बड़ी खबर

15 वें वित्त आयोग की महत्वपूर्ण बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा : छत्तीसगढ़ में है विकास की व्यापक संभावनाएं, विकास का लंबा सफर तय करना है

रायपुर, 25 जुलाई 2019 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष  एन.के. सिंह और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उपस्थिति में आज अटल नगर, नवा रायपुर, मंत्रालय में छत्तीसगढ़ शासन के मंत्री परिषद के सदस्यों, वित्त आयोग के सदस्यों तथा राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक आयोजित हुई।

 बैठक में सबसे पहले छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री  बघेल ने वित्त आयोग का स्वागत किया और कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य में विकास की व्यापक संभावनाओं के साथ विशिष्ठ चुनौतियां है। संभावनाओं का दोहन और चुनौतियों का सामना करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य को विकास का लंबा सफर तय करना शेष है। उन्होंने राज्य के विकास के लिए गए महत्वपूर्ण निर्णयों, कार्यक्रमों और कार्यो की जानकारी दी और आयोग कोे छत्तीसगढ़ के विकास और यहां के नागरिकों के हित में कार्य करने की दृष्टि से अनेक प्रस्ताव दिए और आयोग से इस संबंध में सहयोग देने का आग्रह किया। उन्होंने छत्तीसगढ़ में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और कुपोषण के लिए वित्त आयोग से विशेष रूप से अनुरोध किया।
 बैठक में राज्य के मानव विकास सूचकांक, पर्यावरण सरंक्षण, वामपंथी उग्रवाद, क्षेत्रीय असंतुलन, वन क्षेत्रों में विकास और यहां की चुनौतियों, समस्याओं और पर विस्तार से चर्चा की गयी और पॉवरपाइंट प्रदर्शन के माध्यम से भी जानकारी दी गयी। आयोग के अध्यक्ष श्री एन.के. सिंह ने बैठक के अंत में छत्तीसगढ़ की परिस्थितियों के साथ यहां की नक्सल एवं वन क्षेत्रों की विशिष्ट समस्याओं को देखते हुए मुख्यमंत्री एवं विचार-विमर्श के दौरान प्राप्त प्रस्तावों एवं सुझावों पर सहानभूतिपूर्वक विचार करने की बात कही।
मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य के 27 जिलों में से 14 जिले उग्र वामपंथ से प्रभावित है। इन क्षेत्रों में कानून व्यवस्था बनाए रखने के साथ विकास योजनाओं एवं अधोसंरचना निर्माण की लागत अधिक होती है तथा समय सीमा में वृद्धि हो जाती है। खनिज उत्खनन की औद्योगिक परियोजनाओं से जनजातीय क्षेत्रों में विस्थापन एवं विकास में उनकी समुचित भागीदारी न होने का भी खतरा है। राज्य सरकार इसके लिए अतिरिक्त वित्तीय संसाधन की व्यवस्था करने सहित संतुलित औद्योगिक विकास की हिमायती है।
भारत सरकार द्वारा किसानों की आय दुगुनी का प्रयास है। धान की खेती को लाभदायक बनाने दो बड़े फैसले लिए गए हैं। धान के समर्थन मूल्य के अतिरिक्त प्रति क्विंटल 750 रूपए की दर से प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। वर्ष 2018-19 में राज्य सरकार को 6 हजार 21 करोड़ की अतिरिक्त राशि का व्यय भार उठाना पड़ा है। राज्य के लगभग 17 लाख 50 हजार किसानों का ऋण माफी किया गया है। इससे लगभग 9 हजार करोड़ का अतिरिक्त व्यय भार आया है।
मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के महत्वकांक्षी कार्यक्रम ’छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी, नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी, ऐला बचाना हे संगवारी’ की जानकारी दी और बताया कि इसके तहत जहां नदी-नालों के माध्यम से जल संचयन और सवर्धन को बढ़ावा दिया जा रहा है वहीं गोठानों के माध्यम से पशुधन के संवर्धन करने, कृषि एवं पशु कचरों एवं गोबर आदि के माध्यम से कम्पोस्ट खाद बनाने, बाड़ी के माध्यम से सब्जी एवं फल आदि पौष्टिक कृषि उत्पाद को बढ़ावा देने का प्रयास है।
 खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कमजोर परिवारों के साथ-साथ सामान्य परिवारों को भी प्रति राशन कार्ड 35 किलो चावल दिया जा रहा है। युनिर्वसल पीडीएस की इस योजना पर 22 सौ करोड़ का अतिरिक्त वार्षिक व्यय संभावित है। राज्य में 400 यूनिट तक बिजली बिल आधा किया गया है। इस पर लगभग 8 सौ करोड़ अतिरिक्त व्यय अनुमानित है।
राज्य में जी.एस.टी. के कारण वर्ष 2022 तक 17 हजार 255 करोड़ की राजस्व हानि का अनुमान है। केन्द्र द्वारा राज्य को दिया जाने वाला जी.एस.टी. क्षतिपूर्ति अनुदान कम है और यह क्षतिपूर्ति वर्ष 2022 में बंद हो जाएगी। मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया है कि वर्ष 2022 के बाद आगामी पांच वर्षो तक भी राज्य को क्षतिपूर्ति की राशि प्रदान की जाये।
मुख्यमंत्री ने बताया कि 14वें वित्त आयोग ने केंद्रीय करों में राज्यों के हिस्से को बढ़ाकर 42 प्रतिशत किया था, लेकिन केन्द्रीय करोें पर लिए जाने वाले उपकर एवं अधिभार तथा करों पर दी जाने वाली कटौती एवं छूट के कारण अब तक सही मायने में 42 प्रतिशत राशि राज्यों को प्राप्त नहीं हो सकी है। उन्होंने प्रस्ताव दिया कि केन्द्रीय करों में राज्यों के हिस्से को 42 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत किया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि खनिजों के दोहन से पूर्व राज्य को वन क्षतिपूर्ति, भूमि व्यपवर्तन तथा अधोसंरचना निर्माण आदि पर काफी व्यय भार वहन करना पड़ता है। खनन क्षेत्र से होने वाले अपर्याप्त हिस्सा ही राज्यों को प्राप्त होता है। उन्होंने सुझाव दिया कि अनुपातिक हस्तांतरण में 10 प्रतिशत भार के साथ नया मापदण्ड खनन जी.एस.व्ही.ए. (GSVA) को शामिल किया जाए।
मुख्यमंत्री ने बताया कि श्री सुमित बोस की अध्यक्षता में गठित विशेषज्ञ समूह ने केन्द्र तथा राज्यों की सभी योजनाओं के लिए एस.ई.सी.सी. के आंकड़ों का उपयोग किए जाने की अनुशंसा की थी। मुख्यमंत्री ने प्रस्ताव दिया कि एस.ई.सी.सी के वंचित ग्रामीण परिवार संख्या को 10 प्रतिशत भार के साथ एक नया मापदंड शामिल किया जाए।
14वें वित्त आयोग द्वारा निर्धारित मापदण्डों में आय विषमता को शामिल किया गया था। वर्ष 2011 की जनगणना अनुसार 40 प्रतिशत गरीबी रेखा से नीचे की आबादी वाले छत्तीसगढ़ राज्य के लिए यह उपयुक्त मापदंड नहीं है। उन्होंने प्रस्ताव दिया कि आय विषमता के भार को 35 प्रतिशत करते हुए पूरक मापदंड के तौर पर एस.ई.सी.सी. के वंचित ग्रामीण परिवार संख्या के मापदंड को 15 प्रतिशत भार के साथ स्थान दिया जाए। उन्होंने इसी तरह क्षेत्रफल मापदण्ड में 2 प्रतिशत के समरूप फ्लोर के स्थान पर चार अलग फ्लोर मान - आधा, एक, डेढ़ एवं दो प्रतिशत रखने का प्रस्ताव दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के गठन से अब तक राज्य द्वारा असाधारण वित्तीय अनुशासन बनाए रखा है। 14वें केन्द्रीय वित्त आयोग द्वारा राजस्व घाटा वाले राज्यों को राजस्व घाटा अनुदान दिए जाने की अनुशंसा की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये बातें परस्पर विरोधी होने के कारण इसे आगे जारी रखना कतई उचित नहीं है। उन्होंने अनुरोध किया कि राजस्व घाटा (Revenue Deficit) अनुदान के स्थान पर स्वास्थ्य, शिक्षा तथा अद्योसंरचना विकास के लिए समानता अनुदान (Equalization Grant) दिया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आयोग को राज्य-विशेष अनुदानों के लिए एक लाख 76 हजार 2 सौ 15 करोड़ रूपए के प्रस्ताव प्रस्तुत किए है। छत्तीसगढ़ के गठन से अब तक राज्य को केन्द्र से कोई विशेष आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं हुई है। उन्होंने वित्त आयोग से इन प्रस्तावों पर तथा केन्द्र एवं राज्यों के मध्य राजस्व वितरण के लिए दिए गए अन्य सुझावों पर गंभीरतापूर्वक विचार करने का आग्रह किया।
बैठक में राज्य मंत्रीमण्डल के सदस्य सर्व श्री ताम्रध्वज साहू, मोहम्मद अकबर, डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, डॉ. शिवकुमार डहरिया, अनिला भेड़िया, उमेश पटेल, अमरजीत भगत, वित्त आयोग के सदस्यगण सर्व श्री अजय नारायण झा, डॉ. अनूप सिंह, डॉ. अशोक लाहिरी, श्री रमेश चंद, वित्त आयोग के सचिव श्री अरविंद मेहता, राज्य शासन के मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव वन श्री सी.के. खेतान, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री के.डी.पी. राव सहित राज्य शासन के प्रमुख अधिकारीगण उपस्थित थे। इस अवसर पर बस्तर क्षेत्र में नरवा,गरूवा, घुरवा, बाड़ी पर आधारित ऑडियों-वीडियों का प्रदर्शन किया गया और विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने पॉवर पाइंट के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने योजना आयोग के अध्यक्ष एवं सदस्यों को प्रतीक चिन्ह भी भेंट किया।

15वें वित्त आयोग के चेयरमैन एन.के. सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात की

रायपुर, 25 जुलाई २०१९/15वें वित्त आयोग के चेयरमैन श्री एन.के. सिंह ने आज यहां, नवा रायपुर, अटल नगर मंत्रालय में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से मुलाकात की। इस अवसर पर राज्य शासन के मंत्री सर्वश्री ताम्रध्वज साहू, मोहम्मद अकबर, डॉ. प्रेम साय सिंह, डॉ. शिव डहरिया,  अनिला भेंड़िया, उमेश पटेल, अमरजीत सिंह भगत, आयोग के सदस्यगण सर्वश्री अजय नारायण झा, डॉ. अनूप सिंह, डॉ. अशोक लाहिड़ी , रमेश चंद, सचिव श्री अरविंद मेहता सहित प्रदेश के मुख्य सचिव  सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव  अमिताभ जैन, मुख्यमंत्री के सचिव   गौरव द्विवेदी भी उपस्थित थे।
    उल्लेखनीय है कि वित्त आयोग छत्तीसगढ़ में तीन दिवसीय दौरे पर है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोग को छत्तीसगढ़ की विशेषताओं एवं परिस्थितियों की जानकारी दी।

नया पत्रकार अधिमान्यता नियम लागू, न्यूज पोर्टल के साथ ब्लॉक के पत्रकारों को मिलेगी अधिमान्यता

 

 

रायपुर। प्रदेश में पत्रकारों के लिये नया अधिमान्यता नियम छत्तीसगढ़ राजपत्र में अधिसूचना प्रकाशन के साथ ही प्रभावशील हो गया है. नए नियम में प्रिन्ट मीडिया के अलावा टीवी न्यूज चैनल्स, न्यूज पोर्टल, समाचार पत्रिकाओं के संवाददाताओं, फोटोग्राफर और कैमरामैन के साथ ब्लॉक स्तर के संवाददाताओं को अधिमान्यता दिए जाने का प्रावधान किया गया 

आयुक्त-सह-संचालक जनसंपर्क तारन प्रकाश सिन्हा ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद वर्ष 2001 में अधिमान्यता नियम बनाए गए थे. गत अठ्ठारह वर्षों के दौरान मीडिया परिदृश्य में आमूलचूल परिवर्तन आया है. इस दौरान टीवी न्यूज चैनल्स, समाचार वेबपोर्टल आदि प्रारंभ हुए हैं, और कार्य परिस्थितियां भी बदली. अधिमान्यता नियमों को समय के अनुसार प्रासंगिक बनाने और नये समाचार मीडिया को स्थान प्रदान करने के लिए अधिमान्यता नियमों में व्यापक परिवर्तन किया गया है.

वही अब  विकासखण्ड स्तर के समाचार मीडिया प्रतिनिधियों को भी जनसंपर्क संचालनालय द्वारा अधिमान्यता प्रदान की जायेगी. इसी प्रकार राज्य के सेवानिवृत्त वरिष्ठ पत्रकारों को भी मानद अधिमान्यता प्रदान करने का प्रावधान नए अधिमान्यता नियमों में किया गया है. वहीं समाचार मीडिया के प्रचार संख्या, प्रसारण क्षेत्र, वेब पोर्टल की दशा में व्यूवर्स की संख्या आदि के आधार न केवल अधिमान्यता कोटा निर्धारित किया गया है. पहले प्रचलित अधिमान्यता नियमों की तुलना में संख्या की व्यापक बढ़ोत्तरी की गई है.

वही आयुक्त सिन्हा ने यह भी बताया कि समाचार मीडिया प्रतिनिधियों को अधिमान्यता प्रदान करने का कार्य पूर्व की भांति राज्य एवं संभाग स्तरीय अधिमान्यता समितियों द्वारा ही किया जाएगा, साथ ही समितियों में इलेक्ट्रिॉनिक मीडिया के समाचार प्रतिनिधियों को शामिल किये जाने का स्पष्ट प्रावधान किया गया है. आयुक्त ने आशा व्यक्त की है कि नये अधिमान्यता नियमों के प्रभावशील होने के बाद समाचार मीडिया प्रतिनिधियों की अधिमान्यता न मिलने संबंधी दीर्घ अवधि से चली आ रही शिकायत का निराकरण हो सकेगा.

पुर्व सांसद अभिषेक सिंह को नहीं मिली हाईकोर्ट से राहत, कभी भी हो सकते है गिरफ्तार

 

बिलासपुरः हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए पुर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के पुर्व सांसद पुत्र अभिषेक सिंह को किसी भी तरह की राहत देने से इन्कार कर दिया है। हाईकोर्ट के जस्टिस शरद कुमार गुप्ता की सिंगल बेंच ने अभिषेक सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए 22 जुलाई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। आज फैसला सुनाते हुए सिंगल बेंच ने चिटफंड फर्जीवाड़े मामले में अभिषेक सिंह को किसी भी तरह की राहत देने से इन्कार कर दिया है। इस मामले में शासन की तरफ से महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा ने पैरवी की थी।

भूपेश बघेल ने चन्द्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण पर देशवासियों को दी बधाई

 

 

 

 

 

रायपुर । छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने श्री हरिकोटा से भारत के महत्वाकांक्षी अभियान-चन्द्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण और इसके प्रथम चरण के सफलता के लिए देश के सभी नागरिकों के साथ-साथ भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के इस अभियान से जुड़े सभी वैज्ञानिकों, तकनीशियनों और स्टॉफ को विशेष रूप से बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

उन्होंने कहा है कि भारत ने अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक ऊंची छलांग लगायी है और एक नया इतिहास रचा है।

 

 

 

मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा है कि भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों की इस अभूतपूर्व एवं गौरवशाली उपलब्धि पर सभी भारतवासियों में बेहद गर्व, खुशी और उल्लास है। मुख्यमंत्री ने आशा और विश्वास व्यक्त करते हुए चन्द्रयान-1 की सफलता के बाद चन्द्रयान-2 के सभी चरणों के लिए पूर्ण सफलता की कामना की और कहा है कि चांद पर इसके साफ्ट लेंडिग फिर इसी तरह सफल होगी और इसके लूनियर आर्बिटर, लैंडर और व्हीलर रोवर भी अपने उददेश्यों में सफल होंगे।

मुख्यमंत्री ने उम्मीद व्यक्त की कि भारत शीघ्र ही रूस, अमेरिका और चीन के बाद चौथा ऐसा देश बनने में सफल होगा जिसके पास चांद पर साफ्ट लेंडिग करने की क्षमता उपलब्ध होगी। भारत का यह अंतरिक्ष अभियान और इससे मिलने वाली महत्वपूर्ण जानकारियां भारत और दुनिया के अंतरिक्ष विज्ञान को नई दिशा देने में भी कामयाब होंगी।

त्रिपुरा के नये राज्यपाल बने रमेश बैस

 

रायपुर:- छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ भाजपा नेता रमेश बैस त्रिपुरा के राज्यपाल नियुक्त किए गए हैं। राष्ट्रपति भवन से जारी प्रेस अधिसूचना में यह जानकारी दी गई है। बैस छत्तीसगगढ़ ही नहीं देश में सबसे अधिक बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले नेताओं में शामिल है। लोकसभा चुनाव 2019 में उन्हें पार्टी ने प्रत्याशी नहीं बनाया था। इसके बाद भी वे पार्टी के लिए निष्ठावान बने रहे। माना जा रहा है कि हमेशा पार्टीलाइन पर चलने का इनाम उन्हें दिया गया है। रमेश बैस रायपुर में पार्षद के रूप में चुने जाने के बाद सियासत में आगे बढ़े, इसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। रायपुर के कई बार सासंद रहे बैस केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं।

काम में लापरवाही किए जाने पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति करना SBI प्रबंधन का सही कदम- हाई कोर्ट

बिलासपुरः हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि काम में लापरवाही किए जाने पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति करना SBI प्रबंधन का सही कदम है। हाईकोर्ट चीफ जस्टिस की डीबी ने काम में लापरवाही करने पर स्टेट बैंक आफ इंडिया के द्वारा बैंक के सहायक प्रबंधक को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने के फैसले को सही बताया है। इससे पहले एसबीआई के द्वारा अनिवार्य सेवानिवृत्ति के मामले में हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने अनिवार्य सेवानिवृत्ति के एसबीआई के आदेश को खारिज करते हुए अधिकारी को सेवा में वापस लेने का आदेश दिया था।

एसबीआई के कांकेर शाखा में पदस्थ सहायक प्रबंधक एम राजू के खिलाफ शिकायत मिलने पर बैंक प्रबंधन ने जांच के बाद 6 अक्टूबर 2003 को एम राजू को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी थी। विभागीय अपील खारिज होने पर एम राजू ने हाईकोर्ट की सिंगल बेंच में अपील की थी। सिंगल बेंच ने एम राजू के पक्ष में फैसला सुनाया था। इस फैसले के खिलाफ बैंक प्रबंधन ने हाईकोर्ट में रिट अपील पेश की थी। डिवीजन बेंच ने सिंगल बेंच के आदेश के खिलाफ सुनवाई करते हुए काम में लापरवाही के कारण अनिवार्य सेवानिवृत्ति करने के एसबीआई प्रबंधन के फैसले को सही ठहराया है। हाईकोर्ट ने एम राजू की पेंशन संबंधी मांग पर बैंक प्रबंधन को नियमानुसार निर्णय लेने के निर्देश दिए हैं।

छतीसगढ़ : यहाँ सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों ने बनाया शराब मुर्गा पार्टी का अड्डा ..देखे विडियों

 

देखिए वीडियो.......

अजीत मिश्रा @ BBN24

कोटा के लोकप्रिय पर्यटक स्थल शासकीय भवन को कोटा जनपद के सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों ने बनाया शराब मुर्गा पार्टी का अड्डा वहीं साथ ही यहां के जनपद जनप्रतिनिधि भी बट्टा  लगाने में तुले हुए है।बुधवार को जनपद पंचायत कोटा की संचार संकर्म सभा की बैठक जनपद के अधिकारियों ने कृषक कुटीर में आयोजित की । बैठक तो एक से डेढ घंटे चली लेकिन उसके बाद कुछ जनपद सदस्यों और जनपद के शासकीय कर्मचारियों ने छककर शराब पी और मूर्गा उड़ाया । 

 

जानकारी के अनुसार बुधवार को जनपद पंचायत की संचार संकर्म समिति की बैठक अपने मीटिंग हाल की जगह कोटा के कोरीडैम में बना पर्यटक स्थल कृषक कुटीर में आयोजित की । ये बैठक जनपद के सभागार के बदले कृषक कुटीर मे क्यों आयोजित की गई इसका जवाब किसी के पास नहीं है । बैठक जनपद की संचार संकर्म समिति की थी लिहाजा समिति के सदस्य और विभागीय अधिकारी वहां पहुंचने  लगे । बैठक बारह से एक बजे के बीच शुरू हुई और घंटे डेढ घंटे में खतम भी हो गई क्योंकि बैठक मे आए सभी लोगों का ध्यान खाने पीने की तरफ था । औने पौने में बैठक समाप्त करने के बाद पर्यटक स्थल के शासकीय रेस्ट हाउस में कुछ नेता , अधिकारी और कर्मचारियों ने जाम से जाम भी छलककाया । 

कृषक कुटीर मे बैठक और शराब पार्टी की खबर कृषक कुटीर से निकलकर कोटा के मीडिया तक पहुंच गई । बैठक की जानकारी लेने जब कोटा के मीडियाकर्मी वहां पहुंचे तो वहां का नजारा देख कर चैंक गए जनप्रतिनिधियों द्वारा शराब की बोतल कैमरे के सामने लहराते हुए दिखे । यहां बैठक के बाद की शराब पार्टी अपने पूरे उफान पर थी । जनपद सदस्यों के साथ जनपद के अधिकारी और कर्मचारी मदमस्त थे । शराब की बाटल और मुर्गे की टांग चबाते हुए घंमड में चूर इन लोगों ने मीडिया से भी अभद्र व्यवहार की और खबर छापने की धमकी भी दे डाली । जनपद की इस शासकीय बैठक के बाद कई सवाल ऐसे उठने लगे जिसके  जवाब अधिकारियों को देने होंगे ।

कृषक कुटीर में बैठक क्यों - जनपद पंचायत की संचार संकर्म की बैठक जनपद पंचायत के मीटिंग हाल की बजाय पर्यटक स्थल कृषक कुटीर में क्यों आयोजित की गई ? वहां बैठक करने के ईजाजत किसने दी ? जनपद पंचायत से चार किलोमीटर दूर कृषक कुटीर में जनपद के बाबू और अधिकारी जनपद के सरकारी दस्तावेज लेकर किसके आदेश से वहां पहुंचे ? क्या इस बैठक की जानकारी जनपद सीईओ  को थी ? यदि थी तो क्या उन्होंने जनपद के बैठक कक्ष की बजाय कृषक कुटीर में समिति की बैठक आयोजित करने की सहमती प्रदान की थी ? और यदि जनपद सीईओ को जानकारी नहीं थी तो फिर बिना उनके कृषक कुटीर में कैसे बैठक आयोजित कर दी गई थी ? ये ऐसे सवाल है जो अधिकारियों की लापरवाही और उनके गैरजिम्मेदाराना रवैये होने की ओर ईशारा करते हैं ।

जनपद के कर्मचारी का कहना कि कोई बैठक नहीं थी - मीडिया के अचानक पहुंच जाने से हड़बडाए जनपद के अधिकारी कर्मचारीयों की बोलती बंद हो गई थी । मीडिया का कैमरा देख कर कई अधिकारी अंग्रेजी का गिलास निचे रख बाथरूम की तरफ भागे तो कई ने कहा कि कोई मीटिंग नहीं थी । किसने बोल दिया की मीटिंग थी । जनपद के बाबू संतोष चंद्राकर ने कैमरे पर आन रिकार्ड बोला कि किसी भी प्रकार की बैठक यहां आयोजित नहीं थी । ये बोलते हुए शायद वो ये भूल गए कि उनका ये झुठ उनपर और भी भारी पड़ सकता है । क्योंकि सिंचाई विभाग के एसडीओ , और अन्य विभाग के आए अधिकारियों ने साफ साफ कहा की यहां बैठक रखी गई थी । फिर भी यदि जनपद के बाबू संतोष चंद्राकर की ही बात मान ली जाए कि वहां कोई मीटिंग नहीं थी तो फिर सवाल यही उठता है कि पूरा का पूरा जनपद पंचायत बारह बजे से छह बजे तक कृषक कुटीर में क्या कर रहे थे ? अपने कार्यालयीन समय में जनपद के एसडीओ कैवर्त ,इंजिनियर अमिताभ कश्यप ,लोरमी एसडीओ बी.पी गुप्ता , बड़े बाबू संतोष चंद्राकर , यहां से स्थानान्तरण हुए इंजिनियर किरण धु्रव अपने कार्यालयीन समय में कृषक कुटीर में शराब पार्टी में कैसे मौजूद रहे ,

वहीँ इसकी लिखित शिकायत कोटा के एसडीओपी, अभिषेक सिंह, अनुविभागीय अधिकारी आशुतोष चतुर्वेदी, को कोटा मिडिया कर्मियों के द्वारा दी गई है, जिसमें जाँच के बाद कार्यवाही करने की बात कही गई है,

 

 

 

 

 

 

बड़ी खबर BBN24 : बाल कलाकार शिवेंद्र सिंह की सड़क दुर्घटना में मौत । रायपुर - बिलासपुर नेशनल हाईवे में सड़क हादसे में हुई मौत।


नरियरा का बाल कलाकार शिवलेख सिंह की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई अपनी प्रतिभा के बल पर मुम्बई शहर में रहकर छोटे परदे पर कई सीरियलों में अपनी अभिनय क्षमता का लोहा मनवाने के पश्चात्‌ अब बड़े परदे पर अभिनय का जलवा बिखेरने वाला अकलतरा ब्लाक के नरियरा निवासी शिवेन्द्र प्रताप सिंह एवं श्रीमती लेखना सिंह के पुत्र शिवलेख सिंह (14) वर्षी के बचपन से ही गीत-संगीत, नृत्य एवं नाटक के प्रति आकर्षण देखकर उसके अभिभावकों के द्वारा बिलासपुर से मुम्बई में जाकर शिवलेख सिंह को अपने अन्दर छिपी हुई प्रतिभा को तरासने का अवसर प्रदान करने का निर्णय लिया गया। मुम्बई में विभिन्न सीरियलों एवं फिल्मों के लिए लिये जाने वाले ऑडिशन में अपनी अभिनय क्षमता प्रदर्शित करने के बाद शिवलेख सिंह को इंडिया बेस्ट ड्रामेबाज में अपनी पहचान बनाने का मंच मिला। इंडिया बेस्ट ड्रामेबाज के पश्चात्‌ शिवलेख ने पीछे मुड़कर नहीं देखा एवं एक के बाद एक सोनी टीवी के संकट मोचन हनुमान, कलर्स के ससुराल सिमर का, सब टीवी के खिड़की, बालवीर, श्रीमानजी श्रीमतीजी, बिग मैजिक के अकबर बीरवल, एंड टीवी के अग्निफेरा सहित कई सीरियलों में अपनी प्रतिभा का जलवा बिखेर कर दर्शकों, सीरियल एवं फिल्म निर्माताओं का मन मोह लिया। अभिनय के क्षेत्र में लगातार काम करने के बाद भी शिवलेख सिंह समय निकालकर अपनी पढ़ाई पर भी पूरा ध्यान देते । आने वाले समय में वे रेमो डिसूजा की फिल्म एवं श्रीनाथ नामक धार्मिक कहानी पर बन रही फिल्म में बड़े पर्दे पर नजर आने वाले। इन फिल्मों के अतिरिक्त शिवलेख सिंह के पास कई फिल्मों का आफर । नरियरा जैसे छोटे से ग्राम से निकलकर मुम्बई जैसे महानगर में छोटे पर्दे एवं सिनेमा में अपनी पहचान बनाना असाधारण बात है। शिवलेख की प्रसिद्धि से प्रेरित होकर क्षेत्र के कई कलाकार गीत-संगीत, नृत्य, नाटक एवं अभिनय के क्षेत्र में हाथ आजमाने का प्रयास कर रहे थे । शिवलेख की प्रसिद्धि से क्षेत्रवासियों में भी खासा उत्सुकता दिखाई देती थी पर आज वे इस दुनिया मे नही रहे रायपुर से बिलासपुर नेशनल हाइवे सड़क के जरिये जब वे अपने परिवार के साथ वापस आरहे थे तब सड़क दुर्घटना में मौके पर ही उनकी मौत हो गई।

छत्तीसगढ़ की नई राज्यपाल होंगी अनुसुइया उइके

रायपुर। छत्तीसगढ़ का नया राज्यपाल अनुसुइया उइके को बनाया गया है। इस संबंध में राष्ट्रपति भवन की ओर से आधिकारिक सूचना जारी कर दी गई है। सूचना के अनुसार अनुसुइया उइके को छत्तीसगढ़ का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। ​छिंदवाड़ा निवासी अनुसुइया उइके राज्यसभा सांसद रह चुकीं है। वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आंध्रप्रदेश का नया राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन को बनाया है।

मध्यान भोजन में अंडा दिए जाने के विरोध में कबीर पंथी के धर्म गुरु प्रकाश मुनि साहब के साथ हजारो के संख्या में अनुयायी बैठे है धरने पर....रायपुर बिलासपुर राष्ट्रीय राज मार्ग जाम

बलौदा बाजार-भाटापारा - छत्तीसगढ़ शासन द्वारा मध्यान्ह भोजन में अंडे दिए जाने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है ।आज छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा बच्चों को मध्यान भोजन में अंडा दिए जाने के विरोध में कंबिर पंथियों ने किया रायपुर बिलासपुर राष्ट्रीय राज मार्ग में चक्का जाम ...कबीर पंथी के धर्म गुरु प्रकाश मुनि साहब के साथ हजारो के संख्या में अनुयायी बैठे है धरने पर ...सिमगा थाना अंतर्गत दामाखेड़ा के पास किया चक्का जाम ।

शिवरतन ने सदन में पूछा सवाल कहा उत्पादन कम होने के बाद भी दूसरे राज्यों को भेजा जा रहा है सीमेंट…प्रदेश राजस्व का हो रहा नुकसान…अजीत जोगी ने मूल्य को लेकर उठाए सवाल…मंत्री ने दिया ये जवाब पढ़े पूरी खबर…

 

रायपुर :- छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज सीमेंट के उत्पादन और मूल्य को लेकर मामला उठाया गया। बीजेपी विधायक शिवरतन शर्मा ने सवाल किया कि सीमेंट उद्योग में सीमेंट का उत्पादन कम हो रहा है। क्लिंकर बनाकर दूसरे राज्यों को भेजा जा रहा है।

इससे प्रदेश को राजस्व का नुकसान हो रहा है। इस पर मंत्री मोहम्मद अकबर ने जवाब देते हुए कहा कि जीएसटी के बाद स्टॉक एक्सचेंज पर टैक्स नहीं है। 2015-16 के कुल वैट इनकम में 14 फीसदी बढ़ाकर राज्यों को क्षतिपूर्ति के रूप में दिया जा रहा है। जीएसटी के बाद राज्य सरकार को क्लिंकर निर्यात में कोई नुकसान नहीं हो रहा है।

इस मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री व जेसीसीजे सुप्रीमो अजीत जोगी ने पूरक प्रश्न किया कि छत्तीसगढ़ के कच्चा माल, पानी, जमीन आदि संसाधनों का उपयोग होने के बावजूद यहां के लोगों को कम कीमत पर सीमेंट नहीं मिल रही।

सीमेंट की कीमत देश में है उतने में ही हम खरीद रहे हैं। मंत्री ने जवाब में कहा सीमेंट का दर तय करना राज्य के नियंत्रण पर नहीं है। उन्होंने कहा कि इस विषय को दिखावा लेंगें।

छत्तीसगढ़ : सेक्स रैक्ट का खुलासा,कैलाश लॉज व चंद्रा लॉज में पुलिस की छापा मार कार्रवाई,संदिग्ध अवस्था मे नव युवक युवती

सूर्यकान्त यादव@

राजनादगांव-- पुलिस ने किया से रैक्ट का खुलासा,कैलाश लॉज व चंद्रा लॉज में पुलिस की छापा मार कार्रवाई,संदिग्ध अवस्था मे नव युवक युवती को किया गिरफ्तार,सभी 9 युवक और 9 महिलाओ को पुलिस थाने रखाकर कर रहे पूछताछ,लॉज के सामने मोहल्ले वालों का हंगामा,मामला कोतवाली थाना के पुराने बस स्टैंड का। राजनांदगांव शहर के पुराना बस स्टैंड भरकापारा के पास स्थिति कैलाश और चंद्रा लाज मे 8 युवक युवती को संग्धित अवस्था मे छापामार कर पुलिस ने किया गिरफ्तार वही सभी 9 युवक और 9 महिला को पुलिस ने थाने मे लाकर पूछताछ कर रही है। राजनांदगांव जिले मे लगतार होटलो और लाँज मे सेक्स रैकेट की खबर लगातार मिल रही थी जिस पर पुलिस अपनी मुखबीर लगा कर रखा हुआ था वही आज शहर के सीटी कोतवाली थाना क्षेत्र के पुराना बस स्टैंड के पास चंद्रा और कैलाश लाँज में सुबह से लडकी और लडको का आना जाना लगा था जिस पर मोहल्ले वासियो लगातार आवागमन को देखकर अपने नजर पर रखे थे और मोहल्ले वासियो ने एक साथ एकठा होकर लाँज पर धावा बोल दिया, लाँज पर मोहल्ले वासियो के धावा की सूचना पर पहुची पुलिस ने लाँज से 9 युवक और 9 महिलाओं को संग्धित अवस्था मे पकडा कर लम्बे समय से चल रहे शहर मे सेक्स रैकेट का खुलासा करने मे सफलता हासिल किया और सभी युवक और महिलाओं को पुलिस गिरफ्तार कर सभी लोगो को थाने मे लगाकर पूछताछ कर रही है सभी युवक और महिलाए राजनांदगांव जिले के है वही मोहल्ले वासियो ने संग्धित अवस्था मे पकडी गई युवक और महिलाओं पर कार्यवाही के लिए थाने मे डटे हुए है वही लम्बे समय से शहर मे चल रहे सेक्स रैकेट का खुलासा करने जरूर सफलता हासिल किया है लेकिन अभी भी शहर के बडे होटलो पर छापामार कार्यवाही करे तो और भी खुलासा होने के संभावना हो सकती है।वही लाँज मालिकों का कहना है की लडको और लडकियो को किराये पर लम्बे समय से चल रहा है और किराय 1 घंटे का हो या 12 घंटे का किराया का दर वही होता है। लेकिन वही वार्डवासियो का कहना है की लाँज मे लम्बे समय से देह व्यापार का काम चल रहा है जिसकी शिकायत लगातार मोहल्ले वासियो ने पुलिस से कर चूकी है लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई थी लेकिन आज मोहल्ले वासियो ने आज धावा बोलकर कैलाश लाँज और चंद्रा लाज पर धावा बोलकर 9 युवक और महिलाओं को पकडे और वही आधे लोग पीछे रास्ते से भाग निकलने मे कामयाब हुए वही मोहल्ले वाले लाँज मालिक पर कार्यवाही करने और लाँज को बंद करने पुलिस थाने मे अडे हुए है।

पीएम मोदी पर अमर्यादित टिप्पणी करने वाले शिक्षक अश्विनी खरे पर हुई बड़ी कार्यवाही, जिम्मेदारों ने शिक्षक को किया निलंबित

आकाश साहू  @ bbn24news :

छत्तीसगढ़ : बलरामपुर जिले के पूर्व माध्यमिक शाला बादा शंकरगढ़ में पदस्थ शिक्षक अश्विनी खरे पर शिक्षा विभाग ने बड़ी कार्यवाही की है। पिछले 6माह से लगातार शिक्षक ने सोशल मीडिया पर देश के पीएम तथा चुनाव आयोग को लेकर अमर्यादित टिप्पणी की थी.. भारतीय मीडिया को भी उसने दलाल बनाया था। जिसके संबंध में भाजपाइयों ने पिछले महीने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की थी... जिस पर आज जिला पंचायत सीईओ ने कार्यवाही करते हुए शिक्षक को तत्काल निलंबित किया है.. आपको बता दें पिछले कई महीनों से लगातार शिक्षक अश्विनी खरे पीएम पर टिप्पणी कर रहा था जिसको लेकर शिक्षा विभाग ने बड़ी कार्यवाही की है.. इस कार्यवाही के बाद उन शिक्षकों में भी हड़कंप मचा हुआ है जो राजनीति करने का शौक रखते हैं ..शिक्षक अश्विनी खरे के पोस्ट से हमेशा राजनीतिक मनसा दिखाई देती थी.. शिक्षक को राजनीति करने की खुमारी चढ़ी हुई थी जिस खुमारी को कार्यवाही करते हुए अधिकारियों ने अब निकाला है।

छत्तीसगढ़ विधानसभा का मानसून सत्र आज से प्रारंभ सत्र के पहले सत्र में दिवंगत नेताओं को दी गई श्रद्धांजलि…

 

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार को प्रारंभ हुआ. सत्र के पहले सत्र में संतोष कुमार अग्रवाल, भीमा मंडावी और बलराम सिंह ठाकुर के निधन पर सदन ने शोक जताया.

स्पीकर डॉक्टर चरण दास महंत ने सबसे पहले दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि संतोष अग्रवाल समाजसेवी और धार्मिक क्षेत्रों में सक्रिय थे. सरपंच से लेकर विधायक तक कई पदों को सुशोभित किया. भीमा मंडावी के जाने से अपूरणीय क्षति हुई है. न केवल आदिवासी समाज मे बल्कि इस सदन के लिए भी ये अपूरणीय क्षति है. 30 साल की उम्र में विधायक बन गए. दुखद घटना घटी चुनाव के दौरान नक्सल घटना में उनकी मृत्यु हुई है. मिलनसार व्यक्तित्व के धनी रहे थे. ठाकुर बलराम सिंह इस सदन के दो बार सदस्य रहे. मुझे उनके साथ काम करने का अवसर मिला था. बेहद सहज, सरल, निमगा छत्तीसगढ़िया की उनकी पहचान रही है.

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि संतोष अग्रवाल की सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्ति के तौर पर उनकी छवि थी. भीमा मंडावी इस सदन के सदस्य थे. मैं उनकी वीरता का कायल रहूंगा. समाज के अंतिम व्यक्ति तक अंत्योदय के लिए काम किया. वह वीरगाथा के नायक के तौर पर याद किये जाते रहेंगे. लोकतंत्र के महापर्व को चुनौती देने वालों की चुनौती उन्होंने स्वीकार की थी.

कौशिक ने कहा कि चुनाव प्रचार से लौटने के दौरान श्यामगिरी के करीब नक्सलियों ने उनकी हत्या कर दी. किसानो के लिए, वनवासियों के लिए भीमा मंडावी ने हमेशा लड़ाई लड़ी. मृदुभाषी रहे. विधायक दल के उप नेता के रूप में भीमा मंडावी ने काम किया. यदि वह आज होते थे, तो दंतेवाड़ा क्षेत्र के विकास में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका होती. नक्सलियों की ओर से उन्हें कई बार धमकियां मिली लेकिन उन्होंने कभी परवाह नहीं की. क्षेत्र के लोगों की बेहतरी के लिए काम करते रहे. धरमलाल कौशिक ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता बिंदेश्वरी बघेल के निधन का भी उल्लेख करते हुए सदन में श्रद्धांजलि दी.

जेसीसी विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा- मैं संतोष अग्रवाल, भीमा मंडावी और बलराम सिंह ठाकुर के निधन पर अपनी ओर से विन्रम श्रद्धाजंलि अर्पित करता हूँ. संतोष अग्रवाल सामाजिक गतिविधियों में बढ़चढ़कर हिस्सा लेते थे. मृदुभाषी होने के कारण लोकप्रिय रहे…भीमा मंडावी सदन में मेरे करीब ही बैठते रहे. मैंने पाया कि बस्तर के आदिवासियों की कठिनाइयों को बेहतर समझते थे. उन कठिनाइयों के निराकरण के लिए प्रयत्नशील रहते थे. नक्सलवाद का सामना करते हुए ऐसी शहादत दी जो हमेशा स्मरण की जाती रहेगी.

जोगी ने कहा कि बलराम सिंह ठाकुर के जाने से बिलासपुर की राजनीति का एक बहुत मजबूत स्तम्भ गिर गया. बिलासपुर की राजनीति में बलराम सिंह जी के बिना कुछ भी सोचना सम्भव नहीं था. उनका व्यक्तित्व इस तरह से पूरे क्षितिज पर छाया हुआ था. चाहे राजनीति हो, नगर निगम हो, विधानसभा हो खासतौर पर सहकारिता के क्षेत्र में बहुत ऊंचाई तक पहुंचने वाले महापुरुष थे. वह बेहद मीठी छत्तीसगढ़ी बोलते थे.

अजीत जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता बिंदेश्वरी बघेल के निधन पर भी श्रद्धांजलि दी. व्यक्तिगत रूप से मेरी एक दो मुलाकात ही हुई, लेकिन मैं कह सकता हूं, वह एक आदर्श माता थी. वह परिवार की धुरी थी. उन्हीं के आसपास उनका परिवार आज इन ऊंचाइयों तक पहुँचा है. कांग्रेस विधायक और पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने भी दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि दी.

धर्मजीत सिंह ने कहा कि दुनिया मे राजनीति हत्या का यदि कहीं कोई रिकॉर्ड है तो वह छत्तीसगढ़ है. 2008 में भीमा ने महेंद्र कर्मा जैसे दिग्गज नेता को हरा कर यदि जीत दर्ज की तो कहीं तो कोई बात रही होगी. बारूद ने कोई भेद नहीं किया. बारूद ने महेंद्र कर्मा को भी मारा और भीमा को भी मारा. बलराम सिंह बेहद जिंदादिल आदमी थे. ऐसे महापुरुषों के नहीं रहने से छत्तीसगढ़ को अपूरणीय क्षति हुई है. बड़े- बड़े कवियों और लेखकों ने कहा है दुनिया मे कहीं जन्नत है तो मां की चरणों मे है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को मातृशोक हुआ है. उनकी इस पीड़ा को मैं समझ सकता हूँ.

बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि आज भीमा मंडावी यहां बैठे होते. उन्हें यहां होना चाहिए था. आखिर कब तक नेता नक्सलवाद की बलि चढ़ते रहेंगे. मुझे लगता है कि इस सदन को नक्सलवाद के खात्मे के लिए कोई बड़ा निर्णय करना चाहिए. बलराम सिंह ठाकुर और संतोष अग्रवाल जैसे नेताओं का जाना क्षति है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता का भी निधन हुआ. मां अपने बेटे को मुख्यमंत्री पद पर बैठे देखकर गई हैं हम उन्हें भी श्रद्धांजलि देते हैं.