क्राइम

वृद्ध महिला की सिर कुचल कर हत्या, डॉग स्क़वायड और फॉरेंसिक टीम की मदद से पुलिस जुटी जांच में

जांजगीर चाम्पा :- जिले में एक वृद्ध महिला के अंधे कत्ल का मामला सामने आया है, वृद्धा की हत्या सिर कुचलकर की गई है। घटना डभरा थाना क्षेत्र के धुरकोट गांव की है। मौके पर पहुँची पुलिस टीम के द्वारा डॉग स्क़वायड और फॉरेंसिक टीम की मदद से जांच जारी है। दरअसल धुरकोट गांव में आरएमपी चिकित्सक बसन्त चन्द्र विश्वास और उसकी पत्नी बसंती विश्वास निवासरत थे मृतका का पति बसन्त चन्द्र सुबह 11 बजे अपने बेटी को लेकर सक्ति न्यायालय पेशी में गया हुआ था , और रात को वापस लौटा है तब उसकी पत्नी घर पर खून से लथपथ मृत पड़ी थी। जिसके बसंत ने इस बात की सूचना डभरा थाने में दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए स्थानीय पुलिस ने उच्चाधिकारियों को सूचना दी जिसके बाद मौके पर पहुँचे एडिशनल एसपी पंकज चंद्रा ने डॉग स्क्वायड और फॉरेंसिक टीम को बुलाया। फिलहाल मामले में जांच जारी है और पुलिस पोस्ट मार्टम के बाद ही कुछ खुलाशा करने की स्थिति में आ पाएगी।

ट्रक यार्ड में हज़ारो रुपये एवम मोबाइल लूट के मामले सुहेला पुलिस ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार

बलोदा बाजार भाटापारा -  थाना प्रभारी सुहेला आर एस सिंह एवं उनके टीम द्वारा  आरोपियों के धर पकड़ अभियान के तहत थाना सुहेला क्षेत्रन्तर्गत दिनांक 01-11-2018 के रात्रि 22:15 बजे घटना स्थल ग्राम हिरमी ट्रक यार्ड में हुये 92500 रुपये नगदी रकम 02 नग वीवो  मोबाइल कीमती 30,000 रुपये लूट के प्रकरण में दिनांक 02-11-2018 को अपराध क्रमांक 259/18 धारा 341,394,34 भादवि कायमी तत्काल बाद आरोपी विकास राज गुप्ता पिता राजकुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर आरोपी के कब्जे से एक नग मोबाइल ,01 नग मोटरसायकल पल्सर एवं 10,000 रुपये नगद बरामद कर आरोपी को न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया था एवं उक्त प्रकरण का 01 आरोपी पुरषोत्तम गायकवाड़ पिता कल्याण गायकवाड साकिन परसवानी(हिरमी)  का जो घटना दिनांक से फरार चल रहा था जिसे पुलिस द्वारा लगातार प्रयास के बाद आज दिनांक 07-01-2019 को धर दबोचने में सफलता हासिल किया गया जिससे लूट किये हुए मशरूका बरामद करने के प्रयाश के दौरान 01 नग मोबाइल  बरामद की गई है। शेष नगदी रकम के संबंध में पूछताछ किया जा रहा है। एवं फरार आरोपी को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग करने वाले आरोपी सालिक राम सिन्हा साकिन हिरमी को आज दिनांक 07-01-19 को गिरफ्तार किया गया है एवं सहयोगी आरोपी के विरुद्ध मामले में धारा 216(क) भादवि जोड़ी गई।

पत्रकार खबरीलाल रिपोर्ट ::- दुर्ग आईजी जीपी सिंह ने अपने अंतिम कार्यदिवस के दिन लौटाये 34 नग मोबाईल फोन ।।

@ सिटीजन काॅप ने लगभग 20 लाख, 45 हजार रूपये के मोबाईल फोन रिकवर किये।। # दुर्ग रेंज के आईजी जीपी सिंह, आईपीएस के निर्देशन में संचालित सिटीजन काॅप सेल द्वारा सिटीजन काॅप - मोबाईल एप्लीकेशन पर दर्ज मोबाईल फोन के गुम होने की शिकायतों पर कार्यवाही करते हुये 34 नग मोबाईल फोन रिकवर किया गया। आईजी सिंह द्वारा इन 34 नग मोबाईल फोन को उनके मूल मालिको को आवश्यक दस्तावेज देखकर आज दिनांक 06/01/2019 को अपने कार्यालय में वापस सुपुर्द कर किया। गौरतलब है कि ये मोबाईल फोन दीगर राज्य जैसे मध्यप्रदेश के बालाघाट, सीधी, महाराष्ट्र के गोंदिया एवं देवरी, एवं ओडिसा के तिटलागढ़ से रिकवर किये गये है तथा कुछ मोबाईल फोन राज्य के रायपुर, बलौदाबाजार, धमतरी, महासमुंद, बालोद, बेमेतरा, राजनांदगांव एवं दुर्ग से भी रिकवर किये गये हैं। आईजी सिंह ने बताया कि " सिटीजन काॅप - मोबाईल एप्लीकेशन" पुलिस का डिजिटल रूप है जो पुलिस के कार्यप्रणाली को आम नागरिकों के लिए सरल और सुविधाजनक बनाती है। सिटीजन काॅप के दुर्ग संभाग में कुल 27772 सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो लगातार पुलिस के साथ मिलकर अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे हैं। इस एप्लीकेशन के माध्यम से कुल 3064 सूचनाएं एवं शिकायतें प्राप्त हुई हैं कुल सूचनाओं/शिकायतो मे 1825 एक्षनेबल है जिसपर पुलिस द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए 1432 लोगों को सीधे लाभ पहुचाया गया है। वहीं रिपोर्ट लाॅस्ट आर्टिकल के तहत् 3591 रिपोर्ट प्राप्त हुआ है जिसपर कार्यवाही करते हुए 185 मोबाईल फोन रिकवर कर मोबाईल फोन के वास्तविक मालिकों को लौटाया गया है जिसकी अनुमानित कीमत लगभग 20 लाख 45 हजार रूपये के करीब है। गुम चोरी मोबाईल फोन प्राप्त करने वाले लोगों ने पुलिस के कार्यप्रणाली की प्रशंसा करते हुए अपनी खुशी जाहिर की है।

नक्सलियों ने युवक की कुल्हाड़ी मार कर हत्या की...

कांकेर : - नक्सलियों ने युवक की कुल्हाड़ी मार कर हत्या की... मलमेटा गांव के स्कूल में पदस्थ चपरासी की हत्या...पुलिस मुखबिर के शक में नक्सलियों ने मार डाला...रामधर सोरी की हत्या कर फरार हुए माओवादी...घटनास्थल के लिए पुलिस टीम रवाना...ताडोकी थाना क्षेत्र में बीती रात माओवादियों ने वारदात को अंजाम दिया...

एटीएम से क्लोनिग के जरिये रकम उड़ाने वाले एक अंतरराज्यि गिरोह का बिलासपुर पुलिस ने किया पर्दाफास

अजीत मिश्रा

बिलासपुर:- एटीएम से क्लोनिग के जरिये रकम उड़ाने वाले एक अंतरराज्यि गिरोह का बिलासपुर पुलिस ने किया पर्दाफास किया है। इस मामले में 5 लोगो को हिरासत में लिया गया है। वही इस पूरे गिरोह का सरगना मास्टरमाइंड अभी फरार है। जिसकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। छत्तीसगढ़ सहित देश के कई राज्यो में अपना नेटवर्क फैला कर क्लोनिग के जरिये ये लोग एटीएम में कार्ड रीडर लगा देते थे और एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर लेते थे। जो लोगो को नही पता रहता। पिन्होल कैमरा के जरिए अपना जैसी ही पिन कोड एटीएम में अंकित करते वैसे वो एटीएम पिन को रिकॉर्ड कर लेते थे और बाद में उस क्लोन ऐटीएम और रिकार्डेड पिन के सहारे सारी रकम निकाल लेते थे। पुलिस को इस गिरोह को पकड़ने में एक बड़ी सफलता मिली है। इस मामले का खुलासा आज बिलासपुर पुलिस एडिशनल एसपी विजय अग्रवाल ने बताया कि यह गिरोह के सभी लोग पड़ोसी राज्य उड़ीशा के रहने है। मुख्य आरोपी सिविल इंजीनियर है जो अभी पकड़ से बाहर है। इनके पास से 20 नग मोबाइल 12 एटीएम एक मारुति कार, बैंक के पासबुक, स्वीमर डिवाइस, कार्ड रीडर, पिन होल कैमरा, सीसी टीवी रिकार्डर, नगद 30 हजार रुपये बरामद किए है। इस गिरोह के खिलाफ बिलासपुर के तोरवा और कोतवाली में मामला पंजीबद्ध किया गया था। पुलिस को इन क्षेत्रों की वीडियो में कुछ संदिग्ध इलेक्ट्रॉनिक उपकरण मिले। सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल कॉल डिटेल की लोकेशन से करीब 18 लाख कॉल को ट्रेस करके 8-10 लोगों को संदिग्ध पाया गया। काल डिटेल के आधार कुछ संदिग्धों का लोकेशन कोलकाता पाया गया, जो छत्तीसगढ़ में काफी बार सक्रिय रहे। बाद में उन्होंने अपना लोकेशन बदलकर पड़ोसी राज्य उड़ीसा कर लिया था। जिसे सभी युवकों ट्रेस करने उड़ीसा के सुंदरगढ़, संबलपुर, झारसुगुड़ा, बड़गढ़ मे इनका लोकेशन मिला कर लिया। जहाँ से पुलिस ने सभी हिरासत में लेकर पुछताछ की। पूछताछ में सभी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। इस मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि इसका सरगना केबिन मूर्ति एक सिविल इंजीनियर है। जो मास्टर माइंड श्रीमंत के साथ मिलकर आधार कार्ड बनाने व स्मार्ट कार्ड बनाने का काम करता है।

पत्रकार खबरीलाल क्राइम रिपोर्ट :: जीपी सिंह के नेतृत्त्व में पुलिस को मिली बड़ी सफलता। नक्सलियों का नेशनल को-आर्डिनेटर नक्का वेंकेट राव हुआ गिरफतार ।।

दुर्ग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक आईपीएस जी. पी. सिंह, आज दिनांक 23.12.2018 को रेंज कार्यालय में ली गई प्रेस कान्फ्रेस में मीडिया को बताया कि काफी लंबे समय से जंगल के अंदर नक्सलियों को आर्म्स-एम्युनेशन एवं लाजिस्टिक सपोर्ट, नक्सलियों के अंडर ग्राउण्ड शहरी नेटवर्क द्वारा सप्लाई करने की जानकरी प्राप्त हो रही थी। आत्मसमर्पित नक्सलियों द्वारा भी शहरी नेटवर्क के माध्यम से नक्सलियों को मदद मिलने का अहम खुलासा किया गया था। अतएव शहरी नेटवर्क के संबंध में जानकारी संकलित करने का काम लंबे समय से लगातार चल रहा था तथा विगत एक माह से अनेक महत्वपूर्ण सूचनायें पुलिस को मिल रही थी। इसी दौरान यह सूचना मिली थी कि नक्सलियों के नेशनल को-आर्डिनेटर, जिसे नक्सली मूर्ति के नाम से पुकारते हैं, एमएमसी जोन के सेन्ट्रल कमेटी मेम्बर दीपक तेलतुमड़े को सामान पहुंचाने के लिये आने वाला है। चूंकि नेशनल को-आर्डिनेटर के हमेशा मोटर साइकिल से मूव्हमेंट करने की सूचना थी, अतएव संवेदनशील क्षेत्रों में कई दिनों से एमसीपी लगाकर, लगातार चेकिंग कराई जा रही थी। इसी के तहत दिनांक 23.12.2018 को जिला राजनांदगांव के थाना बागनदी क्षेत्रान्तर्गत चाबुकनाला मोड़ के पास बागनदी पुलिस द्वारा लगाये गये एमसीपी में चेकिंग के दौरान नक्का वेंकट राव उर्फ मूर्ति वेंकटराव वल्द साहेब वेंकटराव, उम्र 54 वर्ष जी मूलतः आंध्रप्रदेश के निवासी है उसे गिरफतार किया गया है। गिरफतार नक्सली के कब्जे से 08 नग नक्सली साहित्य एवं कई दस्तावेज, 01 नग मोबाईल, 02 नग मैनपेक सेट मय चार्जर (HTRF) एवं 23 नग डेटोनेटर जप्त किया गया है। पूछताछ में इसने बताया है कि वह नक्सलियों के शहरी नेटवर्क में काम करता है तथा राजनांदगांव जिले में किसी बडी वारदात को अंजाम देने के लिये डेटोनेटर की सप्लाई दीपक तेलतुमडे़ को करने के लिये आया है। इस संबंध में थाना बागनदी में अपराध क्रमांक 51/18 धारा 4,5 विस्फो. अधि. 38, 39 विधि विरूद्ध क्रियाकलाप अधि. के तहत पंजीबद्ध किया गया है तथा गिरफतार नक्सली से पूछताछ जारी है। श्री सिंह ने बताया कि गिरफतार नक्सली भारत सरकार के केन्द्रीय उपक्रम नेशनल जियोफिजिकल रिसर्च इंस्टीटयूट, हैदराबाद में सीनियर टेक्नीकल आफिसर के पद पर कार्यरत है तथा विस्फोटक विशेषज्ञ है। नक्सल प्रभावित अन्य इलाकों में भी इसकी सक्रिय आमदरफ्त की जानकारी है। ये नक्सलियों के मध्य कोआर्डिनेट कर संदेश पहुंचाने के साथ-साथ गुरिल्ला जोन को लाजिस्टिक सपोर्ट उपलब्ध कराता है। यह नक्सली देश के विभिन्न हिस्सों में होने वाले किसान आंदोलन, नर्मदा बचाओ आंदोलन, दलित आंदोलन, मंडला-चुटका परमाणु परियोजना विरोध आंदोलन, एलगार परिषद (भीमा कोरेगांव), एसईजेड के विरोध में चलने वाले आंदोलन, विभिन्न स्थानों पर विस्थापन के खिलाफ होने वाले आंदोलन में सक्रिय भागीदारी कर आंदोलनों को भडकाने व स्थाईरूप देने का काम करता है। इसकी पत्नी हेमललिता आंध्रप्रदेश में एडव्होकेट है तथा उपकार नामक एनजीओ संस्था चलाती है। गिरफतार नक्सली का छोटा भाई नारायण राव भी माओवादी विचारधारा से प्रभावित है तथा सिविल लिबर्टीज कमेटी तेलांगना राज्य का महासचिव है। स्पष्ट है कि इसका भाई नारायण राव भी नक्सली संगठन का सक्रिय सदस्य है। गौरतलब है कि गिरफतार नक्सली नक्का के ही दिशा निर्देशन में पेसा द्वारा विस्फोटकों का ट्रासंपोर्टेसन देश के विभिन्न हिस्सों में किया जाता है, इससे संबंधित समस्त पत्राचार पेसा के साथ इसी के द्वारा किया जाता रहा है। संभावना है कि इसके द्वारा नक्सलियों को व्यापक पैमाने पर अवैध रूप से विस्फोटक सप्लाई की गई है, जिसका खुलासा आगे पूछताछ में हो सकता है। केन्द्र सरकार के महत्वपूर्ण उपक्रम में जिम्मेदार अधिकारी होने से इसके उपर किसी तरह के शक की कोई गुंजाइश न होने से, इसने अपने पद एवं हैसियत का गलत इस्तेमाल करते हुए नक्सलियों को मदद करते आ रहा है।

पत्रकार खबरीलाल क्राइम रिपोर्ट ::- 9.45 लाख रुपये का धोखाधड़ी करने वाला आरोपी अभिषेक जैन चढ़ा बिलासपुर पुलिस के हत्थे ।।

थाना सिरगिट्टी के अपराध क्रमांक 508/18 धारा 420 भा.द.वि के प्रकरण में प्रार्थी सुनील कुमार जैन निवासी नया रायपुर थाना राखी द्वारा दिनांक 14.12.18 को थाना सिरगिट्टी में रिपोर्ट दर्ज कराया की भारतीय स्टेट बैंक तिफरा शाखा में उसका खाता है दिनांक 6 .12. 18 को जब वह अपने खाता का स्टेटमेंट चेक किया तो उसे ज्ञात हुआ कि उसके उक्त खाते से ₹945000 सागर निवासी अभिषेक जैन के द्वारा धोखा धड़ी कर उसके अकाउंट से रकम ट्रांसफर करा लिया गया है। प्रार्थी की रिपोर्ट पर थाना सिरगिट्टी में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान आरोपी अभिषेक जैन के नाम पता की जानकारी एवं अन्य तकनीकी जानकारी हासिल करते हुए आरोपी की तलाश की गई। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बिलासपुर आरिफ शेख के निर्देशन पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर बिलासपुर विजय अग्रवाल एवं उप पुलिस अधीक्षक क्राइम बिलासपुर पीसी राय द्वारा आरोपी की पता साजी करने के लिए थाना सिरगिट्टी एवं क्राइम ब्रांच की टीम को सागर रवाना किया गया तथा आरोपी की पतासाजी के दौरान ज्ञात हुआ कि आरोपी कान्हा केसली में छिपा हुआ है । टीम द्वारा वहां दबिश देकर आरोपी को पकड़ा गया तथा आरोपी के पास से नगदी रकम ₹800000 बरामद किया गया है। शेष रकम आरोपी के अकाउंट से प्रार्थी के अकाउंट में ट्रांसफर किया गया है। थाना सिरगिट्टी के सहायक उपनिरीक्षक उमेश उपाध्याय, आरक्षक गोवर्धन प्रसाद शर्मा , आरक्षक सतीश यादव एवं क्राइम ब्रांच के आरक्षक धर्मेंद्र साहू द्वारा कान्हा किसली जाकर आरोपी को गिरफ्तार किया गया।

बिर्रा-देह व्यापार में संलिप्त दलाल सहित दो पकड़ाए

जांजगीर चाँपा:- लंबे अरसे से बिर्रा ठाकूरदेव मुहल्ले निवासी जीवनलाल तिवारी पिता ऐतन प्रसाद तिवारी उम्र 54 वर्ष के घर में संदिग्ध लोगों का आना-जाना लगा रहता था जहां बाहर से लड़कियां लाने की जानकारी थी।आज देर शाम उसके घर पर बिर्रा थाना से एस आई नवीन पटेल सदबल सहित पहुंचे जहां देह व्यापार में संलिप्त दो युवक व एक युवती को रंगे हाथ पकड़ा गया। जिसमें युवती बसना सरायपाली ज्योति साहू पति स्व.नारायण साहू उम्र 33 वर्ष, संदिग्ध युवक राकेश थवाईत पिता अर्जून थवाईत उम्र 40 वर्ष (जांजगीर) व बलराम राठौर पिता दिलीप राठौर उम्र 27 वर्ष (जांजगीर)सहित दलाल जीवनलाल तिवारी को थाना लाया गया। जहां पुछताछ कर उनकेे विरूद्ध जीवनलाल तिवारी सीआरपीसी धारा 151,वह अन्य तीनों के विरूद्ध सीआरपीसी 109 के तहत् कार्रवाई की गई। गौरतलब है कि बीच बस्ती में इस तरह के अनैतिक कार्य से लोग काफी नाराज़ थे।और उस स्थान जहां देह व्यापार का धंधा बरसों से चल रहा था वहां जगन्नाथ मंदिर भी है।उस जगह सेक्स रैकेट की जानकारी सभी को था पर अब तक तीन चार बार कार्रवाई भी हुई लेकिन पीटा एक्ट लागू नहीं होने के कारण 151 जैसी धारा लगाकर छोड दिए जाने के कारण उसका मनोबल बढ़ गया है।

पत्रकार खबरीलाल क्राइम रिपोर्ट ::- 46 लाख का धोखादड़ी करने वाला आरोपी हीरालाल साहू चढ़ा पुलिस के हत्थे।

मामला है किसान क्रेडिट कार्ड से लोन दिलाने के नाम पर धोखादड़ी। आरोपी हीरालाल साहू वर्ष 2013 से 2016 के बीच लोगों को किसान क्रेडिट कार्ड से लोन दिलवाने के नाम से 46 लाख से ऊपर की ठगी कर फरार चल रहा था। मामला बिलासपुर के सरकंडा थाने का है जिसमे अपराध 456/16, 457/16, 458/16, 459/16 को पंजीबद्ध कर आईपीसी की धारा 420 के अंतर्गत कार्यवाही की गई। उक्त मामले में वर्षों से फरार चल रहे आरोपी हीरालाल साहू को गिरफ्त में लेने हेतु बिलासपुर पुलिस अधीक्षक आईपीएस आरिफ शेख के निर्देश पर जांबाज अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आईपीएस विजय अग्रवाल तथा सीएसपी कोतवाली विश्व दीपक त्रिपाठी के मार्गदर्शन में संयुक्त टीम का गठन कर तलाशी शुरू हुई जिसके तहत आज 21 दिसंबर 2018 को आरोपी हीरालाल साहू को पकड़ने में बड़ी कामयाबी मिली तथा आरोपी को गिरफ्तार कर उचित कार्यवाही की गई।

कृषि साख सेवा सहकारी संस्था में बारदाने में हेरफेर करने वाले 2 आरोपी गए जेल

बलौदा बाजार पलारी – संतराम साहू अध्यक्ष कृषि साख सेवा सहकारी संस्था छेरकापुर द्वारा पुलिस अधीक्षक समक्ष आवेदन पत्र प्रस्तुत कर शिकायत किया गया कि सहकारी समिति छेरकापुर के कम्प्यूटर आपरेटर पंच राम पिता सोनू घृतलहरे 36 छेरकापुर साल और याद राम फेकर पिता बृजलाल फेकर कोसमन्दा द्वारा धान खरीदी हेतु आये बारदाना में हेरफेर और बाहर से 400 कट्टा धान लेकर हेरफेर किया गया है। शिकायत पर एसपी प्रशांत अग्रवाल के निर्देश पर में थाना पलारी के के कुशवाहा द्वारा जांच करवाई गई जो जांच में पाया गया कि कृषि साख समिति छेरकापुर में सन 2017-18 में धान खरीदी हेतु कुल 56 हजार नग बारदाना प्रदाय किया गया था जिसमे से 46003 नग बारदाना को धान खरीदी में उपयोग किया गया और 2225 नग बारदाना आरोपी पंचराम घृतलहरे जो सहकारी समिति में कम्प्यूटर आपरेटर के पद पर पदस्थ था और भृत्य यादराम फेकर के द्वारा समिति को वापस किया गया शेष 7772 नग बारदाना वापस नही कर हेरफेर कर अमानत में खयानत किया गया इसी बीच आरोपियों द्वारा सांठगांठ कर दिनांक 28/01/18 को अमेरा से 400 कट्टा धान लाकर संतराम साहू और हरिश्चन्द्र वर्मा के नाम से फर्जी टॉकन काटकर बेचने का प्रयास किया जिसे समिति प्रबन्धक द्वारा जब्त किया जाकर शिकायत किया गया जो जांच में आरोपियों द्वारा उक्त कृत्य करना सिद्ध पाए जाने पर अपराध क्रमांक 632/18 धारा 420 ,406, 34 भा द वि कायम कर विवेचना में लिया,आरोपियों पंचराम पिता सोनेराम घृतलहरे 36 साल छेरकापुर और यादराम पिता बृजलाल फेकर 37 साल कोसमन्दा को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया उक्त कार्यवाही स उ नि हरिश्चन्द्र जाधव द्वारा की गई।