राजधानी

स्वरूपानंद सरस्वती का सन्यास दिवस बड़े उत्साह के साथ मनाया गया।

रायपुर के बोरियाकला में स्थित जगद्गुरु शंकराचार्य आश्रम एवं भगवती राजराजेश्वरी मंदिर प्रांगण में द्विपीठ के पीठाधीश्वर परम पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का 67 वां सन्यास दिवस बड़े उत्साह के साथ भक्तों ने मिलकर मनाया। इस उपलक्ष्य पर आश्रम प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने प्रातः गणेश पाठ किया तत्पश्चात भगवती राजराजेश्वरी को सहस्रनाम से अर्चन किया गया जिसमें प्रमुख रूप से योग आयोग के अध्यक्ष संजय अग्रवाल, एम.एल.पांडेय, कुसुम सिंघानिया, एल.पी.वर्मा, ज्योति नायर, नरसिंह चंद्राकर, डॉ शंकर पुष्पकार, आचार्य धर्मेन्द्र, आचार्य महेंद्र तिवारी, रत्नेश शुक्ल, शैलू नंदा, सोनू चंद्राकर उपस्थित हुए और सभी ने मिलकर भगवान भोलेनाथ का रुद्राभिषेक कर महाआरती किये और पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के दीर्घ आयु की कामना किये। ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने आज के विशेष तिथि में कन्या पूजन व कन्या भोज भी करवाये तथा उपस्थित सभी भक्तों ने आशीर्वाद प्राप्त किया। शंकराचार्य आश्रम के कार्यरत सदस्य व प्रवक्ता पं सुदीप्तो चटर्जी " रिद्धीपद " ने उपरोक्त जानकारी प्रदान किये और कहा कि पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती समूचे भारत मे सबसे वरिष्ठ सन्यासी हैं जो 94 वर्ष की आयु में दो पीठों के साथ साथ सनातन धर्म की शिक्षा दे रहे हैं और उनकी रक्षा हेतु अन्य राज्यों का भ्रमण भी करते हैं तथा वेद वेदांग संस्कृत विद्यालय का संचालन अपने सभी आश्रमों में करते हैं।

रायपुर प्रेस क्लब के 50 स्वर्णीम वर्ष पूरे होने पर होगा अभिनन्दन समारोह

रायपुर (बीबीएन 24 न्यूज़) चुनौती पूर्ण पत्रकारिता के लिए प्रेस क्लब कर रहा *अभिनंदन 2017* का आयोजन...रायपुर प्रेस क्लब के 50 स्वर्णीम वर्ष पुरे होने के उपलक्ष्य में प्रेस क्लब परिवार पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना परचम लहरा चुके पत्रकारों का *अभिनंदन* समारोह आयोजित कर रहा है। अभिनंदन इसलिए क्योंकि ये वो साथी है जिन्होंने अपनी ख़बरों के लिए चुनौतियों को मात देते हुए अपनी कलम की मज़बूती को क़ायम रखा। इस अवसर पर ये अभिनंदन भी प्रेस क्लब परिवार... रायपुर ही नही बल्कि प्रदेश में पत्रकारिता के पुरोधा सम्मानित रमेश नैय्यर जी, पत्रकारिता के वट वृक्ष गोविंद लाल वोरा जी एवं पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति मानसिंह परमार के हाथों कराने जा रही है । अभिनंदन 2017 का आयोजन 30 नवंबर 2017 को रायपुर प्रेस क्लब प्रांगण में ही किया जाएगा। कार्यक्रम दोपहर 1 बजे माँ सरस्वती की आराधना के बाद प्रारंभ किया जाएगा ।

कांग्रेसियो ने मनाया इंदिरा गांधी की 100 वी जयंती

रायपुर:- भारत के प्रथम महिला प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व.इंदिरा गांधी की 100 वी जयंती के अवसर में शहर जिला कांग्रेस कमेटी रायपुर ने जयंती समारोह का आयोजन किया।कार्यक्रम की शुरुवात में वरिष्ठ नेताओं ने इंदिरा गांधी की छाया चित्र पर पुष्प चढ़कर नमन किया।इस दौरान संगोष्ठी हुई वक्ताओं ने उनके व्यक्तिव और कृतित्व पर विस्तार से प्रकाश डाले।पूर्व विधायक स्वरूप चन्द जैन ने इंदिरा गांधी के छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान के कुछ विशेष पलो का जिक्र किया उन्होंने बताया कि इंदिरा गांधी का रायपुर महासमुंद में आमसभा था विमान से रायपुर पहुचने के बाद वे कार से महासमुंद के लिए रवाना हुए इस दौरान स्वरूप चन्द जैन ने बताया की इस दौरान वे जिस कार में इंदिरा जी बैठी थी उसको वे चला रहे थे।इंदिरा गांधी का स्वागत करने रायपुर से महासमुंद तक जनता खड़ी थी जैन बताये की वे गाड़ी को बड़ी रफ्तार से चला रहे थे लेकिन इंदिरा जी का ध्यान सड़क किनारे खड़े जनता की ओर था उन्होंने ने जैन को टोकते हुए कही की लोग खड़े है और वे उनसे मिलना चाहती है जैन ने कहा मेरा ये सब बताने का आशय ये है कि इन्द्रा जी जनता से सीधा संवाद रखने में विश्वास करती थीं यही वजह है कि उनके बाद आज तक ऐसी लीडर के लिये देश तरस रहा है अब उनकी खाली जगह को राहुल गांधी जी पूरा करेंगे।पूर्व प्रभारी महामंत्री सुभाष शर्मा ने इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्रित्व काल मे किसानों के लिये लागू की गई चकबन्दी व्यवस्था को किसानों के लिये बेहतर कदम बताया उन्होंने कहा कि किसानों की अलग अलग टुकड़ो में बटी जमीन को एक ही जगह करने से किसानों को बहुत से लाभ मिला। विचार मचं के अध्यक्ष हसन खान ने कहा कि इंदिरा गांधी एक ऐसा महान व्यक्तित्व थी मोन गुड़िया से लेकर आयरन लेडी तक बनने का सफर एक संघर्ष यात्रा थी वह समर्पित थी देश के लिए वह समर्पित थी नागरिकों के लिए उन्होंने कहा कि इंदिरा जी निडर लीडर थी वे बेहिचक कही भी खड़ी हो जाती थी।वे आधुनिक भारत की निर्माता थी लेकिन आज जो देश की सत्ता में बैठे है वे जनता से कहते है कि उनकी जान को खतरा है लेकिन इंदिरा गाँधी ने कभी भय को करीब नही आने दी। शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष विकास उपाध्याय ने कहा कि आज जिस देश को इंदिरा गांधी जैसी लीडर की जरूरत है जो जन की भावनाओ को समझे जन के मुताबिक काम करे लेकिन अफसोस आज जो देश का मुखिया है वे जन की नही मन की बात करते है जिसका परिणाम पूरे देश को भुगतना पड़ता है। कार्यक्रम में प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन ,ज्ञानेश शर्मा,प्रमोद चौबे श्रीकुमार मेनन,सुरेश ठाकुर, दौलत रोहरा ,धनंजय सिंह ठाकुर, सुनीता शर्मा, सुमित दास, सारिक रईस खान सतीश जैन, रामदास कुर्रे, राधा राजपाल, लखन ,विकास, नितिन ठाकुर ,अजय कुमार शर्मा, सुधा सिन्हा, राजू लाल यादव ,शिरीष अवस्थी,दिब्य किशोर नियाल, सारा खान, प्रमोद गौतम, मुन्ना मिश्रा मुमताज हुसैन मनोज देहारी विकास पाठक प्रकाश दास मानिकपुरी महेश सोनी राजेश त्रिवेदी जसविंदर सिंह भामरा राजेश बघेल शकील सिद्दीकी अजय कुमार शर्मा गुरदीप सिंह गरचा शिवश्याम शुक्ला, निर्मल पांडे कुलदीप ध्रुव राजेश पांडे मोहम्मद निसार चांगल शहाबुद्दीन महावीर देवांगन शंभू लाल साहू धनसिंग निशा यादव हरमेश मानिकपुरी मोहम्मद जुनेद राजू चक्रधारी ललित जैन शब्बीर खान निहाल खान एवं कांग्रेस जन उपस्थित थे सभी खान निहाल खान एवं कांग्रेसजन उपस्थित थे।

CM बने दादा प्रदेश में खुशी का लहर

रायपुर:-  मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बेटे व राजनांदगांव सांसद अभिषेक सिंह को आज बेटी हुई है। बता दें कि रमन सिंह पहले से नाना बन चुके हैं। लेकिन ये उनके बेटे अभिषेक और बहू एश्वर्या का पहला बच्चा है.। दोनों की शादी जून 2011 में हुई थी। पूरे परिवार को इस दिन का बेसब्री से इंतजार था। देर रात मेकाहारा अस्पताल में अभिषेक सिंह की पत्नी एश्वर्या ने मेकाहारा में बिटियां को जन्म दिया है। इस खबर से पूरे प्रदेश में खुशी की लहर है। हर कोई उन्हें बधाई दे रहा हैं।

नर्मदा परिक्रमा के बारे में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसकी जैसी श्रद्धा मां बम्लेश्वरी के दर्शन करने पहुंचे छत्तीसगढ़

रायपुर। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह मां बम्लेश्वरी के दर्शन करने डोंगरगढ़ रवाना हुए, उससे पहले उन्होंने एयरपोर्ट पर कहा कि रमन सरकार आकंठ भ्रष्टाचार में डूबी है, अधिकांश मंत्रियों पर करप्शन के आरोप हैं, लेकिन अब तक किसी पर भी कार्रवाई नहीं की गयी।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पहले कहते थे कि 'हम न खायेंगे न खाने देंगे', किन्तु सत्तासीन होने के बाद अब उनकी सोच बदलती दिखाई देती है कि 'केवल हम ही खायेंगे, किन्तु किसी को भी खाने नहीं देंगे'। इसी सोच के चलते ही प्रदेश के किसी भी भ्रष्टाचारी भाजपा मंत्री पर गंभीर आरोप के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। जनता भाजपा से इस मामले में जवाब चाहती है।

नर्मदा परिक्रमा के बारे में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसकी जैसी श्रद्धा होती है, उस ढंग से नर्मदा मैया की परिक्रमा करते हैं। कोई हेलिकाप्टर से, तो कोई कार से परिक्रमा करता है। मेरी नर्मदा मैया में अगाध श्रद्धा है। यही कारण है कि मैं पैदल चलकर परिक्रमा करने जा रहा हूं।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने पुलिसकर्मियों को पुलिस वीरता पदक से किया अलंकृत

रायपुर -  स्वतंत्रता दिवस समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह द्वारा पुलिस वीरता पदक, विशिष्ट सेवा हेतु राष्ट्रपति पुलिस पदक, सराहनीय सेवा हेतु भारतीय पुलिस पदक और सराहनीय सेवा हेतु गृह रक्षक व नागरिक सुरक्षा पदक का वितरण किया गया। मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने शहीद श्री पंकज सूर्यवंशी, शहीद श्री सीताराम कुंजाम, शहीद श्री पायकू पोयामी, शहीद श्री मोतीराम तेलाम, श्री रमेश कुमार नाग, श्री चाणक्य नाग एवं श्री ओमप्रकाश सेन को उनके अदम्य साहस और वीरता का परिचय देने के लिये पुलिस वीरता पदक से अलंकृत किया। डॉ सिंह ने विशिष्ट सेवा हेतु राष्ट्रपति पुलिस पदक के लिये पुलिस महानिरीक्षक अपराध अनुसंधान विभाग पुलिस मुख्यालय श्री एच को राठौर को अलंकृत किया। सराहनीय सेवा हेतु भारतीय पुलिस पदक के लिये डॉ आनंद छावड़ा उप पुलिस महानिरीक्षक, सेनानी श्री एम आर आहिरे, सेनानी श्री गोवर्धन राम ठाकुर, कंपनी कमाण्डर श्री प्रभुनाथ सिंह, उप निरीक्षक श्री पुने सिंह जूर्री, सहायक उप निरीक्षक श्री अमर साय, प्रधान आरक्षक श्री खुशाल चंद्र वर्मा, प्रधान आरक्षक श्री मूयाराम मडकामी, प्रधान आरक्षक श्री चैनूराम गावड़े, आरक्षक श्री काशीराम कुंजाम को अलंकृत किया गया। गृह रक्षक व नागरिक सुरक्षा पदक हेतु श्री राजेश कुमार पाण्डेय संभागीय सेनानी नगर सेना जगदलपुर और श्री सुमन लाल साहू नायक नगर सेना राजनांदगांव को अलंकृत किया गया। जीवन रक्षा पदक हेतु श्री यशवंत कुमार पिस्दा आरक्षक रक्षित केंद्र दुर्ग को अलंकृत किया गया।

 

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह रायपुर में आयजित विश्व आदिवासी दिवस समारोह में हुए शामिल

 प्रयास  विद्यालय में 9वीं कक्षा से ही करायी जायेगी बच्चों को तैयारी
 रायपुर - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि पीढ़ियों के निर्माण से बड़ी कोई योजना नहीं हो सकती। उन्होंने कहा- राज्य सरकार छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल क्षेत्रों में शिक्षा के विभिन्न बड़े प्रकल्पों के जरिए नई पीढ़ी के निर्माण में लगी हुई है। दंतेवाड़ा और सुकमा में एजुकेशन सिटी का निर्माण, प्रदेश के सभी पांच संभागीय मुख्यालयों में प्रयास आवासीय विद्यालयों का संचालन भी नई पीढ़ी के भविष्य को संवारने के लिए किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री आज शाम राजधानी रायपुर में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने सभी लोगों को विश्व आदिवासी दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी। डॉ. सिंह ने लोगों को याद दिलाया कि अब से केवल पांच दिन बाद स्वतंत्रता दिवस की पूर्व बेला में उनकी सरकार के पांच हजार दिन पूर्ण हो रहे हैं। उन्होंने इसका श्रेय आम जनता को दियाअ और कहा कि जनता के सहयोग और समर्थन से हीे हम सबको  प्रदेश की सेवा का सौभाग्य मिला है।
डॉ. सिंह ने अपने उदबोधन में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में छत्तीसगढ़ के वीरनारायण सिंह, गेंदसिंह और गुण्डाधूर जैसे महान शहीदों को याद किया। उन्होंने रानी दुर्गावती का भी स्मरण किया और इन महान शहीदों के चित्रों का लोकार्पण भी किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए डॉ. रमन सिंह ने कहा- सन 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अपने प्राणों की आहूति देने वाले सोनाखान के अमर शहीद वीरनारायण सिंह की स्मृति में एक बड़ा संग्राहलय बनाने का निर्णय लिया गया है। डॉ. सिंह ने प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। आदिवासी बहुल क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, सड़क, पेयजल, संचार सुविधा सहित हर प्रकार की अधोसंरचना का विकास और निर्माण किया जा रहा है। लगभग 44 प्रतिशत वन क्षेत्र वाले छत्तीसगढ़ राज्य में लगभग 33 प्रतिशत आबादी अनुसूचित जनजातियों की है, जिनका सामाजिक-आर्थिक विकास प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। 

भाजपा का सर सत्ता के सामने झुकता है किंतु कांग्रेस का सर सत्य के सामने झुकता है, भाजपा और कांग्रेस में यही मूल वैचारिक अंतर है राहुल गांधी

रायपुर जगदलपुर विमानतल पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी जी के आगमन पर कांग्रेस द्वारा आत्मीय एवं भव्य स्वागत किया गया। प्रदेश प्रभारी पी .एल. पुनिया, प्रभारी सचिव अरुण उरांव एवं कमलेश्वर पटेल, प्रदेश अध्यक्ष   भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष  टी.एस. सिंहदेव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. चरणदास महंत, पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक धनेन्द्र साहू, पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविंद्र चैबे, सहित सभी वरिष्ठ नेताओं ने अपने चहेते राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का छत्तीसगढ़ प्रवास पर स्वागत किया। स्वागत के उपरांत श्री राहुल गांधी विमानतल से सीधे गणपति रिसार्ट पहुंचे, जहां कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर में भाग लिया तथा उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कई महत्वपूर्ण टिप्स दिये। 
कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी की विचारधाराओं में मूल अंतर को समझाते हुये कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस की विचारधारा में एक ही मूलभूत अंतर है, वह है भारतीय जनता पार्टी के नेता और कार्यकर्ता सत्ता के सामने सिर झुकाते हैं जबकि कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता सच के सामने ही सर झुकाते हैं। भारतीय जनता पार्टी का चुनाव चिन्ह कमल है और वहीं खिलता है जहां कीचड़ होता है। कांग्रेस पार्टी का चुनाव चिन्ह हाथ का पंजा है जो कि सभी धर्मों में शामिल है। कांग्रेस का चुनाव चिन्ह सामाजिक एकता और समृद्ध राष्ट्र का प्रतीक है। हमारी सोच लोगों को जोड़ने वाली सोच है ना कि तोड़ने वाली। हमारी पार्टी प्रत्येक कार्यकर्ता का सम्मान करना जानती है इस समय आवश्यकता इस बात की है कि हम सब एकजुट होकर भारतीय जनता पार्टी के देश विरोधी विचारों के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करें तथा कांग्रेस की नीति, सिद्धांत को जनता तक पहुंचाने का प्रभावशाली ढंग से प्रयास करें। 
राहुल गांधी ने प्रशिक्षण शिविर में आये कांग्रेसियों को संबोधित करते हुये कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनती है तो वह सरकार केवल विधायको की सरकार नहीं होगी वरन् सभी कार्यकर्ताओं की सरकार बनेगी। उस सरकार में सबको सम्मान और सभी को उनकी योग्यता के अनुरूप जिम्मेदारी मिले यह भी सुनिश्चित किया जायेगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम में करूणा शुक्ला एवं सुरेन्द्र शर्मा विशेष रूप से उपस्थित थे। इसके बाद श्री राहुल गांधी जी ने प्रदेश महिला कांग्रेस के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित किया एवं अपने विचार रखे। प्रदेश युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को संबोधन के माध्यम से उनमें जोश भरें। तत्पश्चात सर्किट हाउस में विधायकों, वरिष्ठ पदाधिकारियों एवं अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात किये। साथ ही टाटा एस्सार के पीड़ितों से भी मुलाकात किये। राहुल गांधी जी ने स्थानीय आदिवासी युवको एवं छात्र प्रतिनिधियों से मुलाकात कर बस्तर की वस्तुस्थिति से अवगत हुये। 

 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दो दिन के दौरे पर पहुंचे छत्तीसगढ़

रायपुर - कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी  दो दिनी दौरे पर छत्तीसगढ़ पहुंच गए हैं। विशेष विमान से जगदलपुर पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी बस्तर इलाके के आदिवासी, जनप्रतिनिधि, बुद्धिजीवी और अन्य समाज प्रमुखों से मुलाकात करेंगे। बस्तर परिवहन संघ, चेंबर ऑफ कामर्स, NGO के अलावा कई प्रोजेक्ट के भू विस्थापितों का प्रतिनिधिमंडल भी राहुल गांधी से मुलाकात करेगा। राहुल गांधी रात्रि विश्राम जगदलपुर में ही करेंगे। इसके बाद शनिवार सुबह दस बजे गणपति रिसॉर्ट में आयोजित युवक कांग्रेस प्रशिक्षण शिविर में शामिल होंगे। फिर सवा 12 बजे वीरसावरकर भवन में आयोजित NSUI के युवा आदिवासी सम्मेलन में शामिल होंगे। दोपहर बाद तीन बजे नगरनार से लगे मारकेल इलाके में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। फिर शाम को विशेष विमान से वापस दिल्ली रवाना हो जाएंगे।

मंत्री परिषद की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

ख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय में आयोजित मंत्री परिषद  की बैठक में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए:-
राज्य सामान्य भविष्य निधि और अंशदायी भविष्य निधि पर 01 जुलाई 2017 से 30 सितम्बर 2017 तक की अवधि के लिए ब्याज दर 7.8 (सात दशमलव आठ) प्रतिशत रखने का निर्णय लिया गया। वर्तमान में भारत सरकार ने भी इस अवधि के लिए सामान्य भविष्य निधि तथा अन्य निधियों के अभिदाताओं के लिए ब्याज दर कुल जमा रकम पर 7.8 प्रतिशत निर्धारित किया है। आज केबिनेट में निर्णय लिया गया कि भविष्य में भारत सरकार की अधिसूचना के अनुरूप ब्याज दर निर्धारित करने के लिए वित्त विभाग को अधिकृत किया जाए।
मंत्री परिषद ने राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग की अनुशंसा के अनुसार सुत सारथी-सईस/सहीस जातियों को पिछड़ा वर्ग की सूची के सरल क्रमांक 65 से विलोपित करने का निर्णय लिया , क्योंकि भारत सरकार द्वारा इन जातियों को छत्तीसगढ़ राज्य की अनुसूचित जाति की सूची के सरल क्रमांक 25 में शामिल कर लिया है। 
विधेयकों को मंजूरी -मंत्रि परिषद ने आज जिन विधेयकों का अनुमोदन किया, वे इस प्रकार हैं-
 छत्तीसगढ़ निराश्रितों एवं निर्धन व्यक्तियों की सहायता अधिनियम 1970, यथा संशोधित 2010 में संशोधन।
छत्तीसगढ़ नगरपालिका (संशोधन) विधेयक 2017
छत्तीसगढ़ आबकारी (संशोधन) विधेयक 2017
जीएसटी लागू होने के कारण छत्तीसगढ़ मूल्य संवर्धित कर अधिनियम 2005 में संशोधन हेतु विधेयक।
छत्तीसगढ़ दुकान एवं स्थापना (नियोजन एवं सेवा शर्तों का विनियमन) विधेयक 2017।
 छत्तीसगढ़ औद्योगिक नियोजन (स्थायी आदेश) विधेयक 2017।
छत्तीसगढ़ श्रम विधियां (संशोधन) और प्रकीर्ण उपबंध विधेयक 2017।
 प्रथम अनुपूरक अनुमान वर्ष 2017-18 का विधानसभा में 

नए प्रभारियों की मौजूदगी में दिनभर चली प्रदेश कांग्रेस की बैठकें

 रायपुर। पिछले विधानसभा चुनाव में पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित दस में से नौ सीटों में कांग्रेस की हार हुई, इसका पार्टी के एससी वर्ग के नेताओं को मलाल है। इस कारण गुरुवार को नए प्रदेश प्रभारी एआईसीसी के महासचिव पीएल पुनिया, कमलेश्वर पटेल और अरुण उरांव से एससी वर्ग के नेताओं ने कहा कि एससी सीटों पर फोकस करें तो आगामी चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनाना मुश्किल नहीं होगा।

नए प्रभारियों के साथ पहली बैठक में ही प्रदेश नेतृत्व और गुटबाजी की बात उठी। एक वरिष्ठ नेता ने कहा, गुटबाजी इतनी ज्यादा है कि सुझाव दो तो बुरा लग जाता है। इस पर पुनिया ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बड़ी जिम्मेदारी दी है, इसलिए मेरा काम नेताओं के बीच समन्वय बनाकर चुनाव जितवाना है।

प्रदेश कांग्रेस भवन के सभागार में प्रदेश समन्वय समिति की गोपनीय बैठक हुई। हॉल में केवल समिति के अध्यक्ष पुनिया और सदस्यों को ही प्रवेश दिया गया। समिति के 21 सदस्यों में से चार सदस्य मोतीलाल वोरा, देवती कर्मा, अमितेष शुक्ल, छाया वर्मा अनुपस्थित रहे। हॉल का गेट बंद कर दिया गया था। बैठक की गतिविधियों पर कोई नजर न डाल पाए, इसलिए हॉल के भीतर चारों तरफ से पंडाल लगा दिया गया था।

प्रदेश प्रभारी बनने के बाद पहली बार छत्तीसगढ़ पहुंचे कांग्रेस प्रभारी PL पुनिया का भव्य स्वागत

 रायपुर:  कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी बनने के बाद पहली बार छत्तीसगढ़ दौरे पर पहुंचे पीएल पुनिया का एयरपोर्ट पर भव्य और ऐतिहासिक स्वागत हुआ। बड़ी संख्या में कांग्रेसी एयरपोर्ट के भीतर पहुंच गए थे, जिसकी वजह से पुलिस और CISF को अलग से बेरिकैट लगाना पड़ा। शहर जिला कांग्रेस ने अपने नेता के स्वागत को यादगार बनाने के लिए ऐतिहासिक इंतजाम किए थे। 20 पंडितों ने रायपुर के एयरपोर्ट में शंखनाद कर पुनिया का स्वागत किया। फिर एयरपोर्ट से बाहर निकलते ही 50 सब्जी विक्रेताओं ने सब्जी से भरी टोकरी उन्हें भेंट की। फिर सिख समुदाय के लोगों ने तलवार भेंट कर स्वागत किया।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी का काफिला एयरपोर्ट से निकलता, इससे पहले ही वहां छ्त्तीसगढ़ी लोकनृत्य सुआ और कर्मा नृत्य के साथ ओडिशी नृत्य कर स्वागत किया जाएगा। इस मौके को खास बनाने के लिए करीब एक हजार लोग सड़क के दोनों किनारों पर खड़े होकर उन्हें गुलदस्ता भेंट किया। रायपुर पहुंचने के बाद पुनिया ने एक बार फिर दोहराया कि वे सभी को साथ लेकर संगठन चलाएंगे और 2018 का चुनाव जीतना उनका लक्ष्य है। 

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आदिवासी विकास प्राधिकरणों की बैठक : एनएमडीसी को 200 बिस्तरों वाले सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल का निर्माण नवम्बर में शुरू करने के निर्देश

 जंगली हाथियों सहित भालुओं और बंदरों से हो रही 
परेशानियों से निपटने बनेगी विशेष कार्य-योजन 

किडनी प्रभावित सुपेबड़ा के ग्रामीणों के लिए जल्द शुरू होगी नल-जल योजना 

खदान क्षेत्रों में लौह अयस्क प्रभावित गांवों में समूह नल-जल योजना  सहित सौर ऊर्जा पम्पों से मिलेगा साफ पानी 

दोनों प्राधिकरणों से जारी 57.85 करोड़ की स्वीकृतियों का हुआ अनुमोदन बस्तर प्राधिकरण क्षेत्र में 400 देवगुड़ी निर्माण की मंजूरी 

प्रदेश के सभी मजरों-टोलों में सोलर पम्पों से पेयजल व्यवस्था के लिए चलेगा विशेष अभियान  

 

मुख्यमंत्री ने सरगुजा प्राधिकरण की बैठक में जंगली हाथियों से पीड़ित गांवों में चौबीसों घंटे निरंतर बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों से कहा कि वे इस पर विशेष रूप से ध्यान दें। बैठक में जंगली हाथियों रेडियो कॉलर लगाने के बारे में भी चर्चा की गई, ताकि उनकी गतिविधियों पर निगरानी रखी जा सके। सरगुजा प्राधिकरण की बैठक में प्राधिकरण क्षेत्रों के कई जिलों के कुछ इलाकों की मानव बसाहटों में बंदरों और भालुओं के कारण हो रही समस्याओं  इस पर मुख्यमंत्री ने वन विभाग के अधिकारियों को विशेष कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा - वन क्षेत्रों में हाथियों, बंदरों, भालुओं और दूसरे वन्य प्राणियों  के लिए उपयोगी खाद्य वृक्ष अधिक से अधिक संख्या में लगवाएं जाएं,  ताकि इन जंगली जीवों का मानव आबादी की ओर आना कम हो सके। जनप्रतिनिधियों से विचार-विमर्श के बाद आज दोनों प्राधिकरणों की बैठकों में कुल 57 करोड़ 85 लाख रूपए की पूर्व स्वीकृतियों का कार्योत्तर अनुमोदन किया गया। इसमें 27 करोड़ 90 लाख रूपए की स्वीकृतियों का अनुमोदन बस्तर प्राधिकरण की बैठक में और 29 करोड़ 94 लाख रूपए का अनुमोदन सरगुजा प्राधिकरण की बैठक में किया गया। मुख्यमंत्री ने दोनों प्राधिकरणों के ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर बिजली आपूर्ति के लिए ट्रांसफार्मरों और विद्युत लाइनों के रख-रखाव पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि जहां कहीं भी बिजली के ट्रांसफार्मर खराब हांे तो उन्हें जल्द से जल्द सुधारा जाए और अगर बदलने लायक हो तो 15 दिन से एक माह के भीतर अनिवार्य रूप से नया ट्रांसफार्मर लगवाया जाए

हर जिले में खनिज न्यास गठित करने वाला छत्तीसगढ़ बना पहला राज्य: कोरबा, रायगढ़ और दंतेवाड़ा जिलों के लिए विशेष कार्ययोजना बनाने के निर्देश

रायपुर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में जिला खनिज संस्थान न्यास (डीएमएफ) की बैठक आयोजित की गयी। डॉ. सिंह ने डीएमएफ की राशि से राज्य के विभिन्न जिलों में हो रहे विकास कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि छत्तीसगढ़ के सभी 27 जिलों में जिला खनिज संस्थान न्यास का गठन हो गया है और ऐसा करने वाला छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है। मुख्यमंत्री ने कहा- प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा देश के सभी राज्यों में खनिज उत्पादन की एक निश्चित राशि राज्य के संबंधित खनिज उत्पादक जिलों के विकास के लिए देने का प्रावधान किया गया है। इस राशि से जिलों में स्थानीय महत्व के अनेक जरूरी विकास कार्य हो सकते हैं। छत्तीसगढ़ के कई जिलों में इस दिशा में बेहतरी कार्य हो रहे हैं। केन्द्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना देश में लागू की गयी है। इसके अन्तर्गत छत्तीसगढ़ जिला खनिज न्यास नियम 2015 लागू किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा- प्रत्येक जिले में खनिज संस्थान न्यास की राशि इस योजना के नियमों और दिशा-निर्देशों के अनुरूप खर्च की जाए। सभी जिलांे में खनिज संस्थान न्यास जनवरी 2015 से अस्तित्व में आ गए हैं। बैठक में मुख्य सचिव    विवेक ढांड, खनिज साधन विभाग के सचिव  सुबोध कुमार सिंह और संचालक   अलरमेल मंगई डी सहित अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। खनिज साधन विभाग के सचिव  सुबोध कुमार सिंह ने बैठक में जिला खनिज न्यास संस्थान की गतिविधियों का प्रस्तुतिकरण दिया। 

15 सूत्रीय मुद्दों को लेकर छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी का 11 जुलाई को किसान सत्याग्रह

 रायपुर  राज्य में किसानो की बदहाल में सुधार की मांग को लेकर कांग्रेस ने 11 जुलाई को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में ‘‘किसान सत्याग्रह’’ करने का निर्णय लिया है। किसान सत्याग्रह में किसानों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाते हुये गांधीवादी तरीके से धरना, प्रदर्शन, ज्ञापन के माध्यम से किसानों को राहत दिये जाने हेतु राज्य सरकार पर दबाव बनाया जायेगा। सत्याग्रह में कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेता, पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अपने क्षेत्र जिलों में भागीदारी करेंगे। किसान सत्याग्रह के 15 सूत्रीय मुद्दे तय किये गये है-
1    प्रदेश में कर्ज से आत्महत्या किये किसानों के पीड़ित परिजनों को एक-एक करोड़ रूपयें का मुआवजा दिया जावे। 
2    प्रदेश भाजपा द्वारा अपने चुनावी संकल्प पत्र में घोषित धान खरीदी का समर्थन मूल्य 2100 रू. प्रति क्विंटल व 300 रूपयें बोनस दिये जाने की मांग।
3    भाजपा सरकार के पिछले कार्यकाल के धान का बकाया बोनस राशि और समर्थन मूल्य के अंतर राशि 25 हजार करोड़ के इस कार्यकाल के तीन वर्षो के धान का बोनस राशि सहित एकमुश्त भुगतान किये जाने की मांग। 
4    प्रदेश के किसानों को खरीफ फसल हेतु समयावधि में खाद-बीज व कीटनाशक दवाई उपलब्ध कराया जावे। 
5    किसान भाईयो के सभी प्रकार के ऋण माफ करने व कृषि पम्पों को निःशुल्क बिजली प्रदान किये जाने की मांग।
6    किसान भाईयों को कृषि ऋण तत्काल उपलब्ध कराया जावे।
7    किसानों की लंबित फसल बीमा की राशि भुगतान कराये जाने की मांग। 
8    कृषि व घरेलू बिजली दर में किये गये वृद्धि को कम किये जाने की मांग।
9    प्रत्येक राशन कार्डधारी परिवार को 35 किलोग्राम चावल दिये जाने तथा राशनकार्ड निरस्तीकरण बंद किया जावे।
10    मनरेगा के तहत लंबित मजदूरी भुगतान शीघ्र कराये जाने की मांग। 
11    प्रदेश के तेन्दुपत्ता संग्राहको को तेन्दुपत्ता बोनस दिये जाने की मांग। 
12    स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शौचालय निर्माण के लंबित भुगतान शीघ्र कराये जाने की मांग। 
13    प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी व्यवस्था लागू किये जाने की मांग। 
14    कमीशनखोरों पर कार्यवाही किये जाने की मांग।
15    वन-अधिकार कानून के तहत आदिवासियों एवं वन-निवासियों को पट्टा दिलाये जाने की मांग। 

प्रदेश कांग्रेस के मीडिया सचिव सुशील आनंद शुक्ला ने बताया कि इसके अतिरिक्त जिलों के स्थानीय मुद्दों को भी शामिल किया जायेगा। राज्य में ऐसा पहली बार हो रहा है जब सरकार की वायदा खिलाफी के कारण किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे है। पिछले एक पखवाड़े में 13 किसानों ने आत्महत्या कर लिया है। किसान आत्महत्या का सिलसिला थम ही नहीं रहा है।
 


कांग्रेस सांसदों और विधायकों से होगी मुलाकात, बसपा विधायक को भी न्योता
निष्कासित, निलंबित विधायकों से रहेगा परहेज
रायपुर। राष्ट्रपति पद के लिए संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार अपने लिए समर्थन हासिल करने के लिए 12 जुलाई को छत्तीसगढ़ आएंगी। मीरा कुमार दोपहर डेढ़ बजे विमान से रायपुर आएंगी और दोपहर 3 बजे यहां के विधायकों और सांसदों से मुलाकात करेंगी। बैठक के लिए स्थान फिलहाल तय नहीं किया गया है, लेकिन विधानसभा के सेंट्रल हॉल में ये बैठक हो सकती है। इस बैठक में कांग्रेस के अलावा बसपा के इकलौते विधायक केशव चंद्रा को भी आमंत्रित किया गया है।
दरअसल राष्ट्रपति चुनाव में बसपा सुप्रीमो मायावती ने मीरा कुमार की उम्मीदवारी का समर्थन किया है, लिहाजा इस बैठक में बसपा विधायक केशव चंद्रा को आमंत्रित करने का फैसला किया गया है। कांग्रेस ने तय किया है कि पार्टी से निष्कासित विधायक अमित जोगी और उनके साथ निलंबित विधायकों को बैठक में नहीं बुलाया जाएगा।
आपको बता दें कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद 9 जुलाई को रायपुर आ रहे हैं। वे यहां भाजपा के सांसद, विधायकों से मिलेंगे। माना जा रहा है कि कोविंद के साथ भाजपा विधायकों की बैठक भी विधानसभा के सेंट्रल हॉल में ही होगी।