छत्तीसगढ़

सिकासेर बांध के 22 में से 17 गेट खोले, 7 जिलों में अलर्ट हुवा जारी,

रायपुर:-कई इलाकों में लगातार हो रही भारी बारिश अब आफत बनने लग गई है. गत तीन दिन से राज्य के विभिन्न इलाकों में बादल जमकर बरस रहे हैं. इससे नदी नाले उफान पर आ गये हैं. कई शहरों और गांवों में पानी घुस गया है. भारी बारिश के चलते आवागमन बाधित (Traffic Jam) होने लग गया है. रायपुर-जगदलपुर हाईवे को बंद कर दिया गया है. सिकासेर बांध के 22 में से 17 गेट खोल दिये गए हैं. मौसम विभाग ने आज भी कई जिलों में भारी बारिश का अनुमान जताया है. राज्य के सात जिलों के लिये तो रेड अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक छत्तीसगढ़ के मुंगेली, कबीरधाम, दुर्ग, बेमेतरा, राजनांदगांव, बालोद तथा कांकेर जिलों और उनके आसपास के इलाकों में अति भारी बरसात होने की संभावना है. यहां आकाशीय बिजली गिरने के भी आसार जताये गये हैं. जबकि जशपुर, बलरामपुर, बस्तर, दंतेवाड़ा, कोरिया, सूरजपुर, सरगुजा, सुकमा और बीजापुर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बरसात की संभावना जताई जा रही है. इनमें से कई इलाकों में अभी से बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं. वहीं राजधानी रायगढ़ समेत बिलासपुर, बलौदा बाजार, जांजगीर-चांपा, कोरबा, गरियाबंद, नारायणपुर, धमतरी, महासमुंद और कोण्डागांव जिलों में भी अच्छी बारिश की संभावना जताई गई है।

कैचमेंट एरिया में हो रही लगातार बारिश से बांधों की स्थिति में आया सुधार में जलाशयों में 55.60 प्रतिशत औसतन जलभराव

धमतरी:-पिछले कुछ दिनों से हो रही अच्छी बारिश के चलते जिले के चारों जलाशयों में जलभराव की स्थिति में काफी सुधार आया है। वहीं जलाशयों के कैचमेंट एरिया में भी लगातार बारिश होने के बांधों में पानी की आवक मजबूत हुई है। जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के बांधों में आज की स्थिति में 55.60 प्रतिशत औसतन जलभराव है। इनमें रविशंकर जलाशय गंगरेल बांध में 56.20 प्रतिशत, बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव मुरूमसिल्ली जलाशय में 73 प्रतिशत, दुधावा में 39 प्रतिशत तथा सोंढूर जलाशय में 54.15 प्रतिशत जलभराव है। इस संबंध में बताया गया है कि आज दोपहर 12 बजे की स्थिति में गंगरेल जलाशय में 23127 क्यूसेक पानी, मुरूमसिल्ली में 5833, दुधावा में 3442 तथा सोंढूर जलाशय में 2458 क्यूसेक (घनमीटर प्रति सेकण्ड) पानी की आवक बनी हुई है। इस तरह रविशंकर जलाशय में 20.289 टीएमसी, मुरूमसिल्ली में 4.292 टीएमसी, दुधावा में 4.060 और सोंढूर जलाशय में 4.087 टीएमसी पानी की उपलब्धता है। कार्यपालन अभियंता जल संसाधन विभाग श्री ए.के. पालड़िया ने बताया कि कैचमेंट एरिया में लगातार हो रही बारिश से इन जलाशयों में तेजी से जलभराव हो रहा है तथा पानी की आवक के आंकड़ों में वृद्धि हो रही है।

छत्तीसगढ़: कोर्ट रूम के बाहर आकर जज ने पार्किंग में सुनाया फैसला।

दिसंबर 2018 में रायगढ़ शहर के मानिकपुर इलाके में एक ट्रेलर से कंवर की कार टकरा गई थी। इसमें उन्हें गंभीर चोटें आईं थीं। इसके बाद उन्हें लकवा भी मार गया था। इस वजह से वह बिस्तर पर रहने को मजबूर हो गए। विस्तार छत्तीसगढ़ की एक अदालत में एक मानवीय घटना देखने को मिली। यहां के कोरबा में एक जिला अदालत के न्यायाधीश ने कोर्ट रूम की चार दीवारों से बाहर आकर एक 42 वर्षीय व्यक्ति को 20 लाख रुपये का मुआवजा दिया। दरअसल, व्यक्ति को 2018 में एक सड़क दुर्घटना में गंभीर चोटें आईं थीं। इसके बाद उसे लकवा भी मार गया था। दुर्घटना की शिकार द्वारिका प्रसाद कंवर अपनी सेहत की वजह से कोर्ट रूम में नहीं जा पा रहे थे। सरकारी जनसंपर्क अधिकारी ने रविवार को बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष और जिला एवं सत्र न्यायलय के जज बीपी वर्मा शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत के दौरान कंवर के मुआवजे के केस की सुनवाई कर रहे थे। जब उन्हें कंवर के स्वास्थ्य के बारे में पता चला, तो जज कोर्ट रूम से बाहर आए और कोर्ट परिसर के पार्किंग एरिया तक गए, जहां पीड़ित अपने वाहन में इंतजार कर रहा था। अधिकारी ने बताया कि कंवर के वकील पीएस राजपूत और प्रतिवादी बीमा कंपनी के वकील रामनारायण राठौर भी जज के साथ पार्किंग तक गए। इसके बाद जज ने वहीं पर फैसला सुनाया। न्यायाधीश ने बीमा कंपनी को पीड़िता को 20 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया। बता दें कि दिसंबर 2018 में रायगढ़ शहर के मानिकपुर इलाके में एक ट्रेलर से उनकी कार के टकरा जाने से कंवर को कई चोटें आई थीं। दुर्घटना में उन्हें रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर सहित कई गंभीर चोटें आई थीं। इसके बाद उन्हें लकवा भी मार गया था। इस वजह से वह बिस्तर पर रहने को मजबूर हो गए और अपने आप चलने-फिरने में असमर्थ हो गए। कंवर ने यह कहते हुए बीमा कंपनी से मुआवजे की मांग की कि उनके परिवार को उनके दुर्घटना के कारण आर्थिक रूप से नुकसान उठाना पड़ा। फैसले के बाद पीड़ित ने मामले के निस्तारण पर आभार व्यक्त किया। बता दें कि यह मामला पिछले तीन साल से लंबित था।

शिवरीनारायण क्षेत्र में लगातार 4 दिनों से झमाझम बारिश से जनजीवन अस्त-ब्यस्त

BBN24●Ashish Kashyap शिवरीनारायण:-शिवरीनारायण क्षेत्र में लगातार चौथे दिन भी बारिश हो रही हैं जिससे लोगों का जन जीवन अस्त-ब्यस्त हो गया है, शिवरीनारायण महानदी त्रिवेणी संगम में सुबह से गंदे पानी के साथ गन्दे झाग बह रही हैं। वही महानदी के पानी बढ़ने से नदी के टापू डूबने के कगार पर हैं। शबरी सेतु पुल से नीचे पानी चल रहा हैं। कुछ दिन पहले पानी को लेकर किसान चिंतित थे और पानी नही गिरने से खेत सुख गये थे और धान की फसल सूखने के कगार पर थे। अब खंड वर्षा होने से शिवरीनारायण क्षेत्र सहित आस पास के गावों के किसान की चिंता दूर हो गई हैं शिवरीनारायण क्षेत्र में रात एवं दिन में बिजली की चमक के साथ रुक रुक कर बारिश हो रही हैं।

सूरजपुर पुलिस ने 8 लाख कीमत के गुम हुए 50 मोबाईल बरामद कर उनके वारिसानों को किया सुपुर्द

सूरजपुर:-जिले में गुम हुए मोबाइलों को खोजने के लिए सूरजपुर पुलिस के द्वारा अभियान निरंतर चलाया जा रहा है। पुलिस अधीक्षक श्रीमती भावना गुप्ता के निर्देश पर सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में गुम मोबाईल की सूचना देने की सुविधा भी मौजूद है जिसके माध्यम से जिलेवासी आसानी से अपने गुम हुए मोबाईल के बारे में लिंक https://forms.gle/hYeR5TfNft3yqTet7 पर क्लीक कर गुम मोबाईल का ब्यौरा दर्ज करा रहे है। पुलिस के इस नई पहल के बाद बीते माह में 30 गुम मोबाईल रिकव्हर कर उनके वारिशानों को वापस किया गया था और इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए सोमवार 13 सितम्बर को पुलिस अधीक्षक ने 50 नग गुम मोबाईल जिन्हें सर्विलांस में लगाकर ट्रेस किया गया था उन्हें संबंधितों को सौंपा है। पुलिस अधीक्षक श्रीमती भावना गुप्ता ने बताया कि लोगों के गुम हुए मोबाइल की सूचना देने के लिए ऑनलाईन सुविधा सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में मौजूद है जिसके जरिए लोग अब आसानी से अपने गुम हुए मोबाईल की जानकारी हम तक पहुंचा पा रहे है। उन्होंने बताया कि गुम मोबाईल को रिकव्हर करने के लिए पुलिस की टीम गठित की गई है, गुम हुए मोबाईल खोजने का यह अभियान निरंतर जारी रहेगा। गुम मोबाईल वितरण कार्यक्रम में जिनके मोबाईल गुमे थे वे अपना मोबाईल लेने उपस्थित हुए थे उन्हें अपने गांव घर के आसपास रहने वाले लोगों को भी गुम मोबाईल खोजबीन के लिए सूरजपुर पुलिस के ब्लाग में मौजूद सुविधा एवं उपरोक्त लिंक के बारे में बताने को कहा। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर, एएसपी मुख्यालय पीएस महिलाने, स्थापना प्रभारी अखिलेश सिंह सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। करीब 8 लाख रुपए की कीमत के 50 मोबाइल सुपुर्द किए। जिनमें आवेदक रामजी साहू, विनय कुमार मिश्रा, प्रहलाद अग्रवाल, अरविंद यादव, राजेश अग्रवाल, संजय सिंह ठाकुर, सुशांत कुमार, आकाश आदिल, सोनी प्रसाद कुशवाहा, राहुल साहू, शिवचंद साहू, हेमंत कुमार, टेकराम सिंह, राजू सिंह, अमर व अफरोज खान को उनके गुम हुए मोबाईल को दिया गया। इसके अलावा 34 अन्य लोग जो जिले के विभिन्न क्षेत्र के निवासी है उन्हें संबंधित थाना-चौकी के माध्यम से मोबाईल को सौंपा जाएगा। मोबाइल खोजने में साइबर सेल से आरक्षक युवराज यादव, रौशन सिंह, विनोद सारथी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

बारिश में भाजपाइयों ने सड़क पर खड़ा होकर अच्छे सड़क की मांग, जिला मुख्यालय के किरोड़ीमल चौक में किया प्रदर्शन

रायगढ़:-रायगढ़ जिले में हाईवे से लेकर शहर व गांव की सड़कें बद से बदतर की स्थिति में पहुंच चुकी है और यहां गड्ढो में सड़क हैं या सड़को में गडढे यह पता नही चल पा रहा है। आए दिन इन बदहाल सड़कों के चलते दुर्घटनाओं में भी इजाफा हुआ है और रोजाना एक मौत सड़क हादसे में हो रही है। बरसात के समय तेज गति से सड़क पर दौड़ते वाहनों के चलते भी सड़क लगभग गायब हो गई है और इसी को लेकर आज जिला भाजपा ने भूपेश बघेल के खिलाफ नारेबाजी करते हुए इन सड़कों को जल्द से जल्द बनाने तथा दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की। जिला मुख्यालय स्थित किरोड़ीमल चौक पर धरना प्रदर्शन करते हुए चक्काजाम भी किया। इस दौरान भारी बारिश भी भाजपा कार्यकर्ताओं को रोक नही पाई और तेज बारिश में भी भाजपा के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ साथ महिला पदाधिकारियों ने भी हिस्सा लेकर छत्तीसगढ़ सरकार को घेरा। रायगढ़ से लेकर जशपुर, रायगढ़ से लेकर खरसिया और रायगढ़ से लेकर सारंगढ़ की ओर जाने वाली सड़कों की बदहाल स्थिति को लेकर आज भाजपा ने अपने पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार जिला मुख्यालय के किरोड़ीमल चौक में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए सड़कों की स्थिति जल्द से जल्द सुधारने की मांग की। भाजपा के प्रदेश कार्य समिति के सदस्य गुरूपाल भल्ला, श्रीकांत सोमावार, आलोक सिंह, नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष पूनम सोलंकी, वरिष्ठ भाजपा नेत्री व नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष शीला तिवारी, अल्प संख्यक मोर्चा के अफरोज डायमंड, विकास केडिया, अंशु टूटेजा सहित सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। इस विरोध प्रदर्शन में सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी कि भारी बारिश के बीच भी भाजपा कार्यकर्ताओं का यह प्रदर्शन जारी रहा। भीगते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों की स्थिति को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित पीडब्ल्यूडी के खिलाफ भी नारेबाजी की और यह आरोप लगाया कि कांग्रेस शासन में हाईवे तथा शहर के बाहर व भीतर सड़कों की स्थिति गड्ढो के चलते यह है कि रोजाना दुर्घटनाओं से लोगों की जान जा रही है लेकिन सरकार इस मामले में कोई ध्यान नही दे रही है। घंटो तक चले इस प्रदर्शन में किरोड़ीमल चौक में कार्यकर्ताओं ने लगभग एक घंटे तक भारी से भरे सड़कों के गड्ढो में बैठकर चक्काजाम भी किया और प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर सड़कों की हालत सुधारने की मांग की। इस दौरान सिटी कोतवाली के थाना प्रभारी मनीष नागर व उनकी टीम भी मौजूद थी।

अगले 4 दिन तक भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट!

भोपाल/रायपुर: मौसम विभाग ने बस्तर और सरगुजा संभाग के 6 जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं पूरे प्रदेशभर के बाकी जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। शुक्रवार शाम से ही प्रदेशभर के अलग-अलग हिस्सों में लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है। ये स्थिति आने वाले 4 दिनों के लिए और बनी रहेगी। प्रदेश में गरज-चमक के साथ एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ़ के साथ मध्य छत्तीसगढ़ रहने की संभावना है। एक निम्न दाब का क्षेत्र पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे लगे उत्तर- पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर स्थित है। इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। वहीं, मध्यप्रदेश में मानसून इस बार काफी मेहरबान है। प्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश दर्ज की गई है। वहीं अगले 24 घंटों के लिए मौसम विभाग ने फिर अलर्ट जारी किया है। छतरपुर, उमरिया, कटनी, बालाघाट, सिवनी, डिंडौरी, शहडोल में भारी बारिश हो सकती है। वहीं जबलपुर, शहडोल, सागर, होशंगाबाद, भोपाल, ग्वालियर-चंबल संभाग में भी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में एक लो प्रेशर बना हुआ है, जिसकी वजह से 15 से 16 सितंबर तक प्रदेश में अच्छी बारिश की उम्मीद है।

खरौद के लक्ष्मणेश्वर महाविद्यालय का घेराव आज, 13 सूत्रीय मांगों को लेकर ABVP करेगा कॉलेज प्रशासन के खिलाफ घेराव

BBN24●Ashish Kashyap शिवरीनारायण:-अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद खरौद के द्वारा लक्ष्मणेश्वर महाविद्यालय का करेगा घेराव आज आपको बता दे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद 13 सूत्रीय मांगों को लेकर आज 13 अगस्त को 10 बजे से लक्ष्मणेश्वर महाविद्यालय का घेराव करेगा। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के द्वारा इन 13 प्रमुख मांगों में मुख्य रुप से बी.ए. बी.एस.सी, पी.जी.डी.सी.ए. एम.काम में सीटों की वृद्धि, महाविद्यालय में पेयजल व साफ सफाई की उचित व्यवस्था करने, महाविद्यालय में एम एस सी विषय की मांग, नियमित टीचर की कमी, महाविद्यालय में जल्द से जल्द बाउंड्रीवाल निर्माण, पुस्तकालय में सभी विषयों की पुस्तक की उचित व्यवस्था, गर्ल्स कामन रूम की व्यवस्था, कालेज प्रशासन द्वारा गलत तरीके से प्रवेश दिया गया है, उसकी जांच कर उचित कार्यवाही, प्राचार्य व कालेज स्टॉफ द्वारा छात्र छात्रों से दुर्व्यवहार पर रोक लगाने, महाविद्यालय द्वारा अनावश्यक खर्च पर प्रतिबंध, पार्किंग की व्यवस्था करने, सभी छात्रों को सामान्य रूप से पुस्तकें वितरण करने के साथ लक्ष्मणेश्वर महाविद्यालय को पीजी कॉलेज का दर्जा देना शामिल है वही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने 13 सूत्रीय मांगों को लेकर सभी छात्र-छात्राओ को बड़ी सँख्या में कॉलेज प्रबंधन के ख़िलाफ़ आवाज उठाने के लिए आमंत्रित किया हैं।

छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस सेवा के 6 अधिकारियों का तबादला

रायपुर:-छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस सेवा के 6 अधिकारियों का तबादला किया गया है. यह ट्रांसफर प्रशासनिक दृष्टिकोण से किया गया है. सुखनंदन राठौड़ को एएसपी- एटीएस, रामगोपाल करियारे को ज़ोनल पुलिस अधीक्षक बिलासपुर, अर्चना झा को एएसपी गौरेल,पेंड्रा, मरवाही, कीर्तन राठौड़ को एएसपी रायपुर ग्रामीण, अभिषेक वर्मा को एएसपी कोरबा और लखन पटले को एएसपी रायगढ़ बनाया गया है।

छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के संकेत! इस जिले में सिनेमा घरों और वाटर पार्क को बंद करने के आदेश जारी, बढ़े कोरोना के नए मामले।

पूरे देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच छत्तीसगढ़ में कुछ जगहों पर कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। राजनांदगांव।  पूरे देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच छत्तीसगढ़ में कुछ जगहों पर कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र की सीमा से लगे राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ ब्लॉक में सबसे ज्यादा कोरोना के पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं, इसको देखते हुए ऐतिहातन शहर के सिनेमा घरों और वाटर पार्क को बंद करने का आदेश प्रशासन द्वारा जारी कर दिया गया है। प्रशासन के इस फैसले को ज्यादा केस बढ़ने पर लॉकडाउन के संकेत भी माना जा रहा है। राजनांदगांव जिला प्रशासन अब बढ़ते कोरोना मरीजों को देखते हुए अलर्ट मोड पर है, जिला प्रशासन लगातार अपने पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र के आंकड़ों पर नजर बनाए हुए है और साथ ही साथ तीसरी लहर से निपटने के लिए भी जिला प्रशासन पूरी तरह तैयार है, कलेक्टर ने आम जनता से कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन की अपील की है और साथ ही साथ आगामी त्योहारों के समय को देखते हुए कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने की भी अपील की है। गौरतलब है कि दूसरी लहर के शुरुआती दौर में छत्तीसगढ़ के सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले महाराष्ट्र सीमा से लगे इलाकों में ही सामने आए थे, इसको देखते हुए प्रशासन अलर्ट मोड में है और ऐहतियातन सिनेमा घर और वाटर पार्क को बंद कर दिया गया है। वर्तमान में राजनांदगांव में कोरोना के कुल 17 एक्टिव केस हैं, इनमें से ज्यादातर डोंगरगढ़ ब्लॉक के मरीज हैं, राज्यभर में बीते 24 घंटे में कोराना के 25 नए संक्रमितों की पहचान की गई है

एलायंस क्लब इन्टरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया द्वारा जन्मदिवस पर वृक्षारोपण, गौ माताओं को गुड़ रोटी, मछलियों को आटा एवं मुर्रा खिलाया गया

खरसिया:-एलायंस क्लब इन्टरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया द्वारा नगर में नये पीढ़ी के जनरैशन को संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से जन्मदिवस को सुन्दर तरीके से मनाने की शुरुआत की। अवसर था छत्तीसगढ़ शहीद भगतसिंह ब्रिगेड के प्रदेश युवा सचिव एवं एलायंस क्लब इंटरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया के PRO अमित साहू के जन्मदिवस का जिसमें सभी आदरणीय पदाधिकारीगणों व सदस्यगणों की उपस्तिथि में सर्व प्रथम गायत्री शक्ति पीठ में मां गायत्री, मां दुर्गा, मां लक्ष्मी एवं परम पूज्य गुरुदेव एवं वन्दनीय माता जी का आशीर्वाद प्राप्त कर मंदिर के प्रांगण में वृक्षारोपण किया गया एवं श्री शिव मंदिर भगत तालाब खरसिया में मछली को मुर्रा व आटा की गोलियां खिलाया गया व नगर के विभिन्न चौक चौराहों में विश्व पूजित सम्पूर्ण देवी देवता स्वरूपा गौ माता को रोटी गुड़ का भोग लगाया गया। इस अवसर पर विशेष रूप से एलायंस क्लब इंटरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया के चार्टर अध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ शहीद भगतसिंह ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष राकेश अग्रवाल गायत्री, एलायंस क्लब इन्टरनेशनल खरसिया के उपाध्यक्ष गोपाल दास अग्रवाल, द्वितीय उपाध्यक्ष श्रीमति आशा देवी अग्रवाल ,सचिव आकाश शर्मा, पीआरओ अमित साहू , टेलटिस्टर दिलीप अग्रवाल एवं सुरेश कबुलपुरिया व विकास अग्रवाल इत्यादि सदस्यगण की उपस्थिति रही। एलायंस क्लब इन्टरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया द्वारा अपने क्लब के नाम के अनुरूप तुलसी के पौधे, गुलाब फूल, शांतिकुंज हरिद्वार से संपादित जीवन उपयोगी साहित्य पुस्तक भेट किया गया व जन्मदिन की सभी के द्वारा दीर्घायु जीवन का आशीर्वाद व स्नेह प्रदान किया। इस अवसर पर क्लब के PRO अमित साहू ने सभी एलायंस क्लब इंटरनेशनल ग्रीन सिटी खरसिया एवं छत्तीसगढ़ शहीद भगतसिंह ब्रिगेड के पदाधिकारीगणों व सदस्यगणों व आदरणीय, वरिष्ठ जनों व मित्र गणों का दिल के गहराइयों से धन्यवाद ज्ञापित किया।

रायपुर से भिलाई के लिए ट्रक सरिया लेकर निकला ट्रक ड्राइवर समेत लापता,खमतराई पुलिस ने किया मामला दर्ज

रायपुर:-रायपुर से भिलाई के लिए ट्रक सरिया लेकर निकला ट्रक ड्राइवर समेत लापता,मिली जानकारी के मुताबिक भनपुरी रायपुर निवासी दशरह पाल ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि वह ब्यास तालाब भनपुरी के पास स्थित गुड्स केरियर में सुपवाईजर है। 23 अगस्त को गाड़ी नंबर सीजी 04 एम एक्स 8319 गाड़ी ड्राईवर कृष्णा कुमार सोनी निवासी रायपुर भनपुरी ने गाड़ी में छड़ लोड करके भिलाई के लिए निकला था । माल भिलाई इंजीनियरिंग कर्पोरेशन पहुंचाना था लेकिन 11 सितंबर तक माल नही पहुंचा। प्रार्थी को संदेह है कि 65 हजार 690 रुपये का माल को वाहन चालक ने रास्ते में किसी और को बेचकर फरार हो गया है। मामले की शिकायत पर पुलिस ने ट्रक चालक कृष्णा कुमार सोनी निवासी खमतराई रायपुर के खिलाफ धारा 407 के तहत अमानत में ख्यानत का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है।

जगदलपुर से बीजापुर व हैदराबाद अब रात्रि बस सेवा शुरू।

बीजापुर - जिले में कभी नक्सली भय के चलते रात्रिकालीन बस सेवा बीजापुर की ओर नही चला करती थी , आज बीजापुर के एनएच63 से दूसरे राज्य में भी यात्री बसों का संचालन शुरू हो गया है , बताया जाता है कि पहले जगदलपुर से बीजापुर व बीजापुर से भोपालपटनम तक ही बस सेवा का संचालन होता था, अन्य राज्यो से यात्रियों के लिये टैक्सी ही एक विकल्प हुआ करता था .तब के दिनों में सड़को पर नक्सलियों के भय से रात्रिकालीन बसों को मजबूरन भोपालपटनम तक ही परमिट लिया गया था. कृष्णा ट्रेवल्स के संचालक दीपक शर्मा ने जगदलपुर से हैदराबाद के लिए अब रात्रि बस सेवा का संचालन शुरू किया है . यह बस जगदलपुर से हैदराबाद रात्रि 7:00 बजे निकलेगी ओर बीजापुर से रात्रि 10:30 बजे हैदराबाद के लिए रवाना होगी. जिसके लौटने के समय हैदराबाद से रात्रि 7:00 बजे व बीजापुर प्रातः 4:15 व जगदलपुर प्रातः 7:00 पहुंचेगी . बीजापुर से अन्य राज्य के लिए रात्रिकालीन बस सेवा के संचालन से यात्रियों के लिये राहत भरी खबर है ।

छत्तीसगढ़ के विकास में जनता की भागीदारी सुनिश्चित करते हुए गढ़ा जा रहा नवा छत्तीसगढ़: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर:-मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आकाशवाणी से हर माह प्रसारित होने वाली लोकवाणी की 21वीं कड़ी (आपकी बात-मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के साथ) में बात-चीत की शुरूआत जय जोहार के अभिवादन के साथ की। उन्होंने कहा कि आज का विषय ‘जिला स्तर पर विशेष रणनीति से विकास की नई राह’ है। इसमें स्थानीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए समस्याओं को चिन्हित करना, उनके समाधान की तलाश करना, उन्हें लागू करना और जनता को राहत दिलाना है। इस कड़ी में सभी जिलों के समन्वित विकास के लिए स्थानीय जनता की सोच, इच्छा तथा अपेक्षा के अनुरूप काम करने में जिला प्रशासन को और अधिक सक्षम बनाया जा रहा है। इस तरह राज्य में प्रत्येक व्यक्ति को सशक्त बनाते हुए विकास में उनकी भागीदारी सुनिश्चित कर नवा छत्तीसगढ़ को गढ़ा जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि गणेश चतुर्थी, नवा खाई तथा विश्वकर्मा जयंती जैसे कई पावन पर्वों के अवसर पर इस महीने के लोकवाणी का प्रसारण हो रहा है। आप सभी सावधानी तथा सुरक्षा के साथ इन पर्वों को खुशी-खुशी मनाते हुए सामाजिक एकता, सौहार्द्र और समरसता की हमारी महान विरासत को आगे बढ़ाएं।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि प्रशासनिक इकाई के रूप में जिलों को महत्व देते हुए हमने अल्प समय में ही 5 नये जिले बनाने की पहल की है। साथ ही जिला स्तर पर जनहितकारी योजनाएं, कार्यक्रम और अभियान संचालित करने की खुली छूट दी है, ताकि स्थानीय जनता की सोच, इच्छा और अपेक्षा के अनुरूप काम करने में जिला प्रशासन अधिक सक्षम हो सके। रेडियो कार्यक्रम लोकवाणी में बताया गया कि छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के समन्वित विकास के लिए आमजनता की समस्याओं को संवेदनशीलता के साथ सुनने और स्थानीय जरूरत के हिसाब से कदम उठाने के लिए प्रशासन को फ्री-हेंड दिया गया है। इस तरह आमजनों के जीवन-स्तर का तीव्र उन्नयन और उनकी आजीविका के लिए स्थायी समाधान पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

कोदो-कुटकी तथा रागी फसलों के लिए छत्तीसगढ़ मिलेट मिशन

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आगे कहा कि आर्थिक तंगी और कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से हमारे प्रदेशवासियों को किसी तरह की तकलीफ न हो, बल्कि उनकी सुविधाओं में बढ़ोत्तरी का सिलसिला लगातार आगे बढ़ता रहे, इस बात को ध्यान में रखते हुए हमने छत्तीसगढ़ में अनेक नये-नये उपाए किए हैं। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए अब लघु धान्य फसलों का उत्पादन बढ़ाने के साथ इन्हें बेहतर दाम तथा सुविधाएं देने की पहल की है। इसके लिए छत्तीसगढ़ मिलेट मिशन की स्थापना की गई है और उत्पादन में वृद्धि तथा प्रसंस्करण के लिए व्यापक कार्ययोजना बनाई जा रही है। लघु धान्य फसलें पोषण की दृष्टि से बहुत उपयोगी होती है लेकिन इन फसलों को अन्य कृषि उत्पादों की तुलना में कम महत्व मिलता रहा है। इन फसलों का उत्पादन करने वाले किसानों को भी अन्य किसानों की तुलना में कम महत्व मिलता रहा है। हमने इसे ध्यान में रखते हुए आवश्यक पहल की है। राज्य के बस्तर संभाग अंतर्गत दंतेवाड़ा, सुकमा, कांकेर जिलों में कुछ लघु धान्य प्रसंस्करण इकाइयां शुरु भी हो चुकी हैं लेकिन अब बड़ी संख्या में ऐसी इकाइयां लगाई जाएंगी। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के विस्तार में इस बात का ध्यान रखा गया है कि जो किसान धान के बदले कोदो-कुटकी-रागी की फसल लेंगे, उन्हें प्रति एकड़ 10 हजार रुपए की आदान सहायता दी जाएगी, जो फसल बेचने से होने वाली उनकी आय के अतिरिक्त होगी। मैंने विधानसभा में घोषणा की थी कि आदिवासी अंचलों में उपजाई जाने वाली कोदो-कुटकी और रागी फसल की खरीदी समर्थन मूल्य पर की जाएगी। मुझे यह बताते हुए खुशी है कि हमने कोदो-कुटकी का समर्थन मूल्य 3 हजार रुपए प्रति क्विंटल और रागी का समर्थन मूल्य 3 हजार 377 रुपए प्रति क्विंटल तय कर दिया है। इनको खरीदने की व्यवस्था भी लघु वनोपज संघ के माध्यम से कर दी गई है।

छत्तीसगढ़ में सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के सिलसिला में मैंने निर्देश दिए थे कि सड़क, सिंचाई, बिजली या ऐसी किसी भी अधोसंरचना की बड़ी परियोजनाओं को हाथ में लेने के साथ ही, इस बात पर ध्यान दिया जाए कि अधूरी पड़ी या किसी भी कारण से अनुपयोगी हो गई परियोजनाओं को प्राथमिकता से पूरा किया जाए, जिससे उस परियोजना में निवेश हो चुकी धनराशि का लाभ जनता को मिल सके। मुझे खुशी है कि दुर्ग जिले में इस सोच को साकार करने के लिए गंभीरता से पहल की गई। सिपकोना नहर के बारे में कहा जाता है कि यह नहर एशिया की सबसे लंबी नहरों में शामिल है। बताया गया कि वर्ष 2008 में इसे आधा-अधूरा छोड़ दिया गया। लाइनिंग, सफाई और मरम्मत पर ध्यान दिया जाता तो इस योजना में हुए निवेश का बहुत लाभ किसान भाई-बहनों को मिलता।

मुझे खुशी है कि जिला प्रशासन ने पहल करके सिपकोना नहर को 22 की जगह 51 गांवों की जीवन-रेखा बनाने की दिशा में काम शुरू किया। इस तरह रणनीति अपनाने से पहले जहां सिर्फ 22 गांवों को पानी मिल पाता था, वहीं अब 51 गांवों में पहुंचेगा। बालोद जिले के गुण्डरदेही विकासखण्ड के 7 गांवों में 1 हजार 259 हेक्टेयर और दुर्ग जिले के पाटन विकासखण्ड के 44 गांवों में 10 हजार 252 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा दी जाएगी। मुझे लगता है कि कम खर्च में ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलाने का यह बहुत अच्छा मॉडल है। इसमें सिंचाई विभाग के अलावा मनरेगा की मदद भी ली जा रही है, जिससे बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी मिल रहा है। यह कन्वरजेन्स का भी एक अच्छा प्रयास है।

नंदिनी माइंस वृहद ईको पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बताया कि दुर्ग शहर से 25 किलोमीटर दूरी पर स्थित ग्राम नंदिनी में 2500 एकड़ की जमीन में पहले चूना पत्थर की खदान थी। बरसों से इस खदान में खनन गतिविधियां बंद हैं। जिला प्रशासन ने बहुत व्यापक सोच के साथ इस क्षेत्र में जंगल विकसित करने की कार्ययोजना बनाई है, जो दुर्ग-भिलाई के औद्योगिक प्रदूषण से निपटने में भी मदद करेगा और प्रदेश के पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों को भी बल मिलेगा। इस क्षेत्र में 80 हजार से अधिक पौधे लगाने का काम शुरू किया गया है, जिससे बहुस्तरीय वन का विकास होगा। यहां घास प्रजाति का पौधरोपण भी किया जाएगा ताकि पशुओं को अच्छी गुणवत्ता का चारा मिल सके। परियोजना के तहत जैव विविधता का संरक्षण भी किया जाएगा जिससे इस मानव निर्मित विशाल वन क्षेत्र में वन्यप्राणियों का बसेरा और समूचा अंचल वृहद ईको पर्यटन स्थल के रूप में आकर्षण का केन्द्र बनेगा।

आदिवासी अंचल में नवाचारों का बड़े पैमाने पर मिल रहा लाभ

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के समग्र विकास के लिए आदिवासी अंचल में भी कई ऐसे नवाचार किए गए हैं, जिसका लाभ अब लोगों को बड़े तादाद में मिलने लगा है। उन्होंने बताया कि इनमें मलेरियामुक्त बस्तर अभियान के माध्यम से लोगों को बहुत बड़ी राहत दिलाई है। आज मलेरियामुक्त बस्तर अभियान की सफलता की चर्चा चारों तरफ हो रही है। निश्चित तौर पर बस्तर को मलेरिया से बचाने की सोच और उस पर जिस तरह से अमल किया गया, उसे एक नवाचार ही माना जाएगा। हमारी सरकार बनने के बाद बस्तर संभाग के सातों जिलों में जब हमने सर्वेक्षण कराया तो पता चला कि मलेरिया प्रभावितों के बारे में बताने वाला वार्षिक परजीवी सूचकांक, जिसे एपीआई कहा जाता है, वह 10 से अधिक था, जो बेहद खतरनाक स्तर माना जाता है। अभियान के तहत हमारे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने घर-घर जाकर सर्वे किया और एक-एक व्यक्ति की जांच की गई। निःशुल्क दवाएं दी गईं। घरों में मच्छररोधी दवाइयों का छिड़काव किया गया। मेडिकेटेड मच्छरदानियां बांटी गईं। इन प्रयासों के कारण एपीआई की दर लगातार कम हुई। बीते एक साल में पॉजिटीविटी दर 4.6 प्रतिशत से घटकर 0.86 प्रतिशत पर आ गई। पूरे बस्तर संभाग में मलेरिया की प्रभाव दर 45 प्रतिशत कम हो गई है। जिस तरह से युद्धस्तर पर काम हुआ उसकी सराहना नीति आयोग और यूएनडीपी ने की है तथा इसे देश के अन्य आकांक्षी जिलों के लिए भी अनुकरणीय बताया है। मैं यह भी बताना चाहता हूं कि ‘मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना’ का भी इसमें बहुत सहयोग मिला, जो कि अपने आप में एक नवाचार था। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना से 11 लाख से अधिक लोगों का इलाज हुआ। इस तरह से मलेरिया और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान से सुपोषण को लेकर किए जा रहे प्रयासों को भी बल मिला। मलेरियामुक्ति का अभियान महिलाओं और बच्चों के लिए वरदान साबित हुआ है। इसका लाभ सुरक्षा बलों तथा सभी निवासियों को मिला है।

इसी तरह दंतेवाड़ा में इन दिनों जो बदलाव की बयार चल रही है, उसमें हमारे नवाचार के अभियान की बहुत बड़ी भूमिका है। आपने डेनेक्स ब्रांड की कपड़ा फैक्ट्री के बारे में तो सुना ही होगा। 31 जनवरी 2021 को इसका उद्घाटन हुआ था और आज इसमें 300 परिवारों को रोजगार मिल रहा है। इसी तरह के 3 और केन्द्र स्थापित किए जा रहे हैं, जिसमें लगभग 1200 लोगों को रोजगार मिलेगा। डेनेक्स ब्रांड को अब एफपीओ सेक्टर में भी उतारा गया है, जिसके अंतर्गत दंतेवाड़ा जिले में खाद्य सामग्री तथा हस्तकला की सामग्री भी बेची जा रही है। किंग कड़कनाथ, छिंदगुड़, मौरिंगा पाउडर, कोदो-कुटकी, इमली, चार बीज आदि को बड़ा बाजार मिलने लगा है। दंतेवाड़ा जिले में लघु वन उपज, खाद्य, उद्यानिकी और खनिज उत्पादों के प्रसंस्करण के लिए 500 एकड़ भूमि का चिन्हांकन कर लघु उद्योगों की स्थापना की जा रही है, जिसमें 5 हजार परिवारों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा ग्राम स्वरोजगार केन्द्र, नव चेतना बेकरी, वनोपज संग्रहण, मनरेगा, गोधन न्याय योजना, बिहान योजना, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, वन अधिकार अधिमान्यता पत्र प्रदाय, कृषि विकास, दंतेश्वरी माई मितान पेंशन योजना आदि के माध्यम से पूना माड़ाकाल दंतेवाड़ा को व्यापक सफलता मिल रही है, जिसका लाभ जीवन स्तर उन्नयन, बेहतर स्वास्थ्य तथा बेहतर आजीविका के रूप में मिल रहा है।

शिक्षा के नवाचारी प्रयासों को मिली राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सराहना

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के चलते पूरे देश की अर्थव्यवस्था डगमगा गई थी, कोरोना ने हमारे देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था। ऐसी स्थिति में भी चुनौतियों का सामना करते हुए बच्चों की पढ़ाई-लिखाई जारी रहे, इसके लिए पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम प्रारंभ किया गया। cgschool.in नाम से एक पोर्टल का निर्माण कर ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ की गईं। इस ऑनलाइन पढ़ाई से घर बैठे ही लाखों बच्चे सुरक्षित पढ़ाई करने लगे। इंटरनेट की पहुंच नहीं होने वाले क्षेत्रों व ऐसे बच्चे जिनके पास मोबाइल नहीं था, उसे ध्यान में रखते हुए मोहल्ला कक्षा प्रारंभ की गई। हमारे प्रदेश के शिक्षकों ने पढ़ाने के लिए कई नवाचारी गतिविधियां आयोजित कीं। शिक्षकों की मेहनत से बच्चों का पढ़ाई से रिश्ता बना रहा बल्कि पढ़ाई और अधिक रोचक और व्यापक हो गई। हमारे गुरुजनों ने अपनी लगन, निष्ठा और नवाचार से समाज में शिक्षकों की प्रतिष्ठा को नई ऊंचाई दी है। इन नवाचारी प्रयासों को न केवल राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली बल्कि पुरस्कार भी मिले हैं। मैं चाहता हूं कि शिक्षक-शिक्षिकाओं ने कोरोना काल में जिस तरह शिक्षा के नए-नए प्रयोग किए, उसे आगे भी करते रहें। सरकारी स्कूलों को आधुनिक सुविधाओं से सजाने और इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाने की हमारी सोच एक बहुत बड़ा नवाचार है। स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल योजना के तहत 171 स्कूलों का उन्नयन कोरोना काल में ही हुआ है। अब मैंने निर्देश दिया है कि इसी की तर्ज पर उत्कृष्ट हिंदी माध्यम शाला भी विकसित की जाएं। यह नवाचार प्रदेश की सरकारी स्कूलों में आमूल-चूल परिवर्तन लाएगा और सामान्य तथा गरीब परिवारों के बच्चों का जीवन संवारेगा।

सुराजी गांव योजना से ग्रामीण जनजीवन में आ रहा तेजी से बदलाव

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि सुराजी गांव योजना से छत्तीसगढ़ के जनजीवन में जो बदलाव आ रहा है, उससे तो मैं भी रोमांचित और अभिभूत हूं। सबसे खुशी की बात यह है कि हम लोग एक दिशा देते हैं तो आप लोग उसमें काम करने की नई-नई संभावनाएं खोज लेते हैं। यही तो नवाचार है। हमने तो नरवा, गरुवा, घुरुवा, बाड़ी को छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी के रूप में बचाने की सोच के साथ, एक नए रास्ते पर चलना शुरू किया था लेकिन आप लोगों ने अपनी मौलिक सूझबूझ से, उसे इतना व्यापक रूप दे दिया है कि उसमें नए-नए उत्पाद और नए-नए रोजगार के अवसर बनने लगे हैं। छत्तीसगढ़ में जल की उपलब्धता को लेकर बड़ी विलक्षण स्थिति है। हमारे प्रदेश में हिमालय के किसी ग्लेशियर से जल-धारा प्रवाहित नहीं होती। हमारी नदियां और नरवा हमारे लिए पानी के स्रोत हैं। इंद्रावती, महानदी, सोन, शिवनाथ, अटेम, महान व केलो आदि नदियों की संख्या तो सीमित हैं, लेकिन 2 से 11 किलोमीटर तक बहने वाले नालों की संख्या हजारों में है। इस तरह नरवा हमारी बड़ी अहम धरोहर हैं। निश्चित तौर पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से नदी-नालों में जल कम हुआ है। इसलिए हमने समय रहते ‘नरवा’ परियोजना पर बल दिया। अभी तक लगभग 32 सौ नालों में जरूरी सुधार कार्य किया जा चुका है। आगामी साल करीब 11 हजार नालों को पुनर्जीवित करने की योजना पर हम युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं।

मैं बताना चाहता हूं कि हमारे प्रयासों का असर जमीन पर दिखाई देने लगा है। कई क्षेत्रों से भू-जल स्तर बढ़ने की सुखदायी खबरें आने लगी हैं। जलवायु परिवर्तन से सूखे की परिस्थितियां बनने की चेतावनी वैज्ञानिकों ने दी है, लेकिन मुझे विश्वास है कि नरवा विकास की हमारी तैयारी, हमें हर संकट से उबार लेगी। गरुवा से गोबर, गोबर से वर्मी कम्पोस्ट, सुपर कम्पोस्ट और फिर सुपर कम्पोस्ट प्लस। गरुवा और घुरुवा को विकसित करने से नए रास्ते बनते चले गए और गोबर से धन बरसने लगा। गोधन न्याय योजना के 8 सितम्बर के आंकड़े से एक अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस योजना से क्या लाभ मिल रहा है। अभी तक गोबर बेचने वालों को 100 करोड़ 82 लाख रुपए, महिला स्वसहायता समूह को 21 करोड़ 42 लाख रुपए तथा गौठान समितियों को 32 करोड़ 94 लाख रुपए का भुगतान किया जा चुका है। गोधन न्याय योजना से 1 लाख 77 हजार 437 पशुपालकों को लाभ मिला है, जिसमें भूमिहीनों की संख्या 79 हजार 435 है। वर्मी कम्पोस्ट, सुपर कम्पोस्ट तथा सुपर कम्पोस्ट प्लस का उत्पादन 11 लाख क्विंटल से अधिक हो चुका है और करीब 8 लाख क्विंटल की बिक्री भी की जा चुकी है। यह रूझान बताता है कि छत्तीसगढ़ में जैविक खाद के उपयोग के लिए तेजी से जागरूकता बढ़ रही है। 1 हजार 634 गौठान आत्मनिर्भर बन चुके हैं। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमारा मुख्य उद्देश्य जनता को सशक्त करना है और विकास में उनकी भागीदारी सुनिश्चित करना है और हम सबको मिलकर नवा छत्तीसगढ़ गढ़ना है।

छत्तीसगढ़ में मौसम विभाग ने 21 जिलों के लिए किया येलो अलर्ट जारी

रायपुर:-छत्तीसगढ़ के कई जिलों में रूक-रूक कर झमाझम बारिश हो रही है। जिसके चलते नदी नाले फिर से लबालब हो गए हैं। वहीं मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक प्रदेश में भारी बारिश की संभावना जताई है। वहीं 21​ जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी हुआ है। शनिवार को दिनभर आसमान में काले बादल छाए रहे। वहीं दोपहर बाद राजधानी में हुई मूसलाधार बारिश से जिंदगी थम गई। शहर के कई इलाके जलमग्न हो गए। कई गाड़ियां घंटों संड़कों में फंसी रही। बता दें कि शनिवार को राजधानी रायपुर समेत कई जिलों में झमाझम बारिश हुई। मौसम विभाग बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। मौसम विशेषज्ञों ने आने वाले 4 दिन बारिश को लेकर महत्वपूर्ण बताया है। वहीं प्रदेश के 21 जिलों के लिए चेतावनी जारी किया है। इनमें बिलासपुर और सरगुजा के 6 जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं अन्य जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है।