राजधानी

भगवती राजराजेश्वरी की निकली विशाल शोभायात्रा।

खबरीलाल रिपोर्ट ::- जगद्गुरु शंकराचार्य आश्रम रायपुर में स्थापित भगवती राजराजेश्वरी माता का 13 वें पाटोत्सव के ठीक एक दिन पहले विशाल शोभायात्रा भक्तिमय माहौल में शंकराचार्य आश्रम परिसर से निकाला गया। शोभायात्रा के पहले आश्रम प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने पूजा एवं आरती किये तथा भगवती राजराजेश्वरी को शंकराचार्य आश्रम से बोरियाकला गांव में स्थित शीतला माता मंदिर तक लेकर गए जिनका समस्त बोरियाकला वासियों तथा ग्राम पंचायतों के पंच-सरपंच मिलकर भव्य स्वागत किये और पूजा अर्चना किये। इस अवसर पर ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने बताया कि पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने बोरियाकला गांव में शीतला माता के मंदिर का जीर्णोद्धार कर खुद प्राण प्रतिष्ठा किये थे तथा भगवती राजराजेश्वरी के पाटोत्सव के ठीक एक दिन पहले शीतला माता से मिलने बोरियाकला गांव में भगवती राजराजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी ललिता प्रेमाम्बा जाती हैं। आज के शोभायात्रा में शंकराचार्य आश्रम के वरिष्ठ आचार्य धर्मेंद्र महाराज, वेद वेदांग संस्कृत विद्यालय के विद्यार्थी - भूपेंद्र पांडेय, गौतम मिश्रा, रत्नेश शुक्ला, रुद्राभिषेक तिवारी, मठ के पुरोहित राम कुमार शर्मा, एमएल पांडेय, ज्योति नायर, डीपी तिवारी, नरसिंह चंद्राकर, श्रीकृष्ण तिवारी, सोनू चंद्राकर, शैलू नंदा, आश्रम के समन्वयक व प्रवक्ता सुदीप्तो चटर्जी व आदि भक्तगण शोभा यात्रा में शामिल हुए। ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने सभी श्रद्धालुओं से 22 अप्रैल को सुबह 11 बजे भगवती राजराजेश्वरी के पाटोत्सव में सम्मिलित होने तथा प्रसाद ग्रहण करने हेतु आग्रह किया।

स्वामी सदानंद सरस्वती 24 को रायपुर आएंगे।

ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य तथा द्वारका पीठ के मंत्री दंडी स्वामी सदानंद सरस्वती 24 अप्रैल की शाम शंकराचार्य आश्रम में पधारेंगे तथा भक्तों से मिलेंगे। स्वामी जी 25 अप्रैल दोपहर को सड़क मार्ग द्वारा अमरकंटक जाएंगे तथा वहाँ मंदिर का उद्घाटन कर 27 अप्रैल की शाम पुनः रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम पधारेंगे एवं भक्तो से मिलेंगे। 28 अप्रैल की शाम 5 बजे मोवा , दुबे कॉलोनी स्थित बालाजी मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर उपस्थित होकर प्रवचन एवं आशीर्वचन देंगे। रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम के प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद महाराज, प्रवक्ता सुदीप्तो चटर्जी, नरसिंह चंद्राकर व अन्य बालाजी मंदिर के उद्घाटन अवसर पर स्वामी सदानंद सरस्वती के साथ उपस्थित रहेंगे।

एकता अखंडता के पुरोधा थे आदि शंकराचार्य : इंदुभवानंद

खबरीलाल रिपोर्ट :: जगद्गुरु शंकराचार्य आश्रम वे स्थित भगवती राजराजेश्वरी मंदिर में भगवान आदि शंकराचार्य के 2525 तम जयंती बड़े भक्ति मय परिवेश में मनाया गया। आज के विशेष दिन के विशेष पूजन में आचार्य धर्मेंद्र, एमएल पांडेय, एलपी वर्मा, कुसुम सिंघानिया, नरसिंह चंद्राकर, ज्योति नायर, सोनू चंद्राकर, श्रीकृष्ण तिवारी, भूपेंद्र पांडेय, गौतम मिश्रा, पुरोहित राम कुमार शर्मा, एसएस सिंह व आदि भक्तगण सम्मिलित हुए तथा आश्रम प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद के सान्निध्य में पूजा अर्चना, आरती कर प्रसाद ग्रहण किये। इस विशेष अवसर पर ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने उपस्थित श्रद्धालुओं से कहा कि भगवान आदि शंकराचार्य ने विधर्मियों को हटाकर धार्मिक स्वतंत्रता दिलवाई तथा सनातन धर्म को अक्षुण्य बनाए रखने के लिए भारत के चारों दिशाओं में चार मठों की स्थापना की जिससे एक दूसरे मठ में जाकर परस्पर लोग क्षेत्रीय बात को भुलाकर भारत की अखंडता को अक्षुण्य बनाये रखने में अपना योगदान देंगे। मठ परंपरा भगवान आदि शंकराचार्य का ही देन है और इसी कारण हम मठ में पूजा कर सकते हैं जो पहले नहीं था। शंकराचार्य आश्रम रायपुर के प्रवक्ता रिद्धीपद ने उपस्थित भक्तों से आग्रह किया कि आगामी 22 अप्रैल भगवती राजराजेश्वरी का पाटोत्सव आश्रम में मनाया जाएगा तथा भगवती का अर्चन 1008 आम, किसमिस आदि फलों से कर पुष्पांजलि तथा महाआरती ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद महाराज के सान्निध्य में सम्पन्न होगा एवं हवन पश्चात महा भंडारे का आयोजन भी किया जाएगा। रिद्धीपद ने आगे बताया 21 अप्रैल की शाम 5 बजे भगवती राजराजेश्वरी की विशाल शोभायात्रा निकलेगी तथा भगवती राजराजेश्वरी बोरियाकला में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती द्वारा स्थापित मा शीतला से मिलने जाएंगी जिसका स्वागत बोरियाकला के सभी ग्राम पंचायत व गांव के लोग स्वागत कर भगवती राजराजेश्वरी का पूजन करेंगे।

Bbn24 News :: 20 अप्रैल को शंकराचार्य जयंती तथा 22 अप्रैल को भगवती राजराजेश्वरी का पाटोत्सव मनाया जाएगा।

खबरीलाल रिपोर्ट ::-  रायपुर के बोरियाकला स्थित जगद्गुरु शंकराचार्य आश्रम व भगवती राजराजेश्वरी मंदिर में 20 अप्रैल को आदि शंकराचार्य भगवान का 2525 तम जयंती मनाई जायगी तथा 22 अप्रैल को भगवती राजराजेश्वरी का 13 वां पाटोत्सव मनाया जाएगा। उक्त जानकारी शंकराचार्य आश्रम रायपुर के प्रमुख तथा छत्तीसगढ़ प्रभारी पूज्य ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने दी। उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल को  भगवान आदि शंकराचार्य की जयंती के उपलक्ष्य पर पूजार्चना, महाआरती एवं हवन होंगे साथ ही प्रसाद वितरित किये जायेंगे। आगे ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने बताया कि वर्ष 2006 को रायपुर के शंकराचार्य आश्रम में विश्व का पहला स्फटिक मणि के भगवती के विग्रह का प्राण प्रतिष्ठा ज्योतिश एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के कर कमलों द्वारा 22 अप्रैल 2006 को हुआ था तथा प्रत्येक वर्ष 22 अप्रैल को भगवती राजराजेश्वरी का स्थापना दिवस (पाटोत्सव) बड़े धूम धाम से मनाया जा रहा है। उस दिन विशेष पूजार्चना के साथ साथ महाआरती व हवन के पश्चात महा भंडारे का आयोजन किया गया है साथ ही भगवती की रथ यात्रा भी निकाली जाएगी। शंकराचार्य आश्रम के प्रवक्ता रिद्धीपद ने सभी भक्तों एवं श्रद्धालुओं को दोनों महत्त्वपूर्ण दिवस पर शंकराचार्य आश्रम रायपुर में उपस्थित होने हेतु आग्रह किया साथ ही पूजन , आरती व पुष्पांजलि अर्पित कर आशीर्वाद प्राप्त करने हेतु समस्त रायपुर एवं छत्तीसगढ़ वासियों से निवेदन किये हैं।

Bbn4 News :: खबरीलाल रिपोर्ट ::- गौ ही भारत माता है - स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम में उपस्थित श्रद्धालुओं से कहा कि गौ माता ही भारत माता है। जब धरती पर पाप व अत्याचार बढ़ता है तब पृथ्वी देवी गो-माता का रूप धारण कर भगवान के पास जाती है। अतः भारत माता धरती माता का स्वरूप गो-माता ही है। उन्होंने आगे कहा कि आजकल भारत माता के नक्शे के सामने एक देवी का चित्र भारत माता के रूप में दिखाया जाता है जबकि इसका वर्णन किसी भी शास्त्र में नहीं है। गौ ही भारत माता का मूल स्वरूप है। इस अवसर पर शंकराचार्य आश्रम रायपुर के प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद जी महाराज, आचार्य धर्मेंद्र, एमएल पांडेय, श्रीकृष्ण तिवारी, एसएस सिंह, डीपी तिवारी, ज्योति नायर, कस्तूरी चटर्जी, रत्नेश शुक्ला, शैलू नंदा, नरसिंह चंद्राकर, मठ के पुरोहित राम कुमार शर्मा, सोनू चंद्राकर, भूपेंद्र पांडेय, रुद्राभिषेक तिवारी व अन्य भक्तगण उपस्थित थे। आगे दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि कामनाओं का कभी अंत नहीं होता है। एक कामना के पूर्ति होने पर दूसरी कामना दिल और दिमाग मे घर कर जाती है। जो व्यक्ति अपनी कामनाओं को कपट धर्म का पालन करते हुए पूर्ति करते हैं आगे चलकर उसे अपने कृत्य का फल भोगना पड़ता है। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने अंत मे उपस्थित सभी भक्तों तथा देश के प्रत्येक व्यक्तियों के उद्देश्य से कहा कि श्रीमद्भागवत का प्रतिदिन जीवन भर श्रवण करना चाहिए साथ ही भागवत का एक श्लोक या आधा श्लोक मनुष्य को रोजाना पढ़ना चाहिए तथा उस श्लोक के अर्थ को समझते हुए उस पर विचार करना चाहिए। एक क्षण भी सत्संग संगति भी संसार रूपी समुद्र पार करने की नैया बन जाती है।

चौबे कॉलोनी लेडीज क्लब ने दान किया एसी मोर्चरी।

चौबे कॉलोनी लेडीज क्लब ने दान किया एसी मोर्चरी। रायपुर के चौबे कॉलोनी स्थित 45 वर्ष पुराना " चौबे कॉलोनी लेडीज क्लब" की अध्यक्षा ललिता जैन व क्लब की सदस्यगणों ने मिलकर एकसाथ सामाजिक कार्य करने वाले बढ़ते कदम संस्था को एसी मोर्चरी दान किये। बढ़ते कदम संस्था की ओर से इंदर दोडवानी व सदस्य उपस्थित हुए और एसी मोर्चरी लेडीज क्लब के सदस्यों के हाथों ग्रहण किये। इस विशेष अवसर पर पूर्व विधायक स्वरूपचंद जैन, नारायण भाई जोतवानी , माया सुरजन, नीलम सिंघानिया, पद्मा अग्रवाल, नीलम कासलीवाल व अन्य सदस्य भी उपस्थित थे। इस मौके पर बढ़ते कदम संस्था के इंदर दोडवानी ने चौबे कॉलोनी लेडीज क्लब के सदस्यों को जानकारी दिए कि उनके संस्था द्वारा "दरवेश योजना" विगत एक वर्षों से चलाया जा रहा है जिसमे वे रायपुर शहर के विक्षिप्त लोगों को चिन्हांकित कर उन्हें एक समय का भोजन करवाते हैं साथ ही उनके सदस्य शहरों से पुराने कपड़े इकट्ठे कर उसे ठीक करके जरूरतमंद लोगों को बांटते हैं। चौबे कॉलोनी लेडीज क्लब की ओर से दरवेश योजना हेतु एक मुश्त राशि बढ़ते कदम संस्था को अलग से प्रदान किये गए।

रायपुर जिले में अनाधिकृत निर्माण के प्रकरणों का हुआ नियमितीकरण

रायपुर जिले में अनाधिकृत निर्माण के प्रकरणों का हुआ नियमितीकरण खबरीलाल रिपोर्ट for Bbn4 News ::- कलेक्टर ओ.पी.चौधरी की अध्यक्षता में जिला कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में समिति की बैठक आयोजित हुई, जिसमे जिले 329 प्रकरणों का निराकरण किया गया। ज्ञात हो कि अभी तक रायपुर जिले के 6563 प्रकरणों का निराकरण कर दिया गया है। युथ आइकॉन कलेक्टर ओपी चौधरी ने नियमितीकरण के शेष बचे प्रकरणों के निराकरण में तेजी लाने हेतु अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए हैं।कलेक्टर ओ.पी. चौधरी ने निर्देशित किया है कि अनाधिकृत निर्माण के नियमितीकरण के लिए मास्टर प्लान के अनुरूप नक्षा होना चाहिए ।आवेदक द्वारा प्रस्तुत आवेदन में संलग्न समस्त दस्तावेजों पर निरीक्षणकर्ता अनिवार्य रूप से हस्ताक्षर करें तथा गैर आवासीय भवनों में वाहनों की पार्किंग व्यवस्था होने पर ही नियमितीकरण किया जाए साथ ही निर्धारित मापदंड पूरा होने पर ही नियमितीकरण किया जाए। बैठक में नगर एवं ग्राम निवेश के संयुक्त संचालक, नगर निगम के जोन कमिश्नर सहित समिति के अन्य सदस्यगण उपस्थित थे।

सिटी महा कालीबाड़ी में 15 अप्रैल को अमावस्या पूजा

सिटी महा कालीबाड़ी में 15 अप्रैल को अमावस्या पूजा बंगाली नववर्ष (पहला बैसाख) के उपलक्ष्य पर रायपुर सिटी महा कालीबाड़ी एवं विश्वनाथ मंदिर समिति द्वारा आगामी 15 अप्रैल रविवार को "पहला बैसाख" के उपलक्ष्य पर मंदिर प्रांगण में बंगाल के मशहूर नाट्यकार बादल सरकार द्वारा रचित नाटक " भूल रास्ता" का मंचन श्रीदक्षिणा रंजन मुखर्जी द्वारा रात 8 बजे किया जाएगा एवं बंगाली समुदाय के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे। उक्त जानकारी समिति के महासचिव गौतम मजूमदार ने दी। आगे उन्होंने कहा कि 15 अप्रैल को अमावस्या तिथि होने के कारण उस दिन शाम 5 बजे से रात्रि 8 बजे तक माँ काली की विशेष पूजा होगी तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम के पश्चात भोग प्रसाद वितरित किये जायेंगे। संस्था के अध्यक्ष ने समाज के सभी लोगों से इस विशेष उपलक्ष्य पर रायपुर सिटी महा कालीबाड़ी, गोविंद नगर पंडरी में उपस्थित होने हेतु आग्रह किया साथ ही पहला बैसाख (पोइला बोईसाख) हेतु समिति की ओर से अग्रिम शुभकामाएं प्रेषित किये।

और शिष्य का संबंध प्रश्न एवं उत्तर का होता है - अविमुक्तेश्वरानंद

गुरु और शिष्य का संबंध प्रश्न एवं उत्तर का होता है - अविमुक्तेश्वरानंद ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ट्रैन मार्ग द्वार 8 अप्रैल को श्रीविद्या मठ, बनारस से रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम में पधारे हैं । उनके आश्रम में पहुंचने के पश्चात उपस्थित भक्तों ने उनका भव्य स्वागत किया तथा आशीर्वाद प्राप्त किया। इस विशेष दिन में आचार्य धर्मेंद्र एवं आचार्य महेंद्र तिवारी ने पूज्य स्वामी जी का पादुका पूजन व आरती करने के पश्चात उन्हें माला पहनाकर स्वागत किये और आशीर्वाद प्राप्त किये। पूज्य स्वामी जी का आशीर्वाद प्राप्त करने हेतु बेमेतरा के सलदाह धाम के ब्रह्मचारी ज्योतिर्मयानंद जी महाराज भी उपस्थित हुए। अपने आशीर्वचन में पूज्य दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने उपस्थित भक्तों - पंडरिया विधायक मोतीराम चंद्रवंशी, बेमेतरा विधायक अवधेश चंदेल, श्रीकृष्ण तिवारी, एमएल पांडेय, श्रीमती तारिणी तिवारी, रत्नेश शुक्ला, नरसिंह चंद्राकर, भूपेंद्र पांडेय, शैलू नंदा, सोनू चंद्राकर, श्रीमती ज्योति नायर, रमेश शर्मा, डॉ रघुनंदन तिवारी व आदि उपस्थितजनों से कहा कि गुरु और शिष्य का संबंध प्रश्न और उत्तर जैसा है। गुरु उत्तर होते हैं और शिष्य प्रश्न। शिष्यों के भिन्न प्रकार के प्रश्नों का सदुत्तर केवल गुरु ही दे सकता है। आगे उन्होंने कहा कि आज शिष्य बहुत कम प्रश्न करते या पूछते हैं लेकिन श्रवण का भी महत्त्व है। जो शिष्य अपने अंदर के जिज्ञासा को पवित्र भाव से अपने गुरु से प्रश्न करे उसका उत्तर त्वरित शिष्य के अंतरात्मा में चला जाता है जिसे वह जिंदगी भर नहीं भूलता है और वही शिष्य आगे चलकर ऊंचा मुकाम हासिल करता है। पूज्य स्वामी जी ने आगे कहा कि शरीर हमारा नही है , शरीर केवल शरीरी है मात्र। जिस दिन प्राणी यह समझ जाएगा उस दिन उसके दुःख-कष्ट खत्म हो जाएंगे। साथ ही स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने उपस्थित भक्तों से कहा कि अल्प में ही संतुष्ट रहना सीखना होगा। आज जो देश मे भ्रष्टाचार व्याप्त है वह केवल अपने मन के अंदर लालच रूपी लहरों के उठने के कारण है। व्यक्ति यह नहीं सोचता कि किसी भी तरह का उपार्जन वह अंत समय मे अपने साथ नहीं ले जा सकता है। आज देखने मे यह आता है कि कम आये करने वाले व्यक्ति एक करोड़पति, अरबपति व्यक्ति से कहीं ज्यादा सुखी और शांतिमय जीवन बिताते हैं। आश्रम प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद जी महाराज ने बताया कि 9 अप्रैल को स्वामीजी छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले के ग्राम परपोड़ा जाएंगे जहाँ वे 9 अप्रैल से 15 अप्रैल तक सात दिन व्यापी समस्त ग्रामवासी एवं क्षेत्रवासियों को अपने श्रीमुख से भागवद कथा का रस पान करवाएंगे तथा धर्म संदेश भी देंगे।

दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती 8 अप्रैल को रायपुर आएंगे

दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती 8 अप्रैल को रायपुर आएंगे जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य प्रतिनिधि एक दिन के प्रवास पर रायपुर पधार रहे हैं। उक्त जानकारी आश्रम प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद महाराज ने दी। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती जी सुबह सारनाथ एक्सप्रेस से रायपुर पहुंचेंगे तथा रायपुर स्थित शंकराचार्य आश्रम में भक्तों से मिलेंगे और आशीर्वचन देंगे। दंडी स्वामी जी शाम को बेमेतरा हेतु प्रस्थान करेंगे जहां वे श्रद्धालुओं को राम कथा का अपने श्रीमुख से रस पान करवाएंगे। शंकराचार्य आश्रम के प्रवक्ता रिद्धिपद ने सभी भक्तों को आश्रम में उपस्थित होकर स्वामी जी से आशीर्वाद एवं आशीर्वचन प्राप्त करने हेतु आग्रह किया है।

जापान जाने वाले प्रावीण्य सूची में चयनित 6 विधार्थियो से मिले स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप

जापान जाने वाले प्रावीण्य सूची में चयनित 6 विधार्थियो से मिले स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप सकुरा साइंस प्रोग्राम के तहत साइंटिस्ट की सोच लाने के लिए प्रदेश से 6 बच्चों का चयन किया गया है। यह बच्चे राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की सहायक संचालक श्रीमती स्मृति शर्मा के नेतृत्व में शुक्रवार को जापान रवाना होंगे। गुरुवार को स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने इन बच्चों को बेहतर सीखने के लिए उत्साहवर्धन किया। इस मौके पर स्कूल शिक्षा सचिव गौरव द्विवेदी , राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के संचालक मयंक वरवड़े समेत अन्य मौजूद रहे । जापान से पहले दिल्ली में इन बच्चों का 7 अप्रैल को ओरिएंटेशन प्रोग्राम रखा गया है जहाँ केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की टीम बच्चों को बारीकियां सिखाकर जापान रवाना करेगी ।ज्यादातर चयनित बच्चे दर्जी ,मजदूर ,किसान और सब्जी बेचने वाले के हैं । इनके पासपोर्ट राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की नोडल अधिकारी स्मृति शर्मा ने बनवा लिया है ।इन बच्चों में राजधानी के हाई सेकेंडरी स्कूल गुमा के कक्षा ग्यारहवीं का छात्र करण साहू का चयन हुआ है। वहीं दुर्ग से शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल के लकी देवांगन का नाम सामने आया है मुंगेली से वैशाली और जसपुर के संकल्प शिक्षण संस्थान के 3 बच्चों का चयन हुआ है। इनमें नीता सिंह , महेंद्र मेहरा और अनूप भगत शामिल है । जापान में साइंस एंड टेक्नोलॉजी एजेंसी है जो ऐसे बच्चों को तराशती है जिन के भीतर वैज्ञानिक बनने की क्षमता हो उनके कुछ बेसिक मापदंड पर चयन करके इन्हें एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत साइंटिस्ट बनाने प्रेरित किया जाता है । इसी के साथ साथ आदिवासी बाहुल्य के जिन छात्रों का चयन हुआ है उसके लिए भी स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने उनको बहुत सारी शुभकामनाएं दी हैं ।

7 अप्रैल को निःशुल्क आनापानसति ध्यान सत्र आयोजित।

7 अप्रैल को निःशुल्क आनापानसति ध्यान सत्र आयोजित। रायपुर छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिचुअल सोसाइटीज मूवमेंट तथा पिरामिड स्पिरिचुअल साइंस अकादमी द्वारा दिनांक 7 अप्रैल को रायपुर के कचहरी चौक के पास स्थित बाल आश्रम परिसर के पास कैलाश ध्यान केंद्र में निःशुल्क ध्यान सत्र आयोजित किया गया है। यह निःशुल्क पिरामिड ध्यान सत्र ब्रह्मर्षि पत्रीजी के शिष्य मास्टर सुधीर द्वारा लिया जाएगा साथ ही लोगों को निःशुल्क ध्यान करना भी सिखाया जाएगा। इच्छुक प्रतिभागी निःशुल्क अपना पंजीयन करवाकर इस सत्र में भाग ले सकते हैं साथ ही अपने जिज्ञासा का उत्तर भी पा सकते हैं। यह निःशुल्क सत्र शाम 6 बजे शुरू होगा तथा 7:30 बजे समाप्त होगा।

पानी टंकी ढ़हने से आरक्षक की मौत, जानिए क्या था पूरा मामला...

रायपुर | छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पानी टंकी के ढ़हने से एक आरक्षक की मौत हो गई | घटना उस वक़्त की है जब रायपुर के पुलिस लाइन स्थित पुराने पानी टंकी को जर्जर होने की स्थिति में गिराया जा रहा था | इस घटना में एक अन्य आरक्षक बुरी तरह घायल हो गया है | मृतक आरक्षक जयसिंह यादव पुलिस लाइन में ड्राईवर था जो की पानी टंकी के गिरने पर उसके निचे दब गया | वहीँ घायल आरक्षक एन के व्यास को उपचार के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया है | आपको बता दे कि यह घटना गुरुवार की सुबह की है जब जर्जर हो चुकी पानी टंकी को गिराया जा रहा था | 

अमरजीत सिंह सलूजा को छत्तीसगढ़ सिक्ख फेडरेषन के प्रदेष कार्यकारी अध्यक्ष संरक्षक जविन्दर सिंह सलूजा (डॉबी)को नियुक्त किया गया व जिला बलौदाबाजार-भाटापारा का सौपा गया प्रभार

रायपुर छत्तीसगढ़ सिक्ख फेडरेषन रायपुर के द्वारा प्रदेष कार्यकारी अध्यक्ष के लिए दिलीप सिंह वोरा पूर्व अध्यक्ष अल्पसंख्यक आयोग की अनुषंसा पर अमरजीत सिंह सलूजा को छत्तीसगढ़ सिक्ख फेडरेषन के प्रदेष कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया व जिला बलौदाबाजार-भाटापारा का प्रभार सौंपा गया। जिला इकाई के लिए सचिव के रूप में हरप्रीत सलूजा एवं संरक्षक के रूप में जविन्दर सिंह सलूजा (डॉबी) की नियुक्ति की गई। चेम्बर ऑफ कामर्स के संरक्षक श्रीचंद सुंदरानी ने सभी नवनिर्वाचित सदस्यो को समाज के हित में कार्य करने की प्रेरणा दी एवं निर्वाचित होने पर बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की शुभकामना प्रेषित किये। छत्तीसगढ़ सिक्ख फेडरेषन के प्रदेष अध्यक्ष तेजेन्दर सलूजा, महासचिव संटी चावला, रायपुर इकाई के अध्यक्ष गुरूचरण सिंह टाक, छत्तीसगढ़ सिक्ख फेडरेषन के फाउन्उर बंटी चावला, निरंजन सिंह खनूजा, इन्दरजीत सिंह छाबड़ा सचिव गुरूद्वारा सिंह सभा आदि सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे। दिलीप सिंह जी वोरा के द्वारा सभी सदस्यो को नियुक्ति पत्र दिया गया एवं सिक्ख फेडरेषन का नाम ऊँचाईयों पर ले जाने एवं समाज हित के लिए कार्य करने की प्रेरणा दी गई। उपरोक्त जानकारी छत्तसीगढ़ सिक्ख फेडरेषन के सचिव हरप्रीत सलूजा के द्वारा दी गई।

आरआईटी के विद्यार्थियों ने पक्षियों को बचाने हेतु दिया संदेश।

रायपुर इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने गर्मियों में पक्षियों को पानी के अभाव में जान न गंवाना पड़े इस हेतु मरीन ड्राइव, तेलीबांधा में आरआईटी के मैकेनिकल, सिविल, बियोटेक्नॉलॉजी, ईटी एंड टी, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने राहगीरों को सकोरे बांटे साथ ही यह भी उनसे कहा कि इस गर्मी के मौसम में पानी न मिलने के कारण हजारों की संख्या में पक्षियों की मौत हो जाती है इसलिए वे अपने घर के टेरेस, छत इत्यादि जग्य पर सकोरे में चावल के दाने और पानी भरकर रखे जिससे समय पर पक्षी अपना भूख और प्यास बुझा सके। साथ ही विद्यार्थियों ने उन्हें गौ माता तथा अन्य पशुयों हेतु घर के बाहर पानी की व्यवस्था करने हेतु आग्रह किया। आरआईटी के इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने पानी बचाने हेतु भी संदेश दिया तथा सभी से रेन वाटर हार्वेस्टिंग, रीसायकल ऑफ वेस्ट वाटर के बारे में भी बताया। इस अवसर पर आरआईटी की ईटी एंड टी की विभाग प्रमुख ज़ुनूबिया अली एवं अन्य विद्यार्थी गण उपस्थित हुए और लोगों को जागृत किया। आरआईटी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के बीबीए तथा एमबीए के विद्यार्थियों ने नगर निगम रायपुर विजिट किया तथा सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के साथ साथ निगम के विभिन्न कार्यों तथा योजनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त किए और कार्यों को देखा। इस अवसर पर महापौर प्रमोद दुबे खुद विद्यार्थियों से रूबरू हुए और उन्हें जानकारी प्रदान किये साथ ही नगर निगम रायपुर के अभियंता ने विस्तृत जानकारी रिटकॉम  के विद्यार्थियों को दिए। इस अवसर पर रिटकॉम के प्राचार्य डॉ समीर ठाकुर, डॉ दीप्ती बघेल, डॉ सुचित्रा राठी एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।