छत्तीसगढ़

साइकिल की चाबी लेने से पहले छात्राओं ने मांगा शुद्ध पानी

दंतेवाड़ा। ( एजेंसी ) राज्य सरकार की सरस्वती योजना के तहत शुक्रवार को नगर के आंवराभाटा हाईस्कूल में 54 छात्राओं को साइकिल वितरण किया है। कार्यक्रम मुख्य अतिथि नपा उपाध्यक्ष ने छात्राओं को साइकिल की चाबी सौंपी। इस दौरान छात्राओं ने अतिथियों से स्कूल की समस्याओं से अवगत कराते शुद्ध पानी की मांग कर दी। इस पर अतिथि ने स्कूल के हैंडपंप में शीघ्र ही जल शुद्धिकरण संयंत्र स्थापना का आश्वासन दिया है। स्कूल में पहली से 10वीं तक के 276 बच्चे अध्ययनरत हैं।


आंवराभाटा हाईस्कूल में अध्ययनरत 54 छात्राओं को सत्र 2015-16 की सरस्वती साइकिल समारोह पूर्वक दी गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नगरपालिका उपाध्यक्ष धीरेंद्रप्रताप सिंह व अतिथि पार्षद मनीष भट्टाचार्य थे। कार्यक्रम में छात्राओं को संबोधित करते अतिथि ने स्वच्छ भारत अभियान के महत्व और उद्देश्य की जानकारी दी।

उन्होंने सरस्वती साइकिल योजना का भी जिक्र करते कहा कि शासन छात्राओं को शिक्षित करने इसे लागू किया है। उन्होंने छात्राओं से कहा कि वे नियमित और समय पर स्कूल आएं। इस मौके पर अतिथि ने जब स्कूल की समस्याओं के संबंध में जानकारी ली तो बच्चों ने अन्य समस्याओं के साथ पेयजल की समस्या बताई।

उन्होंने कहा कि स्कूल प्रांगण में स्थित दोनों हैंडपंप से आयरनयुक्त पानी निकलता है। मध्यान्ह भोजन के बाद इसी पानी का सेवन करना पड़ता है। इससे पेट संबंधित तकलीफ भी होती है और पढाई बाधित हो रही है। इसे मुख्य अतिथि ने गंभीर समस्या बताते कहा कि पालिका की ओर से शीघ्र यहां आयरन रिमुअल प्लांट स्थापित की जाएगी। उन्होंने शाला प्रबंधन से भी आवेदन मांगा है।

रामानुजगंज में एबीवीपी नेता की हत्या

अंबिकापुर : छत्तीसगढ़ के रामानुजगंज में स्थानीय एबीवीपी नेता विनय ठाकुर की लाश अनिरुद्धपुर के गांव के झुमका में मिली है. शुक्रवार को रामचंद्रपुर कॉलेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यभ विनय ठाकुर की लाश नग्न हालत में मिली है. लाश को देखकर पता चलता है कि मुंह में कपड़ा ठूंसकर गमछे से उसका गला घोंटा गया है. गुप्तांग को भी नृशंस तरीके से जख्मी कर दिया गया है.

शुक्रवार को विनय ठाकुर की लाश मिलने के बाद से रामचंद्रपुर गांव में तनाव का माहौल है. विनय उसी गांव का रहने वाला था. तनाव के हालात देखकर पुलिस ने थाने में पुलिस बल तैनात कर दिया है. मामला प्रेम-प्रसंग का है.

मिली जानकारी के अनुसार 24 वर्षीय विनय ठाकुर बुधवार की रात 8:30 बजे अपने दो दोस्तों दिनेश प्रजापति तथा जितेन्द्र के साथ बाइक पर बैठकर तीन किलोमीटर दूर स्थित अनिरुद्धपुर अपने प्रेमिका से मिलने गया हुआ था. प्रेमिका के घर से थोड़ी दूर पर वह बाइक से यह कहते हुये उतर गया कि मैं पांच मिनट में फोन करता हूं तब आना.

काफी देर तक विनय के न लौटने पर उसके दोनों दोस्त परेशान होकर लौट गये. परिजनों ने गुरुवार को विनय ठाकुर के लापता हो जाने की खबर रामचंद्रपुर थाने में दी थी.

पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है तथा जांच में जुटी हुई है. पुलिस को जयसिंह नाम के एक युवक पर संदेह है जो वारदात के बाद से फरार है. पुलिस की चार टीमों का गठन हत्या के मामले को सुलझाने के लिये कर दिया गया है.

(सीजी खबर से ) 

भूपेश बघेल को शिलान्यास से रोका

रायपुर : छत्तीसगढ़ के कांग्रेस अध्यक्ष को भाजपा कार्यकर्ताओं ने सरकारी कार्यक्रम में भाग लेने से रोका है. छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल जब अपने विधानसभा क्षेत्र में एक सड़क का उद्घाटन करने पहुंचे तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें शिलान्यास से रोका तथा तोड़पोड़ की है.

पाटन में भूपेश बघेल जब सरकारी कार्यक्रम के तहत मोतीपुर से औंधी-भिलाई मार्ग का उद्घाटन करने पहुंते थे तब यह घटना घटी. भूपेश बघेल को लोक निर्माण विभाग ने मुख्य अतिथि बनाया था.

इस तोड़फोड़ पर भूपेश बघेल ने कहा है कि सरकार के कार्यक्रम का ही भाजपाइयों ने विरोध किया है, शिलालेख तोड़ा है तथा पूजन सामग्री फेंकी है. जब भाजपाई कानून तोड़ रहे थे तब पुलिस मूक दर्शक बनकर खड़ी थी.

इस घटना पर भाजपा के प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि भूपेश बघेल पाटन विधानसभा के निर्वाचित जनप्रतिनिधि हैं. शिलालेख तोड़ना तथा हंगामा करना गलत है.

(सीजी खबर से ) 

अवैध रूप से चल रहे 3 क्लिनिक सील

 

सरायपाली  : पिथौरा ब्लॉक में अवैध रूप से चल रहे 13  क्लिनिकों को  एसडीएम पिथौरा श्रवण कुमार टंडन  ने सील करने का निर्देश दिया है । वहीँ तीन अस्पतालों को नायाब तहसीलदार के नेतृत्व में तुरंत सील कर दिया गया।  ये तीनों क्लीनिक बिना लाइसेंस और अनुमति के अवैध रूप से संचालित हो रहे थे। ये क्लिनिक ग्राम टेका और सांकरा में चल रहे थे। 

भाटापारा में सिर्फ सिर्फ चना की ही होगी नीलामी , कृषि मंडी को राष्ट्रीय कृषि बाजार में जुड़ने का थमाया झुनझुना

 

तकनीकी खराबी या आढ़तियों को लाभ ?

भाटापारा।   राष्ट्रीय कृषि बाजार से जुड़ने के बाद कृषि उपज मंडी में बाहर के कारोबारी फिलहाल सिर्फ चना की नीलामी में भाग ले सकेंगे  क्योकि चना ही नये सिस्टम में है । शेष  जिंसों को इस नई व्यवस्था से बाहर रखा गया है। आने वाले कुछ दिनों में इन्हें भी शामिल  किए जाने का प्रयास चल रहा है। 
बड़े जोर-शोर  के साथ शुरू  की गई राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना को लेकर किसानों में बेहद ख़ुशी थी कि बाहर के व्यापारियों की बोली और खरीदी के बाद प्रतिस्पर्धा के बाद उन्हे अपनी कृषि उपज की अच्छी कीमत मिलेगी लेकिन इस ख़ुशी  पर पानी फिरता नजर आ रहा क्योकि ई-ऑक्शन  में केवल चना को ही लिया गया है । शेष  जिंस इस नई व्यवस्था से बाहर हैं । मंडी प्रबंधन इसे लेकर उठ रहे सवालों के जवाब में यह तर्क दे रहा है कि कुछ तकनीकी व्यवस्था बाकि रह गई हैं। इसे पूरा करने प्रयास चल रहे है। तकनीकी व्यवस्था पूरी हो जाने के बाद मंडी प्रागंण में आने वाले हर कृषि उपज को इसके दायरें में लाया जाएगा । याने किसानों को इस नई  व्यवस्था का पूरा लाभ उठाने के लिए अभी और इंतजार करना होगा । सबसे ज्यादा इंतजार धान उत्पादक किसानों के बीच है क्योकि जिले में सबसे ज्यादा रकबा में धान की ही खेती होती है और मंडी प्रागंण में इसकी ही आवक पूरे साल रहती है । 

मंडी बोर्ड का लाइसेंस जरूरी 
ई-आॅक्षन में नीलामी बोलने वाले बाहर के व्यापारियों और व्यापारिक संस्थानों को राज्य मंडी बोर्ड के राजधानी स्थित मुख्यालय से लाइसेंस लेना होगा । यह लाइसेंस नंबर संबंधित मंडी प्रबंधन को भेजा जाएगा तब ही वे ई-आॅक्षन में बोली बोल सकेगें । वैसे अभी तक एक ही व्यापारी ने ई-ऑक्शन  में हिस्सा लेने का लाइसेंस लिया है। 

ऐसी है नई व्यवस्था 
ई-ऑक्शन  में भाग लेने वाली संस्थान को अपना एक प्रतिनिधि इस पूरी प्रक्रिया को निपटाने के लिए मंडी में भेजना होगा । ऐसा इसलिए क्योकि यही प्रतिनिधि क्वालिटी देखेगा,नीलामी के बाद बोरो में भराई,तौलाई और परिवहन व्यवस्था की जिम्मेदारी संभालेगा । सबसे अंत में संबंधित किसान को भुगतान की व्यवस्था भी सुनिश्चित  करेगा । 

ई-आॅक्षन में अभी केवल चना को ही शामिल  किया गया है। शेष  कृषि उपज के लिए प्रक्रिया जारी है। बाहर के कारोबारियों को मंडी बोर्ड से लाइसेंस लेना होगा । 
आर.एस.तिवारी,सचिव,कृषि उपज मंडी भाटापारा 

हाथियों से आतंकित उग्र आंदोलन करेंगे

महासमुंद :  छत्तीसगढ़ के महासमुंद के सिरपुर क्षेत्र के 30 गांव के लोगों ने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है. सिरपुर क्षेत्र के गांव के लोगों ने 7 दिन के भीतर सोलर चलित फेंसिग लगाने, फसल नुकसान का मुआवजा देने तथा हाथियों को भगाने की मांग को लेकर 25 अक्टूबर से धरना, प्रदर्शन तथा उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है. इस संबंध में इन 30 गांव के लोगों तथा किसानों ने जिला कलेक्टर को गुरुवार को ज्ञापन सौंपा हैं.

गांव वालों का कहना है कि पिछले तीन माह से वे हाथियों के आतंक से परेशान हैं. हाथियों के हमलें से इस साल अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी है तथा 1 युवक बुरी तरह से घायल हुआ है. गांव वालों का घर से निकला दूभर हो गया है. हाथियों ने इन गांवों में कई-कई एकड़ की फसल बर्बाद कर दी है. जिससे कर्ज के बोझ तले दबे किसानों को चिंता सता रही है कि किस तरह से वे कर्ज चुकता करेंगे.

गांव वालों की मांग है कि प्रति एकड़ की क्षति के लिये धान की गणना 15 क्विंटल के हिसाब से की जाये.

महासमुंद के सिरपुर क्षेत्र के पासिद, मुड़ियाडीह, चुहरी, मरौद, के़ड़ियाडीह, रायकेरा, सुकुलबाय, तालाझर, केसलडीह, खिरसाली, बंदोरा, सेनकपाट, खड़सा, मोहकम, लहंगर, छपोराडीह, सिरपुर, खमतराई, मुड़ियाडीह, अर्जुनी, अवरई, बलदाकछार, बरबसपुर, खैरा, अमलोर, नांदबारु, छतालडबरा, खड़रुपार, अचानकपुर व गुड़रुडीह गांव हाथियों के आतंक से प्रभावित है.(सीजी खबर से ) 

पेंशन घोटाला: 40 सरपंच, सचिव लपेटे में

 

बिलासपुर : छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के मस्तूरी जनपद पंचायत में करीब 1.20 करोड़ का पेंशन घोटाला हुआ है. जिसकी जांच रिपोर्ट शुक्रवार तक जिला पंचायत के सीईओ को सौंपी जानी है. सूत्रों के अनुसार प्रथम दृष्टया जांच में पूर्व महिला सीईओ, 40 सरपंच, 40 सचिव व जनपद पंचायत की 1 महिला कर्मचारी लपेटे में आ रहे हैं.

मामले की जांच के लिये बिलासपुर के कलेक्टर ने 177 कर्मचारियों की टीमें बनाकर उन्हें घर-घर जाकर जानकारी प्राप्त करने का आदेश दिया था. जिसकी रिपोर्ट सीधे जिला पंचायत सीईओ को दी जायेगी.

प्रारंभिक तौर पर इस गड़बड़ी में पूर्व सीईओ शिल्पा अग्रवाल के अलावा 40 सरपंच और 40 पंचायत सचिव के नाम सामने आ रहे हैं. वहीं मस्तूरी जनपद पंचायत में कार्यरत गायत्री वाणी गुप्ता की भूमिका भी संदिग्ध है.

रिकवरी तथा एफआईआर की तैयारी है हालांकि पूरी रिपोर्ट आ जाने के बाद ही स्पष्ट होगा कि गड़बड़ी में किस-किस का और कितना हाथ है. उसी के अनुसार आगे कार्यवाही की जायेगी.

उल्लेखनीय है कि बिलासपुर के मस्तूरी जनपद पंचायत को एरियर्स राशि के रूप में अप्रैल 2014 से मार्च 2015 तक 1 करोड़ 20 लाख रुपये का आवंटन किया गया था. यह राशि सीधे जनपद पंचायत के खाते में जमा की गई.

इसके बाद इसे ग्राम पंचायतवार संबंधित हितग्राहियों के खाते में जमा करना था, लेकिन यहां की शाखा प्रभारी व पूर्व सीईओ शिल्पा अग्रवाल ने सीधे सरपंचों को चेक थमा दिया था. जिससे एरियर्स की राशि संबंधित हितग्राहियों के खाते में न जाकर सरपंचों की जेब में चली गई.(सीजी खबर से )

शासन की नीति से खफा मिलर्स ,कलेक्टर को सौपा ज्ञापन

बेमेतरा  जिले के मिलर्स  ने राज्य शासन के मिलर्स नीति के विरोध में कलेक्टोरेट पहुँचकर शासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए  कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।  मिलर्स ने मांगें  नही माने जाने पर 10 नवम्बर से अनिश्चितकालीन हड़ताल में जाने की चेतावनी दी है। 

छत्तीसगढ़: शव को बनाया बंधक

बिलासपुर | बिलासपुर  के किम्स अस्पताल में शव को बंधक बनाने का आरोप परिजनों ने लगाया है. मिली जानकारी के अनुसार जांजगीर के संतोष सूर्यवंशी का बिलासपुर के जरहाभाटा स्थित निजी अस्पताल किम्स में मंगलवार को मौत हो गई थी. मौत मंगलवार शाम को सात बजे हुई थी परन्तु बिल ने देने के कारण शव को मरच्यूरी में रखवा दिया गया. अगले दिन बुधवार दोपहर को परिजनों द्वारा बवाल करने पर शव दिया गया.

वहीं अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि मरीज की मृत्यु के बाद शव को सुरक्षार्थ फ्रीजर में रखवाया गया था. पुलिस को सूचना दी गई थी. शव बंधक बनाए जाने की बात गलत है.

जांजगीर निवासी मोहन सूर्यवंशी का कहना है कि उसका भाई संतोष सूर्यवंशी 21 वर्ष रंग रोगन का कार्य करता था. रविवार को काम करते समय वह सीढ़ी से नीचे गिर गया. जिससे उसके सिर व हाथ में चोटें आईं. उसके दोनों हाथ टूट गए थे. उसे जांजगीर जिला अस्पताल ले जाया गया जहां से उसे सिम्स रिफर कर दिया गया. सिम्स के डाक्टर ने भी उसकी स्थिति को देखते हुए निजी हास्पिटल में इलाज कराने की सलाह दी.

रविवार अक्टूबर की शाम वह अपने भाई को इलाज के लिए किम्स लेकर गया. घायल संतोष सूर्यवंशी का परीक्षण कर प्रबंधन ने इलाज में 60 हजार रुपए खर्च आने की जानकारी दी. उन्होंने घायल भाई को स्वस्थ कर देने का आश्वान दिया. उसने किम्स में भाई को इलाज के लिए भर्ती कर दिया. उसे मंगलवार की शाम 7 बजे संतोष की मृत्यु होने की सूचना दी गई और शव मरच्यूरी में रख दिया गया.

उससे कहा गया कि इलाज में हुए खर्च के बिल का भुगतान कर दे. वह काउंटर में गया तो उसे 97 हजार रुपये का बिल थमा दिया गया. बिल का भुगतान करने पर शव देने की बात कही गई. उसने इतनी राशि का भुगतान कर पाने में असर्मथता जताई. इस पर प्रबंधन ने बिल की राशि भुगतान करने पर शव देने की बात कहते बंधक बना लिया.

बुधवार को मोहन भाई के शव के लिए प्रबंधन के सामने गिड़गिड़ाता रहा किन्तु प्रबंधन भुगतान पर अड़ा रहा. शव बंधक बनाने की खबर पर बड़ी संख्या में उसके रिश्तेदार व दोस्त हास्पिटल पहुंच गये. इन सभी ने अधिक बिल बनाने का आरोप लगाते हुये जमकर हंगामा मचाया. उसके बाद दोपहर में हास्पिटल की ओर से जीरो बिल पर शव परिजन को सौंपा गया.

पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के बाद शाम 5 बजे परिजन को सौंपा. उसके बाद लोग शव लेकर जांजगीर रवाना हुये. हास्पिटल प्रबंधन के अड़ियल रवैये से मृतक का आज अंतिम संस्कार नहीं हो पाया.

(सीजी खबर से ) 

छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय कृषि बाजार व्यवस्था से जुड़ा ,भाटापारा सहित पांच मंडी शामिल

 


रायपुर | : छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय कृषि बाजार व्यवस्था से जुड़ गया है. छत्तीसगढ़ की पांच प्रमुख कृषि उपज मंडी नयापारा, भाटापारा, कवर्धा, राजनांदगांव और कुरूद इसमें शामिल हो गये हैं. इसी के साथ इन मंडियों में बुधवार से ही कृषि उपजों की ई-नीलामी शुरू हो गई. इसका शुभारंभ कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बुधवार शाम नयापारा (राजिम) की कृषि उपज मंडी परिसर में आयोजित समारोह में किया.

बृजमोहन अग्रवाल ने नयापारा कृषि उपज मंडी में शेड निर्माण के लिए दो करोड़ रूपए, मंडी परिसर में रेजा और हमालों के लिए विश्राम गृह बनाने 15 लाख रूपए तथा नयापारा में हाट-बाजार विकसित करने 25 लाख रूपए की मंजूरी दी.

बृजमोहन अग्रवाल ने मंडी परिसर में निर्मित ई-नीलामी हाल का लोकार्पण भी किया. हाल में सर्व सुविधायुक्त लैब ग्रेडिंग कक्ष और ई-नीलामी कक्ष बनाए गए हैं. बृजमोहन अग्रवाल ने ऑनलाईन कर ई-नीलामी प्रक्रिया की शुरूआत की.

कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2020 तक देश के किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य रखा है. इस लक्ष्य को पाने की कार्ययोजना के तहत राष्ट्रीय कृषि बाजार व्यवस्था शुरू की गई है. राष्ट्रीय कृषि बाजार के प्रथम चरण में छत्तीसगढ़ के 14 कृषि उपज मंडियों को शामिल किया गया है. प्रथम चरण में आज प्रदेश की पांच मंडियों में ई-नीलामी शुरू हो गई है.

उन्होंने कहा कि ई-नीलामी से किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलाने में मदद मिलेगी. ई-नीलामी के तहत देश भर के व्यापारी अपनी पसंद के अनुसार कहीं से भी कृषि उत्पादों की खरीदी कर सकते हैं. इससे किसानों को अच्छा मूल्य मिलेगा. व्यापारी भी अपनी जरूरत के अनुरूप कृषि उत्पादों की खरीदी कर सकेंगे. ई-नीलामी से कृषि उत्पादों की विपणन व्यवस्था को विस्तार मिलेगा.

इस योजना के तहत छत्तीसगढ़ के सभी किसानों को आगामी फरवरी माह तक उनकी खेती की जमीनों के स्वास्थ्य कार्ड दिए जाएंगे. इससे किसानों को खेती की जमीन के प्रकार और गुणवत्ता के अनुरूप उचित फसल लेने में मदद मिलेगी. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना हर खेत तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचाने की महत्वाकांक्षी योजना है.

इस योजना के तहत ड्रिप और स्प्रिंकलर प्रणाली को बढ़ावा दिया जा रहा है. किसानों को हर प्रकार की प्राकृतिक आपदा में बीमा सुरक्षा मुहैया कराने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरू की गई है. इस योजना के तहत फसल नुकसान होने पर अधिकतम 15 हजार रूपए तक की बीमा राशि मिलेगी.

छत्तीसगढ़ राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष चंद्रशेखर साहू ने अपने उद्बोधन में केन्द्र सरकार की कृषि नीति और योजनाओं को किसानों के लिए ऐतिहासिक कदम बताया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कृषि बाजार व्यवस्था, वायदा कारोबार का एक विकल्प है. यह व्यवस्था किसानों, व्यापारियों, राईस मिलरों और मंडियों में काम करने वाले रेजा-हमालों के हित में हैं.

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ में किसानों के लिए मंडियों में स्थायी कोष रखने की व्यवस्था की है. अभनपुर विधायक धनेन्द्र साहू ने कहा कि राष्ट्रीय कृषि व्यवस्था के तहत नयापारा कृषि उपज मंडी में ई-नीलामी की प्रक्रिया शुरू होना, नयापारा क्षेत्र के किसानों के लिए बहुत बड़ी सौगात है. इससे किसानों को उनकी उपज का अब अच्छा मूल्य मिलेगा.

(सीजी खबर से ) 

छत्तीसगढ़: एसपी को हाईकोर्ट का नोटिस

बिलासपुर |  छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने जांजगीर-चांपा के पुलिस अधीक्षक को नोटिस जारी किया है. छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने 9 साल तक रेप के मामले में समंस की तामील न करा पाने के कारण जांजगीर-चांपा के पुलिस अधीक्षक को नोटिस जारी किया है.

अदालत ने नोटिस जारी करके पुलिस अधीक्षक से पूछा है कि समंस को तामील करने की ड्यूटी किसकी थी. उसके खिलाफ क्या कार्यवाही की गई है. इस पर तीन माह में शपथ-पत्र जमा करें.

उल्लेखनीय है कि पामगढ़ में 1 जनवरी 2007 को जमीन विवाद में दो पक्षों के बीच मारपीट हो गई थी. विरोद बढ़ता देख एक पक्ष भाग निकला परन्तु उनके साथ आई एक महिला भाग न पाई. जिसके साथ कथित तौर पर पप्पू, बहतरा, कालू, कलीराम, रामकुमार और राजेश साहू ने सामूहिक दुष्कर्म किया.

मामले की रिपोर्ट पामगढ़ थान में दर्ज कराई गई थी. सत्र न्यायालय ने 22 नवंबर 2007 को आरोपियों को दोषमुक्त कर दिया. सत्र न्यायालय के निर्णय के खिलाफ पीड़िता ने साल 2007 में ही छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में अपील की.

हाईकोर्ट ने आरोपियों को नोटिस जारी करके जवाब मांगा परन्तु हर बार पुलिस आरोपियों के न मिलने की बात कहकर वारंट लौटा देती है.

9 वर्ष बाद भी वारंट की तामील न होने पर पीड़िता के वकील ने कहा कि आरोपियों के साथ पुलिस की सांठगांठ है. आरोपी गांव में ही हैं.

(सीजी खबर से )

सरायपाली . बी बी एन 24 न्यूज़ में खबर दिखाए जाने के बाद रेप के आरोपी ने किया आत्मसमर्पण

 खबर का असर सरायपाली 

एक शिक्षिका के साथ सहकर्मी शिक्षक चाकू की नोक पर डराधमका कर लगातार  बलात्कार करने की ख़बर प्रमुखता से दिखाए जाने के बाद आरोपी शमशाद खान ने किया आत्मसमर्पण 

2 माह पुर्व शिक्षिका की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भादवि 376 ए व 506 के तहत दर्ज किया गया  था  तब से था आरोपी फरार था 
   लेकिन  इस खबर  को  बी बी एन 24 न्यूज़ के द्वरा प्रमुखता से जगह दिया गया था जिस पर बसना पुलिस हरकत में आई और खोज बिन सुरु कर दी थी जिस पर आज आरोपी शिक्षक शमशाद खान ने एसडीओपी कार्यालय सरायपाली पंहुचकर अपने आप को  पुलिस के हवाले कर दिया 

नरहरपुर के किसान उठा रहे सीताफल परियोजना से पाॅच गुना लाभ

कांकेर। जिला प्रशासन एवं कृषि विभाग उ.ब. कांकेर के द्वारा ब्लाक नरहरपुर में किसानों को समुह गठन कराकर सीताफल कि तोड़ाई, मार्केटिंग, ग्रेडींग, मशीन के द्वारा सीताफल से गुदा निकालने के बारे में एवं सीताफल के छिल्का के द्वारा वर्मीकम्पोस्ट खाद तैयार करना तथा सीताफल के पत्तियों एवं बीज से जैविक कीटनाशक तैयार करने की विधि का प्रशिक्षण दिया गया है। इस परियोजना से कृषक समुह प्रशिक्षित होकर स्वयं जागरूक होकर सीताफल परियोजना सें जुड़कर कार्य कर रहें है, जिससे कृषक समुह एवं ग्राम के सभी किसानों को बहुत फायदा, लाभ एवं रोजगार कि प्राप्ति हुई है। किसान इस परियोजना से बहुत प्रशन्नित है, और इस कार्य को रूचि से कर रहे है।

Displaying 2.jpg

 

 

 

इस परियोजना के अंर्तगत ग्रामों में कृषक समुह तैयार कर अच्छे किस्म के सीताफलों को रायपुर, दुर्ग, भिलाई में कृषि विभाग कि सहायता सें किसान स्वयं विक्रय कर रहें है, और छोटे फल को ग्राम में हि जों जिला कलेक्टर श्रीमति शम्मी आबिदी एवं उप संचालक कृषि श्री चिरंजीव सरकार द्वारा मशीन दिया गया है उससे सीताफल का गुदा निकाला जा रहा है। इस परियोजना से सीधे लाभ किसानो कों मिल रहा है, बिचैलिये से छुटकारा मिला है और किसानों को पाॅंच गुना लाभ मिल रहा है। वर्ष 2015-16 की सफलताओं को दृष्टिगत रखते हुए वर्ष 2016-17 में इस परियोजना में किसान रूचि दिखाते हुए बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे है। नरहरपुर में जागृति महिला स्व सहायता समुह नावडबरी, माॅ भगवती ग्राम संगठन कोसुमपानी, श्रीराम सीताफल समिति किशनपुरी इन समुहों को तीन सीताफल गुदा निकालने का मशीन स्थापित किया गया है, जिसमें ब्लाक नरहरपुर के सभी जगहों से सीताफल यहा गुदा निकलवाने ला रहे है। सभी समुहो को विभाग द्वारा विक्रय हेतु वाहन, बाॅक्स, कैरेट, सैकेटियर, ग्रेडर, डीप फीजर, तकनिकी उपलब्ध कराया गया है। यह परियोजना नरहरपुर के चयनित ग्रामों में किया जा रहा है तथा इस परियोजना में ग्राम सरपंच, पंच, किसानो एवं समुहो द्वारा सहयोग दिया जा रहा है इस योजना का संचालन नरहरपुर ब्लाक में कृषि विभाग के वरिष्ट कृषि अधिकारी एस.आर. शोरी, ब्लॉक टेक्नालॉजी मैनेजर डॉ दीपक कुमार नाग, ए.टी.एम. सलमान खान कृषक प्रशिक्षण अधिकारी प्रशांत देहारी एवं भुनेश्वर सिन्हा द्वारा किया जा रहा है।

 

कांकेर क्षेत्र में एक महिला सहित दो नक्सलियों ने सरेंडर कर दिया।

कांकेर : आज कांकेर क्षेत्र में एक महिला सहित दो नक्सलियों ने सरेंडर कर दिया। सरेंडर करने वालों में जनमिलिशिया कमांडर सरिता उर्फ़ सोनती शामिल है। वो कई वारदातों में शामिल था। नक्सलियों ने पखांजुर कैंप में सरेंडर किया। 

रेक पाईंट के विरोध मे उतरे परिवहन संघ ,कलेक्टर के नाम सौंपा ज्ञापन


कांकेर। रेक पाईंट के विरोध करने आज हाहालद्दी, चाहचाड़ परिवहन संघ दुर्गूकोंदल परिवहन संघ भानुप्रतापपुर, परलकोट परिवहन संघ पंखाजूर ने कांकेर कलेक्टर के नाम अपर कलेक्टर ज्ञापन सौपा गया। ज्ञापन में बजरंग आयरन इस्पात लिमिटेड के द्वारा हाहालद्दी माईंस से लौह अयस्क का परिवहन रेक पाईंट कुसुमकसा (दल्ली) जिला बालोद में डंप कर रेल से परिवहन करना चाहती है, रेक पाईंट में लौह अयस्क डंप  कर रेल के माध्यम से परिवहन करने पर स्थानीय ट्रक मालिकों को आर्थिक क्षति होगी, ट्रक व्यवसाय से जुड़ने के लिए संघ बनाकर ट्रक खरीदी किया है, कि लौह अयस्क खदान खुलने से परिवहन का कार्य मिलेगा, आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी, लेकिन माईंस में खनन कार्य प्रारंभ होने के बाद प्रबंधन ने हाहालद्दी माईंस के लौह अयस्क को कुसुमकसा में डंप कर रेल के माध्यम से परिवहन करने के निर्णय के बाद से परिवहन संघ के समस्त ट्रक मालिकों व सदस्यों के समक्ष मुसीबत खड़ी हो गई है, पूर्व में जन सुनवाई के दौरान प्रबंधन के द्वारा स्थानीय लोगों को मजदूरी, परिवहन का कार्य देने की बात कही गई थी, रेल्वे के माध्यम से परिवहन करने का एजेंडा नहीं था, फिर भी रेक पाईंट व रेल्वे के माध्यम से परिवहन करने का निर्णय कर माईंस प्रबंधन के द्वारा स्थानीय ट्रक मालिकों की उपेक्षा की जा रही है, जिससे संघ के सभी ट्रक मालिक कर्ज लद जाने के लिए आहत हो गये हैं। हाहालद्दी क्षेत्र छ.ग. के अनुसूचित/अधिसूचित क्षेत्र के अंतर्गत आता है, जहां पर भारत के संविधान के अंतर्गत 5 वीं अनुसूची लागू है, जिसके प्रावधानों के अनुसार तथा अनुसूचित क्षेत्र में पंचायती राज व्यवस्था (पेसा) के अनुसार क्षेत्रीय निवासियों को बिना अनुमति के व्यापार या समागत नहीं किया जा सकता। उपरोक्त प्रावधान क्षेत्रीय निवासियों के संरक्षण हेतु बनाए गए हैं। बजरंग आयरन इस्पात लिमिटेड द्वारा रेल के माध्यम से परिवहन किए जाने पर क्षेत्रीय निवासियों द्वारा परिवहन संघ के अनुसूचित जाति/ जनजाति के सदस्यों को आर्थिक / मानसिक व षारीरिक रूप से क्षति कारित होने की संभावना है। स्थानीय परिवहन संघ के लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए हाहालद्दी माईंस से लौह अयस्क का परिवहन रेक लाईंट में डंप कर रेल्वे के माध्यम से परिवहन न किया जाये, और ट्रको के माध्यम से परिवहन कर संघ दुर्गूकोंदल, भानुप्रतापपुर, पंखाजूर के ट्रक मालिकों को परिवहन कार्य दिया जाये, अन्यथा रेल्वे के माध्यम से लौह अयस्क परिवहन करने पर परिवहन संघ विरोध करने को बाध्य होगी। ज्ञापन सौपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि, व परिवहन संघ के पदाधिकारी मौजूद थे।