राजधानी

किसी की पगड़ी गिर जाती है, तो बस्तर में अच्छा काम करने वाले अधिकारी को हटा दिया जाता हैकल्लूरी

रायपुर/ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और सुप्रीम कोर्ट के सामने क्या छत्तीसगढ़ की पुलिस अपना पक्ष रखने में कमजोर पड़ जाती है? ये सवाल बस्तर आईजी रहे एसआरपी कल्लूरी के बयान के बाद उठ खड़े हुए हैं। दरअसल एसआरपी कल्लूरी ने बौद्धिक आतंकवाद और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता विषय पर आयोजित परिचर्चा के दौरान कहा कि- दिल्ली में एनएचआरसी और सुप्रीम कोर्ट में हम कमजोर पड़ रहे हैं।

कल्लूरी ने कहा कि मानवाधिकार आय़ोग का परसेप्शन बस्तर को लेकर बिल्कुल अलग है। कल्लूरी यही नही रुके। बस्तर से पुलिस अधिकारियों के ट्रांसफर पर सांकेतिक तौर पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि- किसी की पगड़ी गिर जाती है, तो बस्तर में अच्छा काम करने वाले अधिकारी को हटा दिया जाता है। कोई महिला दस लोगों को साथ लेकर कुछ कर देती है, तो हंगामा मच जाता है। लेकिन आज एक बच्चा ब्लास्ट में खत्म हो गया तो कुछ नही। आईजी एसआरपी कल्लूरी ने कहा- बस्तर में वर्दी पहुंचकर जो लड़ते है उससे ज्यादा ताकतवर सफेद पॉश लोग है। एसआरपी कल्लूरी ने कहा- इस परिचर्चा में मैं सिर्फ सुनने आया था। बोलने नहीं, क्योंकि ज्यादातर लोगों को पता है कि क्यों? उन्होंने कहा कि बस्तर में अक्सर लोग हवाई जहाज से जाते हैं और इसलिए ही बस्तर को लेकर हवाई जानकारी भी रखते हैं। नक्सलियों के प्रति सहानुभूति रखने वाले कहते है कि पिछड़ापन की वजह से नक्सलवाद है, लेकिन नक्सलियों की मिलिट्री बॉडी ये कोशिश करती है कि पिछड़ापन समाप्त ना हो। उनकी कथनी और करनी में गैप है।

कल्लूरी ने कहा- 2004 से अब तक नक्सल क्षेत्र में ही काम कर रहा हूँ। नक्सलवादी बस्तर से सालाना 1100 करोड़ रुपये वसूलते है। ये वसूली मिनरल कॉन्ट्रेक्टर, ब्यूरोक्रेट, फारेस्ट से की जाती है। उन्होंने कहा कि- ये अन्तराष्ट्रीय साजिश है कि भारत सुपर पावर ना बन पाए। हमारे पास ऐसी रिपोर्ट है कि माओवादियों का इंटरनेशन स्पोर्ट है और अर्बन नक्सली उन्हें प्रोटेक्ट करते है। बौद्धिक आतंकवाद एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता विषय पर आयोजित इस परिचर्चा का आयोजन हिन्दू युवा मंच ने किया था। इस परिचर्चा में फ़िल्म निर्माता विवेक अग्निहोत्री और सुप्रीम कोर्ट मोनिका अरोरा ने भी मानवाधिकार के लिए लड़ने का दावा करने वाले संगठनों पर जमकर निशाना साधा।

रायपुर प्रदेश के तीन ज़िलों रायपुर, दंतेवाड़ा और सुकमा के कलेक्टर प्रधानमंत्री अवार्ड से होंगे सम्मानित

 रायपुर: प्रदेश के तीन ज़िलों रायपुर, दंतेवाड़ा और सुकमा के कलेक्टर प्रधानमंत्री अवार्ड से सम्मानित होंगे, 21 अप्रैल को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रशासनिक सेवा दिवस के मौके पर रायपुर कलेक्टर- ओपी चौधरी, दंतेवाड़ा कलेक्टर- सौरभ कुमार और सुकमा कलेक्टर- नीरज कुमार बंसोड़ को सम्मानित करेंगे
ओपी को इससे पहले साल… 2013 में दंतेवाड़ा कलेक्टर रहते हुए ये अवार्ड मिल चुका है। ओपी चौधरी ने घोर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में लाइवलीहुड कालेज की शुरुआत की थी..जो ना सिर्फ शिक्षा जगत के लिए एक मिसाल बना …बल्कि इसे लेकर केंद्र ने कौशल उन्नयन योजना तो…कई राज्यों ने उनसे मॉडल एजुकेशन के तौर पर आजमाया। रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी को इस बार ये अवार्ड स्टैंडअप इंडिया के बेहतर क्रियान्वयन के लिए दिया जायेगा। ओपी चौधरी के अलावे दंतेवाड़ा कलेक्टर सौरभ कुमार को पालनार कैशलेश विलेज और सुकमा कलेक्टर नीरज कुमार बंसोड़ को एजुकेशन सिटी बनाने के लिए प्रधानमंत्री अवार्ड दिया जायेगा। प्रधानमंत्री अवार्ड के लिए पूरे देश भर के 600 जिलों से 1515 एप्लीकेशन आये थे…जिनमें से 830 अावेदन संगठनों और राज्य व केंद्र सरकार के जरिये मिले थे। उन तमाम अप्लीकेशन की स्क्रूटनी के बाद 45 कलेक्टरों को पूरे देश भर से चुना गया है

जानिए जोगी के लिस्ट में कौन कौन है शामिल

 रायपुर । अजीत जोगी ने आज अपनी पार्टी के लिए जिलाध्यक्षों का एलान कर दिया है। अजीत जोगी की पार्टी में 40 जिलाध्यक्ष होंगे.. वहीं एक अनूठा प्रयोग करते जोगी कांग्रेस ने अपनी पार्टी के लिए 18 उपजिला भी बनाये हैं.. और उनके लिये भी जिलाध्यक्षों का ऐलान किया है। जोगी की पार्टी में महिलाओं की नुमाइंदगी ना के बराबर है.. वहीं अल्पसंख्यकों को भी ज्यादा से ज्यादा स्थान दिया गया है। अजीत जोगी के मुताबिक सक्रिय पदाधिकारी को पार्टी ने अहम जिम्मेदारी दी गयी है..। अजीत जोगी ने महिलाओं की कम नुमाइंदगी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जल्द ही पार्टी में प्रदेश स्तरीय कार्यकारिणी का भी ऐलान किया जायेगा.. जिसमें ज्यादा से ज्यादा महिलाओं की मौजूदगी दिखेगी। 40 जिलाध्यक्षों के अलावे.. 18 उप जिलाध्यक्ष भी बनाये गये हैं।
अंबिकापुर ग्रामीण के अध्यक्ष गोपाल केशरवानी…अंबिकापुर शहर के अध्यक्ष दानिश रफीक..बालोद में अर्जुन हिरमानी..बलौदाबाजार में प्रमोद शर्मा…बलरामपुर में सुक्कू यादव…बस्तर में अंतुराम कश्यप…बेमेतरा में डीपी धृतलहरे.. भानुप्रतापपुर में रामबाबू शर्मा.. भिलाई नगर में जहीर खान.. बिलासपुर ग्रामीण में ज्वाला प्रसाद …दंतेवाड़ा में बबलू सिद्दीकी.. धमतरी में शरदरण सिंह … दुर्ग ग्रामीण बालमुकुंद देवांगन… गरियाबंद में नथमल शर्मा.. जगदलपुर नगर में पुलक भट्टाचार्य… जांजगीर में संतोष गुप्ता.. जशपुर में कृपाशंकर भगत… कांकेर में पवन कौशिक.. कवर्धा ग्रामीण अगम दास.. कवर्धा नगर में हिजबुल खान… कोरबा में रामसिंह अग्रवाल.. कोरिया नगर में शाहिद मेहमूद.. कोरिया में गुलाब सिंह.. महासमुंद में शेख छोटे मिया…मुगेली में चंद्रभान बारमते.. नारायणपुर में पंकज यादव.. पत्थलगांव में एमएस पैकरा.. पेंड्रा-गौरेला में सत्यनारायण तिवारी.. प्रतापपुर में नरेंद्र सिंह.. रायगढ़ ग्रामीण हृदयराम राठिया… रायगढ़ नगर बजरंग अग्रवाल.. रायपुर शहर ओमप्रकाश देवांगन…राजनांदगांव ग्रामीण सरदार जरनैल सिंह… …राजनांदगांव नगर में मेहुल मारू.. सक्ति में गीतांजलि पटेल… सरायपाली में त्रिलोचन नायक…सारंगढ़ में निर्मला बंजारे.. सुकमा में आयतुराम मंडावी.. सूरजपुर में सुरेंद्र चौधरी और वैशालीनगर में मनोज पांडे को जिलाध्यक्ष बनाया गया है। वहीं उप जिला अध्यक्ष भी अजीत जोगी ने नियुक्त किये हैं। अहिरवारा में प्रदीप पनगर.. आरंग में कार्तिक राम लाखे… चित्रकोट में टंकेश्वर भारद्वाज… धरसींवा में पन्ना साहू.. कसडोल में अजय ताम्रकार.. कटघोरा में शैलेष सिंह.. खैरागढ़ में नासिर मेमन.. कोरबा में अर्चना उपाध्याय… मनेंद्रगढ़ में केशव पोद्दार… मोहला मानपुर में संजीत ठाकुर.. पाटन में राकेश ठाकुर.. रायपुर दक्षिण में इंद्रजीत सिंह ठाकुर.. रायपुर उत्तर नगर में अमर गिदवानी.. रामपुर में अब्दुल रज्जाक.. बिलासपुर रेलवे परिक्षेत्र में सैय्यद निहाल.. सीतापुर में जय भगवान अग्रवाल.. तखतपुर में संतोष कौशिक और बसना में पी कुमार डे को उप जिलाध्यक्ष बनाया गया है।

दैनिक भास्कर समूह के चेयरमेन रमेश चंद्र अग्रवाल के निधन पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल कांग्रेस विधायक दल के नेता टी.एस. सिंहदेव ने गहरा शोक प्रगट करते हुये श्रद्धांजली अर्पित की है।

 दैनिक भास्कर समूह के चेयरमेन रमेश चंद्र अग्रवाल के निधन पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल कांग्रेस विधायक दल के नेता टी.एस. सिंहदेव ने गहरा शोक प्रगट करते हुये श्रद्धांजली अर्पित की है। 
कांग्रेस नेताओं ने कहा श्री अग्रवाल के असामयिक निधन से देश के समाचार जगत का मजबूत स्तंभ डह गया । स्व. रमेश अग्रवाल ने अपनी कर्मठता से अपने समूह को सफलता की जिस ऊंचाई पर पहुंचाया वह अनुकरणीय है। ईश्वर उनकी आत्मा को मोक्ष प्रदान करें शोक संतप्त परिवार को इस असीम दुख को सहने की शक्ति दे। 

परिवहन विभाग के सांठगाठ से डीलर कर रहे है जनता की जेब ढ़ीली- कांग्रेस

परिवहन विभाग के सांठगाठ से डीलर कर रहे है जनता की जेब ढ़ीली- कांग्रेस 

रायपुर/ 12 अप्रेल 2017।  छत्तीसगढ़ शासन का परिवहन मत्रालय सुधरने का नाम ही नई ले रहा है कभी अनफीट गाड़ीयो को एन.ओ.सी देने तो कभी ड्राईविंग लाईसेसों के नाम से ज्यादा पैसा वसूली के मामले में प्रसिद्ध रहे परिवहन विभाग अब आटो मोबाईल डीलरो के साथ सांठगाठ कर आम उपभोक्ताओं से ट्रेड फीस एवं ट्रेड टैक्स की वसूली कर आम जनता की जबरिया जेब ढ़ीली कर रहा है। छत्तीसगढ़ के आटो मोबाईल शो-रूम परिवहन विभाग की सरपरस्ती में बेलगाम हो गये है। 
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मनीष दयाल ने बताया कि लंबे समय से वाहन डीलरों द्वारा ग्राहको से ट्रेड फीस और ट्रेड टैक्स वसूला जा रहा है। परिवहन विभागों के नियमों के अन्तरगत ट्रेड फीस एवं ट्रेड टैक्स का भूगतान डीलरो द्वारा परिवहन विभाग को देना पड़ता है। किन्तु आटो मोबाईल डीलर अपने पैसे बचाने के लिये ये शुल्क सीधे ग्राहको से वसूल रहा है। एक चार पहिया वाहन में ट्रेड फीस 1000 रू. तथा टैक्स 600 रू. लगता है, वही दुपहिया वाहन में ट्रेड फीस 500 रू. तथा ट्रेड टैक्स 30 रू.लगता है। पूरे छत्तीसगढ में हर माह लगभग 1500 से 1800 चारपहिया वाहनों तथा 4200 से 4500 दुपहिया वाहनों की बिक्री होती है यदि ट्रेड टैक्स जोड़ा जाये तो चारपहिये वाहन खरीदने वाले ग्राहको को लगभग 28 से 30 लाख रूपये तथा दुपहिया वाहन खरीदने वाले ग्राहको को लगभग 23 से 25 लाख रूपये से जेब ढ़ीली करनी पड़ती है। परिवहन विभाग के नियमों के अंर्तगत ट्रेड फीस एवं ट्रेड टैक्स का भुगतान डीलरो द्वारा किया जाना है न कि वाहन खरीदी करने वालो द्वारा फिर भी खुले आम डीलरो द्वारा आम जनता से ट्रेड फीस एवं  टैक्स वसूला जा रहा है। जिसके प्रति प्रशासन पूरी तरह से मौन नजर आ रहा है। डीलरो द्वारा खुले आम फीस एवं टैक्स वसूली करना परिवहन विभाग से डीलरो की सांठगाठ की संभावनाओं को जन्म दे रहा है। परिवहन विभाग आम जनता को लूटने के अलावा कोई और काम नही कर रहा है। कभी हेलमेट के नाम से अवैध वसूली तो कभी प्रदूषण के नाम से वसूली करता आ रहा है। कांग्रेस पार्टी ने डीलरो द्वारा जबरन ली जा रही ट्रेड फीस एवं टैक्स पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है तथा ऐसे डीलरो पर कार्यवाही की मांग की है। ताकि छत्तीसगढ की जनता की जेब जबरन ढ़ीली न हो। 

मनीष दयाल 
प्रवक्ता 

लोक सुराज अभियान 2017 : मुख्यमंत्री दो दिन कांकेर-दुर्ग जिले के दौरे पर

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह लोक सुराज अभियान के तहत 12 अप्रैल को कांकेर और 13 अपै्रल को दुर्ग जिले का दौरा करेंगे। मुख्यमंत्री 12 अप्रैल को राजधानी रायपुर से हेलीकाप्टर द्वारा सवेरे नौ बजे रवाना होंगे और किन्हीं दो गांवों का आकस्मिक दौरा करने के बाद दोपहर एक बजे कांकेर पहुंचेंगे। वे शाम चार बजे वहां कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिले की विकास योजनाओं की समीक्षा करेंगे। वे इस बैठक के बाद शाम 6 बजे से 6.30 बजे तक स्थानीय पत्रकारों से चर्चा करेंगे। डॉ. सिंह इसके बाद सर्किट हाउस में जिले के जनप्रतिनिधियों, वरिष्ठ नागरिकों से भी मुलाकात करेंगे। मुख्यमंत्री कांकेर में रात्रि विश्राम करेंगे और अगले दिन 13 अप्रैल को सवेरे सर्किट हाऊस में कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से चर्चा करेंगे और इसके बाद 9.15 बजे कांकेर से प्रस्थान करेंगे और दो गांवों का आकस्मिक दौरा करने के पश्चात दोपहर 1.40 बजे दुर्ग जिले पहंुचेंगे। वहां शाम चार बजे कलेक्टर सभाकक्ष में दुर्ग और बेमेतरा जिले की संयुक्त रूप बैठक लेंगे जिसमें दोनों जिलों के विकास कार्यो की समीक्षा करेंगे। वे इस बैठक के बाद शाम 6 बजे से 6.30 बजे तक स्थानीय पत्रकारों से चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री उसके पश्चात जनप्रतिनिधियों और नागरिकों से भेंट करेंगे और दुर्ग में ही रात्रि विश्राम करेंगे। डॉ. रमन सिंह अगले दिन 14 अपै्रल को सवेरे कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से चर्चा करेंगे। उसके उपरांत सवेरे नौ बजे दुर्ग से प्रस्थान करेंगे और 9.20 को रायपुर लौट आएंगे।

पुलिस अपनी मर्दानगी तीन सवारी करने वाले मासूम नौजवान पर दिखाने में लगी है सुरेंद्र शर्मा

बलोदा बाजार में पुलिस हिरासत में रिक्की सलूजा की मौत पुलिस के निरंकुश ब्यवहार का सिर्फ नमूना मात्र है । छत्तीसगढ़ प्रदेशकांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र शर्मा ने कहा एक तरफ सरकार झीरम के हत्यारों को आज तक खोज नही पाई । पूर्व विधायक शिव डहरिया की माता के हत्यारे ओर पिता पर जानलेवा हमला करने वाले खुला घूम रहे है । बिलासपुर में पत्रकार पाठक पर गोली चलाने वालों का पता नही है । इसलिए पुलिस अपनी मर्दानगी तीन सवारी करने वाले रिक्की सलूजा जैसे मासूम नौजवान पर दिखाने में लगी है । जिस तरह का बर्ताव ट्रैफिक पुलिस द्वारा रिक्की सलूजा के साथ किया गया वैसा बर्ताव तो घोर अपराधियों के साथ भी नही किया जाता । दोषियों को निलंबित कर न्यायिक जांच का आदेश दिया जा चुका है ।घर वाले जिम्मेदार अधिकारियों के विरुद्ध एफ आई आर करने की मांग की जा रही है जो किया जाना चाहिए । सामान्य नियम है किसी को हिरासत में लेते समय उसके परिजन अथवा उसके बताये ब्यक्ति को सूचित किया जाना चाहिए और उसकी मांग पर चिकित्सीय जांच कराने का नियम है,जिसका पालन नही किया गया शहर की जनता में भारी आक्रोश है । समूचा घटनाक्रम सरकार के कार्य प्रणाली की पोल खोलता क्योकि सरकार शराब दुकान खुलवाने में ब्यस्त है और पुलिस सड़क पर चलने वालों से वसूली में मस्त है । सुरेंद्र शर्मा का कहना है कुल मिलाकर सब अस्त ब्यस्त है ।

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा रमन राज में पुलिस हुई बर्बर - आनंद मिश्रा ने रिक्की सलूजा के मौत को बताया बहुत ही शमर्नाक घटना

रायपुर छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आनंद मिश्रा ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि बलौदाबाजार में यातायात पुलिस की बर्बर मारपीट से रिक्की सलूजा की मौत बहुत ही शमर्नाक घटना है। नागरिको को सुरक्षा देने वाली पुलिस अब नीरीह व्यक्ति के इस अमानवीय रूप से मारपीट करती है कि उसकी मौत हो जाती है।  मिश्रा ने कहा कि सलूजा का अपराध भी इतना बड़ा नहीं था कि उसे आदतन अपराधी की तरह वहशियाना ढंग से मारपीट करना आवश्यक होता। भाजपा सरकार में कभी हेलमेट, कभी प्रदूषण, कभी गाड़ी के कागजात के नाम पर जनता से यातायात पुलिस से आमजन परेशान हो रहे है। पुलिस अत्याचार में हुई मौत की संख्या के आंकड़े भी विचलित कर देने वाले है।  मिश्रा ने कहा कि बस्तर और आदिवासी क्षेत्रों में पुलिस अत्याचार की कहानी भी चरम पर है।  कांग्रेस नागरिको पर हो रहे अत्याचार की घोर निंदा करती है

रायपुर में मालवीय रोड स्थित दुकान में लगी आग, 4 लोगों की मौत फायर ब्रिगेड की 15 गाड़ियां मौके पर पहुंची हैं और आग बुझाने की कोशिश जारी

रायपुर में मालवीय रोड पर स्थित दुकान और लॉज में सुबह ​3​ बजे  आग लग गई है। आग लगने से 4 लोगों की मौत हुई है। फायर ब्रिगेड की  १५ गाड़ियां मौके पर पहुंची हैं और आग बुझाने की कोशिश जारी है। फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भिलाई से मंगवाई गई हैं। आग लगने के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है।

रमन सिंह ही हैं सबसे बड़े कोचिया भूपेश बघेल कोचिया हटाने का वादा लेकिन भाजपा के लोग ही कोचिया बन रहे हैं

रायपुर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि शराब बेच रही भाजपा सरकार के सबसे बड़े कोचिया तो खुद मुख्यमंत्री रमन सिंह ही हैं क्योकि वे भी शराब बेचकर अवैध कमाई करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके एक मंत्री ने ही बताया है कि शराब बेचकर 1500 करोड़ रुपए का कमीशन आएगा जिसका हिसाब रखने का कोई तरीका नहीं है। उन्होंने पिछले सात दिनों के अनुभव से यह भी जाहिर हुआ है कि भाजपा के नेता ही शराब की जमाखोरी करके कोचियागिरी कर रहे हैं।

बघेल ने कहा कि मंत्रिमंडल की बैठक में एक वरिष्ठ मंत्री ने सवाल उठाए थे कि शराब बेचने से 1500 करोड़ रुपए का जो कमीशन आएगा उसे किस खाते में डाला जाएगा। उन्होंने कहा कि न तब मुख्यमंत्री ने इसका जवाब दिया था और न अब तक दे पाए हैं। जाहिर है कि कमीशन की यह राशि मुख्यमंत्री रमन सिंह और आबकारी मंत्री अमर अग्रवाल के बीच ही बंटेगी। तो यही काम तो शराब ठेकेदार और कोचिया भी कर रहे थे। इस नाते रमन सिंह प्रदेश के सबसे बड़े कोचिया हो गए।

 बघेल ने कहा है कि मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह पिछले एक हफ्ते से फतवे जारी कर रहे हैं कि कोचियों को टांग देंगे, एसपी को हटा देंगे आदि आदि। .वे वादा तो कर रहे हैं कि कोचिया पूरे प्रदेश से हट जाएंगे लेकिन पिछले सात दिनों में भाजपा नेता ही कोचियागिरी करते पकड़े गए हैं।

चार दिन पहले पेंड्रा में भाजपा पार्षद के पोल्ट्री फॉर्मसे बड़ी मात्रा में शराब पकड़ी गई थी और कल पाटन में भाजपा के नगर पंचायत अध्यक्ष कृष्णा भाले के समधी रामरतन देवांगन के घर से बड़ी मात्रा में शराब जब्त की गई है। इसमें कई ब्रांड की विदेशी शराबें हैं। ऐसी छोटी मोटी खबरें पूरे प्रदेश से आ रही हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है कि कांग्रेस को इस बात पर कोई संदेह नहीं था कि भाजपा सरकार शराब क्यों बेच रही है। लेकिन अब जनता भी समझ जाएगी कि भाजपा की असली मंशा कोचियों को हटाकर खुद कोचियों का काम करना है ताकि पूरी कमाई भाजपा से जुड़े लोगों की जेब में जाए। महिलाएं रमन सरकार के लिए भीख मांग रही हैं लेकिन सरकार को शर्म नहीं आ रही है।

 बघेल ने कहा है कि भारतीय परंपराओं और संस्कारों की बात करने वाली भाजपा और उनकी मातृ संस्था आरएसएस इसलिए चुप हैं क्योंकि 1500 करोड़ रुपयों का कमीशन उन तक भी तो पहुंचेगा।