राजनीति

पूर्व मुख्यमंत्री पं. रविशंकर शुक्ल ,एवं केन्द्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल की जयंती ब्लाक कांग्रेस कमेटी पामगढ ने दी श्रद्धांजली

पामगढ़ : प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश व जिला कांग्रेस कमेटी के मार्गदर्शन और ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पामगढ़ के नेतृत्व में आज 02 अगस्त को विश्राम गृह पामगढ़ में स्व रविशंकर शुक्ल प्रथम मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश व स्व विद्याचरण शुक्ल पूर्व केंद्रीय मंत्री के जन्म जयंती के अवसर पर उनके कृतित्व व व्यक्तित्व पर राघवेंद्र प्रताप सिंह उपाध्यक्ष जिला पंचायत जिला जांजगीर चाम्पा,हरप्रसाद साहू अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पामगढ़ और मनोज खरे उपाध्यक्ष जिला कांग्रेस ने प्रकाश डाला इस अवसर पर द्वारिका प्रसाद यादव, राम कुमार पटेल ,लव तिवारी,राज कुमार कौशिक, कल्याण सिंह बर्मन,नरेंद्र तिवारी,प्रदीप बनर्जी,रमेश खरे,प्रेम शंकर लहरे,नीरज खूंटे,अनिल खूंटे,नहर लाल साहू,किशोर सिंह,मनहरण श्रीवास,चंदा राम बंजारे,उदल कश्यप, अजय वर्मा,नोखराम पाटले,चंदराम बंजारे,राजेश साहू,हृदय अनन्त,सरयू प्रसाद पूरे,गोरम सारथी,भानु प्रकाश खरे,विक्रम प्रधान, हरीश यादव,विजय यादव,राजकुमार निर्मलकर, सत्यनारायण, आकाश यादव,निखिल दिव्य,लिंकन रात्रे,शत्रुहन रत्नाकर,दीपेंद्र लहरे,रूपेश कश्यप, रामकुमार कश्यप, लोमस पटेल,मनोहर पटेल,राजेन्द्र कुमार फेर,लक्ष्मी कांत कौशिक,देवप्रसाद कौशिक,सहित कार्यकर्तागण उपस्थित थे

झीरम की एसआईटी जांच से भाजपा भयभीत क्यों: कांग्रेस

जगदलपुर। भाजपा प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि झीरम घाटी राजनीतिक षड्यंत्र हत्याकांड की एसआईटी जांच से भाजपा को पसीना क्यों आ रहा है?तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने दो वर्षों तक सीबीआई जांच नहीं होने की सूचना क्यो छिपाई?क्या भाजपा को डर है एनआईए झीरम घाटी कांड के लिए गठित एसआईटी को झीरम की फाइल दे देगी तो झीरम की सुपारी किलिंग की कलई खुल जाएगी? प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा है कि झीरम घाटी कांड की जांच के लिए एसआईटी गठित होने एवं शहीद उदय मुदलियार के बेटे जितेंद्र मुदलियार के द्वारा झीरम घाटी कांड के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराये जाने के बाद भाजपा फिर एनआईए जांच करने की बात क्यो कह रही है?जबकि एनआईए ने अक्टूबर 2015 में न्यायालय में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर कहा कि उनकी जांच पूरी हो चुकी है अब न्यायालय सुनवाई करें? झीरम घाटी कांड के जांच के लिए एसआईटी गठन होने के बाद भाजपा में खलबली मची है।झीरम घाटी हत्या कांड के बाद छत्तीसगढ़ में पुनः भाजपा की सरकार बनती है, डॉ रमन सिंह मुख्यमंत्री बनते हैं और झीरम घाटी जांच ठंडे बस्ते में चली जाती है,जांच की दिशा बदल जाती है,दायरे सीमित हो जाते हैं।एनआईए परिवर्तन यात्रा में शामिल कांग्रेस नेता जो घायल हुए थे उनसे पूछताछ नहीं करती है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के समय दक्षिण बस्तर के तीन विकास खंडों तक सीमित नक्सलवाद डॉ रमन सिंह के शासनकाल में 14 जिलों तक कैसे पहुँचा? भाजपा नेताओं के नक्सलवादियों के साथ सम्बंध उजागर हो रहे हैं।दंतेवाड़ा के भाजपा जिला उपाध्यक्ष जगत पुजारी को बीते 10 साल से नक्सलियों को सामानों सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया जाता हैं।2013 में भाजपा नेता शिवदयाल तोमर की हत्या के बाद गिरफ्तार नक्सली पोडियाम लिंगा पूछताछ में स्वीकार करते हैं कि नक्सलियों के साथ भाजपा के बड़े नेताओं की सांठगांठ है।नक्सलियों के सहयोगी के रूप में पकड़ाए ठेकेदार धर्मेंद्र चोपड़ा की जिस वक़्त गिरफ्तारी होती है उस वक्त भाजपा सांसद के कार में सवार थे। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि भाजपा नहीं चाहती कि झीरम घाटी षड्यंत्रकारियो के चेहरे से नकाब उतरे, सच्चाई जनता के बीच आए और राजनीतिक षड्यंत्र हत्याकांड में शामिल लोगों को सजा मिले, शहीद परिवारों को न्याय मिले। छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार में रहते झीरम घाटी कांड की जांच को प्रभावित की अब एसआईटी जांच को प्रभावित करने का प्रयास कर रही है। इससे स्पष्ट है दाल में कुछ काला नहीं बल्कि पूरी दाल ही काली है।

नरवा, गरूवा, घुरूवा, बारी भूपेश की तब का नारा है जब छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार नहीं थी- राजेश्री महन्त

रायपुर - छत्तीसगढ़ शासन राज्य गौसेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज पीठाधीश्वर श्री दूधाधारी मठ रायपुर ने आज दिनांक 29 जुलाई को राजिम क्षेत्र में नवीन गौशाला एवं कृषि अनुसंधान केंद्र झांकी, श्री गोपाल गौशाला नवापारा राजिम, श्री दूधाधारी मठ द्वारा संचालित ग्राम पिपरौद के गौशाला का निरीक्षण किया प्रत्येक स्थानों पर संचालकों ने समिति के सदस्यों तथा स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ उनका आत्मीय अभिनंदन किया अपने संदेश में राजेश्री महन्त जी महाराज ने कहा कि नरवा, गरूवा, घुरूवा बारी भूपेश जी का तब का नारा है जब छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार नहीं थी उन्होंने केवल नारा ही नहीं लगाया बल्कि सरकार में आते ही अपनी भावनाओं को मूर्त रूप देना प्रारंभ कर दिया उन्होंने कहा कि विगत अनेक वर्षों से गौ माताओं की स्थिति छत्तीसगढ़ राज्य में ही नहीं बल्कि पूरे देश में बद से बदतर होते चली जा रही थी किंतु यह हम सब के लिए खुशी की बात है कि विशेषकर छत्तीसगढ़ में वस्तु स्थिति में परिवर्तन परिलक्षित होने लगा है गौमाता भारतीय सनातन धर्म के ऋषि एवं कृषि संस्कृति का अभिन्न अंग है कारण कि ऋषि संस्कृति में होम, हवन, यज्ञ, जप, तप का अत्यधिक महत्व है इसके लिए हमें पंचगव्य की आवश्यकता होती है जो गौ माता से ही प्राप्त होता है इसके बिना कोई भी पूजा सफल नहीं हो सकता। कृषि संस्कृति की बात करें तो कृषि का यांत्रिकीकरण तो वर्तमान युग में हुआ है, हमारे पूर्वजों ने हजारों वर्षों से परंपरागत कृषि को अपनाया है इसके लिए बैल की आवश्यकता होती थी। बेलन, नागर, कोपर, दौरी, गाड़ा- गाड़ी आदि सभी को संचालित करने में बैल का अत्यधिक महत्व था। यह हमें गौमाता के बिना कभी प्राप्त नहीं हो सकती थी। हम सब पर गौ माता का अनन्य उपकार है हमें अपने सनातन संस्कृति को बचाए रखने के लिए गौ माताओं का संरक्षण और संवर्धन करना ही होगा राजेश्री महन्त जी महाराज जहां-जहां, जिन -जिन गौशालाओं पर गए वहां के संचालकों को उन्होंने गौ माता के उचित संरक्षण के लिए दिशा निर्देश प्रदान किया अपने इस प्रवास के दौरान उन्होंने भगवान राजीवलोचन का दर्शन करके अनेक स्थानों पर वृक्षारोपण भी किया उनके इस निरीक्षण दौरे के कार्यक्रम में पूर्व विधायक संतोष उपाध्याय, श्री प्रवीण साहू, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भाव सिंग साहू ,अनिल तिवारी, राघोबा महाड़िक,अरुण देवांगन भूषण सिंह ठाकुर, शिव कुमार ठाकुर, राजेंद्र ठाकुर, नरेंद्र ठाकुर, अशोक श्रीवास्तव, विकास तिवारी, राजकुमार गोस्वामी, डीके ठाकुर, पुरुषोत्तम मिश्रा, द्वारिकाधीश दुबे, लोकेश चंद्र पांडे, संतोष शर्मा आदि ने सौजन्य मुलाकात की राज्य गौ सेवा आयोग के अधिकारी, जिला एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारी गण तथा मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव रामतीरथ दास साथ में उपस्थित थे। यहां यह उल्लेखनीय है कि ग्राम पीपरौद का गौशाला श्री दूधाधारी मठ के द्वारा संचालित है स्वयं के द्वारा संचालित गौशाला का भी राजेश्री महन्त जी महाराज ने अधिकारियों को अवलोकन कराया।

राजनीतिक प्रतिशोधवश प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने ‘आयुष्मान भारत’ बंद की, ख़ुद एक योजना शुरू तक नहीं कर सके : शिवरतन शर्मा

भाटापारा- भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व विधायक शिवरतन शर्मा ने प्रदेश के तीन निजी अस्पतालों बाल्को, एमएमआई व अपोलो को कोविड-19 के उपचार के लिए अधिकृत किए जाने के परिप्रेक्ष्य में प्रदेश सरकार से इन अस्पतालों में कोरोना पीड़ितों के लिए उपचार का शुल्क निर्धारित करने और कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए आगे आकर उनके इलाज का ख़र्च वहन करने की मांग की है। श्री शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार पूरे प्रदेश को कोरोना महामारी का शिकार बनाकर अब अपने हाथ ऊपर करके लोगों को भगवान भरोसे नहीं छोड़ सकती। भाजपा सजग विपक्ष के तौर पर प्रदेश सरकार को उसके इस नाकारेपन पर पर्दा डालने भी नहीं देगी। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व विधायक श्री शर्मा ने कहा कि राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से कुंठित मानसिकता का परिचय देकर प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा अपने पिछले कार्यकाल में शुरू की गई आयुष्मान भारत योजना बंद कर दी थी, जिसका दुष्परिणाम प्रदेश की जनता को अब इस महामारी में भुगतना पड़ रहा है। श्री शर्मा ने कहा कि यदि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोक-कल्याण से जुड़ी इस महती योजना को जारी रखा होता तो आज प्रदेश के ज़रूरतमंदों को उसका लाभ मिलता और अब सामने आने वाले कोरोना संक्रमितों के निजी अस्पतालों में उपचार में भी यह आयुष्मान योजना काफी राहतमंद साबित होती। लेकिन प्रदेश सरकार को तो सिर्फ़ सत्ता चाहिए थी, प्रदेश के लोगों की सुविधा और कल्याण से तो उसका दूर-दूर तक कोई वास्ता ही नहीं रहा है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व विधायक श्री शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल अपनी एक लकीर तक प्रदेश की स्वास्थ्य सुविधा के क्षेत्र में खींच नहीं पाए और ‘मोदी-विरोध’ के अपने इकलौते एजेंडे पर चलकर केंद्र सरकार की महती योजना के लाभ से भी प्रदेश को वंचित कर दिया। श्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार की बदनीयती, कुनीति और नेतृत्वहीनता ने एक तो इस योजना से प्रदेश को वंचित किया, दूसरे खूब बड़ी-बड़ी डींगें हाँक कर भी प्रदेश सरकार अपनी युनिवर्सल हेल्थ स्कीम को राज्य में लागू तक नहीं कर पाई है। अब प्रदेश की कांग्रेस सरकार को निजी अस्पतालों में राशन कार्ड के आधार पर लोगों के नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था करनी चाहिए। श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना के हर मोर्चे पर प्रदेश सरकार की लापरवाही ने आज प्रदेश में कोरोना महामारी के संकट को बेकाबू कर दिया है और अब भी प्रदेश सरकार इस मोर्चे पर अपनी लापरवाही से बाज नहीं आकर सियासी नौटंकियों में ही मशगूल है।

सोशल मीडिया में पीएम मोदी पर अभद्र टिप्पणी को लेकर युवा मोर्चा ने की एफआईआर की मांग- बीजापुर

बीजापुर - कांग्रेस आईटी सेल अध्यक्ष द्वारा देश के प्रधानमंत्री पर शोसल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी किये जाने को लेकर भाजपा युवा मोर्चा ने एफआईआर दर्ज कर कानूनी कार्यवाही की मांग की है। कांग्रेस के आईटी सेल अध्यक्ष मोहित चौहान द्वारा आये दिन शोसल मीडिया पर देश के प्रधानमंत्री पर आपत्तिजनक टिप्पणी और तस्वीरों को गलत तरीक़े से फेसबुक पर प्रचार-प्रसार किये जाने का आरोप भाजयुमो बीजापुर ने लगाया है। बताया गया है कि नागपंचमी के अवसर पर कांग्रेस के आईटी सेल अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर को गलत तरीके से एडिट कर अस्वीकार्य टिप्पणी किया है जिससे लोगों को आहत हुई है,जिस प्रकार का कृत्य कांग्रेस की ओर से देश के प्रधानमंत्री के लिए किया गया है वह उनकी संकुचित मानसिकता को दर्शाता है। यह कोई पहला मामला नही है जब ऐसा किया गया हो इससे पूर्व में भी कई बार ऐसा आईटी सेल कांग्रेस की ओर से किया गया है। देश के प्रधानमंत्री के प्रति कांग्रेस की हीनभावना लोगों के सामने है,भाजपा दशकों तक विपक्ष की भूमिका में रही लेकिन ऐसी गलत कार्य नही किया। देश की सत्ता से बाहर होने पर कांग्रेस बौखलाहट में आईटी सेल के माध्यम से लोगों के बीच गलत खबर फैलाने में लगे हुए हैं। भाजयुमो बीजापुर ने एफआईआर दर्ज कर कार्यवाही करने की मांग को लेकर थाना प्रभारी को आवेदन दिया है,इस दौरान पार्षद संजय गुप्ता,हितेश साहनी,जागर लक्षमैया, मैथुज कुजूर,सुरेश परतागिरी व अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।

पंद्रह साल तक सरकार में रहने के बाद भी पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा ने अंदरूनी क्षेत्रों की सड़कें क्यूँ नही बनवाये- कमलेश कारम

बीजापुर @ उसूर क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत बीजापुर के उपाध्यक्ष कमलेश कारम ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कहा कि, भारतीय जनता पार्टी के पिछले पंद्रह साल के शासन काल में केवल भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी का खेल चलता रहा है, जिसका नतीजा ये हुआ की आज प्रदेश में भाजपा के मात्र चौदह विधायक हैं। भाजपा के जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मूदलियार का ये कहना कि आज से डेढ़ वर्ष पूर्व वन मंत्री महेश गागडा ने आवापल्ली उसूर मार्ग का भूमि पूजन किया था यह बात पूरी तरह ग़लत है। यदि पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने भूमि पूजन किया था तो फिर सड़क निर्माण का काम क्यूँ नही करवाये जबकि वे राज्य में पंद्रह साल तक सरकार में रहे है और केंद्र में भी मोदी जी की सरकार थी। जबकि सच्चाई ये है कि भाजपा चाहती ही नही की आदिवासी क्षेत्रों में सड़के बने। भाजपा के लोगों को लगता है की आवापल्ली से उसूर की सड़क गुणवत्ताहीन है तो उसकी लिखित शिकायत प्रशासन से करना चाहिए, ऐसा न कर केवल मीडिया में बने रहने के लिए उलूल-जुलूस बयान बाज़ी कर रहे है। भाजपा के पिछले पंद्रह साल के शासन काल में पूर्व वनमंत्री महेश गागड़ा के सह एवं कमीशनखोरी के चलते आज भी ऐसी कई सड़कें है जो केवल काग़ज़ों में बने है भाजपा को इनकी भी शिकायत प्रशासन से करनी चाहिए। जब से प्रदेश में भूपेश बघेल की सरकार बनी है तब से प्रदेश का किसान, मज़दूर व ग़रीब तबके के साथ ही साथ प्रदेश का हर वर्ग ख़ुशहाल है। बीजापुर के विधायक विक्रम शाह मंडावी के नेतृत्व में बीजापुर लगातार विकास कर रहा है हाल ही में नीति आयोग ने भी पूरे देश में बीजापुर ज़िले को आकांक्षी जिलों की डेल्टा रैंकिंग में प्रथम स्थान दिया है, क्षेत्र के विकास के लिए इससे बड़ा उदाहरण कोई दूसरा नही हो सकता इसे भाजपा और भाजपा के नेताओं को समझने की ज़रूरत है।

विपक्ष में बैठी बहना ने सत्ता में बैठे भाई को भेजी डिजिटल राखी, गिफ्ट में मांगी पूर्ण शराबबंदी

रायपुर-  कोविड-19 संक्रमण के प्रसार से बचने के लिए सामाजिक दुरी है जरुरी, इसीलिए विपक्ष में बैठी बहना सरोज पण्डे ने सत्ता की कुर्सी पर आसीन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को सोशल मीडिया के माध्यम से राखी भेजी। राखी के साथ सरोज ने पत्र भी संलग्न किया। जिसमे भूपेश को सत्ता में आने से पहले चुनाव में उनकी पार्टी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा किये गए वायदे की याद दिलाई।  सीएम बघेल ने भी उन्हें जवाब देते हुए लिखा आपका भाई ये वादा पूरा करने में लगा हुआ है, लेकिन आपने बता दिया कि आपके भाई रमन सिंह ने आपका वादा तोड़ दिया। सरोज पांडेय ने ट्वीट कर लिखा, ‘‘प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी को रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर रक्षा सूत्र के साथ आपको यह पत्र प्रेषित कर रही हूँ। उम्मीद है कि, छत्तीसगढ़ की माताओं और बहनों से किया गया पूर्ण शराबबंदी के वादा पूरा कर राज धर्म का पालन करेंगे।’’ सरोज पांडेय ने पत्र में लिखा है कि जब कांग्रेस सरकार में नहीं थी, तब प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी कांग्रेस का वादा था। इसी वादे को स्वीकार करते हुए छत्तीसगढ़ की सभी माताओं, बहनों ने कांग्रेस को वोट दिया। सांसद सरोज पांडेय ने लिखा है, 60 दिनों के पूर्ण लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में शराब के कारण होने वाले घरेलू हिंसा के मामलों में कमी आई, लेकिन जैसे ही लॉकडाउन के नियमों में शिथिलता आई और शराब दुकानें फिर से खुलने लगी, तब से शराब के कारण घरों में कलह शुरू हो गई हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रिट्वीट किया और लिखा, ‘‘बहन सरोज पांडेय जी! आज आपका भाई भूपेश आपसे वादा कर रहा है कि छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी होकर रहेगी, हम सब इसकी तैयारी में लगे हैं। साथ ही आपका आभार इसलिए कि आपने आज पुनः प्रदेश के सामने ला दिया कि आपके भाई डाॅ रमन सिंह ने 15 साल तक आपके वादे को तोड़ा, आपकी बात नहीं मानी।’’ उन्होंने आगे लिखा ‘‘बहन, मैं आपसे एक आग्रह और करता हूँ कि एक राखी अपने भाई नरेंद्र मोदी जी को भी भेज दें और उनसे भी वादा करवाएँ कि देशवासियों से उनके द्वारा किए गये प्रत्येक वादे को पूरा कर सकें। मुझे उम्मीद है कि मेरी बहन में इतनी हिम्मत तो है कि वो अपनी पार्टी के नेता को एक राखी भेज सकेगी।’’ कोरोना काल में सत्ता और विपक्ष द्वारा इस संक्रमण को फैलने से रोकने में इस तरह से उनके रक्षाबंधन मानाने का तरीका लोगों को बहुत भा रहा है। ऐसी अनूठी राखी से संक्रमण पर अंकुश तो लगेगा हिन् साथ में सरकार को उनके कर्तव्यों का बोध भी कराएगा।

लॉकडाउन सैयम और सहजता का समय : आकाश शर्मा

22 जुलाई 2020, बिलासपुर (छ.ग.) । छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण बढ़ते जा रहा हैं आज से लगभग समस्त क्षेत्रो में लॉकडाउन की शुरुआत हो चुकी हैं। सरकार ने आदेश पारित कर दिया हैं, कोविड माहामारी ने विश्व में मानवजाति को जंझोर कर रख दिया हैं आज आंकड़ा विश्व मे 1.5 करोड़ और भारत मे 12 लाख पार करने जा रहा हैं। छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन की सूचना पूर्व प्राप्त होने से जनता इस समय में सरकार का साथ दने को तैयार हैं, प्रदेश में संक्रमित व्यक्तियों के रिकवरी रेट अन्य राज्यो के औसतन अधिक है। इस संकट की घड़ी में हमे एक दूसरे की ताकत बनना होगा, हमे समाज को एक सूत्र में पिरोह कर इस माहामारी से लड़ना होगा। आकाश शर्मा ने कहां आज प्रदेश के लगभग संक्रमण प्रभावित जिलों में लॉकडाउन की शुरुआत होने जा रही है, मैंने एनएसयूआई के एका एक पदाधिकारियों से चर्चा कर इस दौरान जनसेवा और सहायता के लिए तत्पर रहने के निर्देश दिए हैं। हमारे कार्यकर्ता हर रूप से इस माहामारी मे मानव धर्म का पालन कर रहे हैं, पिछले लॉकडाउन के दौरान में केवल रायपुर में हमने 50,000 से अधिक ज़रूरतमंद लोगो तक भोजन पहुँचाया था। साथियों ने मास्क, सूखे राशन और अन्य प्रबंधन किये थे। यदि इस समय मे जनहित के लिए लॉकडाउन को बढ़ाने आवयश्कता पड़ती हैं तो एनएसयूआई के कार्यकर्ता जनसेवा में समर्पित हैं, हम जनता और प्रशासन की हर संभावित सहायता करेंगे। मेरी प्रदेश की जनता से अपील है कि आप लोगो को इस लॉकडाउन को एक योद्धा की तरह लड़ना हैं, ना जाने कितने स्वास्थ, सुरक्षा, स्वच्छता कर्मियों ने हमारी रक्षा हेतु इस माहामारी से लड़ते हुए अपने प्राण आहूत किये हैं। हमे उन्हें प्रेरणा स्वरूप लेकर घरों में रहना हैं। शासन द्वारा सब्जियों हेतु cghaat.in के माध्यम से घर पहुँच सेवा उपलब्ध हैं, मेडिकल्स भी अब घर पहुँच सेवा दे रहे हैं, हमे पूर्णता से लॉकडाउन का पालन कर सभी को बता देना हैं की मोर रायपुर, मोर ज़िम्मेदारी - घर म रहबो जम्मो संगवारी योग व्यायाम हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति (immunity) को बढ़ाने में मदद कर हमें स्वस्थ बनाता हैं। हमारी भारतीय जीवन शैली ऐसी है कि हम इस माहामारी से डट कर सामना कर रहे हैं। पिछले लॉकडाउन के पश्चात इस समय जनता अधिक तैयार हैं, आप सभी अपने परिवार को समय देवें, दैनिक दिनचर्या में अध्ययन, व्यायाम जैसी गतिविधियों को जोड़े, छात्र अपने शिक्षा क्षेत्र से सम्बंधित किताब और आर्टिकल्स पढ़े हम डिजिटल युग के युवा हैं हमे समय का सदुपयोग करना चाहिए। घर पर रहकर नई कार्यो को सीखे; आज के दौर में हर प्रकार की जानकारी एवं प्रशिक्षण ऑनलाइन मौजूद हैं। हम इस समय मे महात्माओं, धार्मिक, राष्ट्रीय, सामाजिक विषय पर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। साहयता के साथ सुरक्षा भी आवश्यक है, हमे इस माहामारी मे समाज की साहयता करने के साथ साथ खुद की और दूसरों सुरक्षा भी महत्वपूर्ण है; आप शासकीय नियमो का पालन करते रहे, आपके घर के आस-पास पशुओं की सेवा करें

गोधन न्याय योजना : मनेंद्रगढ़ विधायक विजय जायसवाल ने किया शुभारंभ

कोरिया जिले चिरमिरी नगर निगम में गोधन न्याय योजना के तहत वार्ड नंबर 21 में गोबर केंद्र का मनेंद्रगढ़ विधायक विजय जायसवाल ने शुभारंभ किया साथ में महापौर कंचन जयसवाल, निगम आयुक्त सुमन राज, एमआईसी सदस्य पार्षद रहे मौजूद रहे ।वही ग्राम ब्रदर में विधायक विनय जयसवाल ने गोधन न्याय योजना शुरुआत की और विधायक ने गौठान में चारा मशीन चला कर ग्रामीणों का उत्साह बढ़ाया ।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य में नरवा, गरुवा, घुरवा और बाड़ी योजना की शुरूआत की गई थी। इस योजना का उद्देश्य छत्तीसगढ़ी परंपरा को संजोते हुए ग्रामीण जनता को आर्थिक रूप से सशक्त बनाना है। इसी उद्देश्य को विस्तार देते हुए पूरे प्रदेश में हरेली तिहार के अवसर पर ‘‘गोधन न्याय योजना’’ प्रारम्भ की गया इस अवसर पर कोरिया जिले के नगर निगम चिरमिरी में विधायक विनय जायसवाल व महापौर कंचन जायसवाल ने सबसे पहले वृक्षारोपण किया और उसके बाद गोधन न्याय योजन प्रारंभ किया गया है। वही मनेन्द्रगढ़ विधानसभा के ग्राम ब्रदर के गौठानो में गोबर क्रय किया गया। और विधायक ने चारा मशीन चलाया । विधायक विनय असवाल ने बताया कि इससे पशुपालकों से 02 रूपये प्रति किलो से गोबर लिया जाएगा । इससे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को रोजगार मिलेगा आर्थिक मदद मिलेगी ।

गोधन न्याय योजना , राज्य को मिलेगी नई पहचान : पं. आयुष पाण्डेय

छत्तीसगढ़ का पहला तिहार हरेली के अवसर पर छत्तीसगढ़ सरकार गोधन न्याय योजना की शुरुआत करने जा रही है जिसके तहत सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि 2 रुपये प्रति किलो में गोबर खरीदेगी! NSUI के प्रदेश प्रवक्ता आयुष पाण्डेय का कहना है, सरकार की इस पहल से राज्य को नई पहचान मिलेगी! छत्तीसगढ़ राज्य में सरकार की छवि गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण में बनी हुई है इस योजना में प्रदेश की जनता का विश्वास सरकार के प्रति और मजबूत होगा! गोबर खरीदी का फायदा किसानों के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के खाद्य वस्तुओं में भी होगा! गोबर से सरकार वर्मीकम्पोस्ट खाद्य बनाकर बेचेंगी! पाण्डेय ने कहा छत्तीसगढ़ के यशस्वी मुख्यमंत्री स्वयं किसान परिवार से है और किसानों की समस्या को समझते है सरकार के गोबर खरीदने से किसान अर्थव्यवस्था की दृष्टिकोण से मजबूत और बेहतर परिणाम देंगे! सरकार चाहती है कि प्रदेश जैविक खेती की ओर अग्रसर हो! फसलो की गुणवत्ता में सुधार हो! छत्तीसगढ़ सरकार ने बीते ढेड़ सालो में राज्य की चार चिन्हारी नरवा,गरुवा, घुरूवा, बाड़ी के माध्यम से राज्य की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने चारो चिन्हारीयो को बढ़ावा देने का प्रयास एवं बापू के ग्राम उत्थान विकास की कल्पना को साकार करने का प्रयास किया है

छत्तीसगढ़ NSUI के प्रदेश प्रवक्ता के लिए पं.आयुष पाण्डेय की नियुक्ति

रायपुर : छत्तीसगढ़ NSUI के प्रदेश प्रवक्ता के लिए पूरे बिलासपुर संभाग से युवा नेता पं.आयुष पाण्डेय की नियुक्ति हुई है ....!! जिससे प्रदेश एवं जिला के NSUI के छात्रों में खासा उत्साह दिखा ।

मरवाही में चुनावी सरगर्मियां तेज

गौरेला: पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की मौत के बाद उस सीट पर उपचुनाव होने जा रहा है। जैसे-जैसे मरवाही में उपचुनाव का समय नजदीक आ रहा है, चुनावी सरगर्मियां तेज हो गईं हैं। जिले में दोनों ही पार्टियों के नेताओं के ताबड़तोड़ कार्यक्रम शुरू हो गये हैं। 

बहरहाल, पूर्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल और छत्तीसगढ़ आबकारी मंत्री कवासी लखमा का एक दिवसीय दौरा जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही में हुआ। लोकनिर्माण विभाग के विश्राम गृह में आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने प्रेस वार्ता की, जिसमें प्रमुख तौर पर उन्होंने मरवाही उपचुनाव में सरकारी मशीनरी का उपयोग ना होने की बात कही। 

हालांकि, जब जिले में कांग्रेस के दो धड़े में बंट जाने की बात उनसे पूछी गई तो उन्होंने स्पष्ट तौर पर मीडियाकर्मियों से इस बात की जानकारी देने की बात कही। चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादों को ध्यान में रखते हुए, उन्होंने किसानों की कर्ज माफी की बात कही। युवाओं को रोजगार देने के मामले में उन्होंने पुलिस में भर्ती का हवाला दिया, परंतु लॉकडाउन के कारण यह क्रियान्वित नहीं हो सका, यह भी बताया।
 

जब शराब से संबंधित सवाल किए गए, तो आबकारी मंत्री होने के नाते उन्होंने बखूबी उनका जवाब दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस को उन आदिवासियों पर कार्रवाई नहीं करनी चाहिए जो अपने लिए कच्ची शराब बनाते हैं। बल्कि उन लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए, जो आदिवासियों की आड़ लेकर कच्ची शराब का धंधा कर रहे हैं। उन्होंने पुलिस विभाग को आदेशित करने की बात कही।

उन्होंने मध्य प्रदेश से लाई जा रही अवैध शराब के संबंध में मध्यप्रदेश एवं उत्तर प्रदेश से शराब की तस्करी होना प्रायोजित बताया और यह भी कहा कि दोनों ही प्रदेशों में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है।
 
हालांकि प्रदेश में लाॅकडाउन है, लेकिन इसके बावजूद कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं की काफी भीड़ थी, सोशल डिस्टेंसिग का पालन भी नहीं किया गया। कुछ लोग तो बिना मास्क लगाए ही मीटिंग में आए थे, जोकि प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ने का कारण बन सकता है।

1400 से ऊपर कोरोना मरीज, 3 आत्महत्या समेत मौत का आंकड़ा छुपा रही है प्रदेश सरकार

 रायपुर -  छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण को लेकर बात करते हुए नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक ने बताया कि प्रदेश में अभी तक कोरोना वायरस की चपेट में आए लोगों का आंकड़ा 1400 के पार पहुंच गया है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना से मौत के मामले पर वह बोले कि सरकार मौतों का आकंडा छुपा रही हैं, और 6 ही बता रही है। लेकिन वास्तव में अभी तक प्रदेश में 23 लोगों की मृत्यु हुई है। उन्होंने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कि कोरोना से ज्यादा लोग क्वरांटीन सेंटर में मर गए। कोविड अस्पताल में आत्महत्या के केस आए हैं। 

उन्होंने आगे बताया कि कोरोना वायरस से ज्यादा मौतें तो क्वरांटीन सेंटर पर हुईं हैं। इसमें, 2 जगह पर क्वरांटीन सेंटर में आत्महत्या का मामला सामने आया है। 2 जगह सांप के काटने से मृत्यु हुई है। क्वरांटीन सेंटर से निकले, लेकिन घर पहुंचने से पहले मृत्यु हो गई। इस तरह 23 लोगों की मौत अब तक प्रदेश में हुई है।

प्रशासन पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि क्वरांटीन सेंटरों पर बदहाली की वजह से लोग आत्महत्या कर रहे हैं। प्रवासी लोग जो सेंटरों पर आते हैं उन्हें लगना चाहिए कि वो अब अपने घर में हैं, लेकिन वहां पर पहुंचने के बाद कोई आत्महत्या करता है, तो यह बड़ी बात है।

प्रदेश में मौतों के मामले पर पूछने पर उन्होंने बताया कि एक आत्महत्या की घटना रायगढ़ जिले की है, दूसरी घटना बालोद जिले की है, और तीसरी घटना जहां से स्वास्थ्य मंत्री आते हैं वहां पर कोविड अस्पताल में एक आत्महत्या का मामला आया है। कुल मिलाकर 3 लोगों ने आत्महत्या की है। बाकी अलग-अलग जगहों पर दूसरें कारणों से मृत्यु हुईं हैं।

संवाददाता द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या प्रदेश सरकार प्रवासी मजदूरों के भविष्य के बारे में किसी योजना पर काम कर रही है, इस पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सबकुछ मनरेगा के भरोसे छोड़ दिया है। केन्द्र सरकार ने मनरेगा का जो पैसा दिया है, उसमें 100 दिन का जाॅब कार्ड तो केन्द्र का है। 

उन्होंने आगे बताया कि मैंने पत्र लिखकर राज्य सरकार को यह पूछा है कि जिनका 100 दिन का जाॅब कार्ड पूरा हो गया है, बरसात में जब काम चल सकता है तो राज्य सरकार को मनरेगा के अंतर्गत 50 दिन का और काम स्वीकृत करना चाहिए और तत्काल आदेश जारी करना चाहिए। रमन सिंह सरकार में 100 दिन के बाद 50 दिन का अतिरिक्त कार्य मनरेगा में दिया गया था। लेकिन तत्कालीन सरकार का अतिरिक्त दिवस का एक पैसा नहीं लगा है और इस तरह से जिन मजदूरों का मनरेगा में 100 दिन का काम पूरा हो गया है, वो अब घर में खाली बैठे हैं। 

उन्होंने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा "उनके पास कोई योजना नहीं है कि उन गरीब मजदूरों को कोई रोजगार मिल सके।"

छत्तीसगढ़ में लगातार हाथियों की मौत पर नेता प्रतिपक्ष ने सरकार और वन विभाग को बताया जिम्मेदार कहा कोई बड़ा गिरोह कर रहा है काम..?

 छत्तीसगढ़ में लगातार हाथियों की मौत का सिलसिला जारी है..! ऐसे में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया है।  वहीं वन विभाग के अधिकारियों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है। इनकी माने तो, मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।  नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने इस बात को लेकर संदेह जताया है कि हाथियों की इस तरह से निर्मम हत्या के पीछे कोई बड़ा गिरोह काम कर रहा है।  कई सवाल हैं जिन से अब भी पर्दा उठना बाकी है। लिहाजा सरकार को इस मामले में गंभीरता से जांच करनी चाहिए। दोषियों पर त्वरित कार्रवाई की जानी चाहिए। नेता प्रतिपक्ष ने स्पष्ट कर दिया कि इस पूरे मामले में वन विभाग की बड़ी जिम्मेदारी है।  अधिकारियों पर भी एक्शन लिए जाने की दरकार है।  कुल मिलाकर नेता प्रतिपक्ष ने साफ कर दिया कि हाथियों की मौत का सिलसिला जारी रहा तो विपक्ष इस मुद्दे को लेकर भी सरकार को घेरने में परहेज नहीं करेगी । वहीं प्रदेश के कांग्रेस सरकार को बेजुबान जानवरों की निर्मम हत्या के लिए जिम्मेदार बताया जा रहा है।।

देश-दुनिया और अपने प्रदेश की ताजातरीन खबरों के लिए यहां क्लिक करें    https://bbn24news.com
  

कोरोना आपदा से लड़ने में मोदी सरकार विफल : बस्तर सांसद दीपक बैज

जगदलपुर। देश में कोरोना संक्रमण की लगातार बढ़ती संख्या पर बस्तर लोकसभा के सांसद  दीपक बैज ने कहा है कि केंद्र सरकार के निर्णयों ने साबित कर दिया है कि वह कोरोना आपदा से लड़ने में सक्षम नहीं है। केंद्र के ग़लत फ़ैसलों की वजह से करोड़ों मज़दूरों के सामने रोज़गार का संकट पैदा हो गया। केंद्र की विफलता को छिपाने के लिए केंद्र के मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता षडयंत्रपूर्वक राज्यों का दोष निकालने में लगे हुए हैं। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने थाली, ताली, घंटा बजवाने, अंधेरा करवा के मोमबत्ती टॉर्च जलवाने और फूल बरसाने के अलावा कोरोना से लड़ने के लिये कोई ठोस और सुसंगत कदम नहीं उठाए।  कोरोना से निपटने के लिए मोदी जी ने पीएम-केयर्स नाम का नया कोष बनाया और देश के सभी बड़े उद्योगों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को भारी भरकम दान देने के लिए बाध्य किया। अब मोदी देशवासियों को बता भी नहीं रहे हैं कि इस कोष में कितना पैसा आया, कितना खर्च हो रहा है और कहां खर्च हो रहा है।

सांसद दीपक बैज  ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के द्वारा शुरू से बरते गए एहतियात और छत्तीसगढ़ के लोगों की जागरूकता के परिणाम स्वरूप छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामले शुरू से बेहद कम रहें। छत्तीसगढ़ के जो मजदूर कमाने खाने के लिए बाहर गए थे वे लॉकडाउन में 60 दिन तक फंसे रहे और वापस लौट रहे हैं। लाॅकडाउन में छत्तीसगढ़ के मजदूरों को गुजरात, मुंबई, सहित अनेक कोरोना संक्रमण के हाटस्पाट में फंसे रहना पड़ा। जिसके कारण छत्तीसगढ़ में कोरोना के प्रकरणों में वृद्धि शुरू हुई है। हालांकि छत्तीसगढ़ में वृद्धि देश के अन्यप्रदेशों की तरह नहीं है लेकिन केस बढ़ रहे है। सांसद दीपक बैज ने कहा है कि कोरोना के लिये प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के 20 लाख करोड़ के पैकेज में छत्तीसगढ़ को कुछ भी नहीं मिला। पहले केन्द्र सरकार ने धान की कटाई समाप्त होने के बाद मनरेगा के काम खोलने के लिये पर्याप्त राशि नहीं दी। छत्तीसगढ़ के मजदूरों को मनरेगा का पैसा ना देकर पलायन करने के लिए कमाने खाने के लिए देश के दूसरे प्रदेशों में जाने के लिए मजबूर किया गया। इन मजदूरों को अपने ही प्रदेश लौटने के लिए छत्तीसगढ़ के बॉर्डर तक छोड़ने के लिए बस वालों ने 5000 से 10000 रू. प्रति हेड किराया लिया। छत्तीसगढ़ वापस लौटे लाखों मजदूरों में सैकड़ों मजदूर करोना संक्रमण का शिकार हुए। इसकी नैतिक जिम्मेदारी भाजपा की केन्द्र सरकार की है।

देश-दुनिया और अपने प्रदेश की ताजातरीन खबरों के लिए यहां क्लिक करें    https://bbn24news.com