देश

अमित मिश्रा की घातक बॉलिंग, टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 190 रन से हराकर जीती सीरीज

विशाखापट्टनम| 5वें और अंतिम मुकाबले में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 190 रन से हराकर वनडे सीरीज 3-2 से अपने नाम कर लिया। रोहित शर्मा और विराट कोहली की फिफ्टी के बाद अमित मिश्रा ने 5 विकेट लेकर कीवी टीम की हालत खराब कर दी। टीम इंडिया ने पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 6 विकेट पर 269 रन बनाए। जवाब में कीवी टीम 23.1 ओवर में सभी विकेट खोकर 79 रन ही बना सकी।

270 रन के टारगेट का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उसे पहले ही ओवर में उमेश यादव ने पहला झटका दिया। उमेश ने ओपनर मार्टिन गुप्टिल को खाता खोलने से पहले ही बोल्ड कर दिया। इसके कुछ ही देर बार लाथम (19) को बुमराह ने जयंत यादव के हाथों कैच आउट कराया। कीवी टीम संभलती इससे पहले ही कप्तान केन विलियम्सन (27) को अक्षर पटेल ने आउट कर स्कोर 63/3 रन कर दिया।

अमित मिश्रा के आगे ढेर हुए बैट्समैन
रॉस टेलर के 19 रन के निजी स्कोर पर आउट होने के बाद कोई भी कीवी बैट्समैन दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर सका। अमित मिश्रा ने रॉस टेलर, जिमी नीशाम (3), वॉटलिंग (0), कोरी एंडरसन (0), टिम साउदी (0) को आसानी से पेवलियन भेजकर टीम इंडिया को जीत के ट्रैक पर ला दिया। इसके बाद सेंटनर को 4 रन के निजी स्कोर पर अक्षर पटेल ने बोल्ड कर कीवी टीम को समेट दिया।
ऐसी रही टीम इंडिया की पारी: रोहित-विराट की फिफ्टी
रोहित शर्मा (70), विराट कोहली (65) और कप्तान धोनी (41) की पारियों की बदौलत टीम इंडिया ने निर्धारित 50 ओवर्स में 6 विकेट के नुकसान पर 269 रन बनाए। स्लॉग ओवर्स में अक्षर पटेल (24) और केदार जाधव (39*) ने जोरदार बैटिंग की। इन दोनों ने छठे विकेट के लिए 6.3 ओवर्स में 46 रन जोड़ते हुए इंडिया को सम्मानित स्कोर तक पहुंचाया। न्यूजीलैंड के लिए ईश सोढ़ी ने 3 विकेट लिए, जबकि ट्रेंट बोल्ट, जिमी नीशाम और सेंटनर को एक-एक विकेट मिला।
टीम इंडिया ने की जोरदार शुरुआत, पहले विकेट के लिए बने 40 रन
टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी टम इंडिया की शुरुआत अच्छी रही। ओपनर अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा ने 9.2 ओवर में 40 रन जोड़े। इस दौरान नीशाम की बॉल पर रहाणे लाथम के हाथों लपके गए। उन्होंने 39 बॉल पर 3 चौके की मदद से 20 रन की पारी खेली। इसके बाद रोहित शर्मा और विराट कोहली ने दूसरे विकेट के लिए 12.4 ओवर में शानदार 79 रन की पार्टनरशिप करते हुए टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया।
रोहित और विराट की फिफ्टी, धोनी चूके
इस दौरान रोहित शर्मा ने 29वीं हाफ सेंचुरी लगाई। बोल्ट की बॉल पर नीशाम के हाथों लपके जाने वाले रोहित ने 65 बॉल में 5 चौके और 3 छक्के की मदद से 70 रन बनाए। दूसरी ओर विराट कोहली ने 76 बॉल पर 65 रन की पारी खेली। इसमें उन्होंने दो चौके और एक छक्का लगाया। कप्तान धोनी फिर हाफ सेंचुरी चूक गए। उन्होंने 59 बॉल में 4 चौके और एक छक्का की मदद से 41 रन बनाए। मनीष पांडे सोढ़ी की बॉल पर बिना खाता खोले आउट हुए।

हीना सिद्धू ने हिजाब पहनकर खेलने से किया इनकार, एशियन चैंपियनशिप से वापस लिया नाम

ओलंपिक खेल चुकी भारतीय महिला निशानेबाज हीना सिद्धू ने हिजाब पहनने की अनिवार्यता के चलते ईरान में होने वाली एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप से नाम वापस ले लिया है।

ओलंपिक खेल चुकी भारतीय महिला निशानेबाज हीना सिद्धू ने हिजाब पहनने की अनिवार्यता के चलते ईरान में होने वाली एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप से नाम वापस ले लिया है। उन्‍होंने इस बारे में नेशनल राइफल एसोसिएशन को तीन सप्‍ताह पहले खत लिखकर अपने फैसले की जानकारी दी थी। यह प्रतियोगिता ईरान की राजधानी तेहरान में दिसंबर में आयोजित होगी। हीना सिद्धू ने शनिवार को ट्वीट कर इसकी पुष्टि की। इसमें उन्‍होंने बताया कि वे क्रांतिकारी नहीं है ले‍किन व्‍यक्तिगत रूप से उन्‍हें लगता है कि किसी खिलाड़ी के लिए हिजाब पहनना अनिवार्य करना खेल भावना के लिए ठीक नहीं है। उन्‍होंने आगे लिखा कि एक खिलाड़ी होने का उन्‍हें गर्व है क्‍योंकि अलग-अलग संस्‍कृति, पृष्‍ठभूमि, लिंग, विचारधारा और धर्म के लोग बिना किसी पूर्वाग्रह के एक दूसरे से खेलने को आते हैं। सिद्धू ने लिखा, ”खेल मानवीय प्रयासों और प्रदर्शन का प्रतिनिधित्‍व करता है।

गौरतलब है कि ईरान परंपरावादी देश है। वह अपने देश में होने वाली खेल प्रतियोगिताओं में भी अपनी संस्‍कृति थोपता है। इस साल की शुरुआत में ईरान में एक चैस टूर्नामेंट भी हुआ था। इसमें भी महिला खिलाडियों को हिजाब पहनना पड़ा था। इस पर भी काफी सवाल उठे थे। अगले साल भी ईरान में चैस टूर्नामेंट होगा। अमेरिका की नाजी पैकिदजे ने इस प्रतियोगिता ने अपना नाम वापस भी ले लिया। हीना ने दो साल पहले भी इसी वजह से एक चैंपियनशिप से अपना नाम वापस ले लिया था। हीना ने इस साल रियो ओलंपिक में भी हिस्‍सा लिया था। इसमें वह 10 मीटर एयर पिस्‍टल प्रतियोगिता में 14वें नंबर रहीं थी। इससे पहले साल 2013 में उन्‍होंने वर्ल्‍ड कप में गोल्‍ड मेडल जीता था।

पाकिस्तान ने कहा- भारत को मिली एनएसजी की सदस्यता तो शांति खतरे में पड़ जाएगी

पाकिस्तान काफी समय से कहता रहा है कि भारत के तेजी से विस्तारित होते सैन्य परमाणु कार्यक्रम ने क्षेत्र और इसके आगे शांति एवं स्थिरता को एक गंभीर खतरा पैदा किया है।

पाकिस्तान ने शनिवार को कहा कि अगर भारत को न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप(ग्रुप) की सदस्यता मिलती है तो इसका असर दक्षिण एशिया की सुरक्षा पर पड़ेगा। सात ही कहा कि भारत का मिलिट्री न्यूक्लियर प्रोग्राम शांति के लिए खतरा है और इसे एनएसजी ग्रुप में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने कहा, ‘2008 की एनएसजी छूट ने भारत को परमाणु हथियार बनाने में मदद की है और इसके सैन्य परमाणु कार्यक्रम को बढ़ाया है। इससे ना केवल विश्व परमाणु अप्रसार अभियान की विश्वसनीयता पर असर पड़ा है, बल्कि इसके प्रभाव को भी कम किया है। इसके साथ ही इसने दक्षिण एशिया में रणनीतिक संतुलन पर नकारात्म रूप से प्रभावित किया है।’ जकारिया ने कहा कि पाकिस्तान काफी समय से कहता रहा है कि भारत के तेजी से विस्तारित होते सैन्य परमाणु कार्यक्रम ने क्षेत्र और इसके आगे शांति एवं स्थिरता को एक गंभीर खतरा पैदा किया है।

सीमापार से हो रही गोलीबारी के बीच नेवी करेगी मेगा युद्धाभ्यास, अगले सप्ताह अरब सागर में उतरेंगे 40 युद्धपोत

सूत्रों ने कहा कि जनरल शरीफ नवंबर के आखिर तक यानी अपनी रिटायरमेंट तक भारत-पाक सीमा पर तनाव बरकरार रखना चाहता है।

भारत-पाकिस्तान सीमा पर रोज हो रही सीमापार से गोलीबारी और सीजफायर उल्लंघन के मद्देनजर भारतीय नौसेना ने अगले सप्ताह से अरब सागर में मेगा युद्धाभ्यास की रणनीति बनाई है। माना जा रहा है कि भारतीय सुरक्षा एजेंसियां किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहे, इसके लिए यह मेगा ड्रिल आयोजित किया जा रहा है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, भारतीय वायु सेना और आर्मी को पहले से ही अलर्ट पर रखा गया है और उसे किसी भी तरह की समस्या से निपटने के लिए उच्च स्तर पर तैयार रहने को कहा गया है। अब नौ सेना को भी ऐक्शन में आने को कहा गया है। नेवी की पश्चिमी लहर यानी वेस्टर्न वेभ, इसी सिलसिले में अरब सागर में युद्धाभ्यास करेगी।
रक्षा सूत्रों ने बताया कि 40 से अधिक युद्धपोत, पनडुब्बी, समुद्री लड़ाकू जेट विमान, गश्ती विमान और ड्रोन गहन युद्धाभ्यास के लिए पश्चिमी समुद्र तट पर एकत्र होने शुरू हो गए हैं। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही रक्षा मंत्रालय ने तीन रक्षा उप प्रमुखों को भी आपातकालीन आर्थिक शक्तियां दी थीं और एक प्रॉक्योरमेंट कमेटी बनाई थी। इनमें लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत, एयर मार्शल बी एस धानोआ और वाइस एडमिरल के बी सिंह शामिल हैं।

सपा की आपसी कलह में अखिलेश यादव चमके, मुलायम से भी ज्यादा लोकप्रिय हुए

सर्वे में वोटरों ने अखिलेश यादव को मुलायम सिंह यादव से बेहतर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार करार दिया है।

समाजवादी पार्टी की अंदरुनी लड़ाई में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के व्यक्तित्व में और निखार आया है। उन्होंने अपने पिता मुलायम सिंह यादव को भी लोकप्रियता के मामले में काफी पीछे छोड़ दिया है। मतदाताओं के बीच अखिलेश की लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। एक सर्वेक्षण एजेंसी ने उत्तर प्रदेश में एक महीने में दो सर्वे किए, जिसमें सामने आया कि अखिलेश यादव की लोकप्रियता बढ़ी है। सर्वे में वोटरों ने अखिलेश यादव को मुलायम सिंह यादव से बेहतर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार करार दिया है।
न्यूज वेबसाइट हफिंग्टन पोस्ट के लिए सी वोटर द्वारा सितंबर और अक्टूबर महीने में सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 12,221 लोगों के बीच यह सर्वेक्षण कराया गया। खास बात यह है कि इन सर्वेक्षणों के दौरान सपा के आधार वोट बैंक यादव और मुसलमान का भी खास तौर पर ध्यान रखा गया था। सर्वेक्षण में जब पूछा गया था कि अखिलेश और शिवपाल- दोनों में से कौन ज्यादा लोकप्रिय हैं तो इस बार 83 फीसद लोगों ने अखिलेश का नाम लिया। पिछली बार 77 फीसद लोगों ने ऐसा कहा था। शिवपाल का नाम पिछली बार 6.9 जबकि इस बार 6.1 फीसद लोगों ने लिया।

इसी तरह, पिता मुलायम की तुलना में भी अखिलेश अधिक लोकप्रिय नजर आते हैं। दोनों की लोकप्रियता की तुलना वाले सवाल में भी अखिलेश को इस बार 76 जबकि पिछले महीने 67 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया। मुलायम के प्रति पिछली दफा 19 जबकि इस दफा 15 प्रतिशत लोगों ने पसंदगी जताई।
अखिलेश सपा के पारंपरिक वोटरों की सीमा भी लांघते दिख रहे हैं। मुलायम से तुलना की बात रखे जाने पर भी 55 साल से ज्यादा उम्र वाले 70 फीसद लोग अखिलेश को पसंद करते हैं। जिनलोगों के बीच सर्वेक्षण किया गया, उनमें से 68 फीसद लोगों का मानना है कि अखिलेश पार्टी को गुंडा छवि से बाहर निकालने की कोशिश कर रहे हैं। 63.2 प्रतिशत लोगों का यह भी मानना है कि अखिलेश को उनलोगों को पार्टी में शामिल नहीं करने देना चाहिए जो आपराधिक छवि के हैं।

 

कश्मीर में एक दिन में दूसरा जवान शहीद, सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से भारत का सातवां नुकसान

इससे पहले पाकिस्तानी सेना की फायरिंग में एक बीएसएफ जवान गुरुवार सुबह शहीद हो गया था।

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को एक और जवान शहीद हो गया। बीएसएफ का यह जवान तंगधार सेक्टर में आतंकियों की घुसपैठ को नाकाम करने की कोशिश कर रहा था। तबी गोली लगने से यह शहीद हो गए। एक अन्य जवान घायल हो गया। सेना का ऑपरेशन जारी है। इससे पहले गुरुवार सुबह पाकिस्तान सेना की फायरिंग बीएसएफ का भी एक जवान शहीद हो गया था। पाक सेना ने कश्‍मीर के अब्‍दुल्लियां क्षेत्र में सीजफायर का उल्‍लंघन कर फायरिंग की थी। इसमें बीएसएफ का हेड कांस्‍टेबल जीतेंद्र कुमार शहीद हो गया था। इनके साथ ही गोलीबारी में 6 स्‍थानीय लोग भी घायल हो गए थे। जिसका कड़ा जवाब देते हुए बीएसएफ ने अरनिया और आरएस पुरा सेक्टर में जवाबी फायरिंग में पाक रेंजर्स के एक जवान को मार गिराया है। वहीं एक अन्य जवान फायरिंग में घायल हो गया था। बता दें, 29 सिंतबर को भारतीय सेना द्वारा एलओसी पारकर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किए जाने के बाद अब तक भारत के सात जवान शहीद हो चुके हैं।

भारत ने इससे पहले 25-26 अक्तूबर को चापरार और हरपाल सेक्टरों में कामकाजी सीमा पर तथा भीमबेर सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष-विराम का उल्लंघन होने पर विरोध दर्ज कराया गया। भारत ने मंगलवार को कहा था कि पाकिस्तान सेना ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में मोर्टार और छोटे हथियारों से भारतीय सेना की चौकियों पर निशाना साधा था और संघर्ष-विराम का उल्लंघन किया था जिसके बाद सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। गत 18 सितंबर को उरी आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमलों के बाद से पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम उल्लंघन के 42 मामले सामने आये हैं। बता दें, भारतीय सेना ने 29 सितंबर को एलओसी पारकर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया था।
भारतीय सेना के डीजीएमओ ले. जनरल रणबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी दी थी। सिंह ने कहा था कि भारतीय सेना ने पीओके में कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया है। हालांकि, पाकिस्तान ने भारतीय सेना के इस दावे को खारिज किया था। पाकिस्तान ने कहा था कि सीमा पर दोनों पक्षों में फायरिंग हुई थी, जिसमें पाकिस्तानी सेना के दो जवान मारे गए थे।

साइरस मिस्त्री को हटाने के बाद टाटा को शेयर बाजार में दो दिन में हुआ 19,400 करोड़ रुपये का घाटा

साइरस मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटाए जाने की खबर आने के बाद टाटा की सभी प्रमुख कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई है।

सोमवार (24 अक्टूबर) को टाटा समूह के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने समूह के चेयरमैन ने साइरस मिस्त्री को पद से हटाने का फैसला लिया। कारोबार जगत के साथ ही शेयर बाजार भी इस खबर से हैरान रह गया। नतीजा ये हुआ कि टाटा समूह के मार्केट वैल्यू में 19,400 करोड़ रुपये की कमी आई है। पिछले दो दिनों से शेयर बाजार में टाटा समूह की सभी प्रमुख कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखी गई। 48 वर्षीय मिस्त्री को साल 2012 में समूह का चेयरमैन बनाया गया था।  समूह के नौ सदस्‍यीय बोर्ड में से छह ने मिस्‍त्री को हटाने के पक्ष में वोट डाला। दो लोगों ने खुद को इससे दूर रखा। नौवें सदस्‍य खुद मिस्‍त्री थे जो इस प्रकिया में नहीं शामिल नहीं हुए।
टाटा समूह की सबसे ज्यादा मार्केट वैल्यू वाली कंपनी टीसीएस के शेयर में पिछले दो दिनों में 1.3 प्रतिशत की गिरावट आई है। टाटा को दो दिनों में केवल टीएसएस के शेयरों में 6059 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वहीं पिछले दो दिनों में टाटा मोटर्स (डीवीआर के शेयर समेत) के बाजार भाव में 9610 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। मिस्त्री को हटाए जाने के बाद के दो दिनों में बाजार भाव के हिसाब से टाटा स्टील (2640 करोड़ रुपये) टाइटन (244 करोड़ रुपये) और टाटा पावर (811 करोड़ रुपये) भी घाटे में रहे। पिछले दो दिनों में शेयर बाजार में 1.3 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन बनाए गए हैं। रतन टाटा ने मंगलवार (25 अक्टूबर) को समूह के सभी सीआईओ से कहा कि उन्हें नेतृत्व में परिवर्तन से चिंतित होने की जरूरत नहीं है। रतन टाटा ने कहा कि सीईओ को अपने कारोबार और कंपनी को बाजार में अगुआ बनाने पर ध्यान देना चाहिए। मंगलवार को ही टाटा संस ने जगुआर लैंड रोवर के सीईओ राल्फ स्पेथ और टीसीएस के सीईओ एन चंद्रशेखरन को समूह का एडिशनल डायेरक्टर बनाया।

मिस्त्री ने कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को भेजे ईमेल में कहा कि उन्हें बचाव का मौका नहीं दिया गया और उन्हें पद से हटाने के दौरान निर्धारित प्रक्रिया का भी पालन नहीं किया गया। मिस्त्री ने अपने ईमेल में कहा कि उन्हें पद संभालने के बाद आजादी से काम करने का मौका नहीं दिया गया जबकि उनसे इसका वादा किया गया था। मिस्त्री के अनुसार उनके कारोबार का तरीका रतन टाटा से काफी अलग था जो कोरस और जगुआर जैसी विदेशी कंपनियां खरीदने पर अरबों डॉलर खर्च करते थे। साइरस मिस्त्री टाटा समूह के चेयरमैन बनने वाले ऐसे दूसरे सदस्य थे जो टाटा परिवार से नहीं थे। उनसे पहले टाटा खानदान से बाहर के नौरोजी सकलतवाला 1932 में कंपनी के प्रमुख रहे थे।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एम्स में भर्ती

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मंगलवार (25 अक्टूबर) को ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में भर्ती करवाया गया।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मंगलवार (25 अक्टूबर) को ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में भर्ती करवाया गया। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, हॉस्पिटल प्रशासन का कहना है कि उन्हें रूटीन चेकअप के लिए भर्ती करवाया गया था। हॉस्पिटल के एक सीनियर अधिकारी ने मंगलवार को कहा था, ‘स्वराज को शाम के वक्त भर्ती करवाया गया था। लेकिन वह सिर्फ रेगुलर चेकअप के लिए भर्ती हुई हैं। उन्हें कल तक छुट्टी दे दी जाएगी। वह कुछ दिन पहले भी हॉस्पिटल आई थीं अब उनका चेकअप होना है।’ भारतीय जनता पार्टी की दिग्गज नेता 64 साल की सुषमा स्वराज को इस साल के अप्रैल में भी AIIMS में भर्ती करवाया गया था। तब उन्हें छाती में दर्द की शिकायत थी।

पाकिस्‍तान ने पठानकोट हमले के आरोपी मसूद अजहर सहित 5100 संदिग्ध आतंकियों के बैंक खाते किए फ्रीज

इन खातों में 40 करोड़ रुपये से अधिक राशि थी। अजहर भारत में पठानकोट एयरबेस पर आतंकवादी हमले के बाद से ‘एहतियातन हिरासत’ में है।

पाकिस्तान ने जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर समेत 5100 संदिग्ध आतंकवादियों के बैंक खाते से लेन-देन पर रोक लगा दी है। इन खातों में 40 करोड़ रुपये से अधिक राशि थी। अजहर भारत में पठानकोट एयरबेस पर आतंकवादी हमले के बाद से ‘एहतियातन हिरासत’ में है। स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘गृह मंत्रालय के अनुरोध के बाद हमने अल्ला बख्श के बेटे मसूद अजहर समेत सभी शीर्ष संदिग्ध आतंकवादियों के बैंक खाते से लेन-देन पर रोक लगा दी है।’’ ‘द न्यूज’ ने अधिकारी के हवाले से बताया कि गृह मंत्रालय ने हजारों संदिग्धों की तीन अलग-अलग सूची भेजी जिसमें कुछ प्रतिबंधित संगठनों के सरगना भी शामिल हैं।

समाचार पत्र के अनुसार तकरीबन 1200 संदिग्ध जिनके बैंक खाते से एसबीपी ने लेन-देन पर रोक लगाई है उन्हें आतंकवाद निरोधक अधिनियम, 1997 के तहत ‘ए’ श्रेणी के तहत रखा गया है। गृह मंत्रालय और एसबीपी के अधिकारियों ने बताया कि अजहर को शीर्ष संदिग्धों की सूची में शामिल किया गया है, जिनके बैंक खाते से लेन-देन पर एसबीपी ने रोक लगाई है। अखबार ने अधिकारियों के हवाले से बताया, ‘‘अजहर के नाम को चतुर्थ अनुसूची की ‘ए’ श्रेणी में रखा गया है।’’
अधिकारियों ने बताया, ‘‘ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि सरकार ने पठानकोट हवाई ठिकाने पर आतंकवादी हमला होने के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने जेईएम प्रमुख को ‘एहतियातन हिरासत’ में डाला हुआ है।’’ नेशनल काउन्टर टेररिज्म अथॉरिटी ने इस महीने की शुरूआत में तकरीबन 5500 नाम एसबीपी को भेजे थे। नेशनल काउन्टर टेररिज्म अथॉरिटी के राष्ट्रीय समन्वयक एहसान गनी ने पुष्टि की कि एसबीपी ने 5000 से अधिक संदिग्धों के बैंक खाते से लेन-देन पर रोक लगा दी है।

पाकिस्तान: क्वेटा के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आतंकी हमला, 57 कैडेट्स की मौत, 3 हमलावर ढेर

खबरों के अनुसार, छह हथियार बंद हमलावर क्वेटा पुलिस ट्रेनिंग सेंटर के हॉस्टल में घुस आए और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। एक हमलावर ने सुसाइड जैकेट भी पहनी हुई थी।

पाकिस्तान के क्वेटा शहर में सोमवार रात पुलिस ट्रेनिंग सेन्टर पर आतंकी हमला हुआ है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमले में 57 पुलिस कैडेट्स की मौत हो गई, जबकि 100 से ज्यादा पुलिसवाले घायल हो गए हैं। आतंकियों ने पुलिसवालों को बंधक बना लिया था। हमले में 3 आतंकवादियों की भी मौत हुई है। खबरों के अनुसार, छह हथियार बंद हमलावर क्वेटा पुलिस ट्रेनिंग सेंटर के हॉस्टल में घुस आए और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। एक हमलावर ने सुसाइड जैकेट भी पहनी हुई थी।
पाक मीडिया के अनुसार जिस समय ये हमला हुआ उस समय पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में कम से कम 600, वहीं अकेले हॉस्टल में ही 200 कैडेट मौजूद थे। मीडिया के अनुसार घायलों की संख्या 51 पहुंच गई है, जिनमें से 3 की हालत गंभीर बताई जा रही है। जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी भी मारे गए हैं। पाकिस्तानी अखबार Dawn के मुताबिक, 5-6 आतंकियों ने सोमवार रात 11:30 बजे सरयाब रोड स्थित ट्रेनिंग सेंटर के हॉस्टल में हमले को अंजाम दिया।

बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर सरफराज अहमद बुगती ने आतंकियों के ट्रेनिंग सेंटर पर हमले की पुष्टि की। उन्होंने बताया, ‘इस तरह के आतंकी हमलों से निपटने के लिए हमारे सुरक्षाबल सक्षम हैं। कुछ दिन पहले ट्रेनिंग सेंटर में 700 कैडेट्स थे, इनमें से कुछ कैडेट्स हाल ही में पास होकर चले गए। पाक सरकार ने पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर आतंकी हमले की निंदा की है।

पैरामिलिट्री फ्रंटीयर कॉर्प्स मेजर जनरल शेर अफगान ने बताया कि हमलावर अफगानिस्तान के प्रतिबंधित और अलकायदा के सहयोगी संगठन लश्कर-ए-झांगवी से थे। शेर अफगान ने बताया एक हमलावर सुसाइड जैकेट भी पहनकर आया था। पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर और राजनीतिक पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ के चेयरमैन इमरान खान ने हमले की निंदा की और इसे कायराना हरकत बताया। इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशन ने एक बयान जारी कर बताया कि पाकिस्तानी आर्मी और फ्रंटियर कॉन्सटैबुलरी ट्रूप्स ने करीब 250 लोगों को सुरक्षित बचा लिया। शहर के सभी सरकारी अस्पतालों में आपातकाल घोषित कर दिया गया है। घायलों को सिविल हॉस्पिटल क्वेटा और बोलन मेडिकल कॉम्पलेक्स में भर्ती कराया गया है।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा- राम मंदिर कैसे बनेगा जब राम भक्त ही नहीं रहेंगे, हिंदुओं को बढ़ानी होगी जनसंख्या

अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर केंद्रीय राज्य मंत्री और बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने उत्तर प्रदेश (यूपी) के सहारनपुर जिले में एक बार फिर विवादित बयान दे दिया है। यहाँ एक सभा को संबोधित करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा, “देश की जनता राम मंदिर मांग रही है लेकिन राम मंदिर कैसे बनेगा जब देश में राम भक्त ही नहीं रहेंगे। हिंदू समाज को अपनी आबादी बढ़ाने की जरूरत है। देश के आठ राज्यों में हिंदुओं की जनसंख्या लगातार घट रही है।” सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने आगे कहा, “बंटवारे के समय पाकिस्तान में 22 प्रतिशत हिंदू थे लेकिन आज वो एक प्रतिशत रह गए हैं। जबकि उस समय भारत में 90 प्रतिशत हिंदू थे और 10 प्रतिशत मुस्लिम थे और अब मुसलमान 24 प्रतिशत हो गए हैं और हिंदू घटकर 76 प्रतिशत रह गए हैं।” हालांकि साल 2011 की जनगणना का अनुसार भारत की जनसंख्या 121 करोड़ से अधिक है। भारत की कुल आबादी में 79.80% हिंदू और 14.23% हैं।

लगता है। आइए आपको उनके पिछले कुछ महीनों में दिए विवादित बयानों के बारे में बताते हैं।
अक्टूबर के पहले हफ्ते में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने आज कहा था कि भारत शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी था लेकिन लॉर्ड मैकाले की पाश्चात्य अवधारणाओं की वजह से पिछड़ गया और इससे देश की संस्कृति भी प्रभावित हुई। बिहार के नवादा से सांसद सिंह ने कहा कि अगर आजादी के बाद आयुर्वेद पर ध्यान दिया गया होता तो जड़ी बूटी वाले पौधों से हर तरह की दवाएं बनायी जा सकती थीं और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र कारोबार नहीं बनता। वह बिहार में पदस्थ आईएएस अधिकारी एसएम राजू के फॉर्मूले पर आधारित जड़ी-बूटियों की श्रृंखला को जारी करने के मौके पर बोल रहे थे।
इसी महीने के पहले हफ्ते में गिरिराज सिंह ने कह दिया कि गोमांस खाने वालों में 10 में से 9 लोग आईआईटी के हैं। बिहार के नवादा से सांसद सिंह ने कहा था, ‘आज समाज में जो बच्चे गिर गए हैं, गौ मांस खा रहे हैं। पढ़े लिखे दस लोग जो गौ मांस खा रहे हैं, उनमें से नौ आईआईटी के हैं।”
अगस्त के पहले हफ्ते में गिरिराज सिंह का एक वीडियो कोबरापोस्ट डॉट कॉम पर साझा किया गया। वीडियो में गिरिराज सिंह कहते नजर आ रहे थे कि “हिंदू जैसा हिजड़ा तो कोई कौम ही नहीं है। हिंदू…होता तो पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाता पटना में, एक एक ढेला मारकर मार देते. कुछ लड़के हैं जिनके पास सेंटिमेंट है, अभी कुछ लोग जीवित हैं जिनके पास सेंटिमेंट है. देश में केवल 20 प्रतिशत लोग हैं जिनके पास सेंटिमेंट है. वो आगे कहते हैं कि अगले 20 सालों में हिंदुओं की और दुर्गति होगी।”
अप्रैल में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि भारत शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी था लेकिन लॉर्ड मैकाले की पाश्चात्य अवधारणाओं की वजह से पिछड़ गया और इससे देश की संस्कृति भी प्रभावित हुई। बिहार के नवादा से सांसद सिंह ने कहा कि अगर आजादी के बाद आयुर्वेद पर ध्यान दिया गया होता तो जड़ी बूटी वाले पौधों से हर तरह की दवाएं बनायी जा सकती थीं और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र कारोबार नहीं बनता।
अप्रैल में ही सिंह ने कहा था कि हमारी बेटियां को सुरक्षित रखने के लिए हर धर्म में दो बच्चों की नीति को लागू किया जाना चाहिए। अगर हम हमारी जनसंख्या नीति को नहीं बदलेंगे को देश का विकास नहीं होगा। उन्होंने पूछा था कि जब मलेशिया और इंडोनेशिया में ऐसे कानून बन सकते हैं तो हमारे देश में क्यों नहीं?

IND vs NZ, मोहाली वनडे: विराट कोहली और धोनी की रिकॉर्डतोड़ पारियों की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को दी करारी शिकस्त

Ind vs NZ, Live Cricket Score, मोहाली वनडे: न्यूजीलैंड के खिलाफ मोहाली में खेले जा रहे तीसरे वनडे में भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है।

भारत ने न्यूजीलैंड को मोहाली में खेले गए तीसरे वनडे मुकाबले में 7 विकेट से हराकर सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली। विराट कोहली के 26वें वनडे शतक और कप्तान धोनी की 80 रनों की पारियों की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को 10 गेंद शेष रहते 7 विकेट से मात दी। हालांकि, मैच में 286 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरूआत खराब रही और दोनो सलामी बल्लेबाज बहुत जल्द पवेलियन लौट गए। रहाणे ने 5 रन और रोहित शर्मा ने 13 रन बनाए। दो विकेट जल्दी गिर जाने के बाद कप्तान धोनी ने बल्लेबाजी क्रम में खुद को प्रमोट किया और चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे। उन्होंने विराट कोहली के साथ मिलकर टीम के स्कोर को 41 रन पर दो विकेट से 192 रन तक पहुंचाया। उन्होंने विराट कोहली के साथ चौथे विकेट के लिए 151 रनों की साझेदारी निभायी। इस दौरान विराट कोहली को रॉस टेलर ने जीवनदान भी दिया।
इस मैच में धोनी ने अपने वनडे करियर का 9000 रन भी पूरे किए। उन्होंने इस मैच में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले बल्लेबाज होने का मुकाम भी हासिल किया। धोनी ने इस मैच में तीन छक्के लगाए और वनडे में अपने छक्कों के ओकड़ें को 196 पहुंचाया। उन्होंने सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ा। तेंदुलकर ने वनडे में 195 छक्के लगाए हैं। मनीष पांडेय ने भारत को चौका लगाकर जीत दिलायी। वो 28 रन बनाकर नाबाद रहे।
इससे पहले न्यूजीलैंड की टीम ने 49.4 ओवर में दस विकेट पर 285 रन बनाए। भारत को मैच जीतने के लिए 286 रन का लक्ष्य मिला है। इससे पहले महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीत कर गेंदबाजी करने का फैसला किया। भारत को पहली सफलता तेज गेंदबाज उमेश यादव ने दिलाई। उन्होंने ओपनर मार्टिन गप्टिल को 27 रन पर एलबीडब्ल्यू आउट किया। पिछले मैच में शतक लगाने वाले और बेहतरीन फॉर्म में चल रहे कप्तान केन विलियमसन को पार्ट टाइम स्पिनर केदार जाधव ने एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। उन्होंने 27 गेंदों में 22 रन बनाए।
अच्छी बल्लेबाजी कर रहे रॉस टेलर को अमित मिश्रा ने विकेट के पीछे स्टंप आउट करवाया। उन्होंने 44 रन बनाए। कोरी एंडरसन को केदार जाधव ने अपना दूसरा शिकार बनाया। एंडरसन 6 रन बनाकर रहाणे के हाथों कैच आउट हुए। ल्युक रॉन्की को अमित मिश्रा ने अपना दूसरा शिकार बनाया और उन्हें भी धौनी के हाथों स्टंप आउट करवाया। रॉन्की ने एक रन बनाए। केदार जाधव ने लाथम को अपना तीसरा शिकार बनाया। लाथम ने अच्छी बल्लेबाजी की और 61 रन बनाकर कैच आउट हुए। हार्दिक पांड्या ने उनका कैच पकड़ा। जसप्रीत बुमराह ने सैंटनर को 7 रन पर रहाणे के हाथों कैच आउट करवाया। साउथी को उमेश यादव ने 13 रन पर क्लीन बोल्ड कर दिया। नीशम ने टीम के लिए तेज 57 रनों की पारी खेली। उनकी पारी का अंत उमेश यादव ने किया।
वहीं, जसप्रीत बुमराह ने ट्रेंट बोल्ट को आउट कर न्यूजीलैंड की पारी का अंत किया। न्यूजीलैंड के लिए जिमी नीशम ने मैट हेनरी के साथ मिलकर नौवें विकेट के लिए 84 रनों की साझेदारी की। मैट हेनरी 37 गेंदों में 4 चौकों और एक छक्के की मदद से 39 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत के लिए केदार जाधव ने 5 ओवर में 29 रन देकर तीन विकेट झटके। उमेश यादव महंगे साबित हुए और उन्होंने अपने 10 ओवर में 75 रन देकर तीन विकेट लिया। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इस मैच में दो स्टम्पिंग किया और वह 150 स्टम्पिंग करने वाले दुनिया के इकलौते विकेट कीपर बन गए हैं।

असहिष्णुता पर बोले रतन टाटा- यह एक अभिशाप है जिसे हम पिछले कुछ दिनों से देख रहे हैं

उद्योगपति रतन टाटा ने देश में कथित रूप से बढ़ रही असहिष्णुता पर चिंता व्यक्त की।

उद्योगपति रतन टाटा ने देश में कथित रूप से बढ़ रही असहिष्णुता पर चिंता व्यक्त की। टाटा ने कहा, ‘असहिष्णुता एक अभिशाप है, जिसे हम पिछले कुछ दिनों से देख रहे हैं।’शनिवार (22 अक्टूबर) को टाटा ने कहा, ‘‘मैं सोचता हूं कि हर व्यक्ति जानता है कि असहिष्णुता कहां से आ रही है। यह क्या है, देश के हजारों….लाखों लोगों में से हर कोई असहिष्णुता से मुक्त देश चाहता है।’ इससे पहले टाटा ने सिंधिया स्कूल के 119 स्थापना दिवस समारोह को सम्बोधित करते हुए लोकसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक ज्योतिरादित्य सिंधिया के असहिष्णुता के बारे में व्यक्त किये गये विचार का समर्थन किया। उन्होंने कहा, ‘महाराज (सिंधिया) ने असिष्णुता के बारे में अपने विचार रखे। यह एक अभिशाप है जिसे हम आजकल देख रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हम ऐसा वातावरण चाहते हैं जहां हम अपने साथियों से प्रेम करें। उन्हें मारे नहीं, उन्हें बंधक नहीं बनायें बल्कि आपस में आदान-प्रदान के साथ सद्भावनापूर्वक माहौल में रहें।’ टाटा के पहले सिंधिया ने अपने सम्बोधन में विद्यार्थियों से कहा, ‘हम चाहते हैं कि आप विजेता बनें। हम यह भी चाहते हैं कि आप विचारक बनें….और बहस, विचार-विमर्श और असहमति सभ्य समाज की पहचान होती है।’

पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कहा कि देश में आज ‘असहिष्णुता का वातावरण’ है। कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘हर व्यक्ति को यह बताया जा रहा है कि उसे क्या बोलना है, क्या सुनना है, क्या पहनना है और क्या खाना है।’’उन्होंने कहा कि मतभेदों पर कार्रवाई हमारे समाज और परिवार की प्रगति के खिलाफ है।

गुजरात: पीएम नरेंद्र मोदी बोले- बिना सर्जिकल स्ट्राइक किए 65 हजार करोड़ रु ‘काला धन’ आया, करेंगे तो …

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक की उपमा का इस्तेमाल करते हुए शनिवार (22 अक्टूबर) को जिज्ञासा जतायी कि यदि सरकार ने कालेधन के खिलाफ हाल के उस अभियान में ऐसी ही रणनीति का इस्तेमाल किया होता तो क्या होता, जिसमें 65 हजार करोड़ रूपये का पता लगा। मोदी ने कहा, ‘‘हमने कालाधन कमाने वालों को (उसे घोषित करने के लिए) कुछ समय दिया था। आपको जानकर प्रसन्नता होगी कि कर एवं दंड चुकाकर 65 हजार करोड़ रूपये कालाधन मुख्यधारा में सामने आया।’ उन्होंने कहा, ‘अब सोचिये कि 36 हजार करोड़ रूपये जिसका रिसाव हो रहा था उसे (प्रत्यक्ष लाभ अंतरण) के जरिये रोक दिया गया, और 65 हजार करोड़ रूपये कालाधन का पता चला। दोनों मिलाकर यह एक लाख करोड़ रूपये होता है।’ उन्होंने हाल में सेना द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादी ठिकानों के खिलाफ संचालित अभियान के लिए इस्तेमाल शब्दावली का इस्तेमाल करते हुए कहा, ‘यह एक लाख करोड़ रुपये सर्जिकल स्ट्राइक किये बिना वापस लाया गया।’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘अगर हम (इस क्षेत्र में) सर्जिकल स्ट्राइक करें, आप कल्पना कर सकते हैं कि क्या सामने आएगा।’ मोदी ने कहा कि उन्होंने सत्ता में आने के बाद भ्रष्टाचार के खिलाफ एक सतत लड़ाई शुरू की है।
मोदी ने कहा, ‘भ्रष्टाचार के खिलाफ, बिना किसी अधिक प्रचार के मैंने एक सतत लड़ाई शुरू की है। सरकारी सहायता :अब: बिचौलियों को हटाते हुए सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में जाती है।’ उन्होंने कहा, ‘केवल यह सुनिश्चित करके कि सही व्यक्ति को लाभ मिले और गलत व्यक्ति को वह नहीं मिल सके, हमने 36 हजार करोड़ रूपये बचाये जो पहले गैस सिलेंडर (के लिए सब्सिडी), छात्रवृत्ति, पेंशन (कुछ गलत हाथों में जाने) के रूप में रिस जाते थे।’

मोदी ने यह बात आठ हजार से अधिक दिव्यांगों को सहायक उपकरण वितरित करने के दौरान एक आयोजित एक शिविर में बोली। उन्होंने दिव्यांगों के लिए बहुत कुछ नहीं करने के लिए पूववर्ती सरकारों की आलोचना भी की। दिव्यांगों को सहायक उपकरण वितरित करने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जाने अनजाने यह देश दिव्यांगों के प्रति असंवेदनशील रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘सरकारी इमारतों में केवल स्वस्थ व्यक्तियों के लिए सुविधाएं थीं। हमने सुगम्य भारत अभियान शुरू किया ताकि सरकारी इमारतें, अस्पताल, प्लेटफार्मों का निर्माण इस तरह से हो कि उनमें दिव्यांगों के लिए पहुंच सुविधा हो।’
मोदी ने कहा, ‘पिछली सरकारों ने भी इस दिशा में काम किया। यद्यपि आपको यह जानकार हैरानी होगी कि 1992 में जब इस दिशा में काम शुरू हुआ था उसके बाद से 2014 तक दिव्यांगों के लिए (सहायता उपकरण वितरण के लिए) ऐसे मात्र 56 शिविरों का आयोजन हुआ। इस सरकार के आने के बाद 4500 ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। अभी तक देशभर के 5.50 लाख दिव्यांगों को सीधे लाभ हुआ है।’

मोदी ने आगे कहा, ‘मुझे पता चला कि केंद्र सरकार में दिव्यांगों के लिए 16500 पद खाली हैं। मैंने अपने मंत्रियों से इन खाली पदों को भरने के लिए कहा। मैं यह संतुष्टि से कह सकता हूं कि ऐसे 14500 पद भरे जा चुके हैं।’ प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि उनकी सरकार ने ‘आम सांकेतिक भाषा’ के लिए काम शुरू किया है क्योंकि वर्तमान समय में देश के विभिन्न हिस्सों में अलग अलग सांकेतिक भाषाएं इस्तेमाल होती हैं। उन्होंने देश की आर्थिक प्रगति का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत विश्व में एक उज्ज्वल स्थान है। उन्होंने कहा, ‘आज पूरे विश्व में इस देश के बारे में एक चीज की प्रशंसा होती है। विश्व कहता है कि भारत सबसे तेजी से विकसित होने वाली अर्थव्यवस्था है। चाहे वह विश्व बैंक हो, आईएमएफ हो या क्रेडिट रेटिंग एजेंसी हो, पूरा विश्व एक स्वर में कह रहा है कि भारत बहुत तेजी से विकास कर रहा है।’
उन्होंने कहा, ‘सभी समस्याओं का हल विकास में निहित है। विकास से ही निरक्षरता, बीमारी, गरीबी को मिटाया जा सकता है।’ मोदी ने कहा, ‘2014 या 2013 के दिन याद हैं, शीर्षक क्या होते थे? उन्होंने कोयले में इतना (भ्रष्टाचार) किया, इतना स्पेक्ट्रम में किया। जब से आपने मुझे जिम्मेदारी सौंपी है, ढाई वर्षों में खबरें दिव्यांगों के लिए अच्छा काम करने, वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारत की प्रगति एवं विकास की होती हैं।’

वरुण गांधी का हनीट्रैप के आरोप से इनकार, कहा- प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव पर करेंगे मानहानि का मुकदमा

वरुण गांधी ने कहा है कि साल 2004 के बाद से वो कभी भी अभिषेक वर्मा से नहीं मिले हैं। उन्होंने प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव पर मानहानि का मुकदमा दायर करने की भी धमकी दी है।

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को फिर कहा है कि उनपर डिफेंस सिक्रेट लीक करने के आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने एक वक्तव्य जारी कर कहा, “मेरे ऊपर लगाए गए आरोप झूठे और मनगढ़ंत और निराधार हैं। जो लोग मेरी छवि बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं, उनके खिलाफ मैं कानूनी कार्रवाई करेंगे।” उन्होंने कहा, “जिस एडमंड्स एलेन ने मेरे खिलाफ पत्र लिखा है उससे मैंने कभी मुलाकात नहीं की और न ही मैं उसे जानता हूं।” इसके साथ ही वरुण ने कहा कि जिस डिफेंस सिक्रेट की बात कही जा रही है उनतक उनकी पहुंच कभी रही ही नहीं।
गौरतलब है कि स्वराज अभियान के नेता प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव ने अमेरिकी वकील और हथियारों के सौदागर सी एडमंड्स एलेन द्वारा प्रधानमंत्री कार्यालय को लिखे खत को सार्वजनिक करते हुए उन पर हमला बोला था। आपको बतादें कि एडमंड्स ने पीएमओ को लिखे खत में आरोप लगया था कि वरुण गांधी ब्लैकमेलिंग का शिकार हुए हैं और उन्होंने विदेशी हथियार निर्माताओं को डिफेंस सिक्रेट लीक की हैं। खत में कहा गया है कि विदेशी एस्कॉर्ट महिलाओं तथा वेश्याओं के साथ खिंचीं वरुण की तस्वीरों के ज़रिये उन्हें ब्लैकमेल किया गया और हथियार निर्माताओं ने रक्षा मामलों से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां वरुण से हासिल कीं। एलेन की ओर से यह चिट्ठी रक्षा मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को भी भेजी गई है।

एडमंड्स एलेन ने प्रधानमंत्री कार्यालय, रक्षा मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को लिखे खत में आरोप लगाया है कि आर्म्स डीलर अभिषेक वर्मा ने वरुण गांधी को हनीट्रैपिंक के जरिए ब्लैकमेल कर डिफेंस सिक्रेट लीक कराए हैं। वरुण ने इन आरोपों को खारिज किया है। वरुण ने कहा है कि साल 2004 के बाद से वो कभी भी अभिषेक वर्मा से नहीं मिले हैं। उन्होंने प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव पर मानहानि का मुकदमा दायर करने की भी धमकी दी है।