देश

मौत की बारात : भरतपुर में मैरिज हॉल की दीवार गिरी, 26 की मौत, 30 घायल

भरतपुर: राजस्थान के भरतपुर में शादी का माहौल उस वक्त मातम में बदल गया जब एक बारात घर की दीवार गिरने से 26 लोगों की मौत हो गई जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए. भरतपुर जिले के सेवर रोड के अन्नपूर्णा बारात घर में बुधवार को शादी समारोह में बारातियों के खाने-पीने का कार्यक्रम चल रहा था. शाम से वहां तेज हवा चल रही थी और रात 10 बजे अचानक आंधी के कारण दीवार गिर गई जिसकी चपेट में कई लोग आ गए. 

जानकार बताते हैं कि मैरिज होम की दीवार के पास ही खाने के स्टॉल लगाए गए थे. बारात जयपुर से आई थी. बाराती खाने का आनंद ले रहे थे, तभी तेज अंधड़ आया और मैरिज होम की दीवार हवा के दबाव को सहन नहीं कर पाई और दीवार धराशाई हो गई. दीवार के नीचे आकर बड़ी संख्या में लोग दब गए. दीवार गिरने से मैरिज होम में भगदड़ मच गई. लोगों की चीख-पुकार सुनकर स्थानीय लोग और पुलिस ने मौके पर पहुंच कर मलबे में दबे लोगों को निकालना शुरू किया. 

हादसे की सूचना मिलते ही जिला अधिकारी और अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और दबे लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. मरने वालों में 4 बच्चे, 9 महिलाएं और 12 पुरुष शामिल हैं. बारात जयपुर से भरतपुर आई थी. हादसे के समय घटनास्थल पर करीब 800 लोग मौजूद थे. पुलिस का कहना है कि कई लोगों की मौत भगदड़ में कुचल जाने से भी हुई है. पुलिस ने मैरिज होम के संचालक और प्रबंधक को गिरफ्तार कर लिया है. 

(सीजी खबर से )

बीजेपी शासित राज्य के मंत्री कालीचरण ने कहा- रेप की घटनाएं रोकने के लिए सरकार हर घर में ताला तो नहीं लगा सकती

राजस्थान के चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने रेप की बढ़ती घटनाओं पर एक बेहद ही शर्मिंदगी भरा बयान दिया है। राजस्थान के चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा है कि ये सही है कि राज्य में बलात्कार की घटनाएं बढ़ रही है, लेकिन रेप की घटनाएं रोकने के लिए सरकार हर घर में ताला नहीं लगा सकती है। कालीचरण सराफ ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, ‘ सरकार एक एक घर के अंदर ताला लगाएगी क्या? कहना बड़ा आसान है, अपराध बढ़ रहा है पर इसमें क्या किया जा सकता है?’ कालीचरण सराफ चार साल की एक बच्ची के साथ उसके नौकर द्वारा रेप की घटना पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।
बता दें कि राजस्थान के माणक चौक पुलिस थाना क्षेत्र में एक नौकर ने अपने मालिक के घर में 4 साल की बच्ची को आइस्क्रीम का लालच देकर उसके साथ रेप किया था। पुलिस ने आरोपी नौकर को गिरफ़्तार कर लिया है। राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट द्वारा लगाये गये आरोप कि पुलिस के लचर रवैये की वजह से राज्य में अपराध बढ़ रहा है, उन्होंने कहा कि, हां यह सच है कि राज्य में अपराध बढ़ रहे हैं लेकिन कांग्रेस को इस मुद्दे पर सियासत नहीं करनी चाहिए, बल्कि राज्य सरकार को सुझाव देना चाहिए और उन्हें गाइड करना चाहिए।
कालीचरण सराफ ने कहा कि घटना में पीड़ित बच्ची का बेहतर इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ज्वैलर के घर उसका नौकर जाता है और अगर वो बच्ची से रेप करता है तो उसमें पुलिस और सरकार क्या कर लेगी? उन्होंने कहा कि पुलिस अपनी ओर से यथासंभव आरोपी को पकड़ने की कोशिश करती है और कानून के प्रावधानों के मुताबिक दोषी को दंड दिया जाता है। उन्होंने कहा कि सरकार अपराध रोकने के लिए घर घर पुलिस तैनात नहीं कर सकती है।

 

पहली छुट्टी पर घर आए थे लेफ्टिनेंट उमर फयाज, आतंकियों ने क्‍लोज रेंज पर सिर और छाती में मारी गोलियां

जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकियों के दुस्‍साहस का शिकार हुए लेफ्टिनेंट उमर फयाज पहली छुट्टी पर घर आए थे। कुलगाम जिले के फयाज पुणे की नेशनल डिफेंस एकेडमी में 129वें बैच के कैडेट थे। पिछले साल दिसंबर में उन्‍होंने भारतीय सेना ज्‍वाइन की थी। दक्षिणी कश्‍मीर के अशमुकाम स्थित नवोदय विद्यालय से पढ़ाई करने वाले फयाज 2, राजपूताना रायफल्‍स में पोस्‍टेड थे। सेना के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया को बताया कि आर्मी ज्‍वाइन करने के बाद, यह फयाज की पहली छुट्टी थी। वह जम्‍मू के अखनूर एरिया में तैनात अपनी यूनिट के पास 25 मई को वापस लौटने वाले थे। मगर आतंकियों ने अधिकारी को अगवा कर उनकी हत्या कर दी। दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिले में बुधवार को उमर फैयाज का गोलियों से छलनी शव मिला। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों ने मंगलवार शाम को फयाज को अगवा कर लिया था। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा, “एक कायरतापूर्ण कृत्य के तहत कुछ अज्ञात आतंकवादियों ने मंगलवार को एक निहत्थे, युवा सैन्य अधिकारी उमर फैयाज को अगवा करने के बाद उनकी हत्या कर दी।”
रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने इसे कायरतापूर्ण कृत्य कहा है और सेना ने इसके लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की शपथ ली है। जेटली ने कहा कि सरकार दुख की इस घड़ी में फैयाज के परिवार के साथ है। उन्होंने साथ ही कहा कि फैयाज घाटी के युवाओं को प्रेरित करते रहेंगे। जेटली ने एक ट्वीट में कहा, “शोपियां में आतंकवादियों द्वारा लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का अपहरण और उनकी हत्या एक कायरतापूर्ण कृत्य है। जम्मू एवं कश्मीर का यह युवा अधिकारी एक रोल मॉडल है।” जेटली ने कहा, “हम इस दुख की घड़ी में लेफ्टिनेंट उमर फैयाज के परिवार के साथ हैं। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज घाटी के युवाओं को प्रेरित करते रहेंगे।”
राजपूताना राइफल्स के कर्नल और दक्षिण पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडर इन चीफ लेफ्टिनेंट अभय कृष्णा ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। कृष्णा ने अपने शोक संदेश में कहा, “मैं परिवार को आश्वासन देता हूं कि इस घृणित अपराध और कायरतापूर्ण कृत्य के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।”

 

कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, इंटरनेशनल नंबर से रात में आया फोन

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर 2 करोड़ रिश्वत लेने का आरोप लगाने वाले कपिल मिश्रा को जान से मारने की धमकी मिली है. कपिल मिश्रा को यह धमकी इंटरनेशनल नंबर से मिली है. कपिल मिश्रा का कहना है कि कल रात 12.30 बजे +97430783388 नंबर से कॉल और मैसेज करके उन्हें जान से मारने की धमकी दी है. उन्होंने अभी इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करवाई है. उधर, कपिल मिश्रा आज से भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं.  उन्होंने साफ कहा कि जब तक आम आम पार्टी अपने पांच नेताओं के विदेश दौरों की जानकारी पार्टी सार्वजनिक नहीं करेगी तब तक वह अनशन करेंगे. कपिल मिश्र जिन पांच आम आदमी पार्टी के नेताओं के विदेश दौरों की जानकारी सार्वजनिक करने की मांग कर रहे हैं वे पांच नाम हैं - संजय सिंह, राघव चढ्ढा, आशीष खेतान, अशुतोष और दुर्गे़श पाठक.

सोमवार को कपिल मिश्रा CBI को तीन शिकायतें देकर आए हैं. FIR-1 केजरीवाल के रिश्तेदार की 50 करोड़ की लैंड डील, FIR-2 AAP नेताओं के विदेशी दौरे और FIR-3 केजरीवाल द्वारा 2 करोड़ के नकद लेन-देन की शिकायत. इस मामले पर कपिल मिश्रा ने कुछ और ट्वीट किए हैं. उन्होंने लिखा है कि कुछ नेताओं द्वारा बीसियों विदेश यात्राएं, चंदे के पैसों से सरकारी पैसों से और अवैध कैश से की गई हैं. जानकारी सार्वजनिक की जाए. कहां-कहां गए, कहां रुके, किन लोगों से मिले, क्या डीलिंग हुई. कितने दिनों तक किस देश में रहे. पैसा कहां से आया? पासपोर्ट की डिटेल्स?

कपिल ने सोमवार को अरविंद केजरीवाल को संबोधित करते हुए मी़डिया के सामने एक पत्र भी पढ़ा. उन्होंने अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी कि इस्तीफा देकर किसी भी सीट से चुनाव लड़ लें. सीट आप चुनें मैं आपके खिलाफ लड़ने को तैयार हूं. उन्होंने सीबीआई में जाने से पहले कहा कि भ्रष्टाचार के लिए लड़ना और सच के लिए अड़ना आप से ही सीखा है. जिस गुरु से धनुष-बाण सीखा आज उसी पर तीर चलाना है. मन बहुत भारी है. अरविंद केजरीवाल आप जानते हैं कि मैं किस पैसे के लेन-देन की बात कर रहा हूं. उस दिन मैंने एसीबी को खत न लिखा होता तो आप मुझे आनन-फानन में न निकालते. आपके पास धन-बल है और मैं अकेला हूं.

पीएम नरेंद्र मोदी से मिले 25 मुस्लिम नेता, कहा- कश्मीर में हालात खराब

जमियात-उलमा-ए-हिंद की छत्र-छाया में करीब 25 मुस्लिम नेताओं ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इन मुस्लिम नेताओं ने मोदी से कश्मीर में बढ़ते तनाव और तीन तलाक के मुद्दे पर बात की। इस मुलाकात में जमियात-उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना कारी सयैद मोहम्मद उस्मान मंसूरपूरी, सचिव मौलाना महम्मूद ए मदानिम के अलावा कई अन्य मुस्लिम संगठन के नेता मौजूद थे। इन नेताओं ने पीएम मोदी से कहा कि कश्मीर में दिन प्रतिदिन हालात खराब होते जा रहे है। घाटी के तनाव को केवल पीएम मोदी ही दूर कर सकते है। इसके अलावा नेताओं ने तीन तलाक के मुद्दे पर बात करते हुए कहा कि हम पीएम की सराहना करते है कि वे इस मुद्दे को गंभीरता से देखते है।
वहीं पीएमओ ने अपना जवाब देते हुए कहा कि तीन तलाक एक गंभीर मुद्दा है इसलिए किसी भी पार्टी को इसपर राजनीति नहीं करनी चाहिए। यह देश के महिलाओं के हित में है कि तीन तलाक की प्रथा को खत्म किया जाए। सभी को आगे बढ़कर इस मामले पर काम करना चाहिए। इसके बाद पीएम ने कश्मीर मुद्दे पर कहा कि नई पीढ़ी भारत के निर्माण में बराबर की हिस्सेदार है। आतंकवाद एक गंभीर चुनौती है जिसे मिलकर सुलझाने की आवश्यकता है।
पीएमओ ने बयान दिया कि यह देश प्रत्येक समुदाय के लोगों का है। मुस्लिम समुदाय के लोगों को भी देश की सुरक्षा में अपनी जिम्मेदारी दिखाने के लिए आगे आना चाहिए। किसी भी स्थिती में देश की सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया जाए। वहीं नेताओं ने केंद्र सरकार की सराहना करते हुए कहा कि अल्पसंख्यकों के लिए जो नई योजनाएं लागू की गई है वह काफी अच्छी हैं। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी मौजूद थे। डोभाल ने कहा कि आज सभी देश भारत की तरफ देखते है। यह हम सभी समुदाय के लोगों की जिम्मेदारी है कि हम भारत को विकास की ओर लेकर जाएं। नेताओं ने सहमति जताई कि देश का आगे लेकर जाने की जरूरत है इसलिए पीएम का नारा “सबका साथ, सबका विकास” बिलकुल सही है।

 

सहारनपुर में फिर भड़की जातीय हिंसा की आग, ‘भीम सेना’ के सैकड़ों लोगों ने फूंके वाहन, पुलिस चौकी जलाने की कोशिश

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में मंगलवार (नौ मई) को दोबारा हिंसा भड़क उठी। पिछले हफ्ते शब्बीरपुर गांव में दलितों के संग हुई हिंसा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग को लेकर किए जा रहे प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़क उठी। पुलिस के अनुसार करीब 1000 लोगों की “भीम सेना” के झंडे तले इकट्ठा हुए थे। हिंसा में सहारनपुर के दो गांवों में एक प्राइवेट बस, 10 मोटरसाइकिलें और एक कार जला दी गयीं। हिंसा में पुलिस के तीन जवान और एक पत्रकार भी घायल हो गये।
पुलिस के अनुसार भीड़ ने पुलिस चौकी को भी जलाने की कोशिश की। हिंसा में शामिल होने के आरोप में यूपी पुलिस ने 22 लोगों को गिरफ्तार किया है। मंगलवार की हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने राज्य के प्रधान सचिव (गृह) देबाशीष पंडा, पुलिस डीजीपी सुलखान सिंह और पुलिस एडीजी (कानून-व्यवस्था) आदित्य मिश्रा को तलब किया। सूत्रों के अनुसार सीएम योगी ने अधिकारियों को उपद्रवकारियों से कड़ाई से निपटने के लिए कहा है। यूपी के केबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा है कि हालात जल्द ही सामान्य हो जाएंगे।
पांच मई को सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में तब हिंसा भड़क उठी जब दलितों ने ठाकुरों द्वारा निकाली जा रही एक शोभायात्रा में तेज आवाज में संगीत बजाने पर आपत्ति की। दोनों पक्षों में इस बात को लेकर विवाद हो गया और बाद में हिंसा भड़क उठी। हिंसा में एक ठाकुर की मौत हो गयी और दलितों के 25 घर जला दिए गए। पुलिस के अनुसार पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर “भीम सेना” नामक संगठन द्वारा नौ मई को सहारनपुर में इकट्ठा होने के मैसेज वितरित किए जा रहे थे। साथ ही “महा पंचायत” और शब्बीरपुर में दलितों के खिलाफ हिंसा पर “कड़ी कार्रवाई” की मांग की जा रही है।
सहारनपुर के डीएम एनपी सिंह के अनुसार सोशल मीडिया पर भेजे गये मैसेज में कहा जा रहा है कि “न्याय नहीं मिला तो सहारनपुर शहर को जला दिया जाएगा।” डीएम सिंह के अनुसार विरोध प्रदर्शन करने वाले जिले के दलितबहुल गांवों में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।  प्रदर्शनकारियों ने मलहीपुर में गाडि़यों को जला दिया और पुलिस की गाड़ी पर पथराव किया। सहारनपुर के डीआईजी जीतेंद्र शाही के अनुसार “भीम सेना” बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती के मुख्यमंत्रीकाल से सक्रिय है। लोगों को सहारनपुर में इकट्ठा होने की अपील करने वाले राहुल भारती ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि “दलितों के खिलाफ अत्याचार सोची-समझी रणनीति का परिणाम था और हम इसके खिलाफ लड़ेंगे।”

 

जम्मू कश्मीर में आर्मी अफसर उमर फय्याज की हत्या, आतंकियों ने किया था किडनैप

जम्मू कश्मीर के शोपियां सेक्टर में एक आर्मी अफसर की हत्या कर दी गई। जिस अफसर की हत्या की गई उनकी पहचान लेफ्टिनेंट उमर फय्याज पारी के रूप में हुई है। उमर कुलगाम के रहने वाले थे। वह किसी रिश्तेदार की शादी के कार्यक्रम में शोपियां पहुंचे थे। घर वापस जाते वक्त कुछ आतंकवादियों ने उनका अपहरण कर लिया था। जिसके बाद उनकी हत्या कर दी गई। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।
इस घटना पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने कहा, ‘निंदा करते हैं, जांच के बाद देखते हैं क्या आता है। इसका जवाब दिया जाएगा।’

 

पार्टी की बैठक में बीजेपी महासचिव के मुंह से निकला- कर्नाटक में 150 सीटें जीत कर कांग्रेस बनाएगी सरकार

बड़े-बड़े वादे और इरादे राष्ट्रीय राजनीति में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पहचान बनते जा रहे हैं। पार्टी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का कद इतना बढ़ गया है कि आम तौर पर कोई भी भाजपा नेता उन दोनों की राय के प्रतिकूल विचार रखने से बचता है। लेकिन हाल ही में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीधर राव की जबान कर्नाटक में एक पार्टी बैठक के दौरान फिसल गयी जिसके लिए उन्हें गहरा अफसोस हो रहा होगा।
मुरलीधर राव ने पार्टी की बैठक में कहा दिया कि कर्नाटक में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव में कांग्रेस 150 सीटें जीतेगी। कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए 113 सीटें ही काफी होती हैं। राव को तुरंत ही अपनी भूल का अहसास हो गया और उन्होंने अपनी बात दुरस्त करते हुए कहा कि कर्नाटक में आगामी विधान सभा चुनाव में भाजपा 150 सीटें जीतेगी। लेकिन राव की अनचाही भूल से पार्टी को अवांछित नुकसान हो गया। उनके बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर लीक हो गया। आखिर में मुरलीधर राव ने भाजपा के सोशल मीडिया सेल को उनके संबोधन का पूरा वीडियो जारी करने के लिए कहा।
कर्नाटक में अभी कांग्रेस की सरकार है। कांग्रेस के के सिद्धारमैया राज्य के मुख्यमंत्री हैं। कर्नाटक में पिछला विधान सभा चुनाव मई 2013 में हुआ था। राज्य में विधान सभा की कुल 225 सीटे हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने राज्य की 125 सीटों पर जीत हासिल करके भाजपा को सत्ता से बाहर कर दिया था। भाजपा को 44  और जनता दल (सेकुलर) 40 सीटों पर जीत मिली थी। बाकी सीटें अन्य पार्टियों और निर्दलियों के खाते में गयी थीं।
2013 के चुनाव में भाजपा को बीएस येदियुरप्पा के पार्टी छोड़ने का बड़ा नुकसान हुआ था। येदियुरप्पा के नेतृत्व में ही भाजपा पहली बार किसी दक्षिण भारतीय राज्य में सरकार बनाने में सफल हुई थी। येदियुरप्पा ने भाजपा से निकलने के बाद अलग पार्टी बनाकर चुनाव लड़ा था। येदियुरप्पा भले ही अपनी पार्टी को जीत न दिला सके हों उन्होंने भाजपा को हराने में अहम रोल अदा किया। येदियुरप्पा ने लोक सभा चुनाव से कुछ महीने पहले जनवरी 2014 में भाजपा में घर वापसी कर ली। इसलिए पार्टी को उम्मीद है कि आगामी विधान सभा चुनाव में वो एक बार अच्छा प्रदर्शन करेगी।

 

कश्मीर में खुश हुए अमित शाह, 6 महीने तक पार्टी का प्रचार करने के लिए आगे आए 30 मुस्लिम कार्यकर्ता

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, जो पार्टी के विस्तार के लिए जम्मू में हैं, उन्हें रविवार को एेसा सरप्राइज मिला, जिसे देखकर वह खुश हो गए। दरअसल शाह ने पार्टी के उन कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई थी, जो 6 महीने तक बीजेपी की विचारधारा और उसके संस्थापक दीनदयाल उपाध्याय के संदेश लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं। हैरानी की बात है कि जो लोग बैठक में शामिल हुए थे, उनमें से 30 कश्मीरी मुस्लिम थे। बीजेपी नेता अब कह रहे हैं कि घाटी से आए हुए लोगों की मौजूदगी दिखाती है कि मुस्लिम लोगों की पार्टी के प्रति सोच अब बदल रही है। यूपी चुनावों के वक्त पार्टी ने दावा किया था कि उसे ट्रिपल तलाक पर उसके स्टैंड को मुस्लिम महिलाओं का काफी सपोर्ट मिला था।
साल 2015 में बीजेपी और पीडीपी गठबंधन की सरकार बनने के बाद अमित शाह का यह पहला जम्मू-कश्मीर दौरा है। बैठक के दौरान शाह ने मंत्रियों से कहा था कि वह कश्मीर घाटी का दौरा करें और आम जन से मिलें। साथ ही पार्टी के आधार को मजबूत करें। शाह का यह बयान एेसे समय आया था, जब राज्य के राज्यपाल एन एन वोहरा लोकसभा के उपचुनाव के दौरान हिंसा के बाद घाटी में स्थिति की जानकारी देने के लिए दिल्ली पहुंचे थे। वोहरा मंगलवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर सकते हैं।
जम्मू के नौशेरा से बीजेपी विधायक रविंदर रैना ने कहा था, “पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्रियों को निर्देश दिए हैं कि उन्हें केवल अपने विधानसभा क्षेत्र तक नहीं सीमित रहना चाहिए बल्कि कश्मीर के अंदरूनी क्षेत्रों में यात्रा करते रहना चाहिए। साथ ही घाटी के लोगों से मिलकर उनकी समस्याएं सुननी चाहिए।” रैना के मुताबिक, शनिवार को हुई पार्टी नेताओं की बैठक में घाटी में जारी हिंसा और तनाव को लेकर शाह ने कहा था कि केंद्र और राज्य सरकार दोनों की प्राथमिकता घाटी में शांति बहाल करने की है। हमारे अंदर इस परिस्थिति से निपटने की क्षमता है और हम इससे निपट लेंगे।

योगी के मंत्री ने तीन तलाक पर दिया विवादित बयान, कहा – मुस्लिम हवस के लिए बदलते हैं बीवी

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के सत्ता नें आते ही सीएम योगी आदित्य नाथ के मंत्रियों ने विवादित बयान देना शुरु कर दिया है। हाल ही में राज्य मंत्री सत्यदेव पचौरी ने एक विकलांग को लूला लंगड़ा कहा था। वहीं अब अन्य मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने तीन तलाक के मुद्दे पर बोलते हुए मुस्लिमों पर विवादित बयान दे दिया है। मौर्य का कहना है कि मुस्लिम पति अपनी पत्नियों को केवल इसलिए तलाक देते है ताकि वे दूसरी बीवी लाकर अपनी हवस को पूरा कर सके। यह बयान मौर्य ने बस्ती जिले में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही। मौर्य ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी हमेशा मुस्लिम महिलाओं के साथ है।
मौर्य ने कहा मुस्लिम महिलाओं के पति अपनी हवस को पूरा करने के लिए तीन तलाक देकर अपनी बीवी को बदल लेते है। उन्होंने कहा कि यह अब नहीं चलेगा कि मुस्लिम पुरुष जब चाहे अपनी पत्नियों को बेवजह तलाक दे दें। ये लोग तालक देकर अपने बीवी-बच्चों को सड़क पर भीख मांगने पर मजबूर कर देते है। मौर्य ने कहा कि महिलाओं के अधिकार और उन्हें न्याय दिलाने के लिए बीजेपी हमेशा पीड़ित मुस्लिम महिलाओं के साथ खड़ी है। हम किसी भी हाल में उनके साथ गलत नहीं होने देंगे।
इतना ही नहीं मौर्य ने बहुजन समाजवादी पार्टी की सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि जब मैंने बीएसपी छोड़ी थी तो मायावती ने कहा था कि मेरा राजनीतिक भविष्य खत्म हो जाएगा। मेरा राजनीतिक भविष्य तो नहीं खत्म हुआ। हां, उन लोगों का राजनीतिक भविष्य जरूर खत्म हुआ है जो कि मायावती के लिए बंधुआ मजदूरी करते रहे है। मौर्य ने कहा कि हम संघर्ष कर आगे बढ़ने वालों में से है, लेकिन हम मायावती की राजनीति को एक दिन जरूर खत्म करके रहेंगे। आपको बता दें कि मौर्य हमेशा अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में बने रहते है। विधानसभा चुनावों से पहले मौर्य ने जहां एक तरफ मायावती पर टिकट बंटवारे को लेकर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। वहीं उन्होंने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को रिजेक्टिड माल बता दिया था।

1 जवान से बदसलूकी के बदले 100 जिहादी मारो, कश्मीर हमारा है: हमारा था हमारा रहेगा - गंभीर

नई दिल्ली.गौतम गंभीर ने कहा है कि हमारे एक आर्मी जवान को मारे गए एक थप्पड़ के बदले 100 जिहादी मारे जाने चाहिए। गौतम ने गुरुवार को कुछ ट्वीट किए। ये ट्वीट कश्मीर से आए उस कथित वीडियो पर रिएक्शन हैं, जिसमें सेना के जवानों से कुछ कश्मीरी युवक बदसलूकी और मारपीट करते दिखाई देते हैं। गौतम ने एक ट्वीट में कहा- कश्मीर सिर्फ और सिर्फ हमारा है।

- गौतम ने क्या कहा, इसे जानने से पहले उनकी नाराजगी की वजह जान लेना जरूरी है। 
- दरअसल, पिछले दिनों श्रीनगर में बाइ-इलेक्शन हुआ। इस दौरान सेना और सीआरपीएफ के कुछ जवान इलेक्शन ड्यूटी पर जा रहे थे। तभी कश्मीर के कुछ युवा उनके पास आते हैं। ये लोग एक जवान से पहले बहस करते हैं। बाद में हाथापाई करते हैं, लेकिन जवान शांत रहते हैं। जबकि, जवान वर्दी में थे और हथियारों से लैस भी। 
- एक युवा आर्मी जवान के बैक-पैक पर मुक्के मारता है। जवान का हेल्मेट दूर जा गिरता है। 
- वीडियो के मुताबिक, एक युवा तो जवान को लात भी मारता है। लेकिन जवान चूंकि इलेक्शन ड्यूटी पर जा रहे थे, इसलिए वो बिना जवाब दिए आगे बढ़ जाते हैं। वीडियो में गो-बैक इंडिया जैसे नारे भी सुनाई देते हैं।

जिसको आजादी चाहिए, वो देश छोड़ दे
 गंभीर ने तीन ट्वीट किए। एक में कहा- जवानों से बदसलूकी, मारपीट और गाली-गलौच का वीडियो वायरल हो रहा है। 
- दूसरे में कहा- हमारे आर्मी जवान को मारे गए हर थप्पड़ के बदले 100 जिहादियों को मार देना चाहिए। जिसको भी आजादी चाहिए, वो देश छोड़कर चला जाए। कश्मीर तो सिर्फ हमारा है। 
- भारत विरोधी हमारे तिरंगे के तीन रंग का मतलब भूल गए? भगवा यानी गुस्से की आग। सफेद यानी जिहादियों के लिए कफन और हरा यानी आतंकवाद से नफरत।

सहवाग भी साथ

-  सहवाग भी जवानों से हुई हरकत पर बेहद खफा हैं। सहवाग ने ये वीडियो शेयर करते हुए कहा- इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। आप हमारे सीआरपीएफ जवानों के साथ ऐसा नहीं कर सकते। अब ये बंद हो जाना चाहिए। ये बदतमीजी की हद है।

 

दिल्ली एमसीडी चुनाव: पंजाब जैसा हाल न हो, इसलिए आप ने झोंकी पूरी ताकत, चंडीगढ़ के मॉडल पर बनाया वॉर रूम, 21 वर्टिकल्स भी बनाए

दिल्ली के आगामी एमसीडी चुनावों में पंजाब और गोवा जैसी हार से बचने के लिए आम आदमी पार्टी ने पूरी ताकत झोंक दी है। पार्टी ने सेंट्रल दिल्ली में एक तीन कमरों वाला वॉर रूम तैयार किया है। जहां 22 अप्रैल को होने जा रहे नगर निगम चुनावों को लेकर वॉलंटियर्स की मीटिंग और रणनीतियां तैयार की जा रही हैं। दिल्ली का यह वॉर रूम चंडीगढ़ के मॉडल पर बनाया गया है। 21 वर्टिकल्स भी बनाए गए हैं ताकि चुनाव की हर हलचल पर नजर रखी जाए। इन वर्टिकल्स में एक पूरी लिस्ट है जिसमें स्टार कैंपेनर्स, खर्च, कैंपेन, सोशल मीडिया, मतभेद मैनेजमेंट, दान और धन आदी की पूरी जानकारी दी गई है।

इस वॉर रूम का संचालन कर रहे आप के दिल्ली महासचिव सौरभ भारद्वाज ने कहा, “सभी 21 वर्टिकल्स के लिए वॉलंटियर्स की दो टीमें बनाई गई हैं। एक टीम जमीनी स्तर पर काम करती है तो दूसरी इसपर नजर रखती है। ये दोनों ही टीमें हर रोज अपनी रिपोर्ट्स भेजती हैं ताकि काम का मूल्यांकन हो सके। “पंजाब में 117 में से 20 सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी के लिए इसी माह होने वाले एमसीडी चुनाव एक नई चुनौती के रूप में आए हैं। पार्टी ने असंतुष्ट कार्यकर्ताओं को संभालने के लिए एक स्पेशल टीम भी तैयार की है।

पार्टी के एक सीनियर कार्यकर्ता ने बताया, “किसी भी चुनाव से पहले अंदरूनी मतभेद आम है। कड़ी मेहनत करने वाला हर कार्यकर्ता टिकट मिलने की चाह रखता है। हर वॉर्ड से कम से कम 10 वॉलंटियर्स ऐसे होते हैं जो टिकट पाने योग्य हैं, लेकिन टिकट एक ही होता है। इसलिए हमने इस बार ऐसे कार्यकर्ताओं के लिए एक टीम तैयार की है।” वहीं, एक मोबाइल ऐप्लिकेशन बनाई गई है जो घर-घर जाकर प्रचार कर रहे और हर वॉर्ड में लोगों से मिल रहे वॉलंटियर्स को ट्रैक करेगी। भारद्वाज ने कहा, “अभी तक इन में से कोई भी अभियान की मैनुअल एंट्री नहीं है, लेकिन पूरी डेटा मोबाइल ऐप में इक्ट्ठा हो जाएगा।

पांच महीने बाद मणिपुर में खत्म हुई आर्थिक नाकेबंदी, नागा काउंसिल ने किया एलान

मणिपुर में करीब पांच माह से जारी यूनाइटेड नगा काउंसिल (यूएनसी) की आर्थिक नाकेबंदी रविवार मध्यरात्रि के बाद समाप्त हो गई। केंद्र, राज्य सरकार और नगा समूहों की बातचीत के बाद एक आधिकारिक बयान में यह कहा गया है। सेनापति जिला मुख्यालय में आयोजित त्रिपक्षीय वार्ता के बाद जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया है, ‘यूएनसी नेताओं को बिना शर्त रिहा किया जाएगा और आर्थिक नाकेबंदी को लेकर नगा जनजातीय नेताओं और छात्र नेताओं के खिलाफ चल रहे मामलों को खत्म किया जाएगा।’
राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री ओ इबोबी सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के सात नये जिले बनाये जाने के फैसले के खिलाफ यूएनसी ने एक नवंबर, 2016 को आर्थिक नाकेबंदी शुरू की थी। बयान पर केंद्रीय गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव सत्येंद्र गर्ग, अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) जे सुरेश बाबू और मणिपुर सरकार के आयुक्त (कार्य) राधाकुमार सिंह एवं यूएनसी महासचिव एस मिलन और ऑल नगा स्टूडेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सेठ सतसंग के हस्ताक्षर हैं। इम्फाल में सात फरवरी को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या दो और 37 की नाकेबंदी को खत्म करने के लिए त्रिपक्षीय वार्ता हुई थी लेकिन वह विफल रही थी।

 

दिल्ली- जेएनयू के छात्र ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

 दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के एक छात्र की संदिग्ध हालत में मौत हो गई. उसकी लाश एक कमरे में छत के पंखे से लटकी हुई मिली. मौके पर देखने से पहली नजर में मामला आत्महत्या का लग रहा है. अभी पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है.

दिल्ली में सभी लोग सोमवार को होली के जश्न में डूबे हुए थे. शाम को 5 बजकर 5 मिनट पर पुलिस कंट्रोल रूम को एक कॉल मिली कि मुनिरका में एक युवक ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया है. सूचना मिलते ही पुलिस मुनिरका विहार के मकान संख्या 196 पर जा पहुंची.

जब कमरे का दरवाजा तोड़कर पुलिस अंदर दाखिल हुई तो देखा कि सामने 25 वर्षीय युवक की लाश छत के पंखे से लटकी हुई थी. मृतक छात्र का नाम रजनी कृष बताया जा रहा है. फौरन मौके पर क्राइम ब्रांच, फोरेंसिक टीम और पुलिस फोटोग्राफर को बुलाकर कमरे की जांच पड़ताल शुरू की गई.

पुलिस को पता चला कि मृतक कृष जेएनयू में एम.फिल का छात्र था. दोपहर के वक्त वह अपने दोस्त के घर आया था. खाना खाने के बाद उसने अपने दोस्त से कहा कि वह सोने जा रहा है. तब वह उस कमरे में गया और कमरा अंदर से बंद कर लिया.

उसके बाद उसे दोस्तों ने उठाने के लिए आवाज लगाई और दरवाजा पर दस्तक दी लेकिन वह बाहर नहीं आया. परेशान होकर उसके दोस्त ने पुलिस कंट्रोल रूम पर फोन करके सूचना दी.

अभी तक पुलिस को इस वारदात से जेएनयू का कोई संबंध नजर नहीं आ रहा है. पुलिस के मुताबिक मृतक छात्र अपने कुछ व्यक्तिगत मामलों को लेकर डिप्रेशन में था. पुलिस अब इस मामले की गंभीरता से जांच पड़ताल कर रही है.

होली में रखें इन बातों का ध्यान तभी होगी आपकी होली हैप्पी होली

 रायपुर होली आने को बस अब कुछ ही दिन बचे है, लेकिन अभी से लोगो के चेहरो पर होली का खुमार देखने को मिल रहा है। होली की खुशी और रंगो के  रंगीन बहार में हम सब खो जाते है। इसी के चलते होली की तैयारियों में अभी से लोग व्यस्त है और बेताबी से होली  के रंगो में रंगने को तैयार हैं। लेकिन होली का त्यौहार खुशियों के साथ कुछ प्रॉब्लम्स भी दे जाता है । होली में यूज होने वाले कलर स्किन और बालो के लिए हार्म फुल होते है।
बेशक आप होली के रंगो और खुशियों में रंगिये लेकिन अपने साथ ही अपने खूबसूरती का खयाल भी रखिये। होली के रंगो से स्किन के साथ आपके बालो को  भी नुकसान होता है । तो जानिए कैसे इस होली पर होली के मजे के साथ रखना है आने स्किन और बालो को खयाल -
होली से एक दिन पहले या रात में आपने फेस पर और शरीर पर सरसो का तेल लगा ले इससे होली के रंग जल्दी निकल जाते है ।
अगर आपका सरसो का  तेल नहीं लगाना है या चिचिपाहट होती है तो इसकी जगह आप बॉडीलोशन या क्रीम का इस्तेमाल भी कर सकती है ।
होली में रंगो का चुनने में सावधान रहे क्योंकि होली में बाजार में बिकने वालों रंगो में केमिकल होता है जो स्किन को नुकसान पहुंचा सकता है ।