खेल

कोलकाता के इस खिलाड़ी ने मारे एक ओवर में ताबड़तोड़ 6 छक्के, 35 गेंदों में जड़ दिया शतक

क्रिकेट में 6 गेंदों पर 6 छक्के मारना हर बल्लेबाज का सपना होता है। क्रिकेट में कई खिलाड़ियों ने यह मुकाम हासिल किया है। लेकिन हाल ही में इस फेहरिस्त में शामिल हुआ है कोलकाता का एक खिलाड़ी, जिसने जेसी मुखर्जी टी20 टूर्नामेंट में यह कारनामा किया है। क्रिक ट्रैकर की रिपोर्ट के मुताबिक भवानीपुर क्लब की ओर से खेल रहे बल्लेबाज अतानू घोष, उनके परिवार और दोस्तों के लिए यह मैच कभी न भूलने वाला साबित हुआ, क्योंकि उन्होंने लगातार 6 गेंदों पर 6 छक्के लगातर एक शानदार रिकॉर्ड अपने नाम किया है।
दरअसल यह मैच भवानीपुर क्लब और राजस्थान क्लब के बीच खेला जा रहा था। गेंदबाजी कर रहे थे राजस्थान के ट्रिटीब चौधरी। उनकी गेंदों पर ही अतानू ने 6 छक्के जड़े। उन्होंने इस मैच में केवल 35 गेंदें खेलीं और 101 रन बनाकर नाबाद लौटे। उनकी शानदार पारी की बदौलत ही टीम ने विपक्षी को 145 रनों से करारी शिकस्त दी।
फर्स्ट क्लास और इंटरनेशनल क्रिकेट की बात करें तो केवल 5 ही क्रिकेटर्स ने एक ओवर में 6 छ्क्के लगाने का कारनामा किया है। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में गैरी सोबर्स ने मैलकम नैश की गेंदों पर 6 छक्के मारे थे। इसके बाद 1985 में तिलक राज की गेंद पर रवि शास्त्री ने इस रिकॉर्ड को छुआ। हाल ही में फर्स्ट क्लास क्रिकेट में यह मुकाम पाने वाले खिलाड़ी हैं जॉर्डन क्लाक, जिन्होंने गुर्मन रंधावा की गेंदों पर 6 छक्के मारे थे।
अगर इंटरनेशनल क्रिकेट की बात करें तो सबसे पहले साउथ अफ्रीका के हर्शल गिब्स ने यह कीर्तिमान हासिल किया था। उन्होंने 2007 में वेस्टइंडीज में हुए क्रिकेट विश्व कप में नीदरलैंड्स के खिलाफ 6 छक्के मारे थे। इसी साल पहले टी20 विश्व कप में भारतीय खिलाड़ी य़ुवराज सिंह में स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंदों को एक ही ओवर में लगातार 6 बार सीमा पार पहुंचाया था। भारत ने पहला टी20 क्रिकेट विश्वकप 5 रनों से जीता था।

कब कब कहां कहां देख सकते हैं आईपीएल 2017

आईपीएल 2008 में शुरू हुआ था. इसके बाद से लगातार इसका रोमांच बढ़ता ही गया है. इस साल बीसीसीआई को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के बीच भी उम्मीद की जा रही है कि इसकी चमक कम नहीं होगी.
हालांकि पहले मैच की चमक इस वजह से जरूर कम है कि रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली कंधे की चोट की वजह से नहीं खेल पाएंगे. इसके अलावा, एबी डिविलियर्स भी मुकाबले में हिस्सा नहीं होंगे.
टूर्नामेंट का फाइनल 21 मई को होगा. हैदराबाद में फाइनल खेला जाएगा.
कहां-कहां होंगे मैच
आईपीएल 10 के मुकाबले दस शहरों में ही होने हैं. मोहाली के आईएस बिंद्रा स्टेडियम में किंग्स इलेवन पंजाब अपने घरेलू मैच खेलेगी.
मुंबई का वानखेडे स्टेडियम मुंबई इंडियंस का गढ़ होगा. कोलकाता का ईडन गार्डन्स कोलकाता नाइटराइडर्स का घरेलू मैदान होगा. दिल्ली के फिरोजोशाह कोटला स्टेडियम में दिल्ली टीम खेलेगी.
हैदराबाद का राजीव गांधी इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम सनराइजर्स हैदराबाद, राजकोट का सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम गुजरात लायंस और पुणे का महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन इंटरनेशनल स्टेडियम राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स का घर होगा. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम अपने घर में एम.चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेलेगी.
इसके अलावा किंग्स इलेवन पंजाब के तीन मैच इंदौर के होल्कर स्टेडियम में और गुजरात लायंस के दो मैच कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में होंगे.

IND vs AUS: ऑस्‍ट्रेलियाई क्रिकेटर्स के रवैये से खुश नहीं विराट कोहली, बोले- अब उनसे कोई दोस्‍ती नहीं

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया पर मिली 2-1 से जीत को अपनी टीम की सर्वश्रेष्ठ श्रृंखला जीत करार देते हुए कहा कि कोई उनकी टीम को उकसाता है तो वे माकूल जवाब देने में माहिर हैं। कोहली ने चौथे टेस्ट के बाद स्टार स्पोर्ट्स से कहा, ‘‘ हमारा पलड़ा मैच में भारी हो या नहीं, यदि कोई हमें उकसायेगा तो हम माकूल जवाब देंगे। सभी को यह हजम नहीं होता लेकिन हम जैसे को तैसा में माहिर हैं।’’ ऑस्‍ट्रेलियाई मीडिया ने पूरी श्रृंखला में कोहली को निशाना बनाया लेकिन उन्होंने कहा कि वह इसकी परवाह नहीं करते।
उन्होंने कहा, ‘‘ कुछ लोग दुनिया के एक हिस्से में बैठकर सनसनी फैलाना चाहते हैं। उन्हें खुद इन हालात का सामना नहीं करना पड़ता। सबसे आसान काम है कि घर बैठकर ब्लॉग लिख डालो या माइक पर बोलो लेकिन मैदान में उतरकर खेलना काफी मुश्किल है।’’ उन्होंने कहा कि वह इस टीम की कप्तानी का पूरा मजा ले रहे हैं। कोहली ने कहा, ‘‘ मुझे जिम्मेदारियां लेना पसंद है। भारत के लिये हर मैच खेलते समय कुछ खास करने का मौका होता है।
कार्यभार के बारे में भविष्य में सोचेंगे लेकिन अभी शरीर चुस्त है और मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं। यह हमारी सर्वश्रेष्ठ जीत है। हम जिस तरह विश्व रैंकिंग मेगं सातवें से पहले स्थान पर पहुंचे, वह शानदार उपलब्धि है और बतौर कप्तान मुझे गर्व है।’’ कोहली ने कहा, ‘‘ इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला प्रतिस्पर्धी थी लेकिन जिस तरह ऑस्‍ट्रलिया ने हमें चुनौती दी, वह अद्भुत था। हमारे खिलाड़ियों ने भी हार नहीं मानी और जमकर सामना किया।’’
उन्होंने चौथे टेस्ट में कप्तानी करने वाले अजिंक्य रहाणे की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘ उसने अच्छी कप्तानी की। बाहर बैठकर उसे देखना सुखद था।’’ कोहली ने कहा कि बेहतर फिटनेस के साथ टीम लंबे घरेलू सत्र में अच्छा प्रदर्शन कर सकी। उन्होंने कहा, ‘‘ हमने फिटनेस ट्रेनिंग में जो बदलाव किये, वे कारगर साबित हुए। पूरे सत्र में टीम अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब रही। अतीत में हमने आसानी से मैच गंवाये हैं लेकिन इस सत्र में नहीं। यह टीम का सत्र था, एक या दो खिलाड़ियों का नहीं।’’ जब उनसे पूछा गया कि क्‍या वे अब भी ऑस्‍ट्रेलियन खिलाडि़यों को मैदान के बाहर अपना दोस्‍त मानते हैं। इस पर कोहली ने जवाब दिया कि नहीं। अब ऐसा होना मुश्किल है। पहले लगता था कि ऐसा हो सकता है (मैदान के बाहर दोस्‍ती) लेकिन अब नहीं लगता

ऐसा स्टेडियम जहां पिच पर नहीं पड़ती छाया, आज खेलेंगे भारत-ऑस्ट्रेलिया

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी के होम टाउन रांची में आज से खेला जाएगा। ये पहला मौका है जब रांची में कोई टेस्ट मैच होगा। इस स्टेडियम की सबसे बड़ी खासियत इसकी डिजाइन है। ये देश का पहला ऐसा स्टेडियम है जहां किसी भी परिस्थिति में शाम 4.45 से पहले मैदान में बने सभी 9 पिचों पर छाया नहीं पड़ती। इससे बैट्समैन की परेशानी काफी कम होती है। एकबार में ही आईसीसी ने कर दिया था पास...
- यह स्टेडियम फरवरी, 2012 में बनकर तैयार हुआ और उसी साल 19 अक्टूबर को आईसीसी ने इसे इंटरनेशनल मैच के लिए मान्यता दे दी।
- अगस्त में ही यह तय हो गया था कि इस ग्राउंड पर इंडिया और इंग्लैंड के बीच 19 जनवरी, 2013 को वनडे मैच खेला जाएगा, लेकिन उसके लिए इस स्टेडियम को आईसीसी से मान्यता मिलनी जरूरी थी। इसीलिए बीसीसीआई की रिक्वेस्ट पर आईसीसी ने डेविड बून की अध्यक्षता में स्टेडियम के इंस्पेक्शन के लिए एक टीम भेजी।
 बून को स्टेडियम में मौजूद फैसिलिटीज, सिक्योरिटीज, लोकेशन और सबसे खास बात कन्सट्रक्शन इतना पसंद आया कि उन्होंने एकबार में ही स्टेडियम के फेवर में रिपोर्ट सौंपी और आईसीसी ने इंटरनेशनल मैच के लिए मान्यता दे दी।
 इतना ही नहीं, ग्राउंड पर प्रैक्टिस के लिए 8 पिच तैयार किए गए हैं। इसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि एकसाथ 8 बैट्समैन और बॉलर्स प्रैक्टिस कर सकते हैं। कई बार इन प्रैक्टिस पिचों पर लोकल मैचेज भी खेले जाते हैं।

महिला आइस हॉकी टीम ने चंदे के पैसे से की तैयारी और रच दिया इतिहास, दर्ज की पहली इंटरनेशनल जीत

भारतीय महिला आइस हॉकी टीम ने इतिहास रचते हुए अंतरराष्‍ट्रीय टूर्नामेंट में पहली जीत दर्ज कर ली है। थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में खेले जा रहे आईआईएचएफ एशिया चैलेंज कप में भारतीय टीम ने फिलिपींस को 4-3 से हरा दिया। टीम की जीत इस मायने में अहमियत रखती है कि इस टूर्नामेंट में जाने के लिए उसके पास पैसे भी नहीं थे। इसके लिए उन्‍होंने क्राउड फंडिंग अभियान शुरू किया और इससे चंदा जुटाया। इस अभियान के दौरान 3000 दानदाताओं ने सहयोग दिया। इस पैसे से महिला खिलाडि़यों की ट्रेनिंग, रहने की व्‍यवस्‍था, हवाई किराया, वीजा, टीम जर्सी और साजोसामान की व्‍यवस्‍था हुई। टीम ने कुछ समय तक किर्गिस्‍तान में भी प्रशिक्षण लिया।

भारत ने 2016 के एशिया चैलेंज कप से अपना अंतरराष्‍ट्रीय डेब्‍यू किया था। इस प्रतियोगिता में टीम इंडिया की अनुभवहीनता साफ दिखाई दी। इसमें उसने 39 गोल खाए और उसकी ओर से केवल 5 गोल हो पाए। हालांकि इस बार टीम काफी दृढ़निश्‍चित नजर आई। फिलीपींस के खिलाफ त्‍सवांग चुस्‍कीत ने भारत का खाता खोला। कप्‍तान रिंचेन देवी ने इस बढ़त को दोगुना किया। हालांकि फिलीपींस की टीम भी इस तरह से हार मानने वाली नहीं थी। उसकी ओर से भी जवाबी कार्रवाई हुई बियांका क्‍यूवास ने दो और कायला हर्बोलारियो ने गोल दागकर टीम को 3-2 से आगे कर दिया। अब टीम इंडिया दबाव में थी। इस दबाव को हटाने का जिम्‍मा लिया चुस्‍कीत ने और उन्‍होंने अपना दूसरा व भारत का तीसरा गोल दाग दिया। मैच के 58वें मिनट में चुस्‍कीत ने अपना तीसरा गोल दागकर टीम इंडिया को निर्णायक बढ़त दिला दी।

इंडिया का दसवां विकेट गिरा, 189 रन पर सिमटी टीम

भारत और इंग्लैंड के बीच चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला के बेंगलुरू में खेले जा रहे दूसरे मुकाबले में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कुल 189 रन बनाए। 9वें विकेट के रूप में के एल राहुल 90 रन बनाकर आउट हुए। आठवें विकेट के रूप में जडेजा का विकेट गिरा। इससे पहले अजिंक्य रहाणे और करुण नायर ने अपने विकेट आॅस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को तोहफे में दिया। रहाणे नाथन लायन की गेंद पर आगे निकलकर शॉट खलने के चक्कर में स्टंप आउट हुए। उन्हीं के पदचिन्हों पर चलते हुए करुण नायर भी स्टीव ओकीफी को आगे बढ़कर शॉट खेलने के चक्कर में स्टंप आउट हुए। इससे पहले आॅस्ट्रेलिया के स्पिनर नाथन लायन ने विराट कोहली को एलबीडब्लू आउट कर भारत को तीसरा झटका दिया। कोहली 12 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। लायन ने अब तक तीन भारतीय खिलाड़ियों को अपना शिकार बनाया है। स्टीव ओकीफी और मिचेल स्टॉर्क को एक एक सफलता मिली है।
तेज़ गेंदबाज़ मिचेल स्टार्क ने 56 टेस्ट के बाद टीम इंडिया में वापसी कर रहे अभिनव मुकुंद (00) को एलबीडब्ल्यू आउट कर भारत को पहला झटका दिया। चेतेश्वर पुजारा 17 रन बनाकर नाथन लॉयन का शिकार बने। उन्हें शॉर्ट लेग पर पीटर हैंड्सकॉम्ब ने कैच किया। आउट होने से पहले उन्होंने राहुल के साथ 50 से ज्यादा रनों की साझेदारी की। इस टेस्ट मैच में भारतीय टीम की तरफ से दो बदलाव किए गए हैं। कंधे की चोट के चलते मुरली विजय की जगह ओपनिंग बल्लेबाज़ अभिनव मुकुंद को मौका मिला है। तो वहीं जयंत यादव की जगह करुण नायर की टीम में वापसी हुई है।

विराट कोहली सिंगल ब्रांड के साथ 100 करोड़ का डील करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने

यी दिल्ली: विराट कोहली एक ही ब्रांड के साथ 100 करोड़ रुपये का अनुबंध करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गये हैं. विराट कोहली ने लाइफस्‍टाइल ब्रांड प्‍यूमा के साथ 110 करोड़ रुपये का करार किया है जिसके बाद से वे चर्चा में हैं.

अनुबंध करने के साथ ही कोहली अब जमैका के उसैन बोल्‍ट, असाफा पॉवेल, फुटबॉलर थियरी हेनरी और ओलिवर गिरॉड के साथ प्‍यूमा के ग्‍लोबल एम्‍बेसेडर बन चुके हैं. जानकारी के अनुसार जर्मनी के इस ब्रांड के साथ कोहली ने आठ साल का अनुबंध किया है और उन्‍हें इससे फिक्‍स्‍ड पेमेंट और ब्रांड के प्रदर्शन के आधार पर रॉयल्‍टी प्राप्त होगी.

कोहली प्‍यूमा के साथ मिलकर विशेष लोगो और पहचान वाले ब्रांड के लिए भी काम करेंगे. कंपनी कोहली को 12 से 14 करोड़ सालाना एंडॉर्समेंट डील के रूप में देगी और यह रकम तय होगी.
अनुबंध की खुशी कोहली ने सोशल मीडिया पर शेयर की. उन्होंने ट्विट किया कि प्‍यूमा के साथ एक नये युग की शुरुआत होने जा रही है. इस ट्वीट को कोहली ने प्‍यूमा के साथ शेयर किया

यहां उल्लेख कर दें कि किक्रेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धौनी ने भी 100 करोड़ रुपये के कॉन्‍ट्रेक्‍ट किये थे, लेकिन उनके अनुबंध स्‍पोर्ट्स एजेंसियों से थे और उन्‍हें किसी एक ब्रांड से पूरा पैसा प्राप्त नहीं होता था.

बांग्‍लादेश के खिलाफ टेस्‍ट के लिए टीम इंडिया का एलान, अभिनव मुकुंद की वापसी, पार्थिव बाहर

बांग्‍लादेश के खिलाफ एकमात्र टेस्‍ट के लिए भारतीय क्रिकेट टीम का एलान कर दिया गया है। नौ फरवरी से हैदराबाद में होने वाले इस मुकाबले के लिए तमिलनाडु के सलामी बल्‍लेबाज अभिनव मुकुंद को शामिल किया गया है। वहीं इंग्‍लैंड सीरीज में वापसी करने वाले पार्थिव पटेल को जगह नहीं है। विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा की टीम में वापसी हुई है। अभिनव मुकुंद साल 2011 के बाद पहली बार भारतीय टीम में शामिल हुए हैं। उन्हें आखिरी बार 2011 में इंग्‍लैंड दौरे पर खेलने का मौका मिला। इसके बाद से वे बाहर चल रहे थे। मुकुंद ने इन साल रणजी ट्रॉफी में तमिलनाडु के लिए निरंतर प्रदर्शन किया और 700 से ज्‍यादा रन बनाए। मुकुंद ने भारत की ओर से पांच टेस्‍ट खेले हैं और 10 पारियों में 21.10 की औसत से 211 रन बनाए हैं। उनके नाम एक टेस्‍ट फिफ्टी है।
वहीं साहा चोट के चलते इंग्‍लैंड सीरीज के दौरान टीम इंडिया से बाहर हो गए थे। इसके चलते पार्थिव पटेल को शामिल किया गया। उन्‍होंने अच्‍छा प्रदर्शन किया था जिसके बाद चयनकर्त्‍ताओं के सामने मुश्किल खड़ी हो गई थी क्‍यों‍कि साहा ने ईरानी ट्रॉफी के दौरान दोहरा शतक लगाकर फिटनेस के साथ ही फॉर्म भी दर्शाई थी। माना जा रहा था कि पटेल को तीसरे ओपनर के रूप में चुना जा सकता है। टीम में मोहम्‍मद शमी को नहीं लिया गया है क्‍योंकि वे अभी हैमस्टिंग की चोट से उबर रहे हैं। आपको बता दें कि बांग्‍लादेश पहली बार भारत में टेस्‍ट मैच खेलने आ रहा है।
प्रशासकों की नई समिति के बीसीसीआई के ज्‍वॉइंट सेक्रेटरी अमिताभ चौधरी को टीम चयन बैठक में शामिल होने से रोकने के चलते चयन में छह घंटे की देरी हुई। कई फोन और ईमेल के बाद बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने बैठक की अध्‍यक्षता की।
टीम इस प्रकार है:
विराट कोहली, मुरली विजय, केएल राहुल, चेतेश्‍वर पुजारा, अजिंक्‍या रहाणे, करुण नायर, ऋद्धिमान साहा, आर अश्विन, रवींद्र जडेजा, जयंत यादव, उमेश यादव, ईशांत शर्मा, भुवनेश्‍वर कुमार, अमित मिश्रा, अभिनव मुकुंद और हार्दिक पंड्या।

भारत ने दूसरे टी 20 मुकाबले में इंग्लैंड को 5 रन से हराया

नागपुर टी20 मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को 5 रन से हराकर सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली है। जसप्रीत बुमराह ने करिश्माई गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए आखिरी ओवर में इंग्लैंड को 8 रन नहीं बनाने दिया और भारत के जीत की पटकथा लिखी।

भारत ने नागपुर में खेले गए तीन टी20 मैचों की सीरीज के दूसरे मुकाबले में इंग्लैंड को 5 रन से हराकर सीरीज में 1-1 बराबरी कर ली है। मैच में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 145 रनों का लक्ष्य रखा था। इंग्लैंड की टीम निर्धारित 20 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 139 रन ही बना सकी और इस तरह भारत ने यह मुकाबला 5 रन से अपने नाम कर लिया। भारत की जीत के नायक रहे तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह। इंग्लैंड को जीत के लिए आखिरी ओवर में मात्र 8 रनों की दरकार थी और उसके 6 विकेट सुरक्षित थे। लेकिन, बुमराह ने करिश्माई गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए आखिरी ओवर में मात्र दो रन दिए और जो रूट तथा जोस बटलर को पैवेलियन की राह दिखा दी।
भारत के अनुभवी तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने भी इस रोमांचक जीत में अहम भूमिका निभाई और भातर को जरूरत के समय विकेअ दिलाया। नेहरा ने 4 ओवर में 28 रन दिए, जबकि बुमराह ने 4 ओवर में 20 रन खर्च किए। नेहरा ने तीन विकेट लिए जबकी बुमराह को दो विकेट मिले। इंग्लैंड को 22 रन पर ही आशीष नेहरा ने लगातार गेंदों पर दो झटके (सैम बिलिंग्स-जेसन रॉय) दिए। इसके बाद अमित मिश्रा ने इयोन मॉर्गन (17) को आउट कर भारत को तीसरी सफलता दिला दी। इसके बाद जो रूट और बेन स्टोक्स ने चौथे विकेट के लिए 52 रनों की साझेदारी कर भारत की जीत की उम्मीदों को धुंधला कर दिया था। तभी आशीष नेहरा ने बेन स्टोक्स को एलबीडब्लू आउट कर भारत को अहम मौके पर सफलता दिलायी।
इसके बाद भारत ने मैच में शानदार वापसी करते हुए इंग्लैंड के जबड़े से एकतरह से जीत छीन ली। जसप्रीत बुमराह ने इंग्लैंड की पारी के 18वें ओवर में मात्र तीन रन दिए। इंग्लैंड को आखिरी 12 गेंदों पर जीत के लिए 24 रनों की दरकार थी। आशीष नेहरा ने 19वें ओवर में 16 रन दे दिए और इंग्लैंड जीत के काफी करीब था। लेकिन, बुमराह ने अंतिम ओवर में इंग्लैंड के जमें हुए बल्लेबाजों जो रूट और जोस बटलर को आउट कर भारत के जीत की पटकथा लिख दी। उन्होंने इस ओवर में मात्र 2 रन दिए। मैच में शानदार 71 रनों की पारी खेलने वाले भातर के सलामी बल्लेबाज केएल राहुल को मैन आॅफ द मैच के खिलाब से नवाजा गया। सीरीज का तीसरा और आखिरी मुकाबला बेंगलुरू में खेला जाएगा।
इससे पहले दूसरे टी 20 मुकाबले में टीम इंडिया ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 144 रन बनाए हैं और इंग्लैंड को जीत के लिए 145 रनों का लक्ष्य दिया है। मैच में भारत की तरफ से सलामी बल्लेबाज केएल राहुल सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहे। उन्होंने 47 गेंद में 6 चौकों और 2 छक्कों की मदद ये 71 रनों की पारी खेली। उनके आलावा कोई भी भारतीय बल्लेबाज टिककर नहीं खेल सका। विराट कोहली ने शुरूआत में अपने हाथ जरूर दिखा लेकिन 21 रन के स्कोर पर आउट होकर पैवेलियन लौट गए। यह भारतीय पारी का पहला विकेट था।
उनके आउट होने के बाद सुरेश रैना बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर आए और मात्र 7 रन बनाकर आउट हो गए। युवराज सिंह 12 गेंद में 4 रन बनाकर पैवेलियन लौट गए। मनीष पाण्डेय ने केएल राहुल के साथ चौथे विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी कर भारत को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचने में मदद की। उन्होंने 26 गेंद में एक छक्के की मदद से 30 रन बनाए। इंग्लैंड के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए भारतीय बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया। इंग्लैंड के लिए क्रिस जॉर्डन ने 4 ओवर में 22 रन देकर तीन विकेट झटके। मोइन अली, टाइमल मिल्स और आदिल रशीद ने एक एक विकेट लिया।

ऑस्‍ट्रेलियन ओपन 2017 फाइनल: रोजर फेडरर बने चैंपियन, राफेल नडाल को हराकर जीता 18वां ग्रैंड स्‍लैम खिताब

स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने ऑस्‍ट्रेलियन ओपन 2017 का पुरुष एकल वर्ग का खिताब जीत लिया है। उन्‍होंने फाइनल में स्‍पेन के राफेल नडाल को 6-4, 3-6, 6-1, 3-6, 6-3 से हराया। फेडरर का यह 18वां ग्रैंड स्‍लैम और पांचवां ऑस्‍ट्रेलियन ओपन खिताब है। ये दोनों दिग्गज खिलाड़ी 2011 के फ्रेंच ओपन के बाद पहली बार किसी ग्रैंडस्लैम फाइनल में आमने सामने थे। साल 2009 में फेडरर को ऑस्‍ट्रेलियन ओपन के फाइनल में नडाल ने हराया था। ग्रैंडस्लैम फाइनल में नडाल का फेडरर पर 6-3 का रिकॉर्ड था जो अब 6-4 हो गया है। पैंतीस वर्षीय फेडरर का यह छठा ऑस्ट्रेलियाई ओपन फाइनल और कुल 28वां ग्रैंडस्लैम फाइनल था। साल 2012 के विंबलडन के बाद यह उनकी ग्रैंडस्‍लैम जीत है। इस जीत से पहले उन्‍होंने नडाल के खिलाफ आठ में से छह ग्रैंड स्‍लैम हारे थे। नडाल और फेडरर दोनों ने इस टूर्नामेंट में चोट से उबरने के बाद वापसी की थी। फेडरर को तो यहां पर 17वीं रैंक दी गई थी जो कि एक दशक में सबसे खराब थी

पहला T-20 भारत ने 20 ओवर में बनाए 7 विकेट पर 147 रन

हार्दिक पंड्या (9)  भी कोई बड़ी पारी नहीं खेल पाए. उन्हें टाइमल मिल्स ने लौटाया. इससे पहले मनीष पांडे को एलबीडब्ल्यू कर मोईन अली ने पांचवां झटका दिया. तेज बल्लेबाजी कर रहे सुरेश रैना (34 रन) को स्टोक्स ने बोल्ड कर दिया. इससे पहले युवराज सिंह (12 रन) को प्लंकेट ने आउट किया. विराट कोहली को (29 रन) को मोईन अली ने आउट दूसरा झटका दिया. केएल राहुल (8 रन) को जॉर्डन ने लौटाया.  आखिरी ओवर में परवेज रसूल (5) रन आउट हो गए. आखिरकार धोनी की बल्लेबाजी की बदौलत भारत ने 20 ओवर में  7 विकेट पर 147 रन बनाए. 

परवेज रसूल का टी-20 इंटरनेशनल में पदार्पण 
इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट और वनडे सीरीज जीतने के बाद टीम इंडिया टी-20 मुकाबलों को भी अपने नाम करना चाहेगी. भारत के ऐतिहासिक 500वें टेस्ट मैच की मेजबानी करने वाले इस मैदान पर यह पहला टी-20 मैच है. जम्मू एवं कश्मीर के ऑफ स्पिन गेंदबाज परवेज रसूल  टी-20 इंटरनेशनल में पदार्पण कर रहे हैं. जबकि सुरेश रैना और अनुभवी तेज गेंदबाज आशीष नेहरा इस मैच से वापसी कर रहे हैं . भारत ने रसूल के अलावा युजवेंद्र चहल को दूसरे स्पिन गेंदबाज के रूप में शामिल किया है. 
कप्तान के रूप में विराट का पहला टी-20 इंटरनेशनल

विराट कोहली टी-20 इंटरनेशनल में एक कप्तान के रूप में पदार्पण कर रहे हैं. इसके साथ ही टेस्ट मैचों में 22 व 20 वनडे मुकाबलों में भारत का नेतृत्व कर चुके विराट अब तीनों फॉर्मेट में भारत की कप्तानी करने वाले तीसरे कप्तान बन गए हैं.

मॉर्गन ने लगाया टाइमल मिल्स पर दांव
इधर, इंग्लिश कप्तान इयोन मॉर्गन बाएं हाथ के तेज गेंदबाज टाइमल मिल्स इस्तेमाल करेंगे. बैग बेश लीग में 150 किमी/घंटे (93एमपीएच) की रफ्तार से गेंदें डाल कर भारत आए मिल्स  भारतीय कप्तान कोहली को अपनी तेजी से परास्त करने का माइंड गेम पहले ही खेल चुके हैं.

अलग अलग १८ राज्यो की खिलाडी मैदान में दिखा रहे जोहर किस राज्य के नाम होगा ये चमचमाती ट्राफी कौन होगा विजेता पढ़ते रहे बी बी एन 24 न्यूज़

भाटापारा के लोकोत्सव मैदान में स्व. श्रीमती शारदा देवी रामदयाल शर्मा की स्मृति मं12 से 15 जनवरी तक आयोजित अखिल भारतीय कबड्डी प्रतियोगिता का  आयोजन किया  जा रहा है  कृषि, पशुधन, मछलीपालन एवं जल संसाधन मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल, श्रम, खेल एवं युवा कल्याण, जन शिकायत निवारण मंत्री   भैयालाल राजवाड़े, छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम अध्यक्ष   शिवरतन शर्मा, मार्शल आर्टस स्पोर्टस अध्यक्ष  अश्वनी शर्मा एवं जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में सुभारम्भ  किया गया था  प्रतियोगिता में देश के 18 राज्य के महिला व पुरूष कबड्डी खिलाड़ी शामिल हुए है जो अपनी खेल की  प्रतिभा दिखा रहे है खेल का आज तीसरा दिन है  अखिल भारतीय कबड्डी प्रतियोगिता का चमचमाती ट्राफी किसके नाम होगा यह देखने वाली बात होगी 
 

टेस्ट मैच में 88 मैच कम खेलकर अश्विन ने कपिल देव से कर ली उनके रिकॉर्ड की बराबरी,अब सिर्फ कुंबले और हरभजन से हैं पीछे

भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन इस समय बेहतरीन फॉर्म में हैं और धारदार गेंदबाजी कर रहे हैं। अपनी गेंदों में विविधिता के कारण अश्विन टेस्‍ट और वनडे, दोनों ही फॉमेंट में न केवल बहुत किफायती साबित होते हैं बल्कि विकेट भी चटकाते हैं। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में अश्विन ने एक और उपलब्धि अपने नाम कर ली। अश्विन ने टेस्‍ट मैच के दूसरे दिन इंग्‍लैंड के बेन स्‍टोक्‍स को आउट करते ही टैस्ट करियर में 23वीं बार पारी में 5 या इससे अधिक विकेट लेने का कारनामा किया। इसके साथ ही अश्विन ने भारत के महान आॅलराउंडर कपिलदेव के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। हालांकि, कपिल देव ने 131 टेस्‍ट मैचों में 23 बार पांच या इससे ज्‍यादा विकेट लेने का कारनामा किया था, जबकि अश्विन ने मात्र 43 टेस्‍ट मैच खेलकर ही यह उपलब्धि हासिल कर ली है।
अश्विन मुंबई में अपने करियर का 43वां टेस्‍ट मैच खेल रहे हैं और उनके पास इंग्‍लैंड की दूसरी पारी में कपिल से आगे निकलने का मौका है। वानखेड़े की विकेट भी स्पिन गेंदबाजों के अनुकूल है और अश्विन के पास इस मैच की दूसरी पारी में 24वीं बार पांच या उससे अधिक विकेट लेकर कपिल देव का रिकॉर्ड तोड़ने का मौका है। अश्विन ने 102 वनडे मैचों में अब तक 142 विकेट और 45 टी20 मुकाबलों में 52 विकेट लिए हैं। टेस्ट मैच की एक पारी में सबसे अधिक बार पांच या इससे अधिक विकेट लेने का विश्व रिकॉर्ड श्रीलंका के करिश्‍माई ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन के नाम हैं, जिन्‍होंने 137 टेस्‍ट मैचों में 67 बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट लिया है। मुरलीधरन ने 22 बार टेस्ट मैच में 10 या इससे अधिक विकेट लिया है।
पारी में पांच या अधिक विकेट लेने के मामले में भारत के दो अन्य स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले और हरभजन सिंह ही अब अश्विन से आगे हैं। कुंबले ने अपने करियर में कुल 132 टेस्‍ट मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 35 बार टेस्ट मैच की एक पारी में पांच विकेट लिया है वहीं, उन्होंने आठ बार मैच में 10 या इससे ज्‍यादा विकेट लिए हैं। जबकि हरभजन सिंह ने अपने करियर में अबतक 103 टेस्‍ट मुकाबलों में 25बार एक पारी में पांच या इससे अधिक विकेट लिए हैं। हालांकि, मैच में 10 या इससे ज्‍यादा विकेट लेने के मामले में ‘भज्‍जी’ अश्विन से पीछे हैं। हरभजन ने पांच बार एक टेस्ट मैच में 10 या ज्यादा विकेट लेने का कारनामा किया है। अश्विन ने छह बार यह कारनामा किया है। कपिल देव ने अपने टेस्‍ट करियर में 434 विकेट, टीम इंडिया के मौजूदा कोच अनिल कुंबले ने 619 विकेट और हरभजन ने 417 विकेट लिए हैं।

2nd TEST: विराट 150 के पार पहुंचे, भारत की स्थिति मजबूत

कप्तान विराट कोहली के नाबाद 151 रन और चेतेश्वर पुजारा के शतकीय प्रहार की मदद से भारत ने शुरूआती झटकों से उबरते हुए इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन आज चार विकेट पर 317 रन बना लिए।

अपना 50वां टेस्ट खेल रहें कोहली ने मोर्चे से अगुवाई करते हुए 14वां टेस्ट शतक पूरा किया। उन्होंने पुजारा (119) के साथ तीसरे विकेट के लिए 226 रन जोड़े। पुजारा ने पिछले तीनों मैच में शतक जमाया है।

कोहली ने लगाएं 15 चौके और दो छक्के

अपने करियर का 10वां टेस्ट खेल रहें पुजारा ने कोहली के साथ मिलकर इंग्लैंड के गेंदबाजों को खासा परेशान किया। पहले सत्र में भारत ने दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट 22 रन पर गंवा दिये। इसके बाद कोहली और पुजारा ने संभलकर खेला। कोहली ने अपनी छह घंटे की पारी में 15 चौके और दो छक्के लगायें।

कोहली को 56 के स्कोर पर मिला जीवनदान

कोहली ने चिर प्रतिद्वंद्वी जेम्स एंडरसन को भी दबाव में ला दिया। एंडरसन ने हालांकि 44 रन देकर तीन विकेट लिए लेकिन, कोहली को आउट नहीं कर सकें। कोहली को 56 के स्कोर पर जीवनदान मिला जब बेन स्टोक्स की गेंद पर डीप फाइन लेग बाउंड्री पर आदिल रशीद ने उनका कैच छोड़ा।

पुजारा ने छक्का लगाकर पूरा किया शतक

पुजारा ने 204 गेंद में 119 रन बनायें, जिसमें 12 चौके और दो छक्के लगायें। कोहली ने कवर ड्राइव के साथ अपना शतक पूरा किया जबकि पुजारा ने छक्का लगाकर शतक पूरा किया।

कोहली 50वें टेस्ट में शतक जड़ने वाले छठे भारतीय बल्लेबाज बनें

पहले दिन का खेल समाप्त होने पर आर अश्विन और कोहली क्रीज पर थे। कोहली का इस मैदान से मधुर नाता बरकरार रहा, जो यहां पिछली वनडे पारियों में 118,117,99 और 65 रन बना चुके हैं। वह 50वें टेस्ट में शतक जड़ने वाले छठे भारतीय बल्लेबाज भी बन गए।

केएल राहुल नहीं खोल सकें खाता

इससे पहले टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए भारत ने केएल राहुल और मुरली विजय के विकेट पांच ओवर के भीतर ही गंवा दिये। रणजी मैचों में अच्छे प्रदर्शन के बूते टीम में लौटे केएल राहुल खाता भी नहीं खोल सकें। उन्हें बेन स्टोक्स ने तीसरी स्लिप में स्टुअर्ट ब्राड के हाथों लपकवाया। मुरली विजय (20) ने टेस्ट क्रिकेट में अपने 3000 रन पूरे किये लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल सकें।

जेम्स एंडरसन की उछाल लेती गेंद पर वह चूकें और गली में बेन स्टोक्स को कैच दे बैठें। ब्राड को कलाई की चोट से उभरने के कारण मैदान छोड़ना पड़ा और आठवें ओवर में उनकी जगह स्टोक्स को उतारा गया।

एंडरसन और कोहली की टक्कर में कोहली का पलड़ा रहा भारी

इंग्लैंड के गेंदबाजों ने भारतीयों को उछाल लेती शॉर्ट गेंदें फेंकी लेकिन पुजारा और कोहली चुनौती के लिए तैयार थे। एंडरसन और कोहली की टक्कर देखने लायक थी जिसमें भारतीय कप्तान का पलड़ा भारी रहा।

कोहली खुशकिस्मत भी रहें, जब एंडरसन की गेंद पर उन्होंने ऊंचा शॉट खेला लेकिन, कैच लपकने के लिए कोई फील्डर नहीं था। पुजारा भी एक बार कोहली के साथ गलतफहमी के कारण रन आउट होने से बाल बाल बचे। 

एलेस्टेयर कुक ने 10वें ओवर में स्पिनर को गेंद सौंपी लेकिन बायें हाथ के स्पिनर जफर अंसारी को सफलता नहीं मिली। ब्राड उपचार के बाद मैदान पर लौटे लेकिन प्रभावित नहीं कर सकें।

कोहली और पुजारा एक साथ नब्बे के स्कोर तक पहुंचे 

कोहली और पुजारा एक साथ नब्बे के स्कोर तक पहुंचे। वेस्टइंडीज दौरे पर धीमी बल्लेबाजी के लिए आलोचना झेलने वाले पुजारा ने रशीद को डीप मिडविकेट पर छक्का लगाकर शतक पूरा किया। कोहली को 56 के स्कोर पर जीवनदान मिला जब लॉन्ग लेग पर रशीद ने उनका कैच लपका जबकि पुजारा भी रिव्यू में पगबाधा की अपील पर नॉट आउट करार दिये गए।

इससे पहले कोहली ने 26 बरस के ऑफ स्पिनर जयंत यादव को अंतिम एकादश में अमित मिश्रा की जगह उतारकर सभी को चौंका दिया। मिश्रा ने तीन सप्ताह पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रन देकर पांच विकेट लिए थे

जयंत भारत के 286वें टेस्ट खिलाड़ी बनें जिन्हें पूर्व कप्तान रवि शास्त्री ने दी कैप

जयंत भारत के 286वें टेस्ट खिलाड़ी बनें जिन्हें पूर्व कप्तान रवि शास्त्री ने कैप दी। गौतम गंभीर की जगह केएल राहुल को उतारा गया। वहीं इंग्लैंड टीम में क्रिस वोक्स की जगह जेम्स एंडरसन उतरें।

प्लेइंग इलेवन
भारतः के.एल. राहुल, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, आर अश्विन, रिद्धिमान साहा, रविंद्र जडेजा, जयंत यादव, मोहम्मद शमी, उमेश यादव।
इंग्लैंडः एलिस्टेयर कुक, हसीब हमीद, जो रूट, बेन डकेट, मोइन अली, बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टो, जफर अंसारी, आदिल रशीद, स्टुअर्ट ब्रॉड, जेम्स एंडरसन।

IND vs NZ: केन विलियमसन ने कोटला में 41 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा

केन विलियमसन केवल तीन रन से न्यूजीलैंड की तरफ से भारत के खिलाफ सर्वोच्च स्कोर का रिकॉर्ड बनाने से चूक गए लेकिन कप्तान के रूप में वह ग्लेन टर्नर का 41 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ने में सफल रहे। विलियमसन ने 118 रन बनाये जो न्यूजीलैंड की तरफ से वनडे में भारत के खिलाफ दूसरा बड़ा स्कोर है। रिकॉर्ड नाथन एस्टल के नाम पर है जिन्होंने नवंबर 1999 में राजकोट में 120 रन बनाए थे। विलियमसन हालांकि भारत के खिलाफ सर्वाधिक व्यक्तिगत पारी खेलने वाले कीवी कप्तान बन गए हैं और उन्होंने टर्नर के 14 जून 1975 को मैनचेस्टर में बनाए गए नाबाद 114 रन के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा।
यही नहीं न्यूजीलैंड की तरफ से वर्तमान श्रृंखला में पहली बार कोई बल्लेबाज तिहरे अंकों में पहुंचा। विलियमसन का यह वनडे में आठवां शतक है और वह न्यूजीलैंड की तरफ से सर्वाधिक शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की सूची में स्टीफन फ्लेमिंग के साथ संयुक्त चौथे स्थान पर पहुंच गए। एस्टल ने उसकी तरफ से सर्वाधिक 16 शतक लगाए हैं। न्यूजीलैंड की तरफ से भारत के खिलाफ यह किसी कीवी बल्लेबाज का कुल 17वां शतक है। विलियमसन ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत भारत के खिलाफ की थी और अहमदाबाद में नवंबर 2010 में खेले गए इस मैच की पहली पारी में उन्होंने 131 रन बनाए थे।
लेकिन भारत के खिलाफ वनडे में उन्हें पहला शतक लगाने के लिये छह साल का इंतजार करना पड़ा। इस बीच हालांकि उन्होंने केवल 12 मैच खेले तथा 2014 में अपनी सरजमीं पर पांच मैचों की श्रृंखला के प्रत्येक मैच में अर्धशतक लगाया था। इनमें वेलिंगटन में खेली गयी 88 रन की पारी भी शामिल थी जो इससे पहले भारत के खिलाफ उनका सर्वोच्च स्कोर था। पिछले कुछ समय से विलियमसन वनडे में शतक के लिये तरस रहे थे। उन्होंने 16 मैच के बाद अपना पहला सैकड़ा जड़ा। हालांकि इस बीच वह तीन बार ‘नर्वस नाइंटीज’ के भी शिकार बने थे।