देश

छापे के बाद कानूनी कार्रवाई, जुर्माने से सहारा इंडिया को मिली छूट, टैक्स पैनल ने तीन सुनवाई में ही सुना दिया आर्डर

सहारा इंडिया को आय कर निपटान आयोग (ITSC) से बड़ी राहत मिली है। आयोग ने अपने फैसले में विवादित डायरी मामले में सहारा इंडिया पर किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई करने और उस पर जुर्माना लगाने से इनकार किया है। आय कर विभाग ने नवंबर 2014 में सहारा इंडिया के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान एक डायरी बरामद की थी जिसमें कुछ नेताओं के नाम थे और उन्हें पैसे देने के बारे में लिखा हुआ था। आयोग ने इस डायरी को सबूत मानने से भी इनकार कर दिया है।
आयोग ने अपना फैसला 50 पन्नों में सुनाया है। इंडियन एक्सप्रेस ने उन पन्नों को पढ़ने के बाद पाया कि आयोग ने सहारा इंडिया द्वारा दाखिल केस को पहले खारिज कर दिया था लेकिन 5 सितंबर, 2016 को उसे फिर से सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया। आयोग ने तीव्र कार्रवाई करते हुए मात्र तीन सुनवाई में ही अपना फैसला सुनाते हुए सहारा इंडिया को राहत दी है। आयोग ने राहत का आदेश 10 नवंबर 2016 को सुनाया है जो आखिरी सुनवाई की तारीख 7 नवंबर 2016 से तीन दिन बाद है। वैसे सामान्यत: आयोग 18 महीनों में किसी मुद्दे पर अंतिम फैसला सुनाता है। आयोग के सूत्र बताते हैं कि कभी -कभार ही 10 से 12 महीनों के अंदर कोई फैसला सुनाया जाता है।
फैसले के आखिरी पन्ने में लिखा गया है कि छापे के दौरान कंपनी से 137.58 करोड़ रुपये बरामद हुए थे जिस पर अब टैक्स आरोपित किया जाता है। आयोग ने इस टैक्स की राशि अदायगी को भी 12 किश्तों में कर दिया है। फैसले में कहा गया है कि सहारा इंडिया ने आयोग से गुहार लगाई है कि इस वक्त कंपनी कछिन दौर से गुजर रही है इसलिए कर अदायगी को किश्तों में कर दिया जाय। इसके अलावा फैसले के पहले पेज में आयोग ने लिखा है, आवेदक की दलील है कि कुछ असंतुष्ट कर्मचारियों ने जानबूझकर इस तरह के बेमतलब के कागजात बनाए हैं।
गौरतलब है कि बिड़ला और सहारा ग्रुप पर 2013 और 2014 में इनकम टैक्स ने छापे मारे गए थे। छापों में इनकम टैक्स को महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद हुए थे। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इन फाइलों की जांच की मांग की थी। 25 अक्टूबर 2016 में प्रशांत भूषण ने अपनी शिकायत सभी जांच एजेंसियों और कालेधन की विशेष जांच टीम को लीड कर रहे दो पूर्व जजों की स्पेशल को भेजी थी।

कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि आदित्य बिड़ला और सहारा ग्रुप की डायरी में पीएम नरेंद्र मोदी को गुजरात का सीएम रहने के दौरान पैसे दिए गए थे। सहारा की डायरियों में कथित तौर पर पीएम मोदी के अलावा कई अन्य बीजेपी नेताओं और अन्य दलों के नेताओं के नाम भी शामिल हैं। यही नहीं इस डायरी में दिल्ली की पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शीला दीक्षित का नाम भी शामिल है। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी दायर हुआ है, जिसने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी में बरामद की गई डायरियों को लेकर किसी भी तरह की जांच का आदेश अब तक नहीं दिया है।

कप्तानी छोड़ झारखंड टीम की हार का दुख बांट रहे थे धोनी, खिलाड़ियों ने पूछा – भैया ने कप्तानी छोड़ दी ?

महेंद्र सिंह धोनी ने बुधवार (4 जनवरी) की शाम को वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया। लेकिन उसके कुछ देर बाद वे जिन लोगों के साथ थे उनको तक नहीं पता था कि धोनी ने इतना बड़ा फैसला ले लिया है और उसके बाद वे उन लोगों के साथ इतने आराम से प्ले स्टेशन पर फीफा खेल रहे हैं। दरअसल,जब धोनी ने यह निर्णय लिया उस वक्त वह नागपुर में थे। उनके साथ झारखंड की टीम थी जो कि वहां रणजी खेलने आई हुई थी और उसी दिन गुजरात से सेमीफाइनल का मैच हारी थी।
वे सब लोग धोनी के साथ बैठकर गुजरात से मिली हार के बारे में बात कर रहे थे कि तब ही एक ने कहा, ‘भैया ने कप्तानी छोड़ दी?’ इसे सुनकर बाकी सारे खिलाड़ी भी धोनी को निहारने लगे। इसपर धोनी बिना कुछ कहे मुस्कुरा दिए। फिर उन्होंने बताया कि वह यह फैसला काफी पहले ले लेना चाहते थे लेकिन तब वक्त ठीक नहीं था।
न्यूज वेबसाइट वाइस इंडिया के मुताबिक, धोनी नए साल वाले दिन से ही नागपुर में थे। सोमवार को शुरू हुए मैच से लेकर बुधवार रात तक वे वहीं रहे। मैच से पहले वे झारखंड की टीम के साथ प्रेक्टिस में भी देखे गए। उसी दौरान उन्होंने सिलेक्टर्स के चेयरमैन एसके प्रसाद से बात करके कप्तानी छोड़ने के फैसले के बारे में बताया था।

भारत की तरक्की से चिढ़ा चीनी मीडिया, अपने ही देश को यह लिखकर दी चेतावनी

भारत के प्रति बढ़ते बड़ी कंपनियों के रुझान को देखकर चीन चिढ़ रहा है। चीनी मीडिया में छपे एक लेख में इस बात का जिक्र किया गया है। दरअसल, एप्पल ने भारत में आकर निवेश करने और यहां पर एक प्लांट बनाने की बात की है। इसपर चीन की नजर पड़ गई। वहां की मीडिया ने चीन को सावधान करते हुए एक लेख लिखा है। लेख में लिखा गया है कि चीन को जल्द से जल्द अपनी निर्माण क्षमता को बढ़ाना होगा जिससे आगे आने वाले वक्त में उनके वहां उत्पादन के लिए कंपनियों को आकर्षित किया जा सके। ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है, ‘हो सकता है कि एप्पल आने वाले वक्त में साउथ एशिया के देशों की तरफ मुड़ जाए। इससे चीन पर दबाव बनेगा कि वह अपने घरेलू निर्माण की तकनीकों में तेजी से बदलाव करे। जिससे वह कम लागत में निर्माण करने वाले देशों की टक्कर ले सके।
लेख में आगे लिखा गया है कि भारत आने वाले वक्त में चीन की कुर्सी हथिया सकता है। जिसपर चीन काफी वक्त से विनिर्माण का पावरहाउस बनकर बैठा है। लेख में अमेरिका का भी जिक्र है। बताया गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत चुके डोनाल्ड ट्रंप ने भी कंपनियों ने गुजारिश की है कि वे उनके यहां आकर निर्माण करें जिससे यूएस के लोगों को नौकरियां मिलती रहें।
लेख में भारत चीन की तुलना भी की गई है। लिखा गया है कि चीन में मिलने वाले कर्मचारियों को ज्ञान पहले से होता है लेकिन भारत में चीन के मुकाबले कर्मचारी कम सैलरी में काम करने को तैयार हो जाता है। इसे भारत का सकारात्मक पहलू बताया गया है।।

विराट ने किया ये बड़ा ऐलान, कहा- आपका कन्फ्यूजन दूर कर रहा हु

नई दिल्ली। टीम इंडिया के टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अनुष्का शर्मा के साथ सगाई को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने इंगेजमेंट की खबरों को झूठा बताया है। साथ ही लिखा- अगर सगाई करेंगे तो इसे छुपाएंगे क्यों? विराट के इन दोनों ट्वीट को अनुष्का ने भी रिट्वीट किया है। बता दें कि विराट कोहली फिलहाल अपनी गर्लफ्रेंड अनुष्का शर्मा के साथ ऋषिकेश में हैं। वे दोनों वहां छुट्टियां बिता रहे हैं। यहां अचानक अमिताभ बच्चन सहित कई सेलेब के पहुंचने के बाद दोनों की सगाई की खबरें आने लगीं हैं।हरिद्वार के नजदीक एक छोटे से गांव पथरी के अम्बुवाला में बना है अनुष्का के गुरु का अनंत धाम आश्रम। इस आश्रम में आकर अनुष्का शर्मा अपनी ज्यादातर बड़ी आने वाली फिल्मों के लिए पूजा पाठ करवाती हैं। जिस आश्रम में वो वर्ल्डकप के दौरान दो बार अनुष्ठान करने आई थी जिस गुरु से बिना पूछे अनुष्का कोई शुभ काम नहीं करती। एक बार फिर अनुष्का पहुंची है उन्हीं गुरु की शरण में पहुंची, लेकिन इस बार वो अकेली नहीं बल्कि अपने ब्वायफ्रेंड विराट कोहली के साथ पहुंची हैं। कहा जा रहा है कि 1 जनवरी को अनुष्का और विराट की सगाई होने जा रही है।

देशभर में आज क्रिसमस मनाया जा रहा है, धार्मिक एकता प्यार, अमन और भाईचारे का दे रहे है संदेश

आज देशभर में क्रिसमस मनाया जा रहा है। लोग चर्च में जाकर कैंडल्स जला रहे हैं और अपना जीवन स्वस्थ और खुशहाल होने की दुआ मांग रहे हैं। वहीं सभी त्योहार धार्मिक एकता की मिसाल पेश करते हैं यह एक बार फिर से एक चर्च ने साबित किया है। ऐसी ही एक मिसाल वाराणसी के सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च ने दी है। इस चर्च की की दीवारों पर गीता के श्लोक लिखे हुए हैं। वहीं यूपी के मऊ में फातिमा अस्पताल इलाके में स्थित एक चर्च ने बाइबल के संदेशों के साथ-साथ रामायण के दोहों और कुरान की आयतों को भी चर्च की दीवरों पर लिखवा रखा है। ये कदम धार्मिक एकता, सौहार्द और आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए अच्छा संदेश दे रहे हैं।
सेंट मैरी कैथेड्रल अपने आप में बेहद खास है। इस चर्च की दीवारों पर पीतल के अक्षरों में न सिर्फ बाइबल, भगवद् गीता और बुद्ध के संदेश उकेरे गए हैं। इसके अलावा प्रार्थना सभाओं में भी इनकी गूंज साफ सुनाई देती है। यहां पर सभी धर्मो के लोग आते हैं। चर्च के मुख्य पादरी विजय शांतिराज हैं उन्होंने बताया कि सेंट मैरी कैथेड्रल में सिर्फ ईसाई ही नहीं, बल्कि अन्य धर्मो के लोग भी आते हैं।

अब पाकिस्तान में बंद होगा 5,000 रुपये का नोट

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की सीनेट ने काले धन के प्रवाह को रोकने के लिए एक चरणबद्ध तरीके से 5,000 रुपये के नोट का चलन बंद करने की मांग करने वाले एक प्रस्ताव को सोमवार को पारित कर दिया। एक महीने पहले भारत में भी 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया गया था। सीनेट सदस्य पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता सैफुल्ला खान ने प्रस्ताव पेश किया जिसे उपरी सदन में सांसदों ने बहुमत से पारित किया।
डॉन की खबर के मुताबिक प्रस्ताव में कहा गया कि 5,000 रुपये के नोट का चलन बंद करने से बैंक खाते के इस्तेमाल को प्रोत्साहन मिलेगा और बिना हिसाब किताब वाली अर्थव्यवस्था का आकार घटाने में मदद मिलेगी। प्रस्ताव के मुताबिक 5,000 के नोट का चलन बंद करने का काम तीन से पांच साल में होना चाहिए ताकि बाजार से नोट हटाए जा सकें।
हालांकि कानून मंत्री जाहिद हमीद ने कहा कि नोट का चलन बंद करने से बाजार में संकट पैदा होगा और लोग विदेशी मुद्राओं का इस्तेमाल करने लगेंगे।

चीन का ट्रंप को जवाब, हमने अमेरिका का ड्रोन चुराया नहीं पकड़ा है

 

बीजिंग। चीन ने अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस आरोप का खंडन किया कि उसने अमेरिकी ड्रोन चुरा लिया। उसका कहना है कि विवादास्पद दक्षिण चीन सागर में नौवहन की स्वतंत्रता यानी सुरक्षित नौवहन को नुकसान पहुंचने से रोकने के लिए ड्रोन को पकड़ लिया गया था। चीन यह भी दावा करता है कि इस क्षेत्र में अमेरिका चीनी तट पर जासूसी कर रहा है।
चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मीडिया ब्रीफिंग में ट्रंप के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा है कि हमें चोरी जैसा शब्द पसंद ही नहीं आया। यह सही भी नहीं है। ट्रंप ने ट्वीट किया था कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय समुद्री क्षेत्र में अमेरिका की नौसेना के अनुसंधान ड्रोन को चुराया और उसे अपने यहां ले गया जो एक अप्रत्याशित कदम है। उनके दावे से कुछ घंटे पहले चीन सरकार ने कहा था कि वह इस घटना के संबंध में अमेरिका की सेना के संपर्क में है।
हुआ चुनयिंग ने कहा कि दोनों सेनाएं इस मुद्दे को सुचारू ढंग से देख रही हैं। उन्होंने अमेरिका के इस आरोप का भी खंडन किया कि चीनी नौसेना के जहाज ने अमेरिकी सर्वेक्षण जहाज यूएसएनएस बोवडिच से संदेश मिलने के बाद भी इस ड्रोन को पकड़ लिया और वह उसे ले गया। यह ड्रोन यूएसएनएस बोवडिच के नियंत्रण में ही उड़ान पर था।
हुआ चुनयिंग ने कहा है कि वाकई क्या हुआ, उसके बारे में आप रक्षा मंत्रालय के बयान से देख सकते हैं कि चीनी नौसेना को यह अज्ञात उपकरण नजर आया और उसने उसका सत्यापन करने के लिए बिल्कुल पेशेवर तरीके से परीक्षण किया।

भोपाल: बीजेपी नेता के घर आयकर विभाग की छापेमारी

भोपाल। नोटबंदी के बीच देशभर में आयकर विभाग की छापेमारी जारी है। आज भोपाल में आयकर विभाग ने बीजेपी नेता सुशील वासवानी के घर पर छापेमारी की। वासवानी महानगर सहकारी बैंक चलाते हैं। इसके अलावा वासवानी का होटल और रियल एस्टेट का भी कारोबार है। सुशील मध्य प्रदेश आवास संघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। माना जा रहा है कि नोटबंदी के बाद शिकायतें आईं थीं कि वासवानी जिस महानगर कॉपरेटिव बैंक के संचालक हैं उसमें नोटबंदी के बाद संदिग्ध गतिविधि हुईं हैं जो संदेह के दायरे में हैं।
ऐसी शिकायतों के बाद इनकम टैक्स विभाग ने वासवानी के घर और अन्य ठिकानों पर छापा मारा।  बीजेपी के और भी कई नेता इस बैंक के संचालक हैं। बीजेपी नेता के कॉपरेटिव बैंकों के तमाम दस्तावेजों को खंगाला जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि आयकर विभाग अभी तमाम जरूरी दस्तावेजों को अपने कब्जे में लेकर जांच करेगी कि नोटबंदी के बाद से बैंक में किस तरह की गतिविधियां हुई हैं।
इससे पहले बीजेपी के एक नेता मनीष शर्मा को प. बंगाल के बागुईहटी से छह कोयला माफिया के साथ पुराने नोट बदलने की कोशिश करते गिरफ्तार किया गया था। उन्हें तब पकड़ा गया था जब वह बड़ी मात्रा में पुराने नोट बदलवाने की कोशिश कर रहे थे। बता दें कि 8 नवंबर को सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद से देशभर के बैंकों में गड़बड़ियां हुईं हैं जहां कालेधन को सफेद करने में बैंक कर्मचारियों से लेकर बैंक अधिकारियों तक की मिलीभगत सामने आई है।

उत्तर प्रदेश में फहराया पाकिस्तान का झंडा, 60 लोगों पर केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के बदायूं में कुछ लोग एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान का झंडा लेकर घूम रहे थे।

उत्तर प्रदेश के बदायूं में कुछ लोग एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान का झंडा लेकर घूम रहे थे। 12 दिसंबर को मामला सामने आया था जिसकी वजह से वहां सांप्रदायिक तनाव भी है। गुरुवार को एक वीडियो के आधार पर 60 लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया गया। वह वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा था। वहां के भारतीय जनता पार्टी के लोकल कार्यकर्ताओं ने मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन किया और सख्त एक्शन लेने की मांग की। शुक्रवार को मामले को शांत करने के लिए वहां के थाने में एक मीटिंग भी की गई थी। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक वीडियो में 14 साल का एक लड़का सबसे पहले उस झंडे के साथ देखा गया। फिर उससे ही बाकी लोगों ने वह झंडा लिया।
मामले की जांच में लगे एसएचओ ने कहा, ‘लड़के की पहचान हो गई है। वह वहीं के एक दर्जी का लड़का है। लड़के के पिता से भी पूछताछ हुई थी। उन्होंने बताया कि लड़का खुद टेलर का काम सीख रहा है और उसने ही वह झंडा बनाया भी था। उन्होंने बताया कि लड़के ने जानबूझकर पाकिस्तान जैसा झंडा नहीं बनाया था।’ एसएचओ ने आगे कहा, ‘पाकिस्तान के झंडे और उस लड़के द्वारा फहराए जा रहे झंडे में थोड़ा फर्क है। जैसे पाकिस्तान के झंडे में चांद सितारों से बड़ा होता है। वहीं लड़के के झंडा उससे उल्टा था।’
पुलिस ने लड़के और उसके पिता को फिलहाल छोड़ दिया है लेकिन मामले की जांच फिलहाल चल रही है। पुलिस वीडियो की जांच करके बाकी लोगों को पहचानने की कोशिश कर रही है जिन्होंने झंडा लिया था। एसएचओ ने आगे बताया कि मीटिंग के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों ने माफी मांग ली है। उन्होंने यह भी कहा कि गलती से वह झंडा लेकर जाया गया और उसके पीछे कोई गलत भावना नहीं थी।
फिलहाल पुलिस ने आईपीसी की धारा 295-A (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्य, धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान, किसी भी वर्ग के धार्मिक भावनाओं का अनादर करने का इरादा) के तहत मामला दर्ज किया है।

चुनावी सभा में मनोहर पर्रिकर ने किया नोटबंदी का जिक्र,कहा- इसने कुछ नेताओं को भिखारी बना दिया

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने शनिवार (17 दिसंबर) को गोवा में एक रैली के दौरान कहा कि नोटबंदी के बाद कुछ नेता भिखारी बन गए हैं।

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने शनिवार (17 दिसंबर) को गोवा में एक रैली के दौरान कहा कि नोटबंदी के बाद कुछ नेता भिखारी बन गए हैं। उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों ने गोवा को लूटना ही अपना पेशा बना रखा था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई नोटबंदी के बाद कुछ राजनेता भिखारी हो गए।’ पर्रिकर ने यह बात भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की विजय संकल्प रैली के दौरान कही। रैली पोंडा विधानसभा में हो रही थी। मनोहर पर्रिकर ने दावा किया कि कुछ राजनेताओं को तो दिल का दौरा भी पड़ गया था लेकिन बाद में बताना पड़ा कि दौरा नोटबंदी की वजह से नहीं आया था। पर्रिकर ने कहा कि ऐसे राजनेता फोन से मैसेज कर-करके अपने दोस्तों को कहते हैं कि नोटबंदी की वजह से उन्हें अटैक नहीं आया था।
पर्रिकर ने आगे गोवा का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया कि एक पुल था जिसकी नींव उनसे पहले की सरकार तीन बार रख चुकी थी लेकिन उसका निर्माण शुरू ही नहीं हुआ था। पुल का जिक्र करते हुए पर्रिकर ने कहा, ‘मैंने आते ही उस पुल का काम किया। छह महीने में वह पुल पूरा हो गया। लोगों को यकीन नहीं हुआ। लोगों ने मुझसे आकर कहा कि वह काफी खुश हैं कि इतनी जल्दी पुल का काम हो गया। लेकिन उन लोगों ने मन में एक सवाल भी था, उन्होंने मुझे पूछा कि हमने सुना है कि पुल का काम किसी नरबलि की वजह से रुका हुआ था। इसपर मैंने उन्हें बताया कि हमने लोगों को समझाया था कि ऐसी बातों पर विश्वास ना करें और बलि देनी ही है तो किसी मुर्गे की दे दें।’
गौरतलब है कि अगले साल गोवा में विधानसभा चुनाव होने हैं। इस वजह से पर्रिकर ज्यादा वक्त गोवा में बिता रहे हैं। 4 दिसंबर को भारतीय नौसेना दिवस होता है। लेकिन मनोहर पर्रिकर उस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए भी नहीं पहुंचे थे। जबकि थलसेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग, नेवी चीफ सुनील लांबा, वायुसेना प्रमुख अरुप राहा ने अमर जवान ज्योति पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी। इससे पहले एयरफोर्स दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में भी हिस्‍सा नहीं ले पाए थे।

जल रहा वेनेजुएला, दर्जनों दुकानें लुटीं, कई मौतें, भारत की तरह वहां भी हुई है नोटबंदी

भारत के बाद वेनेजुएला में भी नोटबंदी की गई। लेकिन वहां के लोग भारत के लोगों की तरह शांत स्वभाव के नहीं निकले जिसकी वजह से वहां हिंसा हो रही है।

भारत के बाद वेनेजुएला में भी नोटबंदी की गई। लेकिन वहां के लोग भारत के लोगों की तरह शांत स्वभाव के नहीं निकले जिसकी वजह से वहां हिंसा हो रही है। कुछ खबरों के मुताबिक, उस हिंसा में अबतक दर्जनों दुकानें लूटी जा चुकी हैं और तीन लोगों की जान भी जा चुकी है। हालांकि, सरकार लोगों की जान जाने की बात पर अपनी मुहर नहीं लगा रही। वेनेजुएला में 100 बोलिवर के नोट को बंद करने का ऐलान किया गया था। लोगों को अपने पैसों को खपाने के लिए तीन दिन का वक्त दिया गया था। लेकिन जैसे-जैसे क्रिसमस और नया साल पास आ रहा है लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। लोग हंगामे और हिंसा पर उतार आए हैं।
भारत की तरह वहां का विपक्ष भी नोटबंदी के खिलाफ है। वहां के विपक्ष के नेताओं ने राष्ट्रपति निकोलस माडरू को धमकी दी है कि वह छह साल का अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएंगे जो कि 2019 में खत्म होना है। वहीं राष्ट्रपति ने हिंसा को गलत बताते हुए कहा कि नए नोट जल्द ही चलन में आ जाएंगे और लोगों को हिंसा करने की जरूरत नहीं है। वेनेजुएला के लोगों को भी ज्यादा से ज्यादा ई ट्रांजेक्शन करने को कहा जा रहा है। लेकिन वेनेजुएला के 40 प्रतिशत लोगों के पास बैंक में खाता ही नहीं है। वहां भी बैंक के बाहर लंबी लाइनें लगी हुई हैं और एटीएम में पैसा नहीं है।
वेनेजुएला की सरकरा ने कहा था कि वे लोग माफिया और कालाधन रखने वालों को कमजोर करने के लिए नोटबंदी का कदम उठा रहे हैं। वेनेजुएला इस वक्त 700 प्रतिशत मुद्रास्फिति से जूझ रहा है। इसके अलावा भारत में नोटबंदी के ऐलान के बाद ऑस्ट्रेलिया में नोटबंदी का ऐलान किया जा चुका है। ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने अपने यहां के सबसे बड़े नोट यानी 100 डॉलर के नोट को बंद करने का फैसला ले लिया है।

दुबई वर्ल्‍ड सुपरसीरीज फाइनल: पीवी सिंधू ने कैरोलिन मारिन को दी मात, टूर्नामेंट में उम्‍मीदें जिंदा

भारत की पीवी सिंधू ने रियो ओलंपिक की गोल्‍ड मेडलिस्‍ट केरोलिन मारिन को हराकर बीडब्‍ल्‍यूएफ वर्ल्‍ड सुपरसीरीज के सेमीफाइनल में पहुंच गई हैं। सिंधू ने मारिन को 21-17, 21-14 से सीधे सेटों में मात दी। स्‍पेन की मारिन ने सिंधू को रियो ओलंपिक के फाइनल में हराया था। इसके चलते सिंधू को सिल्‍वर मेडल से ही संतोष करना पड़ा था। सिंधू को इस टूर्नामेंट में ग्रुप बी के अपने पहले मैच में चीन की सून यू ने हरा दिया था। इसके चलते उन पर बाहर होने का खतरा मंडराने लगा था। सिंधू ने 3 में से दो मैच जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। वहीं मारिन एक भी मैच नहीं जीत पाई और बाहर हो गईं।
47 मिनट तक चले मुकाबले में सिंधू आक्रामक मूड में नजर आईं। उन्‍होंने मारिन को वापसी का कोई मौका नहीं दिया। पहले गेम में सिंधू ने ताबड़तोड़ अंक बटोरते हुए 19-14 से बढ़त बना ली थी। इसके बाद मारिन ने लगातार तीन अंक बटोरे लेकिन सिंधू ने संयम रखते हुए दो अंक लेकर गेम अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम में मुकाबला बराबरी पर शुरू हुआ लेकिन थोड़ी ही देर में 8-5 से बढ़त ली। इसके बाद तो सिंधू ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और 15-8 से बढ़त ले ली। मारिन इस स्‍कोर लाइन के बाद हताश हो गईं। इसका फायदा उठाते हुए विश्‍व की नंबर 10 की खिलाड़ी सिंधू ने 21-13 से गेम और मैच अपने नाम कर लिया।

पीएम नरेंद्र मोदी पर बरसे राहुल गांधी- नोटबंदी के फैसले ने लोगों पर फायर बॉम्बिंग की, सबको जला डाला

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने गोवा में भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। उन्‍होंने मनरेगा के मुद्दे पर सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मजदूर गड्ढ़े नहीं खोदता है वह देश का निर्माण करता है। उनका यह बयान पीएम मोदी के संसद में दिए गए उस बयान के जवाब में था जिसमें मोदी ने कहा था कि कांग्रेस की सरकार ने लोगों को गड्ढ़े खोदने को मजबूर कर दिया। राहुल ने आगे कहा कि पिछले ढाई साल में एक प्रतिशत अमीरों ने देश के 60 प्रतिशत पैसे पर कब्‍जा कर लिया। संसद में हंगामे को लेकर उन्‍होंने कहा कि उन्‍हें बोलने नहीं दिया गया।
उन्‍होंने नोटबंदी पर मुद्दे पर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम ने इस फैसले से गरीबों का अपमान किया है। सारा नकद धन काला धन नहीं होता है। साथ ही सारा काला धन नकदी में नहीं होता है। ईमानदार लोग काला धन नहीं रखते। सरकार नाटक कर रही है। हमारी अर्थव्‍यवस्‍था नकदी की है। साल 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान नरेंद्र मोदी के 15 लाख प्रत्‍येक बैंक खाते में आने के वादे का जिक्र करते हुए पूछा कि क्‍या किसी आदमी को 15 लाख रुपये मिले? क्‍या एक भी व्‍यक्ति के खाते में पैसा आया? किसी को भी एक रुपया नहीं मिला। एक प्रतिशत सुपर रिच लोगों ने देश के बैंकों का आठ लाख करोड़ रुपया हड़प लिया है। जब वे लोग पैसा नहीं लौटाते तो केंद्र सरकार उसे नॉन परफॉर्मिंग एसेट कहती है। पिछले ढाई साल में पीएम मोदी ने ऐसे लोगों का 1.10 लाख करोड़ रुपयो माफ कर दिया। उन्‍होंने विजय माल्‍या का 1200 करोड़ रुपये माफ किया।
भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस के रूख को साफ करते हुए राहुल बोले, ”कांग्रेस देश से भ्रष्‍टाचार मिटाना चाहती है। यदि एनडीए सरकार इसके खिलाफ कदम उठाती है तो उनकी पार्टी शत प्रतिशत सहयोग देगी।” नोटबंदी पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा, “नरेंद्र मोदी जी ने कहा एक नया स्‍कीम निकालते हैं मार्केटिंग का, ”भ्रष्‍टाचार और काले धन पर सर्जिकल स्‍ट्राइक। ये सर्जिकल स्‍ट्राइक नहीं थी ये हिंदुस्‍तान के ईमानदार लोगों पर फायरबॉम्बिंग थी। मोदीजी आठ नवंबर को खड़े होते हैं जैसे ओबामाजी खड़े होते हैं और कहा- जो जेब में पैसा है हिंदुस्‍तान के गरीब लोगों का वो अब कागज हो गए हैं। नोटबंदी का मतलब है गरीबों से पैसा खींचो, अमीरो को पैसा सींचो। मोदीजी की कैशलेस इकॉनॉमी में 5-6 प्रतिशत पैसा जादुई रूप से हर ट्रांजेक्‍शन के बाद गायब हो जाएगा। “

स्टिंग में दावा: 40 फीसदी कमिशन पर करोड़ों के पुराने नोट बदलने को तैयार नेता, पार्टी ऑफिस में ही हुई डील

स्टिंग ऑपरेशन में बसपा, सपा, कांग्रेस, जदयू और एनसीपी पार्टी के नेता कमिशन पर पुराने नोट बदलने की डील करते हुए कैमरे में कैद हुए हैं।

नोटबंदी के बाद से पार्टियों के कई नेता कमिशन पर करोड़ों रुपए के पुराने नोट बदल रहे हैं। नेताओं ने अपनी पार्टी ऑफिस को अंडरग्राउंड बैंकों में बदल लिया है। इंडिया टुडे ने यह दावा किया है। इंडिया टुडे का कहना है कि उन्होंने एक स्टिंग ऑपरेशन करके इसका पर्दाफाश किया है। न्यूज चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक इनमें बसपा, सपा, कांग्रेस, एनसीपी और जदयू के नेता शामिल हैं। यह काम दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में हो रहा है।
रिपोर्ट के मुताबिक न्यूज चैनल का एक पत्रकार बिजनसमैन बनकर बसपा के गाजियाबाद जिला अध्यक्ष वीरेंद्र जाटव से उनके पार्टी ऑफिस में ही मिला। वहां पर जाटव 10 करोड़ रुपए बदलने के लिए तैयार हो गए है। उन्होंने इसके लिए 40 फीसदी कमिशन की मांग की। साथ ही जाटव ने कहा कि वे आपके पुराने नोट तुरंत बदलकर कैश दे देंगे। इसके बाद पत्रकार ने समाजवादी पार्टी की नोएडा महानगर यूनिट के एक सदस्य टिटू यादव से मुलाकात की। यादव ने भी पत्रकार से 40 फीसदी कमिशन मांगा।
कुछ नेता तो यह काम दिल्ली में ही कर रहे हैं। इनमें कांग्रेस के नेता भी शामिल हैं। कांग्रेस हेडक्वार्टर में कांग्रेस सदस्य तारिक सिद्दिकी ने पुरानों नोटों को बदलने के लिए पत्रकार का एक एनजीओ से परिचय कराने की बात कही। साथ ही उसने बताया कि और भी कई लोग हैं जो कि पुराने नोटों को नए नोटों से बदल रहे हैं। सिद्दिकी दिल्ली के अल्पसंख्यक वित्त निगम के पूर्व डायरेक्टर हैं। इनके साथ ही एनसीपी दिल्ली ब्रांच के महासचिव रवि कुमार 30 फीसदी कमिशन पर एक करोड़ के पुराने नोट बदलने को तैयार हो गए। उन्होंने कहा कि वे चेक में आपकी 70 फीसदी रकम वापस लौटा देंगे। जब उनसे पूछा गया कि चेक को किस तरह से यूज किया जाएगा। तो उन्होंने एक फर्जी पीआर कंपनी बनाने का आइडिया दिया। और कहा कि उनकी पार्टी पेपर्स पर उनकी फर्जी कंपनी को हायर कर लेगी और दिखा देगी कि आपकी कंपनी ने हमारी पार्टी के लिए पीआर वर्क किया था।
इनके साथ ही जदयू दल के दिल्ली यूनिट के वाइस प्रेसिडेंट सतीश सैनी 30 फीसदी कमिशन पर 10 करोड़ के पुराने नोट बदलने को तैयार हो गए। यह स्टिंग इंडिया टुडे न्यूज चैनल पर प्रसारित किया गया है।

कोहरे का असर: 81 ट्रेन लेट, पांच रद्द और 10 का समय बदला, दो फ्लाइट भी कैंसल

राजधानी दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, बिहार और राजस्‍थान में घना कोहरा देखने को मिल रहा है। इसके चलते रेल और हवाई यातायात घुटनों पर आ गया है।

उत्‍तरी भारत में कोहरे का असर मंगलवार(13 दिसंबर) को भी जारी रहा। राजधानी दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, बिहार और राजस्‍थान में घना कोहरा देखने को मिल रहा है। इसके चलते रेल और हवाई यातायात घुटनों पर आ गया है। दिल्‍ली से रवाना होने वाली पांच ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। उत्‍तरी रेलवे की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, 81 ट्रेन देरी से चल रही हैं, 10 ट्रेनों के समय बदलाव किया गया है। जिन ट्रेनों पर सबसे ज्‍यादा असर पड़ा हैं उनमें से अधिकतर यूपी, बिहार को जाने या आने वाली हैं। रेलवे की ओर से हजरत निजामुद्दीन अंबाला पैसेंजर, महाबोधि एक्‍सप्रेस और बिहार संपर्क क्रांति शामिल है। ट्रेनों के लेट होने या रद्द होने से यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। कई यात्री घंटों से रेलवे स्‍टेशनों पर बैठें हैं। रेलवे ने अगले तीन दिन तक की ट्रेनों को रद्द किया है। कई रेलगाडि़यां तो 22 से 24 घंटे तक देरी से चल रही हैं।
हवाई यातायात की बात करें तो दो फ्लाइट कैंसल कर दी गई हैं। इसके साथ ही पांच इंटरनेशनल फ्लाइट और आठ घरेलू फ्लाइट देरी से चल रही हैं। सड़क परिवहन पर ज्‍यादा असर देखने नहीं मिला है। इससे पहले सोमवार (12 दिसंबर) को भी दिल्‍ली से रवाना होने वाली 12 गाडि़यों को कैंसल कर दिया गया था। वहीं यहां से आने/जाने वाली 82 रेलगाडि़यां देरी से पहुंची थी। साथ ही 23 गाडि़यों का समय बदला गया था।