छत्तीसगढ़

बारिश में कमजोर पकड़ से उखड़ सकती है करोड़ो की सड़क, जांच के बाद भी अफसरों ने नहीं रूकवाया काम

कोरिया। सड़कें मजबूत बनें इसलिए, कुछ नियम कायदे बनाए गए हैं। ऐसा ही एक नियम है कि बारिश के बीच डामर की सड़क नहीं बनाई जा सकती। यह प्रतिबंध इसलिए है क्योंकि, पानी में भीगना तो दूर सीलन मात्र से ही डामर की पकड़ कमजोर हो जाती है। इस रोक के बाद भी जिले में नेशनल हाइवे का निर्माण बारिश के बीच चल रहा है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि यह हाइवे कितने दिन टिकेगा? और इस घटिया निर्माण व शासन के करोड़ों रुपए की बर्बादी का जिम्मेदार कौन होगा?
जिले में कटनी-गुमला नेशनल हाईवे 43 पर मध्यप्रदेश सीमा से सूरजपुर सीमा तक 10 मीटर चौड़ाई में डामरीकृत मार्ग व 2 लेन सड़क का काम 234 करोड़ से चल रहा है। कोरोना से काम प्रभावित होने के बाद मई से निर्माण में तेजी आई है पर बरसात शुरू होने के 15 दिन बाद भी सड़क पर बिना रुकावट के डामरीकरण जारी है। बता दें कि बरसात को देखते हुए 15 जून से 15 अक्टूबर तक के लिए सड़क निर्माण कार्य पर रोक लग गई है लेकिन एनएचएआई शासन के इस आदेश को अनदेखा कर सड़क पर डामरीकरण करवा रही है जबकि जानकार बताते है कि बरसात में नमी होने से डामर और गिट्टी का मिश्रण सही नहीं होता सरफेस पर भी नमी होती है, और डामर जल्द उखड़ जाता है। 79 किमी तैयार किये जा रहे इस सड़क पर पिछले 10 दिन में करीब 10 किमी सड़क कंपनी ने पूरी कर दी है, ऐसे में कमजोर पकड़ से करोड़ो की सड़क को बड़ा नुकसान हो सकता है। शिकायतों पर रविवार को सड़क की जांच करने एनएचएआई के ईई वीके पटोरिया पहुंचे। जांच के दौरान उन्होंने कहा कि वे बारिश में चल रहें सड़क की जांच करने आएं है। बरसात से कहा सड़को पर पानी भर रहा है इसे देख रहे हैं। इधर स्थानीय अधिकारी कोरोना का बहाना बनाकर तर्क दे रहें है कि लॉकडाउन के कारण सभी कार्यों को ब्रेक लग गया था, अब जब काम को मंजूरी मिली है तो तेजी से काम चल रहा है। 
झमाझम बारिश के बीच डामरीकरण : एनएच पर चल रहे डामरीकरण की गुणवत्ता को लेकर अक्सर सवाल उठते रहे हैं वहीं अब विभाग बारिश के बावजूद डामरीकरण करने से गुरेज नहीं कर रहा है। जिले में झमाझम बारिश के दौर के बावजूद विभाग डामरीकरण करवा रहा है। पटना में चल रहे डामरीकरण पर इंजीनियर किरण ने कहा कि काम रोकने उन्हें शासन से कोई आदेश अब तक नहीं मिला है। 
उजियापुर में डस्ट से परेशानी बनी : 
उजियापुर में ओवर ब्रिज पर अधूरा सड़क का काम परेशानी की वजह बने हुए है। सड़क पर जगह-जगह गिट्टियां उखड़ रहीं है। बारिश रूकने के बाद डस्ट से लोगों को परेशानी हो रहीं है। सड़क किनारे मुरूम की जगह मिट्टी भराव होने से भारी वाहन अक्सर इसमें फंस रहें है। 
नगर में नाली पाटी, बारिश का पानी घरों में 
नगर में रेलवे स्टेशन के पास एनएच कंपनी को 100 मीटर नाली बनानी थीं पर कंपनी ने पंचायत की नाली को पाट दिया, 6 घरों में बारिश का पानी घूस रहा है। अमित, संस्कार, राजीव मिश्रा, चंद्रशेखर राजवाड़े, कृष्ण मुरारी के घर में पानी जाने से वे परेशान हैं। 
एक पुल का काम अटका, हसदेव पुल अधूरा, बारिश से पूराने पुल के उपर से गुजर रहा पानी : बता दें कि एनएच पर तैयार होने वाले 9 पुल पुलियों के निर्माण में 8 पुलियों का निर्माण कंपनी ने करीबन पूरा कर लिया गया है जबकि मनेंद्रगढ़ में एक पुल काम फारेस्ट क्लीयरेंस नहीं मिलने के कारण अटका हुआ है। जिला मुख्यालय में बाइपास सड़क पर 14 पुलिया और 1 पुल तैयार किये जा रहे है इसपर भी जोरशोर से काम जारी है। वहीं मनेंद्रगढ़ में हसदेव नदी पुल अधूरा होने से पुल के उपर से पानी गुजर रहा है, जिससे जान जोखिम में डालकर लोग गुजर रहे है। 
वर्सन के लिए दो बाक्स की जगह रखेंगे

 एनएच के ईई वी के पटोरिया ने कहा कि वे बरसात को देखते हुए एनएच के रखरखाव की जांच करने आएं हैं, मुख्य रूप से बारिश के पानी की निकासी व्यवस्था को देख रहे हैं। वहीं एनएच एसडीओ बृजेश चतुर्वेदी ने कई बार कॉल किये जाने के बाद भी फोन नहीं उठाया। 

 एनएच सड़क निर्माण में डामरीकरण टेक्निकल काम है। इस समय करना चाहिए या नही इसकी जानकारी लेकर मैं इस बारे में एनएच ऑथरिटी से बात करता हूँ। हालांकि बारिश में डामरीकरण का काम नही होना चाहिए।
एसएन.राठौर,कलेक्टर कोरिया

करोना काल में मंत्री ने बढ़ाया मदद का हाथ 156 हितग्राहियों को बांटे 10 लाख 40 हजार

बलरामपुर आकाश साहू

बलरामपुर जिले के वाड्रफनगर विकासखंड अंतर्गत एक दिवसीय प्रवास पर आए शिक्षा मंत्री प्रेमसाय टेकाम ने स्वेच्छा अनुदान मद से 156 हितग्राहियों को 10 लाख 40 हजार का चेक वितरित किया वाड्रफनगर खंड शिक्षा क्षेत्र अंतर्गत कक्षा 9वीं में पढ़ने वाली छात्राओं को सरस्वती सायकल योजना अंतर्गत 1409 बालिकाओं का साईकिल वितरण कर शुरुआत किए एक दिवसीय प्रवास पर वाड्रफनगर विकासखंड आए शिक्षा मंत्री ने सरना सहकारी समिति में बन रहे धान खरीदी चबूतरा निर्माण का भी अवलोकन किया इसके अतिरिक्त शिक्षा मंत्री ने क्षेत्र के जनता के शिकायतों को भी गंभीरता पूर्वक लेते हुए ग्राम पंचायत झापर में उचित मूल्य दुकान संचालक के द्वारा ग्रामीणों के एक माह का बोनस चावल का गबन के मामले को भी गंभीरता पूर्वक लेते हुए तत्काल एसडीएम वाड्रफनगर को निर्देशित कर उचित कार्यवाही करने को कहा इस कार्यक्रम में काग्रेस पार्टी की ओर से आए कार्यकर्ताओं एवं ग्रामीणों के लिए मास्क वितरण किया गया इस अवसर पर वाड्रफनगर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हरिहर प्रसाद यादव, अशोक जयसवाल मंत्री प्रतिनिधि नंदलाल श्यामले , छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल सदस्य जय प्रकाश जायसवाल, जनपद सदस्य राजेश जायसवाल के साथ-साथ एसडीएम ,एसडीओपी, सी ई ओ, एसडीओ वन विभाग ,बी ई ओ एवं अधिकारी कर्मचारियों के साथ-साथ बड़ी संख्या में स्वेच्छा अनुदान हितग्राही एवं आम लोग उपस्थित रहे

खनिज के अवैध परिवहन पर रोक लगाये - कलेक्टर

#बीजापुर जिले के अंतर्गत चल रहे विभिन्न विकास कार्यो की हुई गहन समीक्षा

Danteshwar kumar ( chintu)

बीजापुर @-  बीजापुर जिले में राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घु्ररवा एवं बाड़ी, गौठान के संचालन व रोका-छेका अभियान को प्राथमिकता से करने के निर्देश दिए गए । कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने जिला कार्यालय के सभाकक्ष में साप्ताहिक समय सीमा बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिले  के अंतर्गत चल रहे विभिन्न विकास कार्यो को समय सीमा में पूर्ण करने हेतु गहन समीक्षा की।  कलेक्टर अग्रवाल ने जिले के चारों ब्लाकों में गौण खनिज के अवैध परिवहन पर सख्ती से कार्यवाही करते हुए रोक लगाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।  उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिले में पोषण बाड़ी के लिए साग-सब्जी बीज मिनीकिट की उपलब्धता सहित ग्रामीणों को पोषण बाड़ी विकसित करने प्रोत्साहित किया जाये। राज्य शासन की प्राथमिकता वाली योजना के अन्तर्गत गौठानों के समुचित संचालन एवं देखरेख हेतु गौठान समितियों की सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करें। सभी-गौठानों में अभी बारिश के दौरान चारागाह विकास कार्य किया जाये। वहीं गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट तथा नाडेप खाद बनाने सहित मवेशियों का टीकाकरण, कृत्रिम गर्भाधान एवं उपचार सुनिश्चित किया जाये। कलेक्टर अग्रवाल ने जिले मे नरवा-गरवा, घुरवा एवं बाड़ी के सभी प्रगतिरत् कार्यो को पूर्ण करने अधिकारियों को निर्देशित किया । उन्होंने जिले में खरीफ फसल सीजन के लिए किसानों की मांग के अनुरूप बीज एवं खाद की सुलभता सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिये । वहीं खेती-किसानी कार्य के लिए फसल ऋण की त्वरित सुलभता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।  समय-सीमा की बैठक में कलेक्टर अग्रवाल ने  जिले में शत्प्रतिशत जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र एवं आधार कार्ड,  नवीन राशन कार्ड बनाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए। उन्होंने किसान क्रेडिट कार्ड, नामांतरण, बंटवारा, वनाधिकार पट्टा, वृक्षारोपण  एवं नक्सली पीड़ित  परिवारों के लिए आवास हेतु भूमि आबंटन प्रक्रिया शुरू करने के भी निर्देश दिए। बैठक में  क्रेड़ा, कृषि, उद्यानिकी, शिक्षा, सुपोषण, पानी, बिजली से लेकर अनेक विकास कार्यो को समय-सीमा के भीतर पूर्ण हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। 

बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत पोषण लाल चन्द्राकर, वनमण्डलाधिकारी डीके साहू सहित विभिन्न विभागों के विभाग प्रमुख तथा जिले में पदस्थ एसडीएम, डिप्टी कलेक्टर्स, तहसीलदार, सीईओ जनपद पंचायत और नगरीय निकायों के सीएमओ मौजूद थे। 

छत्तीसगढ़ के मनेन्द्रगढ़ में पड़ने लिखने के उम्र में मासूम बच्चे सब्जी बेचकर और भीख मांग कर रहे है जीवन यापन...

कोरिया-  सरकार ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत 6 से 14 वर्ष के सभी बच्चो को शिक्षा का अधिकार प्रदान किया लेकिन जिले में कुछ बच्चो को इस अधिकार का लाभ नही मिल रहा है जहाँ कुछ मासूम बच्चे शहर में सब्जियां बेच रहे तो कुछ भीख मांगते हुए देखे जा रहे है इनका पढ़ाई जीवन व बचपन जो पढ़ाई खेलकूद में बीतना था आज रोजगार कर रहे है

 
वही आज सुबह शहर के किसी व्यक्ति ने 1098 में फोन कर एक एनजीओ को सूचना दिया जहाँ एनजीओ के कुछ लोग मनेन्द्रगढ़ पुलिस की सहायता लेकर इन बच्चो को बरामद किया और इन बच्चों के परिजनों को बुलाकर हिदायत देकर छोड़ दिया गया।
 

मंत्री उमेश पटेल ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत निर्मित सड़कों का किया निरीक्षण अधिकारियों व ठेकेदार पर नाराजगी जाहरी करते हुए तत्काल पुनःबनाने के दिये निर्देश

रायपुर, 28 जून 2020 उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने खरसिया विधानसभा क्षेत्र में  प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से बनाई गई सड़कों का निरीक्षण किया। उन्होंने नागरिकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए चपले से बाम्हनपाली सड़क निर्माण कार्य को शीघ्र पूरा करने के निर्देश संबंधित अधकारियों को दिए। पटेल ने निर्माणाधीन सड़क के दोनों कनारों को समतल रखने को कहा है।

    मंत्री  पटेल ने चपले से बाम्हनपाली रोड का निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को गुणवत्तापूर्वक कार्य कराने के लिये निर्देश दिये। उन्होंने कुर्रूभांठा-रक्शापाली में कुछ ही दिन पहले किये गये पेंच रिपेरिंग कार्य का भी निरीक्षण किया।  पटेल ने कई जगहों पर रूककर पेंच रिपेरिंग कार्य का बारिकी से निरीक्षण किया, जिसमें रिपेरिंग कार्य उखडना पाया गया। उन्होंने पीएमजीएसवाय के अधिकारियों एवं संबंधित ठेकेदार को तत्काल पेंच रिपेरिंग कार्य को पुनः बनाने के निर्देश दिये और कहा कि सड़क निर्माण कार्य में गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा। जितने भी सड़क निर्माण कार्य प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजनांतर्गत या अन्य निर्माण एजेंसियों के माध्यम से किया जा रहा है, सभी को उच्च गुणवत्ता के साथ नियत समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिये।

करोना पाॅजिटीव पाये जाने पर 85 बटालियन के जी-कंम्पनी को कन्टेन्मेंट जोन घोषित- बीजापुर

Danteshwar kumar ( chintu)

बीजापुर @- कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी बीजापुर द्वारा नोवेल कोरोना वायरस (कोविड़-19) के संक्रमण काल के दौरान जिले में संदिग्ध व्यक्तियों के सैंपल जांच हेतु पे्रषित किया गया था, जिसमें बीजापुर मुख्यालय के महादेव घाट के आगे स्थित 85 बटालियन जी कम्पनी के क्वारंटाईन सेंटर में रखे गये व्यक्तियों में से एक व्यक्ति की जांच रिपोर्ट पाॅजिटीव पाये जाने के कारण कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव को दृष्टिगत रखते हुए महादेव घाट आगे स्थित 85 बटालियन कैम्प को कन्टेमेंट जोन घोषित किया गया है। 
कन्टेन्मेंट जोन हेतु प्रभारी अधिकारी द्वारा कन्टेन्मेंट जोन में घर पहुंच सेवा  के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जावेगी। कन्टेन्मेंट जोन अंतर्गत सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्ही भी कारणों से कैंप से बाहर निकलना प्रतिबंधित होगा। कन्टेन्मेंट जोन की निगरानी हेतु लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जावेगी। जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा संबंधित क्षेत्र में स्वास्थ्य की निगरानी एवं निर्देशानुसार सैम्पल इत्यादि जांच हेतु लिया जाना सुनिश्चित किया जावेगा।

कन्टेन्मेट जोन में कार्यवाही हेतु प्रभारी अधिकारी नियुक्त

बीजापुर @ केवल एक प्रवेश एवं निकास की व्यवस्था हेतु बेरिकेटिग के लिए कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग बीजापुर, सेनेटाईजिंग कार्य हेतु मुख्य नगरपालिका अधिकारी बीजापुर, कैंप में एक्टिव सर्विलेंस के लिए जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी बीजापुर, बायो मेडिकल अपशिष्ट प्रबंधन के लिए हास्पिटल सलाहकार बीजापुर, स्वास्थ्य टीम को एसओपी अनुसार दवा मास्क पीपीई किट इत्यादि उपलब्ध कराने हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बीजापुर, आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत बीजापुर एवं कानून/पुलिस व्यवस्था, कन्टेन्मेट जोन का सील करने एवं गश्त करने आवश्यक पुलिस व्यवस्था के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीजापुर को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है। 

पुलिस अधीक्षक जांजगीर चम्पा द्वारा अधिकारी कर्मचारियो को प्रस्तति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

सुबोध थवाईत-BBN24NEWS जांजगीर चम्पा।वैश्विक महामारी कोविड-19 (कोरोना वायरस) के संक्रमण की रोकथाम के लिए शासन द्वारा लागू किये गये लाॅक डाउन अवधि के दौरान जिले में उचित व्यवस्था बनाये रखने एवं दिगर प्रांतों से मजदूरों के आवागमन पर उनके लिए समुचित व्यवस्था करने में जिले के पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारियों के द्वारा अथक मेहनत एवं प्रयासों से दायित्वों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया गया, उन्हें पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारूल माथुर के द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रदाय कर उनके कार्यों की सराहना की गई।इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह प्रशस्ति पत्र प्राप्त करते हुए।

एसईसीएल बिलासपुर डीजीएमएस 3 सदस्य टीम चिरमिरी पहुची।एसईसीएल चिरमिरी कुरासिया अंडरग्राउंड माइन्स ब्लास्ट से श्रमिक मौत मामले में कर रही जांच

 एसईसीएल चिरमिरी कुरासिया भूमिगत खदान में बड़ा हादसा होने के बाद आज बिलासपुर डीजीएमएस टीम पहुंची और घटनास्थल का मुआयना किया मृतक  के साथ में कार्य कर रहे मजदूरों का बयान लिया और शिफ्ट में कार्यरत अधिकारियों का  भी बयान लिया गया ।

खदान के अंदर क्या हुआ 
 

जानकारी के अनुसार 24 जून को मध्य रात्रि लगभग 2 बजे मृतक घनेश्वर दास जो चिरमिरी कुरासिया के डीलर ऑपरेटर के पद पर ग्रेड 5 में कार्यरथ था ।जो  तृतीय पाली में काम करने पहुंचा। वह कोयले के खान में माघी श्रमिक ड्रिल कर रहा था वहीं पर हेल्पर कर रहे  धनेश्वर दास उसी दौरान रात करीब 2.30 बजे पहले से वहां लगे डेटोनेटर पर ड्रिल किया और अचानक ब्लास्ट हो गया सामने खड़े धमाके के साथ हुए धनेश्वर भी उड़ गया। कोल ब्लास्ट होने से अंधेरा सा छा गया और  श्रमिक साथी माघी ने देखा कि धनेश्वर दास नहीं दिख रहा कुछ देर बाद देखा तो धनेश्वर की मौके पर ही मौत गई । घटना की सूचना अधिकारी को दी गई ।

घटना की सूचना मिलते ही एसईसीएल अधिकारी मौके पर पहुंचे। रात में ही मजदूर का शव रीजनल अस्पताल भिजवाया गया। सुबह जब क्षेत्र के विधायक डॉ. विनय जायसवाल व चिरमिरी एसडीएम जानकारी मिली तो माइंस पहुंच गए वहां पर मौजूद एसईसीएल के अधिकारियों से घटनाा की जानकारी ली और पुलिस विभाग की टीम के साथ घटनास्थल पर माइंस के अंदर विधायक समेत एसईसीएल के अधिकारियों के साथ चिरमिरी पुलिस माइंस के अंदर जाकर घटना जायजा लिया ।

चिरमिरी थाना प्रभारी सत्य प्रकाश कहना है कि हमने माइंस के अंदर जाकर तहकीकात किया गया जहां पर घटना हुई है वहां मृतक  घनेश्वर दास के द्वारा ड्रिल कर रहा था उसी दौरान पहले से लगे डेटोनेटर ब्लास्ट हो गया । उसी दौरान मौत हो गई । पुलिस जांच कर रही है डीजीएमएस रिपोर्ट आने के बाद के दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई होगी  

वहीं इस मामले में एसईसीएल चिरमिरी के सीजीएम घनश्याम सिंह भी मौके पर पहुंचे थे उन्होंने बताया कि बिलासपुर से डीजीएमएस की टीम को बुलाया गया है । टीम जांच कर रही है । 

 माइंस में काम करने के दौरान श्रमिक मजदूरों के साथ मैं ओवरमेन, माइनिंग सरदार व शॉटफायर मौजूद रहते हैं लेकिन जिस समय घटना हुई वहां पर ना ही कोई अधिकारी मौजूद था । फिलहाल अब देखना होगा कि मृतक घनेश्वर दास के परिवार को न्याय मिल पाएगा या नहीं ।या हर बार की तरह जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया जाता है ।लेकिन कुछ दिनों बाद मामला ठंडे बस्ते में चला जाता है ।

शिक्षिका कंचन सिह को मिलेगा अक्षय प्रबोधक अलंकरण

कोरिया। रायगढ़ जिले में आयोजित राज्यस्तरीय अक्षय शिक्षा अलंकरण समिति द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों को चयन कर सम्मानित करता है इसमें कोरिया जिले के विकासखंड मनेन्द्रगढ़ से शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला सरभोका की  शिक्षिका कंचन सिंह का चयन अक्षय शिक्षा प्रबोधक अलंकरण के लिए हुआ है। उल्लेखनीय है विद्यालय में छात्रो की शैक्षणिक गुणवत्ता हेतु प्रयासरत रहती है

इनके द्वारा पढ़ई तुंहर दवार में ऑनलाइन द्वारा निरन्तर पढाई की जा रही है  अक्षय शिक्षा अलंकरण हेतु शिक्षा की गुणवत्ता को परखने के चयन बिंदुओं में विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु शिक्षक क्रियाशील एवं तत्पर हो। शिक्षक पालकों, समुदाय, जनप्रतिनिधियों से निरंतर एवं जीवंत संपर्क एवं इन लोगों से विद्यालय एवं विद्यार्थियों के विकास हेतु आवश्यक सहयोग लेने के साथ ही शिक्षक अपने साथी शिक्षकों को प्रेरणादायी मार्गदर्शन देने में सक्षम हो और उच्च अधिकारियों से निरंतर संपर्क एवं मार्गदर्शन में रहे। अपने स्वयं की क्षमता एवं दक्षता के विकास के लिए सदैव तत्पर हो। शिक्षक समाज को एक नई दिशा व चेतना प्रदान करता है। अतः शिक्षक सदैव सामाजिक सरोकारों के विषयों में अपनी सहभागिता देने में सक्षम हो। मापदंड के लिए निम्न विषय आधारित साक्षात्कार के पश्चात श्रीमती कंचन सिंह को राज्य में अक्षय शिक्षा प्रबोधक अलंकरण प्राप्त कर अपने विकासखंड एवं कोरिया जिले का गौरव बढ़ाया है इसके साथ हीअक्षय शिक्षा शशि अलंकार में प्रदेश में पांचवा स्थान प्राप्त किया है। जिससे शिक्षक साथियों में हर्ष व्याप्त है और इनकी उपलब्धि पर शुभकामनाएं दी

अर्चना और आँचल जुड़वा बहनो ने खरसिया का बढ़ाया मान अर्चना ने 96.5 प्रतिशत तो आँचल ने 96% अंक के साथ सफलता हासिल की ......

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने मंगलवार को 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित कर दिया है. खरसिया ब्लाक के अंतर्गत आने वाले ग्राम सोंडका मध्यवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली जुड़वा बहनों ने वह कारनामा कर दिखाया जो एक पिता माता तथा शिक्षकों के लिए गौरव की बात है हम बात कर रहे हैं अर्चना और आंचल की जो सगी जुड़वा बहने हैं दरअसल प्रज्ञा शिशु मंदिर सोंडका शुरुआत से ही पढ़ाई के क्षेत्र में अव्वल रहा है यही की अध्यन रत छात्रा ने कक्षा 10 वी मे अर्चना ने 96.5 प्रतिशत अंक अर्जित की और उसी की बहन ने 96% अंक अर्जित की जिसका श्रेया इन्होंने अपने माता पिता तथा शिक्षक शिक्षिकाओं को दिया है bbn24news.com उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है 

भाटापारा में नहीं निकलेगी रथ यात्रा भगवान जगन्नाथ के दर्शन के लिए आना होगा मंदिर , लटुरिया मंदिर मे होगा भगवान जगन्नाथ का अदभुत सिंगार


 भाटापारा – प्रतिवर्ष भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकलती थी , जिसमे भगवान पुरे नगर का भ्रमण करते थे और श्रृद्धालु भगवान का दर्शन पाते थे लेकिन लाॅकडाउन ने भगवान को भी कैद किया मंदिर मे , भाटापारा की प्रसिद्ध लटुरिया मंदिर की प्राचीन परंपरा टुटेगी कई सालो बाद , भक्तो को दर्शन करने पहॅुचना होगा मंदिर , प्रसाद पर भी रहेगा बैन
भाटापारा – लाॅकडाउन के चलते इस बार भगवान जगन्नाथ अपने ही मंदिर से नही निकल पाएगे , प्राचीन परंपरा लाॅकडाउन के चलते टुटने वाला है , लाॅकडाउन ने भगवान को कैद किया मंदिर मे , नही निकल सकेंगे भगवान नगर भ्रमण करने को ।

भाटापारा के  रामसप्ताहा मंडप इस्थित प्रसिद्ध लटुरिया मंदिर से प्रतिवर्ष की तरह 23 जुन को भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकलने वाली थी , जो भाटापारा के प्रमुख मांर्गो से होते भगवान पुरा नगर भ्रमण करते हुए अपने भक्तो को अदभुद छबि का दर्शन देते थे वही भाटापारा मे रथ यात्रा के दौरान सैकड़ो भक्तजन नगर के मार्गो पर आरती की थाली , फुलो की माला , फुलो की वर्षा करते जयकार लगाते भगवान का स्वागत और पूजन करते थे लेकिन कोरोना जैसे वैश्विक महामारी के चलते लगे लाॅकडाउन मे वर्षो पुरानी परंपरा टुटने वाली है ,

इस बार रथयात्रा पर शासन ने बैन लगा दिया है , भक्तो के घर भगवान नही जाएगे इस बार । वही प्रसाद पर भी प्रशासनिक बैन लगाया गया है जिसके चलते प्रसाद भी नही पाएगे भक्त । वही मंदिर पुजारीयो ने परंपरा को आंशिक रूप से बचाते हुए 23 जुन को रथयात्रा न निकाल कर भगवान को नहलाने व सजाने के बाद मंदिर परिसर पर ही भ्रमण कर वापस आसन पर बैठाया जाएगा और जिन्हे भी भगवान के दर्शन करना है मंदिर पहॅुच कर दर्शन लाभ ले सकते है ।

 

भाटापारा मे रात से हो रही पहली बारिस ने खोली नगर पालिका की पोल , के के वार्ड में भरा बरसात का पानी

भाटापारा  –  भाटापारा नगर पालिका द्वारा लगातार शहर के साफ सफाई होने दावे की पोल पहली ही बारिस ने खोल के रख दी है ।दिन भर से हो रही बारिश और जाम नालियों का खामियाजा निचली बस्तियों के रहवाशियो को झेलना पड़ रहा है । नगर पालिका  अंतर्गत के के वार्ड के निचली बस्ती के घरों में पानी घुस गया जिस वजह से घरों के समान तहस नहस हो गए चावल दाल भीग जाने की वजह से गरीब तबके के परिवार परेशान हो कर मदद के लिये पालिका के चक्कर काट रहे है और इनका आरोप है कि कार्यालय जाने पर कोई मिला नही थक हार कर घर आकर समान को समेटने में लगे हुए है |
उनका कहना है कि नाला जाम होने की वजह से पानी आगे नही जा रहा और पूरी बस्ती में पानी भर गया अगर यह पानी नही निकला और रात में पानी गिरता है तो मुसीबत और भी बढ़ा जाएगी ।इन सब मे सबसे ध्यान देने वाली बात यह है कि जिस बस्ती में बारिस का पानी भरा है वह नगर पालिका स्वास्थ्य विभाग के सभापति का वार्ड है अब आप ऐसे में अंदाजा लगा लीजिये की भाटापारा शहर में सफाई के क्या हालात होंगे ।

पुरगांव क्वारंटाइन सेंटर में 65 वर्ष बुजुर्ग की मौत। स्थानीय प्रशासन में हड़कंप में ।

बलौदा बाजार  - एक तरफ कोरोना वैश्विक महामारी कम होने का नाम नही ले रहा है , वही दूसरे राज्यो से गांव वापस आये प्रवासी मजदूर गांव में बने स्कूल क्वारंटाइन में रहे है, और बलौदाबाजार जिले में मिल रहे कोरोना मरीज़ क्वारंटाइन सेंटर से ज्यादातर कोरोना संक्रमित मरीज की पुष्टि हो रहा है। वही दूसरी ओर बलौदाबाजार जिले के बिलाईगढ़ विकास खंड के ग्राम पंचायत पुरगांव में बने क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे एक 65 वर्ष बुजुर्ग मौत हो गया है। वे 14 जून को बाहर से आया हुआ था। इसके जानकारी होते ही गांव के पंच ,सरपंच, सचिव और ग्रामीणों व स्थानीय प्रशासन में हड़कंप मच गया है।
प्राप्त जानकारी अनुसार बुजुर्ग को न तो उसका तबियत खराब था न ही कोई तरह से परेशानी था लेकिन अचालक शुक्रवार देर शाम 65 वर्ष बुजुर्ग मौत होने से कई तरह के सवालिया निशान खड़ा कर रहा है । अब उनकी जांच रिपोर्ट आने तक प्रोटोकॉल के अनुसार उनका शव जिला अस्पताल ले जाया जाएगा, या प्रशासन उनके परिजनों को शव को सौप देंगे देखनी वाली बात होगी।

चिरमिरी एसईसीएल में श्रमिको को बर्खास्त करने पर नाराज विधायक विनय जायसवाल ने एसईसीएल के जीएम ऑफिस में ताला लगाने पहूचे जाने क्या है पूरा मामला

कोरिया जिले के एसईसीएल चिरमिरी क्षेत्र में श्रमिको को बर्खास्त करने का मामला आज गरमा गया जब मनेन्द्रगढ़ के विधायक डॉ विनय जायसवाल ने अपने समर्थकों के साथ एसईसीएल जीएम ऑफिस में ताला लगाने पहुच गए। जीएम ऑफिस में पहले से मौजूद पुलिस बल ने विधायक व उनके समर्थकों को रोका इस बीच समर्थकों व पुलिस के बीस झूमा झपटी ही हुई। चिरमिरी एसईसीएल से बर्खास्त हुए 25 कोयला कामगारों को एसईसीएल द्वारा वापस नही लेने या उनके सम्बन्ध में अभी तक कोई भी उचित फैसला नही लेने के कारण सख्त तेवर अपनाते हुए मनेन्द्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल ने अपने समर्थकों के साथ एसईसीएल प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारे बाजी करते हुए आज मुख्य महाप्रबंधक कार्यालय के गेट में लगे पुलिस बैरिकेट्स को तोड़ कर जंगी प्रदर्शन करते हुए अंदर घुस कर मेन गेट में धरना प्रदर्शन करते हुए ऑफिस में ताला बन्दी की मांग की।

इस दौरान जमकर हंगामा हुआ। इसके बाद चिरमिरी एसईसीएल के मुख्य महाप्रबंधक घनश्याम सिंह ने विधायक डॉ. विनय जायसवाल को बातचीत के लिए बुलाया। विधयाक के साथ मौजूद बर्खास्त कर्मचारी व परिजन भी मौजूद रहे। चिरिमिरी मुख्य महाप्रबंधक घनश्याम सिंह बताया कि एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा हुई है इस विषय को लेकर के 24 तारीख को बैठक होगी । वही मौजूद चिरमिरी सीएसपी प्रितपाल सिंह के द्वारा बताया गया कि बातचीत के बाद लिखित आश्वासन मिलने के बाद धरना को समाप्त कर दिया गया ।

पति-पत्नी और मासूम की फंदे में मिली लाश, परिवारिक विवाद बना कारण

कोरबा: दीपका थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गांधीनगर में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां रहने वाले एक निजी कंपनी में कार्यरत अशोक कुमार रात्रे पिता बंश राम रात्रे (28 साल), पत्नी रागनी रात्रे (25 साल) व पुत्री कुमारी एशि रात्रे (डेढ़ वर्ष) की लाश फंदे में झूलती मिली है। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही स्पष्ट होगा कि मामला क्या है। प्रथम दृष्टया पुलिस का मानना है कि पति ने पहले अपनी पत्नी और बच्चे की हत्या की और फिर वह खुद को फांसी लगी ली। जांच में परिवारिक विवाद की बात भी सामने आई है। घटनास्थल का नजारा दिल दहलाने वाला था।

फांसी लगाने का कारण अभी तक पता नहीं चल सका है। दीपका पुलिस मौके स्थल पर पहुंची और जांच कार्रवाई कर रही है कि पति-पत्नी और डेढ़ साल की बच्ची ने फांसी क्यों लगाई क्षेत्र में पूरी तरह से इस घटना के बाद हड़कंप मचा हुआ है। दर्री सीएसपी मौका स्थल पर पहुंचे थे और उन्होंने जांच पड़ताल की है मामला जो सामने निकल कर आ रहा है उससे यह पता चलता है कि पति-पत्नी के बीच दोनों का लंबे समय से विवाद चल रहा था। यही विवाद इस सामूहिक हत्याकांड की वजह बना। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव उनके परिजनों को सौंप दिए हैं।

पुलिस के अनुसार अशोक कुमार रात्रे पिता बंश राम रात्रे (28 साल) ग्राम सिरकीखुर्द थाना दीपका, रागनी रात्रे पति अशोक कुमार (25), एशि रात्रे पिता अशोक रात्रे उम्र डेढ़ वर्ष की मौत हुई है। घटना के बाद बस्ती में सन्नाटा पसरा है। पुलिस मौके पर पहुंचकर कार्रवाई शुरू कर दी।

पड़ोसियों से पूछताछ में पता चला है कि छोटी-छोटी बातों को लेकर पति-पत्नी में हमेशा विवाद होता रहता था। घटनास्थल देखने से ऐसा ही प्रतीत होता है कि यह विवाद ही इस हृदय विदारक घटना का कारण बना। मौके से पुलिस को कोई सोसाइड नोट भी नहीं मिला है, जिससे इस केस पर से पर्दा उठ सके। बहरहाल, इतन बड़े आत्मघाती कदम के पीछे क्या राज है, यह तो पुलिस की जांच-पड़ताल के बाद ही मालूम पड़ेगा।