देश

वाइब्रेंट गुजरात समिट: पीएम मोदी बोले- ‘मेक इन इंडिया’ इतना बड़ा ब्रांड बना जैसा भारत के पास पहले नहीं था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (10 जनवरी) को वाइब्रेंट गुजरात समिट के आठवें कार्यक्रम में भाषण दिया। मोदी ने सबसे पहले कार्यक्रम में सहयोग करने वाले देशों का धन्यवाद किया। उन्होंने जापान और कनाडा का अलग से भी शुक्रिया किया। मोदी ने आगे कहा कि गुजरात महात्मा गांधी और सरदार वल्लभ भाई पटेल की भूमि है और भारत की व्यापार की भावना को भी दिखाती है। मोदी ने कहा कि डिजिटल टेक्नोलॉजी विकास में तेजी लाती है और सरकार को ठीक और सरल रूप से काम करने में मदद करती है। मोदी ने मौजूद लोगों ने कहा, ‘यकीन कीजिए हम लोग दुनिया की सबसे डिजीटल अर्थव्यवस्था बनने की दहलीज पर खड़े हैं।’
मोदी ने कहा कि वैश्विक मंदी के बावजूद भारत ने अच्छी बढ़त हासिल करके दिखाई। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव के लिए पूरी कोशिश कर रही है। मोदी ने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ वैश्विक स्तर पर उतना बड़ा ब्रैंड बन चुका है जो कि भारत के पास पहले नहीं था। उन्होंने बताया कि भारत निर्माण उद्योग में दुनिया में छठा स्थान रखता है।
मोदी ने कहा कि भारत टूरिज्म को बढ़ावा देना चाहता है और इसके लिए बड़े पैमाने पर काम करना चाहता है।

 

लखनऊ में हिट एंड रन: रैन बसेरे में सो रहे लोगों पर चढ़ा दी कार, चार की मौत, दो गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के डालीबाग इलाके में शनिवार देर रात हिट एंड रन का मामला सामने आया है। हादसा तब हुआ जब रैन बसेरे में कुछ लोग सो रहे थे। शनिवार-रविवार की रात एक तेज रफ्तार कार रैन बसेरे में घुस गई, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। एक्सिडेंट के बाद आरोपी घटनास्थल से फरार हो गए। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, लखनऊ पुलिस ने पांच में से दो आरोपियों को हिरासत में ले लिया है, जबकि तीन अभी भी फरार हैं। घायलों को इलाज के लिए सिविल अस्पताल भेजा गया, इनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है।
मामले पर बोलते हुए एसएसपी मंजिल सैनी ने कहा कि आरोपी शराब के नशे में थे। दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया और कार को जब्त कर लिया गया है। एनडीटीवी के मुताबिक, हादसे में मारे गए चारों लोग दिहाड़ी मजदूर थे जो उत्तर प्रदेश के बेहराइंच जिले के रहने वाले थे। हादसे में कार भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। यह लाल रंग की हुंडई i20 कार थी, जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर UP 32 GH 7788 है।

 

नीति आयोग ने कहा- कार्ड्स, एटीएम, पीओएस 2020 तक हो जाएंगे बेमानी

नोटबंदी के बाद डिजिटल लेनदेन में काफी इजाफा देखने को मिला है लेकिन इसी बीच नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने एक चौकाने वाली बात कही है। कांत ने एटीएम कार्ड्स और पीओएस टर्मिनल्स का इस्तेमाल, 2020 तक बेकार हो जाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि भारत में 2020 तक पीओएस और एटीएम कार्ड्स का इस्तेमाल बेकार हो जाएगा, लेकिन कांत ने इसकी वजह बताने की कोशिश भी की। उन्होंने आगे कहा कि आज देश में ज्यादातर लोग, लेनदन पूरा करने के लिए अपने अंगूठे का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में आने वाले समय में डिजिटल लेनदेन की टेक्नॉलोजी में भी विकास होने जा रहा है।
अमिताभ कांत ने आगे कहा कि भारत ने बायोमेट्रिक सिस्टम तकनीक बना ली है। उन्होंने हाल ही में लाई गई भीम ऐप और आधार पेमेंट
सिस्टम डेवलप करने का उदाहरण दिया। अमिताभ कांत 7 जनवरी 2017 को यूथ प्रवासी भारतीय दिवस को संबोधित करने गए थे जहां पर उन्होंने यह बाते कही। वहीं उन्होंने आगे कहा कि देशभर में एक बिलियन मोबाइल यूजर्स हैं और उतने ही बायोमेट्रिक। भारत कैश पर आधारित एक बड़ी अर्थव्यवस्था है। इसी बीच देश में सिर्फ 2 से 2.5 भारतीय ही टैक्स देते हैं। ऐसे में भारत के इन-फॉर्मल सेक्टर को फॉर्मल बनाने की जरूरत पर भी जोर दिया।
कांत ने यह भी कहा कि भारत का ऐसी स्थिति में 10 ट्रिलिन की अर्थव्यवस्था बनना मुश्किल है इसलिए इन-फॉर्मल सेक्टर को फॉर्मल बनाना जरूरी है। इसके अलावा आखिर में कांत ने स्टार्टअप के लिए युवाओं को प्ररित किया। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपने अंदर पैशन होना चाहिए ताकी वह नए स्टार्टअप-इनोवेशन करें। उन्होंने कहा कि आने वाले ढाई सालों में कार्ड्स का इस्तेमाल गैर-जरूरी हो जाएगा।

 

पुदुचेरी के उप-राज्‍यपाल पद से इस्‍तीफा देंगी किरण बेदी, लोगों को लिखी चिट्ठी

केंद्र शासित प्रदेश पुदुचेरी की उप-राज्‍यपाल किरण बेदी ने लोगों को पत्र लिखकर कहा है कि वह अगले साल पद त्‍याग देंगी। बेदी ने कहा कि 29 मई, 2018 को पुदुचेरी में दो साल पूरे होने पर वह कार्यालय छोड़ देंगी। राज्‍य की वी. नारायणसामी सरकार और बेदी के बीच पिछले कुछ दिनों में खासा तनाव पैदा हो गया था। मुख्यमंत्री वी.नारायणस्वामी ने 31 दिसंबर को आदेश जारी कर आधिकारिक वार्ताओं के लिए वॉट्सएेप, फेसबुक और ट्विटर पर रोक लगा दी थी, लेकिन इसके एक दिन बाद ही एलजी ने इसे रद्द कर दिया।

 
 

बॉलीवुड के अभिनेता ओम पुरी का निधन शाम 6 बजे होगा अंतिम संस्कार

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ओम पुरी का दिल का दौरा पड़ने से शुक्रवार 6 जनवरी को निधन हो गया। वो 66 साल के थे। शाम छह बजे उनका अंतिम संस्कार होगा। बॉलीवुड उनके जाने से शोक में है।  18 अक्टूबर 1950 को बॉलीवुड के अभिनेता ओम पुरी का जन्म हरियाणा के अंबाला में एक पंजाबी परिवार में हुआ था। उनके पिता भारतीय रेलवे और भारतीय सेना में काम करते थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1976 में आई मराठी फिल्म घासीराम कोतवाल से की थी। उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। पुरी पुणे के फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के छात्र थे। एक्टर ने 1973 के बैच में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से नसीरुद्दीन शाह के साथ पढ़ाई की थी। पुरी ने भारतीय फिल्मों के साथ ही पाकिस्तानी, ब्रिटिश और हॉलीवुड फिल्मों में काम किया था। उनके खाते में स्वतंत्र फिल्मों के साथ ही आर्ट फिल्में भी दर्ज हैं। उन्होंने अमेरिकन फिल्मों में भी एपियरेंस दी है।
1993 में ओम पुरी ने नंदिता पुरी से शादी की थी। हालांकि यह जोड़ा 2013 में अलग हो गया था। उनका एक बेटा इशान है। उन्होंने ब्रिटेन और अमेरिका में प्रोड्यूस हुई कई फिल्मों में काम किया है। विजय तंदुलकर के मराठी नाटक पर बनी फिल्म घासीराम कोतवाल के साथ पुरी ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म का निर्देशन के हरिहरन और मनी कौल ने किया था। दिलचस्प बात यह है कि फिल्म एफटीटीआई के 16 छात्रों के सहयोग से बनी थी। एक्टर ने दावा किया था कि उन्हें अपने बेहतरीन काम के लिए मूंगफली दी गई थी।
 
1982 में आई फिल्म अर्ध सत्य के लिए ओम पुरी को बेस्ट एक्टर का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था। फिल्म में उन्होंने एक पुलिस इंस्पेक्टर का किरदार निभाया था। फिल्मों के अलावा एक्टर कई टीवी शोज में भी काम कर चुके हैं। जिसमें 2004-20005 के बीच सोनी चैनल पर प्रसारित होने वाले शो आहट का दूसरा सीजन सीजन, भारत एक खोज, यात्रा, मिस्टर योगी, काकाजी कहिन, सी हॉक्स और अंतारल शामिल हैं। 

सीनियर आईपीएस की बेटी से हुई सांसद दुष्यंत चौटाला की सगाई, पैरोल पर छूटे पिता और दादा भी हुए शरीक

देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चोटाला की मंगलवार (3 जनवरी) को सगाई हुई। उन्होंने सीनियर आईपीएस अफसर की बेटी मेघना अहलावत से सगाई की।

देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चोटाला की मंगलवार (3 जनवरी) को सगाई हुई। उन्होंने सीनियर आईपीएस अफसर की बेटी मेघना अहलावत से सगाई की। दोनों की सगाई का कार्यक्रम गुड़गांव के एक बड़े फाइव स्टार होटल में किया गया था। सगाई का यह कार्यक्रम परिवार का मिलन समारोह भी बन गया। क्योंकि सगाई के लिए दुष्यंत के पिता अजय चौटाला और दादा ओमप्रकाश चौटाला दोनों जेल से पैरोल पर बाहर आए थे। दुष्यंत चौटाला इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के सांसद हैं। 2014 लोकसभा चुनाव में वह हरियाणा के हिसार से जीते थे। दुष्यंत अजय चौटाला के बेटे हैं और ओमप्रकाश चौटाला के वह पोते हैं। दोनों जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले में 10 साल की सजा काट रहे हैं। दोनों दुष्यंत की सगाई के लिए एक दिन की पैरोल पर बाहर आए।
कार्यक्रम में चौटाला के भाई और पूर्व सांसद रंजीत सिंह भी दिखाई दिए। दोनों को आपस में राजनीतिक शत्रु माना जाता था। लेकिन कार्यक्रम में वे भी शामिल हुए।
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने अदालत ने 18 नवंबर को मेडिकल इलाज के लिए 60 दिनों के पैरोल की मांग की थी। 82 साल के चौटाला ने पोलियोग्रस्त अपने पांव के इलाज के लिए 60 दिनों की पैरोल मांगी थी।

छापे के बाद कानूनी कार्रवाई, जुर्माने से सहारा इंडिया को मिली छूट, टैक्स पैनल ने तीन सुनवाई में ही सुना दिया आर्डर

सहारा इंडिया को आय कर निपटान आयोग (ITSC) से बड़ी राहत मिली है। आयोग ने अपने फैसले में विवादित डायरी मामले में सहारा इंडिया पर किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई करने और उस पर जुर्माना लगाने से इनकार किया है। आय कर विभाग ने नवंबर 2014 में सहारा इंडिया के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान एक डायरी बरामद की थी जिसमें कुछ नेताओं के नाम थे और उन्हें पैसे देने के बारे में लिखा हुआ था। आयोग ने इस डायरी को सबूत मानने से भी इनकार कर दिया है।
आयोग ने अपना फैसला 50 पन्नों में सुनाया है। इंडियन एक्सप्रेस ने उन पन्नों को पढ़ने के बाद पाया कि आयोग ने सहारा इंडिया द्वारा दाखिल केस को पहले खारिज कर दिया था लेकिन 5 सितंबर, 2016 को उसे फिर से सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया। आयोग ने तीव्र कार्रवाई करते हुए मात्र तीन सुनवाई में ही अपना फैसला सुनाते हुए सहारा इंडिया को राहत दी है। आयोग ने राहत का आदेश 10 नवंबर 2016 को सुनाया है जो आखिरी सुनवाई की तारीख 7 नवंबर 2016 से तीन दिन बाद है। वैसे सामान्यत: आयोग 18 महीनों में किसी मुद्दे पर अंतिम फैसला सुनाता है। आयोग के सूत्र बताते हैं कि कभी -कभार ही 10 से 12 महीनों के अंदर कोई फैसला सुनाया जाता है।
फैसले के आखिरी पन्ने में लिखा गया है कि छापे के दौरान कंपनी से 137.58 करोड़ रुपये बरामद हुए थे जिस पर अब टैक्स आरोपित किया जाता है। आयोग ने इस टैक्स की राशि अदायगी को भी 12 किश्तों में कर दिया है। फैसले में कहा गया है कि सहारा इंडिया ने आयोग से गुहार लगाई है कि इस वक्त कंपनी कछिन दौर से गुजर रही है इसलिए कर अदायगी को किश्तों में कर दिया जाय। इसके अलावा फैसले के पहले पेज में आयोग ने लिखा है, आवेदक की दलील है कि कुछ असंतुष्ट कर्मचारियों ने जानबूझकर इस तरह के बेमतलब के कागजात बनाए हैं।
गौरतलब है कि बिड़ला और सहारा ग्रुप पर 2013 और 2014 में इनकम टैक्स ने छापे मारे गए थे। छापों में इनकम टैक्स को महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद हुए थे। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इन फाइलों की जांच की मांग की थी। 25 अक्टूबर 2016 में प्रशांत भूषण ने अपनी शिकायत सभी जांच एजेंसियों और कालेधन की विशेष जांच टीम को लीड कर रहे दो पूर्व जजों की स्पेशल को भेजी थी।

कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि आदित्य बिड़ला और सहारा ग्रुप की डायरी में पीएम नरेंद्र मोदी को गुजरात का सीएम रहने के दौरान पैसे दिए गए थे। सहारा की डायरियों में कथित तौर पर पीएम मोदी के अलावा कई अन्य बीजेपी नेताओं और अन्य दलों के नेताओं के नाम भी शामिल हैं। यही नहीं इस डायरी में दिल्ली की पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शीला दीक्षित का नाम भी शामिल है। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी दायर हुआ है, जिसने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी में बरामद की गई डायरियों को लेकर किसी भी तरह की जांच का आदेश अब तक नहीं दिया है।

कप्तानी छोड़ झारखंड टीम की हार का दुख बांट रहे थे धोनी, खिलाड़ियों ने पूछा – भैया ने कप्तानी छोड़ दी ?

महेंद्र सिंह धोनी ने बुधवार (4 जनवरी) की शाम को वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया। लेकिन उसके कुछ देर बाद वे जिन लोगों के साथ थे उनको तक नहीं पता था कि धोनी ने इतना बड़ा फैसला ले लिया है और उसके बाद वे उन लोगों के साथ इतने आराम से प्ले स्टेशन पर फीफा खेल रहे हैं। दरअसल,जब धोनी ने यह निर्णय लिया उस वक्त वह नागपुर में थे। उनके साथ झारखंड की टीम थी जो कि वहां रणजी खेलने आई हुई थी और उसी दिन गुजरात से सेमीफाइनल का मैच हारी थी।
वे सब लोग धोनी के साथ बैठकर गुजरात से मिली हार के बारे में बात कर रहे थे कि तब ही एक ने कहा, ‘भैया ने कप्तानी छोड़ दी?’ इसे सुनकर बाकी सारे खिलाड़ी भी धोनी को निहारने लगे। इसपर धोनी बिना कुछ कहे मुस्कुरा दिए। फिर उन्होंने बताया कि वह यह फैसला काफी पहले ले लेना चाहते थे लेकिन तब वक्त ठीक नहीं था।
न्यूज वेबसाइट वाइस इंडिया के मुताबिक, धोनी नए साल वाले दिन से ही नागपुर में थे। सोमवार को शुरू हुए मैच से लेकर बुधवार रात तक वे वहीं रहे। मैच से पहले वे झारखंड की टीम के साथ प्रेक्टिस में भी देखे गए। उसी दौरान उन्होंने सिलेक्टर्स के चेयरमैन एसके प्रसाद से बात करके कप्तानी छोड़ने के फैसले के बारे में बताया था।

भारत की तरक्की से चिढ़ा चीनी मीडिया, अपने ही देश को यह लिखकर दी चेतावनी

भारत के प्रति बढ़ते बड़ी कंपनियों के रुझान को देखकर चीन चिढ़ रहा है। चीनी मीडिया में छपे एक लेख में इस बात का जिक्र किया गया है। दरअसल, एप्पल ने भारत में आकर निवेश करने और यहां पर एक प्लांट बनाने की बात की है। इसपर चीन की नजर पड़ गई। वहां की मीडिया ने चीन को सावधान करते हुए एक लेख लिखा है। लेख में लिखा गया है कि चीन को जल्द से जल्द अपनी निर्माण क्षमता को बढ़ाना होगा जिससे आगे आने वाले वक्त में उनके वहां उत्पादन के लिए कंपनियों को आकर्षित किया जा सके। ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है, ‘हो सकता है कि एप्पल आने वाले वक्त में साउथ एशिया के देशों की तरफ मुड़ जाए। इससे चीन पर दबाव बनेगा कि वह अपने घरेलू निर्माण की तकनीकों में तेजी से बदलाव करे। जिससे वह कम लागत में निर्माण करने वाले देशों की टक्कर ले सके।
लेख में आगे लिखा गया है कि भारत आने वाले वक्त में चीन की कुर्सी हथिया सकता है। जिसपर चीन काफी वक्त से विनिर्माण का पावरहाउस बनकर बैठा है। लेख में अमेरिका का भी जिक्र है। बताया गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत चुके डोनाल्ड ट्रंप ने भी कंपनियों ने गुजारिश की है कि वे उनके यहां आकर निर्माण करें जिससे यूएस के लोगों को नौकरियां मिलती रहें।
लेख में भारत चीन की तुलना भी की गई है। लिखा गया है कि चीन में मिलने वाले कर्मचारियों को ज्ञान पहले से होता है लेकिन भारत में चीन के मुकाबले कर्मचारी कम सैलरी में काम करने को तैयार हो जाता है। इसे भारत का सकारात्मक पहलू बताया गया है।।

विराट ने किया ये बड़ा ऐलान, कहा- आपका कन्फ्यूजन दूर कर रहा हु

नई दिल्ली। टीम इंडिया के टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अनुष्का शर्मा के साथ सगाई को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने इंगेजमेंट की खबरों को झूठा बताया है। साथ ही लिखा- अगर सगाई करेंगे तो इसे छुपाएंगे क्यों? विराट के इन दोनों ट्वीट को अनुष्का ने भी रिट्वीट किया है। बता दें कि विराट कोहली फिलहाल अपनी गर्लफ्रेंड अनुष्का शर्मा के साथ ऋषिकेश में हैं। वे दोनों वहां छुट्टियां बिता रहे हैं। यहां अचानक अमिताभ बच्चन सहित कई सेलेब के पहुंचने के बाद दोनों की सगाई की खबरें आने लगीं हैं।हरिद्वार के नजदीक एक छोटे से गांव पथरी के अम्बुवाला में बना है अनुष्का के गुरु का अनंत धाम आश्रम। इस आश्रम में आकर अनुष्का शर्मा अपनी ज्यादातर बड़ी आने वाली फिल्मों के लिए पूजा पाठ करवाती हैं। जिस आश्रम में वो वर्ल्डकप के दौरान दो बार अनुष्ठान करने आई थी जिस गुरु से बिना पूछे अनुष्का कोई शुभ काम नहीं करती। एक बार फिर अनुष्का पहुंची है उन्हीं गुरु की शरण में पहुंची, लेकिन इस बार वो अकेली नहीं बल्कि अपने ब्वायफ्रेंड विराट कोहली के साथ पहुंची हैं। कहा जा रहा है कि 1 जनवरी को अनुष्का और विराट की सगाई होने जा रही है।

देशभर में आज क्रिसमस मनाया जा रहा है, धार्मिक एकता प्यार, अमन और भाईचारे का दे रहे है संदेश

आज देशभर में क्रिसमस मनाया जा रहा है। लोग चर्च में जाकर कैंडल्स जला रहे हैं और अपना जीवन स्वस्थ और खुशहाल होने की दुआ मांग रहे हैं। वहीं सभी त्योहार धार्मिक एकता की मिसाल पेश करते हैं यह एक बार फिर से एक चर्च ने साबित किया है। ऐसी ही एक मिसाल वाराणसी के सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च ने दी है। इस चर्च की की दीवारों पर गीता के श्लोक लिखे हुए हैं। वहीं यूपी के मऊ में फातिमा अस्पताल इलाके में स्थित एक चर्च ने बाइबल के संदेशों के साथ-साथ रामायण के दोहों और कुरान की आयतों को भी चर्च की दीवरों पर लिखवा रखा है। ये कदम धार्मिक एकता, सौहार्द और आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए अच्छा संदेश दे रहे हैं।
सेंट मैरी कैथेड्रल अपने आप में बेहद खास है। इस चर्च की दीवारों पर पीतल के अक्षरों में न सिर्फ बाइबल, भगवद् गीता और बुद्ध के संदेश उकेरे गए हैं। इसके अलावा प्रार्थना सभाओं में भी इनकी गूंज साफ सुनाई देती है। यहां पर सभी धर्मो के लोग आते हैं। चर्च के मुख्य पादरी विजय शांतिराज हैं उन्होंने बताया कि सेंट मैरी कैथेड्रल में सिर्फ ईसाई ही नहीं, बल्कि अन्य धर्मो के लोग भी आते हैं।

अब पाकिस्तान में बंद होगा 5,000 रुपये का नोट

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की सीनेट ने काले धन के प्रवाह को रोकने के लिए एक चरणबद्ध तरीके से 5,000 रुपये के नोट का चलन बंद करने की मांग करने वाले एक प्रस्ताव को सोमवार को पारित कर दिया। एक महीने पहले भारत में भी 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया गया था। सीनेट सदस्य पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता सैफुल्ला खान ने प्रस्ताव पेश किया जिसे उपरी सदन में सांसदों ने बहुमत से पारित किया।
डॉन की खबर के मुताबिक प्रस्ताव में कहा गया कि 5,000 रुपये के नोट का चलन बंद करने से बैंक खाते के इस्तेमाल को प्रोत्साहन मिलेगा और बिना हिसाब किताब वाली अर्थव्यवस्था का आकार घटाने में मदद मिलेगी। प्रस्ताव के मुताबिक 5,000 के नोट का चलन बंद करने का काम तीन से पांच साल में होना चाहिए ताकि बाजार से नोट हटाए जा सकें।
हालांकि कानून मंत्री जाहिद हमीद ने कहा कि नोट का चलन बंद करने से बाजार में संकट पैदा होगा और लोग विदेशी मुद्राओं का इस्तेमाल करने लगेंगे।

चीन का ट्रंप को जवाब, हमने अमेरिका का ड्रोन चुराया नहीं पकड़ा है

 

बीजिंग। चीन ने अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस आरोप का खंडन किया कि उसने अमेरिकी ड्रोन चुरा लिया। उसका कहना है कि विवादास्पद दक्षिण चीन सागर में नौवहन की स्वतंत्रता यानी सुरक्षित नौवहन को नुकसान पहुंचने से रोकने के लिए ड्रोन को पकड़ लिया गया था। चीन यह भी दावा करता है कि इस क्षेत्र में अमेरिका चीनी तट पर जासूसी कर रहा है।
चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मीडिया ब्रीफिंग में ट्रंप के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा है कि हमें चोरी जैसा शब्द पसंद ही नहीं आया। यह सही भी नहीं है। ट्रंप ने ट्वीट किया था कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय समुद्री क्षेत्र में अमेरिका की नौसेना के अनुसंधान ड्रोन को चुराया और उसे अपने यहां ले गया जो एक अप्रत्याशित कदम है। उनके दावे से कुछ घंटे पहले चीन सरकार ने कहा था कि वह इस घटना के संबंध में अमेरिका की सेना के संपर्क में है।
हुआ चुनयिंग ने कहा कि दोनों सेनाएं इस मुद्दे को सुचारू ढंग से देख रही हैं। उन्होंने अमेरिका के इस आरोप का भी खंडन किया कि चीनी नौसेना के जहाज ने अमेरिकी सर्वेक्षण जहाज यूएसएनएस बोवडिच से संदेश मिलने के बाद भी इस ड्रोन को पकड़ लिया और वह उसे ले गया। यह ड्रोन यूएसएनएस बोवडिच के नियंत्रण में ही उड़ान पर था।
हुआ चुनयिंग ने कहा है कि वाकई क्या हुआ, उसके बारे में आप रक्षा मंत्रालय के बयान से देख सकते हैं कि चीनी नौसेना को यह अज्ञात उपकरण नजर आया और उसने उसका सत्यापन करने के लिए बिल्कुल पेशेवर तरीके से परीक्षण किया।

भोपाल: बीजेपी नेता के घर आयकर विभाग की छापेमारी

भोपाल। नोटबंदी के बीच देशभर में आयकर विभाग की छापेमारी जारी है। आज भोपाल में आयकर विभाग ने बीजेपी नेता सुशील वासवानी के घर पर छापेमारी की। वासवानी महानगर सहकारी बैंक चलाते हैं। इसके अलावा वासवानी का होटल और रियल एस्टेट का भी कारोबार है। सुशील मध्य प्रदेश आवास संघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। माना जा रहा है कि नोटबंदी के बाद शिकायतें आईं थीं कि वासवानी जिस महानगर कॉपरेटिव बैंक के संचालक हैं उसमें नोटबंदी के बाद संदिग्ध गतिविधि हुईं हैं जो संदेह के दायरे में हैं।
ऐसी शिकायतों के बाद इनकम टैक्स विभाग ने वासवानी के घर और अन्य ठिकानों पर छापा मारा।  बीजेपी के और भी कई नेता इस बैंक के संचालक हैं। बीजेपी नेता के कॉपरेटिव बैंकों के तमाम दस्तावेजों को खंगाला जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि आयकर विभाग अभी तमाम जरूरी दस्तावेजों को अपने कब्जे में लेकर जांच करेगी कि नोटबंदी के बाद से बैंक में किस तरह की गतिविधियां हुई हैं।
इससे पहले बीजेपी के एक नेता मनीष शर्मा को प. बंगाल के बागुईहटी से छह कोयला माफिया के साथ पुराने नोट बदलने की कोशिश करते गिरफ्तार किया गया था। उन्हें तब पकड़ा गया था जब वह बड़ी मात्रा में पुराने नोट बदलवाने की कोशिश कर रहे थे। बता दें कि 8 नवंबर को सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद से देशभर के बैंकों में गड़बड़ियां हुईं हैं जहां कालेधन को सफेद करने में बैंक कर्मचारियों से लेकर बैंक अधिकारियों तक की मिलीभगत सामने आई है।

उत्तर प्रदेश में फहराया पाकिस्तान का झंडा, 60 लोगों पर केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के बदायूं में कुछ लोग एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान का झंडा लेकर घूम रहे थे।

उत्तर प्रदेश के बदायूं में कुछ लोग एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पाकिस्तान का झंडा लेकर घूम रहे थे। 12 दिसंबर को मामला सामने आया था जिसकी वजह से वहां सांप्रदायिक तनाव भी है। गुरुवार को एक वीडियो के आधार पर 60 लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया गया। वह वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा था। वहां के भारतीय जनता पार्टी के लोकल कार्यकर्ताओं ने मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन किया और सख्त एक्शन लेने की मांग की। शुक्रवार को मामले को शांत करने के लिए वहां के थाने में एक मीटिंग भी की गई थी। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक वीडियो में 14 साल का एक लड़का सबसे पहले उस झंडे के साथ देखा गया। फिर उससे ही बाकी लोगों ने वह झंडा लिया।
मामले की जांच में लगे एसएचओ ने कहा, ‘लड़के की पहचान हो गई है। वह वहीं के एक दर्जी का लड़का है। लड़के के पिता से भी पूछताछ हुई थी। उन्होंने बताया कि लड़का खुद टेलर का काम सीख रहा है और उसने ही वह झंडा बनाया भी था। उन्होंने बताया कि लड़के ने जानबूझकर पाकिस्तान जैसा झंडा नहीं बनाया था।’ एसएचओ ने आगे कहा, ‘पाकिस्तान के झंडे और उस लड़के द्वारा फहराए जा रहे झंडे में थोड़ा फर्क है। जैसे पाकिस्तान के झंडे में चांद सितारों से बड़ा होता है। वहीं लड़के के झंडा उससे उल्टा था।’
पुलिस ने लड़के और उसके पिता को फिलहाल छोड़ दिया है लेकिन मामले की जांच फिलहाल चल रही है। पुलिस वीडियो की जांच करके बाकी लोगों को पहचानने की कोशिश कर रही है जिन्होंने झंडा लिया था। एसएचओ ने आगे बताया कि मीटिंग के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों ने माफी मांग ली है। उन्होंने यह भी कहा कि गलती से वह झंडा लेकर जाया गया और उसके पीछे कोई गलत भावना नहीं थी।
फिलहाल पुलिस ने आईपीसी की धारा 295-A (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्य, धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान, किसी भी वर्ग के धार्मिक भावनाओं का अनादर करने का इरादा) के तहत मामला दर्ज किया है।