देश

OROP सुसाइड: अरविंद केजरीवाल ने की पूर्व सैनिक के परिवार को 1 करोड़ रुपए देने की घोषणा

बुधवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर सैनिकों के लिए वन रैंक वन पेंशन के मामले पर प्रदर्शन कर रहे पूर्व फौजी रामकिशन ग्रेवाल ने सुसाइड कर लिया था।

वन रैंक वन पेंशन को लेकर सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल का उनके भिवानी स्थित गांव में गुरुवार को अंतिम संस्कार किया गया।  हरियाणा में भिवानी जिले के गांव बामला के निवासी सुबेदार रामकिशन ने बुधवार को दिल्ली के जंतर मंतर पर सुसाइड कर लिया था, जिसके बाद से ही सियासत गर्मा गई थी। गुरुवार को अंतिम संस्कार में शामिल होने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई राजनेता पहुंचे। सीएम केजरीवाल ने रामकिशन के परिवार को एक करोड़ रुपए का मदद देने का एलान किया है। वहीं हरियाणा सरकार भी 10 लाख रुपए का मुआवजा और परिवार के एक सदस्‍य को नौकरी देने की घोषणा की है।

अंतिम संस्‍कार में आए केजरीवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरकार वन रैंक वन पेंशन लागू करे। पीएम मोदी ने देश से झूठ बोला है। हमें कल दिल्‍ली में पीड़‍ित परिवार से मिलने नहीं दिया गया इसलिए हम आज उनसे मिले। अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस नेता कमलनाथ, भूपेंद्र सिंह, दीपेंद्र सिंह हूडा, टीएमसी नेता डेरेक ओब्रायन समेत कई नेता मौजूद थे।

टीएमसी के मुख्य प्रवक्ता डेरेक ओब्रायन ने सुबह ही गांव पहुंचकर परिवार वालों से मुलाकात कर ली थी। डेरेक ब्रायन ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि बुधवार को अस्पताल में परिवार से मिलने की कोशिश कर रहे राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल को मिलने दिया जाना चाहिए था।

डेरेक ओब्रायन ने कहा कि कल (बुधवार) को जो भी हुआ उसमें परिवार का दोगुना नुकसान हुआ है। उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों को तो खोया ही, साथ ही उनके साथ मारपीट भी की गई। ऐसा नहीं होना चाहिए था। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने राजनेताओं से इस मामले पर राजनीति ना करने की अपील की है।

बता दें कि दिल्ली के जंतर-मंतर पर सैनिकों के लिए वन रैंक वन पेंशन के मामले पर प्रदर्शन कर रहे पूर्व फौजी रामकिशन ग्रेवाल ने सुसाइड कर लिया था। इसके बाद मामले पर दिनभर सियासी संग्राम चला। परिवार से मिलने अस्पताल पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को मिलने नहीं दिया गया और पुलिस ने तीनों को हिरासत में ले लिया था। हालांकि बाद में तीनों को छोड़ दिया गया।

जासूसी विवाद: पाकिस्तान उच्चायोग के चार अधिकारियों ने छोड़ा भारत

भारत ने पहले पाकिस्तानी उच्चायोग के एक अधिकारी को जासूसी के आरोप में पकड़ने के बाद देश छोड़ देने का आदेश दिया था।

दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के चार अधिकारियों ने बुधवार को भारत छोड़ दिया। डॉन न्यूज ने मंगलवार को खबर प्रकाशित की थी कि पाकिस्तान दिल्ली स्थित उच्चायोग में कार्यरत चार अधिकारियों को वापस बुलाने की सोच रहा है। भारत ने पहले पाकिस्तानी उच्चायोग के एक अधिकारी को जासूसी के आरोप में पकड़ा था और उसके बाद उसे देश छोड़ देने का आदेश दिया गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत की ओर से जासूसी के लिए हाल में निष्कासित पाकिस्तानी उच्चायोग कर्मचारी ने 16 अन्य ‘कर्मचारियों’ के नाम लिए हैं जो कथित तौर पर जासूसी गिरोह में शामिल थे।
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि दिल्ली पुलिस और गुप्तचर एजंसियों की ओर से निष्कासित पाकिस्तानी उच्चायोग के कर्मचारी महमूद अख्तर से की गई साझा पूछताछ में उसने दावा किया कि उच्चायोग के 16 अन्य कर्मचारी सेना और बीएसएफ की तैनाती संबंधी संवेदनशील सूचना व दस्तावेज निकलवाने के लिए जासूसों के संपर्क में हैं। अधिकारी ने कहा कि उसके दावों की अभी जांच की जा रही है और यदि ये सही पाए गए तो पुलिस मामले को आगे बढ़ाने के लिए विदेश मंत्रालय को पत्र लिख सकती है। अपराध शाखा की टीमें राजस्थान में छापेमारी कर रही हैं ताकि उन स्थानीय लोगों को पकड़ा जा सके जो अख्तर को गोपनीय दस्तावेज और सूचना मुहैया करा रहे थे। अख्तर कथित तौर पर जासूसी गिरोह चला रहा था।

सूत्रों ने कहा कि अपराध शाखा की दो टीमें अन्य गिरफ्तार आरोपियों मौलाना रमजान, सुभाष जांगिड़ और शोएब के साथ राजस्थान में हैं ताकि उन अर्द्धसैनिक कर्मियों के बारे में जानकारी हासिल की जा सके जो उन्हें सूचना लीक करने में शामिल हो सकते हैं। अधिकारी के मुताबिक राजस्थान में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। सपा के राज्यसभा सांसद मुनव्वर सलीम के निजी सहायक फरहत खान को पिछले हफ्ते जासूसी गिरोह के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तानी उच्चायोग कर्मचारी अख्तर 26 अक्तूबर को गोपनीय दस्तावेज हासिल करते हुए पकड़ा गया था। अख्तर के साथ राजस्थान के नागौर निवासी रमजान और जांगिड़ भी पकड़े गए थे। अन्य आरोपी शोएब को जोधपुर में हिरासत में लिया गया था और पुलिस उसे दिल्ली लेकर आई थी जहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

मुसलमानों के वोट पाने को मायावती ने अपने करीबी मुस्लिम नेता के बेटे को बनाया चेहरा

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती मुस्लिमों को अपने साथ लेने के लिए नसीमुद्दीन सिद्दीकी के बेटे अफजल सिद्दीकी की मदद ले रही हैं।

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती मुस्लिमों को अपने साथ लेने के लिए पूरा जोर लगा रही हैं। इसके लिए वह पार्टी के मुस्लिम चेहरे नसीमुद्दीन सिद्दीकी के बेटे अफजल सिद्दीकी की मदद ले रही हैं। 28 साल के अफजल पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में बसपा के प्रचार में लगे हुए हैं। वे मुजफ्फरनगर दंगों और शामली व दादरी में भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मारने के मुद्दों के जरिए सत्‍तारूढ़ समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हें। अपनी रैलियों में वे कहते हैं, ”समाजवादियों का वास्‍तविक चेहरा सामने आ गया है। उनके पास मत जाओ। ना भूले हैं ना भूलनें देंगे। आप लोगों को लव जिहाद और गौ हत्‍या के नाम पर पीटा गया। अब एक होने का समय है। यह आपकी मौजूदगी की लड़ाई है।” अफजल चार साल पहले मायावती के साथ हुए थे। 2012 विधानसभा चुनावों में मायावती की रैलियों की जिम्‍मेदारी उनके पास ही थी। हालांकि बसपा को उस समय हार झेलनी पड़ी थी लेकिन अफजल के सांगठनिक कौशल से मायावती काफी प्रभावित हुईं।

नोएडा से लॉ की पढ़ाई करने वाले अफजल इस बार बसपा के मुस्लिमों को साथ लेने के अभियान के मुखिया हैं। उन्‍हें आगरा, अलीगढ़, मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद और बरेली में मुसलमानों को बसपा से जोड़ने का जिम्‍मा दिया गया है। इन छह मंडलों में कुल 140 विधानसभा सीटें हैं। पश्चिमी यूपी के मुस्लिम बहुल इलाकों में कई सीटों पर उनका वोट प्रतिशत 70 तक है। बसपा इसे अपने पाले में लाने पर काम कर रही है। इस बार के चुनावों में बसपा ने 125 मुसलमानों को उम्‍मीदवार बनाया है और इनमें से आधे प्रत्‍याशी पश्चिमी यूपी में हैं। उदाहरण के तौर पर बिजनौर जिले की आठ में छह सीटों पर बसपा ने मुसलमानों को खड़ा किया है। बाकी की दो सीटें आरक्षित हैं।

अफजल सिद्दीकी के रणनीतिकारों का मानना है कि मुसलमानों ने पहले भी मायावती को वोट किया है लेकिन एक बड़ा हिस्‍सा सपा को गया है। बसपा को यह बात पता है कि यूपी के कुल मतों के 40 प्रतिशत मुसलमान और दलित हैं और ये साथ आने पर खेल बदला जा सकता है। रैलियों के दौरान अफजल पूछते हैं, ”बसपा ने 2009 में पांच मुसलमानों को लोकसभा भेजा। 2014 में मुसलमानों का एक भी सांसद नहीं है। क्‍या आप अगले साल विधानसभा में भी एक भी मुस्लिम विधायक नहीं चाहते?” वे साथ ही याद दिलाते हैं कि मायावती के मुख्‍यमंत्री काल के दौरान मदरसा अध्यापकों को हज के पेड लीव मिलती थी जो कि अखिलेश यादव के कार्यकाल के समय हटा ली गई।
चुनावों में अब कुछ ही महीने रह गए हैं। इसलिए अफजल हर रोज प्रत्‍येक मंडल में रैली करते हैं। पिछले सप्‍ताह उन्‍होंने सहारनपुर, बिजनौर, मेरठ और गाजियाबाद में रैली की। अफजल की स्‍कूली पढ़ाई देहरादून में बोर्डिंग स्‍कूल में हुई। इसके बाद नोएडा में कॉलेज की पढ़ाई के दौरान उन्‍होंने मांस निर्यात का काम शुरू कर दिया। यहां उन्‍हें सेना से भी सप्‍लाई कॉन्‍ट्रेक्‍ट मिला। यूपी और हरियाणा में उनका कत्‍लखाना है और हाल ही में उन्‍होंने नोएडा मॉल में दुकान खोली है। अफजल अपने साथ 20 विश्‍वस्‍त लोग रखते हैं। ये सब मिलकर बसपा के लिए सोशल मीडिया पर भी काम करते हैं। अफजल ने 2014 में फतेहपुर सीटर से लोकसभा चुनाव लड़ा था लेकिन उन्‍हें हार झेलनी पड़ी थी।

वन रैंक वन पेंशन की मांग पर बैठे पूर्व सैनिक ने जहर खाकर जान दी, सुसाइड नोट में लिखा- जवानों के लिए प्राण दे रहा हूं

दिल्‍ली में वन रैंक वन पेंशन की मांग को लेकर बैठे एक पूर्व सैनिक के सुसाइड करने की खबर है। मरने वाले सैनिक का नाम रामकिशन ग्रेवाल है।

दिल्‍ली में वन रैंक वन पेंशन की मांग को लेकर बैठे एक पूर्व सैनिक के सुसाइड करने की खबर है। मरने वाले सैनिक का नाम रामकिशन ग्रेवाल है। वह हरियाणा के भिवानी जिले के बामला गांव का रहने वाले थे। बताया जाता है कि ग्रेवाल ने जहर खाकर जान दी। राम किशन हरियाणा सरकार के पंचायत विभाग में भी कार्यरत थे। राम किशन के बेटे ने बताया कि उसके पिता ने घर पर फोन किया और बताया कि वह सुसाइड कर रहे हैं क्‍योंकि सरकार वन रैंक वन पेंशन पर उनकी मांगों को पूरा करने में नाकाम रही है। राम किशन की ओर से मांग पत्र पर कथित तौर पर लिखा गया, ”मैं मेरे देश के लिए, मेरी मातृभूमि के लिए लिए एवं मेरे देश के वीर जवानों के लिए अपने प्राणों को न्‍यौछावर कर रहा हूं।”
इधर, दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल मृतक रामकिशन के परिवार से मिलने के लिए हरियाणा जाएंगे। इस घटना के बाद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। उन्‍होंने ट्वीट किया, ”बहुत दुखद। सैनिक सीमा पर बाहरी दुश्‍मनों से और अंदर अपने अधिकारों केलिए लड़ रहे हैं। पूरे देश को उनके अधिकारों के लिए खड़ा होना चाहिए। सका मतलब प्रधानमंत्री जी झूठ बोल रहे हैं की OROP लागू कर दिया। OROP लागू हो जाता तो राम किशन जी को आत्महत्या क्यों करनी पड़ती? मोदी राज में किसान और जवान दोनो आत्महत्या कर रहे हैं।

सिमी सदस्यों के एनकाउंटर पर बोले CM शिवराज सिंह, कहा- जवानों को बधाई, स्थानीय लोगों ने भी दिया साथ

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि जेल से कैदियों का भाग जाना काफी गंभीर मामला है जिसकी जांच की जाएगी। जांच में सामने आए तथ्यों के आधार पर कार्रवाई भी की जाएगी।

सोमवार तड़के भोपाल की सेंट्रल जेल से फरार हुए सिमी के 8 सदस्यों के एनकाउंटर मामले में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बयान जारी किया है। सीएम शिवराज सिंह ने तुरंत कार्रवाई को लेकर जवानों की तारीफ की, लेकिन साथ ही मामले की जांच की बात भी कही है। उन्होंने कहा कि यह काफी गंभीर मामला है जिसकी जांच की जाएगी। जांच में सामने आए तथ्यों के आधार पर कार्रवाई भी की जाएगी।
शिवराज सिंह ने यह भी कहा कि स्थानीय लोगों ने काफी साथ दिया और लगातार कैदियों की लोकेशन अपडेट मिलती रही। साथी ही उन्होंने जवानों की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “जवानों को उनके काम के लिए बधाई देना चाहता हूं। लेकिन साथ ही बताना चाहता हूं कि हम इसे गंभीरता से ले रहे हैं। जेल से कैदियों का भाग जाना काफी गंभीर मामला है।” मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात की और NIA से इस मामले की जांच की मांग की है, जिसपर गृहमंत्री की अनुमति मिल गई है।
 

पाकिस्तान को ‘करारा जवाब’ देने के लिए बीएसएफ ने 11 दिनों में दागे 5 हजार मोर्टार, चलाईं 35 हजार गोलियां

जम्मू कश्मीर में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा की जा रही 'बदला' लेने की कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब दे रही है।

जम्मू कश्मीर में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा की जा रही ‘बदला’ लेने की कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब दे रही है। इसके लिए पिछले 11 दिनों में बीएसएफ द्वारा 3000 (81 mm) रेंज के मोर्टर शैल जो कि 5 से 6 किलोमीटर की रेंज में टारगेट को हिट करते हैं और 2000 (51 mm) रेंज के मोर्टार दागे गए हैं। ये 900 मीटर की रेंज में हिट करते हैं। इसके अलावा 35 हजार से ज्यादा गोलियां भी चलाई जा चुकी हैं। उनके लिए MMG, LMG और राइफल जैसे छोटे हथियारों का इस्तेमाल किया गया। अधिकारियों की तरफ से बताया गया कि लंबी रेंज के मोर्टार का इस्तेमाल दुश्मन की पोजिशन को नष्ट करने के लिए किया गया था और छोटी रेंज के मोर्टार से आतंकी और उन पाकिस्तानी रेंजर्स को निशाना बनाया गया था जो बॉर्डर से सटी पोस्ट्स से हमला कर रहे थे।
क्रॉस बॉर्डर फायरिंग के ज्यादातर मामले जम्मू सेक्टर में हुए हैं। पाकिस्तनी रेंजर्स अक्सर रात को फायरिंग शुरू करते हैं जिससे भारत में दाखिल हो रहे आतंकियों को कवर मिल सके। पिछले दो हफ्तों में लगभग 60 से ज्यादा बार सीजफायर तोड़ा जा चुका है।। बीएसएफ के (वेस्ट्रन सेक्टर) के एडीजी अरुण कुमार ने बताया कि भारत की तरफ से पाकिस्तानी फायरिंग का बराबर जवाब दिया जा रहा है। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, बॉर्डर के हालात को देखते हुए बीएसएफ के लिए गोलाबारूद की अतिरिक्त इनवेंटरी भेजी गई है। आने वाले वक्त में सर्दी के मौसम में बीएसएफ का काम और कठिन होता जाएगा।

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्ते जम्मू कश्मीर के उरी में हुए आतंकी हमले के बाद से ज्यादा बिगड़ गए। उस हमले में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसके बदले में भारतीय सेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक किया था। स्ट्राइक में पीओके में बने आतंकी कैंप्स को काफी नुकसान पहुंचा था। भारत की उस कार्रवाई से ही पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है और लगातार भारत पर हमले कर रहा है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कैसे मुठभेड़ में मार गिराए गए सिमी के 8 आतंकी

ये सभी आतंकी तड़के सुबह तीन से चार बजे के बीच जेल में एक कॉन्स्टेबल के गले में फंदे डालकर उसकी हत्या कर दी और फिर वहां से फरार हो गए थे।
भोपाल सेन्ट्रल जेल से फरार सिमी के सभी 8 आतंकियों को मुठभेड़ में मार गिराया गया है। जेल से 20 किलोमीटर की दूरी पर ईंटखेड़ी गांव के पास आतंकी मार गिराए गए हैं।  ईंटखेड़ी गांव के प्रत्यक्षदर्शियों ने आईबीसी 24 चैनल को बताया कि उनलोगों ने कुछ लोगों को भागते हुए देखा था। जब उनलोगों ने उसे रोकने की कोशिश की तो आतंकी उन पर रोड़े बरसाने लगे। इसके तुरंत बाद गांववालों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। मौके पर तुरंत पहुंची पुलिस ने थोड़ी ही देर में एनकाउंटर में इन सभी आतंकियों को मार गिराया। ये सभी आतंकी तड़के सुबह तीन से चार बजे के बीच जेल में एक कॉन्स्टेबल के गले में फंदे डालकर उसकी गला रेतकर हत्या कर दी और फिर वहां से फरार हो गए थे। ये सभी आतंकी कोर्ट से आरोपी ठहराए जा चुके थे और कोर्ट में इनका ट्रायल चल रहा था।
दिवाली की रात जेल से फरार होने से पहले आतंकियों ने हेड कांस्टेबल की गला रेतकर हत्या कर दी थी और फिर दीवार फांदकर फरार हो गए थे।  फरार होने वाले आतंकियों में शेख मुजीब, माजिद खालिद, अकील खिलची, जाकिर, सलीख महबूब और अमजद शामिल था। इन आतंकियों का सुराग देने पर 5-5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था।

 

25वीं मन की बात: पीएम मोदी ने जवानों के नाम की दिवाली, कहा- ज़िंदगी के हर मोड़ पर देश के लिए काम करते हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रविवार (30 अक्टूबर) को 25वीं मन की बात है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (30 अक्टूबर) को देशवासियों को दिवाली की शुभकामनाएं देते हुए इस त्यौहार को देश के जवानों के नाम किया। सीमा पर देश की सुरक्षा के लिए तैनात सेना के लिए उन्होंने #Sandesh2Soldiers अभ्यान का भी जिक्र किया। देश पर जान न्यौछावर करने वाले जवानों के लिए उन्होंने कहा, ‘हमारे जवान ज़िंदगी के हर मोड़ पर राष्ट्र भावना से प्रेरित हो करके काम करते रहते हैं।’ इसके साथ ही उन्होंने दीपावली के त्योहार को स्वच्छता अभियान से भी जोड़ा। मोदी ने कहा कि दिवाली का पर्व ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ – अन्धकार से प्रकाश की ओर जाने का एक सन्देश देता है। उन्होंने कहा, ‘समय की माँग है कि सिर्फ़ घर में सफ़ाई नहीं, पूरे परिसर की सफ़ाई, पूरे मोहल्ले की सफ़ाई, पूरे गाँव की सफ़ाई है।’ इस मौक़े पर प्रधानमंत्री मोदी ने बिहार और उत्तर प्रदेश में मनाए जाने वाले छठ पर्व का भी उल्लेख किया। ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने स्वच्छता अभियान के अंतर्गत केरल और हिमाचल प्रदेश की तारीफ की। उन्होंने कहा, इन राज्यों में जिस तरह से ‘खुले में शौच’ को लेकर चलाया जा रहा है वह वास्तव में दूसरे राज्यों के लिए मिसाल है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटले के जन्मदिन और इंदिरा गांधी की हत्या (31 अक्टूबर) का भी उल्लेख किया। इस संबंध में उन्होंने पंजाब के एक युवक जसजीत के सवाल का जवाब दिया। जसजीत ने पीएम से पूछा कि सरदार पटेल के जन्मदिन के दिन यानी 31 अक्टूबर के दिन ही इंदिरा गांधी की हत्या हुई और फिर हजारों सरदारों को मौत के घाट उतार दिया गया। इसे कैसे रोका जा सकता है। इसपर पीएम मोदी ने कहा, ‘इतिहास गवाह है कि चाणक्य के बाद सबको एक करने का काम पटेल ने किया। लेकिन सरदार के जन्मदिन पर ही श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सरदारों पर अत्याचार हुआ जो ठीक नहीं है। हम सबको साथ रहना है। सबका विकास करने के लिए सबको एक साथ आगे बढ़ना होगा।’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मन की बात’ के मुख्य अंश:
मेरे प्यारे देशवासियों, आप सबको दीपावली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।
भारत एक ऐसा देश है कि 365 दिन, देश के किसी-न-किसी कोने में, कोई-न-कोई उत्सव नज़र आता है।
ये दीपावली का पर्व ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ – अन्धकार से प्रकाश की ओर जाने का एक सन्देश देता है।
समय की माँग है कि सिर्फ़ घर में सफ़ाई नहीं, पूरे परिसर की सफ़ाई, पूरे मोहल्ले की सफ़ाई, पूरे गाँव की सफ़ाई।
दीपावली, ये प्रकाश का पर्व, विश्व समुदाय को भी अंधकार से प्रकाश की ओर लाए जाने का एक प्रेरणा उत्सव बन रहा है।
दीपावली का त्योहार भी मनाते हैं और छठ-पूजा की तैयारी भी करते हैं।
सेना के जवान सिर्फ़ सीमा पर नहीं, जीवन के हर मोर्चे पर खड़े हुए पाए जाते हैं। प्राकृतिक आपदा हो, कभी क़ानूनी व्यवस्था के संकट हों, कभी दुश्मनों से भिड़ना हो, कभी ग़लत राह पर चल पड़े नौजवानों को वापिस लाने के लिये साहस दिखाना हो – हमारे जवान ज़िंदगी के हर मोड़ पर राष्ट्र भावना से प्रेरित हो करके काम करते रहते हैं।
मैं हरियाणा प्रदेश का अभिनन्दन करना चाहता हूँ कि उन्होंने एक बीड़ा उठाया है। हरियाणा प्रदेश को Kerosene मुक्त करने का।
समय की माँग है कि हमें अब, देश के ग़रीबों का जो aspirations जगा है, उसको address करना ही पड़ेगा।
मुसीबतों से मुक्ति मिले, उसके लिए हमें एक-के-बाद एक कदम उठाने ही पड़ेंगे।
समाज को बेटे-बेटी के भेद से मुक्त करना ही होगा।
31 अक्टूबर, देश के महापुरुष – भारत की एकता को ही जिन्होंने अपने जीवन का मंत्र बनाया -ऐसे सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म-जयंती का पर्व है।
महापुरुषों को पुण्य स्मरण तो हम करते ही हैं, करना भी चाहिए।

अमित मिश्रा की घातक बॉलिंग, टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 190 रन से हराकर जीती सीरीज

विशाखापट्टनम| 5वें और अंतिम मुकाबले में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 190 रन से हराकर वनडे सीरीज 3-2 से अपने नाम कर लिया। रोहित शर्मा और विराट कोहली की फिफ्टी के बाद अमित मिश्रा ने 5 विकेट लेकर कीवी टीम की हालत खराब कर दी। टीम इंडिया ने पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 6 विकेट पर 269 रन बनाए। जवाब में कीवी टीम 23.1 ओवर में सभी विकेट खोकर 79 रन ही बना सकी।

270 रन के टारगेट का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उसे पहले ही ओवर में उमेश यादव ने पहला झटका दिया। उमेश ने ओपनर मार्टिन गुप्टिल को खाता खोलने से पहले ही बोल्ड कर दिया। इसके कुछ ही देर बार लाथम (19) को बुमराह ने जयंत यादव के हाथों कैच आउट कराया। कीवी टीम संभलती इससे पहले ही कप्तान केन विलियम्सन (27) को अक्षर पटेल ने आउट कर स्कोर 63/3 रन कर दिया।

अमित मिश्रा के आगे ढेर हुए बैट्समैन
रॉस टेलर के 19 रन के निजी स्कोर पर आउट होने के बाद कोई भी कीवी बैट्समैन दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर सका। अमित मिश्रा ने रॉस टेलर, जिमी नीशाम (3), वॉटलिंग (0), कोरी एंडरसन (0), टिम साउदी (0) को आसानी से पेवलियन भेजकर टीम इंडिया को जीत के ट्रैक पर ला दिया। इसके बाद सेंटनर को 4 रन के निजी स्कोर पर अक्षर पटेल ने बोल्ड कर कीवी टीम को समेट दिया।
ऐसी रही टीम इंडिया की पारी: रोहित-विराट की फिफ्टी
रोहित शर्मा (70), विराट कोहली (65) और कप्तान धोनी (41) की पारियों की बदौलत टीम इंडिया ने निर्धारित 50 ओवर्स में 6 विकेट के नुकसान पर 269 रन बनाए। स्लॉग ओवर्स में अक्षर पटेल (24) और केदार जाधव (39*) ने जोरदार बैटिंग की। इन दोनों ने छठे विकेट के लिए 6.3 ओवर्स में 46 रन जोड़ते हुए इंडिया को सम्मानित स्कोर तक पहुंचाया। न्यूजीलैंड के लिए ईश सोढ़ी ने 3 विकेट लिए, जबकि ट्रेंट बोल्ट, जिमी नीशाम और सेंटनर को एक-एक विकेट मिला।
टीम इंडिया ने की जोरदार शुरुआत, पहले विकेट के लिए बने 40 रन
टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी टम इंडिया की शुरुआत अच्छी रही। ओपनर अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा ने 9.2 ओवर में 40 रन जोड़े। इस दौरान नीशाम की बॉल पर रहाणे लाथम के हाथों लपके गए। उन्होंने 39 बॉल पर 3 चौके की मदद से 20 रन की पारी खेली। इसके बाद रोहित शर्मा और विराट कोहली ने दूसरे विकेट के लिए 12.4 ओवर में शानदार 79 रन की पार्टनरशिप करते हुए टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया।
रोहित और विराट की फिफ्टी, धोनी चूके
इस दौरान रोहित शर्मा ने 29वीं हाफ सेंचुरी लगाई। बोल्ट की बॉल पर नीशाम के हाथों लपके जाने वाले रोहित ने 65 बॉल में 5 चौके और 3 छक्के की मदद से 70 रन बनाए। दूसरी ओर विराट कोहली ने 76 बॉल पर 65 रन की पारी खेली। इसमें उन्होंने दो चौके और एक छक्का लगाया। कप्तान धोनी फिर हाफ सेंचुरी चूक गए। उन्होंने 59 बॉल में 4 चौके और एक छक्का की मदद से 41 रन बनाए। मनीष पांडे सोढ़ी की बॉल पर बिना खाता खोले आउट हुए।

हीना सिद्धू ने हिजाब पहनकर खेलने से किया इनकार, एशियन चैंपियनशिप से वापस लिया नाम

ओलंपिक खेल चुकी भारतीय महिला निशानेबाज हीना सिद्धू ने हिजाब पहनने की अनिवार्यता के चलते ईरान में होने वाली एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप से नाम वापस ले लिया है।

ओलंपिक खेल चुकी भारतीय महिला निशानेबाज हीना सिद्धू ने हिजाब पहनने की अनिवार्यता के चलते ईरान में होने वाली एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप से नाम वापस ले लिया है। उन्‍होंने इस बारे में नेशनल राइफल एसोसिएशन को तीन सप्‍ताह पहले खत लिखकर अपने फैसले की जानकारी दी थी। यह प्रतियोगिता ईरान की राजधानी तेहरान में दिसंबर में आयोजित होगी। हीना सिद्धू ने शनिवार को ट्वीट कर इसकी पुष्टि की। इसमें उन्‍होंने बताया कि वे क्रांतिकारी नहीं है ले‍किन व्‍यक्तिगत रूप से उन्‍हें लगता है कि किसी खिलाड़ी के लिए हिजाब पहनना अनिवार्य करना खेल भावना के लिए ठीक नहीं है। उन्‍होंने आगे लिखा कि एक खिलाड़ी होने का उन्‍हें गर्व है क्‍योंकि अलग-अलग संस्‍कृति, पृष्‍ठभूमि, लिंग, विचारधारा और धर्म के लोग बिना किसी पूर्वाग्रह के एक दूसरे से खेलने को आते हैं। सिद्धू ने लिखा, ”खेल मानवीय प्रयासों और प्रदर्शन का प्रतिनिधित्‍व करता है।

गौरतलब है कि ईरान परंपरावादी देश है। वह अपने देश में होने वाली खेल प्रतियोगिताओं में भी अपनी संस्‍कृति थोपता है। इस साल की शुरुआत में ईरान में एक चैस टूर्नामेंट भी हुआ था। इसमें भी महिला खिलाडियों को हिजाब पहनना पड़ा था। इस पर भी काफी सवाल उठे थे। अगले साल भी ईरान में चैस टूर्नामेंट होगा। अमेरिका की नाजी पैकिदजे ने इस प्रतियोगिता ने अपना नाम वापस भी ले लिया। हीना ने दो साल पहले भी इसी वजह से एक चैंपियनशिप से अपना नाम वापस ले लिया था। हीना ने इस साल रियो ओलंपिक में भी हिस्‍सा लिया था। इसमें वह 10 मीटर एयर पिस्‍टल प्रतियोगिता में 14वें नंबर रहीं थी। इससे पहले साल 2013 में उन्‍होंने वर्ल्‍ड कप में गोल्‍ड मेडल जीता था।

पाकिस्तान ने कहा- भारत को मिली एनएसजी की सदस्यता तो शांति खतरे में पड़ जाएगी

पाकिस्तान काफी समय से कहता रहा है कि भारत के तेजी से विस्तारित होते सैन्य परमाणु कार्यक्रम ने क्षेत्र और इसके आगे शांति एवं स्थिरता को एक गंभीर खतरा पैदा किया है।

पाकिस्तान ने शनिवार को कहा कि अगर भारत को न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप(ग्रुप) की सदस्यता मिलती है तो इसका असर दक्षिण एशिया की सुरक्षा पर पड़ेगा। सात ही कहा कि भारत का मिलिट्री न्यूक्लियर प्रोग्राम शांति के लिए खतरा है और इसे एनएसजी ग्रुप में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने कहा, ‘2008 की एनएसजी छूट ने भारत को परमाणु हथियार बनाने में मदद की है और इसके सैन्य परमाणु कार्यक्रम को बढ़ाया है। इससे ना केवल विश्व परमाणु अप्रसार अभियान की विश्वसनीयता पर असर पड़ा है, बल्कि इसके प्रभाव को भी कम किया है। इसके साथ ही इसने दक्षिण एशिया में रणनीतिक संतुलन पर नकारात्म रूप से प्रभावित किया है।’ जकारिया ने कहा कि पाकिस्तान काफी समय से कहता रहा है कि भारत के तेजी से विस्तारित होते सैन्य परमाणु कार्यक्रम ने क्षेत्र और इसके आगे शांति एवं स्थिरता को एक गंभीर खतरा पैदा किया है।

सीमापार से हो रही गोलीबारी के बीच नेवी करेगी मेगा युद्धाभ्यास, अगले सप्ताह अरब सागर में उतरेंगे 40 युद्धपोत

सूत्रों ने कहा कि जनरल शरीफ नवंबर के आखिर तक यानी अपनी रिटायरमेंट तक भारत-पाक सीमा पर तनाव बरकरार रखना चाहता है।

भारत-पाकिस्तान सीमा पर रोज हो रही सीमापार से गोलीबारी और सीजफायर उल्लंघन के मद्देनजर भारतीय नौसेना ने अगले सप्ताह से अरब सागर में मेगा युद्धाभ्यास की रणनीति बनाई है। माना जा रहा है कि भारतीय सुरक्षा एजेंसियां किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहे, इसके लिए यह मेगा ड्रिल आयोजित किया जा रहा है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, भारतीय वायु सेना और आर्मी को पहले से ही अलर्ट पर रखा गया है और उसे किसी भी तरह की समस्या से निपटने के लिए उच्च स्तर पर तैयार रहने को कहा गया है। अब नौ सेना को भी ऐक्शन में आने को कहा गया है। नेवी की पश्चिमी लहर यानी वेस्टर्न वेभ, इसी सिलसिले में अरब सागर में युद्धाभ्यास करेगी।
रक्षा सूत्रों ने बताया कि 40 से अधिक युद्धपोत, पनडुब्बी, समुद्री लड़ाकू जेट विमान, गश्ती विमान और ड्रोन गहन युद्धाभ्यास के लिए पश्चिमी समुद्र तट पर एकत्र होने शुरू हो गए हैं। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही रक्षा मंत्रालय ने तीन रक्षा उप प्रमुखों को भी आपातकालीन आर्थिक शक्तियां दी थीं और एक प्रॉक्योरमेंट कमेटी बनाई थी। इनमें लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत, एयर मार्शल बी एस धानोआ और वाइस एडमिरल के बी सिंह शामिल हैं।

सपा की आपसी कलह में अखिलेश यादव चमके, मुलायम से भी ज्यादा लोकप्रिय हुए

सर्वे में वोटरों ने अखिलेश यादव को मुलायम सिंह यादव से बेहतर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार करार दिया है।

समाजवादी पार्टी की अंदरुनी लड़ाई में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के व्यक्तित्व में और निखार आया है। उन्होंने अपने पिता मुलायम सिंह यादव को भी लोकप्रियता के मामले में काफी पीछे छोड़ दिया है। मतदाताओं के बीच अखिलेश की लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। एक सर्वेक्षण एजेंसी ने उत्तर प्रदेश में एक महीने में दो सर्वे किए, जिसमें सामने आया कि अखिलेश यादव की लोकप्रियता बढ़ी है। सर्वे में वोटरों ने अखिलेश यादव को मुलायम सिंह यादव से बेहतर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार करार दिया है।
न्यूज वेबसाइट हफिंग्टन पोस्ट के लिए सी वोटर द्वारा सितंबर और अक्टूबर महीने में सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 12,221 लोगों के बीच यह सर्वेक्षण कराया गया। खास बात यह है कि इन सर्वेक्षणों के दौरान सपा के आधार वोट बैंक यादव और मुसलमान का भी खास तौर पर ध्यान रखा गया था। सर्वेक्षण में जब पूछा गया था कि अखिलेश और शिवपाल- दोनों में से कौन ज्यादा लोकप्रिय हैं तो इस बार 83 फीसद लोगों ने अखिलेश का नाम लिया। पिछली बार 77 फीसद लोगों ने ऐसा कहा था। शिवपाल का नाम पिछली बार 6.9 जबकि इस बार 6.1 फीसद लोगों ने लिया।

इसी तरह, पिता मुलायम की तुलना में भी अखिलेश अधिक लोकप्रिय नजर आते हैं। दोनों की लोकप्रियता की तुलना वाले सवाल में भी अखिलेश को इस बार 76 जबकि पिछले महीने 67 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया। मुलायम के प्रति पिछली दफा 19 जबकि इस दफा 15 प्रतिशत लोगों ने पसंदगी जताई।
अखिलेश सपा के पारंपरिक वोटरों की सीमा भी लांघते दिख रहे हैं। मुलायम से तुलना की बात रखे जाने पर भी 55 साल से ज्यादा उम्र वाले 70 फीसद लोग अखिलेश को पसंद करते हैं। जिनलोगों के बीच सर्वेक्षण किया गया, उनमें से 68 फीसद लोगों का मानना है कि अखिलेश पार्टी को गुंडा छवि से बाहर निकालने की कोशिश कर रहे हैं। 63.2 प्रतिशत लोगों का यह भी मानना है कि अखिलेश को उनलोगों को पार्टी में शामिल नहीं करने देना चाहिए जो आपराधिक छवि के हैं।

 

कश्मीर में एक दिन में दूसरा जवान शहीद, सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से भारत का सातवां नुकसान

इससे पहले पाकिस्तानी सेना की फायरिंग में एक बीएसएफ जवान गुरुवार सुबह शहीद हो गया था।

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को एक और जवान शहीद हो गया। बीएसएफ का यह जवान तंगधार सेक्टर में आतंकियों की घुसपैठ को नाकाम करने की कोशिश कर रहा था। तबी गोली लगने से यह शहीद हो गए। एक अन्य जवान घायल हो गया। सेना का ऑपरेशन जारी है। इससे पहले गुरुवार सुबह पाकिस्तान सेना की फायरिंग बीएसएफ का भी एक जवान शहीद हो गया था। पाक सेना ने कश्‍मीर के अब्‍दुल्लियां क्षेत्र में सीजफायर का उल्‍लंघन कर फायरिंग की थी। इसमें बीएसएफ का हेड कांस्‍टेबल जीतेंद्र कुमार शहीद हो गया था। इनके साथ ही गोलीबारी में 6 स्‍थानीय लोग भी घायल हो गए थे। जिसका कड़ा जवाब देते हुए बीएसएफ ने अरनिया और आरएस पुरा सेक्टर में जवाबी फायरिंग में पाक रेंजर्स के एक जवान को मार गिराया है। वहीं एक अन्य जवान फायरिंग में घायल हो गया था। बता दें, 29 सिंतबर को भारतीय सेना द्वारा एलओसी पारकर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किए जाने के बाद अब तक भारत के सात जवान शहीद हो चुके हैं।

भारत ने इससे पहले 25-26 अक्तूबर को चापरार और हरपाल सेक्टरों में कामकाजी सीमा पर तथा भीमबेर सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष-विराम का उल्लंघन होने पर विरोध दर्ज कराया गया। भारत ने मंगलवार को कहा था कि पाकिस्तान सेना ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में मोर्टार और छोटे हथियारों से भारतीय सेना की चौकियों पर निशाना साधा था और संघर्ष-विराम का उल्लंघन किया था जिसके बाद सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। गत 18 सितंबर को उरी आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमलों के बाद से पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम उल्लंघन के 42 मामले सामने आये हैं। बता दें, भारतीय सेना ने 29 सितंबर को एलओसी पारकर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया था।
भारतीय सेना के डीजीएमओ ले. जनरल रणबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी दी थी। सिंह ने कहा था कि भारतीय सेना ने पीओके में कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया है। हालांकि, पाकिस्तान ने भारतीय सेना के इस दावे को खारिज किया था। पाकिस्तान ने कहा था कि सीमा पर दोनों पक्षों में फायरिंग हुई थी, जिसमें पाकिस्तानी सेना के दो जवान मारे गए थे।

साइरस मिस्त्री को हटाने के बाद टाटा को शेयर बाजार में दो दिन में हुआ 19,400 करोड़ रुपये का घाटा

साइरस मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटाए जाने की खबर आने के बाद टाटा की सभी प्रमुख कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई है।

सोमवार (24 अक्टूबर) को टाटा समूह के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने समूह के चेयरमैन ने साइरस मिस्त्री को पद से हटाने का फैसला लिया। कारोबार जगत के साथ ही शेयर बाजार भी इस खबर से हैरान रह गया। नतीजा ये हुआ कि टाटा समूह के मार्केट वैल्यू में 19,400 करोड़ रुपये की कमी आई है। पिछले दो दिनों से शेयर बाजार में टाटा समूह की सभी प्रमुख कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखी गई। 48 वर्षीय मिस्त्री को साल 2012 में समूह का चेयरमैन बनाया गया था।  समूह के नौ सदस्‍यीय बोर्ड में से छह ने मिस्‍त्री को हटाने के पक्ष में वोट डाला। दो लोगों ने खुद को इससे दूर रखा। नौवें सदस्‍य खुद मिस्‍त्री थे जो इस प्रकिया में नहीं शामिल नहीं हुए।
टाटा समूह की सबसे ज्यादा मार्केट वैल्यू वाली कंपनी टीसीएस के शेयर में पिछले दो दिनों में 1.3 प्रतिशत की गिरावट आई है। टाटा को दो दिनों में केवल टीएसएस के शेयरों में 6059 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वहीं पिछले दो दिनों में टाटा मोटर्स (डीवीआर के शेयर समेत) के बाजार भाव में 9610 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। मिस्त्री को हटाए जाने के बाद के दो दिनों में बाजार भाव के हिसाब से टाटा स्टील (2640 करोड़ रुपये) टाइटन (244 करोड़ रुपये) और टाटा पावर (811 करोड़ रुपये) भी घाटे में रहे। पिछले दो दिनों में शेयर बाजार में 1.3 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन बनाए गए हैं। रतन टाटा ने मंगलवार (25 अक्टूबर) को समूह के सभी सीआईओ से कहा कि उन्हें नेतृत्व में परिवर्तन से चिंतित होने की जरूरत नहीं है। रतन टाटा ने कहा कि सीईओ को अपने कारोबार और कंपनी को बाजार में अगुआ बनाने पर ध्यान देना चाहिए। मंगलवार को ही टाटा संस ने जगुआर लैंड रोवर के सीईओ राल्फ स्पेथ और टीसीएस के सीईओ एन चंद्रशेखरन को समूह का एडिशनल डायेरक्टर बनाया।

मिस्त्री ने कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को भेजे ईमेल में कहा कि उन्हें बचाव का मौका नहीं दिया गया और उन्हें पद से हटाने के दौरान निर्धारित प्रक्रिया का भी पालन नहीं किया गया। मिस्त्री ने अपने ईमेल में कहा कि उन्हें पद संभालने के बाद आजादी से काम करने का मौका नहीं दिया गया जबकि उनसे इसका वादा किया गया था। मिस्त्री के अनुसार उनके कारोबार का तरीका रतन टाटा से काफी अलग था जो कोरस और जगुआर जैसी विदेशी कंपनियां खरीदने पर अरबों डॉलर खर्च करते थे। साइरस मिस्त्री टाटा समूह के चेयरमैन बनने वाले ऐसे दूसरे सदस्य थे जो टाटा परिवार से नहीं थे। उनसे पहले टाटा खानदान से बाहर के नौरोजी सकलतवाला 1932 में कंपनी के प्रमुख रहे थे।