देश

भारत का विजयी क्रम जारी, बांग्लादेश को 208 रनों से हराकर लगातार छठी टेस्ट सीरीज पर जमाया कब्जा

भारत ने हैदराबाद के राजीव गांधी क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए एकमात्र टेस्ट मैच में बांग्लादेश को 208 रनों से हरा दिया है। भारत द्वारा दिए गए 459 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए बांग्लादेश की पूरी टीम अपनी दूसरी पारी में मात्र 250 रनों पर सिमट गयी। इस तरह भारत ने लगातार छठी टेस्ट सीरीज पर कब्जा जाम लिया है। इस जीत के साथ भारत ने विराट कोहली के नेतृत्व में लगातार 19 टेस्ट मैचों में अपराजित रहने का सिलसिला भी जारी रखा है। भारत की तरफ से बांग्लादेश की दूसरी पारी में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा ने चार-चार वहीं, इशांत शर्मा ने दो खिलाड़ियों को आउट किया। इससे पहले मैच के अंतिम दिन बांग्लादेश ने चौथे दिन की अपनी पारी 103 पर 3 विकेट से आगे खेलना शुरू किया और स्कोर में मात्र एक रन का इजाफा करके शाकिब अल हसन का विकेट गवां दिया। मैच के पांचवें दिन सोमवार सुबह शाकिब उल हसन 22 रन के निजी स्कोर पर जडेजा के हाथों आउट हुए। उन्हें पुजारा ने कैच किया। इसके बाद आर. अश्विन ने जडेजा के हाथों मुशफिकुर रहीम को कैच आउट करा कर भारत को पांचवीं सफलती दिला दी। मुशफिकुर रहीम 23 रन बनाकर आउट हुए।
कप्तान मुशफिकुर रहीम के आउट होने के बाद महमुदुल्लाह और सब्बीर रहमान के बीच छठे विकेट के लिए 51 रनों की साझेदारी हुई। इशांत शर्मा ने सब्बीर रहमान को 22 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर एलबीडब्लू आउट कर बांग्लादेश को छठा झटका दिया। इसके बाद इशांत शर्मा ने जमकर बल्लेबाजी कर रहे महमुदुल्लाह को 62 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर भुवनेश्वर कुमार के हाथों कैच आउट करा कर बांग्लादेश के सातवें विकेट का पतन किया। बांग्लादेश की दूसरी पारी में महमुदुल्लाह सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहे और उन्होंने 62 रनों की पारी खेली। बांग्लादेश का कोई अन्य बल्लेबाज भातरीय स्पिन जोड़ी के सामने नहीं टिक सका और नियमित अंतराल उनका विकेट गिरता रहा। कप्तान विराट कोहली ने रवींद्र जडेजा के हाथों में एक बार फिर गेंद सौंपी और उन्होंने कप्तान को निराश ना करते हुए मेंहदी हसन को विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट करा कर भारत को आठवीं सफलता दिला दी। मेंहदी हसन ने आउट होने से पहले 23 रन की पारी खेली। रवींद्र जडेजा ने इसके कुछ ही देर बाद तैजुल इस्लाम को आउट केएल राहुल के हाथों कैच आउट करा दिया और इस प्रकार बांग्लादेश के नौवें विकेट का पतन हुआ। रविचंद्रन अश्विन ने तस्कीन अहमद को एलबीडब्लू आउट कर बांग्लादेश की पारी का अंत किया और भारत ने मैच 208 रनों से अपने नाम कर लिया। कमरुल इस्लाम रब्बी तीन रन बनाकर नाबाद रहे। मैच में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय कप्तान विराट कोहली को मैन आॅफ द मैच चुना गया।

 

राज्यसभा में बोले पीएम मोदी – भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई राजनीतिक नहीं है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यसभा में बोल रहे हैं। मोदी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब दे रहे हैं। मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ जो लड़ाई चल रही है वह राजनीतिक नहीं है। मोदी ने आगे कहा, ‘कुछ लोग उछल-उछल के बोल रहे हैं कि आतंकियों के पास 2000 के नोट मिले, बैंक जम्मू और कश्मीर में लूटे गए थे। उसके बाद आतंकवादी मारे गए।’
मोदी ने इंदिरा गांधी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पूर्व ब्यूरोक्रेट माधव गोडबोले ने अपनी किताब में जिक्र किया है कि 1971 में इंदिरा गांधी को नोटबंदी करने की सलाह दी गई थी लेकिन उन्होंने आइडिया रिजेक्ट कर दिया था।

 

लोकसभा में बीजद सांसद ने नरेंद्र मोदी के पास जाकर सीधे कहा- आपने भाषण में दी गलत जानकारी, हैरान रह गए सारे भाजपाई

संसद के बजट सत्र के दौरान मंगलवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धन्‍यवाद प्रस्‍ताव का जवाब दिया। अपने भाषण में उन्‍होंने सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। लेकिन जैसे ही उनका भाषण खत्‍म हुआ, बीजू जनता दल सांसद तथागत सत्‍पति पीएम के पास पहुंचे। मोदी के सामने लाइन लगाए खड़े बीजेपी सांसदों ने सोचा कि सत्‍पति उनकी तारीफ करेंगे, लेकिन उन्‍होंने मोदी से कहा, ”प्रधानमंत्री जी, आपको गलत जानकारी दी गई है।” मोदी ने तुरंत पूछा, ”क्‍या? क्‍या?” तब एक खदान क्षेत्र, धेनकनाल से सांसद सत्‍पति ने कहा कि प्रधानमंत्री का बयान कि सभी कोयला खदान वाले इलाके अब रिटेल में कोयला बेचते हैं, गलत था। उन्‍होंने कहा कि यहां तक कि पावर स्‍टेशनों को पर्याप्‍त कोयला नहीं मिल पा रहा। सत्‍पति इतना कहकर वहां से चले गए और बीजेपी सांसद हक्‍के-बक्‍के रह गए। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को सदन में सरकार द्वारा लिए गए फैसलों के पीछे की वजहें तथा उनके फायदे गिनाए।
बजट सत्र को आगे करने के मुद्दे पर पीएम ने कहा कि देश कृषिप्रधान देश है। खेती का परिणाम दिवाली तक आ जाता है। इसके बाद दो-तीन महीने का समय रह जाता है। इस समय के सदुपयोग के लिए समय आगे बढ़ाया गया है। मोदी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा, ”देश में एक ऐसा वर्ग पनपा जो गरीबों के हक को लूटता रहा इसलिए देश ऊंचाइयों पर नहीं पहुंच पाया। पहले होता था कितना गया, अब होता है मोदी जी कितना लाये। यही सही कदम है।”
नोटबंदी पर मोदी ने कहा कि अच्‍छी अर्थव्‍यवस्‍था की जरुरत थी इसलिए यह सही समय था। ऑपरेशन तभी होता है जब शरीर सही होता है। नोटबंदी का फैसला भारत को साफ (भ्रष्‍टाचार व काले धन से) करने के लिए लिया गया। हमें चुनाव की चिंता नहीं देश की चिंता है। नोटबंदी के दौरान बार-बार निर्देश बदलने पर प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसा भ्रष्‍ट लोगों की चालाकियों का जवाब देने के लिए किया गया। ताकि उन्‍हें पता चल सके तू डाल-डाल मैं पात-पात हैं।
संसद के बजट सत्र के पहले दिन राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अभिभाषण पढ़ा था। इसमें उन्‍होंने मोदी सरकार की उपलब्धियों और योजनाओं का जिक्र किया था। अभिभाषण पर चर्चा में कांग्रेस ने सरकार की उपलब्धियों पर सवाल उठाए थे। कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने मेक इन इंडिया, बुलेट ट्रेन, मनरेगा जैसी योजनाओं के नाम पर सरकार पर हमले बोले थे।

 

ओ पन्नीरसेल्वम ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- असेंबली में साबित करुंगा अपना बहुमत

तमिलनाडु के सीएम पन्नीरसेल्वम ने मंगलवार देर रात पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगाने के बाद बुधवार को मीडिया से बात की। चेन्नई स्थित अपने निवास स्थान पर प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि वह असेंबली में अपनी ताकत साबित करेंगे और अगर पार्टी कार्यकर्ता चाहेंगे तो वह इस्तीफा वापस लेने के लिए तैयार हैं। साथ उन्होंने कहा, “अम्मा 16 सालों तक मुख्यमंत्री रहीं, मुझे भी दो बार मौका मिला। यह अम्मा की ही मर्जी थी। हमेशा उन्हीं के बताए रास्ते पर चलूंगा।” “हाल ही में अम्मा मौत को लेकर कई सवाल उठे हैं। यह राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि एक समीति गठित की जाएं और जांच की जाए।” पन्नीरसेल्वम ने मंगलवार को यह कहकर सनसनी फैला दी कि उन्हें इस्तीफे के लिए मजबूर किया गया था, जिसके बाद उन्हें पार्टी ने कोषाध्यक्ष पद से हटा दिया।
पन्नीरसेल्वम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- “ऐसा कभी नहीं हुआ जब ऐसी एक भी घटना नहीं हुई जब मैंने पार्टी को धोखा दिया हो। फिर चाहे मैं सत्ता में रहा हूं या विपक्ष में। अगर दीपा (जयललिता की भतीजी) मेरी मदद का प्रस्ताव रखेंगी तो मैं इसे स्वीकार करूंगा। केंद्र सरकार तमिल लोगों के साथ है। जो भी तमिल लोगों को समर्थन देगा, हम उसे स्वीकार करेंगे।”

 

पाकिस्तानियों को अपने यहां नहीं घुसने देगा कुवैत, चार और मुस्लिम देशों पर लगाया वीजा बैन

अमेरिका के बाद अब कुवैत ने पांच देशों के नागरिकों को वीजा जारी करने पर रोक लगा दी है। कुवैत ने सीरिया, इराक, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और ईरान पर यह पाबंदी लगाई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले शुक्रवार को सात मुस्लिम देशों के नागरिकों पर रोक लगाने के आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। कुवैत सरकार ने कहा है कि पाबंदी लगाए गए देशों के नागरिक वीजा के लिए आवेदन ना करें, उन्हें लगता है कि इससे मुस्लिम आतंकवादियों देश में प्रवेश कर सकते हैं। अमेरिका के आदेश से पहले कुवैत पहला देश था जिसने सीरिया के नागरिकों के प्रवेश पर पाबंदी लगाई थी। कुवैत ने साल 2011 में सीरिया के नागरिकों के लिए वीजा जारी करने पर पाबंदी लगा दी थी।
बता दें, पिछले सप्ताह अमेरिका ने मुस्लिम बहुल सात देशों के आव्रजन पर रोक लगा दी थी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस फैसले को लेकर काफी आलोचना हो रही है। इस पर व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पहली प्राथमिकता किसी धर्म को निशाना बनाना नहीं, बल्कि अमेरिका की सुरक्षा करना है।
व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने कहा, ‘राष्ट्रपति का पहला लक्ष्य हमेशा से ही अमेरिका की सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित करना रहा है, न कि धर्म पर। राष्ट्रपति समझते हैं कि यह धार्मिक समस्या नहीं है। यह कट्टरता की समस्या है। इस्लाम और हमें नुकसान पहुंचाने के लिए यहां आने वाले कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवादियों के बीच बहुत बड़ा अंतर है।’
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 27 जनवरी को उस आदेश पर हस्ताक्षर किए थे जिसके चलते सीरिया के शरणार्थियों समेत छह अन्य देशों के लोगों के अमेरिका में प्रवेश पर पाबंदी लग गई। इन सात देशों में इरान, ईराक, लीबिया, सूडान, यमन, सीरिया और सोमालिया हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह मुस्लिमों पर प्रतिबंध नहीं है जैसा कि मीडिया गलत प्रचार कर रहा है। यह धर्म के बारे में भी नहीं है। यह आतंकवाद और हमारे देश को सुरक्षित रखने को लेकर है। दुनिया भर में 40 से अधिक देश मुस्लिम बहुल हैं जो इस आदेश से प्रभावित नहीं होंगे।

 

एयरसेल-मैक्सिस समझौता: मारन बंधुओं को कोर्ट ने किया आरोपमुक्त, अन्य आरोपी भी बरी

एक विशेष अदालत ने गुरुवार (2 फरवरी) को यहां पूर्व दूरसंचार मंत्री दयानिधि मारन, उनके भाई कलानिधि मारन और अन्य को सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दर्ज एयरसेल-मैक्सिस समझौता मामलों में आरोपमुक्त कर दिया। हालांकि गुरुवार के आदेश का दो आरोपियों मलेशियाई नागरिकों राल्फ मार्शल और टी आनंद कृष्णन पर कोई असर नहीं होगा क्योंकि अदालत ने उनके खिलाफ सुनवाई को मारन बंधुओं तथा अन्य के खिलाफ चल रही सुनवाई से अलग कर दिया था। यह आदेश विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी ने पारित किया जो टूजी स्पैक्ट्रक आवंटन घोटाला मामले और इसकी जांच को लेकर सामने आए मामलों की विशेष रूप से सुनवाई कर रहे हैं। सीबीआई ने मारन बंधुओं, राल्फ मार्शल, टी आनंद कृष्णन, मैसर्स सन डायरेक्ट लिमिटेड, मैसर्स एस्ट्रो आल एशिया नेटवर्क, यूके, मैसर्स मैक्सिस कम्युनिकेशंस बरहाद, मलेशिया, मैसर्स साउथ एशिया एंटरटेनमेंट होल्डिंग्स लिमिटेड, मलेशिया और तत्कालीन अतिरिक्त सचिव (दूरसंचार) जेएस शर्मा (जिनकी मामले की जांच के दौरान मौत हो गई) के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया था।
आरोपपत्र में उनके खिलाफ भादंसं की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) और भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के संबंधित प्रावधानों के तहत आरोप लगाया गया था। धन शोधन मामले में ईडी ने मारन बंधुओं, कलानिधि की पत्नी कावेरी, साउथ एशिया एफएम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के शानमुगम, एसएएफएल और सन डायरेक्ट टीवी प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ धन शोधन रोकथाम कानून के प्रावधानों के तहत आरोपपत्र दायर किया था। मारन बंधुओं के अलावा अदालत ने दो कंपनियों को मैसर्स सन डायरेक्ट टीवी लिमिटेड और मैसर्स साउथ एशिया एंटरटेनमेंट होल्डिंग्स लिमिटेड को भी आरोपमुक्त किया।

 

LIVE बजट 2017: वित्‍तमंत्री अरुण जेटली का एलान- 3 लाख रुपये से ऊपर का कैश लेनदेन और 2000 से ज्‍यादा नकद राजनीतिक चंदा नहीं

वित्तवर्ष 2017-18 के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली बजट पेश कर रहे हैं। उन्‍होंने झारखंड और गुजरात में एम्‍स खोले जाने का ऐलान किया है। साथ ही मनरेगा का बजट आवंटन बढ़ाकर 48 हजार करोड़ रुपये कर दिया है। जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में 23 हजार करोड़, प्रधानमंत्री सड़क योजना में 2019 तक 4 लाख करोड़ खर्च करेंगे। रेलवे के लिए बजट का ऐलान करते हुए उन्‍होंने कहा कि ई-टिकट पर सर्विस चार्ज नहीं लगेगा।  जेटली ने बजट पेश करते हुए कहा कि भारत दुनिया में मंदी के बीच उभरता सितारा है। इस साल अर्थव्‍यवस्‍था पटरी पर आएगी। उन्‍होंने नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि महंगाई की दर को 6 प्रतिशत से कम पर लाए हैं। जीएसटी और नोटबंदी बड़ा फैसला है। कालेधन के खिलाफ लड़ाई लड़ी है। नोटबंदी से टैक्‍स कलेक्‍शन बढ़ा है।
ई. अहमद केरल की मालाप्पुरम लोकसभा सीट से सांसद थे। वह मुस्लिम लीग पार्टी में थे। अहमद इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। मनमोहन सिंह की सरकार में वे विदेश राज्यमंत्री थे। उनकी उम्र 78 साल थी। ई अहमद यूपीए सरकार के दौरान रेल राज्य मंत्री भी रहे थे। ई. अहमद का जन्म 29 अप्रैल 1938 को हुआ था। अहमद केरल विधासभा से 1967, 1977, 1980, 1982 और 1987 में विधायक चुने गए। वह 1982 से 1987 तक केरल सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रहे। अहमद 1991, 1996, 1998, 1999, 2004 और 2009 में लोकसभा के लिए चुने गए। वह 2004 से 2009 के बीच विदेश राज्यमंत्री भी रहे।

 

Union Budget 2017: मल्लिकार्जुन खड़गे बोले: ई अहमद की मौत की जानकारी छिपाना चाहती थी सरकार

सांसद और लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार को ई अहमद के निधन की जानकारी पहले ही लग गई थी लेकिन उन्होंने जानकारी को बाहर आने से रोकने का प्रयास किया। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार (बीजेपी) वैसे तो काफी संस्कारों की बात करती है लेकिन फिर भी किसी के निधन के बाद बजट पेश कर रही है। उन्होंने आगे कहा था, ‘ कांग्रेस के अलावा जेडयू नेताओं और पूर्व पीएम देव गोड़ा का भी यही मानना है कि बजट को स्थगित कर दिया जाना चाहिए। 31 मार्च अभी नहीं आया है। ऐसे में बजट को पेश करने के लिए बहुत वक्त है। सरकार चाहे तो इसे स्थगित कर सकती है।’
हालांकि, सरकार ने विरोध के बाद भी बजट पेश किया। लोकसभा की स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि कल यानी 2 फरवरी को कार्यवाही को स्थगित किया जाएगा।
ई. अहमद केरल की मालाप्पुरम लोकसभा सीट से सांसद थे। वह मुस्लिम लीग पार्टी में थे। अहमद इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। मनमोहन सिंह की सरकार में वे विदेश राज्यमंत्री थे। उनकी उम्र 78 साल थी। ई अहमद यूपीए सरकार के दौरान रेल राज्य मंत्री भी रहे थे। ई. अहमद का जन्म 29 अप्रैल 1938 को हुआ था। अहमद केरल विधासभा से 1967, 1977, 1980, 1982 और 1987 में विधायक चुने गए। वह 1982 से 1987 तक केरल सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रहे। अहमद 1991, 1996, 1998, 1999, 2004 और 2009 में लोकसभा के लिए चुने गए। वह 2004 से 2009 के बीच विदेश राज्यमंत्री भी रहे।

 

बठिंडा: कार विस्फोट में नाबालिग बच्ची समेत 3 की मौत, कांग्रेस उम्मीदवार की रैली के पास हुआ धमाका

पंजाब के बठिंडा में मंगलवार को एक कार में हुए धमाके से एक नाबालिग बच्ची समेत तीन लोगों की मौत हो गई और 15 अन्य घायल हो गए। यह धमाका एक चुनावी जनसभा के नजदीक खड़ी कार में हुआ। पुलिस ने बताया कि घटना स्थल से एक प्रेशर कुकर बरामद हुआ है, पुलिस ने इसके आतंकवादी घटना होने से इंकार नहीं किया है। पंजाब में चार फरवरी को विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। पुलिस ने बताया कि मौड़ विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस उम्मीदवार हरमिंदर सिंह जस्सी की जनसभा के तुरंत बाद रात साढ़े आठ बजे विस्फोट हुआ। जस्सी सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के रिश्तेदार हैं।
पंजाब के पुलिस महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने बताया, ‘‘प्रारंभिक जांच के बाद आतंकवाद की घटना से इंकार नहीं किया जा सकता। लेकिन विशेषज्ञ ही विस्फोट के कारण बता सकते हैं।’ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक जांच के मुताबिक यह चोरी की कार थी और इस पर दोपहिया वाहन का पंजीकरण नंबर था। वाहन का चेसिस नंबर भी हटा दिया गया था। उन्होंने बताया कि यह गैस से नहीं चल रही थी। पुलिस ने कहा, ‘कार बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई थी। विस्फोट स्थल के नजदीक एक जला हुआ प्रेशर कुकर भी देखा गया।’ अरोड़ा ने कहा कि चंडीगढ़ से फोरेंसिक टीम सुबह बठिंडा पहुंचेगी और मामले की जांच करेगी।
बठिंडा के उपायुक्त घनश्याम थोरी ने बताया, ‘‘मारुति कार में हुए विस्फोट में तीन राहगीर मारे गए जिनमें दो वयस्क और एक बच्ची थी। उनकी पहचान अभी तक नहीं हुई है।’ घटना में 15 लोग जख्मी हुए हैं। उपायुक्त ने बताया कि कांग्रेस उम्मीदवार की रैली खत्म होने के बाद विस्फोट हुआ। पंजाब पुलिस के आईजी (बठिंडा जोन) नीलाभ किशोर ने कहा कि जांच प्रारंभिक चरण में है इसलिए विस्फोट के कारणों के बारे में कुछ कहना कठिन है।

 

उनके समर्थकों के लिए पार्टी में कोई जगह नहीं है, अखिलेश का बिना नाम लिए चाचा शिवपाल पर निशाना

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने अपने चाचा शिवपाल यादव पर बिना नाम लिए निशाना साधा। मंगलवार (31 जनवरी) को अखिलेश यादव ने कहा, ‘जो लोग लड़ाई में मेरे साथ नहीं हैं उनके लिए सपा में कोई जगह नहीं है। पार्टी के ही कुछ लोगों की वजह से लड़ाई हुई और कुछ लोग हमारा विरोध कर रहे हैं और हमारे द्वारा खड़े किए गए उम्मीदवारों का भी विरोध कर रहे हैं।’ अखिलेश ने यह बात हाथरस में समाजवादी पार्टी की एक चुनावी रैली के दौरान कही। उन्होंने अपने पिता मुलायम के बारे में कुछ नहीं कहा। लेकिन चुनावी पोस्टर्स और रैलियों में से मुलायम गायब हैं। मुलायम सिंह यादव कांग्रेस से हुए गठबंधन पर भी नाराजगी जता चुके हैं। उन्होंने कहा था कि सपा को जीत के लिए किसी गठबंधन की जरूरत नहीं है। वह सपा-कांग्रेस के लिए रैली करने से भी मना कर चुके हैं।
इससे पहले अखिलेश ने एटा जिले में भावनात्मक भाषण दिया था। वहां उन्होंने कहा था कि यह चुनाव देश के साथ-साथ उनका भी भविष्य तय करेगा। उन्होंने कहा था, ‘पहला तो साइकिल के लिए ही लड़ना पड़ा, एक समय ऐसा लगा कि साइकिल हाथ से चली जाएगी, लेकिन साइकिल फिर मिल गई। सोचो कि ऊपर वाला भी हमारे और आपके साथ खड़ा हुआ है।’ उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी में हुई कलह की वजह से विपक्षियों को बोलने का मौका मिल गया था।
उत्तरप्रदेश में सात चरणों में चुनाव होने हैं। इसके लिए 11 फरवरी को पहले चरण की वोटिंग होगी। चुनाव के नतीजे 11 मार्च को आएंगे। यूपी के अलावा पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में चुनाव हैं।

 

पाकस्‍तानी सेना ने हाफिज सईद की नजरबंद को बताया राष्‍ट्रहित, कहा- हम भारत से जंग नहीं चाहते

जमात उद दावा के प्रमुख और मुंबई हमलों के मास्‍टरमाइंड हाफिज सईद को नजरबंद करने के कदम को पाकिस्‍तान की सेना ने राष्‍ट्रहित का कदम बताया है। पाकिस्‍तान के इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस(आर्इएसपीआर) के डीजी मेजर जनरल आसिफ गफूर ने मंगलवार(31 जनवरी) को बताया कि सईद को नजरबंद करने का फैसला एक नीतिगत निर्णय है। उन्‍होंने मीडिया को बताया, ”यह नीतिगत निर्णय है जो कि राष्‍ट्रहित में लिया गया है। कई सारी संस्‍थाओं को अपना काम करना होता है।” उन्‍होंने इस फैसले के पीछे किसी भी विदेशी दबाव से इनकार किया। गौरतलब है कि हाफिज सईद को सोमवार(30 जनवरी) को नजरबंद किया गया था।
भारत के साथ रिश्‍तों के सवाल पर मेजर जनरल गफूर ने कहा कि पाकिस्तान भारत के साथ शांति चाहता है। उन्‍होंने कहा, ” हम किसी के साथ युद्ध नहीं चाहते। युद्ध किसी समस्‍या का हल नहीं है। हम कश्मीर मुद्दे का हल संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के माध्यम से और बातचीत के जरिये चाहते हैं, लेकिन शांति की हमारी इस चाहत को कमजोरी समझने की भूल नहीं की जानी चाहिए।’’ पंजाब के गृह विभाग द्वारा सईद के लाहौर के जौहर टाउन स्थित घर को उपजेल घोषित किए जाने के बाद जमात उद दावा प्रमुख को आज उसके मुख्यालय अल कदासिया चौबुर्जी से वहां स्थानांतरित कर दिया गया।
सईद ने पत्रकारों से बातचीत में दावा किया, ‘‘मुझे हिरासत में लेने का आदेश इस्लामाबाद से नहीं वाशिंगटन से आया है। अगर किसी को लगता है कि मुझे नजरबंद करने से कश्मीर में आजादी के आंदोलन को रोकने में मदद मिलेगी तो वह ख्याली दुनिया में रह रहा हैं। मेरी गिरफ्तारी से भारत के खिलाफ कश्मीरियों के आंदोलन को नई प्रेरणा मिलेगी।’’ सईद ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लगता है कि मेरी गिरफ्तारी से उन्हें कश्मीर में राहत मिल जाएगी तो वो बड़ी गलती कर रहे हैं।
इसी बीच, पाकिस्तान में पंजाब असेंबली में विपक्ष ने सईद को हिरासत में लिए जाने के खिलाफ वा वॉकआउट किया। क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के नेतृत्व में विपक्ष ने आरोप लगाया कि शरीफ सरकार ने यह कदम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और मोदी सरकार के दबाव में उठाया। सईद की गिरफ्तारी के विरोध में लाहौर, मुल्तान, फैसलाबाद, गुजरांवाला, सियालकोट, कराची, पेशावर और क्वेटा समेत कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए। सईद की गिरफ्तारी के बाद हालात पर नजर रख रहे एक अधिकारी के मुताबिक उसके समर्थकों ने इस फैसले की निंदा करते हुए इस्लामाबाद में भी प्रदर्शन किया।

 

पहली बार राजपथ पर गरजा हमारा तेजस, ताकत देखकर दुनिया हो गई हैरान पहली बार राजपथ पर गरजा हमारा तेजस, ताकत देखकर दुनिया हो गई हैरान

देश में बने हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस और एयरबॉर्न अर्ली वॉर्निग एंड कंट्रोल सिस्टम (एईडब्ल्यू एंड सी) ने गुरुवार को गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार अपनी ताकत दिखाई। आसमान में बदली छाए रहने के बावजूद 300 मीटर की ऊंचाई पर 780 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ान भरकर तीन लड़ाकू जेट विमानों ने राजपथ पर दर्शकों को रोमांचित कर दिया। इससे पहले एलसीए ने पिछले साल भारतीय वायु सेना दिवस पर भी उड़ान भरी थी। इसने आईएएफ की प्रदर्शनी आयरन फर्स्ट, एयरो इंडिया और बहरीन इंटरनैशनल एयरशो में भी अपनी ताकत दिखाई थी।
एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी द्वारा विकसित और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लि. द्वारा प्रस्तुत स्वदेशी निर्मित तेजस चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है, जो 1,350 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ने की क्षमता रखता है और इसकी तुलना फ्रांस के मिराज 2000, अमेरिकन एफ-16 और स्वीडन के ग्रिपेन सहित विश्व के सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमानों से की जाती है। तेजस को जुलाई 2016 में भारतीय वायुसेना के 45वें स्क्वाड्रन में शामिल किया गया था। विमानों की संख्या को मौजूदा आठ से बढ़ाकर प्रतिवर्ष 16 करने की योजना है।
इसलिए खास है तेजसः
-यह विमान 50 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर सकता है। इसकी लंबाई 13.2 मीटर और ऊंचाई 4.4 मीटर है। इसका वजन 6,560 किलो है।
-भारतीय अधिकारियों के मुताबिक तेजस चीन-पाक द्वारा मिलकर बनाए गए लड़ाकू विमान जेएफ-17 थंडर से 6 मानकों पर बेहतर है।
-इस विमान को बनाने में 55000 करोड़ की लागत आई थी।
-तेजस ने ढाई हजार घंटे के सफर में 3 हजार से ज्यादा उड़ानें भरी हैं। इसकी कलाबाजी और फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम संतोषजनक है।
-तेजस का रखरखाव काफी सस्ता होगा। भारत के सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमान सुखोई 30 का रखरखाव काफी महंगा है।
-तेजस का ढांचा कार्बन फाइबर से बना है। यह धातु से हल्का और मजबूत 

डोनाल्‍ड ट्रंप बने अमेरिका के राष्‍ट्रपति, दुनिया के सबसे ताकतवर देश के 45वें राष्‍ट्राध्‍यक्ष

रिपब्लिकन डोनाल्‍ड ट्रंप अमेरिका के 45वें राष्‍ट्रपति बन गए हैं। शुक्रवार को कैपिटल हिल में हुए भव्‍य समारोह में ट्रंप ने पद की शपथ ली। चीफ जस्टिस जॉन रॉबर्ट्स ने ट्रंप को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। उन्‍होंने बराक ओबामा की जगह ली, जो लगातार दो कार्यकाल से राष्‍ट्रपति रहे हैं। यूएस कैपिटल की परंपरा के अनुसार ट्रंप ने ऐतिहासिक लिंकन बाइबिल पर हाथ रखकर शपथ ली। उन्‍होंने अपनी मां की बाइबिल का भी प्रयोग किया। उप राष्ट्रपति माइकल पेंस ने ‘द रीगन फैमिली बाइबल’ का इस्तेमाल किया। ट्रंप ने बतौर राष्‍ट्रपति अपने पहले संबोधन में आर्थिक सख्‍ती और राष्‍ट्रीयता पर जोर देने के संकेत दिए। उन्‍होंने लोगों से कहा, ”साल 2017 अमेरिका की अगुवाई करने वालों को बदलने का गवाह बन रहा है। हम वाशिंगटन डीसी की जगह आपको ताकत सौंप रहे हैं।” ट्रंप ने आगे वाली चुनौतियों के मुकाबले के लिए देश को तैयार रहने को कहा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर देश को संभालेंगे। उन्‍होंने कहा, ”हमारे मध्‍य-वर्ग की संपत्ति छीन ली गई और पूरी दुनिया में बांट दी गई। ये पुरानी बात हुई और अब हम सिर्फ भविष्‍य की तरफ देख रहे हैं। हम आपकी संपत्ति वापस लाएंगे, आपका गौरव लौटाएंगे। मैं आपको निराश नहीं करूंगा। हम इसे वह देश बनाएंगे जहां अमेरिकंस रहते हैं। हम सिर्फ दो नियम मानेंगे- अमरीकी खरीदो, अमरीकियों को नियुक्‍त करो।”
ट्रंप ने साफ कहा, ”मैं सबकुछ पहले अमेरिकियों के लिए करूंगा। मैं आपको सबकुछ वापस दिलाऊंगा। हम अमेरिकी हाथों से ही अपना देश बनाएंगे। लोगों का नियंत्रण सत्ता पर होना चाहिए, देश में बदलाव अभी से शुरू होंगे।”

 

जब किसी ने नहीं खरीदी दीनदयाल उपाध्याय पर लिखी किताब तो अमित शाह ने बीजेपी मुख्यमंत्रियों को दिया ऑर्डर

भारतीय जनता पार्टी के विचारक दीनदयाल उपाध्याय की जिंदगी पर लिखी गई 15 किताबों के एक सेट को पिछले साल रिलीज किया गया था। लेकिन इस किताब को ज्यादा लोगों ने नहीं खरीदा। ऐसे में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा शासित प्रदेशों को निर्देश दिए कि यह किताब खरीदी जाए। शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों को आदेश देते हुए कहा कि उनके राज्य में पब्लिक लाइब्रेरी, स्कूलों और कॉलेजों में लाइब्रेरी किताबों के इस सेट को 6 हजार रुपए में खरीदें। किताब के प्रकाशक प्रभात प्रकाशन को 1300 कॉपियों का ऑर्डर मिला है, ये ऑर्डर मुख्यत राजस्थान और छत्तीसगढ़ से मिले हैं।
इसके अलावा प्रकाशक नानाजी देशमुख पर छह किताबों के सेट की और कॉपियों फरवरी मध्य तक प्रकाशित करने की सोच रहा है। साथ ही पांच किताबें पूर्व आरएसएस प्रचारकों पर भी प्रकाशित की जाएंगी। पब्लिक लाइब्रेरी के अलावा भाजपा लाइब्रेरी भी इन किताबों को खरीद सकती हैं।
बता दें, भाजपा सरकार दीनदयाल उपाध्याय के विचारों का प्रचार-प्रसार करने में लगी है। पिछले साल खबर आई थी कि गुजरात में 11वीं कक्षा के इकॉनॉमिक्‍स के छात्र पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय के बारे में पढ़ेंगे। बदले हुए पाठ्यक्रम के तहत गुजरात बोर्ड ने ‘आर्थि‍क विचार’ नाम से नया चैप्‍टर जोड़ा गया था। इसमें चाणक्‍य और महात्‍मा गांधी के साथ ही दीनदयाल उपाध्‍याय को भी शामिल किया गया था। यह चैप्‍टर गुजरात बोर्ड से जुड़ी सभी स्‍कूलों में यह चैप्‍टर पढ़ाया जाएगा। यह चैप्‍टर 15 पन्‍नों का है। इसमें न केवल ‘पंडित दीनदयाल के मुख्‍य आर्थिक विचार’ को विस्‍तार से लिखा गया है बल्कि उनकी व्‍यक्तिगत विशेषताओं का भी जिक्र किया गया है। 11वीं कक्षा का पाठ्यक्रम लगभग एक दशक बाद बदला गया है। दीनदयाल उपाध्‍याय भारतीय जन संघ के संस्‍थापकों में से एक थे और आरएसएस प्रचारक भी थे।

 

अखिलेश यादव ने कहा, ”पिता को नीचा दिखाने वाली किसी जीत में खुशी नहीं…मगर ये लड़ाई जरूरी थी”

पिता मुलायम सिंह यादव से संघर्ष कर पार्टी और उसका चुनाव चिन्‍ह हासिल करने वाले उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने अपनी पतिक्रिया दी है। अखिलेश ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि ‘मेरे पिता को नीचा दिखाने वाली किसी जीत में खुशी नहीं… लेकिन यह लड़ाई जरूरी थी।” सोमवार को चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी की कस्‍टडी अखिलेश को सौंप दी थी। पार्टी के ज्‍यादातर जनप्रतिनिधि और पदाधिकारी अखिलेश के समर्थन में थे। चुनाव आयोग ने कहा कि पार्टी के नाम और उसके चुनाव चिन्‍ह ‘साइकिल’ पर अखिलेश यादव का हक है, मुलायम सिंह का नहीं। अखिलेश ने चैनल से कहा, ”वह मेरे पिता हैं…और चुनाव आयोग का फैसला आने के बाद मैं सीधे उनसे मिलने गया। मैं उनका आशीर्वाद लेने गया था।” अखिलेश ने सोमवार को अपनी और मुलायम की आमने-सामने बैठे एक तस्‍वीर ट्वीट की थी, जिसके साथ उन्‍होंने लिखा था, ”साइकिल चलती जाएगी…आगे बढ़ती जाएगी…”
यादव परिवार में महीनों से पार्टी पर कब्‍जे की लड़ाई चल रही है। मामला गंभीर तब हो गया जब मुलायम सिंह और शिवपाल के महीनों तक मुख्‍यमंत्री को प्रत्‍याशियों का चयन करने से रोके रखा। उधर, अखिलेश ने अपने चाचा रामगोपाल के साथ मिलकर अपने उम्‍मीदवारों की सूची जारी कर दी और पार्टी की बैठक बुलाकर खुद को समाजवादी पार्टी का नया अध्‍यक्ष घोषित कर दिया। मुलायम सिंह को ‘मागदर्शक’ का पद देकर उन्‍हें संन्‍यास की तरफ ढकेल दिया गया।
मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने ऐलान किया है कि उत्‍तर प्रदेश में अखिलेश की समाजवादी पार्टी और उनके दल का गठबंधन होगा। अन्‍य दलों को शामिल कर ‘महागठबंधन’ बनाने की संभावना से फिलहाल इनकार करते हुए आजाद ने इन्‍हीं दोनों पार्टियों के मिलकर यूपी का चुनाव लड़ने की बात कही है।