राजधानी

अब SC-ST-OBC के बीच ही आरक्षण का झगड़ा:मंत्री शिव डहरिया से मिलने पहुंचे आदिवासी छात्र।

आरक्षण को लेकर दो बड़े आरक्षित जातीय समुदायों के बीच टकराव के हालत बनते दिख रहे हैं। मामला अनुसूचित जनजाति को मिले 32 प्रतिशत आरक्षण को चुनौती देने वाली याचिका से जुड़ा है। यह याचिका अनुसूचित जाति से जुड़ी गुरु घासीदास साहित्य एवं सांस्कृतिक संस्थान और पिछड़ा वर्ग के कुछ लोगों ने दाखिल की है। इसका फैसला नजदीक है, ऐसे में आदिवासी समाज की बेचैनी बढ़ गई है। आदिवासी छात्र संगठन के युवाओं ने आज मंत्री शिव कुमार डहरिया से कहा कि वे सतनामी समाज के बड़े नेता की हैसियत से इस याचिका पर अपना पक्ष स्पष्ट करें। आदिवासी छात्र संगठन के अध्यक्ष योगेश ठाकुर की अगुवाई में पहुंचे युवाओं ने नगरीय प्रशासन मंत्री शिव कुमार डहरिया से मिलने की कोशिश की। बाहर रहने से उनसे मुलाकात नहीं हो पाई तो छात्रों ने उनके निज सचिव को एक पत्र सौंपा। आदिवासी छात्रों ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रुद्र कुमार और अनुसूचित जाति आयोग की सदस्य पद्मा मनहर के नाम भी ऐसा ही पत्र रायपुर तहसीलदार को सौंपा है। योगेश ठाकुर ने कहा, हमने सतनामी समाज के इन वरिष्ठ नेताओं से यह जानने की कोशिश की है, क्या वे आदिवासियों के 32% आरक्षण के खिलाफ काम करने वालों के साथ है या आदिवासी और अनुसूचित जाति की समरसता के साथ। ठाकुर ने कहा, हाईकोर्ट को आरक्षण संशोधन अधिनियम 2011 की वैधता पर फैसला करना है। यह फैसला 6 सितंबर को आए या अगली किसी तारीख में, SC-ST-OBC का 12-32-14 कुल मिलाकर 58% आरक्षण का बचना लगभग असंभव है। एक बात तय है कि इसका कोई राजनीतिक हल फिलहाल नहीं दिख रहा। आदिवासी हित में सुप्रीम कोर्ट से भी किसी राहत की बहुत आशा नहीं की जा सकती। योगेश ठाकुर ने कहा, उन लोगों ने दोनों समुदायों के बीच बनी एकता को कायम रखने की काफी कोशिश की है, लेकिन इस याचिका से उस पर संकट बढ़ता दिख रहा है। आरक्षण बढ़ाने-घटाने से शुरू हुआ विवाद साल 2011 तक अनुसूचित जनजाति को 20 प्रतिशत, अनुसूचित जाति को 16 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग को 14 प्रतिशत आरक्षण दिया जाता रहा। 2011 में सरकार ने जनसंख्या के अनुपात में प्रतिनिधित्व देने की बात कहकर अनुसूचित जनजाति का आरक्षण 32 प्रतिशत कर दिया। अनुसूचित जाति का आरक्षण 12 प्रतिशत किया गया। रायपुर के गुरु घासीदास साहित्य एवं सांस्कृतिक संस्थान ने इसको उच्च न्यायालय में चुनौती दी। बाद में OBC और सामान्य वर्ग के कुछ लोग भी इसके खिलाफ कोर्ट गए। मामले की कल उच्च न्यायालय में सुनवाई बताया जा रहा है, उच्च न्यायालय बिलासपुर में कल इस मामले की सुनवाई होनी है। 32 प्रतिशत आरक्षण के खिलाफ दायर की गई याचिका के खिलाफ आदिवासी समाज के एक संगठन और दो कर्मचारियों ने हस्तक्षेप याचिकाएं लगाई हैं। इस सुनवाई का क्या परिणाम निकलता है यह कल ही स्पष्ट हो पाएगा।

राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण : मुख्यमंत्री बघेल।

शिक्षक दिवस के अवसर पर राजभवन में शिक्षकों को किया गया सम्मानित रायपुर, 05 सितम्बर 2021/ शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके के मुख्य आतिथ्य में राजभवन के दरबार हॉल में आयोजित राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों को सम्मानित किया गया। इस समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने की। समारोह में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, संसदीय सचिव श्री द्वारिकाधीश यादव उपस्थित थे। राज्यपाल ने पूर्व राष्ट्रपति और महान शिक्षक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को नमन किया और कहा कि शिक्षक दीपक की तरह होते हैं, जो अज्ञान के अंधकार में ज्ञान का प्रकाश लाते हैं। उनका देश और प्रदेश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान रहता है। शिक्षकों के मार्गदर्शन से विद्यार्थी अलग-अलग क्षेत्रों में सफलताएं अर्जित कर राष्ट्र निर्माण में भागीदार बनते हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षक जो मार्गदर्शन देते हैं उसे सकारात्मक रूप से ग्रहण करने पर अवश्य सफलता मिलती है। सुश्री उइके ने कहा कि आज मैं, मुख्यमंत्री जी, शिक्षा मंत्री जी या अन्य राजनेता जिस जगह पर पहुंचे हैं, वहां पर हमारे गुरूजनों का ही योगदान रहा है। शिक्षकों के अनुशासन की सीख की बदौलत हम आज यहां तक पहुंचे हैं। राज्यपाल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में शिक्षा के क्षेत्र में स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम विद्यालय प्रारंभ करने जैसे कई कार्य हुए हैं, वह सराहनीय है। इस कार्य से विकासखंड स्तर तक ग्रामीणों को अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों की सुविधा मिल रही है। इसके लिए मैं मुख्यमंत्री सहित पूरे शिक्षा विभाग को बधाई देती हूं। राज्यपाल ने कोरोना काल में शिक्षा विभाग द्वारा किए गए कार्यों की भी प्रशंसा की। राज्यपाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति का एक सूत्र वाक्य है ’असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योर्तिगमय, मृत्योर्मामृतं गमय’, जिसका अभिप्राय है ’हे ईश्वर हमें असत्य से सत्य की ओर, अंधेरे से उजाले और मृत्यु से अमरत्व की ओर ले चलो।’ असत्य से सत्य की ओर तथा अंधेरे से उजाले की ओर ले जाने की प्रक्रिया में गुरूजनों की भूमिका अहम होती है। ’आचार्यः देवो भव’ और ‘गुरू गोविंद दोऊ खड़े’ जैसे दोहे हमारी समृद्ध परम्पराओं में शिक्षक की महत्ता को दर्शाते हैं। राज्यपाल ने कहा कि बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं, उनकी मौलिकता, कल्पनाशीलता, देश के लिए अनमोल संपदा है और उनके जीवन को गढ़ने का महत्वपूर्ण दायित्व शिक्षकों पर है। शिक्षकों को विद्यार्थियों से मित्र एवं मार्गदर्शक की तरह व्यवहार करना चाहिए। स्वामी विवेकानंद ने कहा कि ‘हमें ऐसी शिक्षा चाहिए, जिससे चरित्र का निर्माण हो, मन की शांति बढ़े, बुद्धि का विकास हो और मनुष्य, अपने पैरों पर खड़ा हो सके।’ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने शिक्षक दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी और कहा कि पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाते है। वे महान शिक्षक थे जब वे राष्ट्रपति बने तो कुछ विद्यार्थियों ने उनका जन्मदिवस मनाने का प्रस्ताव रखा। तब उन्होंने कहा कि मेरे जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए। उन्होंने कहा कि चाहे खेल के क्षेत्र में या शिक्षा के क्षेत्र में हमेशा गुरूओं की आवश्यकता पड़ती है। शिक्षकों का राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होता है। कोरोना महामारी के समय इसकी महत्ता और भी बढ़ गई। शिक्षा विभाग ने कोरोना महामारी के समय ऑनलाइन शिक्षा पद्धति प्रणाली बुलटू के बोल, मोहल्ला क्लास जैसे माध्यमों से शिक्षा प्रदान की, जिसकी पूरे देश और विदेश में चर्चा हुई। श्री बघेल ने कहा कि मध्यप्रदेश में सन् 1998 में पंचायत विभाग द्वारा शिक्षकों की नियुक्ति हुई थी उसके बाद से अब तक नियमित शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की गई थी। पर हमने उनकी तकलीफ को समझते हुए नियमित रूप से शिक्षकों की भर्ती की और नियुक्ति प्रक्रिया आरंभ कर दी है। हमने उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के लिए स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी विद्यालय की स्थापना की। इसमें गरीब और मध्यमवर्ग के पालकगण अपने बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दिला रहे है। यह गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। किसी भी विद्यार्थी का आदर्श उसका शिक्षक होता है। वे जिस प्रकार का आचार-व्यवहार करते है विद्यार्थी उनका अनुसरण करते है। इसलिए अच्छे विद्यार्थी बनाने के लिए श्रेष्ठ शिक्षकों की आवश्यकता होती है। मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में दिवंगत हुए शिक्षकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमारे शिक्षकों ने कोरोना काल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और विद्यार्थियोंको नए-नए तरीकों से पढ़ाया। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा कि कोरोना काल में प्रदेश में शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को शिक्षा देने के लिए कई नवाचार किए गए, जिसमें पढ़ई तुंहर द्वार, मोहल्ला क्लास आदि शामिल है। प्रशासन के इन प्रयासों की नीति आयोग सहित पूरे देश में सराहना की गई। प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ में भी इन नवाचारों का उल्लेख किया। कार्यक्रम में वर्ष 2020 में चयनित 58 शिक्षकों को सम्मानित किया गया, जिसमें 54 शिक्षकों को राज्य शिक्षक सम्मान और 04 शिक्षकों को प्रदेश के महान साहित्यकारों के नाम पर स्मृति पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर वर्ष 2021 के लिए राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए चयनित शिक्षकों के नामों की घोषणा की गई। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला ने स्वागत भाषण दिया। कार्यक्रम में राज्यपाल के सचिव अमृत कुमार खलखो, विधि सलाहकार आर.के. अग्रवाल, सचिव स्कूल शिक्षा डॉ. कमलप्रीत सिंह उपस्थित थे। समारोह में जे.आर. दानी स्कूल की छात्राओं ने सरस्वती वंदना और राज्य गीत की प्रस्तुति दी।

वरिष्ठ नागरिकों के सहायतार्थ समर्पण कार्यक्रम में प्रत्येक जिले में नियुक्त किया जाए नोडल अधिकारी- अवस्थी

रायपुर 2 सितंबर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने आज यहां पुलिस मुख्यालय में वरिष्ठ नागरिकों एवं महिला तथा बच्चों की सहायता हेतु विभिन्न गैर सरकारी संगठनों की बैठक ली। बैठक में उन्होंने निर्देश दिये कि वरिष्ठ नागरिकों की सहायता हेतु चलाये जा रहे समर्पण कार्यक्रम में प्रत्येक जिले में एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाए। उन्होंने कहा कि पुलिस का उद्देश्य महिला तथा बाल विरुद्ध अपराधों पर त्वरित कार्रवाई करना है। पुलिस के इस कार्य में आप सभी संगठनों की सहायता भी आवश्यक है। महिलाओं एवं बच्चों को जागरूक करने में आप सभी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पुलिस विभाग द्वारा वरिष्ठ नागरिकों की सहायता हेतु समर्पण अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें बुजुर्गों के भोजन, आवास, दवाई, विवाद में काउंसलिंग, अकेले रह रहे बुजुर्गों को मनोचिकित्सक की सुविधा एवं उन्हें उनके अधिकारों के बारे में जागरूक किया जा रहा है। श्री अवस्थी ने निर्देश दिये कि बच्चों, महिलाओं एवं बुजुर्गों को आवश्यकता पड़ने पर तत्काल सुविधाएं प्रदान की जाएं। बैठक में विभिन्न संगठनों ने भी अपने सुझाव दिये। उन्होंने कहा कि बच्चों एवं महिलाओं को अपराधियों से बचाने हेतु समाज में भी जागरूकता लाने की आवश्यकता है। इसके साथ ही महिलाओं तथा बच्चों को उन्हें कानून में प्राप्त अधिकारों की जानकारी देना भी आवश्यक है। बैठक में डीआईजी श्हिमानी खन्ना, एआईजी पूजा अग्रवाल उपस्थित रहीं।

महिला विरुद्ध अपराधों में वाहन की सहायता से शीघ्रता से करें अपराधियों पर कार्रवाई – अवस्थी

रायपुर महिला पुलिसकर्मियों के लिये खरीदी गयीं 200 दो पहिया वाहनों की सौंपी गयी चाबी रायपुर 02 सितम्बर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने आज यहां पुलिस मुख्यालय में दुर्ग एवं रायपुर रेंज की महिला पुलिसकर्मियों को सीन ऑफ क्राईम पर जाने हेतु दो पहिया वाहन (टीव्हीएस जूपीटर), की चाबी सौंपी । इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वाहन से महिला पुलिसकर्मियों को महिला एवं बाल विरुद्ध अपराधों को रोकने तथा विवेचना में सहायता प्राप्त होगी। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार की गाईडलाईन अनुसार महिला हेल्प डेस्क के लिए राज्य के विभिन्न थानों हेतु 200 मोटर सायकल(टीव्हीएस जूपीटर), 194 कम्प्यूटर सह उपकरण, फर्नीचर तथा महिलाओं एवं बच्चों के अपराध से संबधित 600 पुस्तकों का क्रय किया गया है। भारत सरकार, गृह मंत्रालय द्वारा वित्तीय वर्ष 2020-21 में महिला और बच्चों के विरूद्ध अपराधों की रोकथाम हेतु राज्य के 300 पुलिस थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना एवं सुदृढ़ीकरण के लिए निर्भया फण्ड स्कीम अंतर्गत प्रति पुलिस थाना हेतु रू. 1.00 लाख के मान से 300 पुलिस थानों के लिए छत्तीसगढ़ सरकार को राशि रू. 3.00 करोड़ सहायता राशि दी गई थी। राज्य में प्रत्येक महिला हेल्प डेस्क में प्रशिक्षित महिला अधिकारी/कर्मचारी को पदस्थ किया गया है, जिससे पीड़ित महिलाएं बिना संकोच एवं भय किए अपनी समस्या/शिकायत दर्ज करा सकें। महिला हेल्प डेस्क द्वारा महिला संबंधी प्रकरणों की रिपोर्ट तत्काल दर्ज कर उनका फॉलोअप करते हुए पीड़ित महिला को आवश्यकतानुसार सहयोग जैसे- मनोचिकित्सक काउंसलिंग, विविध व चिकित्सीय सुविधा आदि प्रदान किया जाएगा। इससे महिलाओं के विरूद्ध घटित होने वाले अपराधों की रोकथाम में तत्काल सहायता मिलेगी, जिससे जन मानस का पुलिस प्रशासन एवं शासन के प्रति विश्वास बढ़ेगा। भारत सरकार द्वारा एनसीआर दिल्ली में दुर्भाग्यपूर्ण निर्भया की घटना के बाद देश में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के उपायों को मजबूत करने हेतु सभी राज्यों के थानों में महिला हेल्प डेस्क स्थापित करने हेतु निर्देश जारी किए गए हैं। जिन पुलिस थानों में महिलाओं एवं बच्चों के विरूद्ध अपराध की घटनाएं अधिक हैं एवं पर्याप्त सुविधाओं की कमी है, वहां सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के लिए एवं उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए निर्भया कोष की स्थापना की गई है। कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक डी एम अवस्थी, विशेष पुलिस महानिदेशक आरके विज, पुलिस महानिरीक्षक रायपुर डॉ. आनंद छाबड़ा, उप पुलिस महानिरीक्षक डॉ. संजीव शुक्ला एवं सहायक पुलिस महानिरीक्षक मनीष शर्मा उपस्थित रहे।

भाजपा को जब बस्तर की चिंता करना था तब कमीशनखोरी भ्रष्टाचार में मस्त थे- कांग्रेस।

रायपुर /29 अगस्त 2021/ बस्तर में आयोजित भाजपा के चिंतन शिविर को मोदी के मित्रों को लाभ पहुंचाने प्रेरित ठहराते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि सत्ता जाने के बाद भाजपा का बस्तर में चिंतन शिविर आयोजित करना महज एक राजनीतिक नौटंकी है। बस्तर वासियों को पता है यही वह भाजपा है जिन्होंने 15 साल तक उन्हें प्रताड़ित और शोषित करने काम किया है। आरएसएस भाजपा मोदी के मित्रों को बस्तर के खनिज संपदा जल जंगल जमीन और नगरनार संयंत्र को कैसे सौपे इसको लेकर चिंता कर रही है आरएसएस भाजपा में थोड़ी बहुत भी नैतिकता बाकी होगी शर्म बाकी होगी तो उन्हें बस्तर के चिंतन शिविर में छत्तीसगढ़ के नगरनार संयंत्र, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन सहित सरकारी उपक्रमों को जो मोदी सरकार ने बेचने की नीति तय की है उसके खिलाफ संकल्प पारित करना चाहिए। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि जब छत्तीसगढ़ की जनता ने भाजपा को सत्ता सौंपी तब भाजपा 15 साल तक कमीशनखोरी भ्रष्टाचार करने में मशगूल रही है। बस्तरवासी रमन सरकार के दौरान नरकीय जीवन जीने मजबूर थे।उस दौरान बस्तर के आदिवासियों वनवासियों के जल जंगल जमीन पर कब्जा करना भाजपा का मुख्य एजेंडा रहा है।आदिवासियों वनवासियों को मिले कानूनी अधिकार का भी हनन किया गया।निर्दोष आदिवासियो को नक्सली बताकर जेल में बन्द किया गया झूठे मामलों में फंसाया गया आदिवासी बेटियों के साथ दुष्कर्म की अनेक घटनाएं भी हुई।अनैतिक तरीके अपनाकर प्रताड़ित किया गया अनेक प्रकार से यातनाये दी गई,शोषण किया गया ।बस्तर के विकास को बाधित किया गया।बस्तर विकास प्राधिकरण में बस्तर के जनप्रतिनिधियों को अधिकार नही दिया गया।बिजली सड़क पानी रोजगार के ओर ध्यान नही दिया गया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार बस्तर को मलेरिया मुक्त कुपोषण मुक्त भयमुक्त बना रही है आदिवासियों को उनका अधिकार दे रही है वन पट्टा दे रही है घर घर बिजली पहुंचा रही है 35 किलो राशन प्रति घर दे रही है मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाएं दे रही है मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के जरिए कुपोषण हटाने काम किया जा रहा। सड़कों का जाल बिछा रही है 52 वनोपज की समर्थन मूल्य में खरीदी कर रही है तेंदूपत्ता का मानक दर2500रु से बढ़ाकर ₹4000 दे रही है चरण पादुका खरीदने नगद राशि की कटौती तेंदूपत्ता के बोनस से करने का भाजपा का खेल कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया है

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर के इलेक्ट्राॅनिक मीडिया विभाग द्वारा हिन्दी की दशा व दिशा के संदर्भ में ऑनलाइन राष्ट्रीय विमर्श का आयोजन किया गया।

दिनांक 29 अगस्त, 2021 कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर के इलेक्ट्राॅनिक मीडिया विभाग, शासकीय महाविद्यालय मोहनबड़ोदिया, शाजापुर एवं ग्लोबल रिसर्च कैनवास शोध पत्रिका, भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में हिन्दी हैं हम, हिन्दोस्तां हमारा विषय पर हिन्दी की दशा व दिशा के संदर्भ में आॅनलाइन राष्ट्रीय विमर्श का आयोजन किया गया। इस मौके पर संयुक्तराष्ट्र हिन्दी जन अभियान के अध्यक्ष दीपक मिश्र ने कहा कि देश को एक सूत्र में बांधने के लिए सरकारी कामकाज की भाषा हिन्दी होना चाहिए। हिन्दी देश की आजादी प्राप्ति के संघर्ष के समय से ही आम जनमानस की भाषा रही है। वर्तमान में हिन्दी को एक नई दिशा देने की जरूरत दिखती है। हिन्दी को वैश्विक रूप से भी उच्च दर्जा दिए जाने की आवश्यकता है। संयुक्तराष्ट्र संघ की आधिकारिक भाषाओं में रशिया, फ्रेंच जैसी भाषाएं शामिल हैं, लेकिन हिन्दी नहीं है, जबकि इन भाषाओं से ज्यादा लोगों द्वारा हिन्दी बोली जाती है। हिन्दी की उपयोगिता को समझते हुए आज यूएनओ को भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर हिंदी का उपयोग करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हिंदी इस देश की आत्मा की आवाज है। मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए डाॅ. बाबा साहेब अंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय की हिन्दी विभाग की विभागाध्यक्ष श्रीमती भारती गोरे ने कहा कि हिन्दी काफी समय पूर्व से ही अपनी वैश्विक उपस्थिति दर्ज करा चुकी है। अंग्रेज हिंदोस्तान से गिरमिटिया मजदूरों के रूप में भारतीयों को लेकर कई देशों में गए, जहां पर हिन्दी भाषियों ने खुद को अपनी भाषा के साथ स्थापित कर लिया। आज हिन्दी की वैश्विक उपयोगिता इतनी बढ़ गई है कि अमेरिका के 30 से अधिक विश्वविद्यालयों में हिन्दी विभाग संचालित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि जापान व चीन जैसे देश आज काफी आगे हैं, क्योंकि उन्होंने विदेशी भाषाओं की घुसपैठ अपने देश में नहीं होने दी। आज कई विदेशी कार्टून चैनल्स भी हिन्दी की प्रभावशीलता को समझते हुए बच्चों के काॅर्टून कार्यक्रमों का प्रसारण हिन्दी में कर रहे हैं। डोरेमाॅन, शिनचैन, आदि इसके उदाहरण हैं। वहीं हिन्दी भाषी कार्टून कैरेक्टर्स छोटा भीम, मोटू पतलू आदि की लोकप्रियता बच्चों के बीच बढ़ रही है। इसका प्रमुख कारण उनका हिन्दी में प्रस्तुत किया जाना है। इस मौके पर देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की विभागाध्यक्ष डाॅ. सोनाली नरगुंदे ने कहा कि डिजिटल मीडिया ने हिन्दी के नए आयाम खोल दिए हैं। उन्होंने बताया कि अनुवाद के क्षेत्र में नई संभावनाएं जगी हैं। पहले जहां सिर्फ पुस्तकों का अनुवाद होता था। आज डबिंग के चलते हाॅलीवुड व भारत की अन्य क्षेत्रीय भाषाओं की फिल्मों की हिन्दी में डबिंग की जा रही है, जिसके चलते हिंदी अनुवादकों के लिए भी नए अवसर खुल रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेटफिलक्स जैसे ओटीटी प्लेटफाॅर्म का ज्यादातर कारोबार हिन्दी पर आधारित विषय वस्तु की वजह से ही आगे बढ़ रहा है। कई अन्य भाषाओं की पुस्तकों का भी हिन्दी अनुवाद किया जा रहा है, क्योंकि लोग अब हिन्दी की उपयोगिता को समझ रहे हैं कि देश के सबसे ज्यादा बड़े हिस्से में बोली जाने वाली भाषा के रूप में हिन्दी समृद्ध होती जा रही है। उन्होंने कहा कि हिन्दी की दशा तो ठीक है, लेकिन दिशा को सुधारने के लिए हिन्दी पत्रकारिता में कार्यरत पत्रकारों को अहम भूमिका निभानी होगी। जी फिल्म स्कूल नोयडा की एसोसिएट प्रोफेसर डाॅ. आरफा राजपूत ने कहा कि हिन्दी कभी न खतरे में आई है और न आएगी। उन्होंने कहा कि हिन्दी के विकास के लिए हमें हिन्दी को तनमन से स्वीकार करना होगा। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के इलेक्ट्राॅनिक मीडिया विभाग के अध्यक्ष डाॅ. नरेन्द्र त्रिपाठी ने हिन्दी की उपयोगिता और देशभर में इसके इस्तेमाल पर बल देते हुए कहा कि जनभाषा और संपर्क भाषाएं तो कई हो सकती हैं, लेकिन राष्ट्र भाषा सिर्फ हिन्दी होना चाहिए, क्योंकि ये देश के सबसे बड़े भूभाग पर बोली और समझी जाती है। उन्होंने कहा कि हिन्दी आज विश्वभर में अपनी पहचान बना रही है। हिन्दी के प्रचार और प्रसार के लिए देशभर में कार्य हो रहे हैं। डाॅ. त्रिपाठी ने कहा कि हमारे देश में जम्मू कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक राजकाज की भाषा हिन्दी ही होना चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए ग्लोबल रिसर्च कैनवास शोध पत्रिका के संपादक मनोज कुमार ने कहा कि अंग्रेजी के आगे अब हमें हिन्दी को खड़ा करना होगा। हिन्दी को एक समान पूरे देश की राष्ट्र भाषा बनाया जाना चाहिए। संगोष्ठी का संचालन चेतना कला महाविद्यालय, औरंगाबाद की हिन्दी विभाग की विभागध्यक्ष विशाल शर्मा ने किया।

आज मेकाहारा में कपड़ा बैंक कार्यक्रम ।

रायपुर। लीड फाउंडेशन द्वारा आज मेकाहारा में कपड़ा बैंक कार्यक्रम के तहत निर्धन जनों को कपड़ा वितरण किया गया। लीड फाउंडेशन के साजिद ने बताया कि फाउंडेशन कपड़ा बैंक कार्यक्रम में गरीबों के लिए नगर से पुराने कपड़ों का एकत्र के अनेक अवसरों पर विभिन्न स्थानों पर कपड़ा वितरण का कार्य करता है। 2019 से आरंभ किए गए इस अभियान में प्रत्येक रविवार को मेकाहारा में गरीबों को कपड़ों वितरण किया जाता है। कोरोना लॉकडाउन के बाद आज से पुनः यह कार्य प्रारंभ किया गया है जो निरंतर हर रविवार को जारी रहेगा। फाउंडेशन के साजिद अख्तर के अनुसार संस्था में 90 सक्रिय सदस्य हैं तथा संपन्न परिवारों एवं समाज के गणमान्य नागरिकों के सहयोग से प्राप्त वस्त्रों को अलग अलग स्थानों पर समय समय पर गरीबों को वितरित किया जाता है। आज के वस्त्र वितरण में साजिद अख्तर साहित अमन नवलानी, रानू वर्मा, योगिता वर्मा, ऋषि कुमार, सुफल राम यादव शामिल हुए।

दिल्ली से रायपुर लौटकर स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने की स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक।

*विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक निवास स्थान पर बैठक में प्रबंधन समेत अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर हुई विस्तृत चर्चा* रायपुर 29 अगस्त 2021 : कल शाम दिल्ली प्रवास से रायपुर लौटे स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने आज सिविल लाइन्स स्थित निवास स्थान पर स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ विभागीय कार्यों की समीक्षा बैठक की। इस बैठक में उन्होंने कोरोना संक्रमण के घटते मामलों और टीकाकरण की स्थिति पर अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की। इस दौरान उन्होंने कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर की विभाग के अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की उपलब्धता के साथ ही उसके प्रबंधन पर भी विभाग को तैयारियां रखनी चाहिए। इसके साथ ही प्रदेश में डेंगू के प्रकरणों की समीक्षा करते हुए उन्होंने दवाओं की उपलब्धता पर दिशा-निर्देश दिए, इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने जल-ठहराव और गंदगी के संबंध में जन-जागरूकता के लिये भी आग्रह किया। स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने इस समीक्षा बैठक में वायरोलॉजी लैब व हमर लैब की स्थापना और आयुष्मान व डॉ खूबचंद बघेल योजना की स्थिति के बारे में चर्चा कर इनके उचित क्रियान्वयन के लिए आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किये। इसके साथ ही विभाग में नई भर्ती और प्रमोशन के विषय पर भी चर्चा हुई। उन्होंने लैब और जांच केंद्र के संबंध में कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में सब हेल्थ सेंटर में खून की जांच की सुविधा आसानी से उपलब्ध करवाने की दिशा में सरकार काम कर रही है। जिससे अब ग्रामीणों को जिला अस्पताल जाने की आवश्यकता नहीं होगी बल्कि उनके सैंपल लेकर लैब भेजे जायेंगे और रिजल्ट भी ऑनलाइन उपलब्ध करा दिया जाएंगे। इस पूरे कार्य के लिए विभाग को 6 महीने का लक्ष्य दिया गया है लेकिन अधिकारियों ने इस अवधि के अंदर ही कार्य पूरा करने की बात कही है। इस बैठक में 3 मेडिकल कॉलेजों में अधोसंरचना विकास व अन्य सुविधाओं को बढ़ाने के विषय में भी चर्चा की गई।

वीरता पदक प्राप्त करने हेतु प्रस्ताव 05 सितम्बर तक आमंत्रित ।

रायपुर 25 अगस्त 2021, वीरतापूर्वक कार्य करने हेतु समस्त ऐसे प्रकरण जिसमें वीरता पदक के लिए विचारण किया जाना है या वीरता पदक प्राप्त करने के लिए पात्र हैं तो पदक का प्रस्ताव उप पुलिस महानिरीक्षक एसआईबी पुलिस मुख्यालय नवा रायपुर को दिनांक 05 सितम्बर 2021 तक भेजना सुनिश्चित करें।

गुणवत्तायुक्त प्रशिक्षण पुलिसबल के अनुशासन के लिए अत्यंत आवश्यकः अवस्थी

रायपुर 25 अगस्त 2021, डीजीपी डीएम अवस्थी ने आज पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में बुनियादी प्रशिक्षण, प्रशिक्षण की गुणवत्ता में संर्वधन, प्रस्तावित नवीन कार्य योजनाएं, विगत एक वर्ष में किए गये कायों की समीक्षा की गई। बैठक में श्री अवस्थी ने कहा कि प्रशिक्षण पुलिसबल के अनुशासन के लिए अत्यंत आवश्यक है। पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों में गुणवत्तायुक्त प्रशिक्षण से सशक्त बल तैयार होता है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के पाठ्यक्रम को आधुनिक आवश्यकताओं के अनुरूप बनाने की समीक्षा की जायेगी। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी रेंज के पुलिस महानिरीक्षक प्रशिक्षण संस्थानों का समय-समय पर निरीक्षण करें। इससे संस्थान की गुणवत्ता में सुधार के साथ-साथ वहां की आवश्यकताओं की जानकारी प्राप्त होगी। इसके साथ ही उन्होंने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक प्रशिक्षण एसआरपी कल्लूरी को राज्य के सभी प्रशिक्षण संस्थानों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए। अवस्थी ने कहा कि प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षण हेतु देश भर के पूर्व पुलिस अधिकारियों, ख्याति प्राप्त प्रशिक्षकों को भी आमंत्रित करें, जिससे उनके अनुभवों का लाभ मिल सके। श्री अवस्थी ने राज्य पुलिस अकादमी में नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मूर्ति शीघ्र लगाने के निर्देश दिए। बैठक में विशेष पुलिस महानिदेशक अशोक जुनेजा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एसआरपी कल्लूरी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक हिमांशु गुप्ता, रायपुर पुलिस महानिरीक्षक डॉ. आनंद छाबड़ा, उप पुलिस महानिरीक्षक डॉ. संजीव शुक्ला एवं सभी पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों के पुलिस अधीक्षक उपस्थित रहे।

मीडिया में रोजगार की व्यापक संभावनाएं - डॉ. नरेन्द्र त्रिपाठी

रायपुर, दिनांक 24 अगस्त, 2021मीडिया शिक्षण में बहुत विविधताएं और असीम संभावनाएं हैं। आज मीडिया शिक्षा अब स्थापित शिक्षण का विषय बन चुका है। मीडिया शिक्षा में दिन प्रतिदिन नए नए आयाम जुड़ते जा रहे हैं। मीडिया में कैरियर की व्यापक संभावनाएं हैं। यह बात कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विभाग के अध्यक्ष डॉ. नरेन्द्र त्रिपाठी ने कही। वे डॉ. भीमराव अंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय महू एवं माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में बोल रहे थे। राष्ट्रीय शिक्षा की अपेक्षाओं के संदर्भ में मीडिया शिक्षा और पत्रकारिता में नई संभावनाओं और उभरते अवसर पर आयोजित संगोष्ठी में बोलते हुए डॉ. त्रिपाठी ने कहा कि मीडिया प्रशिक्षण में भाषा, कंटेंट, कंटेंट की समझ और तकनीक का उन्नत प्रशिक्षण देकर पेशेवर मीडिया प्रोफेशनल्स तैयार किए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया प्रशिक्षण को और उन्नत बनाने के लिए सभी मीडिया संस्थानों को चाहिए कि मीडिया इंडस्ट्री की मांग के अनुरूप अपने पाठ्यक्रमों को तैयार करें। साथ ही प्रायोगिक प्रशिक्षण पर अधिक बल दिया जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि मीडिया काउंसिल का गठन कर पत्रकारिता प्रशिक्षण को उसके दायरे में लाना चाहिए, जिससे कि मीडिया प्रशिक्षण को और अधिक बेहतर बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि मीडिया में रोजगार के लिए किसी एक विषय का अब विशेषज्ञ होना आवश्यक हो गया है। इसी के अनुरूप अब पाठ्यक्रमों का विकास भी किया जाना आवश्यक है कार्यक्रम को मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जयंत सोनवलकर, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश, डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. आशा शुक्ला, लेकसिटी यूनिवर्सिटी के प्रो. दिवाकर शुक्ला, डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय महू के मीडिया प्रभारी मनोज कुमार एवं मीडिया सलाहकार डॉ. सुरेन्द्र पाठक ने भी संबोधित किया।

राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक 25 से 27 अगस्त तक करेगी रायपुर संभाग के प्रकरणों की सुनवाई।

रायपुर 24 अगस्त 2021/ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष, केबिनेट मंत्री दर्जा डॉ किरणमयी 25, 26, 27 अगस्त (तीन दिन) को रायपुर संभाग के प्रकरणों की सुनवाई करेंगी।यह सुनवाई 11 बजे से शाम 5 बजे तक मुख्य निर्वाचन आयोग के बाजू शास्त्री चैक राज्य महिला आयोग कार्यालय में होगी। महिलाओं के उत्पीडन से संबंधित प्राप्त प्रकरणों पर सुनवाई करेगी। राज्य महिला आयोग के सचिव ने बताया कि सुनवाई के दौरान सभी पक्षकार अपने निर्धारित समय में उपस्थित होगे। उपस्थिति हेतु सोशल डिस्टेसिंग का पालन करेंगे। चेहरे, मुंह और नाक को ढकते हुए तीन लेयर वाले मास्क या मोटा कपड़े का रूमाल बांध कर आएंगे। सुनवाई के दौरान पक्षकारो के लिए सेनेटाईजर एवं अन्य सुविधाओं की व्यवस्था की जाएगी।

पुनर्विवाह एक अधिकार :

रायपुर- इसी कड़ी में उपसमिति रायपुर दक्षिण की महिला मंडल के सौजन्य एवं मार्गदर्शन से चि. जितेंद्र सिंह सुपुत्र स्व. श्री रतन सिंह उपसमिति रायपुर दक्षिण एवं सौ. ज्योति सुपुत्री श्री दुर्गा सिंह, उपसमिति राजनांदगांव का पुनर्विवाह दिनांक 23 अगस्त रामदरबार मंदिर कोटा, रायपुर में स्वजातीय की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। इस पावन कार्य के लिए उपसमिति रायपुर दक्षिण महिला मंडल अध्यक्ष श्रीमती आरती राजपूत एवं पूरी टीम बधाई के पात्र है। पुनर्विवाह में उपसमिति रायपुर दक्षिण के अध्यक्ष ठा. लव सिंह, कोषाध्यक्ष ठा. दिनेश सिंह, उपसचिव ठा. रितेश सिंह, केंद्रीय निर्णयक ठा. विजय सिंह, शिवा सिंह, ज्योति ठाकुर, लता ठाकुर, सुधा ठाकुर उपस्थित होकर नवयुगल को आशीर्वाद दिए । उपसमिति रायपुर दक्षिण इस पुनीत कार्य से गौरवान्वित हुआ है। ऐसे ही नेक कार्य करते रहे ऐसी मंगल कामना है।

कोरोना योद्धाओं ने खोला मोर्चा निरन्तर कार्य मे रखने की मांग ।

रायपुर:- अस्थाई रूप से कोरोना काल में लिए गए सदस्यों स्वास्थ्य कर्मियों को कार्य पर निरंतर रखने की मांग को लेकर 24 अगस्त से पांच दिवसीय धरना प्रदर्शन रायपुर के बूढ़ा तालाब धरना स्थल पर शुरू कर दिये. 24 अगस्त से 28 अगस्त तक चलने वाले इस आंदोलन में प्रदेश के समस्त अस्थाई कोविड कर्मचारी जिसमें डॉक्टर माइक्रोबायोलॉजिस्ट नर्सिंग स्टाफ लैब तकनीशियन स्वास्थ्य संयोजक वार्ड बॉय कंप्यूटर ऑपरेटर सफाई कर्मी शामिल हो रहे हैं. अस्थायी कोविड कर्मचारी स्वास्थ्य कर्मियों की मांग है कि कोरोना काल के दौरान अस्थाई रूप से भर्ती स्वास्थ्य कर्मियों को कार्य पर निरंतर रखा जाए एवं जिनकी सेवा समाप्त कर दी गई है उन्हें पुनः कार्य पर निरंतर रखा जाए इन मांगों को लेकर अब आंदोलन कर रहे हैं. यह है उनकी मुख्य मांग अस्थाई रूप से पदस्थ स्वास्थ्यकर्मियों की बस एक ही मांग है कि उन्हें कार्य पर निरंतर रखा जाए चाहे वह नियमित हो या फिर संविदा जिनकी जिनकी सेवा समाप्ति हो गई है उन्हें कार्य पर पुनः रखा जाए यह उनकी मुख्य मांग है. मांग पूरी ना होने पर आगे भी आंदोलन होगा जारी क्रांतिकारी कोरोना संघ के प्रदेश संयोजक विनय टंडन ने बताया कि ये आंदोलन तब तक नही रुकने वाला जब तक प्रदेश के सभी कोविड 19 कर्मचारियों को कार्य पर निरंतर नहीं रखा जाता तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा.

श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन प्रदेश मे मांस मदिरा दुकाने रहेगी बंद ।

यादव समाज के आग्रह पर मुख्यमंत्री ने किया घोषणा। रायपुर:- सर्व यादव समाज छत्तीसगढ़ के प्रदेश संरक्षक माननीय श्री द्वारिकाधीश यादव संसदीय सचिव छत्तीसगढ़ शासन, माननीय श्री रामकुमार यादव विधायक चंद्रपुर, श्रीमती रामकली यादव सदस्य पुलिस जवाबदेही प्राधिकरण प्रशासन, सुश्री शोभा यादव एवं सर्व यादव समाज छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष रमेश यदु जी के उपस्थिति में आज छत्तीसगढ़ के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय श्री भूपेश बघेल जी के जन्मदिन के अवसर पर उन्हें बधाई देते हुए आगामी 30 अगस्त को जन्माष्टमी महोत्सव के दिन छत्तीसगढ़ में मांस मदिरा का दुकान बंद कराने का आग्रह किया गया ,जिसे मुख्यमंत्री जी ने सहृदयता से स्वीकार करते हुए वहां उपस्थित कृषि मंत्री और छत्तीसगढ़ शासन के प्रवक्ता माननीय श्री रविंद्र चौबे जी को अधिकारिक रूप से आदेश कराने हेतु निर्देशित किया, मुख्यमंत्री जी के इस घोषणा से छत्तीसगढ़ के सनातन धर्म के लोगो मे हर्ष व्याप्त है, जिसमे विशेषकर यादव समाज के द्वारा मुख्यमंत्री जी के पहल पर सहृदयता से धन्यवाद ज्ञापित किया गया, विदित हो 4 अगस्त को सर्व यादव समाज के द्वारा पूरे प्रदेश मे कलेक्टर के माध्यम से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन प्रदेश मे मांस मदिरा दुकानो को बंद कराने संबंधी ज्ञापन सौंपा गया था, मुख्यमंत्री जी के इस पहल हेतु प्रदेश अध्यक्ष रमेश यदु जी सहित प्रदेश उपाध्यक्ष श्री डीसी यादव ,विष्णु यादव, पी आर यदु , श्री देवनारायण यादवजी संभागीय अध्यक्ष सरगुजा, श्रीमती सुनीता यादव प्रदेश अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ श्रीमती धनवंती यादव प्रदेश उपाध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ श्रीमती शालिनी यादव जिला अध्यक्ष जिला पंचायत दुर्ग श्रीमती किरण यादव सदस्य जिला पंचायत बिलासपुर श्रीमती मीनू सुमन यादव जिला पंचायत सदस्य एवं सभापति बिलासपुर संदीप यादव सभापति जिला पंचायत बिलासपुर रामशरण यादव महापौर बिलासपुर राजेश यादव सभापति नगर निगम दुर्ग जयंत ठेठवार सभापति नगर निगम रायगढ़ श्रीमती सरोज यादव अध्यक्ष नगर पंचायत ले दरी मनेंद्रगढ़ अटल बिहारी यादव सदस्य छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग नरेंद्र यादव सदस्य छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग रेवा यादव जिलाध्यक्ष कोरिया, रमाशंकर यादव जिलाध्यक्ष सूरजपुर , हरि यादव जिलाध्यक्ष बलरामपुर, चंद्रदेव यादव जिलाध्यक्ष जशपुर महेश्वर यादव जिलाध्यक्ष रायगढ, नत्थू लाल यादव जिलाध्यक्ष कोरबा, डॉक्टर प्रतीक यादव जिलाध्यक्ष जांजगीर, रामचंद्र यादव जिलाध्यक्ष बिलासपुर , नरेश यादव जिलाध्यक्ष मुगेली , दूजे राम यादव जिलाध्यक्ष बलौदाबाजार, अशोक यादव जिलाध्यक्ष रायपुर, रिकी राम यादव जिलाध्यक्ष गरियाबंद, जगन्नाथ यादव जिला अध्यक्ष महासमुंद, घनश्याम यादव जिला अध्यक्ष धमतरी ,जितेंद्र यादव जिला अध्यक्ष बालोद, मनोज यादव कार्यकारी जिला अध्यक्ष दुर्ग, हेमकांत यादव जिला अध्यक्ष बेमेतरा ,महेश यादव जिला अध्यक्ष राजनांदगांव, दिलीप यादव जिलाध्यक्ष गौरेला पेंड्रा मरवाही, सुदामा यादव जिला अध्यक्ष कांकेर, अशोक यादव जिला अध्यक्ष नारायणपुर, बंसी यादव जिला अध्यक्ष कोंडा गांव, संतोष यादव संभागीय अध्यक्ष बस्तर, बलराम यादव जिला अध्यक्ष बस्तर, गुड्डू राम यादव जिलाध्यक्ष सुकमा ,रहमान यादव जिला अध्यक्ष दंतेवाड़ा ,दयालु राम यादव जिला अध्यक्ष बीजापुर, राकेश यादव जिला अध्यक्ष कवर्धा ,पवन यादव अध्यक्ष सरायपाली ,विजय यादव जिला अध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ बलोदा बाजार, सरिता यादव जी संभागीय अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ बस्तर, श्रीमती गीता यादव अध्यक्ष बिलासपुर जिला सर्व यादव समाज महिला प्रकोष्ठ श्रीमती ममता यादव जिला अध्यक्ष रायगढ़ श्रीमती अंजू यादव बिलासपुर कुमारी पूनम यादव बिलासपुर श्रीमती गीता यादव जिला अध्यक्ष कोरबा ,यशवंत यादव , तपेश्वर सिंह यादव, कुंजलाल यादव, सहित समाज प्रमुखों ने आभार व्यक्त किया है