से बस्तर संभाग के दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर जिले लाभान्वित होंगे। सचिव  चंपावत ने बताया कि इस परियोजना का प्रारंभिक साध्यता प्रतिवेदन केंद्रीय जल आयोग को सैद्धांतिक सहमति हेतु प्रस्तुत किया जा चुका है, जिस पर आगामी माह तक सहमति प्राप्त होना संभावित है। 
मुख्यमंत्री  ने बैठक में जल संसाधन विभाग की 7479.08 करोड़ की लागत वाली प्रस्तावित परियोजना पैरी महानदी इंटरलिंकिंग बारूका गरियाबंद, 624 करोड़ की लागत वाली शेखरपुर बांध परियोजना जशपुर, 793 करोड़ की डांडपानी बांध परियोजना जशपुर, 729 करोड़ की लागत वाली खारंग अहिरन लिंक परियोजना बिलासपुर-रतनपुर सहित अन्य सिंचाई परियोजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जल संसाधन मंत्री  रविंद्र चौबे के आग्रह पर जल संसाधन विभाग की प्रस्तावित उक्त सिंचाई परियोजनाओं विशेषकर बोधघाट परियोजना के कार्य को प्राथमिकता के आधार पर आगे बढ़ाने के निर्देश दिए। 
बैठक में जानकारी दी गई कि विभाग द्वारा बीते खरीफ सीजन में 12 लाख 24 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हेतु जलापूर्ति की गई, जो वर्ष 2018-19 की तुलना में 1 लाख 62 हजार हेक्टेयर अधिक है। वर्तमान में 57000 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में रबी फसलों की सिंचाई हेतु जल आपूर्ति की जा रही है, जो बीते वर्ष के रबी सीजन से लगभग दोगुना है। राज्य में पुरानी सिंचाई परियोजनाओं के जीर्णोद्धार एवं उन्नयन से 24 हजार 142 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा का पुनस्र्थापन हुआ है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में विभाग को 746.20 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ है, जो वर्ष 2018-19 की तुलना में 70.50 लाख अधिक है।  
बैठक में जल संसाधन विभाग के सचिव ने बताया कि बीते 15 अप्रैल से राज्य के 5000 ग्रामीण निस्तारी तालाबों को, सिंचाई जलाशयों से जलापूर्ति कर भरा जा रहा है। उन्होंने बताया कि लाॅकडाउन के कारण सिंचाई परियोजनाओं के लगभग 900 अनुबंधित कार्य बीते एक माह से बंद हो गए थे। इन सभी कार्यों में से लगभग 400 कार्यों को शुरू कराया जा रहा है। इससे 50 से 60 हजार लोगों को गांव में ही रोजगार मिल सकेगा और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी। बैठक में जल संसाधन विभाग के विश्राम गृह एवं अन्य अनुपयोगी परंतु व्यवसायिक उपयोग के लायक भूमि का चिन्हित कर उनके बेहतर प्रबंधन के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की गई। मुख्यमंत्री ने विभागीय अधिकारियों को इनके व्यवसायिक उपयोग का प्लान भी तैयार करने के निर्देश दिए।

राजस्थान के कोटा से छत्तीसगढ़ वापसी के लिए छात्रों की रवानगी शुरू संकट की घड़ी में घर वापसी के लिए छात्रों ने मुख्यमंत्री का व्यक्त किया आभार

रायपुर, 26 अप्रैल 2020/ मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल के निर्देष पर राजस्थान के कोटा में कोचिंग संस्थानों में छत्तीसगढ़ के अध्ययन छात्र-छात्राओं को वापस लाने के लिए भेजी गई बसे कोटा पहुंच चुकी है। कोटा में चिकित्सकों और अधिकारियों की टीम द्वारा इन बच्चों की स्क्रीनिंग कर वापसी के लिए बसों में बैठाया जा रहा है।

छात्र-छात्राओं ने महामारी के इस संकट में छत्तीसगढ़ घर वापसी के लिए मुख्यमंत्री  भूपेष बघेल की पहल और इस व्यवस्था में शामिल पुलिस, चिकित्सा, परिवहन विभाग और प्रषासनिक अधिकारियों के साथ-साथ सभी बस चालक और परिचालको का आभार व्यक्त किया है। छात्र-छात्रओं ने कहा है कि उनकी घर वापसी के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने जो व्यवस्था की है वह सराहनीय है। इन छात्र-छात्राओं ने बसों के पहुचने तथा चिकित्सा टीम और पुलिस के जवानों का ‘‘छत्तीसगढिया सबले बढ़िया‘‘ हर्ष ध्वनि कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री  भूपेष बघेल द्वारा छत्तीसगढ़ के बच्चों की घर वापसी के लिए की गई पहल से छात्र-छात्राओं की मायूसी दूर हो गई है। भयंकर महामारी के इस संकट में दूर प्रदेष में  अपने राज्य के अधिकारी-कर्मचारियों को अपने बीच पाक छात्रों के चहरों पर खुषी लौट आयी है।

छत्तीसगढ़ के छात्र-छात्राओं को लाने के लिए भेजी गई चिकित्सा टीम ने फिजीकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बच्चों की चिकित्सीय जांच की और संभाग वार तय की गई बसों में उन्हें लाने के लिए बैठने की व्यवस्था की जा रही है।  
 

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री   भूपेश बघेल के निर्देष पर 24 अप्रैल की शाम राजधानी रायपुर से राजस्थान के कोटा में लाॅकडाउन के दौरान फंसे छात्र-छात्राओं को लाने कुल 97 बसों को रवाना किया गया। इसमें 95 बस छात्रों को लाने के लिए तथा 2 बसों में डाॅक्टर और चिकित्सा दल के सदस्य गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छात्र-छात्राओं के लिए भोजन सहित आवश्यक व्यवस्थाओं का भी ध्यान ने और छात्रों को रास्ते में किसी तरह की परेशानी न हो। राजस्थान के कोटा से छत्तीसगढ पहंुचने पर इन बच्चों को क्वारेंटाईन पर रखा जाएगा। उन्हें सीधे घर जाने की अनुमति नही होगी।

कोटा में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को वापस छत्तीसगढ़ लाने के लिए बस्तर संभाग के लिए 06, सरगुजा संभाग के लिए 24, रायपुर संभाग के लिए 16, दुर्ग संभाग के लिए 14, बिलासपुर संभाग के लिए 28 बसों की व्यवस्था की गई है।

बड़ी खबर : राम वन गमन पथ विकसित करने के काम में लाएं तेजी : भूपेश बघेल

 

मुख्यमंत्री ने की राम वन गमन पथ के लिए तैयार काॅन्सेप्ट प्लान की समीक्षा 

व्यावसायिक दृष्टिकोण से पर्यटन को दिया जाए बढ़ावा

पर्यटन से स्थानीय लोगों को मिले रोजगार 

राम वन गमन पथ के सभी स्थलों में कराया जाए सघन वृक्षारोपण 

सभी स्थलों के सौंदर्यीकरण के कामों में हो एकरूपता 

 

सप्त ऋषि आश्रम, राजिम के लोमश ऋषि आश्रम में यज्ञशाला, योगा और मेडिटेशन सेंटर, प्रवचन केन्द्र बनाए जाएंगे 

 लोमश ऋषि आश्रम के समीप एक धर्मशाला के निर्माण के निर्देश 

स्थलों पर पर्यटकों के ठहरने का भी होगा इंतजाम

सिरपुर को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन केंद्र के रूप में किया जाए विकसित

रायपुर 26 अप्रैल 2020/ मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने राम वन गमन पथ निर्माण और उन्नयन के कार्य में तेजी लाने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में राम वन गमन पथ के निर्माण और उन्नयन के लिए तैयार किए गए कांसेप्ट प्लान की समीक्षा की। राम वन गमन पथ के चिन्हित 51 स्थानों में से प्रथम चरण में 9 स्थानों सीतामढ़ी-हर चैका, रामगढ़, शिवरीनारायण तुरतुरिया, चंदखुरी, राजिम, सिहावा सप्त ऋषि आश्रम, जगदलपुर और रामाराम को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राम वन गमन पथ के स्थलों में व्यवसायिक दृष्टिकोण से पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाएं, जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार के अच्छे अवसर प्राप्त हो सके।

बैठक में गृह एवं पर्यटन मंत्री  ताम्रध्वज साहू, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री  रविन्द्र चौबे, वन मंत्री  मोहम्मद अकबर, नगरीय प्रशासन मंत्री डाॅ. शिवकुमार डहरिया, मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन, प्रमुुुख सचिव  मनोज कुमार पिंगुआ और पर्यटन विभाग के सचिव अंबलगन पी. सहित अन्य वरिष्ठ विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों में पर्यटकों के ठहरने की सुविधा नहीं होने की वजह से पर्यटन क्षेत्र का समुचित विकास नहीं हो पा रहा है और स्थानीय लोगों को आर्थिक लाभ नहीं मिल पा रहा है। यदि पर्यटकों को ठहरने एवं अन्य बुनियादी सुविधाएं मिलेंगी तो यहां पर्यटन सहित आर्थिक गतिविधियां भी बढ़ेंगी और स्थानीय लोगों को इसका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा श्री राम वन गमन पथ में शामिल स्थलों में जहां पक्के स्ट्रक्चर नहीं हैं, वहां पीपीपी मॉडल पर टेंट की व्यवस्था की जानी चाहिए। सभी स्थलों पर सघन वृक्षारोपण किया जाए। उन्होंने राम वन गमन पथ के वास्तविक रुट के चिन्हांकन का निर्देश देते, हुए इस मार्ग पर भी सघन वृक्षारोपण के निर्देश दिए। 
श्री बघेल ने सप्त ऋषि आश्रम, राजिम के लोमश ऋषि आश्रम में यज्ञशाला, योगा और मेडिटेशन सेंटर व प्रवचन केन्द्र विकसित करने तथा लोमश ऋषि आश्रम के समीप एक धर्मशाला के निर्माण के निर्देश भी दिए। भूपेश बघेल ने कहा कि कांसेप्ट प्लान के अनुसार पर्यटन विभाग, वन विभाग, लोक निर्माण विभाग, नगरीय प्रशासन विभाग, जल संसाधन विभाग को कार्यों की जिम्मेदारी देकर योजना तैयार कराई जाए और संबंधित जिला कलेक्टर के समन्वय में कार्य कराए जाएं। मुख्यमंत्री ने इन स्थलों के विकास के लिए तत्काल कार्य शुरू करने के निर्देश बैठक में दिए। 
उल्लेखनीय है कि राम वन गमन पथ के उन्नयन के लिए सर्वे के लिए अंतर विभागीय दल का गठन किया गया है, इस दल ने और मुख्य सचिव  आर.पी. मंडल के नेतृत्व में पर्यटन सचिव  अंबलगन पी., प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राजेश चतुर्वेदी और संबंधित जिलों के कलेक्टरों द्वारा राम वन गमन पथ के स्थलों का सर्वे कर कंसेप्ट प्लान तैयार किया गया है। मुख्यमंत्री ने राम वन गमन पथ में विकसित किए जा रहे स्थलों के सौंदर्यीकरण के दौरान सभी स्थलों में कराए जाने वाले कार्यो में एकरूपता रखने के निर्देश दिए। उन्होंने स्थलों के आसपास दुकानों को व्यवस्थित करने और उन्हें कुटिया के स्वरूप में  विकसित कराने के निर्देश दिए। जहां नदी है वहां रिवर फ्रंट विकसित करने और तुरतुरिया आश्रम को इको टूरिज्म स्पॉट के रूप में विकसित करने का सुझाव दिया। 
मुख्यमंत्री ने राम वन गमन पथ के स्थलों में बनाए जाने वाले प्रवेश द्वार, इंटरप्रिटेशन सेंटर, कैफिटेरिया, दुकानों में एक रूपता रखने और जगह-जगह पर्यटकों को जानकारी देने के लिए साइन बोर्ड लगाने के निर्देश दिए। इस स्थलों पर बनाए जाने वाले इंटरप्रिटेशन सेंटर में उस स्थल विशेष के राम कथा से संबंध को भी दर्शाया जाएगा। उन्होंने कहा कि राम वन गमन पथ के लिए प्रतीक चिन्ह (लोगो) तैयार किया जाए जो इसके लिए ब्रांडिंग का काम करेगा। श्री बघेल ने कहा कि पर्यटन विभाग द्वारा लोकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाने चाहिए। 
बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि सिरपुर छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है, इसे तैयार किए गए डीपीआर के अनुसार विकसित किया जाए, संबंधित विभागों को अलग-अलग जिम्मेदारी देकर कार्य कराया जाए। उन्होंने कहा कि सिरपुर को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन के एक अच्छे केंद्र के रूप में विकसित किया जा सकता है। उन्होंने पर्यटन विभाग की वेबसाइट में पर्यटन विभाग के होटल और मोटल के साथ स्थानीय निजी होटल की जानकारी प्रदर्शित करने और गाइड के कांटेक्ट नंबर प्रदर्शित करने के निर्देश दिए।

कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए बिलासपुर जिले में सप्ताह में दो दिन बुधवार और रविवार को पूर्ण लॉक डाउन लगाने का निर्णय , रविवार को जिले भर में देखने को मिला पूर्ण लॉक डाउन

अजीत मिश्रा : बिलासपुर/ छत्तीसगढ़

कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए बिलासपुर जिले में सप्ताह में दो दिन बुधवार और रविवार को पूर्ण लॉक डाउन लगाने का निर्णय लिया गया है। जिसके तहत आज बिलासपुर जिले भर में पूर्ण लॉक डाउन लागू किया गया है।लॉक डाउन के दौरान मेडिकल शॉप और मिल्क पार्लर के अलावा सभी दुकाने बंद रहेगी।

लॉक डाउन को प्रभावी तरीके से लागू कराने के लिए बिलासपुर पुलिस आज सुबह से गस्ती कर रही है। साथ ही साथ लाउड सपीकर के माध्यम से लोगों से अपील कर रही है कि वह बिना वजह से अपने घरों से बाहर नही निकले और इस लॉक डाउन को प्रभावी तरीके से से सफल बनाने में प्रशासन का सहयोग करें। प्रशासन के इस प्रयास को जनता का भी भरपूर सहयोग मिला  और आज सुबह से ही सड़को में सन्नाटा पसरा हुआ नजर आया।